Zahar Poetry

Meharban Ho Ke Bula Lo Mujhe Chaho Jis Waqt

Meharban ho ke bula lo mujhe chaho jis waqt,
Main gaya waqt nahi hun ki phir aa bhi na sakun.

Zoaf mein tana-e-aghyar ka shikwa kya hai,
Baat kuch sar to nahi hai ki utha bhi na sakun.

Zahr milta hi nahi mujh ko sitamgar warna,
Kya kasam hai tere milne ki ki kha bhi na sakun.

Is qadar zabt kahan hai kabhi aa bhi na sakun,
Sitam itna to na kije ki utha bhi na sakun.

Lag gayi aag agar ghar ko to andesha kya,
Shoala-e-dil to nahi hai ki bujha bhi na sakun.

Tum na aaoge to marne ki hain sau tadbiren,
Maut kuch tum to nahi ho ki bula bhi na sakun.

Hans ke bulwaiye mit jayega sab dil ka gila,
Kya tasawwur hai tumhara ki mita bhi na sakun. !!

मेहरबाँ हो के बुला लो मुझे चाहो जिस वक़्त,
मैं गया वक़्त नहीं हूँ कि फिर आ भी न सकूँ !

ज़ोफ़ में ताना-ए-अग़्यार का शिकवा क्या है,
बात कुछ सर तो नहीं है कि उठा भी न सकूँ !

ज़हर मिलता ही नहीं मुझ को सितमगर वर्ना,
क्या क़सम है तेरे मिलने की कि खा भी न सकूँ !

इस क़दर ज़ब्त कहाँ है कभी आ भी न सकूँ,
सितम इतना तो न कीजे कि उठा भी न सकूँ !

लग गई आग अगर घर को तो अंदेशा क्या,
शोला-ए-दिल तो नहीं है कि बुझा भी न सकूँ !

तुम न आओगे तो मरने की हैं सौ तदबीरें,
मौत कुछ तुम तो नहीं हो कि बुला भी न सकूँ !

हँस के बुलवाइए मिट जाएगा सब दिल का गिला,
क्या तसव्वुर है तुम्हारा कि मिटा भी न सकूँ !!

-Mirza Ghalib Ghazal Poetry

 

Bichhda Hai Jo Ek Bar To Milte Nahin Dekha..

Bichhda hai jo ek bar to milte nahin dekha,
Is zakhm ko hum ne kabhi silte nahin dekha.

Ek bar jise chat gayi dhup ki khwahish,
Phir shakh pe us phool ko khilte nahin dekha.

Yak-lakht gira hai to jaden tak nikal aayi,
Jis ped ko aandhi mein bhi hilte nahin dekha.

Kanton mein ghire phool ko chum aayegi lekin,
Titli ke paron ko kabhi chhilte nahin dekha.

Kis tarah meri ruh hari kar gaya aakhir,
Wo zahr jise jism mein khilte nahin dekha. !!

बिछड़ा है जो एक बार तो मिलते नहीं देखा,
इस ज़ख़्म को हम ने कभी सिलते नहीं देखा !

एक बार जिसे चाट गई धूप की ख़्वाहिश,
फिर शाख़ पे उस फूल को खिलते नहीं देखा !

यक-लख़्त गिरा है तो जड़ें तक निकल आईं,
जिस पेड़ को आँधी में भी हिलते नहीं देखा !

काँटों में घिरे फूल को चूम आएगी लेकिन,
तितली के परों को कभी छिलते नहीं देखा !

किस तरह मेरी रूह हरी कर गया आख़िर,
वो ज़हर जिसे जिस्म में खिलते नहीं देखा !!

Parveen Shakir Ghazal

 

Sar Jhukaoge To Patthar Devta Ho Jayega..

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega

 

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega,
Itna mat chaho use wo bewafa ho jayega.

Hum bhi dariya hain hamein apna hunar malum hai,
Jis taraf bhi chal padenge rasta ho jayega.

Kitni sachchai se mujh se zindagi ne kah diya,
Tu nahin mera to koi dusra ho jayega.

Main khuda ka naam lekar pi raha hun dosto,
Zahar bhi is mein agar hoga dawa ho jayega.

Sab usi ke hain hawa khushboo zamin-o-aasman,
Main jahan bhi jaunga us ko pata ho jayega. !!

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा,
इतना मत चाहो उसे वो बेवफ़ा हो जाएगा !

हम भी दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है,
जिस तरफ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा !

कितनी सच्चाई से मुझसे ज़िन्दगी ने कह दिया,
तू नहीं मेरा तो कोई दूसरा हो जाएगा !

मैं खुदा का नाम लेकर पी रहा हूं दोस्तों,
ज़हर भी इसमें अगर होगा दवा हो जाएगा !

सब उसी के हैं हवा ख़ुशबू ज़मीन-ओ-आसमां
मैं जहां भी जाऊंगा, उसको पता हो जाएगा !! -Bashir Badr Ghazal

 

Andar Ka Zahar Chum Liya Dhul Ke Aa Gaye..

Andar ka zahar chum liya dhul ke aa gaye,
Kitne sharif log the sab khul ke aa gaye.

Sooraj se jang jitne nikle the bewaquf,
Sare sipahi mom ke the ghul ke aa gaye.

Masjid mein dur dur koi dusra na tha,
Hum aaj apne aap se mil-jul ke aa gaye.

Nindon se jang hoti rahegi tamam umar,
Aankhon mein band khwab agar khul ke aa gaye,

Sooraj ne apni shakl bhi dekhi thi pahli bar,
Aaine ko maze bhi taqabul ke aa gaye,

Anjaane saye phirne lage hain idhar udhar,
Mausam hamare shehar mein kabul ke aa gaye. !!

अंदर का ज़हर चूम लिया धुल के आ गए,
कितने शरीफ़ लोग थे सब खुल के आ गए !

सूरज से जंग जीतने निकले थे बेवक़ूफ़,
सारे सिपाही मोम के थे घुल के आ गए !

मस्जिद में दूर दूर कोई दूसरा न था,
हम आज अपने आप से मिल-जुल के आ गए !

नींदों से जंग होती रहेगी तमाम उम्र,
आँखों में बंद ख़्वाब अगर खुल के आ गए !

सूरज ने अपनी शक्ल भी देखी थी पहली बार,
आईने को मज़े भी तक़ाबुल के आ गए !

अनजाने साए फिरने लगे हैं इधर-उधर,
मौसम हमारे शहर में काबुल के आ गए !! -Rahat Indori Ghazal

 

Saqi Sharab La Ki Tabiat Udas Hai..

Saqi sharab la ki tabiat udas hai,
Mutrib rubab utha ki tabiat udas hai.

Ruk ruk ke saz chhed ki dil mutmain nahi,
Tham tham ke mai pila ki tabiat udas hai.

Chubhti hai qalb o jaan mein sitaron ki raushni,
Aye chand dub ja ki tabiat udas hai.

Mujh se nazar na pher ki barham hai zindagi,
Mujh se nazar mila ki tabiat udas hai.

Shayad tere labon ki chatak se ho ji bahaal,
Aye dost muskura ki tabiat udas hai.

Hai husn ka fusun bhi ilaj-e-fasurdagi,
Rukh se naqab utha ki tabiat udas hai.

Main ne kabhi ye zid to nahi ki par aaj shab,
Aye mah-jabin na ja ki tabiat udas hai.

Imshab gurez-o-ram ka nahi hai koi mahal,
Aaghosh mein dar aa ki tabiat udas hai.

Kaifiyyat-e-sukut se badhta hai aur gham,
Kissa koi suna ki tabiat udas hai.

Yunhi durust hogi tabiat teri “Adam”,
Kam-bakht bhul ja ki tabiat udas hai.

Tauba to kar chuka hun magar phir bhi aye “Adam“,
Thoda sa zahr la ki tabiat udas hai. !!

साक़ी शराब ला कि तबीअत उदास है,
मुतरिब रुबाब उठा कि तबीअत उदास है !

रुक रुक के साज़ छेड़ कि दिल मुतमइन नहीं,
थम थम के मय पिला कि तबीअत उदास है !

चुभती है क़ल्ब ओ जाँ में सितारों की रौशनी,
ऐ चाँद डूब जा कि तबीअत उदास है !

मुझ से नज़र न फेर कि बरहम है ज़िंदगी,
मुझ से नज़र मिला कि तबीअत उदास है !

शायद तेरे लबों की चटक से हो जी बहाल,
ऐ दोस्त मुस्कुरा कि तबीअत उदास है !

है हुस्न का फ़ुसूँ भी इलाज-ए-फ़सुर्दगी,
रुख़ से नक़ाब उठा कि तबीअत उदास है !

मैं ने कभी ये ज़िद तो नहीं की पर आज शब,
ऐ मह-जबीं न जा कि तबीअत उदास है !

इमशब गुरेज़-ओ-रम का नहीं है कोई महल,
आग़ोश में दर आ कि तबीअत उदास है !

कैफ़िय्यत-ए-सुकूत से बढ़ता है और ग़म,
क़िस्सा कोई सुना कि तबीअत उदास है !

यूँही दुरुस्त होगी तबीअत तेरी “अदम”,
कम-बख़्त भूल जा कि तबीअत उदास है !

तौबा तो कर चुका हूँ मगर फिर भी ऐ “अदम“,
थोड़ा सा ज़हर ला कि तबीअत उदास है !!

 

Ek Karb-E-Musalsal Ki Saza Den To Kise Den..

Ek karb-e-musalsal ki saza den to kise den,
Maqtal mein hain jine ki dua den to kise den.

Patthar hain sabhi log karen baat to kis se,
Is shahr-e-khamoshan mein sada den to kise den.

Hai kaun ki jo khud ko hi jalta hua dekhe,
Sab hath hain kaghaz ke diya den to kise den.

Sab log sawali hain sabhi jism barahna,
Aur pas hai bas ek rida den to kise den.

Jab hath hi kat jayen to thamega bhala kaun,
Ye soch rahe hain ki asa den to kise den.

Bazar mein khushbu ke kharidar kahan hain,
Ye phool hain be-rang bata den to kise den.

Chup rahne ki har shakhs qasam khaye hue hai,
Hum zahr bhara jam bhala den to kise den. !!

एक कर्ब-ए-मुसलसल की सज़ा दें तो किसे दें,
मक़्तल में हैं जीने की दुआ दें तो किसे दें !

पत्थर हैं सभी लोग करें बात तो किस से,
इस शहर-ए-ख़मोशाँ में सदा दें तो किसे दें !

है कौन कि जो ख़ुद को ही जलता हुआ देखे,
सब हाथ हैं काग़ज़ के दिया दें तो किसे दें !

सब लोग सवाली हैं सभी जिस्म बरहना,
और पास है बस एक रिदा दें तो किसे दें !

जब हाथ ही कट जाएँ तो थामेगा भला कौन,
ये सोच रहे हैं कि असा दें तो किसे दें !

बाज़ार में ख़ुशबू के ख़रीदार कहाँ हैं,
ये फूल हैं बे-रंग बता दें तो किसे दें !

चुप रहने की हर शख़्स क़सम खाए हुए है,
हम ज़हर भरा जाम भला दें तो किसे दें !!

-Aanis Moin Ghazal / Poetry

 

Tumhein Jine Mein Aasani Bahut Hai..

Tumhein jine mein aasani bahut hai,
Tumhare khoon mein pani bahut hai.

Kabutar ishq ka utre to kaise,
Tumhari chhat pe nigarani bahut hai.

Irada kar liya gar khud-kushi ka,
To khud ki aankh ka pani bahut hai.

Zahar suli ne gali goliyon ne,
Hamari zat pahchani bahut hai.

Tumhare dil ki man-mani meri jaan,
Hamare dil ne bhi mani bahut hai. !!

तुम्हें जीने में आसानी बहुत है,
तुम्हारे ख़ून में पानी बहुत है !

कबूतर इश्क़ का उतरे तो कैसे,
तुम्हारी छत पे निगरानी बहुत है !

इरादा कर लिया गर ख़ुद-कुशी का,
तो ख़ुद की आँख का पानी बहुत है !

ज़हर सूली ने गाली गोलियों ने,
हमारी ज़ात पहचानी बहुत है !

तुम्हारे दिल की मन-मानी मेरी जान,
हमारे दिल ने भी मानी बहुत है !!

-Kumar Vishwas Poem

 

Aye Wasl Kuchh Yahan Na Hua Kuchh Nahi Hua..

Aye wasl kuchh yahan na hua kuchh nahi hua,
Uss jism ki main jaan na hua kuchh nahi hua.

Tu aaj mere ghar mein jo mehmaan hai Eid hai,
Tu ghar ka mezbaan na hua kuchh na hua.

Kholi to hai zaban magar is ki kya bisat,
Main zehar ki dukaan na hua kuchh nahi hua.

Kya ek karobar tha wo rabt-e-jism-o jaan,
Koi bhi raigan na hua kuchh nahi hua.

Kitna jala hua hun bas ab kya bataun main,
Aalam dhuan-dhuan na hua kuchh nahi hua.

Dekha tha jab ki pehle-pehal us ne aaina,
Uss waqt main wahan na hua kuchh nahi hua.

Wo ek jamal jalwa-fishan hai zamin-zamin,
Main ta-ba-aasman na hua kuchh nahi hua.

Maine bas ek nighah mein tayy kar liya tujhe,
Tu rang-e bekaran na hua kuchh nahi hua.

Ghum ho ki jaan tu meri aaghosh-e zaat mein,
Be-naam-o nishan na hua kuchh nahi hua.

Har koi darmiyan hai aye majra-farosh,
Main apne darmiyan na hua kuchh nahi hua. !!

ऐ वस्ल कुछ यहाँ न हुआ कुछ नहीं हुआ,
उस जिस्म की मैं जाँ न हुआ कुछ नहीं हुआ !

तू आज मेरे घर में जो मेहमान है ईद है,
तू घर का मेज़बान न हुआ कुछ नहीं हुआ !

खोली तो है ज़बान मगर इस की क्या बिसात,
मैं ज़हर की दूकान न हुआ कुछ नहीं हुआ !

क्या एक कारोबार था वो रब्त-ए-जिस्म-ओ-जान,
कोई भी राएगाँ न हुआ कुछ नहीं हुआ !

कितना जला हुआ हूँ बस अब क्या बताऊँ मैं,
आलम धुआँ-धुआँ न हुआ कुछ नहीं हुआ !

देखा था जब कि पहले-पहल उस ने आईना,
उस वक़्त मैं वहाँ न हुआ कुछ नहीं हुआ !

वो एक जमाल जलवा-फ़िशाँ है ज़मीन-ज़मीन,
मैं ता-ब-आसमाँ न हुआ कुछ नहीं हुआ !

मैं ने बस एक निगाह में तय कर लिया तुझे,
तू रंग-ए-बेकराँ न हुआ कुछ नहीं हुआ !

गुम हो के जान तू मेरी आग़ोश-ए-ज़ात में,
बे-नाम-ओ-बे-निशान न हुआ कुछ नहीं हुआ !

हर कोई दरमियान है ऐ माजरा-फ़रोश,
मैं अपने दरमियाँ न हुआ कुछ नहीं हुआ !!

-Jaun Elia Ghazal / Poetry

 

Mujhko Aap Apna Aap Deejiyega..

Mujhko aap apna aap deejiyega,
Aur kuchh bhi na mujh se leejiyega.

Aap be-misl be-misaal hoon main,
Mujh siwa aap kis pe reejhiyega.

Aap jo hain azal se hi be-naam,
Naam mera kabhi to leejiyega.

Aap bas mujh mein hi to hain, so aap,
Mera be-had khyaal keejiyega.

Hai agar waaqai sharaab haraam,
Aap hothon se mere peejiyega.

Intezaari hoon apna main din-raat,
Ab mujhe aap bhej deejiyega.

Aap mujh ko bahut pasand aaye,
Aap meri qameez seejiyega.

Dil ke rishte hain khoon, jhooth ki sach,
Ye muamma kabhi na boojhiyega.

Hai mere jism-o jaan ka maazi kya,
Mujh se bas ye kabhi na poochiyega.

Mujh se meri kamaai ka sar-e shaam,
Paai-paai hisaab leejiyega.

Zindagi kya hai, ek hunar karna,
So qareene se zehar peejiyega.

Main jo hun, “Jaun Elia” hun janaab,
Iska behad lihaaz keejiyega. !!

मुझको आप अपना आप दीजियेगा,
और कुछ भी न मुझ से लीजियेगा !

आप बे-मिस्ल बे-मिसाल हूँ मैं,
मुझ सिवा आप किस पे रीझियेगा !

आप जो हैं अज़ल से ही बे-नाम,
नाम मेरा कभी तो लीजियेगा !

आप बस मुझ में ही तो हैं, सो आप,
मेरा बे-हद ख्याल कीजियेगा !

है अगर वाकई शराब हराम,
आप होठों से मेरे पीजियेगा !

इन्तेज़ारी हूँ अपना मैं दिन-रात,
अब मुझे आप भेज दीजियेगा !

आप मुझ को बहुत पसंद आये,
आप मेरी क़मीज़ सीजीयेगा !

दिल के रिश्ते हैं खून, झूठ की सच,
ये मुअम्मा कभी न बूझियेगा !

है मेरे जिस्म-ओ जान का माज़ी क्या,
मुझ से बस ये कभी न पूछियेगा !

मुझ से मेरी कमाई का सार-इ शाम,
पाई-पाई हिसाब लीजियेगा !

ज़िन्दगी क्या है, एक हुनर करना,
सो करीने से ज़ेहर पीजियेगा !

मैं जो हूँ, “जॉन एलिया” हूँ जनाब,
इसका बेहद लिहाज़ कीजियेगा !!

Aa Gayi Yaad Sham Dhalte Hi..

Aa gayi yaad sham dhalte hi,
Bujh gaya dil charagh jalte hi.

Khul gaye shahr-e-gham ke darwaze,
Ek zara si hawa ke chalte hi.

Kaun tha tu ki phir na dekha tujhe,
Mit gaya khwab aankh malte hi.

Khauf aata hai apne hi ghar se,
Mah-e-shab-tab ke nikalte hi.

Tu bhi jaise badal sa jata hai,
Aks-e-diwar ke badalte hi.

Khoon sa lag gaya hai hathon mein,
Chadh gaya zahr gul masalte hi. !!

आ गई याद शाम ढलते ही,
बुझ गया दिल चराग़ जलते ही !

खुल गए शहर-ए-ग़म के दरवाज़े,
इक ज़रा सी हवा के चलते ही !

कौन था तू कि फिर न देखा तुझे,
मिट गया ख़्वाब आँख मलते ही !

ख़ौफ़ आता है अपने ही घर से,
माह-ए-शब-ताब के निकलते ही !

तू भी जैसे बदल सा जाता है,
अक्स-ए-दीवार के बदलते ही !

ख़ून सा लग गया है हाथों में,
चढ़ गया ज़हर गुल मसलते ही !!

-Munir Niazi Ghazal / Poetry