Monday , September 28 2020

Kabhi Kabhi Mere Dil Mein Khayal Aata Hai..

Kabhi kabhi mere dil mein khayal aata hai…

Ki zindagi teri zulfon ki narm chhanw mein
Guzarne pati to shadab ho bhi sakti thi
Ye tirgi jo meri zist ka muqaddar hai
Teri nazar ki shuaon mein kho bhi sakti thi..

Ajab na tha ki main begana-e-alam ho kar
Tere jamal ki ranaiyon mein kho rahta
Tera gudaz-badan teri nim-baz aankhen
Inhi hasin fasanon mein mahw ho rahta..

Pukartin mujhe jab talkhiyan zamane ki
Tere labon se halawat ke ghunt pi leta
Hayat chikhti phirti barahna sar aur main
Ghaneri zulfon ke saye mein chhup ke ji leta..

Magar ye ho na saka aur ab ye aalam hai
Ki tu nahin tera gham teri justuju bhi nahin
Guzar rahi hai kuchh is tarah zindagi jaise
Ise kisi ke sahaare ki aarzoo bhi nahin..

Zamane bhar ke dukhon ko laga chuka hun gale
Guzar raha hun kuchh an-jaani rahguzaron se
Muhib saye meri samt badhte aate hain
Hayat o maut ke pur-haul kharzaron se..

Na koi jada-e-manzil na raushni ka suragh
Bhatak rahi hai khalaon mein zindagi meri
Inhi khalaon mein rah jaunga kabhi kho kar
Main janta hun meri ham-nafas magar yunhi..

Kabhi kabhi mere dil mein khayal aata hai…

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है…

कि ज़िंदगी तेरी ज़ुल्फ़ों की नर्म छाँव में
गुज़रने पाती तो शादाब हो भी सकती थी
ये तीरगी जो मेरी ज़ीस्त का मुक़द्दर है
तेरी नज़र की शुआ’ओं में खो भी सकती थी..

अजब न था कि मैं बेगाना-ए-अलम हो कर
तेरे जमाल की रानाइयों में खो रहता
तेरा गुदाज़-बदन तेरी नीम-बाज़ आँखें
इन्ही हसीन फ़सानों में महव हो रहता..

पुकारतीं मुझे जब तल्ख़ियाँ ज़माने की
तेरे लबों से हलावत के घूँट पी लेता
हयात चीख़ती फिरती बरहना सर और मैं
घनेरी ज़ुल्फ़ों के साए में छुप के जी लेता..

मगर ये हो न सका और अब ये आलम है
कि तू नहीं तेरा ग़म तेरी जुस्तुजू भी नहीं
गुज़र रही है कुछ इस तरह ज़िंदगी जैसे
इसे किसी के सहारे की आरज़ू भी नहीं..

ज़माने भर के दुखों को लगा चुका हूँ गले
गुज़र रहा हूँ कुछ अन-जानी रहगुज़ारों से
मुहीब साए मेरी सम्त बढ़ते आते हैं
हयात ओ मौत के पुर-हौल ख़ारज़ारों से..

न कोई जादा-ए-मंज़िल न रौशनी का सुराग़
भटक रही है ख़लाओं में ज़िंदगी मेरी
इन्ही ख़लाओं में रह जाऊँगा कभी खो कर
मैं जानता हूँ मेरी हम-नफ़स मगर यूँही..

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है…

Sahir Ludhianvi All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

About skpoetry

>> Sk Poetry - All The Best Poetry Website In Hindi, Urdu & English. Here You Can Find All Type Best, Famous, Memorable, Popular & Evergreen Collections Of Poems/Poetry, Shayari, Ghazals, Nazms, Sms, Whatsapp-Status & Quotes By The Top Poets From India, Pakistan, Iran, UAE & Arab Countries ETC. <<

Read These Poems Too..

Dhoop Lage Aakash Pe Jab..

Dhoop Lage Aakash Pe Jab.. Gulzar Nazm ! Dhoop lage aakash pe jab Din mein …

Ek Adakar Hun Main..

Ek Adakar Hun Main.. Gulzar Nazm ! Ek adakar hun main Main adakar hun nan …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

10 − 3 =