Tuesday , August 3 2021

Poetry Types Zad

Ab Nahi Laut Ke Aane Wala

Ab nahi laut ke aane wala,
Ghar khula chhod ke jaane wala.

Ho gayi kuch idhar aisi baatein,
Ruk gaya roz ka aane wala.

Aks aaankhon se chura leta hai,
Ek taswir banane wala.

Lakh honton pe hansi ho lekin,
Khush nahi khush nazar aane wala.

Zad mein tufan ki aaya kaise,
Pyas sahil pe bujhane wala.

Rah gaya hai mera saya ban kar,
Mujh ko khatir mein na lane wala.

Ban gaya ham-safar aakhir “Nazmi”,
Rasta kat ke jaane wala. !!

अब नहीं लौट के आने वाला,
घर खुला छोड़ के जाने वाला !

हो गईं कुछ इधर ऐसी बातें,
रुक गया रोज़ का आने वाला !

अक्स आँखों से चुरा लेता है,
एक तस्वीर बनाने वाला !

लाख होंटों पे हँसी हो लेकिन,
ख़ुश नहीं ख़ुश नज़र आने वाला !

ज़द में तूफ़ान की आया कैसे,
प्यास साहिल पे बुझाने वाला !

रह गया है मेरा साया बन कर,
मुझ को ख़ातिर में न लाने वाला !

बन गया हम-सफ़र आख़िर “नज़्मी”,
रास्ता काट के जाने वाला !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

 

Sadiyon Se Insan Ye Sunta Aaya Hai..

Sadiyon se insan ye sunta aaya hai,
Dukh ki dhup ke aage sukh ka saya hai.

Hum ko in sasti khushiyon ka lobh na do,
Hum ne soch samajh kar gham apnaya hai.

Jhuth to qatil thahra is ka kya rona,
Sach ne bhi insan ka khun bahaya hai.

Paidaish ke din se maut ki zad mein hain,
Is maqtal mein kaun hamein le aaya hai.

Awwal awwal jis dil ne barbaad kiya,
Aakhir aakhir wo dil hi kaam aaya hai.

Itne din ehsan kiya diwanon par,
Jitne din logon ne sath nibhaya hai. !!

सदियों से इंसान ये सुनता आया है,
दुख की धूप के आगे सुख का साया है !

हम को इन सस्ती ख़ुशियों का लोभ न दो,
हम ने सोच समझ कर ग़म अपनाया है !

झूठ तो क़ातिल ठहरा इस का क्या रोना,
सच ने भी इंसाँ का ख़ूँ बहाया है !

पैदाइश के दिन से मौत की ज़द में हैं,
इस मक़्तल में कौन हमें ले आया है !

अव्वल अव्वल जिस दिल ने बर्बाद किया,
आख़िर आख़िर वो दिल ही काम आया है !

इतने दिन एहसान किया दीवानों पर,
जितने दिन लोगों ने साथ निभाया है !!

#Sahir Ludhianvi Ghazal

 

Hawayen Tez Thin Ye To Faqat Bahane The..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

-Aashufta Changezi Ghazal / Poetry

 

Ashk Apna Ki Tumhara Nahi Dekha Jata..

Ashk apna ki tumhara nahi dekha jata,
Abr ki zad mein sitara nahi dekha jata.

Apni shah-e-rag ka lahu tan mein rawan hai jab tak,
Zer-e-khanjar koi pyara nahi dekha jata.

Mauj-dar-mauj ulajhne ki hawas be-mani,
Dubta ho to sahaara nahi dekha jata.

Tere chehre ki kashish thi ki palat kar dekha,
Warna suraj to dobara nahi dekha jata.

Aag ki zid pe na ja phir se bhadak sakti hai,
Rakh ki tah mein sharara nahi dekha jata.

Zakhm aankhon ke bhi sahte the kabhi dil wale,
Ab to abru ka ishaara nahi dekha jata.

Kya qayamat hai ki dil jis ka nagar hai “Mohsin“,
Dil pe us ka bhi ijara nahi dekha jata. !!

अश्क अपना कि तुम्हारा नहीं देखा जाता,
अब्र की ज़द में सितारा नहीं देखा जाता !

अपनी शह-ए-रग का लहू तन में रवाँ है जब तक,
ज़ेर-ए-ख़ंजर कोई प्यारा नहीं देखा जाता !

मौज-दर-मौज उलझने की हवस बे-मानी,
डूबता हो तो सहारा नहीं देखा जाता !

तेरे चेहरे की कशिश थी कि पलट कर देखा,
वर्ना सूरज तो दोबारा नहीं देखा जाता !

आग की ज़िद पे न जा फिर से भड़क सकती है,
राख की तह में शरारा नहीं देखा जाता !

ज़ख़्म आँखों के भी सहते थे कभी दिल वाले,
अब तो अबरू का इशारा नहीं देखा जाता !

क्या क़यामत है कि दिल जिस का नगर है “मोहसिन“,
दिल पे उस का भी इजारा नहीं देखा जाता !!

 

Ye Dil Ye Pagal Dil Mera Kyun Bujh Gaya Aawargi..

Ye dil ye pagal dil mera kyun bujh gaya aawargi,
Is dasht mein ek shehar tha wo kya hua aawargi.

Kal shab mujhe be-shakl ki aawaz ne chaunka diya,
Main ne kaha tu kaun hai us ne kaha aawargi.

Logo bhala is shehar mein kaise jiyenge hum jahan,
Ho jurm tanha sochna lekin saza aawargi.

Ye dard ki tanhaiyan ye dasht ka viran safar,
Hum log to ukta gaye apni suna aawargi.

Ek ajnabi jhonke ne jab puchha mere gham ka sabab,
Sahra ki bhigi ret par main ne likha aawargi.

Us samt wahshi khwahishon ki zad mein paiman-e-wafa,
Us samt lahron ki dhamak kachcha ghada aawargi.

Kal raat tanha chand ko dekha tha main ne khwab mein,
Mohsin” mujhe ras aayegi shayad sada aawargi. !!

ये दिल ये पागल दिल मेरा क्यूँ बुझ गया आवारगी,
इस दश्त में एक शहर था वो क्या हुआ आवारगी !

कल शब मुझे बे-शक्ल की आवाज़ ने चौंका दिया,
मैं ने कहा तू कौन है उस ने कहा आवारगी !

लोगो भला इस शहर में कैसे जिएँगे हम जहाँ,
हो जुर्म तन्हा सोचना लेकिन सज़ा आवारगी !

ये दर्द की तन्हाइयाँ ये दश्त का वीराँ सफ़र,
हम लोग तो उक्ता गए अपनी सुना आवारगी !

एक अजनबी झोंके ने जब पूछा मेरे ग़म का सबब,
सहरा की भीगी रेत पर मैं ने लिखा आवारगी !

उस सम्त वहशी ख़्वाहिशों की ज़द में पैमान-ए-वफ़ा,
उस सम्त लहरों की धमक कच्चा घड़ा आवारगी !

कल रात तन्हा चाँद को देखा था मैं ने ख़्वाब में,
मोहसिन” मुझे रास आएगी शायद सदा आवारगी !!