Wada Shayari

Charaghon Ka Gharana Chal Raha Hai..

Charaghon Ka Gharana Chal Raha Hai.. Rahat Indori Shayari

Charaghon ka gharana chal raha hai,
Hawa se dostana chal raha hai.

Jawani ki hawayen chal rahi hain,
Buzurgon ka khazana chal raha hai.

Meri gum-gashtagi par hansne walo,
Mere pichhe zamana chal raha hai.

Abhi hum zindagi se mil na paye,
Taaruf ghayebana chal raha hai.

Naye kirdar aate ja rahe hain,
Magar natak purana chal raha hai.

Wahi duniya wahi sansen wahi hum,
Wahi sab kuch purana chal raha hai.

Ziyaada kya tawaqqoa ho ghazal se,
Miyan bas aab-o-dana chal raha hai.

Samundar se kisi din phir milenge,
Abhi pina-pilana chal raha hai.

Wahi mahshar wahi milne ka wada,
Wahi budha bahana chal raha hai.

Yahan ek madrasa hota tha pahle,
Magar ab karkhana chal raha hai. !!

चराग़ों का घराना चल रहा है,
हवा से दोस्ताना चल रहा है !

जवानी की हवाएँ चल रही हैं,
बुज़ुर्गों का ख़ज़ाना चल रहा है !

मेरी गुम-गश्तगी पर हँसने वालो,
मेरे पीछे ज़माना चल रहा है !

अभी हम ज़िंदगी से मिल न पाए,
तआरुफ़ ग़ाएबाना चल रहा है !

नए किरदार आते जा रहे हैं,
मगर नाटक पुराना चल रहा है !

वही दुनिया वही साँसें वही हम,
वही सब कुछ पुराना चल रहा है !

ज़ियादा क्या तवक़्क़ो हो ग़ज़ल से,
मियाँ बस आब-ओ-दाना चल रहा है !

समुंदर से किसी दिन फिर मिलेंगे,
अभी पीना-पिलाना चल रहा है !

वही महशर वही मिलने का वादा,
वही बूढ़ा बहाना चल रहा है !

यहाँ एक मदरसा होता था पहले,
मगर अब कारख़ाना चल रहा है !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Jism Ki Har Baat Hai Aawargi Ye Mat Kaho..

Jism Ki Har Baat Hai Aawargi Ye Mat Kaho.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Jism ki har baat hai aawargi ye mat kaho,
Hum bhi kar sakte hain aisi shayari ye mat kaho.

Us nazar ki us badan ki gungunahat to suno,
Ek si hoti hai har ek ragni ye mat kaho.

Hum se diwanon ke bin duniya sanwarti kis tarah,
Aql ke aage hai kya diwangi ye mat kaho.

Kat saki hain aaj tak sone ki zanjiren kahan,
Hum bhi ab aazad hain yaro abhi ye mat kaho.

Panw itne tez hain uthte nazar aate nahi,
Aaj thak kar rah gaya hai aadmi ye mat kaho.

Jitne wade kal the utne aaj bhi maujud hain,
Un ke wadon mein hui hai kuch kami ye mat kaho.

Dil mein apne dard ki chhitki hui hai chandni,
Har taraf phaili hui hai tirgi ye mat kaho. !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Happy Promise Day Shayari In Hindi

यदि आप इस वैलेंटाइन डे पर अपने प्यार के लिए Happy Promise Day Shayari in Hindi की तलाश कर रहे तो आप सभी बिल्कुल सही प्लेटफार्म पे आये हो। जैसा कि आप सभी जानते है कि Valentine’s Day Week में 5th Day Promise Day होता हैं यह हर साल 11 फरवरी के दिन ही आता है। इस का मतलब होता है एक “वचन या वादा” करने का दिन ! जिसे हर Lover अपने Love के लिए करता है और यह वादा होता है जन्मो जनम तक एक दुसरे के साथ निभाने का, कभी एक दुसरे का साथ नही छोड़ने का वादा होता है | तो प्यार के इस त्यौहार में Promise Day एक महत्वपूर्ण दिन होता है|

आज प्रॉमिस डे के मौके पर हम आपके लिए Happy Promise Day Status in Hindi लेकर आये हैं ! जिन्हें आप को अपने Lover, Girlfriend & Boyfriend के साथ facebook, Whatsapp, Twitter, Instagram या किसी भी सोशल मीडिया पर भेजकर अपने प्यार के साथ एक वादा या प्रॉमिस कर सकते हो !

Happy Promise Day Shayari In Hindi

 

वादा किया हैं तो निभाएंगे,
बन के फ़िज़ा तेरा जीवन महकायेंगे,
हम हैं तो जुदाई का गम कैसा,
तेरी हर सुबह फूलो से सजायेंगे !
हैप्पी प्रॉमिस डे

वादा है तुझसे कभी रुलायेंगे नही,
हालात जो भी हो तुझे भुलायेंगे नहीं,
छुपा के अपनी आँखों में रखेंगे तुझको,
दुनिया में किसी और को दिखाएंगे नहीं !

हर पल के रिश्ते का वादा हैं तुमसे,
अपनापन कुछ इतना ज्यादा हैं तुमसे,
कभी ना सोचना के भूल जायेंगे तुम्हे,
ज़िन्दगी भर का साथ देंगे ये वादा है तुमसे !

ये वादा हैं हमारा,
ना छोड़ेंगे कभी साथ तुम्हारा,
जो गए तुम हम भूल कर कहीं,
ले आएंगे पकड़ कर हाथ तुम्हारा !

वादा करते हैं दोस्ती निभाएंगे,
कोशिश यही रहेगी तुझे ना सतायेंगे,
जरुरत पड़े तो दिल से पुकारना,
मर भी रहे होंगे तो मोहलत लेकर आएंगे !

किसी की मुहब्बत तभी पूरी होती है,
जब तक उसमें शर्ते नहीं होतीं,
एहसास और ख्याल तब तक मुक्कमल नहीं होते,
जब तक उसमें वादें और कसमें नहीं होतीं !

ये प्रॉमिस है हमारा,
ना छोड़ेंगे कभी साथ तुम्हारा,
जो गए तुम हमें भूल कर,
ले आएंगे पकड़ के हाथ तुम्हारा !

सोचा था ना करेंगे किसी से दोस्ती,
ना करेंगे किसी से वादा,
पर क्या करे दोस्त मिला इतना प्यारा,
की करना पड़ा दोस्ती का वादा !

आज प्रॉमिस डे है मुझसे करलो वादा,
कभी मेरा दिल ना दुखाओगे,
कभी मुझे छोड़ के ना जाओगे,
ख़ुशी और ग़म में मोहब्बत निभाओगे,
और सिर्फ मुझे ही चाहोगे,
ये वादा करो सनम !

कसम है इस दिल की,
कसम है इस साँसों की,
कसम है इस प्यार की,
की तुझे हर पल में बहुत प्यार करूंगा !

हर पल के रिश्ते का वादा है तुमसे,
अपनापन कुछ इतना ज्याद है तुमसे,
कभी ना सोचना की भूल जाएंगे तुम्हें,
ज़िंदगी भर का साथ देंगे ये वादा है तुमसे !

वादा ना करो अगर तुम निभा ना सको,
चाहो ना उसको जिसे तुम पा ना सको,
दोस्त तो दुनिया में बहुत होते हैं,
पर एक ख़ास रखो जिसके बिना तुम मुस्कुरा ना सको !

आने का वादा तो कर लेते हो,
पर निभाना भूल जाते हो,
लगा कर आग दिल में आप,
बुझाना भूल जाते हो !

खुशबु की तरह तेरी हर साँस मैं,
प्यार अपना बसाने का वादा है,
रंग जितने है मोहबत में हमारी,
आपके जीवन में सजाने का वादा है !

आज अपनी साँसों से ये वादा करूँगा,
तेरी चाहत को दिल में बसाये रखूँगा !

पल पल साथ निभाएंगे,
एक इशारे पर दौड़े चले आएंगे,
वादा है गम को तेरे पास भी न आने देंगे,
बस खुशियां तुझ पर लुटाएंगे !

रहेंगे तेरे दिल में हरदम,
हमारा प्यार कभी न होगा काम,
चाहे कितने भी आये जिंदगी में गम,
रहेंगे हमेशा तेरे साथ हम !

लम्हें ये सुहाने साथ हो ना हो,
कल मे आज जैसी बात हो ना हो,
दोस्ती रहेगी हमेशा दिल में,
चाहे पूरी उम्र मुलाकात हो ना हो !

साथ निभाएंगे ….. है प्रॉमिस,
वादा निभाएंगे ….. है प्रॉमिस,
तुझ पर लुटा देंगे दुनिया की हर खुशिया,
और ये सच करके दिखाएंगे ….. है प्रॉमिस !

मोहब्बत होगी हद से ज्यादा,
चाहेंगे तुझे खुद से ज्यादा,
वादा है तुम्हें अपना बना के रखेंगे ऐसे,
की तुम रहोगे मुझ में मुझ से ज्यादा !

अपने दिल में तुझे बिठाएंगे हम,
अपनी हर ख़ुशी तुझ पे लुटाएंगे हम,
कसम से तेरे साथ तेरी परछाई बन कर,
आखिरी साथ तक तेरा साथ निभाएंगे हम !

हो सके तो तुम अपना एक वादा निभाने आना,
मेरी प्यासी आँखों को अपना दीदार करवा के जाना,
बड़ी हसरत थी, तुम्हारी बाहों में बिताऊं कुछ पल,
अगर यह सांस थम गयी तो मेरी लाश से आकर लिपट जाना !

कोई नही आऐगा मेरी जिदंगी मे,
तुम्हारे सिवा,
एक मौत ही है जिसका मैं,
वादा नही करता !

अगर आपने मुझे लाखो में चुना है,
तो मेरा भी वादा है आप से,
करोड़ों की भीड़ में,
खोने नहीं दूंगा आपको !

वादा है कभी न होगी दूरी तुमसे हमारी,
हर लम्हा रहेगी चाहत तुम्हारी,
पल पल चाहेंगे तुम्हे इस कदर की,
एक पल भी तुम्हे कमी महसूस न होगी हमारी !

वादा है तुझे दिल से जुदा कभी होने नहीं देंगे,
हाथ हमारा कभी छोड़ने नहीं देंगे,
तेरी मुस्कान ही इतनी प्यारी है कि,
हम मर भी जायें पर तुझे रोने नहीं देंगे !

मोहब्बत में मैं खुद को भूल जाऊंगा,
रहा वादा तेरी शोहबत में मैं दुनिया भूल जाऊंगा,
कभी आजमाना हमें भी अपनी महफिल में,
मैं तेरी खातिर दुनिया-ऐ-महफिल भूल जाऊंगा !

खुशबु की तरह मेरी हर साँस में,
प्यार अपना बसने का वादा करो,
रंग जितने तुम्हारी मोहबत के हैं,
मेरे दिल में सजाने का वादा करो !

दिल ना दुखाएंगे कभी ना छोड़ के जायेंगे,
तेरे गम में तेरे साथ रोयेंगे,
खुशी में तेरे साथ मुस्कुराएँगे,
हर चीज से बढ़ कर सिर्फ तुझको को चाहेंगे !
Happy Promise Day 2020

 

I Hope You Like Promise Day Messages in Hindi, You Can Share These Happy Promise Day Shayari in Hindi With Your Lover, Girlfriend, Boyfriend On Social Media.

 

Itna Kyun Sharmate Hain..

Itna kyun sharmate hain,
Wade aakhir wade hain.

Likha likhaya dho dala,
Sare waraq phir sade hain.

Tujh ko bhi kyun yaad rakha,
Soch ke ab pachhtate hain.

Ret mahal do chaar bache,
Ye bhi girne wale hain.

Jayen kahin bhi tujh ko kya,
Shehar se tere jate hain.

Ghar ke andar jaane ke,
Aur kai darwaze hain.

Ungli pakad ke sath chale,
Daud mein hum se aage hain. !!

इतना क्यूँ शरमाते हैं,
वादे आख़िर वादे हैं !

लिखा लिखाया धो डाला,
सारे वरक़ फिर सादे हैं !

तुझ को भी क्यूँ याद रखा,
सोच के अब पछताते हैं !

रेत महल दो चार बचे,
ये भी गिरने वाले हैं !

जाएँ कहीं भी तुझ को क्या,
शहर से तेरे जाते हैं !

घर के अंदर जाने के,
और कई दरवाज़े हैं !

उँगली पकड़ के साथ चले,
दौड़ में हम से आगे हैं !!

-Aashufta Changezi Ghazal / Poetry

 

Be-Khayali Mein Yunhi Bas Ek Irada Kar Liya..

Be-khayali mein yunhi bas ek irada kar liya,
Apne dil ke shauq ko had se ziyada kar liya.

Jante the donon hum us ko nibha sakte nahi,
Usne wada kar liya maine bhi wada kar liya.

Ghair se nafrat jo pa li kharch khud par ho gayi,
Jitne hum the hum ne khud ko us se aadha kar liya.

Sham ke rangon mein rakh kar saf pani ka gilas,
Aab-e-sada ko harif-e-rang-e-baada kar liya.

Hijraton ka khauf tha ya pur-kashish kohna maqam,
Kya tha jis ko hum ne khud diwar-e-jada kar liya.

Ek aisa shakhs banta ja raha hun main “Munir“,
Jis ne khud par band husn-o jam-o-baada kar liya. !!

बे-ख़याली में यूँही बस इक इरादा कर लिया,
अपने दिल के शौक़ को हद से ज़ियादा कर लिया !

जानते थे दोनों हम उस को निभा सकते नहीं,
उसने वादा कर लिया मैंने भी वादा कर लिया !

ग़ैर से नफ़रत जो पा ली ख़र्च ख़ुद पर हो गई,
जितने हम थे हम ने ख़ुद को उस से आधा कर लिया !

शाम के रंगों में रख कर साफ़ पानी का गिलास,
आब-ए-सादा को हरीफ़-ए-रंग-ए-बादा कर लिया !

हिजरतों का ख़ौफ़ था या पुर-कशिश कोहना मक़ाम,
क्या था जिस को हम ने ख़ुद दीवार-ए-जादा कर लिया !

एक ऐसा शख़्स बनता जा रहा हूँ मैं “मुनीर“,
जिस ने ख़ुद पर बंद हुस्न-ओ-जाम-ओ-बादा कर लिया !!

Jaane Kya Dekha Tha Maine Khwab Mein..

Jaane kya dekha tha maine khwab mein,
Phans gaya phir jism ke girdab mein.

Tera kya tu to baras ke khul gaya,
Mera sab kuchh bah gaya sailab mein.

Meri ankhon ka bhi hissa hai bahut,
Tere is chehre ki ab-o-tab mein.

Tujh mein aur mujh mein taalluq hai wahi,
Hai jo rishta saaz aur mizrab mein.

Mera wada hai ki saari zindagi,
Tujh se main milta rahunga khwab mein. !!

जाने क्या देखा था मैं ने ख़्वाब में,
फँस गया फिर जिस्म के गिर्दाब में !

तेरा क्या तू तो बरस के खुल गया,
मेरा सब कुछ बह गया सैलाब में !

मेरी आँखों का भी हिस्सा है बहुत,
तेरे इस चेहरे की आब-ओ-ताब में !

तुझ में और मुझ में तअल्लुक़ है वही,
है जो रिश्ता साज़ और मिज़राब में !

मेरा वादा है कि सारी ज़िंदगी,
तुझ से मैं मिलता रहूँगा ख़्वाब में !!

-Bashar Nawaz Ghazal / Poetry