Shaam Shayari

Ped Ke Patton Mein Halchal Hai Khabar-Dar Se Hain..

Ped Ke Patton Mein Halchal Hai Khabar-Dar Se Hain.. Gulzar Poetry !

Ped ke patton mein halchal hai khabar-dar se hain,
Shaam se tez hawa chalne ke aasar se hain.

Nakhuda dekh raha hai ki main girdab mein hun,
Aur jo pul pe khade log hain akhbaar se hain.

Chadhte sailab mein sahil ne to munh dhanp liya,
Log pani ka kafan lene ko tayyar se hain.

Kal tawarikh mein dafnaye gaye the jo log,
Un ke saye abhi darwazon pe bedar se hain.

Waqt ke tir to sine pe sambhaale hum ne,
Aur jo nil pade hain teri guftar se hain.

Ruh se chhile hue jism jahan bikte hain,
Hum ko bhi bech de hum bhi usi bazaar se hain.

Jab se wo ahl-e-siyasat mein hue hain shamil,
Kuch adu ke hain to kuch mere taraf-dar se hain. !! -Gulzar Poetry

पेड़ के पत्तों में हलचल है ख़बर-दार से हैं,
शाम से तेज़ हवा चलने के आसार से हैं !

नाख़ुदा देख रहा है कि मैं गिर्दाब में हूँ,
और जो पुल पे खड़े लोग हैं अख़बार से हैं !

चढ़ते सैलाब में साहिल ने तो मुँह ढाँप लिया,
लोग पानी का कफ़न लेने को तय्यार से हैं !

कल तवारीख़ में दफ़नाए गए थे जो लोग,
उन के साए अभी दरवाज़ों पे बेदार से हैं !

वक़्त के तीर तो सीने पे सँभाले हम ने,
और जो नील पड़े हैं तेरी गुफ़्तार से हैं !

रूह से छीले हुए जिस्म जहाँ बिकते हैं,
हम को भी बेच दे हम भी उसी बाज़ार से हैं !

जब से वो अहल-ए-सियासत में हुए हैं शामिल,
कुछ अदू के हैं तो कुछ मेरे तरफ़-दार से हैं !! -गुलज़ार कविता

 

Shaam Se Aaj Saans Bhaari Hai..

Shaam Se Aaj Saans Bhaari Hai.. Gulzar Poetry !

Shaam se aaj saans bhaari hai,
Beqarari si beqarari hai.

Aap ke baad har ghadi hum ne,
Aap ke saath hi guzari hai.

Raat ko de do chandni ki rida,
Din ki chadar abhi utari hai.

Shakh par koi qahqaha to khile,
Kaisi chup si chaman mein tari hai.

Kal ka har waqia tumhaara tha,
Aaj ki dastan hamari hai. !! -Gulzar Poetry

शाम से आज साँस भारी है,
बेक़रारी सी बेक़रारी है !

आप के बाद हर घड़ी हम ने,
आप के साथ ही गुज़ारी है !

रात को दे दो चाँदनी की रिदा,
दिन की चादर अभी उतारी है !

शाख़ पर कोई क़हक़हा तो खिले,
कैसी चुप सी चमन में तारी है !

कल का हर वाक़िया तुम्हारा था,
आज की दास्ताँ हमारी है !! -गुलज़ार कविता

 

Sham Se Aankh Mein Nami Si Hai..

Sham Se Aankh Mein Nami Si Hai.. Gulzar Ghazal !

Sham Se Aankh Mein Nami Si Hai

 

Sham se aankh mein nami si hai,
Aaj phir aap ki kami si hai.

Dafan kar do hamein ki sans aaye,
Nabz kuch der se thami si hai.

Waqt rahta nahi kahin thamkar,
Is ki aadat bhi aadmi si hai.

Koi rishta nahi raha phir bhi,
Ek taslim laazmi si hai.

Kaun pathra gaya hai aankhon mein,
Barf palkon pe kyun jami si hai.

Aaiye raste alag kar len,
Ye zarurat bhi bahami si hai. !!

शाम से आँख में नमी सी है,
आज फिर आप की कमी सी है !

दफ़्न कर दो हमें कि साँस आए,
नब्ज़ कुछ देर से थमी सी है !

वक़्त रहता नहीं कहीं थमकर,
इस की आदत भी आदमी सी है !

कोई रिश्ता नहीं रहा फिर भी,
एक तस्लीम लाज़मी सी है !

कौन पथरा गया है आँखों में,
बर्फ़ पलकों पे क्यूँ जमी सी है !

आइए रास्ते अलग कर लें,
ये ज़रूरत भी बाहमी सी है !!

– Gulzar Poetry / Ghazal / Shayari / Nazm

 

Sham Ne Jab Palkon Pe Aatish Dan Liya..

Sham Ne Jab Palkon Pe Aatish Dan Liya.. Rahat Indori Shayari !

Sham ne jab palkon pe aatish dan liya,
Kuch yaadon ne chutki mein loban liya.

Darwazon ne apni aankhen nam kar li,
Diwaron ne apna sina tan liya.

Pyas to apni sat samundar jaisi thi,
Nahaq hum ne barish ka ehsan liya.

Main ne talwon se bandhi thi chhanv magar,
Shayad mujh ko sooraj ne pahchan liya.

Kitne sukh se dharti odh ke soye hain,
Hum ne apni man ka kahna man liya. !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Tumhein Jab Kabhi Milen Fursaten Mere Dil Se Bojh Utar Do

Tumhein jab kabhi milen fursaten mere dil se bojh utar do,
Main bahut dinon se udaas hun mujhe koi shaam udhaar do.

Mujhe apne rup ki dhup do ki chamak saken mere khal-o-khad,
Mujhe apne rang mein rang do mere sare rang utar do.

Kisi aur ko mere haal se na gharaz hai koi na wasta,
Main bikhar gaya hun samet lo main bigad gaya hun sanwar do. !!

तुम्हें जब कभी मिलें फ़ुर्सतें मेरे दिल से बोझ उतार दो,
मैं बहुत दिनों से उदास हूँ मुझे कोई शाम उधार दो !

मुझे अपने रूप की धूप दो कि चमक सकें मेरे ख़ाल-ओ-ख़द,
मुझे अपने रंग में रंग दो मेरे सारे रंग उतार दो !

किसी और को मेरे हाल से न ग़रज़ है कोई न वास्ता,
मैं बिखर गया हूँ समेट लो मैं बिगड़ गया हूँ सँवार दो !!

-Aitbar Sajid Ghazal / Urdu Poetry

 

Ab Bhala Chhod Ke Ghar Kya Karte..

Ab bhala chhod ke ghar kya karte,
Sham ke waqt safar kya karte.

Teri masrufiyaten jante hain,
Apne aane ki khabar kya karte.

Jab sitare hi nahi mil paye,
Le ke hum shams-o-qamar kya karte.

Wo musafir hi khuli dhup ka tha,
Saye phaila ke shajar kya karte.

Khak hi awwal o aakhir thahri,
Kar ke zarre ko guhar kya karte.

Rae pahle se bana li tu ne,
Dil mein ab hum tere ghar kya karte.

Ishq ne sare saliqe bakhshe,
Husn se kasb-e-hunar kya karte. !!

अब भला छोड़ के घर क्या करते,
शाम के वक़्त सफ़र क्या करते !

तेरी मसरूफ़ियतें जानते हैं,
अपने आने की ख़बर क्या करते !

जब सितारे ही नहीं मिल पाए,
ले के हम शम्स-ओ-क़मर क्या करते !

वो मुसाफ़िर ही खुली धूप का था,
साए फैला के शजर क्या करते !

ख़ाक ही अव्वल ओ आख़िर ठहरी,
कर के ज़र्रे को गुहर क्या करते !

राय पहले से बना ली तू ने,
दिल में अब हम तेरे घर क्या करते !

इश्क़ ने सारे सलीक़े बख़्शे,
हुस्न से कस्ब-ए-हुनर क्या करते !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Kabhi To Aasman Se Chaand Utre Jaam Ho Jaye..

Kabhi to aasman se chaand utre jaam ho jaye,
Tumhare naam ki ek khoobsurat shaam ho jaye.

Humara dil sawere ka sunehra jaam ho jaye,
Charaaghon ki tarah aankhein jalein jab shaam ho jaye.

Ajab halaat the yun dil ka sauda ho gaya aakhir,
Mohabbat ki haveli jis tarah neelam ho jaye.

Samandar ke safar mein iss tarah aawaaz do humko,
Hawaayein tez hon aur kashtiyon mein shaam ho jaye.

Main khud bhi ehtiyaatan uss gali se kam guzarta hun,
Koi masoom kyun mere liye badnaam ho jaye.

Mujhe malum hai uss ka thikana phir kahan hoga,
Parinda aasmaan chhune mein jab nakaam ho jaye,

Ujaale apni yaadon ke humare saath rahne do,
Na jane kis gali mein zindagi ki shaam ho jaye. !!

कभी तो आसमाँ से चांद उतरे जाम हो जाये,
तुम्हारे नाम की एक ख़ूबसूरत शाम हो जाये !

हमारा दिल सवेरे का सुनहरा जाम हो जाये,
चराग़ों की तरह आँखें जलें जब शाम हो जाये !

अजब हालात थे यूँ दिल का सौदा हो गया आख़िर,
मोहब्बत की हवेली जिस तरह नीलाम हो जाये !

समंदर के सफ़र में इस तरह आवाज़ दो हमको,
हवाएँ तेज़ हों और कश्तियों में शाम हो जाये !

मैं ख़ुद भी एहतियातन उस गली से कम गुज़रता हूँ,
कोई मासूम क्यों मेरे लिये बदनाम हो जाये !

मुझे मालूम है उस का ठिकाना फिर कहाँ होगा,
परिंदा आसमाँ छूने में जब नाकाम हो जाये !

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो,
न जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाये !! -Bashir Badr Ghazal

 

Ajab Talash-E-Musalsal Ka Ikhtitam Hua..

Ajab talash-e-musalsal ka ikhtitam hua,
Husul-e-rizq hua bhi to zer-e-dam hua.

Tha intezaar manayenge mil ke diwali,
Na tum hi laut ke aaye na waqt-e-sham hua.

Har ek shahr ka mear mukhtalif dekha,
Kahin pe sar kahin pagdi ka ehtiram hua.

Zara si umar adawat ki lambi fehristen,
Ajib qarz wirasat mein mere naam hua.

Na thi zamin mein wusat meri nazar jaisi,
Badan thaka bhi nahi aur safar tamam hua.

Hum apne sath liye phir rahe hain pachhtawa,
Khayal laut ke jaane ka gam gam hua. !!

अजब तलाश-ए-मुसलसल का इख़्तिताम हुआ,
हुसूल-ए-रिज़्क़ हुआ भी तो ज़ेर-ए-दाम हुआ !

था इंतिज़ार मनाएँगे मिल के दीवाली,
न तुम ही लौट के आए न वक़्त-ए-शाम हुआ !

हर एक शहर का मेआर मुख़्तलिफ़ देखा,
कहीं पे सर कहीं पगड़ी का एहतिराम हुआ !

ज़रा सी उम्र अदावत की लम्बी फ़ेहरिस्तें,
अजीब क़र्ज़ विरासत में मेरे नाम हुआ !

न थी ज़मीन में वुसअत मेरी नज़र जैसी,
बदन थका भी नहीं और सफ़र तमाम हुआ !

हम अपने साथ लिए फिर रहे हैं पछतावा,
ख़याल लौट के जाने का गाम गाम हुआ !!

-Aanis Moin Ghazal / Poetry

 

Ujad Ujad Ke Sanwarti Hai Tere Hijr Ki Sham..

Ujad ujad ke sanwarti hai tere hijr ki sham,
Na puchh kaise guzarti hai tere hijr ki sham.

Ye barg barg udasi bikhar rahi hai meri,
Ki shakh shakh utarti hai tere hijr ki sham.

Ujad ghar mein koi chand kab utarta hai,
Sawal mujh se ye karti hai tere hijr ki sham.

Mere safar mein ek aisa bhi mod aata hai,
Jab apne aap se darti hai tere hijr ki sham.

Bahut aziz hain dil ko ye zakhm zakhm ruten,
Inhi ruton mein nikharti hai tere hijr ki sham.

Ye mera dil ye sarasar nigar-khana-e-gham,
Sada isi mein utarti hai tere hijr ki sham.

Jahan jahan bhi milen teri qurbaton ke nishan,
Wahan wahan se ubharti hai tere hijr ki sham.

Ye hadisa tujhe shayad udas kar dega,
Ki mere sath hi marti hai tere hijr ki sham. !!

उजड़ उजड़ के सँवरती है तेरे हिज्र की शाम,
न पूछ कैसे गुज़रती है तेरे हिज्र की शाम !

ये बर्ग बर्ग उदासी बिखर रही है मेरी,
कि शाख़ शाख़ उतरती है तेरे हिज्र की शाम !

उजाड़ घर में कोई चाँद कब उतरता है,
सवाल मुझ से ये करती है तेरे हिज्र की शाम !

मेरे सफ़र में एक ऐसा भी मोड़ आता है,
जब अपने आप से डरती है तेरे हिज्र की शाम !

बहुत अज़ीज़ हैं दिल को ये ज़ख़्म ज़ख़्म रुतें,
इन्ही रुतों में निखरती है तेरे हिज्र की शाम !

ये मेरा दिल ये सरासर निगार-खाना-ए-ग़म,
सदा इसी में उतरती है तेरे हिज्र की शाम !

जहाँ जहाँ भी मिलें तेरी क़ुर्बतों के निशाँ,
वहाँ वहाँ से उभरती है तेरे हिज्र की शाम !

ये हादिसा तुझे शायद उदास कर देगा,
कि मेरे साथ ही मरती है तेरे हिज्र की शाम !!

-Mohsin Naqvi Ghazal / Poetry

 

Bhadkaye Meri Pyas Ko Aksar Teri Aankhen..

Bhadkaye meri pyas ko aksar teri aankhen,
Sahra mera chehra hai samundar teri aankhen.

Phir kaun bhala dad-e-tabassum unhen dega,
Roengi bahut mujh se bichhad kar teri aankhen.

Khali jo hui sham-e-ghariban ki hatheli,
Kya-kya na lutati rahin gauhar teri aankhen.

Bojhal nazar aati hain ba-zahir mujhe lekin,
Khulti hain bahut dil mein utar kar teri aankhen.

Ab tak meri yaadon se mitaye nahi mitta,
Bhigi hui ek sham ka manzar teri aankhen.

Mumkin ho to ek taza ghazal aur bhi kah lun,
Phir odh na len khwab ki chadar teri aankhen.

Main sang-sifat ek hi raste mein khada hun,
Shayad mujhe dekhengi palat kar teri aankhen.

Yun dekhte rahna use achchha nahi “Mohsin“,
Wo kanch ka paikar hai to patthar teri aankhen. !!

भड़काएँ मेरी प्यास को अक्सर तेरी आँखें,
सहरा मेरा चेहरा है समुंदर तेरी आँखें !

फिर कौन भला दाद-ए-तबस्सुम उन्हें देगा,
रोएँगी बहुत मुझ से बिछड़ कर तेरी आँखें !

ख़ाली जो हुई शाम-ए-ग़रीबाँ की हथेली,
क्या-क्या न लुटाती रहीं गौहर तेरी आँखें !

बोझल नज़र आती हैं ब-ज़ाहिर मुझे लेकिन,
खुलती हैं बहुत दिल में उतर कर तेरी आँखें !

अब तक मेरी यादों से मिटाए नहीं मिटता,
भीगी हुई एक शाम का मंज़र तेरी आँखें !

मुमकिन हो तो एक ताज़ा ग़ज़ल और भी कह लूँ,
फिर ओढ़ न लें ख़्वाब की चादर तेरी आँखें !

मैं संग-सिफ़त एक ही रस्ते में खड़ा हूँ,
शायद मुझे देखेंगी पलट कर तेरी आँखें !

यूँ देखते रहना उसे अच्छा नहीं “मोहसिन“,
वो काँच का पैकर है तो पत्थर तेरी आँखें !!