Tuesday , November 24 2020

Tasweer Shayari

Main Dil Pe Jabr Karunga Tujhe Bhula Dunga..

Main dil pe jabr karunga tujhe bhula dunga,
Marunga khud bhi tujhe bhi kadi saza dunga.

Ye tirgi mere ghar ka hi kyun muqaddar ho,
Main tere shehar ke sare diye bujha dunga.

Hawa ka hath bataunga har tabahi mein,
Hare shajar se parinde main khud uda dunga.

Wafa karunga kisi sogwar chehre se,
Purani qabr pe katba naya saja dunga.

Isi khayal mein guzri hai sham-e-dard akasr,
Ki dard had se badhega to muskura dunga.

Tu aasman ki surat hai gar padega kabhi,
Zamin hun main bhi magar tujh ko aasra dunga.

Badha rahi hain mere dukh nishaniyan teri,
Main tere khat teri taswir tak jala dunga.

Bahut dinon se mera dil udas hai “Mohsin“,
Is aaine ko koi aks ab naya dunga. !!

मैं दिल पे जब्र करूँगा तुझे भुला दूँगा,
मरूँगा ख़ुद भी तुझे भी कड़ी सज़ा दूँगा !

ये तीरगी मेरे घर का ही क्यूँ मुक़द्दर हो,
मैं तेरे शहर के सारे दिए बुझा दूँगा !

हवा का हाथ बटाऊँगा हर तबाही में,
हरे शजर से परिंदे मैं ख़ुद उड़ा दूँगा !

वफ़ा करूँगा किसी सोगवार चेहरे से,
पुरानी क़ब्र पे कतबा नया सजा दूँगा !

इसी ख़याल में गुज़री है शाम-ए-दर्द अक्सर,
कि दर्द हद से बढ़ेगा तो मुस्कुरा दूँगा !

तू आसमान की सूरत है गर पड़ेगा कभी,
ज़मीं हूँ मैं भी मगर तुझ को आसरा दूँगा !

बढ़ा रही हैं मेरे दुख निशानियाँ तेरी,
मैं तेरे ख़त तेरी तस्वीर तक जला दूँगा !

बहुत दिनों से मेरा दिल उदास है “मोहसिन“,
इस आइने को कोई अक्स अब नया दूँगा !!

 

Aakhiri Mulaqat..

Aakhiri Mulaqat By Jan Nisar Akhtar

Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Do panv bane hariyali par
Ek titli baithi dali par
Kuch jagmag jugnu jangal se
Kuch jhumte hathi baadal se
Ye ek kahani nind bhari
Ek takht pe baithi ek pari
Kuch gin gin karte parwane
Do nanhe nanhe dastane
Kuch udte rangin ghubare
Babbu ke dupatte ke tare
Ye chehra banno budhi ka
Ye tukda maa ki chudi ka
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Alsai hui rut sawan ki
Kuch saundhi khushbu aangan ki
Kuch tuti rassi jhule ki
Ek chot kasakti kulhe ki
Sulgi si angithi jadon mein
Ek chehra kitni aadon mein
Kuch chandni raatein garmi ki
Ek lab par baaten narmi ki
Kuch rup hasin kashanon ka
Kuch rang hare maidanon ka
Kuch haar mahakti kaliyon ke
Kuch nasm watan ki galiyon ke
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch chand chamakte galon ke
Kuch bhanwre kale baalon ke
Kuch nazuk shiknen aanchal ki
Kuch narm lakiren kajal ki
Ek khoi kadi afsanon ki
Do aankhein raushan-danon ki
Ek surkh dulai got lagi
Kya jaane kab ki chot lagi
Ek chhalla phiki rangat ka
Ek loket dil ki surat ka
Rumal kayi resham se kadhe
Wo khat jo kabhi main ne na padhe
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch ujdi mangen shamon ki
Aawaz shikasta jamon ki
Kuch tukde khali botal ke
Kuch ghungru tuti pael ke
Kuch bikhre tinke chilman ke
Kuch purze apne daman ke
Ye tare kuch tharraye hue
Ye git kabhi ke gaye hue
Kuch sher purani ghazlon ke
Unwan adhuri nazmon ke
Tuti huyi ek ashkon ki ladi
Ek khushk qalam ek band ghadi
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch rishte tute tute se
Kuch sathi chhute chhute se
Kuch bigdi bigdi taswirein
Kuch dhundli dhundli tahrirein
Kuch aansu chhalke chhalke se
Kuch moti dhalke dhalke se
Kuch naqsh ye hairan hairan se
Kuch aks ye larzan larzan se
Kuch ujdi ujdi duniya mein
Kuch bhatki bhatki aashaein
Kuch bikhre bikhre sapne hain
Ye ghair nahi sab apne hain
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain. !!

मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

दो पाँव बने हरियाली पर
एक तितली बैठी डाली पर
कुछ जगमग जुगनू जंगल से
कुछ झूमते हाथी बादल से
ये एक कहानी नींद भरी
इक तख़्त पे बैठी एक परी
कुछ गिन गिन करते परवाने
दो नन्हे नन्हे दस्ताने
कुछ उड़ते रंगीं ग़ुबारे
बब्बू के दुपट्टे के तारे
ये चेहरा बन्नो बूढ़ी का
ये टुकड़ा माँ की चूड़ी का
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

अलसाई हुई रुत सावन की
कुछ सौंधी ख़ुश्बू आँगन की
कुछ टूटी रस्सी झूले की
इक चोट कसकती कूल्हे की
सुलगी सी अँगीठी जाड़ों में
इक चेहरा कितनी आड़ों में
कुछ चाँदनी रातें गर्मी की
इक लब पर बातें नरमी की
कुछ रूप हसीं काशानों का
कुछ रंग हरे मैदानों का
कुछ हार महकती कलियों के
कुछ नाम वतन की गलियों के
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ चाँद चमकते गालों के
कुछ भँवरे काले बालों के
कुछ नाज़ुक शिकनें आँचल की
कुछ नर्म लकीरें काजल की
इक खोई कड़ी अफ़्सानों की
दो आँखें रौशन-दानों की
इक सुर्ख़ दुलाई गोट लगी
क्या जाने कब की चोट लगी
इक छल्ला फीकी रंगत का
इक लॉकेट दिल की सूरत का
रूमाल कई रेशम से कढ़े
वो ख़त जो कभी मैंने न पढ़े
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
में ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ उजड़ी माँगें शामों की
आवाज़ शिकस्ता जामों की
कुछ टुकड़े ख़ाली बोतल के
कुछ घुँगरू टूटी पायल के
कुछ बिखरे तिनके चिलमन के
कुछ पुर्ज़े अपने दामन के
ये तारे कुछ थर्राए हुए
ये गीत कभी के गाए हुए
कुछ शेर पुरानी ग़ज़लों के
उनवान अधूरी नज़्मों के
टूटी हुई इक अश्कों की लड़ी
इक ख़ुश्क क़लम इक बंद घड़ी
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ रिश्ते टूटे टूटे से
कुछ साथी छूटे छूटे से
कुछ बिगड़ी बिगड़ी तस्वीरें
कुछ धुँदली धुँदली तहरीरें
कुछ आँसू छलके छलके से
कुछ मोती ढलके ढलके से
कुछ नक़्श ये हैराँ हैराँ से
कुछ अक्स ये लर्ज़ां लर्ज़ां से
कुछ उजड़ी उजड़ी दुनिया में
कुछ भटकी भटकी आशाएँ
कुछ बिखरे बिखरे सपने हैं
ये ग़ैर नहीं सब अपने हैं
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं !!

-Jan Nisar Akhtar Nazm / Poetry