Thursday , November 26 2020

Shajar Shayari

Jo Ye Har Su Falak Manzar Khade Hain..

Jo Ye Har Su Falak Manzar Khade Hain.. Rahat Indori Shayari !

Jo ye har su falak manzar khade hain,
Na jaane kis ke pairon par khade hain.

Tula hai dhoop barsane pe sooraj,
Shajar bhi chhatriyan le kar khade hain.

Unhen naamon se main pahchanta hun,
Mere dushman mere andar khade hain.

Kisi din chaand nikla tha yahan se,
Ujale aaj tak chhat par khade hain.

Ujala sa hai kuch kamre ke andar,
Zameen-o-asman bahar khade hain. !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Sath Manzil Thi Magar Khauf-O-Khatar Aisa Tha..

Sath Manzil Thi Magar Khauf-O-Khatar Aisa Tha.. Rahat Indori Shayari !

Sath manzil thi magar khauf-o-khatar aisa tha,
Umar bhar chalte rahe log safar aisa tha.

Jab wo aaye to main khush bhi hua sharminda bhi,
Meri taqdir thi aisi mera ghar aisa tha.

Hifz thi mujh ko bhi chehron ki kitabein kya kya,
Dil shikasta tha magar tez nazar aisa tha.

Aag odhe tha magar bant raha tha saaya,
Dhoop ke shehar mein ek tanha shajar aisa tha.

Log khud apne charaghon ko bujha kar soye,
Shehar mein tez hawaon ka asar aisa tha. !!

साथ मंज़िल थी मगर ख़ौफ़-ओ-ख़तर ऐसा था,
उम्र भर चलते रहे लोग सफ़र ऐसा था !

जब वो आए तो मैं ख़ुश भी हुआ शर्मिंदा भी,
मेरी तक़दीर थी ऐसी मेरा घर ऐसा था !

हिफ़्ज़ थीं मुझ को भी चेहरों की किताबें क्या क्या,
दिल शिकस्ता था मगर तेज़ नज़र ऐसा था !

आग ओढ़े था मगर बाँट रहा था साया,
धूप के शहर में एक तन्हा शजर ऐसा था !

लोग ख़ुद अपने चराग़ों को बुझा कर सोए,
शहर में तेज़ हवाओं का असर ऐसा था !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Likha Hai Mujh Ko Bhi Likhna Pada Hai

Likha hai mujh ko bhi likhna pada hai,
Jahan se hashiya chhoda gaya hai.

Agar manus hai tum se parinda,
To phir udne ko par kyun tolta hai.

Kahin kuch hai kahin kuch hai kahin kuch,
Mera saman sab bikhra hua hai.

Main ja baithun kisi bargad ke niche,
Sukun ka bas yahi ek rasta hai.

Qayamat dekhiye meri nazar se,
Sawa neze pe suraj aa gaya hai.

Shajar jaane kahan ja kar lagega,
Jise dariya baha kar le gaya hai.

Abhi to ghar nahi chhoda hai maine,
Ye kis ka naam takhti par likha hai.

Bahut roka hai is ko pattharon ne,
Magar pani ko rasta mil gaya hai. !!

लिखा है मुझ को भी लिखना पड़ा है,
जहाँ से हाशिया छोड़ा गया है !

अगर मानूस है तुम से परिंदा ,
तो फिर उड़ने को पर क्यूँ तोलता है !

कहीं कुछ है कहीं कुछ है कहीं कुछ,
मेरा सामान सब बिखरा हुआ है !

मैं जा बैठूँ किसी बरगद के नीचे,
सुकूँ का बस यही एक रास्ता है !

क़यामत देखिए मेरी नज़र से,
सवा नेज़े पे सूरज आ गया है !

शजर जाने कहाँ जा कर लगेगा,
जिसे दरिया बहा कर ले गया है !

अभी तो घर नहीं छोड़ा है मैंने,
ये किस का नाम तख़्ती पर लिखा है !

बहुत रोका है इस को पत्थरों ने,
मगर पानी को रास्ता मिल गया है !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

Shajar Hain Ab Samar Asar Mere..

Shajar hain ab samar asar mere,
Chale aate hain dawedar mere.

Muhajir hain na ab ansar mere,
Mukhalif hain bahut is bar mere.

Yahan ek bund ka mohtaj hun main,
Samundar hain samundar par mere.

Abhi murdon mein ruhen phunk dalen,
Agar chahen to ye bimar mere.

Hawayen odh kar soya tha dushman,
Gaye bekar sare war mere.

Main aa kar dushmanon mein bas gaya hun,
Yahan hamdard hain do-chaar mere.

Hansi mein taal dena tha mujhe bhi,
Khata kyun ho gaye sarkar mere.

Tasawwur mein na jaane kaun aaya,
Mahak uthe dar-o-diwar mere.

Tumhara naam duniya jaanti hai,
Bahut ruswa hain ab ashaar mere.

Bhanwar mein ruk gayi hai naav meri,
Kinare rah gaye us paar mere.

Main khud apni hifazat kar raha hun,
Abhi soye hain pehredar mere. !!

शजर हैं अब समर-आसार मेरे,
चले आते हैं दावेदार मेरे !

मुहाजिर हैं न अब अंसार मेरे,
मुख़ालिफ़ हैं बहुत इस बार मेरे !

यहाँ इक बूँद का मुहताज हूँ मैं,
समुंदर हैं समुंदर पार मेरे !

अभी मुर्दों में रूहें फूँक डालें,
अगर चाहें तो ये बीमार मेरे !

हवाएँ ओढ़ कर सोया था दुश्मन,
गए बेकार सारे वार मेरे !

मैं आ कर दुश्मनों में बस गया हूँ,
यहाँ हमदर्द हैं दो-चार मेरे !

हँसी में टाल देना था मुझे भी,
ख़ता क्यूँ हो गए सरकार मेरे !

तसव्वुर में न जाने कौन आया,
महक उट्ठे दर-ओ-दीवार मेरे !

तुम्हारा नाम दुनिया जानती है,
बहुत रुस्वा हैं अब अशआर मेरे !

भँवर में रुक गई है नाव मेरी,
किनारे रह गए उस पार मेरे !

मैं ख़ुद अपनी हिफ़ाज़त कर रहा हूँ,
अभी सोए हैं पहरे-दार मेरे !! -Rahat Indori Ghazal