Urdu Shayari

Wafa Mein Ab Ye Hunar Ikhtiyar Karna Hai..

Wafa mein ab ye hunar ikhtiyar karna hai,
Wo sach kahe na kahe aitebaar karna hai.

Ye tujh ko jagte rahne ka shouq kab se hua,
Mujhe to khair tera intezar karna hai.

Hawa ki zad mein jalne hain aansoon ke chiraagh,
Kabhi ye jashan sar-e-rah guzaar karna hai.

Wo muskura ke naye wishwason mein dhal gaya,
Khayal tha ke use sharam saar karna hai.

Misaal-e-shaakh-e-barhana khizan ke rut mein kabhi,
Khud apne jism ko be-barg-o-baar karna hai.

Tere firaaq mein din kis tarah kattein apne,
Ke shugal-e-shab to sitare shumaar karna hai.

Chalo ye ashk hi moti samajh ke baich aaye,
Kisi tarah to hame rozgaar karna hai.

Kabhi to dil mein chupe zakhm bhi numayaan hun,
Qaba samajh ke badan taar taar karna hai.

Khuda jane ye koi zid ke shouq hai “Mohsin“,
Khud apni jaan ke dushman se pyar karna hai. !!

वफ़ा में अब ये हुनर इख़्तियार करना है,
वह सच कहें न कहे ऐतबार करना है !

ये तुझ को जागते रहने का शौक़ कब से हुआ,
मुझे तो खैर तेरा इंतज़ार करना है !

हवा की ज़द में जलने हैं आंसुओं के चिराग,
कभी ये जश्न सर-ए-राह गुजार करना है !

वह मुस्कुरा के नए विश्वासों में ढल गया,
ख्याल था कि उसे शर्म सार करना है !

मिसाल-ए-शाख-ए-बढ़ाना खिज़ां के रुत में कभी,
खुद अपने जिस्म को बेबर्ग-ओ-बार करना है !

तेरे फ़िराक में दिन किस तरह कटें अपने,
के सहगल-ए-शब तो सितारे शुमार करना है !

चलो ये अश्क ही मोती समझ के बेच आये,
किसी तरह तो हमे रोज़गार करना है !

कभी तो दिल में छुपे ज़ख्म भी नुमायां हों,
क़बा समझ के बदन तार तार करना है !

खुदा जाने ये कोई ज़िद के शौक है “मोहसिन“,
खुद अपनी जान के दुश्मन से प्यार करना है !!

 

Hazaron Khwahishen Aisi Ke Har Khwahish Pe Dam Nikle..

Hazaron khwahishen aisi ke har khwahish pe dam nikle,
Bahut nikle mere arman lekin phir bhi kam nikle.

Dare kyun mera qatil kya rahega us ki gardan par,
Wo khoon jo chashm-e-tar se umar bhar yun dam-b-dam nikle.

Nikalna khuld se aadam ka sunte aaye hain lekin,
Bahut be-abru ho kar tere kuche se hum nikle.

Bharam khul jaye zalim tere qamat ki daraazi ka,
Agar is turra-e-pur-pech-o-kham ka pech-o-kham nikle.

Magar likhwaye koi us ko khat to hum se likhwaye,
Hui subh aur ghar se kan par rakh kar qalam nikle.

Hui is daur mein mansub mujh se baada ashami,
Phir aaya wo zamana jo jahan mein jam-e-jam nikle.

Hui jin se tawaqqo khastagi ki daad pane ki,
Wo hum se bhi ziyaada khasta-e-tegh-e-sitam nikle.

Mohabbat mein nahi hai farq jine aur marne ka,
Usi ko dekh kar jite hain jis kafir pe dam nikle.

Zara kar jor sine par ki teer-e-pursitam nikle,
Jo wo nikle to dil nikle jo dil nikle to dam nikle.

Khuda ke waste parda na kabe se uthaa zaalim,
Kahin aisa na ho yaan bhi wahi kafir sanam nikle.

Kahan mai-khane ka darwaza “Ghalib” aur kahan waiz,
Par itna jaante hain kal wo jata tha ki hum nikle.

Hazaron khwahishen aisi ke har khwahish pe dam nikle,
Bahut nikle mere arman lekin phir bhi kam nikle. !!

हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले,
बहुत निकले मेरे अरमाँ लेकिन फिर भी कम निकले !

डरे क्यों मेरा कातिल क्या रहेगा उसकी गर्दन पर,
वो खून जो चश्म-ऐ-तर से उम्र भर यूं दम-ब-दम निकले !

निकलना खुल्द से आदम का सुनते आये हैं लेकिन,
बहुत बे-आबरू होकर तेरे कूचे से हम निकले !

भ्रम खुल जाये जालीम तेरे कामत कि दराजी का,
अगर इस तुर्रा-ए-पुरपेच-ओ-खम का पेच-ओ-खम निकले !

मगर लिखवाये कोई उसको खत तो हमसे लिखवाये,
हुई सुबह और घर से कान पर रखकर कलम निकले !

हुई इस दौर में मनसूब मुझसे बादा-आशामी,
फिर आया वो जमाना जो जहाँ से जाम-ए-जम निकले !

हुई जिनसे तव्वको खस्तगी की दाद पाने की,
वो हमसे भी ज्यादा खस्ता-ए-तेग-ए-सितम निकले !

मुहब्बत में नहीं है फ़र्क जीने और मरने का,
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफिर पे दम निकले !

जरा कर जोर सिने पर कि तीर-ऐ-पुरसितम निकले,
जो वो निकले तो दिल निकले, जो दिल निकले तो दम निकले !

खुदा के बासते पर्दा ना काबे से उठा जालिम,
कहीं ऐसा न हो याँ भी वही काफिर सनम निकले !

कहाँ मय-खाने का दरवाजा “गालिब” और कहाँ वाइज़,
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था के हम निकले !

हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले,
बहुत निकले मेरे अरमाँ लेकिन फिर भी कम निकले !!

Aam Hukm-E-Sharab Karta Hun..

Aam hukm-e-sharab karta hun,
Mohtasib ko kabab karta hun.

Tuk to rah ai bina-e-hasti tu,
Tujh ko kaisa kharab karta hun.

Bahs karta hun ho ke abjad-khwan,
Kis qadar be-hisab karta hun.

Koi bujhti hai ye bhadak mein abas,
Tishnagi par itab karta hun.

Sar talak aab-e-tegh mein hun gharq,
Ab tain aab aab karta hun.

Ji mein phirta hai “Mir” wo mere,
Jagta hun ki khwab karta hun. !!

आम हुक्म-ए-शराब करता हूँ,
मोहतसिब को कबाब करता हूँ !

टुक तो रह ऐ बिना-ए-हस्ती तू,
तुझ को कैसा ख़राब करता हूँ !

बहस करता हूँ हो के अबजद-ख़्वाँ,
किस क़दर बे-हिसाब करता हूँ !

कोई बुझती है ये भड़क में अबस,
तिश्नगी पर इताब करता हूँ !

सर तलक आब-ए-तेग़ में हूँ ग़र्क़,
अब तईं आब आब करता हूँ !

जी में फिरता है “मीर” वो मेरे,
जागता हूँ कि ख़्वाब करता हूँ !!

Koi Anees Koi Aashna Nahi Rakhte..

Koi anees koi aashna nahi rakhte,
Kisi ki aas baghair az khuda nahi rakhte.

Kisi ko kya ho dilon ki shikastagi ki khabar,
Ki tutne mein ye shishe sada nahi rakhte.

Faqir dost jo ho hum ko sarfaraaz kare,
Kuch aur farsh ba-juz boriya nahi rakhte.

Musafiro shab-e-awwal bahut hai tera-o- tar,
Charagh-e-qabr abhi se jala nahi rakhte.

Wo log kaun se hain ai khuda-e-kaun-o-makan,
Sukhan se kan ko jo aashna nahi rakhte.

Musafiran-e-adam ka pata mile kyunkar,
Wo yun gaye ki kahin naqsh-e-pa nahi rakhte.

Tap-e-darun gham-e-furqat waram-e-payada-rawi,
Maraz to itne hain aur kuch dawa nahi rakhte.

Khulega haal unhen jab ki aankh band hui,
Jo log ulfat-e-mushkil-kusha nahi rakhte.

Jahan ki lazzat-o-khwahish se hai bashar ka khamir,
Wo kaun hain ki jo hirs-o-hawa nahi rakhte.

Anees” bech ke jaan apni hind se niklo,
Jo tosha-e-safar-e-karbala nahi rakhte. !!

कोई अनीस कोई आश्ना नहीं रखते,
किसी की आस बग़ैर अज़ ख़ुदा नहीं रखते !

किसी को क्या हो दिलों की शिकस्तगी की ख़बर,
कि टूटने में ये शीशे सदा नहीं रखते !

फ़क़ीर दोस्त जो हो हम को सरफ़राज़ करे,
कुछ और फ़र्श ब-जुज़ बोरिया नहीं रखते !

मुसाफ़िरो शब-ए-अव्वल बहुत है तेरा-ओ-तार,
चराग़-ए-क़ब्र अभी से जला नहीं रखते !

वो लोग कौन से हैं ऐ ख़ुदा-ए-कौन-ओ-मकाँ,
सुख़न से कान को जो आश्ना नहीं रखते !

मुसाफ़िरान-ए-अदम का पता मिले क्यूँकर,
वो यूँ गए कि कहीं नक़्श-ए-पा नहीं रखते !

तप-ए-दरूँ ग़म-ए-फ़ुर्क़त वरम-ए-पयादा-रवी,
मरज़ तो इतने हैं और कुछ दवा नहीं रखते !

खुलेगा हाल उन्हें जब कि आँख बंद हुई,
जो लोग उल्फ़त-ए-मुश्किल-कुशा नहीं रखते !

जहाँ की लज़्ज़त-ओ-ख़्वाहिश से है बशर का ख़मीर,
वो कौन हैं कि जो हिर्स-ओ-हवा नहीं रखते !

अनीस” बेच के जाँ अपनी हिन्द से निकलो,
जो तोशा-ए-सफ़र-ए-कर्बला नहीं रखते !!

Aadmi Waqt Par Gaya Hoga..

Aadmi waqt par gaya hoga,
Waqt pahle guzar gaya hoga.

Wo hamari taraf na dekh ke bhi,
Koi ehsan dhar gaya hoga.

Khud se mayus ho ke baitha hun,
Aaj har shakhs mar gaya hoga.

Sham tere dayar mein aakhir,
Koi to apne ghar gaya hoga.

Marham-e-hijr tha ajab iksir,
Ab to har zakhm bhar gaya hoga. !!

आदमी वक़्त पर गया होगा,
वक़्त पहले गुज़र गया होगा !

वो हमारी तरफ़ न देख के भी,
कोई एहसान धर गया होगा !

ख़ुद से मायूस हो के बैठा हूँ,
आज हर शख़्स मर गया होगा !

शाम तेरे दयार में आख़िर,
कोई तो अपने घर गया होगा !

मरहम-ए-हिज्र था अजब इक्सीर,
अब तो हर ज़ख़्म भर गया होगा !!

-Jaun Elia Poetry / Ghazal

Aakhiri Mulaqat..

Aakhiri Mulaqat By Jan Nisar Akhtar

Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Do panv bane hariyali par
Ek titli baithi dali par
Kuch jagmag jugnu jangal se
Kuch jhumte hathi baadal se
Ye ek kahani nind bhari
Ek takht pe baithi ek pari
Kuch gin gin karte parwane
Do nanhe nanhe dastane
Kuch udte rangin ghubare
Babbu ke dupatte ke tare
Ye chehra banno budhi ka
Ye tukda maa ki chudi ka
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Alsai hui rut sawan ki
Kuch saundhi khushbu aangan ki
Kuch tuti rassi jhule ki
Ek chot kasakti kulhe ki
Sulgi si angithi jadon mein
Ek chehra kitni aadon mein
Kuch chandni raatein garmi ki
Ek lab par baaten narmi ki
Kuch rup hasin kashanon ka
Kuch rang hare maidanon ka
Kuch haar mahakti kaliyon ke
Kuch nasm watan ki galiyon ke
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch chand chamakte galon ke
Kuch bhanwre kale baalon ke
Kuch nazuk shiknen aanchal ki
Kuch narm lakiren kajal ki
Ek khoi kadi afsanon ki
Do aankhein raushan-danon ki
Ek surkh dulai got lagi
Kya jaane kab ki chot lagi
Ek chhalla phiki rangat ka
Ek loket dil ki surat ka
Rumal kayi resham se kadhe
Wo khat jo kabhi main ne na padhe
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch ujdi mangen shamon ki
Aawaz shikasta jamon ki
Kuch tukde khali botal ke
Kuch ghungru tuti pael ke
Kuch bikhre tinke chilman ke
Kuch purze apne daman ke
Ye tare kuch tharraye hue
Ye git kabhi ke gaye hue
Kuch sher purani ghazlon ke
Unwan adhuri nazmon ke
Tuti huyi ek ashkon ki ladi
Ek khushk qalam ek band ghadi
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch rishte tute tute se
Kuch sathi chhute chhute se
Kuch bigdi bigdi taswirein
Kuch dhundli dhundli tahrirein
Kuch aansu chhalke chhalke se
Kuch moti dhalke dhalke se
Kuch naqsh ye hairan hairan se
Kuch aks ye larzan larzan se
Kuch ujdi ujdi duniya mein
Kuch bhatki bhatki aashaein
Kuch bikhre bikhre sapne hain
Ye ghair nahi sab apne hain
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain. !!

मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

दो पाँव बने हरियाली पर
एक तितली बैठी डाली पर
कुछ जगमग जुगनू जंगल से
कुछ झूमते हाथी बादल से
ये एक कहानी नींद भरी
इक तख़्त पे बैठी एक परी
कुछ गिन गिन करते परवाने
दो नन्हे नन्हे दस्ताने
कुछ उड़ते रंगीं ग़ुबारे
बब्बू के दुपट्टे के तारे
ये चेहरा बन्नो बूढ़ी का
ये टुकड़ा माँ की चूड़ी का
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

अलसाई हुई रुत सावन की
कुछ सौंधी ख़ुश्बू आँगन की
कुछ टूटी रस्सी झूले की
इक चोट कसकती कूल्हे की
सुलगी सी अँगीठी जाड़ों में
इक चेहरा कितनी आड़ों में
कुछ चाँदनी रातें गर्मी की
इक लब पर बातें नरमी की
कुछ रूप हसीं काशानों का
कुछ रंग हरे मैदानों का
कुछ हार महकती कलियों के
कुछ नाम वतन की गलियों के
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ चाँद चमकते गालों के
कुछ भँवरे काले बालों के
कुछ नाज़ुक शिकनें आँचल की
कुछ नर्म लकीरें काजल की
इक खोई कड़ी अफ़्सानों की
दो आँखें रौशन-दानों की
इक सुर्ख़ दुलाई गोट लगी
क्या जाने कब की चोट लगी
इक छल्ला फीकी रंगत का
इक लॉकेट दिल की सूरत का
रूमाल कई रेशम से कढ़े
वो ख़त जो कभी मैंने न पढ़े
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
में ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ उजड़ी माँगें शामों की
आवाज़ शिकस्ता जामों की
कुछ टुकड़े ख़ाली बोतल के
कुछ घुँगरू टूटी पायल के
कुछ बिखरे तिनके चिलमन के
कुछ पुर्ज़े अपने दामन के
ये तारे कुछ थर्राए हुए
ये गीत कभी के गाए हुए
कुछ शेर पुरानी ग़ज़लों के
उनवान अधूरी नज़्मों के
टूटी हुई इक अश्कों की लड़ी
इक ख़ुश्क क़लम इक बंद घड़ी
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ रिश्ते टूटे टूटे से
कुछ साथी छूटे छूटे से
कुछ बिगड़ी बिगड़ी तस्वीरें
कुछ धुँदली धुँदली तहरीरें
कुछ आँसू छलके छलके से
कुछ मोती ढलके ढलके से
कुछ नक़्श ये हैराँ हैराँ से
कुछ अक्स ये लर्ज़ां लर्ज़ां से
कुछ उजड़ी उजड़ी दुनिया में
कुछ भटकी भटकी आशाएँ
कुछ बिखरे बिखरे सपने हैं
ये ग़ैर नहीं सब अपने हैं
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं !!

-Jan Nisar Akhtar Nazm / Poetry

Ek Nazar Hi Dekha Tha Shauq Ne Shabab Un Ka..

Ek nazar hi dekha tha shauq ne shabab un ka

Ek nazar hi dekha tha shauq ne shabab un ka,
Din ko yaad hai un ki raat ko hai khwab un ka.

Gir gaye nigahon se phul bhi sitare bhi,
Main ne jab se dekha hai aalam-e-shabab un ka.

Nasehon ne shayad ye baat hi nahi sochi,
Ek taraf hai dil mera ek taraf shabab un ka.

Ai dil un ke chehre tak kis tarah nazar jati,
Nur un ke chehre ka ban gaya hijab un ka.

Ab kahun to main kis se mere dil pe kya guzri,
Dekh kar un aankhon mein dard-e-iztirab un ka.

Hashr ke muqabil mein hashr hi saf-ara hai,
Is taraf junun mera us taraf shabab un ka. !!

एक नज़र ही देखा था शौक़ ने शबाब उन का,
दिन को याद है उन की रात को है ख़्वाब उन का !

गिर गए निगाहों से फूल भी सितारे भी,
मैं ने जब से देखा है आलम-ए-शबाब उन का !

नासेहों ने शायद ये बात ही नहीं सोची,
एक तरफ़ है दिल मेरा एक तरफ़ शबाब उन का !

ऐ दिल उन के चेहरे तक किस तरह नज़र जाती,
नूर उन के चेहरे का बन गया हिजाब उन का !

अब कहूँ तो मैं किस से मेरे दिल पे क्या गुज़री,
देख कर उन आँखों में दर्द-ए-इज़्तिराब उन का !

हश्र के मुक़ाबिल में हश्र ही सफ़-आरा है,
इस तरफ़ जुनूँ मेरा उस तरफ़ शबाब उन का !!

-Jagan Nath Azad Poetry

 

Kamar Bandhe Hue Chalne Ko Yaan Sab Yaar Baithe Hain..

Kamar bandhe hue chalne ko yaan sab yaar baithe hain,
Bahut aage gaye baqi jo hain tayyar baithe hain.

Na chhed ai nikhat-e-baad-e-bahaari rah lag apni,
Tujhe atkheliyan sujhi hain hum be-zar baithe hain.

Khayal un ka pare hai arsh-e-azam se kahin saqi,
Gharaz kuch aur dhun mein is ghadi mai-khwar baithe hain.

Basan-e-naqsh-e-pa-e-rah-rawan ku-e-tamanna mein,
Nahi uthne ki taqat kya karen lachaar baithe hain.

Ye apni chaal hai uftadgi se in dinon pahron,
Nazar aaya jahan par saya-e-diwar baithe hain.

Kahen hain sabr kis ko aah nang o nam hai kya shai,
Gharaz ro pit kar un sab ko hum yak bar baithe hain.

Kahin bose ki mat jurat dila kar baithiyo un se,
Abhi is had ko wo kaifi nahi hushyar baithe hain.

Najibon ka ajab kuch haal hai is daur mein yaron,
Jise puchho yahi kahte hain hum bekar baithe hain.

Nai ye waza sharmane ki sikhi aaj hai tum ne,
Hamare pas sahab warna yun sau bar baithe hain.

Kahan gardish falak ki chain deti hai suna “Insha“,
Ghanimat hai ki hum surat yahan do-chaar baithe hain. !!

कमर बाँधे हुए चलने को याँ सब यार बैठे हैं,
बहुत आगे गए बाक़ी जो हैं तैयार बैठे हैं !

न छेड़ ऐ निकहत-ए-बाद-ए-बहारी राह लग अपनी,
तुझे अटखेलियाँ सूझी हैं हम बे-ज़ार बैठे हैं !

ख़याल उन का परे है अर्श-ए-आज़म से कहीं साक़ी,
ग़रज़ कुछ और धुन में इस घड़ी मय-ख़्वार बैठे हैं !

बसान-ए-नक़्श-ए-पा-ए-रह-रवाँ कू-ए-तमन्ना में,
नहीं उठने की ताक़त क्या करें लाचार बैठे हैं !

ये अपनी चाल है उफ़्तादगी से इन दिनों पहरों,
नज़र आया जहाँ पर साया-ए-दीवार बैठे हैं !

कहें हैं सब्र किस को आह नंग ओ नाम है क्या शय,
ग़रज़ रो पीट कर उन सब को हम यक बार बैठे हैं !

कहीं बोसे की मत जुरअत दिला कर बैठियो उन से,
अभी इस हद को वो कैफ़ी नहीं होशियार बैठे हैं !

नजीबों का अजब कुछ हाल है इस दौर में यारो,
जिसे पूछो यही कहते हैं हम बेकार बैठे हैं !

नई ये वज़्अ शरमाने की सीखी आज है तुम ने,
हमारे पास साहब वर्ना यूँ सौ बार बैठे हैं !

कहाँ गर्दिश फ़लक की चैन देती है सुना “इंशा“,
ग़नीमत है कि हम सूरत यहाँ दो-चार बैठे हैं !!

 

Hum Un Se Agar Mil Baithe Hain Kya Dosh Hamara Hota Hai..

Hum un se agar mil baithe hain kya dosh hamara hota hai,
Kuch apni jasarat hoti hai kuch un ka ishaara hota hai.

Katne lagi raaten aankhon mein dekha nahi palkon par aksar,
Ya sham-e-ghariban ka jugnu ya subh ka tara hota hai.

Hum dil ko liye har desh phire is jins ke gahak mil na sake,
Aye banjaro hum log chale hum ko to khasara hota hai.

Hum apni zaban se kuch bhi kahein shayar hai khayalon se khelen,
Aa jao to baham mil baithe kabhi hijr bhi pyara hota hai.

Daftar se uthe kaife mein gaye kuch sher kahe kuch coffee pi,
Puchho jo maash ka “inshaJi” yun apna guzara hota hai. !!

हम उन से अगर मिल बैठे हैं क्या दोश हमारा होता है,
कुछ अपनी जसारत होती है कुछ उन का इशारा होता है !

कटने लगीं रातें आँखों में देखा नहीं पलकों पर अक्सर,
या शाम-ए-ग़रीबाँ का जुगनू या सुब्ह का तारा होता है !

हम दिल को लिए हर देस फिरे इस जिंस के गाहक मिल न सके,
ऐ बंजारो हम लोग चले हम को तो ख़सारा होता है !

हम अपनी ज़बान से कुछ भी कहें शायर है ख्यालों से खेलें,
आ जाओ तो बहम मिल बैठे कभी हिज्र भी प्यारा होता है !

दफ़्तर से उठे कैफ़े में गए कुछ शेर कहे कुछ कॉफ़ी पी,
पूछो जो मआश का “इंशाजी” यूँ अपना गुज़ारा होता है !!

 

Phir Dil Se Aa Rahi Hai Sada Us Gali Mein Chal..

Phir dil se aa rahi hai sada us gali mein chal,
Shayad mile ghazal ka pata us gali mein chal.

Kab se nahi hua hai koi sher kaam ka,
Ye sher ki nahi hai faza us gali mein chal.

Woh baam-o-dar wo log wo ruswaiyon ke zakhm,
Hain sab ke sab aziz juda us gali mein chal.

Us phool ke baghair bahut ji udas hai,
Mujh ko bhi sath le ke saba us gali mein chal.

Duniya to chahti hai yunhi fasle rahen,
Duniya ke mashwaron pe na jaa us gali mein chal.

Be-nur o be-asar hai yahan ki sada-e-saz,
Tha us sukut mein bhi maza us gali mein chal.

Jalib” pukarti hain wo shola-nawaiyan,
Ye sard rut ye sard hawa us gali mein chal. !!

फिर दिल से आ रही है सदा उस गली में चल,
शायद मिले ग़ज़ल का पता उस गली में चल !

कब से नहीं हुआ है कोई शेर काम का,
ये शेर की नहीं है फ़ज़ा उस गली में चल !

वो बाम ओ दर वो लोग वो रुस्वाइयों के ज़ख़्म,
हैं सब के सब अज़ीज़ जुदा उस गली में चल !

उस फूल के बग़ैर बहुत जी उदास है,
मुझ को भी साथ ले के सबा उस गली में चल !

दुनिया तो चाहती है यूँही फ़ासले रहें,
दुनिया के मशवरों पे न जा उस गली में चल !

बे-नूर ओ बे-असर है यहाँ की सदा-ए-साज़,
था उस सुकूत में भी मज़ा उस गली में चल !

जालिब” पुकारती हैं वो शोला-नवाइयाँ,
ये सर्द रुत ये सर्द हवा उस गली में चल !!