Safar Shayari

Mohabbaton Ke Safar Par Nikal Ke Dekhunga..

Mohabbaton Ke Safar Par Nikal Ke Dekhunga.. Rahat Indori Shayari !

Mohabbaton ke safar par nikal ke dekhunga,
Ye pul-siraat agar hai to chal ke dekhunga.

Sawal ye hai ki raftar kis ki kitni hai,
Main aaftab se aage nikal ke dekhunga.

Mazaq achchha rahega ye chaand-taaron se,
Main aaj shaam se pahle hi dhal ke dekhunga.

Wo mere hukm ko fariyaad jaan leta hai,
Agar ye sach hai to lahja badal ke dekhunga.

Ujale bantne walon pe kya guzarti hai,
Kisi charagh ki manind jal ke dekhunga.

Ajab nahi ki wahi raushni mujh mil jaye,
Main apne ghar se kisi din nikal ke dekhunga. !!

मोहब्बतों के सफ़र पर निकल के देखूँगा,
ये पुल-सिरात अगर है तो चल के देखूँगा !

सवाल ये है कि रफ़्तार किस की कितनी है,
मैं आफ़्ताब से आगे निकल के देखूँगा !

मज़ाक़ अच्छा रहेगा ये चाँद-तारों से,
मैं आज शाम से पहले ही ढल के देखूँगा !

वो मेरे हुक्म को फ़रियाद जान लेता है,
अगर ये सच है तो लहजा बदल के देखूँगा !

उजाले बाँटने वालों पे क्या गुज़रती है,
किसी चराग़ की मानिंद जल के देखूँगा !

अजब नहीं कि वही रौशनी मुझ मिल जाए,
मैं अपने घर से किसी दिन निकल के देखूँगा !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Ise Saman-E-Safar Jaan Ye Jugnu Rakh Le..

Ise Saman-E-Safar Jaan Ye Jugnu Rakh Le.. Rahat Indori Shayari !

Ise saman-e-safar jaan ye jugnu rakh le,
Rah mein tirgi hogi mere aansoo rakh le.

Tu jo chahe to tera jhuth bhi bik sakta hai,
Shart itni hai ki sone ki taraazu rakh le.

Wo koi jism nahi hai ki use chhu bhi saken,
Han agar naam hi rakhna hai to khushbu rakh le.

Tujh ko an-dekhi bulandi mein safar karna hai,
Ehtiyatan meri himmat mere bazu rakh le.

Meri khwahish hai ki aangan mein na diwar uthe,
Mere bhai mere hisse ki zameen tu rakh le. !!

इसे सामान-ए-सफ़र जान ये जुगनू रख ले,
राह में तीरगी होगी मेरे आँसू रख ले !

तू जो चाहे तो तेरा झूठ भी बिक सकता है,
शर्त इतनी है कि सोने की तराज़ू रख ले !

वो कोई जिस्म नहीं है कि उसे छू भी सकें,
हाँ अगर नाम ही रखना है तो ख़ुश्बू रख ले !

तुझ को अन-देखी बुलंदी में सफ़र करना है,
एहतियातन मेरी हिम्मत मेरे बाज़ू रख ले !

मेरी ख़्वाहिश है कि आँगन में न दीवार उठे,
मेरे भाई मेरे हिस्से की ज़मीं तू रख ले !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Zulfen Seena Naaf Kamar..

Zulfen Seena Naaf Kamar.. Jan Nisar Akhtar Poetry

Zulfen seena naaf kamar,
Ek nadi mein kitne bhanwar,

Sadiyon sadiyon mera safar,
Manzil manzil rahguzar.

Kitna mushkil kitna kathin,
Jine se jine ka hunar.

Ganw mein aa kar shehar base,
Ganw bichaare jayen kidhar.

Phunkne wale socha bhi,
Phailegi ye aag kidhar.

Lakh tarah se naam tera,
Baitha likkhun kaghaz par.

Chhote chhote zehan ke log,
Hum se un ki baat na kar,

Pet pe patthar bandh na le,
Haath mein sajte hain patthar.

Raat ke pichhe raat chale,
Khwab hua har khwab-e-sahar,

Shab bhar to aawara phire,
Laut chalen ab apne ghar. !!

Zulfen Seena Naaf Kamar.. Jan Nisar Akhtar Poetry In Hindi Language

ज़ुल्फ़ें सीना नाफ़ कमर,
एक नदी में कितने भँवर !

सदियों सदियों मेरा सफ़र,
मंज़िल मंज़िल राहगुज़र !

कितना मुश्किल कितना कठिन,
जीने से जीने का हुनर !

गाँव में आ कर शहर बसे,
गाँव बिचारे जाएँ किधर !

फूँकने वाले सोचा भी,
फैलेगी ये आग किधर !

लाख तरह से नाम तेरा,
बैठा लिक्खूँ काग़ज़ पर !

छोटे छोटे ज़ेहन के लोग,
हम से उन की बात न कर !

पेट पे पत्थर बाँध न ले,
हाथ में सजते हैं पत्थर !

रात के पीछे रात चले,
ख़्वाब हुआ हर ख़्वाब-ए-सहर !

शब भर तो आवारा फिरे,
लौट चलें अब अपने घर !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Khayal Usi Ki Taraf Bar Bar Jata Hai

Khayal usi ki taraf bar bar jata hai,
Mere safar ki thakan kaun utar jata hai.

Ye us ka apna tariqa hai dan karne ka,
Wo jis se shart lagata hai haar jata hai.

Ye khel meri samajh mein kabhi nahi aaya,
Main jeet jata hun bazi wo mar jata hai.

Main apni nind dawaon se qarz leta hun,
Ye qarz khwab mein koi utar jata hai.

Nasha bhi hota hai halka sa zahar mein shamil,
Wo jab bhi milta hai ek dank mar jata hai.

Main sab ke waste karta hun kuch na kuch “Nazmi”,
Jahan jahan bhi mera ikhtiyar jata hai. !!

ख़याल उसी की तरफ़ बार बार जाता है,
मेरे सफ़र की थकन कौन उतार जाता है !

ये उस का अपना तरीक़ा है दान करने का,
वो जिस से शर्त लगाता है हार जाता है !

ये खेल मेरी समझ में कभी नहीं आया,
मैं जीत जाता हूँ बाज़ी वो मार जाता है !

मैं अपनी नींद दवाओं से क़र्ज़ लेता हूँ,
ये क़र्ज़ ख़्वाब में कोई उतार जाता है !

नशा भी होता है हल्का सा ज़हर में शामिल,
वो जब भी मिलता है एक डंक मार जाता है !

मैं सब के वास्ते करता हूँ कुछ न कुछ “नज़मी”,
जहाँ जहाँ भी मेरा इख़्तियार जाता है !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

 

Jo Ho Ek Bar Wo Har Bar Ho Aisa Nahi Hota

Jo ho ek bar wo har bar ho aisa nahi hota,
Hamesha ek hi se pyar ho aisa nahi hota.

Har ek kashti ka apna tajraba hota hai dariya mein,
Safar mein roz hi manjdhaar ho aisa nahi hota.

Kahani mein to kirdaron ko jo chahe bana dije,
Haqiqat bhi kahani-kar ho aisa nahi hota.

Kahin to koi hoga jis ko apni bhi zarurat ho,
Har ek bazi mein dil ki haar ho aisa nahi hota.

Sikha deti hain chalna thokaren bhi rahgiron ko,
Koi rasta sada dushwar ho aisa nahi hota. !!

जो हो एक बार वो हर बार हो ऐसा नहीं होता,
हमेशा एक ही से प्यार हो ऐसा नहीं होता !

हर एक कश्ती का अपना तजरबा होता है दरिया में,
सफ़र में रोज़ ही मंजधार हो ऐसा नहीं होता !

कहानी में तो किरदारों को जो चाहे बना दीजे,
हक़ीक़त भी कहानी-कार हो ऐसा नहीं होता !

कहीं तो कोई होगा जिस को अपनी भी ज़रूरत हो,
हर एक बाज़ी में दिल की हार हो ऐसा नहीं होता !

सिखा देती हैं चलना ठोकरें भी राहगीरों को,
कोई रस्ता सदा दुश्वार हो ऐसा नहीं होता !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Dhup Mein Niklo Ghataon Mein Naha Kar Dekho

Dhup mein niklo ghataon mein naha kar dekho,
Zindagi kya hai kitabon ko hata kar dekho.

Sirf aankhon se hi duniya nahi dekhi jati,
Dil ki dhadkan ko bhi binai bana kar dekho.

Pattharon mein bhi zaban hoti hai dil hote hain,
Apne ghar ke dar-o-diwar saja kar dekho.

Wo sitara hai chamakne do yunhi aankhon mein,
Kya zaruri hai use jism bana kar dekho.

Fasla nazron ka dhokha bhi to ho sakta hai,
Wo mile ya na mile hath badha kar dekho. !!

धूप में निकलो घटाओं में नहा कर देखो,
ज़िंदगी क्या है किताबों को हटा कर देखो !

सिर्फ़ आँखों से ही दुनिया नहीं देखी जाती,
दिल की धड़कन को भी बीनाई बना कर देखो !

पत्थरों में भी ज़बाँ होती है दिल होते हैं,
अपने घर के दर-ओ-दीवार सजा कर देखो !

वो सितारा है चमकने दो यूँही आँखों में,
क्या ज़रूरी है उसे जिस्म बना कर देखो !

फ़ासला नज़रों का धोखा भी तो हो सकता है,
वो मिले या न मिले हाथ बढ़ा कर देखो !!

-Nida Fazli Ghazal / Safar Shayari

 

Safar Mein Dhup To Hogi Jo Chal Sako To Chalo

Safar mein dhup to hogi jo chal sako to chalo,
Sabhi hain bhid mein tum bhi nikal sako to chalo.

Kisi ke waste rahen kahan badalti hain,
Tum apne aap ko khud hi badal sako to chalo.

Yahan kisi ko koi rasta nahi deta,
Mujhe gira ke agar tum sambhal sako to chalo.

Kahin nahi koi suraj dhuan dhuan hai faza,
Khud apne aap se bahar nikal sako to chalo.

Yahi hai zindagi kuch khwab chand ummiden,
Inhin khilaunon se tum bhi bahal sako to chalo. !!

सफ़र में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो,
सभी हैं भीड़ में तुम भी निकल सको तो चलो !

किसी के वास्ते राहें कहाँ बदलती हैं,
तुम अपने आप को ख़ुद ही बदल सको तो चलो !

यहाँ किसी को कोई रास्ता नहीं देता,
मुझे गिरा के अगर तुम सँभल सको तो चलो !

कहीं नहीं कोई सूरज धुआँ धुआँ है फ़ज़ा,
ख़ुद अपने आप से बाहर निकल सको तो चलो !

यही है ज़िंदगी कुछ ख़्वाब चंद उम्मीदें,
इन्हीं खिलौनों से तुम भी बहल सको तो चलो !!

-Nida Fazli Ghazal / Safar Shayari

 

Apni Marzi Se Kahan Apne Safar Ke Hum Hain

Apni marzi se kahan apne safar ke hum hain,
Rukh hawaon ka jidhar ka hai udhar ke hum hain.

Pahle har cheez thi apni magar ab lagta hai,
Apne hi ghar mein kisi dusre ghar ke hum hain.

Waqt ke sath hai mitti ka safar sadiyon se,
Kis ko malum kahan ke hain kidhar ke hum hain.

Chalte rahte hain ki chalna hai musafir ka nasib,
Sochte rahte hain kis rahguzar ke hum hain.

Hum wahan hain jahan kuch bhi nahi rasta na dayar,
Apne hi khoye hue sham o sehar ke hum hain.

Gintiyon mein hi gine jate hain har daur mein hum,
Har qalamkar ki be-naam khabar ke hum hain. !!

अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं,
रुख़ हवाओं का जिधर का है उधर के हम हैं !

पहले हर चीज़ थी अपनी मगर अब लगता है,
अपने ही घर में किसी दूसरे घर के हम हैं !

वक़्त के साथ है मिटटी का सफ़र सदियों से,
किस को मालूम कहाँ के हैं किधर के हम हैं !

चलते रहते हैं कि चलना है मुसाफ़िर का नसीब,
सोचते रहते हैं किस राहगुज़र के हम हैं !

हम वहाँ हैं जहाँ कुछ भी नहीं रस्ता न दयार,
अपने ही खोए हुए शाम ओ सहर के हम हैं !

गिनतियों में ही गिने जाते हैं हर दौर में हम,
हर क़लमकार की बे-नाम ख़बर के हम हैं !!

-Nida Fazli Sad Poetry / Ghazal

 

Ab Khushi Hai Na Koi Dard Rulane Wala

Ab khushi hai na koi dard rulane wala,
Hum ne apna liya har rang zamane wala.

Ek be-chehra si ummid hai chehra chehra,
Jis taraf dekhiye aane ko hai aane wala.

Us ko rukhsat to kiya tha mujhe malum na tha,
Sara ghar le gaya ghar chhod ke jaane wala.

Dur ke chand ko dhundo na kisi aanchal mein,
Ye ujala nahi aangan mein samane wala.

Ek musafir ke safar jaisi hai sab ki duniya,
Koi jaldi mein koi der se jaane wala. !!

अब ख़ुशी है न कोई दर्द रुलाने वाला,
हम ने अपना लिया हर रंग ज़माने वाला !

एक बे-चेहरा सी उम्मीद है चेहरा चेहरा,
जिस तरफ़ देखिए आने को है आने वाला !

उस को रुख़्सत तो किया था मुझे मालूम न था,
सारा घर ले गया घर छोड़ के जाने वाला !

दूर के चाँद को ढूँडो न किसी आँचल में,
ये उजाला नहीं आँगन में समाने वाला !

एक मुसाफ़िर के सफ़र जैसी है सब की दुनिया,
कोई जल्दी में कोई देर से जाने वाला !!

-Nida Fazli Sad Poetry/Ghazal

 

Chalne Ka Hausla Nahi Rukna Muhaal Kar Diya..

Chalne ka hausla nahi rukna muhaal kar diya,
Ishq ke is safar ne to mujh ko nidhaal kar diya.

Aye meri gul-zamin tujhe chah thi ek kitab ki,
Ahl-e-kitab ne magar kya tera haal kar diya.

Milte hue dilon ke bich aur tha faisla koi,
Us ne magar bichhadte waqt aur sawal kar diya.

Ab ke hawa ke sath hai daman-e-yar muntazir,
Banu-e-shab ke hath mein rakhna sambhaal kar diya.

Mumkina faislon mein ek hijr ka faisla bhi tha,
Hum ne to ek baat ki us ne kamal kar diya.

Mere labon pe mohr thi par mere shisha-ru ne to,
Shahr ke shahr ko mera waqif-e-haal kar diya.

Chehra o naam ek sath aaj na yaad aa sake,
Waqt ne kis shabih ko khwab o khayal kar diya.

Muddaton baad us ne aaj mujh se koi gila kiya,
Mansab-e-dilbari pe kya mujh ko bahaal kar diya. !!

चलने का हौसला नहीं रुकना मुहाल कर दिया,
इश्क़ के इस सफ़र ने तो मुझ को निढाल कर दिया !

ऐ मेरी गुल-ज़मीं तुझे चाह थी एक किताब की,
अहल-ए-किताब ने मगर क्या तेरा हाल कर दिया !

मिलते हुए दिलों के बीच और था फ़ैसला कोई,
उस ने मगर बिछड़ते वक़्त और सवाल कर दिया !

अब के हवा के साथ है दामन-ए-यार मुंतज़िर,
बानू-ए-शब के हाथ में रखना सँभाल कर दिया !

मुमकिना फ़ैसलों में एक हिज्र का फ़ैसला भी था,
हम ने तो एक बात की उस ने कमाल कर दिया !

मेरे लबों पे मोहर थी पर मेरे शीशा-रू ने तो,
शहर के शहर को मेरा वाक़िफ़-ए-हाल कर दिया !

चेहरा ओ नाम एक साथ आज न याद आ सके,
वक़्त ने किस शबीह को ख़्वाब ओ ख़याल कर दिया !

मुद्दतों बाद उस ने आज मुझ से कोई गिला किया,
मंसब-ए-दिलबरी पे क्या मुझ को बहाल कर दिया !! -Parveen Shakir Ghazal