Tanha Shayari

Main Takiye Par Sitare Bo Raha Hun..

Main takiye par sitare bo raha hun,
Janm-din hai akela ro raha hun.

Kisi ne jhank kar dekha na dil mein,
Ki main andar se kaisa ho raha hun.

Jo dil par dagh hain pichhli ruton ke,
Unhen ab aansoon se dho raha hun.

Sabhi parchhaiyan hain sath lekin,
Bhari mehafil mein tanha ho raha hun.

Mujhe in nisbaton se kaun samjha,
Main rishte mein kisi ka jo raha hun.

Main chaunk uthta hun aksar baithe baithe,
Ki jaise jagte mein so raha hun.

Kise pane ki khwahish hai ki “Sajid“,
Main rafta rafta khud ko kho raha hun. !!

मैं तकिए पर सितारे बो हा हूँ,
जन्म-दिन है अकेला रो रहा हूँ !

किसी ने झाँक कर देखा न दिल में,
कि मैं अंदर से कैसा हो रहा हूँ !

जो दिल पर दाग़ हैं पिछली रुतों के,
उन्हें अब आँसुओं से धो रहा हूँ !

सभी परछाइयाँ हैं साथ लेकिन,
भरी महफ़िल में तन्हा हो रहा हूँ !

मुझे इन निस्बतों से कौन समझा,
मैं रिश्ते में किसी का जो रहा हूँ !

मैं चौंक उठता हूँ अक्सर बैठे बैठे,
कि जैसे जागते में सो रहा हूँ !

किसे पाने की ख़्वाहिश है कि “साजिद“,
मैं रफ़्ता रफ़्ता ख़ुद को खो रहा हूँ !!

 

Us Ke Dushman Hain Bahut Aadmi Achchha Hoga

Us ke dushman hain bahut aadmi achchha hoga,
Wo bhi meri hi tarah shehar mein tanha hoga.

Itna sach bol ki honton ka tabassum na bujhe,
Raushni khatm na kar aage andhera hoga.

Pyas jis nahr se takrai wo banjar nikli,
Jis ko pichhe kahin chhod aaye wo dariya hoga.

Mere bare mein koi raye to hogi us ki,
Us ne mujh ko bhi kabhi tod ke dekha hoga.

Ek mehfil mein kai mehfilen hoti hain sharik,
Jis ko bhi pas se dekhoge akela hoga. !!

उस के दुश्मन हैं बहुत आदमी अच्छा होगा,
वो भी मेरी ही तरह शहर में तन्हा होगा !

इतना सच बोल कि होंटों का तबस्सुम न बुझे,
रौशनी ख़त्म न कर आगे अँधेरा होगा !

प्यास जिस नहर से टकराई वो बंजर निकली,
जिस को पीछे कहीं छोड़ आए वो दरिया होगा !

मेरे बारे में कोई राय तो होगी उस की,
उस ने मुझ को भी कभी तोड़ के देखा होगा !

एक महफ़िल में कई महफ़िलें होती हैं शरीक,
जिस को भी पास से देखोगे अकेला होगा !!

-Nida Fazli Ghazal / Sad Poetry

 

Tanha Tanha Dukh Jhelenge Mahfil Mahfil gayenge

Tanha tanha dukh jhelenge mahfil mahfil gayenge,
Jab tak aansoo pas rahenge tab tak geet sunayenge.

Tum jo socho wo tum jaano hum to apni kahte hain,
Der na karna ghar aane mein warna ghar kho jayenge.

Bachchon ke chhote hathon ko chand sitare chhune do,
Chaar kitaben padh kar ye bhi hum jaise ho jayenge.

Achchhi surat wale sare patthar-dil hon mumkin hai,
Hum to us din raye denge jis din dhokha khayenge.

Kin rahon se safar hai aasan kaun sa rasta mushkil hai,
Hum bhi jab thak kar baithenge auron ko samjhayenge. !!

तन्हा तन्हा दुख झेलेंगे महफ़िल महफ़िल गाएँगे,
जब तक आँसू पास रहेंगे तब तक गीत सुनाएँगे !

तुम जो सोचो वो तुम जानो हम तो अपनी कहते हैं
देर न करना घर आने में वर्ना घर खो जाएँगे !

बच्चों के छोटे हाथों को चाँद सितारे छूने दो,
चार किताबें पढ़ कर ये भी हम जैसे हो जाएँगे !

अच्छी सूरत वाले सारे पत्थर-दिल हों मुमकिन है,
हम तो उस दिन राय देंगे जिस दिन धोखा खाएँगे !

किन राहों से सफ़र है आसाँ कौन सा रस्ता मुश्किल है,
हम भी जब थक कर बैठेंगे औरों को समझाएँगे !!

-Nida Fazli Sad Poetry/Ghazal

 

Connect With Us On Social Pages >>

All Poets Facebook Pic Connect Us On Social

Like Us On Facebook

All Poets Twitter Pic Connect Us On Social

Follow Us On Twitter

All Poets Pinterest Pic Connect Us On Social

Follow Us On Pinterest

All Poets Instagram Pic Connect Us On Social

Follow Us On Instagram

 

Benaam Sa Ye Dard Thahar Kyun Nahi Jata

Benaam sa ye dard thahar kyun nahi jata,
Jo bit gaya hai wo guzar kyun nahi jata.

Sab kuch to hai kya dhundhti rahti hain nigahen,
Kya baat hai main waqt pe ghar kyun nahi jata.

Wo ek hi chehra to nahi sare jahan mein,
Jo dur hai wo dil se utar kyun nahi jata.

Main apni hi uljhi hui rahon ka tamasha,
Jate hain jidhar sab main udhar kyun nahi jata.

Wo khwab jo barson se na chehra na badan hai,
Wo khwab hawaon mein bikhar kyun nahi jata. !!

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता,
जो बीत गया है वो गुज़र क्यूँ नहीं जाता !

सब कुछ तो है क्या ढूँढती रहती हैं निगाहें,
क्या बात है मैं वक़्त पे घर क्यूँ नहीं जाता !

वो एक ही चेहरा तो नहीं सारे जहाँ में,
जो दूर है वो दिल से उतर क्यूँ नहीं जाता !

मैं अपनी ही उलझी हुई राहों का तमाशा,
जाते हैं जिधर सब मैं उधर क्यूँ नहीं जाता !

वो ख़्वाब जो बरसों से न चेहरा न बदन है,
वो ख़्वाब हवाओं में बिखर क्यूँ नहीं जाता !!

-Nida Fazli Sad Poetry/Ghazal

 

Apni Ruswai Tere Naam Ka Charcha Dekhun..

Apni ruswai tere naam ka charcha dekhun,
Ek zara sher kahun aur main kya kya dekhun.

Nind aa jaye to kya mahfilen barpa dekhun,
Aankh khul jaye to tanhai ka sahra dekhun.

Sham bhi ho gayi dhundla gain aankhen bhi meri,
Bhulne wale main kab tak tera rasta dekhun.

Ek ek kar ke mujhe chhod gayi sab sakhiyan,
Aaj main khud ko teri yaad mein tanha dekhun.

Kash sandal se meri mang ujale aa kar,
Itne ghairon mein wahi hath jo apna dekhun.

Tu mera kuch nahi lagta hai magar jaan-e-hayat,
Jaane kyun tere liye dil ko dhdakna dekhun.

Band kar ke meri aankhen wo shararat se hanse,
Bujhe jaane ka main har roz tamasha dekhun.

Sab ziden us ki main puri karun har baat sunun,
Ek bachche ki tarah se use hansta dekhun.

Mujh pe chha jaye wo barsat ki khushbu ki tarah,
Ang ang apna isi rut mein mahakta dekhun.

Phool ki tarah mere jism ka har lab khul jaye,
Pankhudi pankhudi un honton ka saya dekhun.

Main ne jis lamhe ko puja hai use bas ek bar,
Khwab ban kar teri aankhon mein utarta dekhun.

Tu meri tarah se yakta hai magar mere habib,
Ji mein aata hai koi aur bhi tujh sa dekhun.

Tut jayen ki pighal jayen mere kachche ghade,
Tujh ko main dekhun ki ye aag ka dariya dekhun. !!

अपनी रुस्वाई तेरे नाम का चर्चा देखूँ,
एक ज़रा शेर कहूँ और मैं क्या क्या देखूँ !

नींद आ जाए तो क्या महफ़िलें बरपा देखूँ,
आँख खुल जाए तो तन्हाई का सहरा देखूँ !

शाम भी हो गई धुँदला गईं आँखें भी मेरी,
भूलने वाले मैं कब तक तेरा रस्ता देखूँ !

एक एक कर के मुझे छोड़ गईं सब सखियाँ,
आज मैं ख़ुद को तेरी याद में तन्हा देखूँ !

काश संदल से मेरी माँग उजाले आ कर,
इतने ग़ैरों में वही हाथ जो अपना देखूँ !

तू मेरा कुछ नहीं लगता है मगर जान-ए-हयात,
जाने क्यूँ तेरे लिए दिल को धड़कना देखूँ !

बंद कर के मेरी आँखें वो शरारत से हँसे,
बूझे जाने का मैं हर रोज़ तमाशा देखूँ !

सब ज़िदें उस की मैं पूरी करूँ हर बात सुनूँ,
एक बच्चे की तरह से उसे हँसता देखूँ !

मुझ पे छा जाए वो बरसात की ख़ुश्बू की तरह,
अंग अंग अपना इसी रुत में महकता देखूँ !

फूल की तरह मेरे जिस्म का हर लब खुल जाए,
पंखुड़ी पंखुड़ी उन होंटों का साया देखूँ !

मैं ने जिस लम्हे को पूजा है उसे बस एक बार,
ख़्वाब बन कर तेरी आँखों में उतरता देखूँ !

तू मेरी तरह से यकता है मगर मेरे हबीब,
जी में आता है कोई और भी तुझ सा देखूँ !

टूट जाएँ कि पिघल जाएँ मेरे कच्चे घड़े,
तुझ को मैं देखूँ कि ये आग का दरिया देखूँ !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Pura Dukh Aur Aadha Chand..

Pura dukh aur aadha chand

 

Pura dukh aur aadha chand,
Hijr ki shab aur aisa chand.

Din mein wahshat bahal gayi,
Raat hui aur nikla chand.

Kis maqtal se guzra hoga,
Itna sahma sahma chand.

Yaadon ki aabaad gali mein,
Ghum raha hai tanha chand.

Meri karwat par jag utthe,
Nind ka kitna kachcha chand.

Mere munh ko kis hairat se,
Dekh raha hai bhola chand.

Itne ghane baadal ke pichhe,
Kitna tanha hoga chand.

Aansoo roke nur nahaye,
Dil dariya tan sahra chand.

Itne raushan chehre par bhi,
Sooraj ka hai saya chand.

Jab pani mein chehra dekha,
Tu ne kis ko socha chand ?

Bargad ki ek shakh hata kar,
Jaane kis ko jhanka chand.

Baadal ke resham jhule mein,
Bhor samay tak soya chand.

Raat ke shane par sar rakkhe,
Dekh raha hai sapna chand.

Sukhe patton ke jhurmut par,
Shabnam thi ya nanha chand.

Hath hila kar rukhsat hoga,
Us ki surat hijr ka chand.

Sahra sahra bhatak raha hai,
Apne ishq mein sachcha chand.

Raat ke shayad ek baje hain,
Sota hoga mera chand. !!

पूरा दुख और आधा चाँद,
हिज्र की शब और ऐसा चाँद !

दिन में वहशत बहल गई,
रात हुई और निकला चाँद !

किस मक़्तल से गुज़रा होगा,
इतना सहमा सहमा चाँद !

यादों की आबाद गली में,
घूम रहा है तन्हा चाँद !

मेरी करवट पर जाग उठ्ठे,
नींद का कितना कच्चा चाँद !

मेरे मुँह को किस हैरत से,
देख रहा है भोला चाँद !

इतने घने बादल के पीछे,
कितना तन्हा होगा चाँद !

आँसू रोके नूर नहाए,
दिल दरिया तन सहरा चाँद !

इतने रौशन चेहरे पर भी,
सूरज का है साया चाँद !

जब पानी में चेहरा देखा,
तू ने किस को सोचा चाँद ?

बरगद की एक शाख़ हटा कर,
जाने किस को झाँका चाँद !

बादल के रेशम झूले में,
भोर समय तक सोया चाँद !

रात के शाने पर सर रक्खे,
देख रहा है सपना चाँद !

सूखे पत्तों के झुरमुट पर,
शबनम थी या नन्हा चाँद !

हाथ हिला कर रुख़्सत होगा,
उस की सूरत हिज्र का चाँद !

सहरा सहरा भटक रहा है,
अपने इश्क़ में सच्चा चाँद !

रात के शायद एक बजे हैं,
सोता होगा मेरा चाँद !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Barbaad-E-Mohabbat Ki Dua Sath Liye Ja..

Barbaad-e-mohabbat ki dua sath liye ja,
Tuta hua iqrar-e-wafa sath liye ja.

Ek dil tha jo pahle hi tujhe saunp diya tha,
Ye jaan bhi aye jaan-e-ada sath liye ja.

Tapti hui rahon se tujhe aanch na pahunche,
Diwanon ke ashkon ki ghata sath liye ja.

Shamil hai mera khun-e-jigar teri hina mein,
Ye kam ho to ab khun-e-wafa sath liye ja.

Hum jurm-e-mohabbat ki saza payenge tanha,
Jo tujh se hui ho wo khata sath liye ja. !!

बरबाद-ए-मोहब्बत की दुआ साथ लिए जा,
टूटा हुआ इक़रार-ए-वफ़ा साथ लिए जा !

एक दिल था जो पहले ही तुझे सौंप दिया था,
ये जान भी ऐ जान-ए-अदा साथ लिए जा !

तपती हुई राहों से तुझे आँच न पहुँचे,
दीवानों के अश्कों की घटा साथ लिए जा !

शामिल है मेरा ख़ून-ए-जिगर तेरी हिना में,
ये कम हो तो अब ख़ून-ए-वफ़ा साथ लिए जा !

हम जुर्म-ए-मोहब्बत की सज़ा पाएँगे तन्हा,
जो तुझ से हुई हो वो ख़ता साथ लिए जा !!

 

Parakhna Mat Parakhne Mein Koi Apna Nahi Rahta

Parakhna mat parakhne mein koi apna nahi rahta,
Kisi bhi aaine mein der tak chehra nahi rahta.

Bade logon se milne mein hamesha fasla rakhna,
Jahan dariya samandar me mile dariya nahi rahta.

Hazaron sher mere so gaye kaghaz ki qabron mein,
Ajab maa hun koi baccha mera zinda nahi rahta.

Tumhara shehar to bilkul naye andaz wala hai,
Humare shehar mein bhi koi hum sa nahi rahta.

Mohabbat ek khushbu hai hamesha sath chalti hai,
Koi insan tanhai mein bhi tanha nahi rahta.

Koi badal hare mausam ka phir elaan karta hai,
Khizan ke baagh mein jab ek bhi patta nahi rahta. !!

परखना मत परखने में कोई अपना नहीं रहता,
किसी भी आईने में देर तक चेहरा नहीं रहता !

बडे लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना,
जहां दरिया समन्दर में मिले दरिया नहीं रहता !

हजारों शेर मेरे सो गये कागज की कब्रों में,
अजब मां हूं कोई बच्चा मेरा ज़िन्दा नहीं रहता !

तुम्हारा शहर तो बिल्कुल नये अन्दाज वाला है,
हमारे शहर में भी अब कोई हम सा नहीं रहता !

मोहब्बत एक खुशबू है हमेशा साथ रहती है,
कोई इन्सान तन्हाई में भी कभी तन्हा नहीं रहता !

कोई बादल हरे मौसम का फ़िर ऐलान करता है,
ख़िज़ा के बाग में जब एक भी पत्ता नहीं रहता !! -Bashir Badr Ghazal

 

Main Kab Kehta Hun Woh Accha Bahut Hai..

Main kab kehta hoon woh accha bahut hai

Main kab kehta hun woh accha bahut hai,
Magar usne mujhe chaha bahut hai.

Khuda is shehar ko mehfuz rakhe,
Ye bachchon ki tarah hansta bahut hai.

Main tujhse roz milna chahta hun,
Magar is raah mein khatra bahut hai.

Mera dil baarishon mein phool jaisa,
Ye bachcha raat mein rota bahut hai.

Isey aansoo ka ek qatra na smjho,
Kuaan hai aur ye gehra bahut hai.

Usey shohrat ne tanha kar diya hai,
Samandar hai magar pyasa bahut hai.

Main ek lamhe mein sadiyan dekhta hun,
Tumhare sath ek lamha bahut hai.

Mera hansna zaruri ho gya hai,
Yahan har shakhs sanjida bahut hai. !!

मै कब कहता हूँ वो अच्छा बहुत है,
मगर उसने मुझे चाहा बहुत है !

खुदा इस शहर को महफूज़ रखे,
ये बच्चों की तरह हँसता बहुत है !

मै तुझसे रोज़ मिलना चाहता हूँ,
मगर इस राह में खतरा बहुत है !

मेरा दिल बारिशों में फूल जैसा,
ये बच्चा रात में रोता बहुत है !

इसे आंसू का एक कतरा न समझो,
कुँआ है और ये गहरा बहुत है !

उसे शोहरत ने तनहा कर दिया है,
समंदर है मगर प्यासा बहुत है !

मै एक लम्हे में सदियाँ देखता हूँ,
तुम्हारे साथ एक लम्हा बहुत है !

मेरा हँसना ज़रूरी हो गया है,
यहाँ हर शख्स संजीदा बहुत है !! -Bashir Badr Ghazal

 

Har Koi Dil Ki Hatheli Pe Hai Sahra Rakkhe..

Har koi dil ki hatheli pe hai sahra rakkhe,
Kis ko sairab kare wo kise pyasa rakkhe.

Umar bhar kaun nibhata hai talluq itna,
Aye meri jaan ke dushman tujhe allah rakkhe.

Hum ko achchha nahi lagta koi hamnam tera,
Koi tujh sa ho to phir naam bhi tujh sa rakkhe.

Dil bhi pagal hai ki us shakhs se wabasta hai,
Jo kisi aur ka hone de na apna rakkhe.

Kam nahi tama-e-ibaadat bhi to hirs-e-zar se,
Faqr to wo hai ki jo din na duniya rakkhe.

Hans na itna bhi faqiron ke akele-pan par,
Ja khuda meri tarah tujh ko bhi tanha rakkhe.

Ye qanaat hai itaat hai ki chahat hai “Faraz“,
Hum to raazi hain wo jis haal mein jaisa rakkhe. !!

हर कोई दिल की हथेली पे है सहरा रक्खे,
किस को सैराब करे वो किसे प्यासा रक्खे !

उम्र भर कौन निभाता है तअल्लुक़ इतना,
ऐ मेरी जान के दुश्मन तुझे अल्लाह रक्खे !

हम को अच्छा नहीं लगता कोई हमनाम तेरा,
कोई तुझ सा हो तो फिर नाम भी तुझ सा रक्खे !

दिल भी पागल है कि उस शख़्स से वाबस्ता है,
जो किसी और का होने दे न अपना रक्खे !

कम नहीं तम-ए-इबादत भी तो हिर्स-ए-ज़र से,
फ़क़्र तो वो है कि जो दीन न दुनिया रक्खे !

हँस न इतना भी फ़क़ीरों के अकेले-पन पर,
जा ख़ुदा मेरी तरह तुझ को भी तन्हा रक्खे !

ये क़नाअत है इताअत है कि चाहत है “फ़राज़“,
हम तो राज़ी हैं वो जिस हाल में जैसा रक्खे !!