Tuesday , October 27 2020

Poetry Types Zameen

Faza Ye Budhi Lagti Hai..

Faza Ye Budhi Lagti Hai.. { Faza – Gulzar Nazm } !

Faza ye budhi lagti hai
Purana lagta hai makan
Samundaron ke paniyon se nil ab utar chuka
Hawa ke jhonke chhute hain to khurdure se lagte hain
Bujhe hue bahut se tukde aaftab ke
Jo girte hain zameen ki taraf to aisa lagta hai
Ki dant girne lag gaye hain buddhe aasman ke

Faza ye budhi lagti hai
Purana lagta hai makan. !! -Gulzar Nazm

फ़ज़ा ये बूढ़ी लगती है
पुराना लगता है मकाँ
समुंदरों के पानियों से नील अब उतर चुका
हवा के झोंके छूते हैं तो खुरदुरे से लगते हैं
बुझे हुए बहुत से टुकड़े आफ़्ताब के
जो गिरते हैं ज़मीन की तरफ़ तो ऐसा लगता है
कि दाँत गिरने लग गए हैं बुड्ढे आसमान के

फ़ज़ा ये बूढ़ी लगती है
पुराना लगता है मकाँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Aath Hi Billion Umar Zameen Ki Hogi Shayad..

Aath Hi Billion Umar Zameen Ki Hogi Shayad.. Gulzar Nazm !

Aath hi billion umar zameen ki hogi shayad
Aisa hi andaza hai kuch science ka
Char eshaariya billion salon ki umar to bit chuki hai
Kitni der laga di tum ne aane mein
Aur ab mil kar
Kis duniya ki duniya-dari soch rahi ho
Kis mazhab aur zat aur pat ki fikar lagi hai
Aao chalen ab

Tin hi billion sal bache hain. !! -Gulzar Nazm

आठ ही बिलियन उम्र ज़मीं की होगी शायद
ऐसा ही अंदाज़ा है कुछ साइंस का
चार एशारिया बिलियन सालों की उम्र तो बीत चुकी है
कितनी देर लगा दी तुम ने आने में
और अब मिल कर
किस दुनिया की दुनिया-दारी सोच रही हो
किस मज़हब और ज़ात और पात की फ़िक्र लगी है
आओ चलें अब

तीन ही बिलियन साल बचे हैं !! -गुलज़ार नज़्म

 

Waqt Ki Aankh Pe Patti Bandh Ke Khel Rahe The Aankh Micholi..

Waqt Ki Aankh Pe Patti Bandh Ke Khel Rahe The Aankh Micholi.. { Waqt 2 – Gulzar Nazm } !

Waqt ki aankh pe patti bandh ke khel rahe the aankh micholi
Raat aur din aur chaand aur main
Jaane kaise kainat mein atka panv
Dur gira ja kar main jaise
Raushni se dhakka kha ke parchhain zameen par girti hai. !

Dhayya chhune se pahle hi
Waqt ne chor kaha aur aankhen khol ke mujh ko pakad liya. !! -Gulzar Nazm

वक़्त की आँख पे पट्टी बाँध के खेल रहे थे आँख मिचोली
रात और दिन और चाँद और मैं
जाने कैसे काएनात में अटका पाँव
दूर गिरा जा कर मैं जैसे
रौशनी से धक्का खा के परछाईं ज़मीं पर गिरती है !

धय्या छूने से पहले ही
वक़्त ने चोर कहा और आँखें खोल के मुझ को पकड़ लिया !! -गुलज़ार नज़्म

 

Main Kaenat Mein Sayyaron Mein Bhatakta Tha..

Main Kaenat Mein Sayyaron Mein Bhatakta Tha.. Gulzar Nazm !

Main kaenat mein sayyaron mein bhatakta tha
Dhuen mein dhul mein uljhi hui kiran ki tarah
Main is zameen pe bhatakta raha hun sadiyon tak
Gira hai waqt se kat kar jo lamha us ki tarah

Watan mila to gali ke liye bhatakta raha
Gali mein ghar ka nishan dhundta raha barson
Tumhaari rooh mein ab jism mein bhatakta hun

Labon se chum lo aankhon se tham lo mujhko
Tumhaari kokh se janmun to phir panah mile. !! -Gulzar Nazm

मैं काएनात में सय्यारों में भटकता था
धुएँ में धूल में उलझी हुई किरन की तरह
मैं इस ज़मीं पे भटकता रहा हूँ सदियों तक
गिरा है वक़्त से कट कर जो लम्हा उस की तरह

वतन मिला तो गली के लिए भटकता रहा
गली में घर का निशाँ ढूँडता रहा बरसों
तुम्हारी रूह में अब जिस्म में भटकता हूँ

लबों से चूम लो आँखों से थाम लो मुझको
तुम्हारी कोख से जन्मूँ तो फिर पनाह मिले !! -गुलज़ार नज़्म

 

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen..

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen.. Gulzar Poetry !

Zikr aaye to mere lab se duaen niklen,
Shama jalti hai to lazim hai shuaen niklen.

Waqt ki zarb se kat jate hain sab ke sine,
Chaand ka chhalka utar jaye to qashen niklen.

Dafn ho jayen ki zarkhez zameen lagti hai,
Kal isi mitti se shayad meri shakhen niklen.

Chand ummiden nichodi thin to aahen tapkin,
Dil ko pighlaen to ho sakta hai sansen niklen.

Gaar ke munh pe rakha rahne do sang-e-khurshid,
Gaar mein haath na dalo kahin raaten niklen. !! -Gulzar Poetry

ज़िक्र आए तो मेरे लब से दुआएँ निकलें,
शमा जलती है तो लाज़िम है शुआएँ निकलें !

वक़्त की ज़र्ब से कट जाते हैं सब के सीने,
चाँद का छलका उतर जाए तो क़ाशें निकलें !

दफ़्न हो जाएँ कि ज़रख़ेज़ ज़मीं लगती है,
कल इसी मिट्टी से शायद मेरी शाख़ें निकलें !

चंद उम्मीदें निचोड़ी थीं तो आहें टपकीं,
दिल को पिघलाएँ तो हो सकता है साँसें निकलें !

ग़ार के मुँह पे रखा रहने दो संग-ए-ख़ुर्शीद,
ग़ार में हाथ न डालो कहीं रातें निकलें !! -गुलज़ार कविता

 

Phoolon Ki Tarah Lab Khol Kabhi..

Phoolon Ki Tarah Lab Khol Kabhi.. Gulzar Poetry !

Phoolon ki tarah lab khol kabhi,
Khushboo ki zaban mein bol kabhi.

Alfaz parakhta rahta hai,
Aawaz hamari tol kabhi.

Anmol nahi lekin phir bhi,
Puchh to muft ka mol kabhi.

Khidki mein kati hain sab raaten,
Kuch chauras thin kuch gol kabhi.

Ye dil bhi dost zameen ki tarah,
Ho jata hai danwa dol kabhi. !! -Gulzar Poetry

फूलों की तरह लब खोल कभी,
ख़ुशबू की ज़बाँ में बोल कभी !

अल्फ़ाज़ परखता रहता है,
आवाज़ हमारी तोल कभी !

अनमोल नहीं लेकिन फिर भी,
पूछ तो मुफ़्त का मोल कभी !

खिड़की में कटी हैं सब रातें,
कुछ चौरस थीं कुछ गोल कभी !

ये दिल भी दोस्त ज़मीं की तरह,
हो जाता है डाँवा डोल कभी !! -गुलज़ार कविता

 

Jab Bhi Aankhon Mein Ashk Bhar Aaye..

Jab Bhi Aankhon Mein Ashk Bhar Aaye.. Gulzar Poetry !

Jab bhi aankhon mein ashk bhar aaye,
Log kuch dubte nazar aaye.

Apna mehwar badal chuki thi zameen,
Hum khala se jo laut kar aaye.

Chaand jitne bhi gum hue shab ke,
Sab ke ilzam mere sar aaye.

Chand lamhe jo laut kar aaye,
Raat ke aakhiri pahar aaye.

Ek goli gayi thi su-e-falak,
Ek parinde ke baal-o-par aaye.

Kuch charaghon ki sans tut gayi,
Kuch ba-mushkil dam-e-sahar aaye.

Mujh ko apna pata-thikana mile,
Wo bhi ek bar mere ghar aaye. !! -Gulzar Poetry

जब भी आँखों में अश्क भर आए,
लोग कुछ डूबते नज़र आए !

अपना मेहवर बदल चुकी थी ज़मीं,
हम ख़ला से जो लौट कर आए !

चाँद जितने भी गुम हुए शब के,
सब के इल्ज़ाम मेरे सर आए !

चंद लम्हे जो लौट कर आए,
रात के आख़िरी पहर आए !

एक गोली गई थी सू-ए-फ़लक,
इक परिंदे के बाल-ओ-पर आए !

कुछ चराग़ों की साँस टूट गई,
कुछ ब-मुश्किल दम-ए-सहर आए !

मुझ को अपना पता-ठिकाना मिले,
वो भी इक बार मेरे घर आए !! -गुलज़ार कविता

 

Hawa Ke Sing Na Pakdo Khaded Deti Hai..

Hawa Ke Sing Na Pakdo Khaded Deti Hai.. Gulzar Poetry !

Hawa ke sing na pakdo khaded deti hai,
Zameen se pedon ke tanke udhed deti hai.

Main chup karaata hun har shab umadti barish ko,
Magar ye roz gayi baat chhed deti hai.

Zameen sa dusra koi sakhi kahan hoga,
Zara sa bij utha le to ped deti hai.

Rundhe gale ki duaon se bhi nahi khulta,
Dar-e-hayat jise maut bhed deti hai. !! -Gulzar Poetry

हवा के सींग न पकड़ो खदेड़ देती है,
ज़मीं से पेड़ों के टाँके उधेड़ देती है !

मैं चुप कराता हूँ हर शब उमडती बारिश को,
मगर ये रोज़ गई बात छेड़ देती है !

ज़मीं सा दूसरा कोई सख़ी कहाँ होगा,
ज़रा सा बीज उठा ले तो पेड़ देती है !

रुँधे गले की दुआओं से भी नहीं खुलता,
दर-ए-हयात जिसे मौत भेड़ देती है !! -गुलज़ार कविता

 

Kahin To Gard Ude Ya Kahin Ghubar Dikhe..

Kahin To Gard Ude Ya Kahin Ghubar Dikhe.. Gulzar Poetry !

Kahin to gard ude ya kahin ghubar dikhe,
Kahin se aata hua koi shahsawar dikhe.

Khafa thi shakh se shayad ki jab hawa guzri,
Zameen pe girte hue phool be-shumar dikhe.

Rawan hain phir bhi ruke hain wahin pe sadiyon se,
Bade udaas lage jab bhi aabshaar dikhe.

Kabhi to chaunk ke dekhe koi hamari taraf,
Kisi ki aankh mein hum ko bhi intezaar dikhe.

Koi tilismi sifat thi jo is hujum mein wo,
Hue jo aankh se ojhal to bar bar dikhe. !! -Gulzar Poetry

कहीं तो गर्द उड़े या कहीं ग़ुबार दिखे,
कहीं से आता हुआ कोई शहसवार दिखे !

ख़फ़ा थी शाख़ से शायद कि जब हवा गुज़री,
ज़मीं पे गिरते हुए फूल बे-शुमार दिखे !

रवाँ हैं फिर भी रुके हैं वहीं पे सदियों से,
बड़े उदास लगे जब भी आबशार दिखे !

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़,
किसी की आँख में हम को भी इंतिज़ार दिखे !

कोई तिलिस्मी सिफ़त थी जो इस हुजूम में वो,
हुए जो आँख से ओझल तो बार बार दिखे !! -गुलज़ार कविता

 

Gulon Ko Sunna Zara Tum Sadayen Bheji Hain..

Gulon Ko Sunna Zara Tum Sadayen Bheji Hain.. Gulzar Poetry !

Gulon ko sunna zara tum sadayen bheji hain,
Gulon ke haath bahut si duayen bheji hain.

Jo aaftab kabhi bhi ghurub hota nahi,
Hamara dil hai usi ki shuayen bheji hain.

Agar jalaye tumhein bhi shifa mile shayad,
Ek aise dard ki tum ko shuayen bheji hain.

Tumhaari khushk si aankhen bhali nahi lagtin,
Wo sari chizen jo tum ko rulayen bheji hain.

Siyah rang chamakti hui kanari hai,
Pahan lo achchhi lagengi ghatayen bheji hain.

Tumhaare khwaab se har shab lipat ke sote hain,
Sazayen bhej do hum ne khatayen bheji hain.

Akela patta hawa mein bahut buland uda,
Zameen se panv uthao hawayen bheji hain. !! -Gulzar Poetry

गुलों को सुनना ज़रा तुम सदाएँ भेजी हैं,
गुलों के हाथ बहुत सी दुआएँ भेजी हैं !

जो आफ़्ताब कभी भी ग़ुरूब होता नहीं,
हमारा दिल है उसी की शुआएँ भेजी हैं !

अगर जलाए तुम्हें भी शिफ़ा मिले शायद,
इक ऐसे दर्द की तुम को शुआएँ भेजी हैं !

तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं,
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ भेजी हैं !

सियाह रंग चमकती हुई कनारी है,
पहन लो अच्छी लगेंगी घटाएँ भेजी हैं !

तुम्हारे ख़्वाब से हर शब लिपट के सोते हैं,
सज़ाएँ भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं !

अकेला पत्ता हवा में बहुत बुलंद उड़ा,
ज़मीं से पाँव उठाओ हवाएँ भेजी हैं !! -गुलज़ार कविता