Poetry Types Zakhm

Jab Lage Zakhm To Qatil Ko Dua Di Jaye..

Jab Lage Zakhm To Qatil Ko Dua Di Jaye.. Jan Nisar Akhtar Poetry

Jab lage zakhm to qatil ko dua di jaye,
Hai yahi rasm to ye rasm utha di jaye.

Dil ka wo haal hua hai gham-e-dauran ke tale,
Jaise ek lash chatanon mein daba di jaye.

Inhin gul-rang darichon se sahar jhankegi,
Kyun na khilte hue zakhmon ko dua di jaye.

Kam nahi nashshe mein jade ki gulabi raaten,
Aur agar teri jawani bhi mila di jaye.

Hum se puchho ki ghazal kya hai ghazal ka fan kya,
Chand lafzon mein koi aag chhupa di jaye. !!

Jab Lage Zakhm To Qatil Ko Dua Di Jaye.. Jan Nisar Akhtar Poetry In Hindi Language

जब लगें ज़ख़्म तो क़ातिल को दुआ दी जाए,
है यही रस्म तो ये रस्म उठा दी जाए !

दिल का वो हाल हुआ है ग़म-ए-दौराँ के तले,
जैसे इक लाश चटानों में दबा दी जाए !

इन्हीं गुल-रंग दरीचों से सहर झाँकेगी,
क्यूँ न खिलते हुए ज़ख़्मों को दुआ दी जाए !

कम नहीं नश्शे में जाड़े की गुलाबी रातें,
और अगर तेरी जवानी भी मिला दी जाए !

हम से पूछो कि ग़ज़ल क्या है ग़ज़ल का फ़न क्या,
चंद लफ़्ज़ों में कोई आग छुपा दी जाए !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazal

 

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..  Jan Nisar Akhtar Poetry

Hum se bhaga na karo dur ghazalon ki tarah,
Hum ne chaha hai tumhein chahne walon ki tarah.

Khud-ba-khud nind si aankhon mein ghuli jati hai,
Mahki mahki hai shab-e-gham tere baalon ki tarah.

Tere bin raat ke hathon pe ye taron ke ayagh,
Khub-surat hain magar zahar ke pyalon ki tarah.

Aur kya is se ziyaada koi narmi bartun,
Dil ke zakhmon ko chhua hai tere galon ki tarah.

Gungunate hue aur aa kabhi un sinon mein,
Teri khatir jo mahakte hain shiwalon ki tarah.

Teri zulfen teri aankhen tere abru tere lab,
Ab bhi mashhur hain duniya mein misalon ki tarah.

Hum se mayus na ho aye shab-e-dauran ki abhi,
Dil mein kuch dard chamakte hain ujalon ki tarah.

Mujh se nazren to milao ki hazaron chehre,
Meri aankhon mein sulagte hain sawalon ki tarah.

Aur to mujh ko mila kya meri mehnat ka sila,
Chand sikke hain mere hath mein chhaalon ki tarah.

Justuju ne kisi manzil pe thaharne na diya,
Hum bhatakte rahe aawara khayalon ki tarah.

Zindagi jis ko tera pyar mila wo jaane,
Hum to nakaam rahe chahne walon ki tarah. !!

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..  Jan Nisar Akhtar Poetry In Hindi Language

हम से भागा न करो दूर ग़ज़ालों की तरह,
हम ने चाहा है तुम्हें चाहने वालों की तरह !

ख़ुद-ब-ख़ुद नींद सी आँखों में घुली जाती है,
महकी महकी है शब-ए-ग़म तेरे बालों की तरह !

तेरे बिन रात के हाथों पे ये तारों के अयाग़,
ख़ूब-सूरत हैं मगर ज़हर के प्यालों की तरह !

और क्या इस से ज़ियादा कोई नरमी बरतूँ,
दिल के ज़ख़्मों को छुआ है तेरे गालों की तरह !

गुनगुनाते हुए और आ कभी उन सीनों में,
तेरी ख़ातिर जो महकते हैं शिवालों की तरह !

तेरी ज़ुल्फ़ें तेरी आँखें तेरे अबरू तेरे लब,
अब भी मशहूर हैं दुनिया में मिसालों की तरह !

हम से मायूस न हो ऐ शब-ए-दौराँ कि अभी,
दिल में कुछ दर्द चमकते हैं उजालों की तरह !

मुझ से नज़रें तो मिलाओ कि हज़ारों चेहरे,
मेरी आँखों में सुलगते हैं सवालों की तरह !

और तो मुझ को मिला क्या मेरी मेहनत का सिला,
चंद सिक्के हैं मेरे हाथ में छालों की तरह !

जुस्तुजू ने किसी मंज़िल पे ठहरने न दिया,
हम भटकते रहे आवारा ख़यालों की तरह !

ज़िंदगी जिस को तेरा प्यार मिला वो जाने,
हम तो नाकाम रहे चाहने वालों की तरह !!

-Jan Nisar Akhtar Ghazal / Urdu Poetry

 

Dard Minnat-Kash-E-Dawa Na Hua

Dard minnat-kash-e-dawa na hua,
Main na achchha hua bura na hua.

Jama karte ho kyun raqibon ko,
Ek tamasha hua gila na hua.

Hum kahan qismat aazmane jayen,
Tu hi jab khanjar-azma na hua.

Kitne shirin hain tere lab ki raqib,
Galiyan kha ke be-maza na hua.

Hai khabar garm un ke aane ki,
Aaj hi ghar mein boriya na hua.

Kya wo namrud ki khudai thi,
Bandagi mein mera bhala na hua.

Jaan di di hui usi ki thi,
Haq to yun hai ki haq ada na hua.

Zakhm gar dab gaya lahu na thama,
Kaam gar ruk gaya rawa na hua.

Rahzani hai ki dil-sitani hai,
Le ke dil dil-sitan rawana hua.

Kuch to padhiye ki log kahte hain,
Aaj “Ghalib” ghazal-sara na hua. !!

दर्द मिन्नत-कश-ए-दवा न हुआ,
मैं न अच्छा हुआ बुरा न हुआ !

जमा करते हो क्यूँ रक़ीबों को,
एक तमाशा हुआ गिला न हुआ !

हम कहाँ क़िस्मत आज़माने जाएँ,
तू ही जब ख़ंजर-आज़मा न हुआ !

कितने शीरीं हैं तेरे लब कि रक़ीब,
गालियाँ खा के बे-मज़ा न हुआ !

है ख़बर गर्म उन के आने की,
आज ही घर में बोरिया न हुआ !

क्या वो नमरूद की ख़ुदाई थी,
बंदगी में मेरा भला न हुआ !

जान दी दी हुई उसी की थी,
हक़ तो यूँ है कि हक़ अदा न हुआ !

ज़ख़्म गर दब गया लहू न थमा,
काम गर रुक गया रवा न हुआ !

रहज़नी है कि दिल-सितानी है,
ले के दिल दिल-सिताँ रवाना हुआ !

कुछ तो पढ़िए कि लोग कहते हैं,
आज “ग़ालिब” ग़ज़ल-सरा न हुआ !!

 

Aaina Kyun Na Dun Ki Tamasha Kahen Jise

Aaina kyun na dun ki tamasha kahen jise,
Aisa kahan se laun ki tujh sa kahen jise.

Hasrat ne la rakha teri bazm-e-khayal mein,
Gul-dasta-e-nigah suwaida kahen jise.

Phunka hai kis ne gosh-e-mohabbat mein aye khuda,
Afsun-e-intizar tamanna kahen jise.

Sar par hujum-e-dard-e-gharibi se daliye,
Wo ek musht-e-khak ki sahra kahen jise.

Hai chashm-e-tar mein hasrat-e-didar se nihan,
Shauq-e-inan gusekhta dariya kahen jise.

Darkar hai shaguftan-e-gul-ha-e-aish ko,
Subh-e-bahaar pumba-e-mina kahen jise.

Ghalib” bura na man jo waiz bura kahe,
Aisa bhi koi hai ki sab achchha kahen jise.

Ya rab hamein to khwab mein bhi mat dikhaiyo,
Ye mahshar-e-khayal ki duniya kahen jise.

Hai intizar se sharar aabaad rustakhez,
Mizhgan-e-koh-kan rag-e-khara kahen jise.

Kis fursat-e-visal pe hai gul ko andalib,
Zakhm-e-firaq khanda-e-be-ja kahen jise. !!

आईना क्यूँ न दूँ कि तमाशा कहें जिसे,
ऐसा कहाँ से लाऊँ कि तुझ सा कहें जिसे !

हसरत ने ला रखा तिरी बज़्म-ए-ख़याल में,
गुल-दस्ता-ए-निगाह सुवैदा कहें जिसे !

फूँका है किस ने गोश-ए-मोहब्बत में ऐ ख़ुदा,
अफ़्सून-ए-इंतिज़ार तमन्ना कहें जिसे !

सर पर हुजूम-ए-दर्द-ए-ग़रीबी से डालिए,
वो एक मुश्त-ए-ख़ाक कि सहरा कहें जिसे !

है चश्म-ए-तर में हसरत-ए-दीदार से निहाँ,
शौक़-ए-इनाँ गुसेख़्ता दरिया कहें जिसे !

दरकार है शगुफ़्तन-ए-गुल-हा-ए-ऐश को,
सुब्ह-ए-बहार पुम्बा-ए-मीना कहें जिसे !

ग़ालिब” बुरा न मान जो वाइज़ बुरा कहे,
ऐसा भी कोई है कि सब अच्छा कहें जिसे !

या रब हमें तो ख़्वाब में भी मत दिखाइयो,
ये महशर-ए-ख़याल कि दुनिया कहें जिसे !

है इंतिज़ार से शरर आबाद रुस्तख़ेज़,
मिज़्गान-ए-कोह-कन रग-ए-ख़ारा कहें जिसे !

किस फ़ुर्सत-ए-विसाल पे है गुल को अंदलीब,
ज़ख़्म-ए-फ़िराक़ ख़ंदा-ए-बे-जा कहें जिसे !!

 

Bahut Pani Barasta Hai To Mitti Baith Jaati Hai

Bahut pani barasta hai to mitti baith jaati hai,
Na roya kar bahut rone se chhaati baith jaati hai.

Yhi mousam tha jab nange badan chhat par tahalte the,
Yhi mousam hai ab sine mein sardi baith jaati hai.

Chalo mana ki shahanai mohabbat ki nishani hai,
Magar wo shakhs jiski aake beti baith jaati hai.

Bade-budhe kuven mein nekiyan kyon phenk aate hain?
Kuven mein chhup ke aakhir kyon ye neki baith jaati hai.

Naqaab ulte huye gulshan se wo jab bhi gujarta hai,
Samjh ke phool uske lab pe titali baith jaati hai.

Siyaast nafraton ka zakhm bharne hi nahi deti ,
Jahan bharne pe aata hai to makkhi baith jaati hai.

Wo dushman hi sahi aawaaz de usko mohabbat se,
Saliqe se bitha kar dekh haddi baith jaati hai. !!

बहुत पानी बरसता है तो मिट्टी बैठ जाती है,
न रोया कर बहुत रोने से छाती बैठ जाती है !

यही मौसम था जब नंगे बदन छत पर टहलते थे,
यही मौसम है अब सीने में सर्दी बैठ जाती है !

चलो माना कि शहनाई मोहब्बत की निशानी है,
मगर वो शख्स जिसकी आ के बेटी बैठ जाती है !

बड़े-बूढ़े कुएँ में नेकियाँ क्यों फेंक आते हैं ?
कुएं में छुप के क्यों आखिर ये नेकी बैठ जाती है !

नक़ाब उलटे हुए गुलशन से वो जब भी गुज़रता है,
समझ के फूल उसके लब पे तितली बैठ जाती है !

सियासत नफ़रतों का ज़ख्म भरने ही नहीं देती,
जहाँ भरने पे आता है तो मक्खी बैठ जाती है !

वो दुश्मन ही सही आवाज़ दे उसको मोहब्बत से,
सलीक़े से बिठा कर देख हड्डी बैठ जाती है !!

Munawwar Rana All Poetry, Ghazal, Ishq Shayari & Nazms Collection

 

Bichhda Hai Jo Ek Bar To Milte Nahin Dekha..

Bichhda hai jo ek bar to milte nahin dekha,
Is zakhm ko hum ne kabhi silte nahin dekha.

Ek bar jise chat gayi dhup ki khwahish,
Phir shakh pe us phool ko khilte nahin dekha.

Yak-lakht gira hai to jaden tak nikal aayi,
Jis ped ko aandhi mein bhi hilte nahin dekha.

Kanton mein ghire phool ko chum aayegi lekin,
Titli ke paron ko kabhi chhilte nahin dekha.

Kis tarah meri ruh hari kar gaya aakhir,
Wo zahr jise jism mein khilte nahin dekha. !!

बिछड़ा है जो एक बार तो मिलते नहीं देखा,
इस ज़ख़्म को हम ने कभी सिलते नहीं देखा !

एक बार जिसे चाट गई धूप की ख़्वाहिश,
फिर शाख़ पे उस फूल को खिलते नहीं देखा !

यक-लख़्त गिरा है तो जड़ें तक निकल आईं,
जिस पेड़ को आँधी में भी हिलते नहीं देखा !

काँटों में घिरे फूल को चूम आएगी लेकिन,
तितली के परों को कभी छिलते नहीं देखा !

किस तरह मेरी रूह हरी कर गया आख़िर,
वो ज़हर जिसे जिस्म में खिलते नहीं देखा !!

Parveen Shakir Ghazal

 

Wo To Khushbu Hai Hawaon Mein Bikhar Jayega..

Wo to khushbu hai hawaon mein bikhar jayega,
Masla phool ka hai phool kidhar jayega.

Hum to samjhe the ki ek zakhm hai bhar jayega,
Kya khabar thi ki rag-e-jaan mein utar jayega.

Wo hawaon ki tarah khana-ba-jaan phirta hai,
Ek jhonka hai jo aayega guzar jayega.

Wo jab aayega to phir us ki rifaqat ke liye,
Mausam-e-gul mere aangan mein thahar jayega.

Aakhirash wo bhi kahin ret pe baithi hogi,
Tera ye pyar bhi dariya hai utar jayega.

Mujh ko tahzib ke barzakh ka banaya waris,
Jurm ye bhi mere ajdad ke sar jayega. !!

वो तो ख़ुशबू है हवाओं में बिखर जाएगा,
मसअला फूल का है फूल किधर जाएगा !

हम तो समझे थे कि एक ज़ख़्म है भर जाएगा,
क्या ख़बर थी कि रग-ए-जाँ में उतर जाएगा !

वो हवाओं की तरह ख़ाना-ब-जाँ फिरता है,
एक झोंका है जो आएगा गुज़र जाएगा !

वो जब आएगा तो फिर उस की रिफ़ाक़त के लिए,
मौसम-ए-गुल मेरे आँगन में ठहर जाएगा !

आख़िरश वो भी कहीं रेत पे बैठी होगी,
तेरा ये प्यार भी दरिया है उतर जाएगा !

मुझ को तहज़ीब के बर्ज़ख़ का बनाया वारिस,
जुर्म ये भी मेरे अज्दाद के सर जाएगा !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Jab Bhi Yeh Dil Udas Hota Hai..

Jab bhi yeh dil udas hota hai,
Jane kaun aas-pas hota hai.

Aankhen pahchanti hain aankhon ko,
Dard chehra-shanas hota hai.

Go barasti nahi sada aankhen,
Abr to barah-mas hota hai.

Chhaal pedon ki sakht hai lekin,
Niche nakhun ke mas hota hai.

Zakhm kahte hain dil ka gahna hai,
Dard dil ka libas hota hai.

Das hi leta hai sab ko ishq kabhi,
Sanp mauqa-shanas hota hai.

Sirf itna karam kiya kije,
Aap ko jitna ras hota hai. !!

जब भी ये दिल उदास होता है,
जाने कौन आस-पास होता है !

आँखें पहचानती हैं आँखों को,
दर्द चेहरा-शनास होता है !

गो बरसती नहीं सदा आँखें,
अब्र तो बारह-मास होता है !

छाल पेड़ों की सख़्त है लेकिन,
नीचे नाख़ुन के मास होता है !

ज़ख़्म कहते हैं दिल का गहना है,
दर्द दिल का लिबास होता है !

डस ही लेता है सब को इश्क़ कभी,
साँप मौक़ा-शनास होता है !

सिर्फ़ इतना करम किया कीजे,
आप को जितना रास होता है !!

Gulzar All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Mere Junoon Ka Natija Zarur Niklega..

Mere junoon ka natija zarur niklega,
Isi siyah samundar se nur niklega.

Gira diya hai to sahil pe intezaar na kar,
Agar wo dub gaya hai to dur niklega.

Usi ka shahr wahi muddai wahi munsif,
Hamein yakin tha hamara kusoor niklega.

Yakin na aaye to ek baat puchh kar dekho,
Jo hans raha hai wo zakhmon se chur niklega.

Us aastin se ashkon ko pochhne wale,
Us aastin se khanjar zarur niklega. !!

मेरे जुनूँ का नतीजा ज़रूर निकलेगा,
इसी सियाह समुंदर से नूर निकलेगा !

गिरा दिया है तो साहिल पे इंतिज़ार न कर,
अगर वो डूब गया है तो दूर निकलेगा !

उसी का शहर वही मुद्दई वही मुंसिफ़,
हमें यक़ीं था हमारा क़ुसूर निकलेगा !

यक़ीं न आए तो एक बात पूछ कर देखो,
जो हँस रहा है वो ज़ख़्मों से चूर निकलेगा !

उस आस्तीन से अश्कों को पोछने वाले,
उस आस्तीन से ख़ंजर ज़रूर निकलेगा !!

Amir Qazalbash All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Is Taraf Se Guzre The Qafile Bahaaron Ke..

Is taraf se guzre the qafile bahaaron ke,
Aaj tak sulagte hain zakhm rahguzaron ke.

Khalwaton ke shaidai khalwaton mein khulte hain,
Hum se puchh kar dekho raaz parda-daron ke.

Gesuon ki chhanw mein dil-nawaz chehre hain,
Ya hasin dhundlakon mein phool hain bahaaron ke.

Pahle hans ke milte hain phir nazar churaate hain,
Aashna-sifat hain log ajnabi dayaron ke.

Tum ne sirf chaha hai hum ne chhu ke dekhe hain,
Pairahan ghataon ke jism barq-paron ke.

Shughl-e-mai-parasti go jashn-e-na-muradi tha,
Yun bhi kat gaye kuch din tere sogwaron ke. !!

इस तरफ़ से गुज़रे थे क़ाफ़िले बहारों के,
आज तक सुलगते हैं ज़ख़्म रहगुज़ारों के !

ख़ल्वतों के शैदाई ख़ल्वतों में खुलते हैं,
हम से पूछ कर देखो राज़ पर्दा-दारों के !

गेसुओं की छाँव में दिल-नवाज़ चेहरे हैं,
या हसीं धुँदलकों में फूल हैं बहारों के !

पहले हँस के मिलते हैं फिर नज़र चुराते हैं,
आश्ना-सिफ़त हैं लोग अजनबी दयारों के !

तुम ने सिर्फ़ चाहा है हम ने छू के देखे हैं,
पैरहन घटाओं के जिस्म बर्क़-पारों के !

शुग़्ल-ए-मय-परस्ती गो जश्न-ए-ना-मुरादी था,
यूँ भी कट गए कुछ दिन तेरे सोगवारों के !! -Sahir Ludhianvi Ghazal