Samandar Shayari

Wo Ek Ek Baat Pe Rone Laga Tha..

Wo Ek Ek Baat Pe Rone Laga Tha.. Rahat Indori Shayari

Wo Ek Ek Baat Pe Rone Laga Tha

Wo ek ek baat pe rone laga tha,
Samundar aabru khone laga tha.

Lage rahte the sab darwaze phir bhi,
Main aankhen khol kar sone laga tha.

Churaata hun ab aankhen aainon se,
Khuda ka samna hone laga tha.

Wo ab aaine dhota phir raha hai,
Use chehre pe shak hone laga tha.

Mujhe ab dekh kar hansti hai duniya,
Main sab ke samne rone laga tha. !!

वो एक एक बात पे रोने लगा था,
समुंदर आबरू खोने लगा था !

लगे रहते थे सब दरवाज़े फिर भी,
मैं आँखें खोल कर सोने लगा था !

चुराता हूँ अब आँखें आइनों से,
ख़ुदा का सामना होने लगा था !

वो अब आईने धोता फिर रहा है,
उसे चेहरे पे शक होने लगा था !

मुझे अब देख कर हँसती है दुनिया,
मैं सब के सामने रोने लगा था !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Charaghon Ka Gharana Chal Raha Hai..

Charaghon Ka Gharana Chal Raha Hai.. Rahat Indori Shayari

Charaghon ka gharana chal raha hai,
Hawa se dostana chal raha hai.

Jawani ki hawayen chal rahi hain,
Buzurgon ka khazana chal raha hai.

Meri gum-gashtagi par hansne walo,
Mere pichhe zamana chal raha hai.

Abhi hum zindagi se mil na paye,
Taaruf ghayebana chal raha hai.

Naye kirdar aate ja rahe hain,
Magar natak purana chal raha hai.

Wahi duniya wahi sansen wahi hum,
Wahi sab kuch purana chal raha hai.

Ziyaada kya tawaqqoa ho ghazal se,
Miyan bas aab-o-dana chal raha hai.

Samundar se kisi din phir milenge,
Abhi pina-pilana chal raha hai.

Wahi mahshar wahi milne ka wada,
Wahi budha bahana chal raha hai.

Yahan ek madrasa hota tha pahle,
Magar ab karkhana chal raha hai. !!

चराग़ों का घराना चल रहा है,
हवा से दोस्ताना चल रहा है !

जवानी की हवाएँ चल रही हैं,
बुज़ुर्गों का ख़ज़ाना चल रहा है !

मेरी गुम-गश्तगी पर हँसने वालो,
मेरे पीछे ज़माना चल रहा है !

अभी हम ज़िंदगी से मिल न पाए,
तआरुफ़ ग़ाएबाना चल रहा है !

नए किरदार आते जा रहे हैं,
मगर नाटक पुराना चल रहा है !

वही दुनिया वही साँसें वही हम,
वही सब कुछ पुराना चल रहा है !

ज़ियादा क्या तवक़्क़ो हो ग़ज़ल से,
मियाँ बस आब-ओ-दाना चल रहा है !

समुंदर से किसी दिन फिर मिलेंगे,
अभी पीना-पिलाना चल रहा है !

वही महशर वही मिलने का वादा,
वही बूढ़ा बहाना चल रहा है !

यहाँ एक मदरसा होता था पहले,
मगर अब कारख़ाना चल रहा है !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Parakhna Mat Parakhne Mein Koi Apna Nahi Rahta

Parakhna mat parakhne mein koi apna nahi rahta,
Kisi bhi aaine mein der tak chehra nahi rahta.

Bade logon se milne mein hamesha fasla rakhna,
Jahan dariya samandar me mile dariya nahi rahta.

Hazaron sher mere so gaye kaghaz ki qabron mein,
Ajab maa hun koi baccha mera zinda nahi rahta.

Tumhara shehar to bilkul naye andaz wala hai,
Humare shehar mein bhi koi hum sa nahi rahta.

Mohabbat ek khushbu hai hamesha sath chalti hai,
Koi insan tanhai mein bhi tanha nahi rahta.

Koi badal hare mausam ka phir elaan karta hai,
Khizan ke baagh mein jab ek bhi patta nahi rahta. !!

परखना मत परखने में कोई अपना नहीं रहता,
किसी भी आईने में देर तक चेहरा नहीं रहता !

बडे लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना,
जहां दरिया समन्दर में मिले दरिया नहीं रहता !

हजारों शेर मेरे सो गये कागज की कब्रों में,
अजब मां हूं कोई बच्चा मेरा ज़िन्दा नहीं रहता !

तुम्हारा शहर तो बिल्कुल नये अन्दाज वाला है,
हमारे शहर में भी अब कोई हम सा नहीं रहता !

मोहब्बत एक खुशबू है हमेशा साथ रहती है,
कोई इन्सान तन्हाई में भी कभी तन्हा नहीं रहता !

कोई बादल हरे मौसम का फ़िर ऐलान करता है,
ख़िज़ा के बाग में जब एक भी पत्ता नहीं रहता !! -Bashir Badr Ghazal

 

Main Kab Kehta Hun Woh Accha Bahut Hai..

Main kab kehta hoon woh accha bahut hai

Main kab kehta hun woh accha bahut hai,
Magar usne mujhe chaha bahut hai.

Khuda is shehar ko mehfuz rakhe,
Ye bachchon ki tarah hansta bahut hai.

Main tujhse roz milna chahta hun,
Magar is raah mein khatra bahut hai.

Mera dil baarishon mein phool jaisa,
Ye bachcha raat mein rota bahut hai.

Isey aansoo ka ek qatra na smjho,
Kuaan hai aur ye gehra bahut hai.

Usey shohrat ne tanha kar diya hai,
Samandar hai magar pyasa bahut hai.

Main ek lamhe mein sadiyan dekhta hun,
Tumhare sath ek lamha bahut hai.

Mera hansna zaruri ho gya hai,
Yahan har shakhs sanjida bahut hai. !!

मै कब कहता हूँ वो अच्छा बहुत है,
मगर उसने मुझे चाहा बहुत है !

खुदा इस शहर को महफूज़ रखे,
ये बच्चों की तरह हँसता बहुत है !

मै तुझसे रोज़ मिलना चाहता हूँ,
मगर इस राह में खतरा बहुत है !

मेरा दिल बारिशों में फूल जैसा,
ये बच्चा रात में रोता बहुत है !

इसे आंसू का एक कतरा न समझो,
कुँआ है और ये गहरा बहुत है !

उसे शोहरत ने तनहा कर दिया है,
समंदर है मगर प्यासा बहुत है !

मै एक लम्हे में सदियाँ देखता हूँ,
तुम्हारे साथ एक लम्हा बहुत है !

मेरा हँसना ज़रूरी हो गया है,
यहाँ हर शख्स संजीदा बहुत है !! -Bashir Badr Ghazal

 

Hoton Pe Mohabbat Ke Fasane Nahi Aate..

Hoton pe mohabbat ke fasane nahi aate

 

Hoton pe mohabbat ke fasane nahi aate,
Sahil pe samandar ke khazane nahi aate.

Palken bhi chamk uthti hain sote mein humaari,
Aankhon ko abhi khawab chhupane nahi aate.

Dil ujadi huyi ek saraye ki tarah hai,
Ab log yahan raat jagane nahi aate.

Udne do parindon ko abhi shokh hawa mein,
Phir laut ke bachpan ke zamane nahi aate.

Is shehar ke badal teri zulfon ki tarah hain,
Ye aag lagate hain bujhane nahi aate.

Kya soch ke aaye ho mohabbat ki gali mein,
Jab naaz hasino ke uthaane nahi aate.

Ahbab bhi Ghairon ki ada seekh gaye hain,
Aate hain magar dil ko dukhane nahi aate. !!

होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते,
साहिल पे समंदर के ख़ज़ाने नहीं आते !

पलके भी चमक उठती हैं सोते में हमारी,
आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते !

दिल उजडी हुई एक सराय की तरह है,
अब लोग यहां रात बिताने नहीं आते !

उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में,
फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते !

इस शहर के बादल तेरी जुल्फ़ों की तरह है,
ये आग लगाते है बुझाने नहीं आते !

क्या सोचकर आए हो मुहब्बत की गली में,
जब नाज़ हसीनों के उठाने नहीं आते !

अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये है,
आते है मगर दिल को दुखाने नहीं आते !! -Bashir Badr Ghazal

 

Shajar Hain Ab Samar Asar Mere..

Shajar hain ab samar asar mere,
Chale aate hain dawedar mere.

Muhajir hain na ab ansar mere,
Mukhalif hain bahut is bar mere.

Yahan ek bund ka mohtaj hun main,
Samundar hain samundar par mere.

Abhi murdon mein ruhen phunk dalen,
Agar chahen to ye bimar mere.

Hawayen odh kar soya tha dushman,
Gaye bekar sare war mere.

Main aa kar dushmanon mein bas gaya hun,
Yahan hamdard hain do-chaar mere.

Hansi mein taal dena tha mujhe bhi,
Khata kyun ho gaye sarkar mere.

Tasawwur mein na jaane kaun aaya,
Mahak uthe dar-o-diwar mere.

Tumhara naam duniya jaanti hai,
Bahut ruswa hain ab ashaar mere.

Bhanwar mein ruk gayi hai naav meri,
Kinare rah gaye us paar mere.

Main khud apni hifazat kar raha hun,
Abhi soye hain pehredar mere. !!

शजर हैं अब समर-आसार मेरे,
चले आते हैं दावेदार मेरे !

मुहाजिर हैं न अब अंसार मेरे,
मुख़ालिफ़ हैं बहुत इस बार मेरे !

यहाँ इक बूँद का मुहताज हूँ मैं,
समुंदर हैं समुंदर पार मेरे !

अभी मुर्दों में रूहें फूँक डालें,
अगर चाहें तो ये बीमार मेरे !

हवाएँ ओढ़ कर सोया था दुश्मन,
गए बेकार सारे वार मेरे !

मैं आ कर दुश्मनों में बस गया हूँ,
यहाँ हमदर्द हैं दो-चार मेरे !

हँसी में टाल देना था मुझे भी,
ख़ता क्यूँ हो गए सरकार मेरे !

तसव्वुर में न जाने कौन आया,
महक उट्ठे दर-ओ-दीवार मेरे !

तुम्हारा नाम दुनिया जानती है,
बहुत रुस्वा हैं अब अशआर मेरे !

भँवर में रुक गई है नाव मेरी,
किनारे रह गए उस पार मेरे !

मैं ख़ुद अपनी हिफ़ाज़त कर रहा हूँ,
अभी सोए हैं पहरे-दार मेरे !! -Rahat Indori Ghazal

 

Sirf Khanjar Hi Nahi Aankhon Mein Pani Chahiye..

Sirf khanjar hi nahi aankhon mein pani chahiye,
Aye khuda dushman bhi mujhko khandani chahiye.

Shehar ki sari alif-lailayen budhi ho chukin,
Shahzade ko koi taza kahani chahiye.

Maine aye sooraj tujhe puja nahin samjha to hai,
Mere hisse mein bhi thodi dhup aani chahiye.

Meri qimat kaun de sakta hai is bazaar mein,
Tum zulekha ho tumhein qimat lagani chahiye.

Zindagi hai ek safar aur zindagi ki rah mein,
Zindagi bhi aaye to thokar lagani chahiye.

Maine apni khushk aankhon se lahu chhalka diya,
Ek samundar kah raha tha mujhko pani chahiye. !!

सिर्फ़ ख़ंजर ही नहीं आँखों में पानी चाहिए,
ऐ ख़ुदा दुश्मन भी मुझको ख़ानदानी चाहिए !

शहर की सारी अलिफ़-लैलाएँ बूढ़ी हो चुकीं,
शाहज़ादे को कोई ताज़ा कहानी चाहिए !

मैंने ऐ सूरज तुझे पूजा नहीं समझा तो है,
मेरे हिस्से में भी थोड़ी धूप आनी चाहिए !

मेरी क़ीमत कौन दे सकता है इस बाज़ार में,
तुम ज़ुलेख़ा हो तुम्हें क़ीमत लगानी चाहिए !

ज़िंदगी है एक सफ़र और ज़िंदगी की राह में,
ज़िंदगी भी आए तो ठोकर लगानी चाहिए !

मैंने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया,
एक समुंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए !! -Rahat Indori Ghazal

 

Roz Taaron Ko Numaish Mein Khalal Padta Hai..

Roz taaron ko numaish mein khalal padta hai,
Chand pagal hai andhere mein nikal padta hai.

Ek diwana musafir hai meri aankhon mein,
Waqt-be-waqt thahar jata hai chal padta hai.

Apni tabir ke chakkar mein mera jagta khwab,
Roz sooraj ki tarah ghar se nikal padta hai.

Roz patthar ki himayat mein ghazal likhte hain,
Roz shishon se koi kaam nikal padta hai.

Main samandar hun kulhadi se nahi kat sakta,
Koi fawwara nahi hun jo ubal padta hai.

Kal wahan chand uga karte the har aahat par,
Apne raste mein jo viraan mahal padta hai.

Na ta-aaruf na ta-alluk hai magar dil aksar,
Naam sunta hai tumhara uchhal padta hai.

Us ki yaad aayi hai sanso zara aahista chalo,
Dhadkanon se bhi ibaadat mein khalal padta hai. !!

रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं,
चाँद पागल हैं अंधेरे में निकल पड़ता हैं !

एक दीवाना मुसाफ़िर है मेरी आँखों में,
वक़्त-बे-वक़्त ठहर जाता है चल पड़ता है !

अपनी ताबीर के चक्कर में मेरा जागता ख़्वाब,
रोज़ सूरज की तरह घर से निकल पड़ता है !

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं,
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है !

मैं समंदर हूँ कुल्हाड़ी से नहीं कट सकता,
कोई फव्वारा नही हूँ जो उबल पड़ता हैं !

कल वहाँ चाँद उगा करते थे हर आहट पर,
अपने रास्ते में जो वीरान महल पड़ता हैं !

ना त-आरूफ़ ना त-अल्लुक हैं मगर दिल अक्सर,
नाम सुनता हैं तुम्हारा तो उछल पड़ता हैं !

उसकी याद आई हैं साँसों ज़रा आहिस्ता चलो,
धड़कनो से भी इबादत में खलल पड़ता हैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Rose Day Love Shayari In Hindi

Pyar ke samandar mein sab doobna chahte hain,
Pyar mein kuch khote hain toh kuch pate hain,
Pyar to ek gulaab hai jise sab todna chahte hai,
Hum toh is gulaab ko choomna chahte hain. !!

प्यार के समंदर में सब डूबना चाहते हैं,
प्यार में कुछ खोते हैं तोह कुछ पाते हैं,
प्यार तो एक गुलाब है जिसे सब तोडना चाहते है,
हम तोह इस गुलाब को चूमना चाहते हैं !!

Happy Rose Day

Abhi Kuchh Aur Karishme Ghazal Ke Dekhte Hain..

Abhi kuchh aur karishme ghazal ke dekhte hain,
Faraz” ab zara lahja badal ke dekhte hain.

Judaiyan to muqaddar hain phir bhi jaan-e-safar,
Kuchh aur dur zara sath chal ke dekhte hain.

Rah-e-wafa mein harif-e-khiram koi to ho,
So apne aap se aage nikal ke dekhte hain.

Tu samne hai to phir kyun yaqin nahi aata,
Ye bar bar jo aankhon ko mal ke dekhte hain.

Ye kaun log hain maujud teri mehfil mein,
Jo lalachon se tujhe mujh ko jal ke dekhte hain.

Ye qurb kya hai ki yak-jaan hue na dur rahe,
Hazar ek hi qalib mein dhal ke dekhte hain.

Na tujh ko mat hui hai na mujh ko mat hui,
So ab ke donon hi chaalen badal ke dekhte hain.

Ye kaun hai sar-e-sahil ki dubne wale,
Samundaron ki tahon se uchhal ke dekhte hain.

Abhi talak to na kundan hue na rakh hue,
Hum apni aag mein har roz jal ke dekhte hain.

Bahut dinon se nahi hai kuchh us ki khair khabar,
Chalo “Faraz” ku-e-yar chal ke dekhte hain. !!

अभी कुछ और करिश्मे ग़ज़ल के देखते हैं,
फ़राज़” अब ज़रा लहजा बदल के देखते हैं !

जुदाइयाँ तो मुक़द्दर हैं फिर भी जान-ए-सफ़र,
कुछ और दूर ज़रा साथ चल के देखते हैं !

रह-ए-वफ़ा में हरीफ़-ए-ख़िराम कोई तो हो,
सो अपने आप से आगे निकल के देखते हैं !

तू सामने है तो फिर क्यूँ यक़ीं नहीं आता,
ये बार बार जो आँखों को मल के देखते हैं !

ये कौन लोग हैं मौजूद तेरी महफ़िल में,
जो लालचों से तुझे मुझ को जल के देखते हैं !

ये क़ुर्ब क्या है कि यक-जाँ हुए न दूर रहे,
हज़ार एक ही क़ालिब में ढल के देखते हैं !

न तुझ को मात हुई है न मुझ को मात हुई,
सो अब के दोनों ही चालें बदल के देखते हैं !

ये कौन है सर-ए-साहिल कि डूबने वाले,
समुंदरों की तहों से उछल के देखते हैं !

अभी तलक तो न कुंदन हुए न राख हुए,
हम अपनी आग में हर रोज़ जल के देखते हैं !

बहुत दिनों से नहीं है कुछ उस की ख़ैर ख़बर,
चलो “फ़राज़” कू-ए-यार चल के देखते हैं !!