Thursday , November 26 2020

Raazdaan Poetry

Sitaaron Se Aage Jahan Aur Bhi Hain..

Sitaaron se aage jahan aur bhi hain,
Abhi ishq ke imtihaan aur bhi hain.

Tahi zindagi se nahi ye fazayein,
Yahan saikadon Carvaan aur bhi hain.

Qanaa’at na kar aalam-e-rang-o-buu par,
Chaman aur bhi aashiyaan aur bhi hain.

Agar kho gaya ek nasheman toh kya gham,
Maqaamaat-e-aah-o-fughaan aur bhi hain.

Tu shaaheen hai parwaaz hai kaam tera,
Tere saamne aasmaan aur bhi hain.

Issi roz-o-shab mein ulajh kar na reh jaa,
Ki tere zameen-o-makaan aur bhi hain.

Gaye din ki tanha tha main anjuman mein,
Yahan ab mere raazdaan aur bhi hain. !!

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं,
अभी इश्क के इम्तिहान और भी हैं !

तही ज़िन्दगी से नहीं ये फ़ज़ायें,
यहाँ सैकड़ों कारवाँ और भी हैं !

क़ना’अत न कर आलम-ए-रंग-ओ-बू पर,
चमन और भी, आशियाँ और भी हैं !

अगर खो गया एक नशेमन तो क्या ग़म,
मक़ामात-ए-आह-ओ-फ़ुग़ाँ और भी हैं !

तू शाहीं है परवाज़ है काम तेरा,
तेरे सामने आसमाँ और भी हैं !

इसी रोज़-ओ-शब में उलझ कर न रह जा,
के तेरे ज़मीन-ओ-मकाँ और भी हैं !

गए दिन के तन्हा था मैं अंजुमन में,
यहाँ अब मेरे राज़दाँ और भी हैं !!

-Allama Iqbal Ghazal / Urdu Poetry