Raah Shayari

Jo Ho Ek Bar Wo Har Bar Ho Aisa Nahi Hota

Jo ho ek bar wo har bar ho aisa nahi hota,
Hamesha ek hi se pyar ho aisa nahi hota.

Har ek kashti ka apna tajraba hota hai dariya mein,
Safar mein roz hi manjdhaar ho aisa nahi hota.

Kahani mein to kirdaron ko jo chahe bana dije,
Haqiqat bhi kahani-kar ho aisa nahi hota.

Kahin to koi hoga jis ko apni bhi zarurat ho,
Har ek bazi mein dil ki haar ho aisa nahi hota.

Sikha deti hain chalna thokaren bhi rahgiron ko,
Koi rasta sada dushwar ho aisa nahi hota. !!

जो हो एक बार वो हर बार हो ऐसा नहीं होता,
हमेशा एक ही से प्यार हो ऐसा नहीं होता !

हर एक कश्ती का अपना तजरबा होता है दरिया में,
सफ़र में रोज़ ही मंजधार हो ऐसा नहीं होता !

कहानी में तो किरदारों को जो चाहे बना दीजे,
हक़ीक़त भी कहानी-कार हो ऐसा नहीं होता !

कहीं तो कोई होगा जिस को अपनी भी ज़रूरत हो,
हर एक बाज़ी में दिल की हार हो ऐसा नहीं होता !

सिखा देती हैं चलना ठोकरें भी राहगीरों को,
कोई रस्ता सदा दुश्वार हो ऐसा नहीं होता !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Safar Mein Dhup To Hogi Jo Chal Sako To Chalo

Safar mein dhup to hogi jo chal sako to chalo,
Sabhi hain bhid mein tum bhi nikal sako to chalo.

Kisi ke waste rahen kahan badalti hain,
Tum apne aap ko khud hi badal sako to chalo.

Yahan kisi ko koi rasta nahi deta,
Mujhe gira ke agar tum sambhal sako to chalo.

Kahin nahi koi suraj dhuan dhuan hai faza,
Khud apne aap se bahar nikal sako to chalo.

Yahi hai zindagi kuch khwab chand ummiden,
Inhin khilaunon se tum bhi bahal sako to chalo. !!

सफ़र में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो,
सभी हैं भीड़ में तुम भी निकल सको तो चलो !

किसी के वास्ते राहें कहाँ बदलती हैं,
तुम अपने आप को ख़ुद ही बदल सको तो चलो !

यहाँ किसी को कोई रास्ता नहीं देता,
मुझे गिरा के अगर तुम सँभल सको तो चलो !

कहीं नहीं कोई सूरज धुआँ धुआँ है फ़ज़ा,
ख़ुद अपने आप से बाहर निकल सको तो चलो !

यही है ज़िंदगी कुछ ख़्वाब चंद उम्मीदें,
इन्हीं खिलौनों से तुम भी बहल सको तो चलो !!

-Nida Fazli Ghazal / Safar Shayari

 

Apni Marzi Se Kahan Apne Safar Ke Hum Hain

Apni marzi se kahan apne safar ke hum hain,
Rukh hawaon ka jidhar ka hai udhar ke hum hain.

Pahle har cheez thi apni magar ab lagta hai,
Apne hi ghar mein kisi dusre ghar ke hum hain.

Waqt ke sath hai mitti ka safar sadiyon se,
Kis ko malum kahan ke hain kidhar ke hum hain.

Chalte rahte hain ki chalna hai musafir ka nasib,
Sochte rahte hain kis rahguzar ke hum hain.

Hum wahan hain jahan kuch bhi nahi rasta na dayar,
Apne hi khoye hue sham o sehar ke hum hain.

Gintiyon mein hi gine jate hain har daur mein hum,
Har qalamkar ki be-naam khabar ke hum hain. !!

अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं,
रुख़ हवाओं का जिधर का है उधर के हम हैं !

पहले हर चीज़ थी अपनी मगर अब लगता है,
अपने ही घर में किसी दूसरे घर के हम हैं !

वक़्त के साथ है मिटटी का सफ़र सदियों से,
किस को मालूम कहाँ के हैं किधर के हम हैं !

चलते रहते हैं कि चलना है मुसाफ़िर का नसीब,
सोचते रहते हैं किस राहगुज़र के हम हैं !

हम वहाँ हैं जहाँ कुछ भी नहीं रस्ता न दयार,
अपने ही खोए हुए शाम ओ सहर के हम हैं !

गिनतियों में ही गिने जाते हैं हर दौर में हम,
हर क़लमकार की बे-नाम ख़बर के हम हैं !!

-Nida Fazli Sad Poetry / Ghazal

 

Apne Hamrah Khud Chala Karna..

Apne hamrah khud chala karna,
Kaun aayega mat ruka karna.

Khud ko pahchanne ki koshish mein,
Der tak aaina taka karna.

Rukh agar bastiyon ki jaanib hai,
Har taraf dekh kar chala karna.

Wo payambar tha bhul jata tha,
Sirf apne liye dua karna.

Yaar kya zindagi hai sooraj ki,
Subh se sham tak jala karna.

Kuch to apni khabar mile mujh ko,
Mere bare mein kuch kaha karna.

Main tumhein aazmaunga ab ke,
Tum mohabbat ki inteha karna.

Us ne sach bol kar bhi dekha hai,
Jis ki aadat hai chup raha karna. !!

अपने हमराह ख़ुद चला करना,
कौन आएगा मत रुका करना !

ख़ुद को पहचानने की कोशिश में,
देर तक आइना तका करना !

रुख़ अगर बस्तियों की जानिब है,
हर तरफ़ देख कर चला करना !

वो पयम्बर था भूल जाता था,
सिर्फ़ अपने लिए दुआ करना !

यार क्या ज़िंदगी है सूरज की,
सुब्ह से शाम तक जला करना !

कुछ तो अपनी ख़बर मिले मुझ को,
मेरे बारे में कुछ कहा करना !

मैं तुम्हें आज़माऊँगा अब के,
तुम मोहब्बत की इंतिहा करना !

उस ने सच बोल कर भी देखा है,
जिस की आदत है चुप रहा करना !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Tumhari Raah Mein Mitti Ke Ghar Nahi Aate..

Tumhari raah mein mitti ke ghar nahi aate,
Is liye to tumhein hum nazar nahi aate.

Mohabbaton ke dinon ki yehi kharabi hai,
Ye ruth jayen to laut kar nahi aate.

Jinhen saliqa hai tehzib-e-gham samajhne ka,
Unhin ke rone mein aansoo nazar nahi aate.

Khushi ki aankh mein aansoo ki bhi jagah rakhna,
Bure zamane kabhi puchh kar nahi aate.

Bisat-e-ishq pe badhna kise nahi aata,
Ye aur baat ki bachne ke ghar nahi aate.

“Wasim” zehan banate hain to wahi akhabaar,
Jo le ke ek bhi achchhi khabar nahi aate. !!

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते,
इसीलिए तुम्हे हम नज़र नहीं आते !

मोहब्बतो के दिनों की यही खराबी है,
ये रूठ जाएँ तो लौट कर नहीं आते !

जिन्हें सलीका है तहजीब-ए-गम समझाने का,
उन्ही के रोने में आंसू नज़र नहीं आते !

खुशी की आँख में आंसू की भी जगह रखना,
बुरे ज़माने कभी पूछ कर नहीं आते !

बिसात-ए-इश्क़ पे बढ़ना किसे नहीं आता,
यह और बात कि बचने के घर नहीं आते !

“वसीम” जहन बनाते हैं तो वही अख़बार,
जो ले के एक भी अच्छी ख़बर नहीं आते !! -Wasim Barelvi Ghazal

 

Main Kab Kehta Hun Woh Accha Bahut Hai..

Main kab kehta hoon woh accha bahut hai

Main kab kehta hun woh accha bahut hai,
Magar usne mujhe chaha bahut hai.

Khuda is shehar ko mehfuz rakhe,
Ye bachchon ki tarah hansta bahut hai.

Main tujhse roz milna chahta hun,
Magar is raah mein khatra bahut hai.

Mera dil baarishon mein phool jaisa,
Ye bachcha raat mein rota bahut hai.

Isey aansoo ka ek qatra na smjho,
Kuaan hai aur ye gehra bahut hai.

Usey shohrat ne tanha kar diya hai,
Samandar hai magar pyasa bahut hai.

Main ek lamhe mein sadiyan dekhta hun,
Tumhare sath ek lamha bahut hai.

Mera hansna zaruri ho gya hai,
Yahan har shakhs sanjida bahut hai. !!

मै कब कहता हूँ वो अच्छा बहुत है,
मगर उसने मुझे चाहा बहुत है !

खुदा इस शहर को महफूज़ रखे,
ये बच्चों की तरह हँसता बहुत है !

मै तुझसे रोज़ मिलना चाहता हूँ,
मगर इस राह में खतरा बहुत है !

मेरा दिल बारिशों में फूल जैसा,
ये बच्चा रात में रोता बहुत है !

इसे आंसू का एक कतरा न समझो,
कुँआ है और ये गहरा बहुत है !

उसे शोहरत ने तनहा कर दिया है,
समंदर है मगर प्यासा बहुत है !

मै एक लम्हे में सदियाँ देखता हूँ,
तुम्हारे साथ एक लम्हा बहुत है !

मेरा हँसना ज़रूरी हो गया है,
यहाँ हर शख्स संजीदा बहुत है !! -Bashir Badr Ghazal

 

Yun Hi Be-Sabab Na Phira Karo Koi Sham Ghar Mein Raha Karo..

Yun hi be-sabab na phira karo koi sham ghar mein raha karo,
Wo ghazal ki sachchi kitab hai use chupke chupke padha karo.

Koi hath bhi na milayega jo gale miloge tapak se,
Ye naye mizaj ka shehar hai zara fasle se mila karo.

Abhi raah mein kayi mod hain koi ayega koi jayega,
Tumhein jis ne dil se bhula diya use bhulne ki dua karo.

Mujhe ishtihaar si lagti hain ye mohabbaton ki kahaniyan,
Jo kaha nahin wo suna karo jo suna nahin wo kaha karo.

Kabhi husn-e parda-nashin bhi ho zara aashiqana libas mein,
Jo main ban sanwar ke kahin chalun mere sath tum bhi chala karo.

Nahin be-hijab wo chand sa ki nazar ka koi asar na ho,
Use itni garmi-e-shauq se badi der tak na taka karo.

Ye khizan ki zard si shaal mein jo udas ped ke pas hai
Ye tumhaare ghar ki bahaar hai use aansuon se hara karo. !!

यूं ही बे-सबब न फिरा करो कोई शाम घर में रहा करो,
वो ग़ज़ल की सच्ची किताब है उसे चुपके-चुपके पढ़ा करो !

कोई हाथ भी न मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से,
ये नए मिज़ाज का शहर है ज़रा फ़ासले से मिला करो !

अभी राह में कई मोड़ हैं कोई आएगा कोई जाएगा,
तुम्हें जिसने दिल से भुला दिया उसे भूलने की दुआ करो !

मुझे इश्तिहार-सी लगती हैं ये मोहब्बतों की कहानियां,
जो कहा नहीं, वो सुना करो जो सुना नहीं वो कहा करो !

नहीं बे हिजाब वो चाँद सा कि नज़र का कोई असर न हो,
उसे इतनी गर्मी-ए-शौक़ से बड़ी देर तक न तका करो !

ये ख़िज़ां की ज़र्द-सी शाल में जो उदास पेड़ के पास है
ये तुम्हारे घर की बहार है उसे आंसुओं से हरा करो !! -Bashir Badr Ghazal

 

Ghar Se Ye Soch Ke Nikla Hun Ki Mar Jaana Hai

Ghar se ye soch ke nikla hun ki mar jaana hai,
Ab koi raah dikha de ki kidhar jaana hai.

Jism se saath nibhane ki mat ummid rakho,
Is musafir ko to raste mein thahar jaana hai.

Maut lamhe ki sada zindagi umron ki pukar,
Main yahi soch ke zinda hun ki mar jaana hai.

Nashsha aisa tha ki mai-khane ko duniya samjha,
Hosh aaya to khayal aaya ki ghar jaana hai.

Mere jazbe ki badi qadar hai logon mein magar,
Mere jazbe ko mere sath hi mar jaana hai. !!

घर से ये सोच के निकला हूँ कि मर जाना है,
अब कोई राह दिखा दे कि किधर जाना है !

जिस्म से साथ निभाने की मत उम्मीद रखो,
इस मुसाफिर को तो रास्ते में ठहर जाना है !

मौत लम्हे की सदा ज़िंदगी उम्रों की पुकार,
मैं यही सोच के ज़िंदा हूँ की मर जाना है !

नश्शा ऐसा था की मय-खाने को दुनिया समझा,
होश आया तो ख़याल आया की घर जाना है !

मेरे जज़्बे की बड़ी कद्र हैं लोगों में मगर,
मेरे ज़ज्बें को मेरे साथ ही मर जाना है !! -Rahat Indori Ghazal

 

Pyar Ki Aanch Se To Patthar Bhi Pighal Jata Hai

Pyar ki aanch se to patthar bhi pighal jata hai
Sachche dil se saath de to nasib bhi badl jata hai
Pyaar ki raah par agar mil jaye sachcha humsafar
To pyar wo ehsaas hai jise har inshan sambhal jata hai

प्यार की आंच से तोह पत्थर भी पिघल जाता हैं
सच्चे दिल से साथ दे तो नसीब भी बदल जाता हैं
प्यार की राहों पर अगर मिल जाये सच्चा हमसफ़र,
तो प्यार वो एहसास है जिससे हर इंसान संभल जाता हैं

Happy Valentine’s Day

 

Aaye Kuchh Abr Kuchh Sharab Aaye..

Aaye kuchh abr kuchh sharab aaye,
Is ke baad aaye jo azab aaye

Baam-e-mina se mahtab utre,
Dast-e-saqi mein aaftab aaye.

Har rag-e-khun mein phir charaghan ho,
Samne phir wo be-naqab aaye.

Umar ke har waraq pe dil ki nazar,
Teri mehr-o-wafa ke bab aaye.

Kar raha tha gham-e-jahan ka hisab,
Aaj tum yaad be-hisab aaye.

Na gayi tere gham ki sardari,
Dil mein yun roz inqalab aaye.

Jal uthe bazm-e-ghair ke dar-o-baam,
Jab bhi hum khanuman-kharab aaye.

Is tarah apni khamushi gunji,
Goya har samt se jawab aaye.

Faiz” thi rah sar-ba-sar manzil,
Hum jahan pahunche kaamyab aaye. !!

आए कुछ अब्र कुछ शराब आए
इस के बाद आए जो अज़ाब आए !

बाम-ए-मीना से माहताब उतरे,
दस्त-ए-साक़ी में आफ़्ताब आए !

हर रग-ए-ख़ूँ में फिर चराग़ाँ हो,
सामने फिर वो बे-नक़ाब आए !

उम्र के हर वरक़ पे दिल की नज़र,
तेरी मेहर-ओ-वफ़ा के बाब आए !

कर रहा था ग़म-ए-जहाँ का हिसाब,
आज तुम याद बे-हिसाब आए !

न गई तेरे ग़म की सरदारी,
दिल में यूँ रोज़ इंक़लाब आए !

जल उठे बज़्म-ए-ग़ैर के दर-ओ-बाम,
जब भी हम ख़ानुमाँ-ख़राब आए !

इस तरह अपनी ख़ामुशी गूँजी,
गोया हर सम्त से जवाब आए !

फ़ैज़” थी राह सर-ब-सर मंज़िल,
हम जहाँ पहुँचे कामयाब आए !!