Monday , September 28 2020

Rooh Poetry

Main Kaenat Mein Sayyaron Mein Bhatakta Tha..

Main Kaenat Mein Sayyaron Mein Bhatakta Tha.. Gulzar Nazm !

Main kaenat mein sayyaron mein bhatakta tha
Dhuen mein dhul mein uljhi hui kiran ki tarah
Main is zameen pe bhatakta raha hun sadiyon tak
Gira hai waqt se kat kar jo lamha us ki tarah

Watan mila to gali ke liye bhatakta raha
Gali mein ghar ka nishan dhundta raha barson
Tumhaari rooh mein ab jism mein bhatakta hun

Labon se chum lo aankhon se tham lo mujhko
Tumhaari kokh se janmun to phir panah mile. !! -Gulzar Nazm

मैं काएनात में सय्यारों में भटकता था
धुएँ में धूल में उलझी हुई किरन की तरह
मैं इस ज़मीं पे भटकता रहा हूँ सदियों तक
गिरा है वक़्त से कट कर जो लम्हा उस की तरह

वतन मिला तो गली के लिए भटकता रहा
गली में घर का निशाँ ढूँडता रहा बरसों
तुम्हारी रूह में अब जिस्म में भटकता हूँ

लबों से चूम लो आँखों से थाम लो मुझको
तुम्हारी कोख से जन्मूँ तो फिर पनाह मिले !! -गुलज़ार नज़्म

 

Aaj Phir Ruh Mein Ek Barq Si Lahraati Hai..

Aaj phir ruh mein ek barq si lahraati hai,
Dil ki gahrai se rone ki sada aati hai.

Yun chatakti hain kharabaat mein jaise kaliyan,
Tishnagi saghar-e-labrez se takraati hai.

Shola-e-gham ki lapak aur mera nazuk sa mizaj,
Mujh ko fitrat ke rawayye pe hansi aati hai.

Maut ek amr-e-musallam hai to phir aye saqi,
Ruh kyun zist ke aalam se ghabraati hai.

So bhi ja aye dil-e-majruh bahut raat gayi,
Ab to rah rah ke sitaron ko bhi nind aati hai.

Aur to dil ko nahi hai koi taklif “Adam“,
Han zara nabz kisi waqt thahar jati hai. !!

आज फिर रूह में एक बर्क़ सी लहराती है,
दिल की गहराई से रोने की सदा आती है !

यूँ चटकती हैं ख़राबात में जैसे कलियाँ,
तिश्नगी साग़र-ए-लबरेज़ से टकराती है !

शोला-ए-ग़म की लपक और मेरा नाज़ुक सा मिज़ाज,
मुझ को फ़ितरत के रवय्ये पे हँसी आती है !

मौत एक अम्र-ए-मुसल्लम है तो फिर ऐ साक़ी,
रूह क्यूँ ज़ीस्त के आलाम से घबराती है !

सो भी जा ऐ दिल-ए-मजरूह बहुत रात गई,
अब तो रह रह के सितारों को भी नींद आती है !

और तो दिल को नहीं है कोई तकलीफ़ “अदम“,
हाँ ज़रा नब्ज़ किसी वक़्त ठहर जाती है !!

 

Aap Ki Aankh Se Gahra Hai Meri Ruh Ka Zakhm..

Aap ki aankh se gahra hai meri ruh ka zakhm,
Aap kya soch sakenge meri tanhai ko.

Main to dam tod raha tha magar afsurda hayat,
Khud chali aai meri hausla-afzai ko.

Lazzat-e-gham ke siwa teri nigahon ke baghair,
Kaun samjha hai mere zakhm ki gahrai ko.

Main badhaunga teri shohrat-e-khush-bu ka nikhaar,
Tu dua de mere afsana-e-ruswai ko.

Wo to yun kahiye ki ek qaus-e-quzah phail gayi,
Warna main bhul gaya tha teri angdai ko. !!

आप की आँख से गहरा है मेरी रूह का ज़ख़्म,
आप क्या सोच सकेंगे मेरी तन्हाई को !

मैं तो दम तोड़ रहा था मगर अफ़्सुर्दा हयात,
ख़ुद चली आई मेरी हौसला-अफ़ज़ाई को !

लज़्ज़त-ए-ग़म के सिवा तेरी निगाहों के बग़ैर,
कौन समझा है मेरे ज़ख़्म की गहराई को !

मैं बढ़ाऊँगा तेरी शोहरत-ए-ख़ुश्बू का निखार,
तू दुआ दे मेरे अफ़्साना-ए-रुसवाई को !

वो तो यूँ कहिए कि एक क़ौस-ए-क़ुज़ह फैल गई,
वर्ना मैं भूल गया था तेरी अंगड़ाई को !!

-Mohsin Naqvi Ghazal / Poetry

 

Un Ki Khair-O-Khabar Nahi Milti..

Un ki khair-o-khabar nahi milti,
Hum ko hi khas kar nahi milti.

Shairi ko nazar nahi milti,
Mujh ko tu hi agar nahi milti.

Ruh mein dil mein jism mein duniya,
Dhundhta hun magar nahi milti.

Log kahte hain ruh bikti hai,
Main jidhar hun udhar nahi milti. !!

उनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलती,
हमको ही ख़ासकर नहीं मिलती !

शायरी को नज़र नहीं मिलती,
मुझको तू ही अगर नहीं मिलती !

रूह में दिल में जिस्म में दुनिया,
ढूंढता हूँ मगर नहीं मिलती !!

-Kumar Vishwas Poem

 

Hum Kahan Hain Ye Pata Lo Tum Bhi..

Hum kahan hain ye pata lo tum bhi,
Baat aadhi to sambhaalo tum bhi.

Dil lagaya hi nahi tha tum ne,
Dil-lagi ki thi maza lo tum bhi.

Hum ko aankhon mein na aanjo lekin,
Khud ko khud par to saza lo tum bhi.

Jism ki nind mein sone walon,
Ruh mein khwab to palo tum bhi. !!

हम कहाँ हैं ये पता लो तुम भी,
बात आधी तो सँभालो तुम भी !

दिल लगाया ही नहीं था तुम ने,
दिल-लगी की थी मज़ा लो तुम भी !

हम को आँखों में न आँजो लेकिन,
ख़ुद को ख़ुद पर तो सजा लो तुम भी !

जिस्म की नींद में सोने वालों,
रूह में ख़्वाब तो पालो तुम भी !!

-Kumar Vishwas Poem

 

Phir Meri Yaad Aa Rahi Hogi..

Phir meri yaad aa rahi hogi,
Phir wo dipak bujha rahi hogi.

Phir mere facebook pe aa kar wo,
Khud ko banner bana rahi hogi.

Apne bete ka chum kar matha,
Mujh ko tika laga rahi hogi.

Phir usi ne use chhua hoga,
Phir usi se nibha rahi hogi.

Jism chadar sa bichh gaya hoga,
Ruh silwat hata rahi hogi.

Phir se ek raat kat gayi hogi,
Phir se ek raat aa rahi hogi. !!

फिर मेरी याद आ रही होगी,
फिर वो दीपक बुझा रही होगी !

फिर मेरे फेसबुक पे आ कर वो,
ख़ुद को बैनर बना रही होगी !

अपने बेटे का चूम कर माथा,
मुझ को टीका लगा रही होगी !

फिर उसी ने उसे छुआ होगा,
फिर उसी से निभा रही होगी !

जिस्म चादर सा बिछ गया होगा,
रूह सिलवट हटा रही होगी !

फिर से एक रात कट गई होगी,
फिर से एक रात आ रही होगी !!

-Kumar Vishwas Poem