Raasta Shayari

Ye Aane Wala Zamana Hamein Batayega..

Ye aane wala zamana hamein batayega,
Wo ghar banayega apna ki ghar basayega.

Main sare shehar mein badnaam hun khabar hai mujhe,
Wo mere naam se kya fayeda uthayega.

Phir us ke baad ujale kharidne honge,
Zara si der mein sooraj to dub jayega.

Hai sair-gah ye kachchi munder sanpon ki,
Yahan se kaise koi rasta banega.

Sunai deti nahi ghar ke shor mein dastak,
Main jaanta hun jo aayega laut jayega.

Main soch bhi nahi sakta tha un udanon mein,
Wo apne ganv ki mitti ko bhul jayega.

Hazaron rog to pale hue ho tum “Nazmi“,
Bachane wala kahan tak tumhein bachayega. !!

ये आने वाला ज़माना हमें बताएगा,
वो घर बनाएगा अपना कि घर बसाएगा !

मैं सारे शहर में बदनाम हूँ ख़बर है मुझे,
वो मेरे नाम से क्या फ़ाएदा उठाएगा !

फिर उस के बाद उजाले ख़रीदने होंगे,
ज़रा सी देर में सूरज तो डूब जाएगा !

है सैर-गाह ये कच्ची मुंडेर साँपों की,
यहाँ से कैसे कोई रास्ता बनाएगा !

सुनाई देती नहीं घर के शोर में दस्तक,
मैं जानता हूँ जो आएगा लौट जाएगा !

मैं सोच भी नहीं सकता था उन उड़ानों में,
वो अपने गाँव की मिट्टी को भूल जाएगा !

हज़ारों रोग तो पाले हुए हो तुम “नज़मी“,
बचाने वाला कहाँ तक तुम्हें बचाएगा !!

 

Ab Nahi Laut Ke Aane Wala

Ab nahi laut ke aane wala,
Ghar khula chhod ke jaane wala.

Ho gayi kuch idhar aisi baatein,
Ruk gaya roz ka aane wala.

Aks aaankhon se chura leta hai,
Ek taswir banane wala.

Lakh honton pe hansi ho lekin,
Khush nahi khush nazar aane wala.

Zad mein tufan ki aaya kaise,
Pyas sahil pe bujhane wala.

Rah gaya hai mera saya ban kar,
Mujh ko khatir mein na lane wala.

Ban gaya ham-safar aakhir “Nazmi”,
Rasta kat ke jaane wala. !!

अब नहीं लौट के आने वाला,
घर खुला छोड़ के जाने वाला !

हो गईं कुछ इधर ऐसी बातें,
रुक गया रोज़ का आने वाला !

अक्स आँखों से चुरा लेता है,
एक तस्वीर बनाने वाला !

लाख होंटों पे हँसी हो लेकिन,
ख़ुश नहीं ख़ुश नज़र आने वाला !

ज़द में तूफ़ान की आया कैसे,
प्यास साहिल पे बुझाने वाला !

रह गया है मेरा साया बन कर,
मुझ को ख़ातिर में न लाने वाला !

बन गया हम-सफ़र आख़िर “नज़्मी”,
रास्ता काट के जाने वाला !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

 

Likha Hai Mujh Ko Bhi Likhna Pada Hai

Likha hai mujh ko bhi likhna pada hai,
Jahan se hashiya chhoda gaya hai.

Agar manus hai tum se parinda,
To phir udne ko par kyun tolta hai.

Kahin kuch hai kahin kuch hai kahin kuch,
Mera saman sab bikhra hua hai.

Main ja baithun kisi bargad ke niche,
Sukun ka bas yahi ek rasta hai.

Qayamat dekhiye meri nazar se,
Sawa neze pe suraj aa gaya hai.

Shajar jaane kahan ja kar lagega,
Jise dariya baha kar le gaya hai.

Abhi to ghar nahi chhoda hai maine,
Ye kis ka naam takhti par likha hai.

Bahut roka hai is ko pattharon ne,
Magar pani ko rasta mil gaya hai. !!

लिखा है मुझ को भी लिखना पड़ा है,
जहाँ से हाशिया छोड़ा गया है !

अगर मानूस है तुम से परिंदा ,
तो फिर उड़ने को पर क्यूँ तोलता है !

कहीं कुछ है कहीं कुछ है कहीं कुछ,
मेरा सामान सब बिखरा हुआ है !

मैं जा बैठूँ किसी बरगद के नीचे,
सुकूँ का बस यही एक रास्ता है !

क़यामत देखिए मेरी नज़र से,
सवा नेज़े पे सूरज आ गया है !

शजर जाने कहाँ जा कर लगेगा,
जिसे दरिया बहा कर ले गया है !

अभी तो घर नहीं छोड़ा है मैंने,
ये किस का नाम तख़्ती पर लिखा है !

बहुत रोका है इस को पत्थरों ने,
मगर पानी को रास्ता मिल गया है !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

Jo Ho Ek Bar Wo Har Bar Ho Aisa Nahi Hota

Jo ho ek bar wo har bar ho aisa nahi hota,
Hamesha ek hi se pyar ho aisa nahi hota.

Har ek kashti ka apna tajraba hota hai dariya mein,
Safar mein roz hi manjdhaar ho aisa nahi hota.

Kahani mein to kirdaron ko jo chahe bana dije,
Haqiqat bhi kahani-kar ho aisa nahi hota.

Kahin to koi hoga jis ko apni bhi zarurat ho,
Har ek bazi mein dil ki haar ho aisa nahi hota.

Sikha deti hain chalna thokaren bhi rahgiron ko,
Koi rasta sada dushwar ho aisa nahi hota. !!

जो हो एक बार वो हर बार हो ऐसा नहीं होता,
हमेशा एक ही से प्यार हो ऐसा नहीं होता !

हर एक कश्ती का अपना तजरबा होता है दरिया में,
सफ़र में रोज़ ही मंजधार हो ऐसा नहीं होता !

कहानी में तो किरदारों को जो चाहे बना दीजे,
हक़ीक़त भी कहानी-कार हो ऐसा नहीं होता !

कहीं तो कोई होगा जिस को अपनी भी ज़रूरत हो,
हर एक बाज़ी में दिल की हार हो ऐसा नहीं होता !

सिखा देती हैं चलना ठोकरें भी राहगीरों को,
कोई रस्ता सदा दुश्वार हो ऐसा नहीं होता !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Kuch Bhi Bacha Na Kehne Ko Har Baat Ho Gayi

Kuch bhi bacha na kehne ko har baat ho gayi,
Aao kahin sharaab piyen raat ho gayi.

Phir yun hua ki waqt ka pansa palat gaya,
Ummid jeet ki thi magar mat ho gayi.

Sooraj ko chonch mein liye murgha khada raha,
Khidki ke parde khinch diye raat ho gayi.

Wo aadmi tha kitna bhala kitna pur-khulus,
Us se bhi aaj lije mulaqat ho gayi.

Raste mein wo mila tha main bach kar guzar gaya,
Us ki phati qamis mere sath ho gayi.

Naqsha utha ke koi naya shehar dhundhiye,
Is shehar mein to sab se mulaqat ho gayi. !!

कुछ भी बचा न कहने को हर बात हो गई,
आओ कहीं शराब पिएँ रात हो गई !

फिर यूँ हुआ कि वक़्त का पाँसा पलट गया,
उम्मीद जीत की थी मगर मात हो गई !

सूरज को चोंच में लिए मुर्ग़ा खड़ा रहा,
खिड़की के पर्दे खींच दिए रात हो गई !

वो आदमी था कितना भला कितना पुर-ख़ुलूस,
उस से भी आज लीजे मुलाक़ात हो गई !

रस्ते में वो मिला था मैं बच कर गुज़र गया,
उस की फटी क़मीस मेरे साथ हो गई !

नक़्शा उठा के कोई नया शहर ढूँढिए,
इस शहर में तो सब से मुलाक़ात हो गई !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Dariya Ho Ya Pahad Ho Takrana Chahiye

Dariya ho ya pahad ho takrana chahiye,
Jab tak na sans tute jiye jana chahiye.

Yun to qadam qadam pe hai diwar samne,
Koi na ho to khud se ulajh jana chahiye.

Jhukti hui nazar ho ki simta hua badan,
Har ras-bhari ghata ko baras jana chahiye.

Chaurahe bagh buildingen sab shehar to nahi,
Kuch aise waise logon se yarana chahiye.

Apni talash apni nazar apna tajraba,
Rasta ho chahe saf bhatak jana chahiye.

Chup chup makan raste gum-sum nidhaal waqt,
Is shehar ke liye koi diwana chahiye.

Bijli ka qumquma na ho kala dhuan to ho,
Ye bhi agar nahi ho to bujh jana chahiye. !!

दरिया हो या पहाड़ हो टकराना चाहिए,
जब तक न साँस टूटे जिए जाना चाहिए !

यूँ तो क़दम क़दम पे है दीवार सामने,
कोई न हो तो ख़ुद से उलझ जाना चाहिए !

झुकती हुई नज़र हो कि सिमटा हुआ बदन,
हर रस-भरी घटा को बरस जाना चाहिए !

चौराहे बाग़ बिल्डिंगें सब शहर तो नहीं,
कुछ ऐसे वैसे लोगों से याराना चाहिए !

अपनी तलाश अपनी नज़र अपना तजरबा,
रस्ता हो चाहे साफ़ भटक जाना चाहिए !

चुप चुप मकान रास्ते गुम-सुम निढाल वक़्त,
इस शहर के लिए कोई दीवाना चाहिए !

बिजली का क़ुमक़ुमा न हो काला धुआँ तो हो,
ये भी अगर नहीं हो तो बुझ जाना चाहिए !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Safar Mein Dhup To Hogi Jo Chal Sako To Chalo

Safar mein dhup to hogi jo chal sako to chalo,
Sabhi hain bhid mein tum bhi nikal sako to chalo.

Kisi ke waste rahen kahan badalti hain,
Tum apne aap ko khud hi badal sako to chalo.

Yahan kisi ko koi rasta nahi deta,
Mujhe gira ke agar tum sambhal sako to chalo.

Kahin nahi koi suraj dhuan dhuan hai faza,
Khud apne aap se bahar nikal sako to chalo.

Yahi hai zindagi kuch khwab chand ummiden,
Inhin khilaunon se tum bhi bahal sako to chalo. !!

सफ़र में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो,
सभी हैं भीड़ में तुम भी निकल सको तो चलो !

किसी के वास्ते राहें कहाँ बदलती हैं,
तुम अपने आप को ख़ुद ही बदल सको तो चलो !

यहाँ किसी को कोई रास्ता नहीं देता,
मुझे गिरा के अगर तुम सँभल सको तो चलो !

कहीं नहीं कोई सूरज धुआँ धुआँ है फ़ज़ा,
ख़ुद अपने आप से बाहर निकल सको तो चलो !

यही है ज़िंदगी कुछ ख़्वाब चंद उम्मीदें,
इन्हीं खिलौनों से तुम भी बहल सको तो चलो !!

-Nida Fazli Ghazal / Safar Shayari

 

Apni Marzi Se Kahan Apne Safar Ke Hum Hain

Apni marzi se kahan apne safar ke hum hain,
Rukh hawaon ka jidhar ka hai udhar ke hum hain.

Pahle har cheez thi apni magar ab lagta hai,
Apne hi ghar mein kisi dusre ghar ke hum hain.

Waqt ke sath hai mitti ka safar sadiyon se,
Kis ko malum kahan ke hain kidhar ke hum hain.

Chalte rahte hain ki chalna hai musafir ka nasib,
Sochte rahte hain kis rahguzar ke hum hain.

Hum wahan hain jahan kuch bhi nahi rasta na dayar,
Apne hi khoye hue sham o sehar ke hum hain.

Gintiyon mein hi gine jate hain har daur mein hum,
Har qalamkar ki be-naam khabar ke hum hain. !!

अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं,
रुख़ हवाओं का जिधर का है उधर के हम हैं !

पहले हर चीज़ थी अपनी मगर अब लगता है,
अपने ही घर में किसी दूसरे घर के हम हैं !

वक़्त के साथ है मिटटी का सफ़र सदियों से,
किस को मालूम कहाँ के हैं किधर के हम हैं !

चलते रहते हैं कि चलना है मुसाफ़िर का नसीब,
सोचते रहते हैं किस राहगुज़र के हम हैं !

हम वहाँ हैं जहाँ कुछ भी नहीं रस्ता न दयार,
अपने ही खोए हुए शाम ओ सहर के हम हैं !

गिनतियों में ही गिने जाते हैं हर दौर में हम,
हर क़लमकार की बे-नाम ख़बर के हम हैं !!

-Nida Fazli Sad Poetry / Ghazal

 

Koi Na Jaan Saka Wo Kaha Se Aaya Tha..

Koi na jaan saka wo kaha se aaya tha,
Aur usne dhoop se badal ko kyon milaya tha.

Ye baat logon ko shayad pasand aayi nahi,
Makaan chhota tha lekin bahut sajaya tha.

Wo ab wahan hain jahan raste nahi jate,
Main jiske saath yahaan pichhle saal aaya tha.

Suna hai uspe chahakne lage parinde bhi,
Wo ek pauda jo hamne kabhi lagaya tha.

Chiraagh doob gaye Kapkapaye honton par,
Kisi ka haath humaare labon tak aaya tha.

Badan ko chhod ke jana hai aasman ki taraf,
Samandaron ne hamein ye sabaq padaya tha.

Tamaam umar mera dam isi dhuein mein ghuta,
Wo ek chiraagh tha maine use bujhaaya tha. !!

कोई न जान सका वो कहाँ से आया था,
और उसने धुप से बादल को क्यों मिलाया था !

यह बात लोगों को शायद पसंद आयी नहीं,
मकान छोटा था लेकिन बहुत सजाया था !

वो अब वहाँ हैं जहाँ रास्ते नहीं जाते,
मैं जिसके साथ यहाँ पिछले साल आया था !

सुना है उस पे चहकने लगे परिंदे भी,
वो एक पौधा जो हमने कभी लगाया था !

चिराग़ डूब गए कपकपाये होंठों पर,
किसी का हाथ हमारे लबों तक आया था !

तमाम उम्र मेरा दम इसी धुएं में घुटा,
वो एक चिराग़ था मैंने उसे बुझाया था !! -Bashir Badr Ghazal

 

Sar Jhukaoge To Patthar Devta Ho Jayega..

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega

 

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega,
Itna mat chaho use wo bewafa ho jayega.

Hum bhi dariya hain hamein apna hunar malum hai,
Jis taraf bhi chal padenge rasta ho jayega.

Kitni sachchai se mujh se zindagi ne kah diya,
Tu nahin mera to koi dusra ho jayega.

Main khuda ka naam lekar pi raha hun dosto,
Zahar bhi is mein agar hoga dawa ho jayega.

Sab usi ke hain hawa khushboo zamin-o-aasman,
Main jahan bhi jaunga us ko pata ho jayega. !!

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा,
इतना मत चाहो उसे वो बेवफ़ा हो जाएगा !

हम भी दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है,
जिस तरफ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा !

कितनी सच्चाई से मुझसे ज़िन्दगी ने कह दिया,
तू नहीं मेरा तो कोई दूसरा हो जाएगा !

मैं खुदा का नाम लेकर पी रहा हूं दोस्तों,
ज़हर भी इसमें अगर होगा दवा हो जाएगा !

सब उसी के हैं हवा ख़ुशबू ज़मीन-ओ-आसमां
मैं जहां भी जाऊंगा, उसको पता हो जाएगा !! -Bashir Badr Ghazal