Pyaas Shayari

Main Kab Kehta Hun Woh Accha Bahut Hai..

Main kab kehta hoon woh accha bahut hai

Main kab kehta hun woh accha bahut hai,
Magar usne mujhe chaha bahut hai.

Khuda is shehar ko mehfuz rakhe,
Ye bachchon ki tarah hansta bahut hai.

Main tujhse roz milna chahta hun,
Magar is raah mein khatra bahut hai.

Mera dil baarishon mein phool jaisa,
Ye bachcha raat mein rota bahut hai.

Isey aansoo ka ek qatra na smjho,
Kuaan hai aur ye gehra bahut hai.

Usey shohrat ne tanha kar diya hai,
Samandar hai magar pyasa bahut hai.

Main ek lamhe mein sadiyan dekhta hun,
Tumhare sath ek lamha bahut hai.

Mera hansna zaruri ho gya hai,
Yahan har shakhs sanjida bahut hai. !!

मै कब कहता हूँ वो अच्छा बहुत है,
मगर उसने मुझे चाहा बहुत है !

खुदा इस शहर को महफूज़ रखे,
ये बच्चों की तरह हँसता बहुत है !

मै तुझसे रोज़ मिलना चाहता हूँ,
मगर इस राह में खतरा बहुत है !

मेरा दिल बारिशों में फूल जैसा,
ये बच्चा रात में रोता बहुत है !

इसे आंसू का एक कतरा न समझो,
कुँआ है और ये गहरा बहुत है !

उसे शोहरत ने तनहा कर दिया है,
समंदर है मगर प्यासा बहुत है !

मै एक लम्हे में सदियाँ देखता हूँ,
तुम्हारे साथ एक लम्हा बहुत है !

मेरा हँसना ज़रूरी हो गया है,
यहाँ हर शख्स संजीदा बहुत है !! -Bashir Badr Ghazal

 

Hath Khali Hain Tere Shahr Se Jate Jate..

Hath khali hain tere shahr se jate jate,
Jaan hoti to meri jaan lutate jate.

Ab to har hath ka patthar hamein pahchanta hai,
Umar guzri hai tere shahr mein aate jate.

Ab ke mayus hua yaron ko rukhsat kar ke,
Ja rahe the to koi zakhm lagate jate.

Rengne ki bhi ijazat nahi hum ko warna,
Hum jidhar jate naye phool khilate jate.

Main to jalte hue sahraon ka ek patthar tha,
Tum to dariya the meri pyas bujhate jate.

Mujh ko rone ka saliqa bhi nahi hai shayad,
Log hanste hain mujhe dekh ke aate jate.

Hum se pahle bhi musafir kayi guzre honge,
Kam se kam rah ke patthar to hatate jate. !!

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते !

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते !

अब के मायूस हुआ यारों को रुख़्सत कर के,
जा रहे थे तो कोई ज़ख़्म लगाते जाते !

रेंगने की भी इजाज़त नहीं हम को वर्ना,
हम जिधर जाते नए फूल खिलाते जाते !

मैं तो जलते हुए सहराओं का एक पत्थर था,
तुम तो दरिया थे मेरी प्यास बुझाते जाते !

मुझ को रोने का सलीक़ा भी नहीं है शायद,
लोग हँसते हैं मुझे देख के आते जाते !

हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे,
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते !!

-Rahat Indori Ghazal /Poetry