Tanhaai shayari

Nazar Hairaan Dil Veeran Mera Jee Nahi Lagta..

Nazar hairaan dil veeran mera jee nahi lagta,
Bichar ke tum se meri jaan mera jee nahi lagta.

Koi bhi to nahi hai jo pukaare raah mein mujh ko,
Hoon main be-naam ek insaan mera jee nahi lagta.

Hai ek inbwa qadmon ka rawaan in shahraahon per,
Nahi meri koi pehchaan mera jee nahi lagta.

Jahan milte the hum tum aur jahan mil kar bicharte the,
Na woh dar hai na woh dhalaan mera jee nahi lagta.

Hon pehchane huye chehre to jee ko aas rehti hai,
Hon chehre hijar ke anjaan mera jee nahi lagta.

Yeh sara shehar ek dasht-e-hajoom-e-be-niyazi hai,
Yahan ka shor hai veeraan mera jee nahi lagta.

Woh aalam hai ke jaise main koi hum-naam hoon apna,
Na hirmaan hai na woh darman mera jee nahi lagta.

Kahin sar hai kahin sauda kahin wehshat kahin sehra,
Kahin main hun kahin samaan mera jee nahi lagta.

Mere hi shehar mein mere muhalle mein mere ghar mein,
Bula lo tum koi mehmaan mera jee nahi lagta.

Main tum ko bhool jaaun bhoolne ka dukh na bhulunga,
Nahi hai khel yeh aasaan mera jee nahi lagta.

Koi paimaan poora ho nahi sakta magar phir bhi,
Karo taaza koi paimaan mera jee nahi lagta.

Kuch aisa hai ke jaise main yahan hun ek zindgani,
Hain saare log zindaan baan mera jee nahi Lagta. !!

नज़र हैरान दिल वीरान मेरा जी नहीं लगता,
बिछड़ के तुम से मेरी जान मेरा जी नहीं लगता !

कोई भी तो नहीं है जो पुकारे राह में मुझ को,
हूँ मैं बे-नाम एक इंसान मेरा जी नहीं लगता !

है एक िंबवा क़दमों का रवां इन शाहराहों पर,
नहीं मेरी कोई पहचान मेरा जी नहीं लगता !

जहाँ मिलते थे हम तुम और जहाँ मिल कर बिछड़ते थे,
न वह दर है न वह ढलान मेरा जी नहीं लगता !

हों पहचाने हुए चेहरे तो जी को आस रहती है,
हों चेहरे हिजर के अन्जान मेरा जी नहीं लगता !

यह सारा शहर एक दश्त-इ-हजूम-इ-बे-नियाज़ी है,
यहाँ का शोर है वीरान मेरा जी नहीं लगता !

वह आलम है के जैसे मैं कोई हम-नाम हूँ अपना,
न हिरमान है न वह दरम्यान मेरा जी नहीं लगता !

कहीं सार है कहीं सौदा कहीं वेह्शत कहीं सेहरा,
कहीं मैं हूँ कहीं सामान मेरा जी नहीं लगता !

मेरे ही शहर में मेरे मोहल्ले में मेरे घर में,
बुला लो तुम कोई मेहमान मेरा जी नहीं लगता !

मैं तुम को भूल जाऊं भूलने का दुःख न भूलूंगा,
नहीं है खेल यह आसान मेरा जी नहीं लगता !

कोई पैमान पूरा हो नहीं सकता मगर फिर भी,
करो ताज़ा कोई पैमान मेरा जी नहीं लगता !

कुछ ऐसा है कि जैसे मैं यहाँ हूँ एक ज़िंदगानी,
हैं सारे लोग ज़िन्दाँ बण मेरा जी नहीं लगता !!

-Jaun Elia Ghazal / Poetry

 

Chand Tanha Hai Aasman Tanha..

Chand tanha hai aasman tanha,
Dil mila hai kahan kahan tanha.

Bujh gayi aas chhup gaya tara,
Thartharaata raha dhuan tanha.

Zindagi kya isi ko kahte hain,
Jism tanha hai aur jaan tanha.

Ham-safar koi gar mile bhi kahin,
Donon chalte rahe yahan tanha.

Jalti-bujhti si raushni ke pare,
Simta simta sa ek makan tanha.

Rah dekha karega sadiyon tak,
Chhod jayenge ye jahan tanha. !!

चाँद तन्हा है आसमाँ तन्हा,
दिल मिला है कहाँ कहाँ तन्हा !

बुझ गई आस छुप गया तारा,
थरथराता रहा धुआँ तन्हा !

ज़िंदगी क्या इसी को कहते हैं,
जिस्म तन्हा है और जाँ तन्हा !

हम-सफ़र कोई गर मिले भी कहीं,
दोनों चलते रहे यहाँ तन्हा !

जलती-बुझती सी रौशनी के परे,
सिमटा सिमटा सा इक मकाँ तन्हा !

राह देखा करेगा सदियों तक,
छोड़ जाएँगे ये जहाँ तन्हा !!

-Meena Kumari Naaz Ghazal / Poetry

 

Aalam Hi Aur Tha Jo Shanasaiyon Mein Tha

Aalam hi aur tha jo shanasaiyon mein tha

Aalam hi aur tha jo shanasaiyon mein tha,
Jo deep tha nigaah ki parchhaaiyon mein tha.

Wo be-panaah khauf jo tanhaiyon mein tha,
Dil ki tamaam anjuman-aaraaiyon mein tha.

Ek lamha-e-fusun ne jalaaya tha jo diya,
Phir umar bhar khayaal ki raanaaiyon mein tha.

Ek khwaab-guun si dhoop thi zakhmon ki aanch mein,
Ek saaebaan sa dard ki purwaaiyon mein tha.

Dil ko bhi ek jaraahat-e dil ne ataa kiya,
Ye hausla ki apne tamaashaaiyon mein tha.

katata kahan tavil tha raaton ka silsila,
Suraj meri nigaah ki sachchaaiyon mein tha.

Apni gali mein kyon na kisi ko wo mil saka,
Jo etimaad baadiya-paimaaiyon mein tha.

Is ahd-e-khud-sipaas ka puchho ho maajra,
Masroof aap apni paziraaiyon mein tha.

Us ke huzoor shukr bhi aasaan nahi “Ada“,
Wo jo qareeb-e-jaan meri tanhaaiyon mein tha. !!

आलम ही और था जो शनासियों में था,
जो दीप था निगाह की परछाइयों में था !

वो बे-पनाह ख़ौफ़ जो तन्हाईयों में था,
दिल की तमाम अन्जुमन-अराइयों में था !

एक लम्हा-ए-फुसन ने जलाया था जो दीया,
फिर उम्र भर ख़याल की रानाईयों में था !

एक ख्वाब-गुन सी धूप थी ज़ख़्मों की आँच में,
एक सायबान सा दर्द की पुरवाइयों में था !

दिल को भी एक जरहत-ए-दिल ने अता किया,
ये होंसला की अपने तमाशाइयों में था !

कटता कहाँ तवील था रातों का सिलसिला,
सूरज मेरी निगाह की सच्चाइयों में था !

अपनी गली में क्यों न किसी को वो मिल सका,
जो एतिमाद बडिया-पैमाइयों में था !

इस अहद-ए-खुद-सिपास का पुछो हो माजरा,
मसरूफ आप अपनी पज़ीराइयों में था !

उस के हुज़ूर शुक्र भी आसान नहीं “अदा“,
वो जो क़रीब-ए-जान मेरी तन्हाइयों में था !!

Ho Jayegi Jab Tum Se Shanasaai Zara Aur..

Ho jayegi jab tum se shanasaai zara aur,
Badh jayegi shayed meri tanhaai zara aur.

Kyon khul gaye logon pe meri zaat ke asraar,
Ae kaash ki hoti meri ghraai zara aur.

Phir haath pe zakhmon ke nishan gin na sakoge,
Ye uljhi hui dor jo suljhaai zara aur.

Tardeed to kar sakta tha phailegi magar baat,
Iss taur bhi hogi teri ruswaai zara aur.

Kyon tark-e-taalluq bhi kiya laut bhi aaya?
Achchha tha ki hota jo wo harjaai zara aur.

Hai deep teri yaad ka roshan abhi dil mein,
Ye khauf hai lekin jo hawa aayi zara aur.

Ladna wahin dushman se jahan gher sako tum,
Jeetoge tabhi hogi jo paspaai zara aur.

Badh jayenge kuch aur lahoo bechne waale,
Ho jaaye agar shehar mein mehngaai zara aur.

Ek doobti dhadkan ki sadaa log na sun lein,
Kuch der ko bajne do ye shehnaai zara aur. !!

हो जायेगी जब तुम से शनासाई ज़रा और,
बढ़ जायेगी शायद मेरी तन्हाई ज़रा और !

क्यों खुल गए लोगों पे मेरी ज़ात के असरार,
ऐ काश की होती मेरी गहराई ज़रा और !

फिर हाथ पे ज़ख्मों के निशान गिन न सकोगे,
ये उलझी हुई डोर जो सुलझाई ज़रा और !

तरदीद तो कर सकता था फैलेगी मगर बात,
इस तौर भी होगी तेरी रुसवाई ज़रा और !

क्यों तर्क-ए-ताल्लुक़ भी किया लौट भी आया ?
अच्छा था कि होता जो वो हरजाई ज़रा और !

है दीप तेरी याद का रोशन अभी दिल में,
ये खौफ है लेकिन जो हवा आई ज़रा और !

लड़ना वही दुश्मन से जहाँ घेर सको तुम,
जीतोगे तभी होगी जो पासपाई ज़रा और !

बढ़ जायेंगे कुछ और लहू बेचने वाले,
हो जाए अगर शहर में महंगाई ज़रा और !

एक डूबती धड़कन की सदा लोग न सुन लें,
कुछ देर को बजने दो ये शेहनाई ज़रा और !!

-Aanis Moin Ghazal Collection