Umeed Shayari

Dil-E-Mayus Mein Wo Shorishen Barpa Nahi Hotin

Dil-e-mayus mein wo shorishen barpa nahi hotin,
Umiden is qadar tutin ki ab paida nahi hoti.

Meri betabiyan bhi juzw hain ek meri hasti ki,
Ye zahir hai ki maujen kharij az dariya nahi hotin.

Wahi pariyan hain ab bhi raja indar ke akhade mein,
Magar shahzada-e-gulfam par shaida nahi hotin.

Yahan ki auraton ko ilm ki parwa nahi beshak,
Magar ye shauharon se apne beparwa nahi hotin.

Talluq dil ka kya baqi main rakkhun bazm-e-duniya se,
Wo dilkash suraten ab anjuman-ara nahi hotin.

Hua hun is qadar afsurda rang-e-bagh-e-hasti se,
Hawayen fasl-e-gul ki bhi nashat-afza nahi hotin.

Qaza ke samne bekar hote hain hawas “Akbar“,
Khuli hoti hain go aankhen magar bina nahi hotin. !!

 

Charkh Se Kuch Umeed Thi Hi Nahi

Charkh se kuch umeed thi hi nahi,
Aarzu main ne koi ki hi nahi.

Mazhabi bahas main ne ki hi nahi,
Faltu aql mujh mein thi hi nahi.

Chahta tha bahut si baaton ko,
Magar afsos ab wo ji hi nahi.

Jurat-e-arz-e-haal kya hoti,
Nazar-e-lutf us ne ki hi nahi.

Is musibat mein dil se kya kahta,
Koi aisi misal thi hi nahi.

Aap kya jaanen qadr-e-ya-allah,
Jab musibat koi padi hi nahi.

Shirk chhoda to sab ne chhod diya,
Meri koi society hi nahi.

Puchha Akbar hai aadmi kaisa,
Hans ke bole wo aadmi hi nahi. !!

चर्ख़ से कुछ उमीद थी ही नहीं,
आरज़ू मैं ने कोई की ही नहीं !

मज़हबी बहस मैं ने की ही नहीं,
फ़ालतू अक़्ल मुझ में थी ही नहीं !

चाहता था बहुत सी बातों को,
मगर अफ़्सोस अब वो जी ही नहीं !

जुरअत-ए-अर्ज़-ए-हाल क्या होती,
नज़र-ए-लुत्फ़ उस ने की ही नहीं !

इस मुसीबत में दिल से क्या कहता,
कोई ऐसी मिसाल थी ही नहीं !

आप क्या जानें क़द्र-ए-या-अल्लाह,
जब मुसीबत कोई पड़ी ही नहीं !

शिर्क छोड़ा तो सब ने छोड़ दिया,
मेरी कोई सोसाइटी ही नहीं !

पूछा अकबर है आदमी कैसा,
हँस के बोले वो आदमी ही नहीं !!

 

Koi Ummid Bar Nahi Aati..

Koi ummid bar nahi aati,
Koi surat nazar nahi aati.

Maut ka ek din muayyan hai,
Nind kyun raat bhar nahi aati.

Aage aati thi haal-e-dil pe hansi,
Ab kisi baat par nahi aati.

Jaanta hun sawab-e-taat-o-zohd,
Par tabiat idhar nahi aati.

Hai kuch aisi hi baat jo chup hun,
Warna kya baat kar nahi aati.

Kyun na chikhun ki yaad karte hain,
Meri aawaz gar nahi aati.

Dagh-e-dil gar nazar nahi aata,
Bu bhi aye chaaragar nahi aati.

Hum wahan hain jahan se hum ko bhi,
Kuch hamari khabar nahi aati.

Marte hain aarzu mein marne ki,
Maut aati hai par nahi aati.

Kaba kis munh se jaoge “Ghalib“,
Sharm tum ko magar nahi aati. !!

कोई उम्मीद बर नहीं आती,
कोई सूरत नज़र नहीं आती !

मौत का एक दिन मुअय्यन है,
नींद क्यूँ रात भर नहीं आती !

आगे आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी,
अब किसी बात पर नहीं आती !

जानता हूँ सवाब-ए-ताअत-ओ-ज़ोहद,
पर तबीअत इधर नहीं आती !

है कुछ ऐसी ही बात जो चुप हूँ,
वर्ना क्या बात कर नहीं आती !

क्यूँ न चीख़ूँ कि याद करते हैं,
मेरी आवाज़ गर नहीं आती !

दाग़-ए-दिल गर नज़र नहीं आता,
बू भी ऐ चारागर नहीं आती !

हम वहाँ हैं जहाँ से हम को भी,
कुछ हमारी ख़बर नहीं आती !

मरते हैं आरज़ू में मरने की,
मौत आती है पर नहीं आती !

काबा किस मुँह से जाओगे “ग़ालिब“,
शर्म तुम को मगर नहीं आती !!

 

Ghar Se Ye Soch Ke Nikla Hun Ki Mar Jaana Hai

Ghar se ye soch ke nikla hun ki mar jaana hai,
Ab koi raah dikha de ki kidhar jaana hai.

Jism se saath nibhane ki mat ummid rakho,
Is musafir ko to raste mein thahar jaana hai.

Maut lamhe ki sada zindagi umron ki pukar,
Main yahi soch ke zinda hun ki mar jaana hai.

Nashsha aisa tha ki mai-khane ko duniya samjha,
Hosh aaya to khayal aaya ki ghar jaana hai.

Mere jazbe ki badi qadar hai logon mein magar,
Mere jazbe ko mere sath hi mar jaana hai. !!

घर से ये सोच के निकला हूँ कि मर जाना है,
अब कोई राह दिखा दे कि किधर जाना है !

जिस्म से साथ निभाने की मत उम्मीद रखो,
इस मुसाफिर को तो रास्ते में ठहर जाना है !

मौत लम्हे की सदा ज़िंदगी उम्रों की पुकार,
मैं यही सोच के ज़िंदा हूँ की मर जाना है !

नश्शा ऐसा था की मय-खाने को दुनिया समझा,
होश आया तो ख़याल आया की घर जाना है !

मेरे जज़्बे की बड़ी कद्र हैं लोगों में मगर,
मेरे ज़ज्बें को मेरे साथ ही मर जाना है !! -Rahat Indori Ghazal

 

Khud Ko Aasan Kar Rahi Ho Na..

Khud ko aasan kar rahi ho na,
Hum pe ehsan kar rahi ho na .

Zindagi hasraton ki mayyat hai,
Phir bhi arman kar rahi ho na.

Nind sapne sukun ummidein,
Kitna nuqsan kar rahi ho na.

Hum ne samjha hai pyar par tum to,
Jaan pahchan kar rahi ho na. !!

ख़ुद को आसान कर रही हो ना,
हम पे एहसान कर रही हो ना !

ज़िंदगी हसरतों की मय्यत है,
फिर भी अरमान कर रही हो ना !

नींद सपने सुकून उम्मीदें,
कितना नुक़सान कर रही हो ना !

हम ने समझा है प्यार पर तुम तो,
जान पहचान कर रही हो ना !!

-Kumar Vishwas Poem

 

Jhuki Jhuki Si Nazar Be-Qarar Hai Ki Nahi..

Jhuki jhuki si nazar be-qarar hai ki nahi,
Daba-daba sa sahi dil mein pyaar hai ki nahi.

Tu apne dil ki jawan dhadkano ko gin ke bata,
Meri tarah tera dil be-qarar hai ki nahi.

Woh pal ki jis mein mohabbat jawan hoti hai,
Us ek pal ka tujhe intizar hai ki nahi.

Teri ummid pe thukra raha hun duniya ko,
Tujhe bhi apne pe ye aitbaar hai ki nahi. !!

झुकी झुकी सी नज़र बे-क़रार है कि नहीं,
दबा-दबा सा सही दिल में प्यार है कि नहीं !

तू अपने दिल की जवाँ धड़कनों को गिन के बता,
मेरी तरह तेरा दिल बे-क़रार है कि नहीं !

वो पल कि जिस में मोहब्बत जवान होती है,
उस एक पल का तुझे इंतिज़ार है कि नहीं !

तेरी उमीद पे ठुकरा रहा हूँ दुनिया को,
तुझे भी अपने पे ये ऐतबार है कि नहीं !!

-Kaifi Azmi Ghazal / Poetry

 

Bujha Diye Hain Khud Apne Hathon Mohabbaton Ke Diye Jala Ke

Bujha diye hain khud apne hathon mohabbaton ke diye jala ke,
Meri wafa ne ujad di hain umid ki bastiyan basa ke.

Tujhe bhula denge apne dil se ye faisla to kiya hai lekin,
Na dil ko malum hai na hum ko jiyenge kaise tujhe bhula ke.

Kabhi milenge jo raste mein to munh phira kar palat padenge,
Kahin sunenge jo naam tera to chup rahenge nazar jhuka ke.

Na sochne par bhi sochti hun ki zindagani mein kya rahega,
Teri tamanna ko dafn kar ke tere khayalon se dur ja ke. !!

बुझा दिए हैं खुद अपने हाथों मोहब्बतों के दीए जला के,
मेरी वफ़ा ने उजाड़ दी हैं उम्मीद की बस्तियाँ बसा के !

तुझे भुला देंगे अपने दिल से ये फैसला तो किया है लकिन,
न दिल को मालूम है न हम को जिएँगे कैसे तुझे भुला के !

कभी मिलेंगे जो रास्ते में तो मुँह फिराकर पलट पड़ेंगे,
कहीं सुनेंगे जो नाम तेरा तो चुप रहेंगे नज़र झुका के !

न सोचने पर भी सोचती हूँ की जिंदगानी में क्या रहेगा,
तेरी तमन्ना को दफन कर के तेरे ख्यालों से दूर जा के !!

-Sahir Ludhianvi Ghazal / Poetry