Tanha Shayari

Apne Diwar-O-Dar Se Puchhte Hain..

Apne Diwar-O-Dar Se Puchhte Hain.. Rahat Indori Shayari !

Apne diwar-o-dar se puchhte hain,
Ghar ke haalat ghar se puchhte hain.

Kyun akele hain qafile wale,
Ek ek humsafar se puchhte hain.

Kya kabhi zindagi bhi dekhenge,
Bas yahi umar bhar se puchhte hain.

Jurm hai khwaab dekhna bhi kya,
Raat bhar chashm-e-tar se puchhte hain.

Ye mulaqat aakhiri to nahi,
Hum judai ke dar se puchhte hain.

Zakhm ka naam phool kaise pada,
Tere dast-e-hunar se puchhte hain.

Kitne jangal hain in makanon mein,
Bas yahi shehar bhar se puchhte hain.

Ye jo diwar hai ye kis ki hai.
Hum idhar wo udhar se puchhte hain.

Hain kanizen bhi is mahal mein kya,
Shah-zadon ke dar se puchhte hain.

Kya kahin qatl ho gaya sooraj,
Raat se raat bhar se puchhte hain.

Kaun waris hai chhanv ka aakhir,
Dhoop mein humsafar se puchhte hain.

Ye kinare bhi kitne sada hain,
Kashtiyon ko bhanwar se puchhte hain.

Wo guzarta to hoga ab tanha,
Ek ek rahguzar se puchhte hain. !!

अपने दीवार-ओ-दर से पूछते हैं,
घर के हालात घर से पूछते हैं !

क्यूँ अकेले हैं क़ाफ़िले वाले,
एक एक हमसफ़र से पूछते हैं !

क्या कभी ज़िंदगी भी देखेंगे,
बस यही उम्र भर से पूछते हैं !

जुर्म है ख़्वाब देखना भी क्या,
रात भर चश्म-ए-तर से पूछते हैं !

ये मुलाक़ात आख़िरी तो नहीं,
हम जुदाई के डर से पूछते हैं !

ज़ख़्म का नाम फूल कैसे पड़ा,
तेरे दस्त-ए-हुनर से पूछते हैं !

कितने जंगल हैं इन मकानों में,
बस यही शहर भर से पूछते हैं !

ये जो दीवार है ये किस की है,
हम इधर वो उधर से पूछते हैं !

हैं कनीज़ें भी इस महल में क्या,
शाह-ज़ादों के डर से पूछते हैं !

क्या कहीं क़त्ल हो गया सूरज,
रात से रात भर से पूछते हैं !

कौन वारिस है छाँव का आख़िर,
धूप में हमसफ़र से पूछते हैं !

ये किनारे भी कितने सादा हैं,
कश्तियों को भँवर से पूछते हैं !

वो गुज़रता तो होगा अब तन्हा,
एक एक रहगुज़र से पूछते हैं !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Ufuq Agarche Pighalta Dikhai Padta Hai..

Ufuq Agarche Pighalta Dikhai Padta Hai.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Ufuq agarche pighalta dikhai padta hai,
Mujhe to dur sawera dikhai padta hai.

Hamare shehar mein bechehra log baste hain,
Kabhi kabhi koi chehra dikhai padta hai.

Chalo ki apni mohabbat sabhi ko bant aayen,
Har ek pyar ka bhukha dikhai padta hai.

Jo apni zat se ek anjuman kaha jaye,
Wo shakhs tak mujhe tanha dikhai padta hai.

Na koi khwaab na koi khalish na koi khumar,
Ye aadmi to adhura dikhai padta hai.

Lachak rahi hain shuaon ki sidhiyan paiham,
Falak se koi utarta dikhai padta hai.

Chamakti ret pe ye ghusl-e-aftab tera,
Badan tamam sunahra dikhai padta hai. !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Tum Ne Bimar-E-Mohabbat Ko Abhi Kya Dekha..

Tum Ne Bimar-E-Mohabbat Ko Abhi Kya Dekha.. Akbar Allahabadi Poetry

Tum ne bimar-e-mohabbat ko abhi kya dekha,
Jo ye kahte hue jate ho ki dekha dekha.

Tifl-e-dil ko mere kya jaane lagi kis ki nazar,
Main ne kambakht ko do din bhi na achchha dekha.

Le gaya tha taraf-e-gor-e-ghariban dil-e-zar,
Kya kahen tum se jo kuch wan ka tamasha dekha.

Wo jo the raunaq-e-abaadi-e-gulzar-e-jahan,
Sar se pa tak unhen khak-e-rah-e-sahra dekha.

Kal talak mehfil-e-ishrat mein jo the sadr-nashin,
Qabr mein aaj unhen be-kas-o-tanha dekha.

Bas-ki nairangi-e-alam pe use hairat thi,
Aaina khak-e-sikandar ko sarapa dekha.

Sar-e-jamshed ke kase mein bhari thi hasrat,
Yas ko moatakif-e-turbat-e-dara dekha. !!

-Akbar Allahabadi Poetry / Ghazals

 

Hum Ne Kati Hain Teri Yaad Mein Raaten Aksar..

Hum Ne Kati Hain Teri Yaad Mein Raaten Aksar.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Hum ne kati hain teri yaad mein raaten aksar,
Dil se guzri hain sitaron ki baraaten aksar.

Aur to kaun hai jo mujh ko tasalli deta,
Haath rakh deti hain dil par teri baaten aksar.

Husn shaista-e-tahzib-e-alam hai shayed,
Gham-zada lagti hain kyun chandni raaten aksar.

Haal kahna hai kisi se to mukhatab hai koi,
Kitni dilchasp hua karti hain baaten aksar.

Ishq rahzan na sahi ishq ke hathon phir bhi,
Hum ne lutti hui dekhi hain baraten aksar.

Hum se ek bar bhi jita hai na jitega koi,
Wo to hum jaan ke kha lete hain maten aksar.

Un se puchho kabhi chehre bhi padhe hain tum ne,
Jo kitabon ki kiya karte hain baaten aksar.

Hum ne un tund-hawaon mein jalaye hain charagh,
Jin hawaon ne ulat di hain bisaten aksar. !!

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर.. “जान निसार अख्तर” कविता हिंदी में !

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर,
दिल से गुज़री हैं सितारों की बरातें अक्सर !

और तो कौन है जो मुझ को तसल्ली देता,
हाथ रख देती हैं दिल पर तेरी बातें अक्सर !

हुस्न शाइस्ता-ए-तहज़ीब-ए-अलम है शायद,
ग़म-ज़दा लगती हैं क्यूँ चाँदनी रातें अक्सर !

हाल कहना है किसी से तो मुख़ातब है कोई,
कितनी दिलचस्प हुआ करती हैं बातें अक्सर !

इश्क़ रहज़न न सही इश्क़ के हाथों फिर भी,
हम ने लुटती हुई देखी हैं बरातें अक्सर !

हम से एक बार भी जीता है न जीतेगा कोई,
वो तो हम जान के खा लेते हैं मातें अक्सर !

उन से पूछो कभी चेहरे भी पढ़े हैं तुम ने,
जो किताबों की किया करते हैं बातें अक्सर !

हम ने उन तुंद-हवाओं में जलाए हैं चराग़,
जिन हवाओं ने उलट दी हैं बिसातें अक्सर !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Main Takiye Par Sitare Bo Raha Hun..

Main takiye par sitare bo raha hun,
Janm-din hai akela ro raha hun.

Kisi ne jhank kar dekha na dil mein,
Ki main andar se kaisa ho raha hun.

Jo dil par dagh hain pichhli ruton ke,
Unhen ab aansoon se dho raha hun.

Sabhi parchhaiyan hain sath lekin,
Bhari mehafil mein tanha ho raha hun.

Mujhe in nisbaton se kaun samjha,
Main rishte mein kisi ka jo raha hun.

Main chaunk uthta hun aksar baithe baithe,
Ki jaise jagte mein so raha hun.

Kise pane ki khwahish hai ki “Sajid“,
Main rafta rafta khud ko kho raha hun. !!

मैं तकिए पर सितारे बो हा हूँ,
जन्म-दिन है अकेला रो रहा हूँ !

किसी ने झाँक कर देखा न दिल में,
कि मैं अंदर से कैसा हो रहा हूँ !

जो दिल पर दाग़ हैं पिछली रुतों के,
उन्हें अब आँसुओं से धो रहा हूँ !

सभी परछाइयाँ हैं साथ लेकिन,
भरी महफ़िल में तन्हा हो रहा हूँ !

मुझे इन निस्बतों से कौन समझा,
मैं रिश्ते में किसी का जो रहा हूँ !

मैं चौंक उठता हूँ अक्सर बैठे बैठे,
कि जैसे जागते में सो रहा हूँ !

किसे पाने की ख़्वाहिश है कि “साजिद“,
मैं रफ़्ता रफ़्ता ख़ुद को खो रहा हूँ !!

 

Us Ke Dushman Hain Bahut Aadmi Achchha Hoga

Us ke dushman hain bahut aadmi achchha hoga,
Wo bhi meri hi tarah shehar mein tanha hoga.

Itna sach bol ki honton ka tabassum na bujhe,
Raushni khatm na kar aage andhera hoga.

Pyas jis nahr se takrai wo banjar nikli,
Jis ko pichhe kahin chhod aaye wo dariya hoga.

Mere bare mein koi raye to hogi us ki,
Us ne mujh ko bhi kabhi tod ke dekha hoga.

Ek mehfil mein kai mehfilen hoti hain sharik,
Jis ko bhi pas se dekhoge akela hoga. !!

उस के दुश्मन हैं बहुत आदमी अच्छा होगा,
वो भी मेरी ही तरह शहर में तन्हा होगा !

इतना सच बोल कि होंटों का तबस्सुम न बुझे,
रौशनी ख़त्म न कर आगे अँधेरा होगा !

प्यास जिस नहर से टकराई वो बंजर निकली,
जिस को पीछे कहीं छोड़ आए वो दरिया होगा !

मेरे बारे में कोई राय तो होगी उस की,
उस ने मुझ को भी कभी तोड़ के देखा होगा !

एक महफ़िल में कई महफ़िलें होती हैं शरीक,
जिस को भी पास से देखोगे अकेला होगा !!

-Nida Fazli Ghazal / Sad Poetry

 

Tanha Tanha Dukh Jhelenge Mahfil Mahfil gayenge

Tanha tanha dukh jhelenge mahfil mahfil gayenge,
Jab tak aansoo pas rahenge tab tak geet sunayenge.

Tum jo socho wo tum jaano hum to apni kahte hain,
Der na karna ghar aane mein warna ghar kho jayenge.

Bachchon ke chhote hathon ko chand sitare chhune do,
Chaar kitaben padh kar ye bhi hum jaise ho jayenge.

Achchhi surat wale sare patthar-dil hon mumkin hai,
Hum to us din raye denge jis din dhokha khayenge.

Kin rahon se safar hai aasan kaun sa rasta mushkil hai,
Hum bhi jab thak kar baithenge auron ko samjhayenge. !!

तन्हा तन्हा दुख झेलेंगे महफ़िल महफ़िल गाएँगे,
जब तक आँसू पास रहेंगे तब तक गीत सुनाएँगे !

तुम जो सोचो वो तुम जानो हम तो अपनी कहते हैं
देर न करना घर आने में वर्ना घर खो जाएँगे !

बच्चों के छोटे हाथों को चाँद सितारे छूने दो,
चार किताबें पढ़ कर ये भी हम जैसे हो जाएँगे !

अच्छी सूरत वाले सारे पत्थर-दिल हों मुमकिन है,
हम तो उस दिन राय देंगे जिस दिन धोखा खाएँगे !

किन राहों से सफ़र है आसाँ कौन सा रस्ता मुश्किल है,
हम भी जब थक कर बैठेंगे औरों को समझाएँगे !!

-Nida Fazli Sad Poetry/Ghazal

 

Connect With Us On Social Pages >>

All Poets Facebook Pic Connect Us On Social

Like Us On Facebook

All Poets Twitter Pic Connect Us On Social

Follow Us On Twitter

All Poets Pinterest Pic Connect Us On Social

Follow Us On Pinterest

All Poets Instagram Pic Connect Us On Social

Follow Us On Instagram

 

Benaam Sa Ye Dard Thahar Kyun Nahi Jata

Benaam sa ye dard thahar kyun nahi jata,
Jo bit gaya hai wo guzar kyun nahi jata.

Sab kuch to hai kya dhundhti rahti hain nigahen,
Kya baat hai main waqt pe ghar kyun nahi jata.

Wo ek hi chehra to nahi sare jahan mein,
Jo dur hai wo dil se utar kyun nahi jata.

Main apni hi uljhi hui rahon ka tamasha,
Jate hain jidhar sab main udhar kyun nahi jata.

Wo khwab jo barson se na chehra na badan hai,
Wo khwab hawaon mein bikhar kyun nahi jata. !!

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता,
जो बीत गया है वो गुज़र क्यूँ नहीं जाता !

सब कुछ तो है क्या ढूँढती रहती हैं निगाहें,
क्या बात है मैं वक़्त पे घर क्यूँ नहीं जाता !

वो एक ही चेहरा तो नहीं सारे जहाँ में,
जो दूर है वो दिल से उतर क्यूँ नहीं जाता !

मैं अपनी ही उलझी हुई राहों का तमाशा,
जाते हैं जिधर सब मैं उधर क्यूँ नहीं जाता !

वो ख़्वाब जो बरसों से न चेहरा न बदन है,
वो ख़्वाब हवाओं में बिखर क्यूँ नहीं जाता !!

-Nida Fazli Sad Poetry/Ghazal

 

Apni Ruswai Tere Naam Ka Charcha Dekhun..

Apni ruswai tere naam ka charcha dekhun,
Ek zara sher kahun aur main kya kya dekhun.

Nind aa jaye to kya mahfilen barpa dekhun,
Aankh khul jaye to tanhai ka sahra dekhun.

Sham bhi ho gayi dhundla gain aankhen bhi meri,
Bhulne wale main kab tak tera rasta dekhun.

Ek ek kar ke mujhe chhod gayi sab sakhiyan,
Aaj main khud ko teri yaad mein tanha dekhun.

Kash sandal se meri mang ujale aa kar,
Itne ghairon mein wahi hath jo apna dekhun.

Tu mera kuch nahi lagta hai magar jaan-e-hayat,
Jaane kyun tere liye dil ko dhdakna dekhun.

Band kar ke meri aankhen wo shararat se hanse,
Bujhe jaane ka main har roz tamasha dekhun.

Sab ziden us ki main puri karun har baat sunun,
Ek bachche ki tarah se use hansta dekhun.

Mujh pe chha jaye wo barsat ki khushbu ki tarah,
Ang ang apna isi rut mein mahakta dekhun.

Phool ki tarah mere jism ka har lab khul jaye,
Pankhudi pankhudi un honton ka saya dekhun.

Main ne jis lamhe ko puja hai use bas ek bar,
Khwab ban kar teri aankhon mein utarta dekhun.

Tu meri tarah se yakta hai magar mere habib,
Ji mein aata hai koi aur bhi tujh sa dekhun.

Tut jayen ki pighal jayen mere kachche ghade,
Tujh ko main dekhun ki ye aag ka dariya dekhun. !!

अपनी रुस्वाई तेरे नाम का चर्चा देखूँ,
एक ज़रा शेर कहूँ और मैं क्या क्या देखूँ !

नींद आ जाए तो क्या महफ़िलें बरपा देखूँ,
आँख खुल जाए तो तन्हाई का सहरा देखूँ !

शाम भी हो गई धुँदला गईं आँखें भी मेरी,
भूलने वाले मैं कब तक तेरा रस्ता देखूँ !

एक एक कर के मुझे छोड़ गईं सब सखियाँ,
आज मैं ख़ुद को तेरी याद में तन्हा देखूँ !

काश संदल से मेरी माँग उजाले आ कर,
इतने ग़ैरों में वही हाथ जो अपना देखूँ !

तू मेरा कुछ नहीं लगता है मगर जान-ए-हयात,
जाने क्यूँ तेरे लिए दिल को धड़कना देखूँ !

बंद कर के मेरी आँखें वो शरारत से हँसे,
बूझे जाने का मैं हर रोज़ तमाशा देखूँ !

सब ज़िदें उस की मैं पूरी करूँ हर बात सुनूँ,
एक बच्चे की तरह से उसे हँसता देखूँ !

मुझ पे छा जाए वो बरसात की ख़ुश्बू की तरह,
अंग अंग अपना इसी रुत में महकता देखूँ !

फूल की तरह मेरे जिस्म का हर लब खुल जाए,
पंखुड़ी पंखुड़ी उन होंटों का साया देखूँ !

मैं ने जिस लम्हे को पूजा है उसे बस एक बार,
ख़्वाब बन कर तेरी आँखों में उतरता देखूँ !

तू मेरी तरह से यकता है मगर मेरे हबीब,
जी में आता है कोई और भी तुझ सा देखूँ !

टूट जाएँ कि पिघल जाएँ मेरे कच्चे घड़े,
तुझ को मैं देखूँ कि ये आग का दरिया देखूँ !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Pura Dukh Aur Aadha Chand..

Pura dukh aur aadha chand

 

Pura dukh aur aadha chand,
Hijr ki shab aur aisa chand.

Din mein wahshat bahal gayi,
Raat hui aur nikla chand.

Kis maqtal se guzra hoga,
Itna sahma sahma chand.

Yaadon ki aabaad gali mein,
Ghum raha hai tanha chand.

Meri karwat par jag utthe,
Nind ka kitna kachcha chand.

Mere munh ko kis hairat se,
Dekh raha hai bhola chand.

Itne ghane baadal ke pichhe,
Kitna tanha hoga chand.

Aansoo roke nur nahaye,
Dil dariya tan sahra chand.

Itne raushan chehre par bhi,
Sooraj ka hai saya chand.

Jab pani mein chehra dekha,
Tu ne kis ko socha chand ?

Bargad ki ek shakh hata kar,
Jaane kis ko jhanka chand.

Baadal ke resham jhule mein,
Bhor samay tak soya chand.

Raat ke shane par sar rakkhe,
Dekh raha hai sapna chand.

Sukhe patton ke jhurmut par,
Shabnam thi ya nanha chand.

Hath hila kar rukhsat hoga,
Us ki surat hijr ka chand.

Sahra sahra bhatak raha hai,
Apne ishq mein sachcha chand.

Raat ke shayad ek baje hain,
Sota hoga mera chand. !!

पूरा दुख और आधा चाँद,
हिज्र की शब और ऐसा चाँद !

दिन में वहशत बहल गई,
रात हुई और निकला चाँद !

किस मक़्तल से गुज़रा होगा,
इतना सहमा सहमा चाँद !

यादों की आबाद गली में,
घूम रहा है तन्हा चाँद !

मेरी करवट पर जाग उठ्ठे,
नींद का कितना कच्चा चाँद !

मेरे मुँह को किस हैरत से,
देख रहा है भोला चाँद !

इतने घने बादल के पीछे,
कितना तन्हा होगा चाँद !

आँसू रोके नूर नहाए,
दिल दरिया तन सहरा चाँद !

इतने रौशन चेहरे पर भी,
सूरज का है साया चाँद !

जब पानी में चेहरा देखा,
तू ने किस को सोचा चाँद ?

बरगद की एक शाख़ हटा कर,
जाने किस को झाँका चाँद !

बादल के रेशम झूले में,
भोर समय तक सोया चाँद !

रात के शाने पर सर रक्खे,
देख रहा है सपना चाँद !

सूखे पत्तों के झुरमुट पर,
शबनम थी या नन्हा चाँद !

हाथ हिला कर रुख़्सत होगा,
उस की सूरत हिज्र का चाँद !

सहरा सहरा भटक रहा है,
अपने इश्क़ में सच्चा चाँद !

रात के शायद एक बजे हैं,
सोता होगा मेरा चाँद !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection