Two Line Poetry

Jan Nisar Akhtar Two Line Poetry In Hindi

Jan Nisar Akhtar Two Line Poetry In Hindi

Jan Nisar Akhtar Two Line Poetry In Hindi image

जां निसार अख़्तर की मशहूर शायरियां हिंदी में : –

जां निसार अख़्तर प्रगतिशील विचारधारा के मशहूर शायर हैं। बीसवीं सदी के शायरों में जां निसार अख़्तर की शायरी का मयार काफी बड़ा है। उनके बारे में मशहूर शायर निदा फ़ाजली लिखते हैं- “जां निसार आख़िरी दम तक जवान रहे। बुढ़ापे में जवानी का यह जोश उर्दू इतिहास में एक चमत्कार है जो उनकी याद को शेरो-अदब की महफ़िल में हमेशा जवान रखेगा”। पेश है जां निसार के मशहूर अल्फाज़-

 

Jan Nisar Akhtar Two Line Poetry In Hindi ! Jan Nisar Akhtar Poetry ! Jan Nisar Akhtar Sher ! Jan Nisar Akhtar Ki Nazam ! Jan Nisar Akhtar Songs ! Jan Nisar Akhtar Famous Couplets ! Jan Nisar Akhtar Shayari In Hindi ! Jan Nisar Akhtar Ghazal ! Aakhri Mulaqat Jan Nisar Akhtar !

 

पेश है जां निसार अख़्तर द्वारा लिखी गयी मशहूर शायरियां जो दिल को छू ले

Ab ye bhi nahi theek ki har dard mita de,
Kuch dard kaleje se lagane ke liye hain.

अब ये भी नहीं ठीक कि हर दर्द मिटा दें,
कुछ दर्द कलेजे से लगाने के लिए हैं !

 

Aankhen jo uthaye to mohabbat ka guman ho,
Nazron ko jhukaye to shikayet si lage hai.

आँखें जो उठाए तो मोहब्बत का गुमाँ हो,
नज़रों को झुकाए तो शिकायत सी लगे है !

 

Aahat si koi aaye to lagta hai tum ho,
Saya koi lahraye to lagta hai ki tum ho.

आहट सी कोई आए तो लगता है कि तुम हो,
साया कोई लहराए तो लगता है कि तुम हो !

 

Aaj to mil ke bhi jaise na mile ho tum se,
Chounk uthte the kabhi teri mulaqat se.

आज तो मिल के भी जैसे न मिले हों तुझ से,
चौंक उठते थे कभी तेरी मुलाक़ात से हम !

 

Aankhon mein jo bhar loge to kaanton se chubhenge,
Ye khwaab to palkon pe sajaane ke liye hain.

आँखों में जो भर लोगे तो काँटों से चुभेंगे,
ये ख़्वाब तो पलकों पे सजाने के लिए हैं !

 

Ashaar mere yun to zamane ke liye hain,
Kuch sher faqat un ko sunaane ke liye hain.

अशआर मेरे यूँ तो ज़माने के लिए हैं,
कुछ शेर फ़क़त उन को सुनाने के लिए हैं !

 

Aur kya is se jiyaada koi narmi bartun,
Dil ke zakhmon ko chhua hai tere gaalon ki tarah.

और क्या इस से ज़ियादा कोई नर्मी बरतूँ,
दिल के ज़ख़्मों को छुआ है तेरे गालों की तरह !

 

Dekhun tere haathon ko lagta hai tere haath,
Mandir mein fakat deep jalaane ke liye hai.

देखूँ तेरे हाथों को तो लगता है तेरे हाथ,
मंदिर में फ़क़त दीप जलाने के लिए हैं !

 

Dil ko har lamha bachate rahe jazbaat se hum,
Itne majbur rahe hain kabhi haalaat se hum.

दिल को हर लम्हा बचाते रहे जज़्बात से हम,
इतने मजबूर रहे हैं कभी हालात से हम !

 

Dilli kahan gayi tere kuchon ki raunkein,
Galiyon se sar jhuka ke gujarne laga hun main.

दिल्ली कहाँ गईं तेरे कूचों की रौनक़ें,
गलियों से सर झुका के गुज़रने लगा हूँ मैं !

 

Ek bhi khwaab na ho jin mein wo aankhein kya hai,
Ek na ek khwaab to aankhon mein basao yaaro.

एक भी ख़्वाब न हो जिन में वो आँखें क्या हैं,
एक न एक ख़्वाब तो आँखों में बसाओ यारो !

 

Fursat-e-kaar faqat ghadi hai yaaro,
Ye na socho ki abhi umar padi hai yaaro.

फ़ुर्सत-ए-कार फ़क़त चार घड़ी है यारो,
ये न सोचो की अभी उम्र पड़ी है यारो !

 

Guzar gaya hai koi lamha-e-sharar ki trah,
Abhi to main use pahchan bhi na paya tha.

गुज़र गया है कोई लम्हा-ए-शरर की तरह,
अभी तो मैं उसे पहचान भी न पाया था !

 

Hum se pucho ki ghazal kya hai ghazal ka fan kya,
Chand lafzon mein koi aag chupa di jaye.

हम से पूछो कि ग़ज़ल क्या है ग़ज़ल का फ़न क्या,
चंद लफ़्ज़ों में कोई आग छुपा दी जाए !

 

Har chand aitbaar mein dhokhe bhi hain magar,
Ye to nahi kisi pe bhrosa kiya na jaaye.

हर चंद ऐतबार में धोखे भी हैं मगर,
ये तो नहीं किसी पे भरोसा किया न जाए !

 

Ishq mein kya nuksan nafa hai hum ko kya samjhate ho,
Hum ne sari umar hi yaaro dil ka karobaar kiya hai.

इश्क़ में क्या नुक़सान नफा है हम को क्या समझाते हो,
हम ने सारी उम्र ही यारो दिल का कारोबार किया !

 

Itne masoom to haalaat nahi,
Log kis waaste ghabraye hain.

इतने मायूस तो हालात नहीं,
लोग किस वास्ते घबराए हैं !

 

Jab lage zakhm to qatil ko dua di jaye,
Hai yahi rasm to ye rasm utha di jaye.

जब लगें ज़ख़्म तो क़ातिल को दुआ दी जाए,
है यही रस्म तो ये रस्म उठा दी जाए !

 

Kuchal ke phenk do aankhon mein khwaab jitane hain,
Isi sabab se hain hum par ajaab jitane hain.

कुचल के फेंक दो आँखों में ख़्वाब जितने हैं,
इसी सबब से हैं हम पर अज़ाब जितने हैं !

 

Log kahte hain ki tu ab bhi khafa hai mujh se,
Teri aankhon ne to kuch aur kaha hai mujh se.

लोग कहते हैं कि तू अब भी ख़फ़ा है मुझ से,
तेरी आँखों ने तो कुछ और कहा है मुझ से !

 

Mana ki rang rang tera pairhan bhi hai,
Par is mein kuch karishma-e-aks-e-badan bhi hai.

माना कि रंग रंग तिरा पैरहन भी है,
पर इस में कुछ करिश्मा-ए-अक्स-ए-बदन भी है !

 

Main jab bhi us ke khayalon mein kho sa jata hun,
Wo khud bhi baat kare to bura lage hai mujhe.

मैं जब भी उस के ख़यालों में खो सा जाता हूँ,
वो ख़ुद भी बात करे तो बुरा लगे है मुझे !

 

Muaaf kar na saki meri zindagi mujh ko,
Wo ek lamha ki main tujh se tang aaya tha.

मुआफ़ कर न सकी मेरी ज़िंदगी मुझ को,
वो एक लम्हा कि मैं तुझ से तंग आया था !

 

Kuvvat-e-tamir thi kaisi khas-o-khashaak mein,
Aandhiyan chalti rahi aur aashiyaan banta gaya.

क़ुव्वत-ए-तामीर थी कैसी ख़स-ओ-ख़ाशाक में,
आँधियाँ चलती रहीं और आशियाँ बनता गया !

 

Sau chaand bhi chamkenge to kya baat banegi,
Tum aaye to is raat ki auqaat banegi.

सौ चाँद भी चमकेंगे तो क्या बात बनेगी,
तुम आए तो इस रात की औक़ात बनेगी !

 

Sharm aati hai ki us shehar mein hum hai ki jahan,
Na mile bheekh to laakhon ka gujaara hi na ho.

शर्म आती है कि उस शहर में हम हैं कि जहाँ,
न मिले भीख तो लाखों का गुज़ारा ही न हो !

 

Tujhe baahon mein bhar lene ki khwaahish yun ubharti hai,
Ki main apni nazar mein aap ruswa ho sa jata hun.

तुझे बाँहों में भर लेने की ख़्वाहिश यूँ उभरती है,
कि मैं अपनी नज़र में आप रुस्वा हो सा जाता हूँ !

 

Ye ilam ka sauda ye risale ye kitabein,
Ek shakhs ki yaadon ko bhulane ke liye hain.

ये इल्म का सौदा ये रिसाले ये किताबें,
एक शख़्स की यादों को भुलाने के लिए हैं !

 

Zulfein sina naaf kamar,
Ek nadi mein kitane bhanwar.

ज़ुल्फ़ें सीना नाफ़ कमर,
एक नदी में कितने भँवर !

 

Kuch jurm nahi ishq jo duniya se chhupayen,
Humne tumhein chaaha hai hazaaron mein kahenge.

कुछ जुर्म नहीं इश्क जो दुनिया से छुपाएं,
हमने तुम्हें चाहा है हजारों में कहेंगे !

 

Kal yahi khwaab haqiqat mein badal jayenge,
Aaj jo khwaab faqat khwaab nazar aate hain.

कल यही ख्वाब हकीकत में बदल जायेंगे,
आज जो ख्वाब फकत ख्वाब नजर आते हैं !

 

Teri humdard nazaron se mila ayesa sukoon mujhko,
Main ayesa sukoon markar bhi shayad pa nahi sakta.

तेरी हमदर्द नजरों से मिला ऐसा सुकूं मुझको,
मैं ऐसा सुकूं मरकर भी शायद पा नहीं सकता !

 

Beet jaati hai ek pal mein kabhi zindagi ki hazaarha ghadiyan,
Ek lamhe ke intezaar mein kabhi sarf hoti hai saikadon sadiyan.

बीत जाती है एक पल में कभी जिन्दगी की हजारहा घड़ियाँ,
एक लमहे के इन्तिजार में कभी सर्फ होती है सैकड़ों सदियाँ।

 

Yah kiska dhal gaya hai aanchal taaron ki nigah jhuk gayi hai,
Yah kiski machal gayi hai zulfein jati hui raat ruk gayi hai.

यह किसका ढल गया है आंचल तारों की निगाह झुक गई है,
यह किसकी मचल गई है जुल्फें जाती हुई रात रूक गई है !

Jan Nisar Akhtar Poetry /Shayari /Ghazal /Nazm

 

Meaning Of Urdu Words : –

Urdu

Hindi

English

फ़क़त

केवल, सिर्फ, बस, खत्म, समाप्त

Only, Merely, Simply

जज़्बात

भावनाएँ, जज्बे, खयालात, विचार

Emotions, Feelings

कूचों

सकड़ी गलियों

Narrow Street, Lane

लम्हा-ए-शरर

चिंगारी का क्षण

Moment Of Spark

फ़न

कला

Art, Skill

नफ़ा

फायदा, लाभ, मुनाफ़ा

Profit, Gain

ख़फ़ा

नाराज, अप्रसन्न, गुस्सा, क्रोधित

Angry, Displeased

लम्हा

क्षण

Moment

क़ुव्वत-ए-तामीर

निर्माण की ताक़त

Power To Construct

रुस्वा

बदनाम

Dishonoured, Despondent

नाफ़

नाभि, सुंदी, सुंद कूपी

Navel, Centre, Hub Of The Wheel, Middle

हमदर्द

दुख-दर्द बांटने वाला या वाली

Sympathiser

Jan Nisar Akhtar Two Line Poetry In Hindi ! Jan Nisar Akhtar Poetry ! Jan Nisar Akhtar Sher ! Jan Nisar Akhtar Ki Nazam ! Jan Nisar Akhtar Songs ! Jan Nisar Akhtar Famous Couplets ! Jan Nisar Akhtar Shayari In Hindi ! Jan Nisar Akhtar Ghazal ! Aakhri Mulaqat Jan Nisar Akhtar !

 

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi

अकबर इलाहाबादी की मशहूर शायरियां हिंदी में : –

अकबर इलाहाबादी मिलनसार इंसान थे उनके द्वारा लिखी हास्य रचना हास्य शायरी अपने आप में बेमिशाल हैं उन्हें कविताओं से भी लगाव था, वो चाहे ग़ज़ल हो या नज़्म हो या फिर शायरी की कोई भी विधा हो, अकबर इलाहाबादी का अपना ही एक अलग अन्दाज़ था। उर्दू में हास्य-व्यंग और मोहब्बत के लाज़वाब शायर थे और पेशे से इलाहाबाद में सेशन जज थे। अकबर इलाहाबादी का जन्म 1846 में इलाहाबाद के निकट बारा में हुआ था।

 

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi ! Akbar Allahabadi Poetry In english ! Akbar Allahabadi Famous Ghazal ! Akbar Allahabadi Nazm ! Akbar Allahabadi Quotes ! Akbar Allahabadi Poetry In Urdu ! Akbar Allahabadi Sher-O-Shayari In Urdu !

 

पेश है अकबर इलाहाबादी द्वारा लिखी गयी कुछ मशहूर शायरी जो दिल को छू ले

 

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi

Aayi hogi kisi ko hijr mein maut,
Mujh ko to nind bhi nahi aati.

आई होगी किसी को हिज्र में मौत,
मुझ को तो नींद भी नहीं आती !

 

Aah jo dil se nikali jayegi,
Kya samjhte ho ki khali jayegi.

आह जो दिल से निकाली जाएगी,
क्या समझते हो कि ख़ाली जाएगी !

 

Aashiqi ka ho bura us ne bigade sare kaam,
Hum to AB mein rahe ageyaar B.A. ho gaye.

आशिक़ी का हो बुरा उस ने बिगाड़े सारे काम,
हम तो ए.बी में रहे अग़्यार बी.ए हो गए !

 

Ab to hai ishq -e-butaa mein zindgaani ka maza,
Jab khuda ka samna hoga to dekha jayega.

अब तो है इश्क़-ए-बुताँ में ज़िंदगानी का मज़ा,
जब ख़ुदा का सामना होगा तो देखा जाएगा !

 

Akbar dabe nahi kisi sulatan ki fauj se,
Lekin shaheed ho gaye biwi ki nouj se.

अकबर दबे नहीं किसी सुल्ताँ की फ़ौज से,
लेकिन शहीद हो गए बीवी की नौज से !

 

Akal mein jo ghir gaya la-intiha kyukar hua,
Jo samaa mein aa gaya phir wo khuda kyukar hua.

अक़्ल में जो घिर गया ला-इंतिहा क्यूँकर हुआ,
जो समा में आ गया फिर वो ख़ुदा क्यूँकर हुआ !

 

Asar ye tere anfaas-e-masihai ka hai “Akbar”,
Allahabad se langda chala Lahore tak pahuncha.

असर ये तेरे अन्फ़ास-ए-मसीहाई का है “अकबर”,
इलाहाबाद से लंगड़ा चला लाहौर तक पहुँचा !

 

B.A. bhi paas hon mile B-B bhi dil-pasand,
Mehnat ki hai wo baat ye kismat ki baat hai.

बी.ए भी पास हों मिले बी-बी भी दिल-पसंद,
मेहनत की है वो बात ये क़िस्मत की बात है !

 

Bas jaan gaya main teri pahchan yahi hai,
Tu dil mein to aata hai samjh mein nahi aata.

बस जान गया मैं तिरी पहचान यही है,
तू दिल में तो आता है समझ में नहीं आता !

 

Bataun aap ko marne ke baad kya hoga,
Polaao khayenge ahbab fatiha hoga.

बताऊँ आप को मरने के बाद क्या होगा,
पोलाओ खाएँगे अहबाब फ़ातिहा होगा !

 

अकबर इलाहाबादी की मशहूर शायरियां हिंदी में

Bole ki tujh ko deen ki islaah farz hai,
Main chal diya ye kah ke ki aadab arz hai.

बोले कि तुझ को दीन की इस्लाह फ़र्ज़ है,
मैं चल दिया ये कह के कि आदाब अर्ज़ है !

 

But-kade mein shor hai “Akbar” musalman ho gaya,
Be-wafaon se koi kah de ki han han ho gaya.

बुत-कदे में शोर है ‘अकबर’ मुसलमाँ हो गया,
बे-वफ़ाओं से कोई कह दे कि हाँ हाँ हो गया !

 

Budhon ke saath log kanha tak wafa karein,
Budhon ko bhi jo maut na aaye to kya karein.

बूढ़ों के साथ लोग कहाँ तक वफ़ा करें,
बूढ़ों को भी जो मौत न आए तो क्या करें !

 

Coat aur patlun jo pahna to mister ban gaya,
Jab koi taqrir ki jalse mein leeder ban gaya.

कोट और पतलून जब पहना तो मिस्टर बन गया,
जब कोई तक़रीर की जलसे में लीडर बन गया !

 

Dam labon par tha dil-e-jar ke ghabrane se,
Aa gayi jaan mein jaan aap ke aa jane se.

दम लबों पर था दिल-ए-ज़ार के घबराने से,
आ गई जान में जान आप के आ जाने से !

 

Dil wo hai ki fariyaad se labrez hai har waqt,
Hum wo hain ki munh se nikalne nahi dete.

दिल वो है कि फ़रियाद से लबरेज़ है हर वक़्त,
हम वो हैं कि कुछ मुँह से निकलने नहीं देते !

 

Duniya mein hun duniya ka talabgaar nahi hun,
Bazaar se guzra hun kharidar nahi hun.

दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ,
बाज़ार से गुज़रा हूँ ख़रीदार नहीं हूँ !

 

Ek Qafir par tabiat aa gayi,
Paarsai par bhi aafat aa gayi.

एक काफ़िर पर तबीअत आ गई,
पारसाई पर भी आफ़त आ गई !

 

Falsafi ko behask ke andar khuda milta nahi,
Dor ko suljha raha hai aur sira milta nahi.

फ़लसफ़ी को बहस के अंदर ख़ुदा मिलता नहीं,
डोर को सुलझा रहा है और सिरा मिलता नहीं !

 

Ghamza nahi hota ki ishaara nahi hota,
Aankh un se jo milti hai to kya kya nahi hota.

ग़म्ज़ा नहीं होता कि इशारा नहीं होता,
आँख उन से जो मिलती है तो क्या क्या नहीं होता !

 

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi

Gajab hai wo ziddi bade ho gaye,
Main leta to uth ke khade ho gaye.

ग़ज़ब है वो ज़िद्दी बड़े हो गए,
मैं लेटा तो उठ के खड़े हो गए !

 

Hangama hai kyun barpa thodi si jo pee li hai,
Daaka to nahi mara chori to nahi ki hai.

हंगामा है क्यूँ बरपा थोड़ी सी जो पी ली है,
डाका तो नहीं मारा चोरी तो नहीं की है !

 

Hum aah bhi karte hain to ho jate hai badnaam,
Wo qatl bhi karte hain to charcha nahi hota.

हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम,
वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता !

 

Hum kya kahein ahbaab kya car-e-numayan kar gaye,
B.A. huye nokar huye penshan mili phir mar gaye.

हम क्या कहें अहबाब क्या कार-ए-नुमायाँ कर गए,
बी-ए हुए नौकर हुए पेंशन मिली फिर मर गए !

 

Har zarra chamkta hai anwar-e-ilaahi se,
Har saans ye kahti hai hum hain to khuda bhi hai.

हर ज़र्रा चमकता है अनवार-ए-इलाही से,
हर साँस ये कहती है हम हैं तो ख़ुदा भी है !

 

Haya se sar jhuka lena ada se muskura dena,
Hasinon ko bhi kitana sahal hai bijali gira dena.

हया से सर झुका लेना अदा से मुस्कुरा देना,
हसीनों को भी कितना सहल है बिजली गिरा देना !

 

Illahi kaisi kaisi suratein tu ne banai hain,
Ki har surat kaleje se laga lene ke qabil hai.

इलाही कैसी कैसी सूरतें तू ने बनाई हैं,
कि हर सूरत कलेजे से लगा लेने के क़ाबिल है !

 

Is gulistan mein bahut kaliyan mujhe tadpa gayi,
Kyun lagi thi shaakh mein kyun be-khile murjha gayi.

इस गुलिस्ताँ में बहुत कलियाँ मुझे तड़पा गईं,
क्यूँ लगी थीं शाख़ में क्यूँ बे-खिले मुरझा गईं !

 

Ishq ke izhaar mein har-chand ruswai to hai,
Par karun kya ab tabiyat aap par aayi to hai.

इश्क़ के इज़हार में हर-चंद रुस्वाई तो है,
पर करूँ क्या अब तबीअत आप पर आई तो है !

 

Ishq nazuk-mizaj hai behad,
Aqal ka bojh utha nahi sakta.

इश्क़ नाज़ुक-मिज़ाज है बेहद,
अक़्ल का बोझ उठा नहीं सकता !

 

अकबर इलाहाबादी की मशहूर शायरियां हिंदी में

Jab gham hua chadha lin do botalen ikathi,
Mullah ki doad masjid “Akbar” ki doad bhathee.

जब ग़म हुआ चढ़ा लीं दो बोतलें इकट्ठी,
मुल्ला की दौड़ मस्जिद “अकबर” की दौड़ भट्टी !

 

Jab main kahta hun ki ya allah mera haal dekh,
Huqam hota hai ki apna nama-e-aamaal dekh.

जब मैं कहता हूँ कि या अल्लाह मेरा हाल देख,
हुक्म होता है कि अपना नामा-ए-आमाल देख !

 

Jawani ki hai aamad sharm se jhuk sakti hai aankhein,
Magar sine ka fitna ruk nahi sakta ubharne se.

जवानी की है आमद शर्म से झुक सकती हैं आँखें,
मगर सीने का फ़ित्ना रुक नहीं सकता उभरने से !

 

Jis tarf uth gayi hain aanhein hain,
Chashm-e-bad-dur kya nigahein hain.

जिस तरफ़ उठ गई हैं आहें हैं,
चश्म-ए-बद-दूर क्या निगाहें हैं !

 

Jo kaha main ne ki pyar aata hai mujh ko tum par,
Hans ke kahane laga aur aap ko aata kya hai.

जो कहा मैं ने कि प्यार आता है मुझ को तुम पर,
हँस के कहने लगा और आप को आता क्या है !

 

Khincho na kamanon ko na talwar nikalo,
Jab top muqabil ho to akhbar nikalo.

खींचो न कमानों को न तलवार निकालो,
जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो !

 

Khuda se mang jo kuch mangna hai aye “Akbar”,
Yahi wo dar hai ki jillat nahi sawal ke baad.

ख़ुदा से माँग जो कुछ माँगना है ऐ “अकबर”,
यही वो दर है कि ज़िल्लत नहीं सवाल के बाद !

 

Kuch tarz-e-sitam bhi hai kuch andaz-e-wafa bhi,
Khulta nahi haal un ki tabiyat ka zara bhi.

कुछ तर्ज़-ए-सितम भी है कुछ अंदाज़-ए-वफ़ा भी,
खुलता नहीं हाल उन की तबीअत का ज़रा भी !

 

Kya hi rah rah ke tabiyat meri ghabraati hai,
Maut aati hai shab-e-hijr na nind aati hai.

क्या ही रह रह के तबीअत मेरी घबराती है,
मौत आती है शब-ए-हिज्र न नींद आती है !

 

Kya wo khawahish ki jise dil bhi samjhta ho haqir,
Aarzoo wo hai jo sine mein rahe naaz ke saath.

क्या वो ख़्वाहिश कि जिसे दिल भी समझता हो हक़ीर,
आरज़ू वो है जो सीने में रहे नाज़ के साथ !

 

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi

Lagawat ki ada se un ka kahna paan hazir hai,
Qayamat hai sitam hai dil fida hai jaan hazir hai.

लगावट की अदा से उन का कहना पान हाज़िर है,
क़यामत है सितम है दिल फ़िदा है जान हाज़िर है !

 

Log kahte hain badalta hai zamana sab ko,
Mard wo hai jo zamane ko badal dete hai.

लोग कहते हैं बदलता है ज़माना सब को,
मर्द वो हैं जो ज़माने को बदल देते हैं !

 

Log kahte hain ki ba-naami se bachna chahiye,
Kah do be is ke jawani ka maza milta nahi.

लोग कहते हैं कि बद-नामी से बचना चाहिए,
कह दो बे इस के जवानी का मज़ा मिलता नहीं !

 

Maut aayi ishq mein to hamein nind aa gayi,
Nikali badan se jaan to kanta nikal gaya.

मौत आई इश्क़ में तो हमें नींद आ गई,
निकली बदन से जान तो काँटा निकल गया !

 

Mazhabi bahas main ne ki hi nahi,
Faaltu aqal mujh mein thi hi nahi.

मज़हबी बहस मैं ने की ही नहीं,
फ़ालतू अक़्ल मुझ में थी ही नहीं !

 

Mere hawas ishq mein kya kam hain muntshir,
Majanun ka naam ho gaya kismat ki baat hai.

मेरे हवास इश्क़ में क्या कम हैं मुंतशिर,
मजनूँ का नाम हो गया क़िस्मत की बात है !

 

Meri ye baicheniya aur un ka kahna naaz se,
Hans ke tum se bol to lete hain aur hum kya karien.

मेरी ये बेचैनियाँ और उन का कहना नाज़ से,
हँस के तुम से बोल तो लेते हैं और हम क्या करें !

 

Mohabbat Ka tum se asar kya kahun,
Nazar mil gayi dil dhadkne laga.

मोहब्बत का तुम से असर क्या कहूँ,
नज़र मिल गई दिल धड़कने लगा !

 

Publik mein zara haath mila lijiye mujh se,
Sahab mere imaan ki kimat hai to ye hai.

पब्लिक में ज़रा हाथ मिला लीजिए मुझ से,
साहब मेरे ईमान की क़ीमत है तो ये है !

 

Pucha “Akbar” hai aadmi kaisa,
Hans ke bole wo aadmi hi nahi.

पूछा “अकबर” है आदमी कैसा,
हँस के बोले वो आदमी ही नहीं !

 

Talluk aashiq o maashuk ka to lutf rakhta tha,
Maze ab wo kahan baaki rahe biwi miyan ho kar.

तअल्लुक़ आशिक़ ओ माशूक़ का तो लुत्फ़ रखता था,
मज़े अब वो कहाँ बाक़ी रहे बीवी मियाँ हो कर !

 

Akbar Allahabadi Shayari /Poetry /Ghazal

 

Meaning Of Urdu Words : –

Urdu

Hindi

English

जर्राकणParticle
वस्ल
जोड़, मिलन, मिलान, प्रेमी और प्रेमिका का संयोगMeeting, Connection, Union
सहल
आसानEasy, Simple
हक़ीर
तुच्छ, कमीना, अत्यल्प, बहुत छोटा, बहुत थोड़ाDespicable, Contemptible, Mean
आरजू
तमन्ना ,इच्छा, ख़्वाहिश, मनोकामना, चाहतDesire, Wish, Longing
आशिक़
प्रेमीLover
माशूक़
प्रेमिकाBeloved
ग़म्ज़ा
शोख नज़र, कामुक नज़रCoquetry
तअल्लुक़
सम्बन्धRelationship
अहबाब
मित्र, दोस्त, प्रिय जनFriends, Lovers, Dear Ones
मुखालिफ
दुशमन, विरोधी, शत्रुOpposite, An Opponent, Unfavorable, Enemy
कार-ए-नुमायाँ
विशिष्ट कार्य, उपलब्धिProminent Action, Bold Action
शब-ए-वस्ल
मिलन की रातNight Of Union
अनवार-ए-इलाही
भगवान की रौशनीRadiance Of God

Akbar Allahabadi Two Line Shayari In Hindi ! Akbar Allahabadi Poetry In english ! Akbar Allahabadi Famous Ghazal ! Akbar Allahabadi Nazm ! Akbar Allahabadi Quotes ! Akbar Allahabadi Poetry In Urdu ! Akbar Allahabadi Sher-O-Shayari In Urdu !

 

 

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

इश्क़, वफा और ईमान का मिश्रण ही नहीं है, बेवफ़ाई के किरदार भी प्रेम कहानियों में कई मोड़ देते है। उर्दू और हिंदी शायरी अग़र मोहब्बत के हर्फों से फटी पड़ी है तो बेवफ़ाई की मौजूदगी को भी शायरों ने नज़र अंदाज नहीं किया है। दोस्तों आज का यह पोस्ट खास उन दोस्तों के लिए जिन्हे वफ़ा के बदले बेवफाई मिली हैं। प्यार के बदले सिर्फ और सिर्फ रुस्वाई मिली हैं।

Bewafa Shayari In Hindi

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line का यह कलेक्शन आपको जरूर पसंद आएगा इसमें मिलेगा Bewafa Shayari In Hindi ! Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend ! Bewafa Poetry In Hindi ! Bewafa Poetry SMS ! Bewafa Poetry In Urdu 2 Lines ! Bewafa Shayari Status ! Hindi Shayari Bewafa Sanam ! Dard Bhari Bewafa Shayari ! Bewafa Quotes ! Bewafa Shayari Images जो आपके दर्द को ज्यादा कम तो नहीं कर सकता लेकिन आराम जरूर देगा ।

 

पेश है “बेवफा शायरी” पर शायरों के अल्फ़ाज़ हिंदी में…

 

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

 

Kuch to majburiyan rahi hongi,
Yun koi bewafa nahi hota.

कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी,
यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता !

 

Tum ne kiya na yaad kabhi bhul kar humein,
Hum ne tumhari yaad mein sab kuch bhula diya.

तुम ने किया न याद कभी भूल कर हमें,
हम ने तुम्हारी याद में सब कुछ भुला दिया !

 

Hum se kya ho saka mohabbat mein,
Khair tum ne to bewafai ki.

हम से क्या हो सका मोहब्बत में,
ख़ैर तुम ने तो बेवफ़ाई की !

 

Ek ajab haal hai ki ab us ko,
Yaad karna bhi bewafai hai.

एक अजब हाल है कि अब उस को,
याद करना भी बेवफ़ाई है !

 

Kaam aa saki na apni wafayein to kya karein,
Us bewafa ko bhul na jayein to kya karein.

काम आ सकीं ना अपनी वफ़ाएं तो क्या करें,
उस बेवफा को भूल ना जाएं तो क्या करें !

 

Dil bhi gustakh ho chala tha bahut,
Shukr hai ki yaar hi bewafa nikla.

दिल भी गुस्ताख हो चला था बहुत,
शुक्र है की यार ही बेवफा निकला !

 

Sirf ek hi baat sikhi in husan walon se humne,
Haseen jis ki jitni adaa hai woh utna hi bewafa hai.

सिर्फ एक ही बात सीखी इन हुस्न वालों से हमने​​,
हसीन जिसकी जितनी अदा है वो उतना ही बेवफा है !

 

Bewafa Shayari In Hindi For Girlfriend 2 Line

Band kar dena khuli aankhon ko meri aa ke tum,
Aks tera dekh kar kah de na koi bewafa.

बंद कर देना खुली आँखों को मेरी आ के तुम,
अक्स तेरा देख कर कह दे न कोई बेवफा !

 

Is kadr musalsal thi shidatein judaai ki,
Aaj pahli bar us se maine bewafai ki.

इस क़दर मुसलसल थीं शिद्दतें जुदाई की,
आज पहली बार उस से मैं ने बेवफ़ाई की !

 

Mil hi jayega koi na koi tut ke chahne wala,
Ab shehar ka shehar to bewafa ho nahi sakta.

मिल ही जाएगा कोई ना कोई टूट के चाहने वाला,
अब शहर का शहर तो बेवफा हो नहीं सकता !

 

Roye kuch is tarah se mere jism se lipat ke,
Aisa laga ke jaise kabhi bewafa na the wo.

रोये कुछ इस तरह से मेरे जिस्म से लिपट के,
ऐसा लगा के जैसे कभी बेवफा न थे वो !

 

Bewafa Shayari Status

Chala tha zikr zamane ki bewafai ka,
Sau aa gaya hai tumhara khayal waise hi.

चला था ज़िक्र ज़माने की बेवफ़ाई का,
सो आ गया है तुम्हारा ख़याल वैसे ही !

 

Mohabbat ka natija duniya mein humne bura dekha,
Jinhe dava tha wafa ka unhen bhi humne bewafa dekha.

मोहब्बत का नतीजा दुनिया में हमने बुरा देखा,
जिन्हें दावा था वफ़ा का उन्हें भी हमने बेवफा देखा !

 

Tera khayal dil se mitaya nahi abhi,
Bewafa maine tujhko bhulaya nahi abhi.

तेरा ख्याल दिल से मिटाया नहीं अभी,
बेवफा मैंने तुझको भुलाया नहीं अभी !

 

Aashiqi mein bahut zaruri hai,
Bewafai kabhi kabhi karna.

आशिक़ी में बहुत ज़रूरी है,
बेवफ़ाई कभी कभी करना !

 

Dard Bhari Bewafa Shayari

Rushwa kyu karte ho tum ishq ko aye duniya walo,
Mehboob tumhara bewafa hai to ishq ka kya gunah.

रुशवा क्यों करते हो तुम इश्क़ को ए दुनिया वालो,
मेहबूब तुम्हारा बेवफा है तो इश्क़ का क्या गनाह !

 

Woh mili bhi to kya mili ban ke bewafa mili,
Itane to mere gunah na the jitni mujhe saza mili.

वो मिली भी तो क्या मिली बन के बेवफा मिली,
इतने तो मेरे गुनाह ना थे जितनी मुझे सजा मिली !

 

Khuda nee puchha kya saza dun us bewafa ko,
Dil ne kaha mohabbat ho jaye use bhi.

खुदा ने पूछा क्या सज़ा दूँ उस बेवफ़ा को,
दिल ने कहा मोहब्बत हो जाए उसे भी !

 

Bewafaon ki is duniya mein sanbhalkar chalna,
Yhan mohabbat se bhi barbaad kar dete hain log.

बेवफाओं की इस दुनियां में संभलकर चलना,
यहाँ मुहब्बत से भी बर्बाद कर देते हैं लोग !

 

Bewafai pe teri jo hai fida,
Kahar hota jo ba-wafa hota.

बेवफ़ाई पे तेरी जी है फ़िदा,
क़हर होता जो बा-वफ़ा होता !

 

Kisi ka ruth jana aur achanak bewafa hona,
Mohabbat mein yehi lamha qayamat ki nishani hai.

किसी का रूठ जाना और अचानक बेवफा होना,
मोहब्बत में यही लम्हा क़यामत की निशानी है !

 

Fir se niklenge talash-e-zindagi mein,
Dua karna is baar koi bewafa na mile.

फिर से निकलेंगे तलाश-ए-ज़िन्दगी में,
दुआ करना इस बार कोई बेवफा न मिले !

 

Itni mushkil bhi na thi raah meri mohabbat ki,
Kuch zamana khilaaf hua kuch woh bewafa huye.

इतनी मुश्किल भी न थी राह मेरी मोहब्बत की,
कुछ ज़माना खिलाफ हुआ कुछ वो बेवफा हुए !

 

Hindi Shayari Bewafa Sanam

Suno ek baar mohabbat karni hai tumse,
Lekin is baar bewafai hum karenge.

सुनो एक बार और मोहब्बत करनी है तुमसे,
लेकिन इस बार बेवफाई हम करेंगे !

 

Uski bewafai pe bhi fida hoti hai jaan apni,
Agar us mein wafa hoti to kya hota khuda jane.

उसकी बेवफाई पे भी फ़िदा होती है जान अपनी,
अगर उसमे वफ़ा होती तो क्या होता खुदा जाने !

 

Meri mohabbat sachchi hai is liye teri yaad aati hai,
Agar teri bewafai sachchi hai to ab yaad mat aana.

मेरी मोहब्बत सच्ची है इसलिए तेरी याद आती है,
अगर तेरी बेवफाई सच्ची है तो अब याद मत आना !

 

Jab tak na lage bewafai ki thhokar dost,
Har kisi ko apni pasand par naaz hota hai.

जब तक न लगे बेवफ़ाई की ठोकर दोस्त,
हर किसी को अपनी पसंद पर नाज़ होता है !

 

Meri aankho se behne wala ye awara sa aansoo,
Punchh raha hai palkon se teri bewafai ki wajah.

मेरी आँखों से बहने वाला ये आवारा सा आसूँ,
पूंछ रहा है पलकों से तेरी बेवफाई की वजह !

 

Tujhe hai mashq-e-sitam ka malaal waise hi,
Humari jaan hain jaan par wabaal waise hi.

तुझे है मशक-ए-सितम का मलाल वैसे ही,
हमारी जान थी, जान पर वबाल वैसे ही !

 

Na koi majburi hai na to lachari hai,
Bewafai uski paidayshi bimari hai.

न कोई मज़बूरी है न तो लाचारी है,
बेवफाई उसकी पैदायशी बीमारी है !

 

Dil bhi toda to saliqe se na toda tum ne,
Bewafai ke bhi aadab hua karte hain.

दिल भी तोड़ा तो सलीक़े से न तोड़ा तुम ने,
बेवफ़ाई के भी आदाब हुआ करते हैं !

 

Bewafa Quotes

Mohabbat se bhari koi ghazal use pasand Nnhi,
Bewafai ke har sher pe wo daad diya karte hain.

मोहब्बत से भरी कोई गजल उसे पसंद नहीं,
बेवफाई के हर शेर पे वो दाद दिया करते हैं !

 

Har bhul teri maaf ki teri har khata ko Bhula diya,
Gham hai ki mere pyar ka tu ne bewafai sila diya.

हर भूल तेरी माफ़ की तेरी हर खता को भुला दिया,
गम है कि मेरे प्यार का तूने बेवफाई सिला दिया !

 

Mere fan ko tarasha hai sabhi ke nek iraadon ne,
Kisi ki bewafai ne kisi ke jhuthhe wadon ne.

मेरे फन को तराशा है सभी के नेक इरादों ने,
किसी की बेवफाई ने किसी के झूठे वादों ने !

 

Hum use yaad bahut aayenge,
Jab use bhi koi thukrayega.

हम उसे याद बहुत आएँगे,
जब उसे भी कोई ठुकराएगा !

Udh gayi yun wafa zamane se,
Kabhi goya kisi mein thi hi nahi.

उड़ गई यूँ वफ़ा ज़माने से,
कभी गोया किसी में थी ही नहीं !

 

Mere baad wafa ka dhokha aur kisi se mat karna,
Gaali degi duniya tujh ko sar mera jhuk jayega.

मेरे बाद वफ़ा का धोखा और किसी से मत करना,
गाली देगी दुनिया तुझ को सर मेरा झुक जाएगा !

 

Bewafa Poetry In Hindi

Tum kisi ke bhi ho nahi sakte,
Tum ko apna bana ke dekh liya.

तुम किसी के भी हो नहीं सकते,
तुम को अपना बना के देख लिया !

 

Ye kya ki tum ne jafa se bhi haath khinch liya,
Meri wafaon ka kuch to sila diya hota !

ये क्या कि तुम ने जफ़ा से भी हाथ खींच लिया,
मेरी वफ़ाओं का कुछ तो सिला दिया होता !

 

Wafa ki khair manata hun bewafai mein bhi,
Main us ki qaid mein hun qaid se rihai mein bhi.

वफ़ा की ख़ैर मनाता हूँ बेवफ़ाई में भी,
मैं उस की क़ैद में हूँ क़ैद से रिहाई में भी !

 

Hum ne to khud ko bhi mita dala,
Tum ne to sirf bewafai ki.

हम ने तो ख़ुद को भी मिटा डाला,
तुम ने तो सिर्फ़ बेवफ़ाई की !

 

Gila likhun main agar teri bewafai ka,
Lahu mein gark safina ho aasnai ka.

गिला लिखूँ मैं अगर तेरी बेवफ़ाई का,
लहू में ग़र्क़ सफ़ीना हो आश्नाई का !

 

Jo mila us ne bewafai ki,
Kuch ajab rang hai zamane ka

जो मिला उस ने बेवफ़ाई की,
कुछ अजब रंग है ज़माने का !

 

Umeed un se wafa ki to khair kije,
Jafa bhi karte nahi wo kabhi jafa ki trah.

उमीद उन से वफ़ा की तो ख़ैर क्या कीजे,
जफ़ा भी करते नहीं वो कभी जफ़ा की तरह !

 

Tum jafa par bhi to nahi qayem,
Hum wafa umar bhar karein kyun kar.

तुम जफ़ा पर भी तो नहीं क़ाएम,
हम वफ़ा उम्र भर करें क्यूँ-कर !

 

Bewafa Shayari / Poetry / Status / Quotes / Sms

 

2 Line Dua Poetry In Hindi

2 Line Dua Poetry In HIndi

2 Line Dua Poetry In Hindi

2 Line Dua Poetry In Hindi बेहतरीन और चुनिंदा शायरी का संग्रह जो की दुआ शब्द को बहुत ही शानदार तरीके से वर्णित करता है ! दुआ पर हिंदी के ये शेर, आपके प्यार और भावनाओं को वक़्त करने में आपकी मदद कर सकते हैं ! यहाँ आप हर तरह की शायरी को पढ़ सकते है और अपने चाहने वालों को शेरे कर सकते हैं !

2 Line Dua Poetry In Hindi ! 2 Line Dua Shayari In Hindi ! Dua Poetry ! Dua Shayari ! Dua Status Hindi ! Dua Quotes In Hindi ! Dua Shayari Image ! Meri Dua Shayari ! Poem On Blessing In Hindi !

Enjoy Our Famous And Latest Collection Of Dua Poetry In Hindi On The Whatsapp , Web , Facebook And Blogs.

Famous Dua Poetry In Hindi.

Auron ki burai na dekhun wo nazar de,
Haan apni burai ko parakhne ka hunar de.

औरों की बुराई को न देखूँ वो नज़र दे,
हाँ अपनी बुराई को परखने का हुनर दे !

_________________________________________________________

Main kya karun mere qatil na chahne par bhi,
Tere liye mere dil se dua niklati hai.

मैं क्या करूँ मेरे क़ातिल न चाहने पर भी,
तेरे लिए मेरे दिल से दुआ निकलती है !

_________________________________________________________

Abhi raah mein kai mod hain koi aayega koi jayega,
Tumein jis ne dil se bhula diya usse bhulne ki dua karo.

अभी राह में कई मोड़ हैं कोई आएगा कोई जायेगा,
तुम्हें जिस ने दिल से भुला दिया उसे भूलने की दुआ करो !

_________________________________________________________

Aakhir dua karein bhi to kis mudda ke saath,
Kaise zmeen ki baat kahein aasman se hum.

आखिर दुआ करें भी तो किस मुद्दे के साथ,
कैसे ज़मीन की बात कहें आसमान से हम !

_________________________________________________________

Abhi jinda hai maa meri mujhe kuch bhi nahi hoga,
Main ghar se jab nikalta hun dua bhi saath chalti hain.

अभी ज़िंदा है माँ मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा,
मैं घर से जब निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती हैं !

_________________________________________________________

Dua ko haath uthate huye larjta hun,
Kabhi dua nahi mangi thi maa ke hote huye.

दुआ को हाथ उठाते हुए लरजता हूँ,
कभी दुआ नहीं मांगी थी माँ के होते हुए !

_________________________________________________________

Jab bhi kashti meri selaab mein aa jati hai,
Maa dua karti huyi khwaab mein aa jati hai.

जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है,
माँ दुआ करती हुई ख्वाब में आ जाती है !

_________________________________________________________

Jate ho khuda hafeez haan itni guzarish hai,
Jab yaad hum aa jayein milne ki dua karna.

जाते हो ख़ुदा हाफ़िज़ हाँ इतनी गुज़ारिश है,
जब याद हम आ जाएं मिलने की दुआ करना !

_________________________________________________________

Kyun mang rahe ho kisi baarish ki duayein,
Tum apne shiksta dar-o-deewar to dekho.

क्यों मांग रहे हो किसी बारिश की दुआएं,
तुम अपने शिकस्ता दर-ओ-दीवार तो देखो !

_________________________________________________________

Mang lun tujhse tujhi ko ki sabhi kuch mil jaye,
Sau sawalon se yahi ek sawal achcha hai.

मांग लूं तुझसे तुझी को की सभी कुछ मिल जाये,
सौ सवालों से यही एक सवाल अच्छा है !

_________________________________________________________

Mujhe zindagi ki dua dene wale,
Hansi aa rahi hai teri sadgi par.

मुझे ज़िन्दगी की दुआ देने वाले,
हंसी आ रही है तेरी सादगी पर !

_________________________________________________________

Koi charaah nahi dua ke siwa,
Koi suna nahi khuda ke siwa.

कोई चराह नहीं दुआ के सिवा,
कोई सुना नहीं खुदा के सिवा !

_________________________________________________________

Hazar bar jo manga karo kya hasil,
Dua wahi hai jo dil se kabhi nikalti hai.

हज़ार बार जो माँगा करो क्या हासिल,
दुआ वही है जो दिल से कभी निकलती है !

_________________________________________________________

Dua karo ki ye paudha hara hi lage,
Udasiyon mein bhi chehra khila hi lage.

दुआ करो कि ये पौधा हरा ही लगे,
उदासियों में भी चेहरा खिला ही लगे !

_________________________________________________________

Dua karo ki main us ke liye dua ho jaun,
Wo ek shakhas jo dil ko dua sa lagta hai.

दुआ करो कि मैं उस के लिए दुआ हो जाऊं,
वो एक शख्स जो दिल को दुआ सा लगता है !

_________________________________________________________

Mangi thi ek bar dua hum ne maut ki,
Sharminda aaj tak hain miyan zindagi se hum.

मांगी थी एक बार दुआ हम ने मौत की,
शर्मिंदा आज तक हैं मियां ज़िन्दगी से हम !

_________________________________________________________

Marz-e-ishq jise ho usse kya yaad rahe,
Na dawa yaad rahe aur na dua yaad rahe.

मर्ज़-ए-इश्क़ जिसे हो उससे क्या याद रहे,
न दवा याद रहे और न दुआ याद रहे !

_________________________________________________________

Maine din raat khuda se ye dua mangi thi,
Koi aahat na ho dar par mere jab tu aaye.

मैंने दिन रात खुदा से ये दुआ मांगी थी,
कोई आहट ना हो दर पर मेरे जब तू आये !

_________________________________________________________

Dur rahti hain sada un se balayein sahil,
Apne maa-baap ki jo roz dua lete hain.

दूर रहती हैं सदा उन से बलायें साहिल,
अपने माँ-बाप की जो रोज़ दुआ लेते हैं !

_________________________________________________________

Kisi ne chum ke aankhon ko ye dua di thi,
Zameen teri khuda motiyon se num kar de.

किसी ने चुम के आँखों को ये दुआ दी थी,
ज़मीन तेरी खुदा मोतियों से नुम कर दे !

_________________________________________________________

Tu salamat raho qayamat tak,
Aur qayamat kabhi na aaye “Shad”.

तू सलामत रहो क़यामत तक,
और क़यामत कभी न आये “शाद” !

_________________________________________________________

Wo bada rahim o qareem hai mujhe ye sifat bhi ataa kare,
Tujhe bhulne ki dua karun to meri dua mein asar na ho.

वो बड़ा रहीम ओ करीम है मुझे ये सिफ़त भी अता करे,
तुझे भूलने की दुआ करूँ तो मेरी दुआ में असर न हो !

_________________________________________________________

Ye bastiyan hai ki maqlat dua kiye jaye,
Dua ke din hai musalsal dua kiye jaye.

ये बस्तियां है की मकलत दुआ किये जाये,
दुआ के दिन है मुसलसल दुआ किये जाये !

_________________________________________________________

Wo sarkhushi de ki zindagi ko sharaab se bahar yaab kar de,
Mere khayalon mein rang bhar mere lahu ko sharaab kar de.

वो सरखुशी दे की ज़िन्दगी को शराब से बाहर याब कर दे,
मेरे ख्यालों में रंग भर मेरे लहू को शराब कर दे !

_________________________________________________________

Jaban pe shikwa-e-mehri-e-khuda kyun hai,
Dua to mangiye “Aatish” kabhi dua ki tarah.

जबान पे शिकवा-ए-मेहरी-ए-खुदा क्यों है,
दुआ तो मांगिये “आतिश” कभी दुआ की तरह !

_________________________________________________________

Hijr ki shab nala-e-dil wo sada dene lage,
Sunane wale raat ktne ki dua dene lage.

हिज्र की शब् नाला-ए-दिल वो सदा देने लगे,
सुनने वाले रात कटने की दुआ देने लगे !

_________________________________________________________

Kya-kya duayein mangte hain sab magar “asar”,
Apni yahi dua hai koi mudda na ho.

क्या-क्या दुआएं मांगते हैं सब मगर “असर”,
अपनी यही दुआ है कोई मुद्दा न हो !

_________________________________________________________

Sahraa ka safar tha to shajar kyun nahi aaya,
Mangi thi duayein to asar kyun nahi aaya.

सहरा का सफर था तो शजर क्यों नहीं आया,
मांगी थी दुआयें तो असर क्यों नहीं आया !

_________________________________________________________

Dekh kar tul-e-shab-e-hijr dua karta hun,
Wasl ke roz se bhi umar meri kam ho jaye.

देख कर तूल-ए-शब्-ए-हिज्र दुआ करता हूँ,
वस्ल के रोज़ से भी उम्र मेरी कम हो जाये !

_________________________________________________________

Raah ka sajar hun main aur ek musafir tu,
De koi dua mujh ko le koi dua mujh se.

राह का सजर हूँ मैं और एक मुसाफिर तू,
दे कोई दुआ मुझ को ले कोई दुआ मुझ से !

_________________________________________________________

Bhul hi jayein hum ko ye to na ho,
Log mere liye dua na karein.

भूल ही जाएं हम को ये तो न हो,
लोग मेरे लिए दुआ न करें !

_________________________________________________________

Aate hain barg-o-baar darkhaton ke jism par,
Tum bhi uthao haath ki mausam dua ka hai.

आते हैं बर्ग-ओ-बार दरख़्तों के जिस्म पर,
तुम भी उठाओ हाथ कि मौसम दुआ का है !

_________________________________________________________

Na charagar ki jrurat na kuch dawa ki hai,
Dua ko haath uthao ki gham ki raat kate.

न चारागर की जरुरत न कुछ दवा की है,
दुआ को हाथ उठाओ की ग़म की रात कटे !

_________________________________________________________

Dushman-e-jaan hi sahi dost samjata hun usse,
Bad-dua jis ki mujhe ban ke dua lagti hai.

दुश्मन-ए-जाँ ही सही दोस्त समझता हूँ उसे,
बद-दुआ जिस की मुझे बन के दुआ लगती है !

_________________________________________________________

Kaun deta hai mohabbat ko parstish ka maqam,
Tum ye insaaf se socho to dua do hum ko.

कौन देता है मोहब्बत को परस्तिश का मक़ाम,
तुम ये इन्साफ से सोचो तो दुआ दो हम को !

_________________________________________________________

Us marz ko marz-e-ishq kaha karte hain,
Na dawa hoti hai jis ki na dua hoti hai.

उस मरज़ को मरज़-ए-इश्क़ कहा करते हैं,
न दवा होती है जिस की न दुआ होती है !

_________________________________________________________

Zameen ko aye khuda wo jaljala de,
Nishan tak sarhdon ke jo mita de.

ज़मीं को ऐ ख़ुदा वो ज़लज़ला दे,
निशाँ तक सरहदों के जो मिटा दे !

_________________________________________________________

Ek teri tamana ne kuch yesa nawaza hai,
Mangi hi nahi jati ab koi dua hum se.

एक तेरी तमन्ना ने कुछ ऐसा नवाज़ा है,
माँगी ही नहीं जाती अब कोई दुआ हम से !

_________________________________________________________

Maut mangi thi khudai to nahi mangi thi,
Le dua kar chuke ab tark-e-dua karte hain.

मौत माँगी थी ख़ुदाई तो नहीं माँगी थी,
ले दुआ कर चुके अब तर्क-ए-दुआ करते हैं !

_________________________________________________________

Haye koi dawa karo haye koi dua karo,
Haye jigar mein dard hai haye jigar ka kya karun.

हाए कोई दवा करो हाए कोई दुआ करो,
हाए जिगर में दर्द है हाए जिगर का क्या करूँ !

_________________________________________________________

Us dushman-e-wafa ko dua de raha hun main,
Mera na ho saka wo kisi ka to ho gaya.

उस दुश्मन-ए-वफ़ा को दुआ दे रहा हूँ मैं,
मेरा न हो सका वो किसी का तो हो गया !

_________________________________________________________

Gham-e-dil ab kisi ke bas ka nahi,
Kya dawa kya dua kare koi.

ग़म-ए-दिल अब किसी के बस का नहीं,
क्या दवा क्या दुआ करे कोई !

_________________________________________________________

Ye mozja bhi kisi ki dua ka lagta hai
Ye shehar ab bhi usi bewafa ka lagta hai.

ये मोजज़ा भी किसी की दुआ का लगता है,
ये शहर अब भी उसी बे-वफ़ा का लगता है !

_________________________________________________________

Buland haathon mein zanjir dal dete hain,
Ajib rasm chali hai dua na mange koi.

बुलंद हाथों में जंजीर डाल देते हैं,
अजीब रस्म चली है दुआ ना मांगे कोई !

_________________________________________________________

Ye iltija dua ye tamana fuzul hai,
Sukhi nadi ke paas samundar na jayega.

ये इल्तिजा दुआ ये तमना फ़ुज़ूल है,
सूखी नदी के पास समुन्दर न जायेगा !

_________________________________________________________

Koi to phool khilaye dua ke lahze mein,
Ajab trah ki ghutan hai hawa ke lahze mein.

कोई तो फूल खिलाए दुआ के लहज़े में,
अजब तरह की घुटन है हवा के लहज़े में !

_________________________________________________________

Main zindagi ki dua mangne laga hun bahut,
Jo ho sake to duaon ko be-asar kar de.

मैं ज़िन्दगी की दुआ मांगने लगा हूँ बहुत,
जो हो सके तो दुआओं को बे-असर कर दे !

_________________________________________________________

Baki hi kya raha tujhe mangne ke baad,
Bas ek dua mein chut gaye dua se hum.

बाकी ही क्या रहा तुझे मांगने के बाद,
बस एक दुआ में छूट गए दुआ से हम !

_________________________________________________________

Na jane kon si manzil pe ishq aa pahuncha,
Dua bhi kaam na aaye koi dawa na lage.

न जाने कौन सी मंज़िल पे इश्क़ आ पहुंचा,
दुआ भी काम न आये कोई दवा न लगे !

_________________________________________________________

Manga kareinge ab se dua hijr-e-yaar ki,
Aakhir to dushmani hai asar ko dua ke saath.

माँगा करेंगे अब से दुआ हिज्र-ए-यार की,
आख़िर तो दुश्मनी है असर को दुआ के साथ !

_________________________________________________________

Duayein yaad kara di gayi thi bachpan mein,
So zakhm khate rahe aur dua diye gaye hum.

दुआएँ याद करा दी गई थीं बचपन में,
सो ज़ख़्म खाते रहे और दुआ दिए गए हम !

_________________________________________________________

Is liye chal na saka koi bhi khanjar mujh par,
Meri shah-rag pe meri maa ki dua rakkhi thi.

इस लिए चल न सका कोई भी ख़ंजर मुझ पर,
मेरी शह-रग पे मेरी माँ की दुआ रक्खी थी !

_________________________________________________________

Jab lagen zakhm to qatil ko dua di jaye,
Hai yahi rasm to ye rasm utha di jaye.

जब लगें ज़ख़्म तो क़ातिल को दुआ दी जाए,
है यही रस्म तो ये रस्म उठा दी जाए !

_________________________________________________________

-Dua Shayari / Poetry/ Status / Quotes

 

Bewafa Two Lines Shayari In Hindi

Bewafa Two Lines Shayari In Hindi

Ek hi khawab ne sari raat jagaya hai,
Maine har karvat sone ki koshish ki.
एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है,
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की !
– गुलज़ार

Raat bajati thi dur shahnai,
Roya pikar bahut sharaab koi.
रात बजती थी दूर शहनाई,
रोया पीकर बहुत शराब कोई !
– जावेद अख़्तर

Aaj us ne hans ke yun pucha mizaj,
Umarbhar ke ranz-o-gham yaad aa gaye.
आज उस ने हंस के यूं पूछा मिज़ाज,
उम्र भर के रंज-ओ-ग़म याद आ गए !
– एहसान दानिश

Ab to kuch bhi yaad nahi hai,
Hum ne tum ko chaha hoga.
अब तो कुछ भी याद नहीं है,
हम ने तुम को चाहा होगा !
– मज़हर इमाम

Ishq mein kon bata skata hai,
Kis ne kis se sach bola hai.
इश्क़ में कौन बता सकता है,
किस ने किस से सच बोला है !
– अहमद मुश्ताक़

Aarzoo wasl ki rakhati hai pareshan kya-kya,
Kya batanun ki mere dil mein hai arman kya-kya.
आरज़ू वस्ल की रखती है परेशां क्या क्या,
क्या बताऊं कि मेरे दिल में है अरमां क्या क्या !
– अख़्तर शीरानी

Jaan-lewa thi khawahishen warna,
Wasl se intezaar achcha tha.
जान-लेवा थीं ख़्वाहिशें वर्ना,
वस्ल से इंतिज़ार अच्छा था !
– जौन एलिया

Aadtan tumne kar liye wade,
Aur aadtan humne aitbaar kar liya.
आदतन तुमने कर लिए वादे,
और आदतन हमनें ऐतबार कर लिया !
– गुलज़ार

Kuch to majburiyan rahi hongi,
Yun koi bewafa nahi hota.
कुछ तो मजबूरियां रही होंगी,
यूं कोई बेवफ़ा नहीं होता !
– बशीर बद्र

Kaam aa saki n apni wafayein to kya karein,
Us bewafa ko bhul n janyein to kya karein.
काम आ सकीं न अपनी वफ़ाएं तो क्या करें,
उस बेवफ़ा को भूल न जाएं तो क्या करें !
– अख़्तर शीरानी

Is kadar musalsal thi shiddtein judai ki,
Aaj pahli bar us se maine bewafai ki.
इस क़द्र मुसलसल थीं शिद्दतें जुदाई की,
आज पहली बार उस से मैंने बेवफ़ाई की !
– अहमद फ़राज़

Ajab chiraagh hun din-raat jalta rahta hun,
Main thak gaya hun hawa se kaho bujhaye mujhe.
अजब चराग़ हूं दिन-रात जलता रहता हूं,
मैं थक गया हूं हवा से कहो बुझाए मुझे !
– बशीर बद्र

Aakhiri bar aah kar li hai,
Maine khud se nibah kar li hai.
आख़िरी बार आह कर ली है,
मैं ने ख़ुद से निबाह कर ली है !
– जौन एलिया

 

Happy Hug Day Status Quotes & Shayari In Hindi

Valentine’s Day Week में 6th Day Hug Day होता हैं ! यह हर साल 12 फरवरी के दिन ही आता है ! सभी प्रेमी आशिक़ या दोस्त एक दूसरे को हग करके ये दिन सेलिब्रेट करते हैं ! भारत में Hug को हिंदी भाषा में जादू की झप्पी भी कहने लगे हैं, जो की हर भारतीय अपने प्रिये को देना पसंद करता हैं, इससे उनका प्यार बना रहता हैं और गहरा होता हैं ! Hug Day के बाद किस डे मनाया जाता हैं ! वैलेंटाइन डे के अब सिर्फ 2 दिन ही बाकी रहते हैं, और सभी प्रेमियों को इस दिन का बहुत इंतजार रहता हैं |

इस आर्टिकल में आप के लिए खास चुनिन्दा सोशल मिडिया पर पोस्ट हुयी सबसे लोकप्रिय शायरियां ली गयी हैं जो की आप अपने पार्टनर गर्लफ्रेंड, बॉयफ्रेंड, पति या पत्नी से भी शेयर कर सकते हो | आपको सभी को Hug Day की बहुत बहुत शुभकामनाएँ !

देख के तेरा हसीं चेहरा,
ख़ुशी से फूल जाती हूँ,
आके बाहों में तुम्हारी,
सारा दर्द भूल जाती हूँ !
हैप्पी हग डे जान

इतना ना तड़पाओ मेरे दिल को,
इतना ना सताओ मेरे बाहों को,
इतना ना छुपाओ अपने प्यार को,
आग तो दोनों तरफ ही लगी हैं,
आओ ले लो मुझे अपनी बाहों में !

बाहों के दरमियाँ अब दूरी न रहे,
सीने से लगा लो कोई चाहत अधूरी न रहे !

अपनी बाँहों में मुझे बिखर जाने दो,
साँसों से अपनी मुझे महक जाने दो,
दिल बेचैन है कब से इस प्यार के लिए,
आज तो सीने में अपने मुझे उतर जाने दो !

कोई कहे इसे प्यार,
मोका खुबसुरत,
आ गले लग जा मेरे यार,
हैप्पी हग डे !
बोले तो
हग डे मुबारक

तेरा हाथ चाहती हूँ तेरा साथ चाहती हुँ,
बाहों में तेरी रहना में दिन रात चाहती हुँ,
बस यही वादा में तुमसे चाहती हूँ !

तेरी मोहब्बत कि तलब थी तो हाँथ फैला दिये हमने,
वरना हम तो अपनी जिन्दगी के लिए भी दुआ नही मागते !

पानी की बूंदे फूलों को भिगा रही हैं,
ठंडी लहरे एक ताज़गी जगा रही हैं,
हो जायें आप भी इनमें शामिल,
एक प्यारी सी सुबह आपको जगा रही है!

तुम्हारी बाँहों में आकर हमें जन्नत मिल गयी सारी ,
खुदा से बोल दूँ की अपनी जन्नत अपने पास ही रखे !

सिर्फ एक बार गले लग कर,
मेरे दिल की धड़कन सुन,
फिर लौटने का इरादा हम,
तुम पर छोड़ देंगे !
Happy Hug Day

Happy Hug Day Status Quotes Shayari In Hindi

 

बाहों के दरमियाँ अब दूरी न रहे,
सीने से लगा लो कोई चाहत अधूरी न रहे !

दिल की एक ही ख़्वाहिश हैं,
धड़कनों की एक ही इच्छा हैं,
के तुम मुझे अपनी बाहों में पनाह दे दो,
और में खो जाओ !

मुझे भी जरुरुत है तेरी बाहो की,
दुनिया के वजूद और दुनिया के रास्ते बहुत कमजोर है !

मन ही मन करती हूँ बातें,
दिल की हर एक बात कह जाती हूँ,
एक बार तो ले लो बाँहों में सजना,
यही हर बार कहते कहते रुक जाती हूँ !

इतना ना तड़पाओ मेरे दिल को,
इतना ना सताओ मेरे बाहों को,
इतना ना छुपाओ तेरे प्यार को,
आग दोनो तरफ़ लगी हैं,
आओ ले लो मुझे अपनी बाहों में !
Happy Hug Day My Love

एक बार तो मुझे सीने से लगा ले,
अपने दिल के भी अरमान सजा ले,
कबसे है तड़प तुझे अपना बनाने की,
आज तो मौका है मुझे अपने पास बुला ले..!!
Happy Hug Day

कोई कहे इससे जादू की झप्पी,
कोई कहे इसे प्यार,
मौका खूबसूरत है,
आ गले लग जा मेरे यार..!!
Happy Hug Day 2020

अपनी बाँहों में मुझे बिखर जाने दो,
साँसों से अपनी मुझे महक जाने दो,
दिल बेचैन है कबसे इस प्यार के लिए,
आज तो सीने में अपने मुझे उतर जाने दो..!!

बाहों में चले आओ ,
हम से सनम क्या पर्दा हो हमसे सनम क्या पर्दा ?
Happy Hug Day Sweet Heart

तुझे गले लगाने कि,
तलब थी तो बाहें फैला दी हमने,
वरना हम तो अपनी जिन्दगी के लिए भी,
दुआ नही मागते..!!
2020 हैप्पी हग डे

इक झलक जो मुझे आज तेरी मिल गयी,
मुझे फिर से आज जीने की वजह मिल गयी !

थाम लूँ तेरा हाथ और तुझे इस दुनिया से दूर ले जाऊं,
जहाँ तुझे देखने वाला मेरे सिवा कोई और ना हो !

सुना है…हग-डे पर अपने प्यार से कसकर गले मिलकर,
उसका हाल चाल पूछा जाता है,
हाँ तो फिर Dear… कब आ रहे हो,
हमारा हाल चाल पूछने..!!
Wish U Happy Hug Day

एक ही तमन्ना,
एक ही आरजू,
बाँहों की पनाह में तेरे,
सारी जिन्दगी गुजर जाए..!!

Sad Two Lines Hug Day Poetry In Hindi

आज तो यूं गले लग जाओ कि बस,
फिर तो जाने तुम्हें कब कब देखें !

मोहब्बत में शायद कमी रह ही जाती,
अगर तू गले लग के रोया न होता !

तमाम उम्र का सौदा है एक पल का नहीं,
बहुत ही सोच समझ कर गले लगाओ हमें !

जो दूर रह के उड़ाता रहा मज़ाक़ मिरा,
क़रीब आया तो रोया गले लगा के मुझे !

जाते जाते गले लगाता क्या,
वो मिरा और दिल दुखाता क्या !

पिघल रहे हैं हम इक फ़ासले पे बैठे हुए,
गले लगो कि ये सीने की आग ठंडी हो !

गिले करो कि मोहब्बत में जान पड़ जाए,
गले लगो कि यूं रोने से सिलसिला रहेगा !

वक़्त-ए-रुख़्सत गले लगा लेना,
आख़िरी बार ये ख़ता कर दो !

मैं चाहता हूं कि तुम ही मुझे इजाज़त दो,
तुम्हारी तरह से कोई गले लगाए मुझे !

आते ही जो तुम मेरे गले लग गए वल्लाह,
उस वक़्त तो इस गर्मी ने सब मात की गर्मी !

सूरत तो दिखाते हैं गले से नहीं मिलते,
आँखों की तो सुन लेते हैं दिल की नहीं सुनते !

बस एक बार किसी ने गले लगाया था,
फिर उस के बाद न मैं था न मेरा साया था !

गले लगा के मुझे पूछ मसअला क्या है,
मैं डर रहा हूँ तुझे हाल-ए-दिल सुनाने से !

हर मौज गले लग के ये कहती है ठहर जाओ,
दरिया का इशारा है कि हम पार उतर जाएँ !

इधर आ रक़ीब मेरे मैं तुझे गले लगा लूँ,
मिरा इश्क़ बे-मज़ा था तिरी दुश्मनी से पहले !

हज़ार तर्क-ए-वफ़ा का ख़याल हो लेकिन,
जो रू-ब-रू हों तो बढ़ कर गले लगा लेना !

क्या सबब तेरे बदन के गर्म होने का सजन,
आशिक़ों में कौन जलता था गले किस के लगा !

जानते हैं हम मोहब्बत-आज़माई हो चुकी,
आओ लग जाओ गले बस अब लड़ाई हो चुकी !

क़रीब-ए-मर्ग हूँ लिल्लाह आईना रख दो,
गले से मेरे लिपट जाओ फिर निखर लेना !

मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला,
अगर गले नहीं मिलता तो हाथ भी न मिला !

हम अपनी रूह तेरे जिस्म में छोड़ आये है,
तुझे गले से लगाना तो एक बहाना था !

गले मिला न कभी चाँद बख़्त ऐसा था,
हरा-भरा बदन अपना दरख़्त ऐसा था !

क़त्ल की सुन के ख़बर ईद मनाई मैं ने,
आज जिस से मुझे मिलना था गले मिल आया !

वो इश्क़ को किस तरह समझ पाएगा जिसने,
सहरा से गले मिलते समुंदर नहीं देखा !

सीने से लिपटो या गला काटो,
हम तुम्हारे हैं दिल तुम्हारा है !

आओ गले मिल कर ये देखें,
अब हम में कितनी दूरी है !!

 

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Beti बेटी)

1.
Gharon mein yun sayani betiyan bechain rehati hain,
Ki jaise sahilon par kashtiyan bechain rehati hain.

घरों में यूँ सयानी बेटियाँ बेचैन रहती हैं,
कि जैसे साहिलों पर कश्तियाँ बेचैन रहती हैं !

2.
Ye chidiya bhi meri beti se kitani milati-julti hai,
Kahin bhi shakhe-gul dekhe to jhula daal deti hai.

ये चिड़िया भी मेरी बेटी से कितनी मिलती-जुलती है,
कहीं भी शाख़े-गुल देखे तो झूला डाल देती है !

3.
Ro rahe the sab to main bhi phoot ke rone laga,
Warna mujhko betiyon ki rukhsati achchi lagi.

रो रहे थे सब तो मैं भी फूट कर रोने लगा,
वरना मुझको बेटियों की रुख़सती अच्छी लगी !

4.
Badi hone ko hain ye muratein aangan mein mitti ki,
Bahut se kaam baaki hai sambhala le liya jaye.

बड़ी होने को हैं ये मूरतें आँगन में मिट्टी की,
बहुत से काम बाक़ी हैं सँभाला ले लिया जाये !

5.
To phir jakar kahin Maa-Baap ko kuch chain padta hai,
Ki jab sasuraal se ghar aa ke beti muskurati hai.

तो फिर जाकर कहीँ माँ-बाप को कुछ चैन पड़ता है,
कि जब ससुराल से घर आ के बेटी मुस्कुराती है !

6.
Ayesa lagta hai ki jaise khtam mela ho gaya,
Uad gayi aangan se chidiyaan ghar akela ho gaya.

ऐसा लगता है कि जैसे ख़त्म मेला हो गया,
उड़ गईं आँगन से चिड़ियाँ घर अकेला हो गया !

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Gurabat गुरबत)

1.
Ghar ki diwar pe kauve nahi achche lagte,
Muflisi mein ye tamashe nahi achche lagte.

घर की दीवार पे कौवे नहीं अच्छे लगते,
मुफ़लिसी में ये तमाशे नहीं अच्छे लगते !

2.
Muflisi ne sare aangan mein andhera kar diya,
Bhai khali hath laute aur Behane bujh gayi.

मुफ़लिसी ने सारे आँगन में अँधेरा कर दिया,
भाई ख़ाली हाथ लौटे और बहनें बुझ गईं !

3.
Amiri resham-o-kamkhwab mein nangi nazar aayi,
Garibi shaan se ek taat ke parde mein rehati hai.

अमीरी रेशम-ओ-कमख़्वाब में नंगी नज़र आई,
ग़रीबी शान से इक टाट के पर्दे में रहती है !

4.
Isi gali mein wo bhukha kisan rahata hai,
Ye wo zameen hai jahan aasman rahata hai.

इसी गली में वो भूखा किसान रहता है,
ये वो ज़मीं है जहाँ आसमान रहता है !

5.
Dehleez pe sar khole khadi hogi jarurat,
Ab ase ghar mein jana munasib nahi hoga.

दहलीज़ पे सर खोले खड़ी होगी ज़रूरत,
अब ऐसे घर में जाना मुनासिब नहीं होगा !

6.
Eid ke khauf ne rozon ka maza chhin liya,
Muflisi mein ye mahina bhi bura lagta hai.

ईद के ख़ौफ़ ने रोज़ों का मज़ा छीन लिया,
मुफ़लिसी में ये महीना भी बुरा लगता है !

7.
Apne ghar mein sar jhukaye is liye aaya hun main,
Itani majduri to bachchon ki dua kha jayegi.

अपने घर में सर झुकाये इस लिए आया हूँ मैं,
इतनी मज़दूरी तो बच्चे की दुआ खा जायेगी !

8.
Allaah gareebon ka madadgar hai “Rana”,
Hum logon ke bachche kabhi sardi nahi khate.

अल्लाह ग़रीबों का मददगार है “राना”,
हम लोगों के बच्चे कभी सर्दी नहीं खाते !

9.
Bojh uthana shauk kahan hai majburi ka suda hai,
Rehate-rehate station par log kuli ho jate hain.

बोझ उठाना शौक़ कहाँ है मजबूरी का सौदा है,
रहते-रहते स्टेशन पर लोग कुली हो जाते हैं !

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Vividh विविध)

1.
Hum sayadar ped zamane ke kaam aaye,
Jab sukhne lage to jalane ke kaam aaye.

हम सायादार पेड़ ज़माने के काम आये,
जब सूखने लगे तो जलाने के काम आये !

2.
Koyal bole ya gaureyya achcha lagta hai,
Apne gaon mein sab kuch bhaiya achcha lagta hai.

कोयल बोले या गौरेय्या अच्छा लगता है,
अपने गाँव में सब कुछ भैया अच्छा लगता है !

3.
Khandani wirasat ke nilam par aap apne ko taiyaar karte hue,
Us haweli ke sare makin ro diye us haweli ko bazaar karte hue.

ख़ानदानी विरासत के नीलाम पर आप अपने को तैयार करते हुए,
उस हवेली के सारे मकीं रो दिये उस हवेली को बाज़ार करते हुए !

4.
Udane se parinde ko shzar rok raha hai,
Ghar wale to khamosh hain ghar rok raha hai.

उड़ने से परिंदे को शजर रोक रहा है,
घर वाले तो ख़ामोश हैं घर रोक रहा है !

5.
Wo chahati hai ki aangan mein maut ho meri,
Kahan ki mitti hai mujhko kahan bulaati hai.

वो चाहती है कि आँगन में मौत हो मेरी,
कहाँ की मिट्टी है मुझको कहाँ बुलाती है !

6.
Numaaish par badan ki yun koi taiyaar kyon hota,
Agar sab ghar ho jate to ye bazar kyon hota.

नुमाइश पर बदन की यूँ कोई तैयार क्यों होता,
अगर सब घर हो जाते तो ये बाज़ार क्यों होता !

7.
Kachcha samajh ke bech na dena makan ko,
Shayad kabhi ye sar ko chhupane ke kaam aaye.

कच्चा समझ के बेच न देना मकान को,
शायद कभी ये सर को छुपाने के काम आये !

8.
Andheri raat mein aksar sunhari mishalein lekar,
Parindo ki musibat ka pata jugnu lagate hain.

अँधेरी रात में अक्सर सुनहरी मिशअलें लेकर,
परिंदों की मुसीबत का पता जुगनू लगाते हैं !

9.
Tune saari bajiyan jiti hain mujhpe baith kar,
Ab main budha ho raha hun astbal bhi chahiye.

तूने सारी बाज़ियाँ जीती हैं मुझपे बैठ कर,
अब मैं बूढ़ा हो रहा हूँ अस्तबल भी चाहिए !

10.
Mohaaziro ! yahi tarikh hai makanon ki,
Banane wala hamesha baramdon mein raha.

मोहाजिरो ! यही तारीख़ है मकानों की,
बनाने वाला हमेशा बरामदों में रहा !

11.
Tumhari aankhon ki tauheen hai zara socho,
Tumhara chahane wala sharab pita hai.

तुम्हारी आँखों की तौहीन है ज़रा सोचो,
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है !

12.
Kisi dukh ka kisi chehare se andaza nahi hota,
Shazar to dekhne se sab hare malum hote hain.

किसी दुख का किसी चेहरे से अंदाज़ा नहीं होता,
शजर तो देखने में सब हरे मालूम होते हैं !

13.
Jarurat se anaa ka bhari patthar tut jata hai,
Magar phir aadami hi andar-andar tut jata hai.

ज़रूरत से अना का भारी पत्थर टूट जात है,
मगर फिर आदमी भी अंदर-अंदर टूट जाता है !

14.
Mohabbat ek aisa khel hai jismein mere bhai,
Hamesha jitane wale pareshani mein rehate hain.

मोहब्बत एक ऐसा खेल है जिसमें मेरे भाई,
हमेशा जीतने वाले परेशानी में रहते हैं !

15.
Phir kabutar ki wafadari pe shaq mat karna,
Wah to ghar ko isi minar se pehachanta hai.

फिर कबूतर की वफ़ादारी पे शक मत करना,
वह तो घर को इसी मीनार से पहचानता है !

16.
Anaa ki mohani surat bigad deti hai,
Bade-badon ki jarurat bigad deti hai.

अना की मोहनी सूरत बिगाड़ देती है,
बड़े-बड़ों को ज़रूरत बिगाड़ देती है !

17.
Banakar ghaunsala rehata tha ek joda kabootar ka,
Agar aandhi nahi aati to ye minar bach jata.

बनाकर घौंसला रहता था इक जोड़ा कबूतर का,
अगर आँधी नहीं आती तो ये मीनार बच जाता !

18.
Un gharon mein jahan mitti ke ghade rahte hain,
Kad mein chhote hon magar log bade rahte hain.

उन घरों में जहाँ मिट्टी के घड़े रहते हैं,
क़द में छोटे हों मगर लोग बड़े रहते हैं !

19.
Pyaas ki shiddat se munh khole parinda gir pada,
Sidhiyon par haanfte akhbar wale ki tarah.

प्यास की शिद्दत से मुँह खोले परिंदा गिर पड़ा,
सीढ़ियों पर हाँफ़ते अख़बार वाले की तरह !

20.
Wo chidiyaan thi duayein padh ke jo mujhko jagati thi,
Main aksar sochta tha ye tilawat kaun karta hai.

वो चिड़ियाँ थीं दुआएँ पढ़ के जो मुझको जगाती थीं,
मैं अक्सर सोचता था ये तिलावत कौन करता है !

21.
Parinde chonch mein tinke dabate jate hain.
Main sochta hun ki ab ghar basa liya jaye.

परिंदे चोंच में तिनके दबाते जाते हैं,
मैं सोचता हूँ कि अब घर बसा लिया जाये !

22.
Aye mere bhai mere khoon ka badla le le,
Hath mein roz ye talwar nahi aayegi.

ऐ मेरे भाई मेरे ख़ून का बदला ले ले,
हाथ में रोज़ ये तलवार नहीं आयेगी !

23.
Naye kamron mein ye chizein purani kaun rakhta hai,
Parindo ke liye sheharon mein paani kaun rakhta hai.

नये कमरों में ये चीज़ें पुरानी कौन रखता है,
परिंदों के लिए शहरों में पानी कौन रखता है !

24.
Jisko bachchon mein pahunchane ki bahut ujalat ho,
Us se kehiye na kabhi Car chalane ke liye.

जिसको बच्चों में पहुँचने की बहुत उजलत हो,
उस से कहिये न कभी कार चलाने के लिए !

25.
So jate hai footpaath pe akhbar bichha kar,
Majdur kabhi nind ki goli nahi khate.

सो जाते हैं फुट्पाथ पे अखबार बिछा कर,
मज़दूर कभी नींद की गोलॊ नहीं खते !

26.
Pet ki khatir phootpaathon pe bech raha hun tasvirein,
Main kya janu roza hai ya mera roza tut gaya.

पेट की ख़ातिर फुटपाथों पे बेच रहा हूँ तस्वीरें,
मैं क्या जानूँ रोज़ा है या मेरा रोज़ा टूट गया !

27.
Jab us se guftgu kar li to phir shazara nahi puncha,
Hunar bakhiyagiri ka ek turpai mein khulta hai.

जब उससे गुफ़्तगू कर ली तो फिर शजरा नहीं पूछा,
हुनर बख़ियागिरी का एक तुरपाई में खुलता है !