Saawan Shayari

Wo Kagaz Ki Kashti Wo Barish Ka Pani

Wo Kagaz Ki Kashti Wo Barish Ka Pani..

Ye daulat bhi le lo ye shohrat bhi le lo
Bhale chhin lo mujh se meri jawani
Magar mujh ko lota do wo bachpan ka sawan
Wo kagaz ki kashti wo barish ka pani.

Mohalle ki sab se nishani purani
Wo budiya jise bachche kahte the nani
Wo nani ki baaton mein pariyon ka dhera
Wo chehre ki jhuriyon mein sadiyon ka phera
Bhulaye nahi bhul sakta hai koi
Wo choti si raatein wo lambi kahani
Wo kagaz ki kashti wo barish ka pani.

Kadi dhup mein apne ghar se nikalna
Wo chidiyan wo bulbul wo titli pakadna
Wo gudiyon ki shadi mein ladna-jhagadna
Wo jhulon se girna wo girte sambhlna
Wo pital ke chhallon ke pyare se tohfe
Wo tuti hui chudiyon ki nishani
Wo kagaz ki kashti wo barish ka pani.

Kabhi ret ke unche tilon pe jaana
Gharaunde banana bana ke mitana
Wo masum chahat ki taswir apni
Wo khwabon khilonon ki jagir apni
Na duniya ka gham tha na rishton ke bandhan
Badi khubsurat thi wo zindgani.

Ye daulat bhi le lo ye shohrat bhi le lo
Bhale chhin lo mujh se meri jawani
Magar mujh ko lota do wo bachpan ka saawan
Wo kagaz ki kashti wo barish ka pani.

ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो
भले छीन लो मुझ से मेरी जवानी
मगर मुझको लौटा दो वो बचपन का सावन
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

मोहल्ले की सबसे निशानी पुरानी
वो बुढ़िया जिसे बच्चे कहते थे नानी
वो नानी की बातों में परियों का डेरा
वो चेहरे की झुरिर्यों में सदियों का फेरा
भुलाए नहीं भूल सकता है कोई
वो छोटी सी रातें वो लम्बी कहानी
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

कड़ी धूप में अपने घर से निकलना
वो चिड़िया वो बुलबुल वो तितली पकड़ना
वो गुड़ियों की शादी में लड़ना झगड़ना
वो झूलों से गिरना वो गिरते सम्भलना
वो पीतल के छलों के प्यारे से तोहफ़े
वो टूटी हुई चूड़ियों की निशानी
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

कभी रेत के ऊँचे टीलों पे जाना
घरौंदे बनाना बनाके मिटाना
वो मासूम चाहत की तस्वीर अपनी
वो ख़्वाबों खिलौनों की जागीर अपनी
न दुनिया का ग़म था न रिश्तों के बंधन
बड़ी खूबसूरत थी वो ज़िंदगानी !

ये दौलत भी ले लो ये शोहरत भी ले लो
भले छीन लो मुझ से मेरी जवानी
मगर मुझ को लौटा दो बचपन का सावन
वो काग़ज़ की कश्ती वो बारिश का पानी !!

-Sudarshan Faakir Ghazal

 

Kisne Bhige Hue Balon Se Ye Jhatka Paani

Kisne bhige hue balon se ye jhatka paani,
Jhum kar aayi ghata tut ke barsa paani.

Koi matwali ghata thi ke jawani ki umang,
Ji baha le gaya barsat ka pahla paani.

Tiktiki bandhe wo firte hai main is fikr mein hun,
Kahi khaane lage na chakkar ye gahara paani.

Baat karne mein wo un aankhon se amrit tapka,
Arzoo” dekhte hi muh mein bhar aaya paani.

Ro liya fut ke seene mein jalan ab kyun ho,
Aag pighla ke nikla hai ye jalta paani.

Ye pasina wahi aansoo hai jo pi jate the tum,
Arzoo” lo wo khula bhed wo futa paani.

किसने भीगे हुए बालों से ये झटका पानी,
झूम कर आई घटा टूट के बरसा पानी !

कोई मतवाली घटा थी के जवानी की उमंग,
जी बहा ले गया बरसात का पहला पानी !

टिकटिकी बंधे वो फिरते है मैं इस फ़िक्र में हूँ,
कही खाने लगे न चक्कर ये गहरा पानी !

बात करने में वो उन आँखों से अमृत टपका,
आरज़ू” देखते ही मुह में भर आया पानी !

रो लिया फुट के सीने में जलन अब क्यों हों,
आग पिघला के निकला है ये जलता पानी !

ये पसीना वही आंसू है जो पी जाते थे तुम,
आरज़ू” लो वो खुला भेद वो फूटा पानी !!