Monday , September 21 2020

Sitare Shayari

Ek Nazar Hi Dekha Tha Shauq Ne Shabab Un Ka..

Ek nazar hi dekha tha shauq ne shabab un ka

Ek nazar hi dekha tha shauq ne shabab un ka,
Din ko yaad hai un ki raat ko hai khwab un ka.

Gir gaye nigahon se phul bhi sitare bhi,
Main ne jab se dekha hai aalam-e-shabab un ka.

Nasehon ne shayad ye baat hi nahi sochi,
Ek taraf hai dil mera ek taraf shabab un ka.

Ai dil un ke chehre tak kis tarah nazar jati,
Nur un ke chehre ka ban gaya hijab un ka.

Ab kahun to main kis se mere dil pe kya guzri,
Dekh kar un aankhon mein dard-e-iztirab un ka.

Hashr ke muqabil mein hashr hi saf-ara hai,
Is taraf junun mera us taraf shabab un ka. !!

एक नज़र ही देखा था शौक़ ने शबाब उन का,
दिन को याद है उन की रात को है ख़्वाब उन का !

गिर गए निगाहों से फूल भी सितारे भी,
मैं ने जब से देखा है आलम-ए-शबाब उन का !

नासेहों ने शायद ये बात ही नहीं सोची,
एक तरफ़ है दिल मेरा एक तरफ़ शबाब उन का !

ऐ दिल उन के चेहरे तक किस तरह नज़र जाती,
नूर उन के चेहरे का बन गया हिजाब उन का !

अब कहूँ तो मैं किस से मेरे दिल पे क्या गुज़री,
देख कर उन आँखों में दर्द-ए-इज़्तिराब उन का !

हश्र के मुक़ाबिल में हश्र ही सफ़-आरा है,
इस तरफ़ जुनूँ मेरा उस तरफ़ शबाब उन का !!

-Jagan Nath Azad Poetry

 

Sitaaron Se Aage Jahan Aur Bhi Hain..

Sitaaron se aage jahan aur bhi hain,
Abhi ishq ke imtihaan aur bhi hain.

Tahi zindagi se nahi ye fazayein,
Yahan saikadon Carvaan aur bhi hain.

Qanaa’at na kar aalam-e-rang-o-buu par,
Chaman aur bhi aashiyaan aur bhi hain.

Agar kho gaya ek nasheman toh kya gham,
Maqaamaat-e-aah-o-fughaan aur bhi hain.

Tu shaaheen hai parwaaz hai kaam tera,
Tere saamne aasmaan aur bhi hain.

Issi roz-o-shab mein ulajh kar na reh jaa,
Ki tere zameen-o-makaan aur bhi hain.

Gaye din ki tanha tha main anjuman mein,
Yahan ab mere raazdaan aur bhi hain. !!

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं,
अभी इश्क के इम्तिहान और भी हैं !

तही ज़िन्दगी से नहीं ये फ़ज़ायें,
यहाँ सैकड़ों कारवाँ और भी हैं !

क़ना’अत न कर आलम-ए-रंग-ओ-बू पर,
चमन और भी, आशियाँ और भी हैं !

अगर खो गया एक नशेमन तो क्या ग़म,
मक़ामात-ए-आह-ओ-फ़ुग़ाँ और भी हैं !

तू शाहीं है परवाज़ है काम तेरा,
तेरे सामने आसमाँ और भी हैं !

इसी रोज़-ओ-शब में उलझ कर न रह जा,
के तेरे ज़मीन-ओ-मकाँ और भी हैं !

गए दिन के तन्हा था मैं अंजुमन में,
यहाँ अब मेरे राज़दाँ और भी हैं !!

-Allama Iqbal Ghazal / Urdu Poetry

 

Chand Sitaron Se Kya Puchu Kab Din Mere Phirte Hain

Chand sitaron se kya puchu kab din mere phirte hain,
Wo to bechare khud hai bhikhari dere-dere phirte hain.

Jin galiyon mein hum ne sukh ki sej pe raatein kaati thi,
Un galiyon mein vyakul hokar saanjh sawere phirte hain.

Roop-saroop ki jot jagana is nagari me jokhim hai,
Chaaro khunt bagule bankar ghor andhere phirte hain.

Jin ke shaam-badan saaye mein mere man sustaya tha,
Ab tak aankhon ke aage wo bal ghanere phirte hain.

Koi hume bhi ye samjha do un par dil kyo reejh gaya,
Tikhi chitwan baanki chhab wale bahutere phirte hai.

Is nagri mein baag aur van ki yaaron leela nyari hai,
Panchi apne sar pe uthaakar apne basere phirte hain.

Log daman si lete hai jaise ho ji lete hai,
Abid” hum deewane hai jo baal bikhere phirte hain. !!

चाँद सितारों से क्या पूछूं कब दिन मेरे फिरते हैं,
वो तो बेचारे खुद है भिखारी डेरे-डेरे फिरते हैं !

जिन गलियों में हम ने सुख की सेज पे रातें काटी थी,
उन गलियों में व्याकुल होकर साँझ सवेरे फिरते हैं !

रूप-सरूप की जोत जगाना इस नगरी में जोखिम है,
चारो खूंट बगुले बनकर घोर अँधेरे फिरते हैं !

जिन के शाम-बदन साये में मेरे मन सुस्ताया था,
अब तक आँखों के आगे वो बल घनेरे फिरते हैं !

कोई हमे भी ये समझा दो उन पर दिल क्यों रीझ गया,
तीखी चितवन बाँकी छब वाले बहुतेरे फिरते है !

इस नगरी में बाग़ और वन की यारों लीला न्यारी है,
पंछी अपने सर पे उठाकर अपने बसेरे फिरते हैं !

लोग दमन सी लेते है जैसे हो जी लेते है,
आबिद” हम दीवाने है जो बाल बिखेरे फिरते हैं !!