Yaad Shayari

Hum Ne Kati Hain Teri Yaad Mein Raaten Aksar..

Hum Ne Kati Hain Teri Yaad Mein Raaten Aksar.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Hum ne kati hain teri yaad mein raaten aksar,
Dil se guzri hain sitaron ki baraaten aksar.

Aur to kaun hai jo mujh ko tasalli deta,
Haath rakh deti hain dil par teri baaten aksar.

Husn shaista-e-tahzib-e-alam hai shayed,
Gham-zada lagti hain kyun chandni raaten aksar.

Haal kahna hai kisi se to mukhatab hai koi,
Kitni dilchasp hua karti hain baaten aksar.

Ishq rahzan na sahi ishq ke hathon phir bhi,
Hum ne lutti hui dekhi hain baraten aksar.

Hum se ek bar bhi jita hai na jitega koi,
Wo to hum jaan ke kha lete hain maten aksar.

Un se puchho kabhi chehre bhi padhe hain tum ne,
Jo kitabon ki kiya karte hain baaten aksar.

Hum ne un tund-hawaon mein jalaye hain charagh,
Jin hawaon ne ulat di hain bisaten aksar. !!

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर.. “जान निसार अख्तर” कविता हिंदी में !

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर,
दिल से गुज़री हैं सितारों की बरातें अक्सर !

और तो कौन है जो मुझ को तसल्ली देता,
हाथ रख देती हैं दिल पर तेरी बातें अक्सर !

हुस्न शाइस्ता-ए-तहज़ीब-ए-अलम है शायद,
ग़म-ज़दा लगती हैं क्यूँ चाँदनी रातें अक्सर !

हाल कहना है किसी से तो मुख़ातब है कोई,
कितनी दिलचस्प हुआ करती हैं बातें अक्सर !

इश्क़ रहज़न न सही इश्क़ के हाथों फिर भी,
हम ने लुटती हुई देखी हैं बरातें अक्सर !

हम से एक बार भी जीता है न जीतेगा कोई,
वो तो हम जान के खा लेते हैं मातें अक्सर !

उन से पूछो कभी चेहरे भी पढ़े हैं तुम ने,
जो किताबों की किया करते हैं बातें अक्सर !

हम ने उन तुंद-हवाओं में जलाए हैं चराग़,
जिन हवाओं ने उलट दी हैं बिसातें अक्सर !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Ashaar Mere Yun To Zamane Ke Liye Hain..

Ashaar Mere Yun To Zamane Ke Liye Hain.. Ghazal By Jan Nisar Akhtar

Ashaar mere yun to zamane ke liye hain,
Kuch sher faqat un ko sunane ke liye hain.

Ab ye bhi nahi theek ki har dard mita den,
Kuch dard kaleje se lagane ke liye hain.

Socho to badi cheez hai tahzib badan ki,
Warna ye faqat aag bujhane ke liye hain.

Aankhon mein jo bhar loge to kanton se chubhenge,
Ye khwaab to palkon pe sajaane ke liye hain.

Dekhun tere hathon ko to lagta hai tere hath,
Mandir mein faqat deep jalane ke liye hain.

Ye ilm ka sauda ye risale ye kitaben,
Ek shakhs ki yaadon ko bhulane ke liye hain. !!

Ashaar Mere Yun To Zamane Ke Liye Hain.. In Hindi Language

अशआर मेरे यूँ तो ज़माने के लिए हैं,
कुछ शेर फ़क़त उन को सुनाने के लिए हैं !

अब ये भी नहीं ठीक कि हर दर्द मिटा दें,
कुछ दर्द कलेजे से लगाने के लिए हैं !

सोचो तो बड़ी चीज़ है तहज़ीब बदन की,
वर्ना ये फ़क़त आग बुझाने के लिए हैं !

आँखों में जो भर लोगे तो काँटों से चुभेंगे,
ये ख़्वाब तो पलकों पे सजाने के लिए हैं !

देखूँ तेरे हाथों को तो लगता है तेरे हाथ,
मंदिर में फ़क़त दीप जलाने के लिए हैं !

ये इल्म का सौदा ये रिसाले ये किताबें,
एक शख़्स की यादों को भुलाने के लिए हैं !!

-Jan Nisar Akhtar Ghazal / Urdu Poetry

 

Jab Bachpan Tha Toh Jawaani Ek Khwaab Tha..

Jab Bachpan Tha Toh Jawaani Ek Khwaab Tha

Jab Bachpan Tha Toh Jawaani Ek Khwaab Tha – Heart Touching Poetry !

Jab Bachpan Tha..
Toh Jawaani Ek Khwaab Tha..
Jab Jawaan Huye..
Toh Bachpan Ek Zamana Tha..

Jab Ghar Mein Rahte The..
Aazadi Achchi Lagti Thi..
Aaj Aazadi Hai..
Phir Bhi Ghar Jane Ki Jaldi Rehti Hai..

Kabhi Hotel Mein Jana..
Pizza, Burger Khaana Pasand Tha..
Aaj Ghar Per Aana..
Aur Maa Ke Haath Ka Khaana Pasand Hai..

School Mein Jinke Saath Jhagarte The..
Aaj Unko Hi Internet Pe Talaashte Hain..

Khushi Kis Mein Hoti Hai..
Ye Pata Ab Chala Hai..
Bachpan Kya tha..
Iska Ehsaas Ab Hua Hai..

Kash Tabdil Kar Sakte Hum Zindagi Ke Kuch Saal..
Kash Ji Sakte Hum..
Zindagi Bharpur Phir Ek Baar..

Jab Apne Shirt Mein Haath Chupate The..
Aur Logon Se Kehte Phirte The..
Dekho..
Maine Apne Haath Jaadu Se Ghayab Kar Diye..

Jab Humare Paas..
Chaar Rangon Se Likhne Wali Ek Qalam Hua Karti Thi..
Aur Hum Sab Ke Button Ko..
Ek Saath Dabane Ki Koshish Kiya Karte The..

Jab Hum Darwaze Ke Piche Chupte The..
Taaki Agar Koi Aaye..
Toh Usse Daraa Sakein..

Jab Aankh Bandh Karke Sone Ka Drama Karte The..
Taaki Koi Humein God Mein Utha Ke..
Bistar Tak Pohncha De..

Socha Karte The..
Ke Ye Chaand Humari Cycle Ke Piche Piche..
Kyun Chal Raha hai..

Wall Switch Ko Darmiyan Mein Atkane Ki..
Koshish Kiya Karte The..

Phal Ke Beej Ko Is Khauf Se Nahi Khate The..
Ke Kahin Humare Pait Mein Darakht Na Ugg Jaye..

Saal Girah Sirf Is Wajah Se Manate The..
Taaki Dhaer Sare Tohfen Milen..

Fridge Aahista Se Bandh Kar Ke..
Ye Janne Ki Koshish Karte The..
Ke Uski Roshni Kab Bandh Hoti Hai..

Sach..
Bachpan Mein Sochte The..
Hum Bade Kyon Nahi Ho rahe..
Aur Ab Sochte Hain..
Hum Bade Kyon Ho Gaye..

Jab Bachpan Tha..
Toh Jawaani Ek Khwaab Tha..
Jab Jawaan Huye..
Toh Bachpan Ek Zamana Tha.. !!

Jab Bachpan Tha Toh Jawaani Ek Khwaab Tha – Heart Touching Poetry In Hindi Language !

जब बचपन था..
तो जवानी एक ख्वाब था..
जब जवान हुए..
तो बचपन एक ज़माना था..

जब घर में रहते थे..
आज़ादी अच्छी लगती थी..
आज आज़ादी है..
फिर भी घर जाने की जल्दी रहती है..

कभी होटल में जाना..
पिज़्ज़ा, बर्गर खाना पसंद था..
आज घर पर आना..
और माँ के हाथ का खाना पसंद है..

स्कूल में जिनके साथ झगड़ते थे..
आज उनको ही इंटरनेट पे तलाशते हैं..

खुशी किस में होती है..
ये पता अब चला है..
बचपन क्या था..
इसका एहसास अब हुआ है..

काश तब्दील कर सकते हम ज़िंदगी के कुछ साल..
काश जी सकते हम..
ज़िन्दगी भरपूर फिर एक बार..

जब अपने शर्ट में हाथ छुपाते थे..
और लोगों से कहते फिरते थे..
देखो..
मैंने अपने हाथ जादू से गायब कर दिए..

जब हमारे पास..
चार रंगों से लिखने वाली एक क़लाम हुआ करती थी..
और हम सब के बटन को..
एक साथ दबाने की कोशिश किया करते थे..

जब हम दरवाज़े के पीछे छुपते थे..
ताकि अगर कोई आये..
तो उससे डरा सकें..

जब आँख बंद करके सोने का ड्रामा करते थे..
ताकि कोई हमें गोद में उठा के..
बिस्तर तक पोहंचा दे..

सोचा करते थे..
के ये चाँद हमारी साइकिल के पीछे पीछे..
क्यों चल रहा है..

वाल स्विच को दरमियाँ में अटकने की..
कोशिश किया करते थे..

फल के बीज को इस खौफ से नहीं खाते थे..
के कहीं हमारे पेट में दरख्त न उग्ग जाये..

साल गिरह सिर्फ इस वजह से मनाते थे..
ताकि ढेर सारे तोहफे मिले..

फ्रिज आहिस्ता से बांध कर के..
ये जानने की कोशिश करते थे..
के उसकी रौशनी कब बांध होती है..

सच..
बचपन में सोचते थे..
हम बड़े क्यों नहीं हो रहे..
और अब सोचते हैं..
हम बड़े क्यों हो गए..

जब बचपन था..
तो जवानी एक ख्वाब था..
जब जवान हुए..
तो बचपन एक ज़माना था.. !!

Childhood Memories / बचपन की यादें शायरी

 

 

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

Wo Hawa Na Rahi Wo Chaman Na Raha Wo Gali Na Rahi Wo Hasin Na Rahe

Wo hawa na rahi wo chaman na raha wo gali na rahi wo hasin na rahe,
Wo falak na raha wo saman na raha wo makan na rahe wo makin na rahe.

Wo gulon mein gulon ki si bu na rahi wo azizon mein lutf ki khu na rahi,
Wo hasinon mein rang-e-wafa na raha kahen aur ki kya wo hamin na rahe.

Na wo aan rahi na umang rahi na wo rindi o zohd ki jang rahi,
Su-e-qibla nigahon ke rukh na rahe aur dar pe naqsh-e-jabin na rahe.

Na wo jam rahe na wo mast rahe na fidai-e-ahd-e-alast rahe,
Wo tariqa-e-kar-e-jahan na raha wo mashaghil-e-raunaq-e-din na rahe.

Hamein lakh zamana lubhaye to kya naye rang jo charkh dikhaye to kya,
Ye muhaal hai ahl-e-wafa ke liye gham-e-millat o ulfat-e-din na rahe.

Tere kucha-e-zulf mein dil hai mera ab use main samajhta hun dam-e-bala,
Ye ajib sitam hai ajib jafa ki yahan na rahe to kahin na rahe.

Ye tumhaare hi dam se hai bazm-e-tarab abhi jao na tum na karo ye ghazab,
Koi baith ke lutf uthayega kya ki jo raunaq-e-bazm tumhin na rahe.

Jo thin chashm-e-falak ki bhi nur-e-nazar wahi jin pe nisar the shams o qamar,
So ab aisi miti hain wo anjumanen ki nishan bhi un ke kahin na rahe.

Wahi suraten rah gain pesh-e-nazar jo zamane ko pheren idhar se udhar,
Magar aise jamal-e-jahan-ara jo the raunaq-e-ru-e-zamin na rahe.

Gham o ranj mein “Akbar” agar hai ghira to samajh le ki ranj ko bhi hai fana,
Kisi shai ko nahi hai jahan mein baqa wo ziyaada malul o hazin na rahe. !!

वो हवा न रही वो चमन न रहा वो गली न रही वो हसीं न रहे,
वो फ़लक न रहा वो समाँ न रहा वो मकाँ न रहे वो मकीं न रहे !

वो गुलों में गुलों की सी बू न रही वो अज़ीज़ों में लुत्फ़ की ख़ू न रही,
वो हसीनों में रंग-ए-वफ़ा न रहा कहें और की क्या वो हमीं न रहे !

न वो आन रही न उमंग रही न वो रिंदी ओ ज़ोहद की जंग रही,
सू-ए-क़िबला निगाहों के रुख़ न रहे और दर पे नक़्श-ए-जबीं न रहे !

न वो जाम रहे न वो मस्त रहे न फ़िदाई-ए-अहद-ए-अलस्त रहे,
वो तरीक़ा-ए-कार-ए-जहाँ न रहा वो मशाग़िल-ए-रौनक़-ए-दीं न रहे !

हमें लाख ज़माना लुभाए तो क्या नए रंग जो चर्ख़ दिखाए तो क्या,
ये मुहाल है अहल-ए-वफ़ा के लिए ग़म-ए-मिल्लत ओ उल्फ़त-ए-दीं न रहे !

तेरे कूचा-ए-ज़ुल्फ़ में दिल है मेरा अब उसे मैं समझता हूँ दाम-ए-बला,
ये अजीब सितम है अजीब जफ़ा कि यहाँ न रहे तो कहीं न रहे !

ये तुम्हारे ही दम से है बज़्म-ए-तरब अभी जाओ न तुम न करो ये ग़ज़ब,
कोई बैठ के लुत्फ़ उठाएगा क्या कि जो रौनक़-ए-बज़्म तुम्हीं न रहे !

जो थीं चश्म-ए-फ़लक की भी नूर-ए-नज़र वही जिन पे निसार थे शम्स ओ क़मर,
सो अब ऐसी मिटी हैं वो अंजुमनें कि निशान भी उन के कहीं न रहे !

वही सूरतें रह गईं पेश-ए-नज़र जो ज़माने को फेरें इधर से उधर,
मगर ऐसे जमाल-ए-जहाँ-आरा जो थे रौनक़-ए-रू-ए-ज़मीं न रहे !

ग़म ओ रंज में “अकबर” अगर है घिरा तो समझ ले कि रंज को भी है फ़ना,
किसी शय को नहीं है जहाँ में बक़ा वो ज़ियादा मलूल ओ हज़ीं न रहे !!

 

Haya Se Sar Jhuka Lena Ada Se Muskura Dena..

Haya Se Sar Jhuka Lena Ada Se Muskura Dena

Haya se sar jhuka lena ada se muskura dena,
Hasinon ko bhi kitna sahl hai bijli gira dena.

Ye tarz ehsan karne ka tumhin ko zeb deta hai,
Maraz mein mubtala kar ke marizon ko dawa dena.

Balayen lete hain un ki hum un par jaan dete hain,
Ye sauda did ke qabil hai kya lena hai kya dena.

Khuda ki yaad mein mahwiyat-e-dil baadshahi hai,
Magar aasan nahi hai sari duniya ko bhula dena. !!

हया से सर झुका लेना अदा से मुस्कुरा देना,
हसीनों को भी कितना सहल है बिजली गिरा देना !

ये तर्ज़ एहसान करने का तुम्हीं को ज़ेब देता है,
मरज़ में मुब्तला कर के मरीज़ों को दवा देना !

बलाएँ लेते हैं उन की हम उन पर जान देते हैं,
ये सौदा दीद के क़ाबिल है क्या लेना है क्या देना !

ख़ुदा की याद में महवियत-ए-दिल बादशाही है,
मगर आसाँ नहीं है सारी दुनिया को भुला देना !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Aah Jo Dil Se Nikali Jayegi..

Aah jo dil se nikali jayegi,
Kya samajhte ho ki khali jayegi.

Is nazakat par ye shamshir-e-jafa,
Aap se kyonkar sambhaali jayegi.

Kya gham-e-duniya ka dar mujh rind ko,
Aur ek botal chadha li jayegi.

Shaikh ki dawat mein mai ka kaam kya,
Ehtiyatan kuch manga li jayegi.

Yaad-e-abru mein hai “Akbar” mahw yun,
Kab teri ye kaj-khayali jayegi. !!

आह जो दिल से निकाली जाएगी,
क्या समझते हो कि ख़ाली जाएगी !

इस नज़ाकत पर ये शमशीर-ए-जफ़ा,
आप से क्यूँकर सँभाली जाएगी !

क्या ग़म-ए-दुनिया का डर मुझ रिंद को,
और एक बोतल चढ़ा ली जाएगी !

शैख़ की दावत में मय का काम क्या,
एहतियातन कुछ मँगा ली जाएगी !

याद-ए-अबरू में है “अकबर” महव यूँ,
कब तेरी ये कज-ख़याली जाएगी !!

 

Tark-E-Wafa Ki Baat Kahen Kya..

Tark-e-wafa ki baat kahen kya,
Dil mein ho to lab tak aaye.

Dil bechaara sidha sada,
Khud ruthe khud man bhi jaye.

Chalte rahiye manzil manzil,
Is aanchal ke saye saye.

Dur nahi tha shehar-e-tamanna,
Aap hi mere sath na aaye.

Aaj ka din bhi yaad rahega,
Aaj wo mujh ko yaad na aaye. !!

तर्क-ए-वफ़ा की बात कहें क्या,
दिल में हो तो लब तक आए !

दिल बेचारा सीधा सादा,
ख़ुद रूठे ख़ुद मान भी जाए !

चलते रहिए मंज़िल मंज़िल,
इस आँचल के साए साए !

दूर नहीं था शहर-ए-तमन्ना,
आप ही मेरे साथ न आए !

आज का दिन भी याद रहेगा,
आज वो मुझ को याद न आए !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

 

Aaj Zara Fursat Pai Thi Aaj Use Phir Yaad Kiya

Aaj zara fursat pai thi aaj use phir yaad kiya,
Band gali ke aakhiri ghar ko khol ke phir aabaad kiya,

Khol ke khidki chand hansa phir chand ne donon hathon se,
Rang udaye phool khilaye chidiyon ko aazad kiya.

Bade bade gham khade hue the rasta roke rahon mein,
Chhoti chhoti khushiyon se hi hum ne dil ko shad kiya.

Baat bahut mamuli si thi ulajh gayi takraron mein,
Ek zara si zid ne aakhir donon ko barbaad kiya.

Danaon ki baat na mani kaam aai nadani hi,
Suna hawa ko padha nadi ko mausam ko ustad kiya. !!

आज ज़रा फ़ुर्सत पाई थी आज उसे फिर याद किया,
बंद गली के आख़िरी घर को खोल के फिर आबाद किया !

खोल के खिड़की चाँद हँसा फिर चाँद ने दोनों हाथों से,
रंग उड़ाए फूल खिलाए चिड़ियों को आज़ाद किया !

बड़े बड़े ग़म खड़े हुए थे रस्ता रोके राहों में,
छोटी छोटी ख़ुशियों से ही हम ने दिल को शाद किया !

बात बहुत मामूली सी थी उलझ गई तकरारों में,
एक ज़रा सी ज़िद ने आख़िर दोनों को बरबाद किया !

दानाओं की बात न मानी काम आई नादानी ही,
सुना हवा को पढ़ा नदी को मौसम को उस्ताद किया !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Benaam Sa Ye Dard Thahar Kyun Nahi Jata

Benaam sa ye dard thahar kyun nahi jata,
Jo bit gaya hai wo guzar kyun nahi jata.

Sab kuch to hai kya dhundhti rahti hain nigahen,
Kya baat hai main waqt pe ghar kyun nahi jata.

Wo ek hi chehra to nahi sare jahan mein,
Jo dur hai wo dil se utar kyun nahi jata.

Main apni hi uljhi hui rahon ka tamasha,
Jate hain jidhar sab main udhar kyun nahi jata.

Wo khwab jo barson se na chehra na badan hai,
Wo khwab hawaon mein bikhar kyun nahi jata. !!

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता,
जो बीत गया है वो गुज़र क्यूँ नहीं जाता !

सब कुछ तो है क्या ढूँढती रहती हैं निगाहें,
क्या बात है मैं वक़्त पे घर क्यूँ नहीं जाता !

वो एक ही चेहरा तो नहीं सारे जहाँ में,
जो दूर है वो दिल से उतर क्यूँ नहीं जाता !

मैं अपनी ही उलझी हुई राहों का तमाशा,
जाते हैं जिधर सब मैं उधर क्यूँ नहीं जाता !

वो ख़्वाब जो बरसों से न चेहरा न बदन है,
वो ख़्वाब हवाओं में बिखर क्यूँ नहीं जाता !!

-Nida Fazli Sad Poetry/Ghazal

 

Apni Tanhai Mere Naam Pe Aabaad Kare..

Apni tanhai mere naam pe aabaad kare,
Kaun hoga jo mujhe us ki tarah yaad kare.

Dil ajab shahr ki jis par bhi khula dar is ka,
Wo musafir ise har samt se barbaad kare.

Apne qatil ki zehanat se pareshan hun main,
Roz ek maut naye tarz ki ijad kare.

Itna hairan ho meri be-talabi ke aage,
Wa qafas mein koi dar khud mera sayyaad kare.

Salb-e-binai ke ahkaam mile hain jo kabhi,
Raushni chhune ki khwahish koi shab-zad kare.

Soch rakhna bhi jaraem mein hai shamil ab to,
Wahi masum hai har baat pe jo sad kare.

Jab lahu bol pade us ke gawahon ke khilaf,
Qazi-e-shahr kuchh is bab mein irshad kare.

Us ki mutthi mein bahut roz raha mera wajud,
Mere sahir se kaho ab mujhe aazad kare. !!

अपनी तन्हाई मेरे नाम पे आबाद करे,
कौन होगा जो मुझे उस की तरह याद करे !

दिल अजब शहर कि जिस पर भी खुला दर इस का,
वो मुसाफ़िर इसे हर सम्त से बरबाद करे !

अपने क़ातिल की ज़ेहानत से परेशान हूँ मैं,
रोज़ एक मौत नए तर्ज़ की ईजाद करे !

इतना हैराँ हो मेरी बे-तलबी के आगे,
वा क़फ़स में कोई दर ख़ुद मेरा सय्याद करे !

सल्ब-ए-बीनाई के अहकाम मिले हैं जो कभी,
रौशनी छूने की ख़्वाहिश कोई शब-ज़ाद करे !

सोच रखना भी जराएम में है शामिल अब तो,
वही मासूम है हर बात पे जो साद करे !

जब लहू बोल पड़े उस के गवाहों के ख़िलाफ़,
क़ाज़ी-ए-शहर कुछ इस बाब में इरशाद करे !

उस की मुट्ठी में बहुत रोज़ रहा मेरा वजूद,
मेरे साहिर से कहो अब मुझे आज़ाद करे !!

Parveen Shakir Ghazal