Udaas Shayari

December Jab Se Aaya Hai Mere Khaamosh Kamre Mein

 

December jab se aaya hai mere khaamosh kamre mein..,
Mere bistar pe bikhri sab kitaabein bhig jaati hain..!!

दिसंबर जब से आया है मेरे खामोश कमरे में..,
मेरे बिस्तर पे बिखरी सब किताबें भीग जाती हैं..!!

 

 

 

 

Dekh Kaise Baras Raha Hai Udas Pani..

Dekh Kaise Baras Raha Hai Udas Pani.. { Silan – Gulzar Nazm }

Bas ek hi sur mein ek hi lai pe subh se dekh
Dekh kaise baras raha hai udas pani
Phuhaar ke malmalin dupatte se ud rahe hain
Tamam mousam tapak raha hai

Palak palak ris rahi hai ye kayenat sari
Har ek shai bhig bhig kar
Dekh kaisi bojhal si ho gayi hai

Dimagh ki gili gili sochon se
Bhigi bhigi udas yaadein
Tapak rahi hain

Thake thake se badan mein
Bas dhire dhire
Sanson ka garm duban jal raha hai. !! -Gulzar Nazm

बस एक ही सुर में एक ही लय पे सुबह से देख
देख कैसे बरस रहा है उदास पानी
फुहार के मलमली दुपट्टे से उड़ रहे हैं
तमाम मौसम टपक रहा है

पलक-पलक रिस रही है ये कायनात सारी
हर एक शय भीग-भीग कर
देख कैसी बोझल सी हो गयी है

दिमाग की गीली-गीली सोचों से
भीगी-भीगी उदास यादें
टपक रही हैं

थके-थके से बदन में
बस धीरे-धीरे साँसों का
गरम डुबान चल रहा है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Ek Pashemani Rahti Hai..

Ek Pashemani Rahti Hai.. { Uljhan – Gulzar Nazm } !

Ek pashemani rahti hai
Uljhan aur girani bhi
Aao phir se lad kar dekhen
Shayad us se behtar koi aur sabab mil jaye humko
Phir se alag ho jaane ka. !! Gulzar Nazm

एक पशेमानी रहती है
उलझन और गिरानी भी
आओ फिर से लड़ कर देखें
शायद उस से बेहतर कोई और सबब मिल जाए हमको
फिर से अलग हो जाने का !! -गुलज़ार नज़्म

 

Dil Mein Aise Thahar Gaye Hain Gham..

Dil Mein Aise Thahar Gaye Hain Gham.. Gulzar Nazm !

Dil mein aise thahar gaye hain gham

Dil mein aise thahar gaye hain gham
Jaise jangal mein shaam ke saye
Jate jate sahm ke ruk jayen
Mar ke dekhen udaas rahon par
Kaise bujhte hue ujalon mein
Dur tak dhul hi dhul udti hai !! -Gulzar Nazm

दिल में ऐसे ठहर गए हैं ग़म
जैसे जंगल में शाम के साए
जाते जाते सहम के रुक जाएँ
मर के देखें उदास राहों पर
कैसे बुझते हुए उजालों में
दूर तक धूल ही धूल उड़ती है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Mere Kapdon Mein Tanga Hai..

Mere Kapdon Mein Tanga Hai.. { Libas – Gulzar Nazm } !

Mere kapdon mein tanga hai
Tera khush-rang libas !
Ghar pe dhota hun har bar use aur sukha ke phir se
Apne haathon se use istri karta hun magar
Istri karne se jati nahi shiknen us ki
Aur dhone se gile-shikwon ke chikte nahi mite !

Zindagi kis qadar aasan hoti
Rishte gar hote libas
Aur badal lete kamizon ki tarah. !! -Gulzar Nazm

मेरे कपड़ों में टंगा है
तेरा ख़ुश-रंग लिबास !
घर पे धोता हूँ हर बार उसे और सुखा के फिर से
अपने हाथों से उसे इस्त्री करता हूँ मगर
इस्त्री करने से जाती नहीं शिकनें उस की
और धोने से गिले-शिकवों के चिकते नहीं मिटते !

ज़िंदगी किस क़दर आसाँ होती
रिश्ते गर होते लिबास
और बदल लेते क़मीज़ों की तरह !! -गुलज़ार नज़्म

 

Barf Pighlegi Jab Pahado Se..

Barf Pighlegi Jab Pahado Se.. Gulzar Nazm !

Barf pighlegi jab pahado se
Aur wadi se kohra simtega
Bij angdai le ke jagenge
Apni lasai aankhen kholenge
Sabza bah niklega dhalanon par

Ghaur se dekhna bahaaron mein
Pichhle mausam ke bhi nishan honge
Konpalon ki udaas aaankhon mein
Aansuon ki nami bachi hogi. !! -Gulzar Nazm

बर्फ़ पिघलेगी जब पहाड़ों से
और वादी से कोहरा सिमटेगा
बीज अंगड़ाई ले के जागेंगे
अपनी अलसाई आँखें खोलेंगे
सब्ज़ा बह निकलेगा ढलानों पर

ग़ौर से देखना बहारों में
पिछले मौसम के भी निशाँ होंगे
कोंपलों की उदास आँखों में
आँसुओं की नमी बची होगी !! -गुलज़ार नज़्म

 

Roz Subah Akhbar Mere Ghar..

Roz Subah Akhbar Mere Ghar.. Akhbar – Gulzar Nazm !

Roz Subah Akhbar Mere Ghar

Sara din main khun mein lat-pat rahta hun
Sare din mein sukh sukh ke kala pad jata hai khun
Papdi si jam jati hai
Khurach khurach ke nakhunon se
Chamdi chhilne lagti hai
Nak mein khun ki kachchi bu
Aur kapdon par kuch kale kale chakte se rah jate hain

Roz subah akhbar mere ghar
Khun mein lat-pat aata hai. !! -Gulzar Nazm

सारा दिन मैं ख़ून में लत-पत रहता हूँ
सारे दिन में सूख सूख के काला पड़ जाता है ख़ून
पपड़ी सी जम जाती है
खुरच खुरच के नाख़ूनों से
चमड़ी छिलने लगती है
नाक में ख़ून की कच्ची बू
और कपड़ों पर कुछ काले काले चकते से रह जाते हैं

रोज़ सुब्ह अख़बार मेरे घर
ख़ून में लत-पत आता है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Phool Ne Tahni Se Udne Ki Koshish Ki..

Phool Ne Tahni Se Udne Ki Koshish Ki.. Gulzar Poetry !

Phool ne tahni se udne ki koshish ki,
Ek tair ka dil rakhne ki koshish ki.

Kal phir chaand ka khanjar ghonp ke sine mein,
Raat ne meri jaan lene ki koshish ki.

Koi na koi rahbar rasta kat gaya,
Jab bhi apni rah chalne ki koshish ki.

Kitni lambi khamoshi se guzra hun,
Un se kitna kuch kahne ki koshish ki.

Ek hi khwaab ne sari raat jagaya hai,
Main ne har karwat sone ki koshish ki.

Ek sitara jaldi jaldi dub gaya,
Main ne jab tare ginne ki koshish ki.

Naam mera tha aur pata apne ghar ka,
Us ne mujh ko khat likhne ki koshish ki.

Ek dhuen ka marghola sa nikla hai,
Mitti mein jab dil bone ki koshish ki. !! -Gulzar Poetry

फूल ने टहनी से उड़ने की कोशिश की,
एक ताइर का दिल रखने की कोशिश की !

कल फिर चाँद का ख़ंजर घोंप के सीने में,
रात ने मेरी जाँ लेने की कोशिश की !

कोई न कोई रहबर रस्ता काट गया,
जब भी अपनी रह चलने की कोशिश की !

कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ,
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की !

एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है,
मैं ने हर करवट सोने की कोशिश की !

एक सितारा जल्दी जल्दी डूब गया,
मैं ने जब तारे गिनने की कोशिश की !

नाम मेरा था और पता अपने घर का,
उस ने मुझ को ख़त लिखने की कोशिश की !

एक धुएँ का मर्ग़ोला सा निकला है,
मिट्टी में जब दिल बोने की कोशिश की !! -गुलज़ार कविता

 

Aankhon Mein Jal Raha Hai Kyun Bujhta Nahi Dhuan..

Aankhon Mein Jal Raha Hai Kyun Bujhta Nahi Dhuan.. Gulzar Poetry !

Aankhon mein jal raha hai kyun bujhta nahi dhuan,
Uthta to hai ghata sa barasta nahi dhuan.

Palkon ke dhanpne se bhi rukta nahi dhuan,
Kitni undelin aankhen kyun bujhta nahi dhuan.

Aankhon se aansuon ke marasim purane hain,
Mehman ye ghar mein aayen to chubhta nahi dhuan.

Chulhe nahi jalaye ki basti hi jal gayi,
Kuch roz ho gaye hain ab uthta nahi dhuan.

Kali lakiren khinch raha hai fazaon mein,
Baura gaya hai munh se kyun khulta nahi dhuan.

Aankhon ke pochhne se laga aanch ka pata,
Yun chehra pher lene se chhupta nahi dhuan.

Chingari ek atak si gayi mere sine mein,
Thoda sa aa ke phunk do udta nahi dhuan. !! -Gulzar Poetry

आँखों में जल रहा है क्यूँ बुझता नहीं धुआँ,
उठता तो है घटा सा बरसता नहीं धुआँ !

पलकों के ढाँपने से भी रुकता नहीं धुआँ,
कितनी उँडेलीं आँखें क्यूँ बुझता नहीं धुआँ !

आँखों से आँसुओं के मरासिम पुराने हैं,
मेहमाँ ये घर में आएँ तो चुभता नहीं धुआँ !

चूल्हे नहीं जलाए कि बस्ती ही जल गई,
कुछ रोज़ हो गए हैं अब उठता नहीं धुआँ !

काली लकीरें खींच रहा है फ़ज़ाओं में,
बौरा गया है मुँह से क्यूँ खुलता नहीं धुआँ !

आँखों के पोछने से लगा आँच का पता,
यूँ चेहरा फेर लेने से छुपता नहीं धुआँ !

चिंगारी इक अटक सी गई मेरे सीने में,
थोड़ा सा आ के फूँक दो उड़ता नहीं धुआँ !! -गुलज़ार कविता

 

Dard Halka Hai Saans Bhari Hai..

Dard Halka Hai Saans Bhari Hai.. Gulzar Ghazal !

Dard halka hai saans bhari hai,
Jiye jaane ki rasm jari hai.

Aap ke baad har ghadi hum ne,
Aap ke saath hi guzari hai.

Raat ko chandni to odha do,
Din ki chadar abhi utari hai.

Shakh par koi qahqaha to khile,
Kaisi chup si chaman pe tari hai.

Kal ka har waqia tumhaara tha,
Aaj ki dastan hamari hai. !! -Gulzar

दर्द हल्का है साँस भारी है,
जिये जाने की रस्म जारी है !

आप के बाद हर घड़ी हमने,
आप के साथ ही गुज़ारी है !

रात को चाँदनी तो ओढ़ा दो,
दिन की चादर अभी उतारी है !

शाख़ पर कोई क़हक़हा तो खिले,
कैसी चुप सी चमन पे तारी है !

कल का हर वाक़या तुम्हारा था,
आज की दास्ताँ हमारी है !! -गुलज़ार