Monday , September 28 2020

Urdu Shayari

Tumhaare Honton Ki Thandi Thandi Tilawaten..

Tumhaare Honton Ki Thandi Thandi Tilawaten.. { Takhliq – Gulzar Nazm } !

Tumhaare honton ki thandi thandi tilawaten
Jhuk ke meri aankhon ko chhu rahi hain
Main apne honton se chun raha hun tumhaari sanson ki aayaton ko
Ki jism ke is hasin kabe pe rooh sajde bichha rahi hai
Wo ek lamha bada muqaddas tha jis mein tum janm le rahi thi
Wo ek lamha bada muqaddas tha jis mein main janm le raha tha
Ye ek lamha bada muqaddas hai jis ko hum janm de rahe hain
Khuda ne aise hi ek lamhe mein socha hoga
Hayat takhliq kar ke lamhe ke lams ko jawedan bhi kar de. !! -Gulzar Nazm

तुम्हारे होंटों की ठंडी ठंडी तिलावतें
झुक के मेरी आँखों को छू रही हैं
मैं अपने होंटों से चुन रहा हूँ तुम्हारी साँसों की आयतों को
कि जिस्म के इस हसीन काबे पे रूह सज्दे बिछा रही है
वो एक लम्हा बड़ा मुक़द्दस था जिस में तुम जन्म ले रही थीं
वो एक लम्हा बड़ा मुक़द्दस था जिस में मैं जन्म ले रहा था
ये एक लम्हा बड़ा मुक़द्दस है जिस को हम जन्म दे रहे हैं
ख़ुदा ने ऐसे ही एक लम्हे में सोचा होगा
हयात तख़्लीक़ कर के लम्हे के लम्स को जावेदाँ भी कर दे !! -गुलज़ार नज़्म

 

Subah Se Shaam Hui Aur Hiran Mujhko Chhalawe Deta..

Subah Se Shaam Hui Aur Hiran Mujhko Chhalawe Deta.. Gulzar Nazm !

Subah se shaam hui aur hiran mujhko chhalawe deta
Sare jangal mein pareshan kiye ghum raha hai ab tak
Uski gardan ke bahut pas se guzre hain kai tir mere
Wo bhi ab utna hi hushyar hai jitna main hun
Ek jhalak de ke jo gum hota hai wo pedon mein
Main wahan pahunchun to tile pe kabhi chashme ke us par nazar aata hai
Wo nazar rakhta hai mujh par
Main use aankh se ojhal nahi hone deta

Kaun daudaye hue hai kisko
Kaun ab kis ka shikari hai pata hi nahi chalta

Subah utra tha main jangal mein
To socha tha ki us shokh hiran ko
Neze ki nok pe parcham ki tarah tan ke main shehar mein dakhil hunga
Din magar dhalne laga hai
Dil mein ek khauf sa ab baith raha hai
Ki bil-akhir ye hiran hi
Mujhe singon par uthaye hue ek ghaar mein dakhil hoga. !! -Gulzar Nazm

सुबह से शाम हुई और हिरन मुझ को छलावे देता
सारे जंगल में परेशान किए घूम रहा है अब तक
उसकी गर्दन के बहुत पास से गुज़रे हैं कई तीर मेरे
वो भी अब उतना ही हुश्यार है जितना मैं हूँ
एक झलक दे के जो गुम होता है वो पेड़ों में
मैं वहाँ पहुँचूँ तो टीले पे कभी चश्मे के उस पार नज़र आता है
वो नज़र रखता है मुझ पर
मैं उसे आँख से ओझल नहीं होने देता

कौन दौड़ाए हुए है किसको
कौन अब किस का शिकारी है पता ही नहीं चलता

सुबह उतरा था मैं जंगल में
तो सोचा था कि उस शोख़ हिरन को
नेज़े की नोक पे परचम की तरह तान के मैं शहर में दाख़िल हूँगा
दिन मगर ढलने लगा है
दिल में एक ख़ौफ़ सा अब बैठ रहा है
कि बिल-आख़िर ये हिरन ही
मुझे सींगों पर उठाए हुए एक ग़ार में दाख़िल होगा !! -गुलज़ार नज़्म

 

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai..

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai.. { Diary – Gulzar’s Nazm }

Na jaane kis ki ye Diary hai
Na naam hai na pata hai koi:
“Har ek karwat main yaad karta hun tum ko lekin
Ye karwaten lete raat din yun masal rahe hain mere badan ko
Tumhaari yaadon ke jism par nil pad gaye hain”

Ek aur safhe pe yun likha hai:
“Kabhi kabhi raat ki siyahi,
Kuch aisi chehre pe jam si jati hai
Lakh ragdun,
Sahar ke pani se lakh dhoun
Magar wo kalak nahi utarti
Milogi jab tum pata chalega
Main aur bhi kala ho gaya hun
Ye hashiye mein likha hua hai:
“Main dhoop mein jal ke itna kala nahi hua tha
Ki jitna is raat main sulag ke siyah hua hun”

Mahin lafzon mein ek jagah yun likha hai is ne:
“Tumhen bhi to yaad hogi wo raat sardiyon ki
Jab aundhi kashti ke niche hum ne
Badan ke chulhe jala ke tape the, din kiya tha
Ye pattharon ka bichhauna hargiz na sakht lagta jo tum bhi hotin
Tumhein bichhata bhi odhta bhi”

Ek aur safhe pe phir usi raat ka bayan hai:
“Tum ek takiye mein gile baalon ki bhar ke khushboo,
Jo aaj bhejo
To neend aa jaye, so hi jaun”

Kuch aisa lagta hai jis ne bhi Diary likhi hai
Wo shehar aaya hai ganv mein chhod kar kisi ko
Talaash mein kaam hi ke shayad:
“Main shehar ki is machine mein fit hun jaise dhibri,
Zaruri hai ye zara sa purza
Aham bhi hai kyun ki roz ke roz tel de kar
Ise zara aur kas ke jata hai chief mera
Wo roz kasta hai,
Roz ek pech aur chadhta hai jab nason par,
To ji mein aata hai zehar kha lun
Ya bhag jaun”

Kuch ukhde ukhde, kate hue se ajib jumle,
“Kahani wo jis mein ek shahzadi chat leti hai
Apni angushtari ka hira,
Wo tum ne puri nahi sunai”

“Kadon mein sona nahi hai,
Un par sunahri pani chadha hua hai”
Ek aur zewar ka zikr bhi hai:
“Wo nak ki nath na bechna tum
Wo jhutha moti hai, tum se sachcha kaha tha main ne,
Sunar ke pas ja ke sharmindagi si hogi”

Ye waqt ka than khulta rahta hai pal ba pal,
Aur log poshaken kat kar,
Apne apne andaz se pahante hain waqt lekin
Jo main ne kati thi than se ek qamiz
Wo tang ho rahi hai”

Kabhi kabhi is pighalte lohe ki garm bhatti mein kaam karte,
Thithurne lagta hai ye badan jaise sakht sardi mein bhun raha ho,
Bukhar rahta hai kuch dinon se

Magar ye satren badi ajab hain
Kahin tawazun bigad gaya hai
Ya koi siwan udhad gayi hai:
“Farar hun main kai dinon se
Jo ghup-andhere ki tir jaisi surang ek kan se
Shurua ho ke dusre kan tak gayi hai,
Main us nali mein chhupa hua hun,
Tum aa ke tinke se mujh ko bahar nikal lena”

“Koi nahi aayega ye kide nikalne ab
Ki un ko to shehar mein dhuan de ke mara jata hai naliyon mein” !! -Gulzar’s Nazm

न जाने किस की ये डायरी है
न नाम है, न पता है कोई:
”हर एक करवट मैं याद करता हूँ तुम को लेकिन
ये करवटें लेते रात दिन यूँ मसल रहे हैं मेरे बदन को
तुम्हारी यादों के जिस्म पर नील पड़ गए हैं”

एक और सफ़्हे पे यूँ लिखा है:
”कभी कभी रात की सियाही,
कुछ ऐसी चेहरे पे जम सी जाती है
लाख रगड़ूँ,
सहर के पानी से लाख धोऊँ
मगर वो कालक नहीं उतरती
मिलोगी जब तुम पता चलेगा
मैं और भी काला हो गया हूँ
ये हाशिए में लिखा हुआ है:
”मैं धूप में जल के इतना काला नहीं हुआ था
कि जितना इस रात मैं सुलग के सियह हुआ हूँ”

महीन लफ़्ज़ों में एक जगह यूँ लिखा है इस ने:
”तुम्हें भी तो याद होगी वो रात सर्दियों की
जब औंधी कश्ती के नीचे हम ने
बदन के चूल्हे जला के तापे थे, दिन किया था
ये पत्थरों का बिछौना हरगिज़ न सख़्त लगता जो तुम भी होतीं
तुम्हें बिछाता भी ओढ़ता भी”

एक और सफ़्हे पे फिर उसी रात का बयाँ है:
”तुम एक तकिए में गीले बालों की भर के ख़ुशबू,
जो आज भेजो
तो नींद आ जाए, सो ही जाऊँ”

कुछ ऐसा लगता है जिस ने भी डायरी लिखी है
वो शहर आया है गाँव में छोड़ कर किसी को
तलाश में काम ही के शायद:
”मैं शहर की इस मशीन में फ़िट हूँ जैसे ढिबरी,
ज़रूरी है ये ज़रा सा पुर्ज़ा
अहम भी है क्यूँ कि रोज़ के रोज़ तेल दे कर
इसे ज़रा और कस के जाता है चीफ़ मेरा
वो रोज़ कसता है,
रोज़ एक पेच और चढ़ता है जब नसों पर,
तो जी में आता है ज़हर खा लूँ
या भाग जाऊँ”

कुछ उखड़े उखड़े, कटे हुए से अजीब जुमले,
”कहानी वो जिस में एक शहज़ादी चाट लेती है
अपनी अंगुश्तरी का हीरा,
वो तुम ने पूरी नहीं सुनाई”

”कड़ों में सोना नहीं है,
उन पर सुनहरी पानी चढ़ा हुआ है”
एक और ज़ेवर का ज़िक्र भी है:
”वो नाक की नथ न बेचना तुम
वो झूठा मोती है, तुम से सच्चा कहा था मैं ने,
सुनार के पास जा के शर्मिंदगी सी होगी”

ये वक़्त का थान खुलता रहता है पल ब पल,
और लोग पोशाकें काट कर,
अपने अपने अंदाज़ से पहनते हैं वक़्त लेकिन
जो मैं ने काटी थी थान से एक क़मीज़
वो तंग हो रही है”

कभी कभी इस पिघलते लोहे की गर्म भट्टी में काम करते,
ठिठुरने लगता है ये बदन जैसे सख़्त सर्दी में भुन रहा हो,
बुख़ार रहता है कुछ दिनों से

मगर ये सतरें बड़ी अजब हैं
कहीं तवाज़ुन बिगड़ गया है
या कोई सीवन उधड़ गई है:
”फ़रार हूँ मैं कई दिनों से
जो घुप-अँधेरे की तीर जैसी सुरंग एक कान से
शुरूअ हो के दूसरे कान तक गई है,
मैं उस नली में छुपा हुआ हूँ,
तुम आ के तिनके से मुझ को बाहर निकाल लेना

”कोई नहीं आएगा ये कीड़े निकालने अब
कि उन को तो शहर में धुआँ दे के मारा जाता है नालियों में” !! -गुलज़ार नज़्म

 

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka..

Yeh Kaisa Ishq Hai Urdu Zaban Ka.. { Urdu Zaban – Gulzar’s Nazm }

Yeh kaisa ishq hai urdu zaban ka
Maza ghulta hai lafzon ka zaban par
Ki jaise pan mein mahnga qimam ghulta hai

Yeh kaisa ishq hai urdu zaban ka
Nasha aata hai urdu bolne mein
Gilauri ki tarah hain munh lagi sab istelahen
Lutf deti hai, halaq chhuti hai urdu to, halaq se jaise mai ka ghont utarta hai

Badi aristocracy hai zaban mein
Faqiri mein nawabi ka maza deti hai urdu
Agarche mani kam hote hai urdu mein
Alfaz ki ifraat hoti hai
Magar phir bhi, buland aawaz padhiye to bahut hi motbar lagti hain baaten

Kahin kuch dur se kanon mein padti hai agar urdu
To lagta hai ki din jadon ke hain khidki khuli hai, dhoop andar aa rahi hai
Ajab hai ye zaban, urdu
Kabhi kahin safar karte agar koi musafir sher padh de “Mir”, “Ghalib” ka
Wo chahe ajnabi ho, yahi lagta hai wo mere watan ka hai

Badi shaista lahje mein kisi se urdu sun kar
Kya nahi lagta ki ek tahzib ki aawaz hai Urdu. !! -Gulzar’s Nazm

ये कैसा इश्क़ है उर्दू ज़बाँ का
मज़ा घुलता है लफ़्ज़ों का ज़बाँ पर
कि जैसे पान में महँगा क़िमाम घुलता है

ये कैसा इश्क़ है उर्दू ज़बाँ का
नशा आता है उर्दू बोलने में
गिलौरी की तरह हैं मुँह लगी सब इस्तेलाहें
लुत्फ़ देती है, हलक़ छूती है उर्दू तो, हलक़ से जैसे मय का घोंट उतरता है

बड़ी अरिस्टोकरेसी है ज़बाँ में
फ़क़ीरी में नवाबी का मज़ा देती है उर्दू
अगरचे मअनी कम होते हैं उर्दू में
अल्फ़ाज़ की इफ़रात होती है
मगर फिर भी, बुलंद आवाज़ पढ़िए तो बहुत ही मोतबर लगती हैं बातें

कहीं कुछ दूर से कानों में पड़ती है अगर उर्दू
तो लगता है कि दिन जाड़ों के हैं खिड़की खुली है, धूप अंदर आ रही है
अजब है ये ज़बाँ, उर्दू
कभी कहीं सफ़र करते अगर कोई मुसाफ़िर शेर पढ़ दे “मीर”, “ग़ालिब” का
वो चाहे अजनबी हो, यही लगता है वो मेरे वतन का है

बड़ी शाइस्ता लहजे में किसी से उर्दू सुन कर
क्या नहीं लगता कि एक तहज़ीब की आवाज़ है, उर्दू !! -गुलज़ार नज़्म

 

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen..

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen.. Gulzar Poetry !

Zikr aaye to mere lab se duaen niklen,
Shama jalti hai to lazim hai shuaen niklen.

Waqt ki zarb se kat jate hain sab ke sine,
Chaand ka chhalka utar jaye to qashen niklen.

Dafn ho jayen ki zarkhez zameen lagti hai,
Kal isi mitti se shayad meri shakhen niklen.

Chand ummiden nichodi thin to aahen tapkin,
Dil ko pighlaen to ho sakta hai sansen niklen.

Gaar ke munh pe rakha rahne do sang-e-khurshid,
Gaar mein haath na dalo kahin raaten niklen. !! -Gulzar Poetry

ज़िक्र आए तो मेरे लब से दुआएँ निकलें,
शमा जलती है तो लाज़िम है शुआएँ निकलें !

वक़्त की ज़र्ब से कट जाते हैं सब के सीने,
चाँद का छलका उतर जाए तो क़ाशें निकलें !

दफ़्न हो जाएँ कि ज़रख़ेज़ ज़मीं लगती है,
कल इसी मिट्टी से शायद मेरी शाख़ें निकलें !

चंद उम्मीदें निचोड़ी थीं तो आहें टपकीं,
दिल को पिघलाएँ तो हो सकता है साँसें निकलें !

ग़ार के मुँह पे रखा रहने दो संग-ए-ख़ुर्शीद,
ग़ार में हाथ न डालो कहीं रातें निकलें !! -गुलज़ार कविता

 

Os Padi Thi Raat Bahut Aur Kohra Tha Garmaish Par..

Os Padi Thi Raat Bahut Aur Kohra Tha Garmaish Par.. Gulzar Poetry !

Os padi thi raat bahut aur kohra tha garmaish par,
Saili si khamoshi mein aawaz suni farmaish par.

Fasle hain bhi aur nahi bhi napa taula kuch bhi nahi,
Log ba-zid rahte hain phir bhi rishton ki paimaish par.

Munh moda aur dekha kitni dur khade the hum donon,
Aap lade the hum se bas ek karwat ki gunjaish par.

Kaghaz ka ek chaand laga kar raat andheri khidki par,
Dil mein kitne khush the apni furqat ki aaraish par.

Dil ka hujra kitni bar ujda bhi aur basaya bhi,
Sari umar kahan thahra hai koi ek rihaish par.

Dhoop aur chhanv bant ke tum ne aangan mein diwar chuni,
Kya itna aasan hai zinda rahna is aasaish par.

Shayad tin nujumi meri maut pe aa kar pahunchenge,
Aisa hi ek bar hua tha isa ki paidaish par. !! -Gulzar Poetry

ओस पड़ी थी रात बहुत और कोहरा था गर्माइश पर,
सैली सी ख़ामोशी में आवाज़ सुनी फ़रमाइश पर !

फ़ासले हैं भी और नहीं भी नापा तौला कुछ भी नहीं,
लोग ब-ज़िद रहते हैं फिर भी रिश्तों की पैमाइश पर !

मुँह मोड़ा और देखा कितनी दूर खड़े थे हम दोनों,
आप लड़े थे हम से बस एक करवट की गुंजाइश पर !

काग़ज़ का एक चाँद लगा कर रात अँधेरी खिड़की पर,
दिल में कितने ख़ुश थे अपनी फ़ुर्क़त की आराइश पर !

दिल का हुज्रा कितनी बार उजड़ा भी और बसाया भी,
सारी उम्र कहाँ ठहरा है कोई एक रिहाइश पर !

धूप और छाँव बाँट के तुम ने आँगन में दीवार चुनी,
क्या इतना आसान है ज़िंदा रहना इस आसाइश पर !

शायद तीन नुजूमी मेरी मौत पे आ कर पहुँचेंगे,
ऐसा ही एक बार हुआ था ईसा की पैदाइश पर !! -गुलज़ार कविता

 

Tujh Ko Dekha Hai Jo Dariya Ne Idhar Aate Hue..

Tujh Ko Dekha Hai Jo Dariya Ne Idhar Aate Hue.. Gulzar Poetry !

Tujh ko dekha hai jo dariya ne idhar aate hue,
Kuch bhanwar dub gaye pani mein chakraate hue.

Hum ne to raat ko danton se pakad kar rakha,
Chhina jhapti mein ufuq khulta gaya jate hue.

Main na hunga to khizan kaise kategi teri,
Shokh patte ne kaha shakh se murjhate hue.

Hasraten apni bilaktin na yatimon ki tarah,
Hum ko aawaz hi de lete zara jate hue.

Si liye honth wo pakiza nigahen sun kar,
Maili ho jati hai aawaz bhi dohraate hue. !! -Gulzar Poetry

तुझ को देखा है जो दरिया ने इधर आते हुए,
कुछ भँवर डूब गए पानी में चकराते हुए !

हम ने तो रात को दाँतों से पकड़ कर रखा,
छीना झपटी में उफ़ुक़ खुलता गया जाते हुए !

मैं न हूँगा तो ख़िज़ाँ कैसे कटेगी तेरी,
शोख़ पत्ते ने कहा शाख़ से मुरझाते हुए !

हसरतें अपनी बिलक्तीं न यतीमों की तरह,
हम को आवाज़ ही दे लेते ज़रा जाते हुए !

सी लिए होंठ वो पाकीज़ा निगाहें सुन कर,
मैली हो जाती है आवाज़ भी दोहराते हुए !! -गुलज़ार कविता

 

Garm Lashen Girin Fasilon Se..

Garm Lashen Girin Fasilon Se.. Gulzar Poetry !

Garm lashen girin fasilon se,
Aasman bhar gaya hai chilon se.

Suli chadhne lagi hai khamoshi,
Log aaye hain sun ke milon se.

Kan mein aise utri sargoshi,
Barf phisli ho jaise tilon se.

Gunj kar aise lautti hai sada,
Koi puchhe hazaron milon se.

Pyas bharti rahi mere andar,
Aankh hatti nahi thi jhilon se.

Log kandhe badal badal ke chale,
Ghat pahunche bade wasilon se. !! -Gulzar Poetry

गर्म लाशें गिरीं फ़सीलों से,
आसमाँ भर गया है चीलों से !

सूली चढ़ने लगी है ख़ामोशी,
लोग आए हैं सुन के मीलों से !

कान में ऐसे उतरी सरगोशी,
बर्फ़ फिसली हो जैसे टीलों से !

गूँज कर ऐसे लौटती है सदा,
कोई पूछे हज़ारों मीलों से !

प्यास भरती रही मिरे अंदर,
आँख हटती नहीं थी झीलों से !

लोग कंधे बदल बदल के चले,
घाट पहुँचे बड़े वसीलों से !! -गुलज़ार कविता

 

Zikr Hota Hai Jahan Bhi Mere Afsane Ka..

Zikr Hota Hai Jahan Bhi Mere Afsane Ka.. Gulzar Poetry !

Zikr hota hai jahan bhi mere afsane ka,
Ek darwaza sa khulta hai kutub-khane ka.

Ek sannata dabe panv gaya ho jaise,
Dil se ek khauf sa guzra hai bichhad jane ka.

Bulbula phir se chala pani mein ghote khane,
Na samajhne ka use waqt na samjhane ka.

Main ne alfaz to bijon ki tarah chhant diye,
Aisa mitha tera andaz tha farmane ka.

Kis ko roke koi raste mein kahan baat kare,
Na to aane ki khabar hai na pata jane ka. !! -Gulzar Poetry

ज़िक्र होता है जहाँ भी मेरे अफ़्साने का,
एक दरवाज़ा सा खुलता है कुतुब-ख़ाने का !

एक सन्नाटा दबे पाँव गया हो जैसे,
दिल से एक ख़ौफ़ सा गुज़रा है बिछड़ जाने का !

बुलबुला फिर से चला पानी में ग़ोते खाने,
न समझने का उसे वक़्त न समझाने का !

मैं ने अल्फ़ाज़ तो बीजों की तरह छाँट दिए,
ऐसा मीठा तेरा अंदाज़ था फ़रमाने का !

किस को रोके कोई रस्ते में कहाँ बात करे,
न तो आने की ख़बर है न पता जाने का !! -गुलज़ार कविता

 

Koi Atka Hua Hai Pal Shayad..

Koi Atka Hua Hai Pal Shayad.. Gulzar Poetry !

Koi atka hua hai pal shayad,
Waqt mein pad gaya hai bal shayad.

Lab pe aayi meri ghazal shayad,
Wo akele hain aaj-kal shayad.

Dil agar hai to dard bhi hoga,
Is ka koi nahi hai hal shayad.

Jaante hain sawab-e-rahm-o-karam,
Un se hota nahi amal shayad.

Aa rahi hai jo chhap qadmon ki,
Khil rahe hain kahin kanwal shayad.

Rakh ko bhi kured kar dekho,
Abhi jalta ho koi pal shayad.

Chaand dube to chaand hi nikle,
Aap ke paas hoga hal shayad. !! -Gulzar Poetry

कोई अटका हुआ है पल शायद,
वक़्त में पड़ गया है बल शायद !

लब पे आई मेरी ग़ज़ल शायद,
वो अकेले हैं आज-कल शायद !

दिल अगर है तो दर्द भी होगा,
इस का कोई नहीं है हल शायद !

जानते हैं सवाब-ए-रहम-ओ-करम,
उन से होता नहीं अमल शायद !

आ रही है जो छाप क़दमों की,
खिल रहे हैं कहीं कँवल शायद !

राख को भी कुरेद कर देखो,
अभी जलता हो कोई पल शायद !

चाँद डूबे तो चाँद ही निकले,
आप के पास होगा हल शायद !! -गुलज़ार कविता