Tuesday , September 29 2020

Saqi Poetry

Rang-E-Sharab Se Meri Niyyat Badal Gayi

Rang-e-sharab se meri niyyat badal gayi,
Waiz ki baat rah gayi saqi ki chal gayi.

Tayyar the namaz pe hum sun ke zikr-e-hur,
Jalwa buton ka dekh ke niyyat badal gayi.

Machhli ne dhil payi hai luqme pe shad hai,
Sayyaad mutmain hai ki kanta nigal gayi.

Chamka tera jamal jo mehfil mein waqt-e-sham,
Parwana be-qarar hua shama jal gayi.

Uqba ki baz-purs ka jata raha khayal,
Duniya ki lazzaton mein tabiat bahal gayi.

Hasrat bahut taraqqi-e-dukhtar ki thi unhen,
Parda jo uth gaya to wo aakhir nikal gayi. !!

रंग-ए-शराब से मेरी निय्यत बदल गई,
वाइज़ की बात रह गई साक़ी की चल गई !

तय्यार थे नमाज़ पे हम सुन के ज़िक्र-ए-हूर,
जल्वा बुतों का देख के निय्यत बदल गई !

मछली ने ढील पाई है लुक़्मे पे शाद है,
सय्याद मुतमइन है कि काँटा निगल गई !

चमका तेरा जमाल जो महफ़िल में वक़्त-ए-शाम,
परवाना बे-क़रार हुआ शमा जल गई !

उक़्बा की बाज़-पुर्स का जाता रहा ख़याल,
दुनिया की लज़्ज़तों में तबीअत बहल गई !

हसरत बहुत तरक़्क़ी-ए-दुख़्तर की थी उन्हें,
पर्दा जो उठ गया तो वो आख़िर निकल गई !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Hans Hans Ke Jaam Jaam Ko Chhalka Ke Pi Gaya..

Hans hans ke jaam jaam ko chhalka ke pi gaya,
Wo khud pila rahe the main lahra ke pi gaya.

Tauba ke tutne ka bhi kuchh kuchh malal tha,
Tham tham ke soch soch ke sharma ke pi gaya.

Saghar-ba-dast baithi rahi meri aarzoo,
Saqi shafaq se jaam ko takra ke pi gaya.

Wo dushmanon ke tanz ko thukra ke pi gaye,
Main doston ke ghaiz ko bhadka ke pi gaya.

Sadha mutalibaat ke baad ek jaam-e-talkh,
Duniya-e-jabr-o-sabr ko dhadka ke pi gaya.

Sau bar laghzishon ki kasam kha ke chhod di,
Sau bar chhodne ki kasam kha ke pi gaya.

Pita kahan tha subh-e-azal main bhala “Adam“,
Saqi ke etibar pe lahra ke pi gaya. !!

हँस हँस के जाम जाम को छलका के पी गया,
वो ख़ुद पिला रहे थे मैं लहरा के पी गया !

तौबा के टूटने का भी कुछ कुछ मलाल था,
थम थम के सोच सोच के शर्मा के पी गया !

साग़र-ब-दस्त बैठी रही मेरी आरज़ू,
साक़ी शफ़क़ से जाम को टकरा के पी गया !

वो दुश्मनों के तंज़ को ठुकरा के पी गए,
मैं दोस्तों के ग़ैज़ को भड़का के पी गया !

सदहा मुतालिबात के बाद एक जाम-ए-तल्ख़,
दुनिया-ए-जब्र-ओ-सब्र को धड़का के पी गया !

सौ बार लग़्ज़िशों की क़सम खा के छोड़ दी,
सौ बार छोड़ने की क़सम खा के पी गया !

पीता कहाँ था सुब्ह-ए-अज़ल मैं भला “अदम“,
साक़ी के एतिबार पे लहरा के पी गया !!

 

Aaj Phir Ruh Mein Ek Barq Si Lahraati Hai..

Aaj phir ruh mein ek barq si lahraati hai,
Dil ki gahrai se rone ki sada aati hai.

Yun chatakti hain kharabaat mein jaise kaliyan,
Tishnagi saghar-e-labrez se takraati hai.

Shola-e-gham ki lapak aur mera nazuk sa mizaj,
Mujh ko fitrat ke rawayye pe hansi aati hai.

Maut ek amr-e-musallam hai to phir aye saqi,
Ruh kyun zist ke aalam se ghabraati hai.

So bhi ja aye dil-e-majruh bahut raat gayi,
Ab to rah rah ke sitaron ko bhi nind aati hai.

Aur to dil ko nahi hai koi taklif “Adam“,
Han zara nabz kisi waqt thahar jati hai. !!

आज फिर रूह में एक बर्क़ सी लहराती है,
दिल की गहराई से रोने की सदा आती है !

यूँ चटकती हैं ख़राबात में जैसे कलियाँ,
तिश्नगी साग़र-ए-लबरेज़ से टकराती है !

शोला-ए-ग़म की लपक और मेरा नाज़ुक सा मिज़ाज,
मुझ को फ़ितरत के रवय्ये पे हँसी आती है !

मौत एक अम्र-ए-मुसल्लम है तो फिर ऐ साक़ी,
रूह क्यूँ ज़ीस्त के आलाम से घबराती है !

सो भी जा ऐ दिल-ए-मजरूह बहुत रात गई,
अब तो रह रह के सितारों को भी नींद आती है !

और तो दिल को नहीं है कोई तकलीफ़ “अदम“,
हाँ ज़रा नब्ज़ किसी वक़्त ठहर जाती है !!

 

Halka Halka Surur Hai Saqi..

Halka halka surur hai saqi,
Baat koi zarur hai saqi.

Teri aankhon ko kar diya sajda,
Mera pahla qusur hai saqi,

Tere rukh par hai ye pareshani,
Ek andhere mein nur hai saqi.

Teri aankhen kisi ko kya dengi,
Apna apna surur hai saqi.

Pine walon ko bhi nahi malum,
Mai-kada kitni dur hai saqi. !!

हल्का हल्का सुरूर है साक़ी,
बात कोई ज़रूर है साक़ी !

तेरी आँखों को कर दिया सज्दा,
मेरा पहला क़ुसूर है साक़ी !

तेरे रुख़ पर है ये परेशानी,
एक अँधेरे में नूर है साक़ी !

तेरी आँखें किसी को क्या देंगी,
अपना अपना सुरूर है साक़ी !

पीने वालों को भी नहीं मालूम,
मय-कदा कितनी दूर है साक़ी !!

-Abdul Hamid Adam Ghazal / Poetry

 

Matlab Muamalat Ka Kuchh Pa Gaya Hun Main..

Matlab muamalat ka kuchh pa gaya hun main,
Hans kar fareb-e-chashm-e-karam kha gaya hun main.

Bas inteha hai chhodiye bas rahne dijiye,
Khud apne etimad se sharma gaya hun main.

Saqi zara nigah mila kar to dekhna,
Kambakht hosh mein to nahi aa gaya hun main.

Shayad mujhe nikal ke pachhta rahe hon aap,
Mehfil mein is khayal se phir aa gaya hun main.

Kya ab hisab bhi tu mera lega hashr mein,
Kya ye itab kam hai yahan aa gaya hun main.

Main ishq hun mera bhala kya kaam dar se,
Wo shara thi jise wahan latka gaya hun main.

Nikla tha mai-kade se ki ab ghar chalun “Adam“,
Ghabra ke su-e-mai-kada phir aa gaya hun main. !!

मतलब मुआ’मलात का कुछ पा गया हूँ मैं,
हँस कर फ़रेब-ए-चश्म-ए-करम खा गया हूँ मैं !

बस इंतिहा है छोड़िए बस रहने दीजिए,
ख़ुद अपने एतिमाद से शर्मा गया हूँ मैं

साक़ी ज़रा निगाह मिला कर तो देखना,
कम्बख़्त होश में तो नहीं आ गया हूँ मैं !

शायद मुझे निकाल के पछता रहे हों आप,
महफ़िल में इस ख़याल से फिर आ गया हूँ मैं !

क्या अब हिसाब भी तू मेरा लेगा हश्र में,
क्या ये इताब कम है यहाँ आ गया हूँ मैं !

मैं इश्क़ हूँ मेरा भला क्या काम दार से,
वो शरअ थी जिसे वहाँ लटका गया हूँ मैं !

निकला था मय-कदे से कि अब घर चलूँ “अदम“,
घबरा के सू-ए-मय-कदा फिर आ गया हूँ मैं !!

 

Saqi Sharab La Ki Tabiat Udas Hai..

Saqi sharab la ki tabiat udas hai,
Mutrib rubab utha ki tabiat udas hai.

Ruk ruk ke saz chhed ki dil mutmain nahi,
Tham tham ke mai pila ki tabiat udas hai.

Chubhti hai qalb o jaan mein sitaron ki raushni,
Aye chand dub ja ki tabiat udas hai.

Mujh se nazar na pher ki barham hai zindagi,
Mujh se nazar mila ki tabiat udas hai.

Shayad tere labon ki chatak se ho ji bahaal,
Aye dost muskura ki tabiat udas hai.

Hai husn ka fusun bhi ilaj-e-fasurdagi,
Rukh se naqab utha ki tabiat udas hai.

Main ne kabhi ye zid to nahi ki par aaj shab,
Aye mah-jabin na ja ki tabiat udas hai.

Imshab gurez-o-ram ka nahi hai koi mahal,
Aaghosh mein dar aa ki tabiat udas hai.

Kaifiyyat-e-sukut se badhta hai aur gham,
Kissa koi suna ki tabiat udas hai.

Yunhi durust hogi tabiat teri “Adam”,
Kam-bakht bhul ja ki tabiat udas hai.

Tauba to kar chuka hun magar phir bhi aye “Adam“,
Thoda sa zahr la ki tabiat udas hai. !!

साक़ी शराब ला कि तबीअत उदास है,
मुतरिब रुबाब उठा कि तबीअत उदास है !

रुक रुक के साज़ छेड़ कि दिल मुतमइन नहीं,
थम थम के मय पिला कि तबीअत उदास है !

चुभती है क़ल्ब ओ जाँ में सितारों की रौशनी,
ऐ चाँद डूब जा कि तबीअत उदास है !

मुझ से नज़र न फेर कि बरहम है ज़िंदगी,
मुझ से नज़र मिला कि तबीअत उदास है !

शायद तेरे लबों की चटक से हो जी बहाल,
ऐ दोस्त मुस्कुरा कि तबीअत उदास है !

है हुस्न का फ़ुसूँ भी इलाज-ए-फ़सुर्दगी,
रुख़ से नक़ाब उठा कि तबीअत उदास है !

मैं ने कभी ये ज़िद तो नहीं की पर आज शब,
ऐ मह-जबीं न जा कि तबीअत उदास है !

इमशब गुरेज़-ओ-रम का नहीं है कोई महल,
आग़ोश में दर आ कि तबीअत उदास है !

कैफ़िय्यत-ए-सुकूत से बढ़ता है और ग़म,
क़िस्सा कोई सुना कि तबीअत उदास है !

यूँही दुरुस्त होगी तबीअत तेरी “अदम”,
कम-बख़्त भूल जा कि तबीअत उदास है !

तौबा तो कर चुका हूँ मगर फिर भी ऐ “अदम“,
थोड़ा सा ज़हर ला कि तबीअत उदास है !!

 

Bas Is Qadar Hai Khulasa Meri Kahani Ka..

Bas is qadar hai khulasa meri kahani ka,
Ki ban ke tut gaya ek habab pani ka.

Mila hai saqi to roushan hua hai ye mujh par,
Ki hazf tha koi tukda meri kahani ka.

Mujhe bhi chehre pe raunaq dikhayi deti hai,
Ye moajiza hai tabibon ki khush-bayani ka.

Hai dil mein ek hi khwahish wo dub jaane ki,
Koi shabab koi husn hai rawani ka.

Libas-e hashr mein kuchh ho to aur kya hoga,
Bujha sa ek chhanaka teri jawani ka.

Karam ke rang nihayat ajeeb hote hain,
Sitam bhi ek tariqa hai meharbani ka.

Adam” bahaar ke mausam ne khud-kushi kar li,
Khula jo rang kisi jism-e arghawani ka. !!

बस इस क़दर है खुलासा मेरी कहानी का,
कि बन के टूट गया एक हबाब पानी का !

मिला है साक़ी तो रोशन हुआ है ये मुझ पर,
की हज़्फ़ था कोई टुकड़ा मेरी कहानी का !

मुझे भी चेहरे पे रौनक दिखाई देती है,
ये मोजिज़ा है तबीबों की खुश-बयानी का !

है दिल में एक ही ख्वाहिश वो डूब जाने की,
कोई शबाब कोई हुस्न है रवानी का !

लिबास-ए-हष्र में कुछ हो तो और क्या होगा,
बुझा सा एक छनाका तेरी जवानी का !

करम के रंग निहायत अजीब होते हैं,
सितम भी एक तरीका है मेहरबानी का !

अदम” बहार के मौसम ने ख़ुद-कुशी कर ली,
खुला जो रंग किसी जिस्म-ए-आर्गावानी का !!

 

Khali Hai Abhi Jaam Main Kuch Soch Raha Hun..

Khali hai abhi jaam main kuch soch raha hun,
Aye gardish-e-ayyam main kuch soch raha hun.

Saaki tujhe ek thodi si taklif to hogi,
Saghar ko zara tham main kuch soch raha hun.

Pahle badi raghbat thi tere naam se mujh ko,
Ab sun ke tera naam main kuch soch raha hun.

Idrak abhi pura taawun nahi karta,
Dai bada-e-gulfam main kuch soch raha hun.

Hal kuch to nikal aayega halat ki zid ka,
Aye kasrat-e-aalam main kuch soch raha hun.

Phir aaj “Adam” sham se ghamgin hai tabiyat,
Phir aaj sar-e-sham main kuch soch raha hun. !!

खाली है अभी जाम मैं कुछ सोच रहा हूँ,
ऐ गर्दिश-ए-अय्याम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

साक़ी तुझे एक थोड़ी सी तकलीफ तो होगी,
सागर को ज़रा थाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

पहले बड़ी रग़बत थी तेरे नाम से मुझको,
अब सुन के तेरा नाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

इदराक अभी पूरा तआवुन नहीं करता,
दय बादा-ए-गुलफ़ाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

हल कुछ तो निकल आएगा हालात की ज़िद्द का,
ऐ कसरत-ए-आलम मैं कुछ सोच रहा हूँ !

फिर आज “अदम” शाम से ग़मगीन है तबियत,
फिर आज सर-ए-शाम मैं कुछ सोच रहा हूँ !!

 

Itna To Zindagi Mein Kisi Ke Khalal Pade..

Itna to zindagi mein kisi ke khalal pade,
Hansne se ho sukun na rone se kal pade.

Jis tarah hans raha hun main pi-pi ke garm ashk,
Yun dusra hanse to kaleja nikal pade.

Ek tum ki tum ko fikr-e-nasheb-o-faraaz hai,
Ek hum ki chal pade to bahar-haal chal pade.

Saqi sabhi ko hai gham-e-tishna-labi magar,
Mai hai usi ki naam pe jis ke ubal pade.

Muddat ke baad us ne jo ki lutf ki nigah,
Ji khush to ho gaya magar aansu nikal pade. !!

इतना तो ज़िंदगी में किसी के ख़लल पड़े,
हँसने से हो सुकून न रोने से कल पड़े !

जिस तरह हँस रहा हूँ मैं पी-पी के गर्म अश्क,
यूँ दूसरा हँसे तो कलेजा निकल पड़े !

एक तुम कि तुम को फ़िक्र-ए-नशेब-ओ-फ़राज़ है,
एक हम कि चल पड़े तो बहर-हाल चल पड़े !

साक़ी सभी को है ग़म-ए-तिश्ना-लबी मगर,
मय है उसी की नाम पे जिस के उबल पड़े !

मुद्दत के बाद उस ने जो की लुत्फ़ की निगाह,
जी ख़ुश तो हो गया मगर आँसू निकल पड़े !!

-Kaifi Azmi Ghazal / Poetry

 

Hairat Se Tak Raha Hai Jahan-E-Wafa Mujhe..

Hairat se tak raha hai jahan-e-wafa mujhe,
Tum ne bana diya hai mohabbat mein kya mujhe.

Har manzil-e-hayat se gum kar gaya mujhe,
Mud mud ke raah mein wo tera dekhna mujhe.

Kaif-e-Khudi ne mauj ko kashti bana diya,
Hosh-e-khuda hai ab na gham-e-nakhuda mujhe.

Saqi bane huye hain wo “Saghar” shab-e-visal,
Is waqt koi meri kasam dekh ja mujhe. !!

हैरत से तक रहा है जहाँ-ए-वफ़ा मुझे,
तुम ने बना दिया है मोहब्बत में क्या मुझे !

हर मंजिल-ए-हयात से गुम कर गया मुझे,
मुड़ मुड़ के राह में वो तेरा देखना मुझे !

कैफ-ए-खुदी ने मौज को कश्ती बना दिया,
होश-ए-खुदा है अब न ग़म-ए-नाखुदा मुझे !

साक़ी बने हुए हैं वो “सागर” शब-ए-विसाल,
इस वक़्त कोई मेरी कसम देख जा मुझे !!