Poetry Types Yaad

Hum Ne Kati Hain Teri Yaad Mein Raaten Aksar..

Hum Ne Kati Hain Teri Yaad Mein Raaten Aksar.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Hum ne kati hain teri yaad mein raaten aksar,
Dil se guzri hain sitaron ki baraaten aksar.

Aur to kaun hai jo mujh ko tasalli deta,
Haath rakh deti hain dil par teri baaten aksar.

Husn shaista-e-tahzib-e-alam hai shayed,
Gham-zada lagti hain kyun chandni raaten aksar.

Haal kahna hai kisi se to mukhatab hai koi,
Kitni dilchasp hua karti hain baaten aksar.

Ishq rahzan na sahi ishq ke hathon phir bhi,
Hum ne lutti hui dekhi hain baraten aksar.

Hum se ek bar bhi jita hai na jitega koi,
Wo to hum jaan ke kha lete hain maten aksar.

Un se puchho kabhi chehre bhi padhe hain tum ne,
Jo kitabon ki kiya karte hain baaten aksar.

Hum ne un tund-hawaon mein jalaye hain charagh,
Jin hawaon ne ulat di hain bisaten aksar. !!

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर.. “जान निसार अख्तर” कविता हिंदी में !

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर,
दिल से गुज़री हैं सितारों की बरातें अक्सर !

और तो कौन है जो मुझ को तसल्ली देता,
हाथ रख देती हैं दिल पर तेरी बातें अक्सर !

हुस्न शाइस्ता-ए-तहज़ीब-ए-अलम है शायद,
ग़म-ज़दा लगती हैं क्यूँ चाँदनी रातें अक्सर !

हाल कहना है किसी से तो मुख़ातब है कोई,
कितनी दिलचस्प हुआ करती हैं बातें अक्सर !

इश्क़ रहज़न न सही इश्क़ के हाथों फिर भी,
हम ने लुटती हुई देखी हैं बरातें अक्सर !

हम से एक बार भी जीता है न जीतेगा कोई,
वो तो हम जान के खा लेते हैं मातें अक्सर !

उन से पूछो कभी चेहरे भी पढ़े हैं तुम ने,
जो किताबों की किया करते हैं बातें अक्सर !

हम ने उन तुंद-हवाओं में जलाए हैं चराग़,
जिन हवाओं ने उलट दी हैं बिसातें अक्सर !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Ashaar Mere Yun To Zamane Ke Liye Hain..

Ashaar Mere Yun To Zamane Ke Liye Hain.. Ghazal By Jan Nisar Akhtar

Ashaar mere yun to zamane ke liye hain,
Kuch sher faqat un ko sunane ke liye hain.

Ab ye bhi nahi theek ki har dard mita den,
Kuch dard kaleje se lagane ke liye hain.

Socho to badi cheez hai tahzib badan ki,
Warna ye faqat aag bujhane ke liye hain.

Aankhon mein jo bhar loge to kanton se chubhenge,
Ye khwaab to palkon pe sajaane ke liye hain.

Dekhun tere hathon ko to lagta hai tere hath,
Mandir mein faqat deep jalane ke liye hain.

Ye ilm ka sauda ye risale ye kitaben,
Ek shakhs ki yaadon ko bhulane ke liye hain. !!

Ashaar Mere Yun To Zamane Ke Liye Hain.. In Hindi Language

अशआर मेरे यूँ तो ज़माने के लिए हैं,
कुछ शेर फ़क़त उन को सुनाने के लिए हैं !

अब ये भी नहीं ठीक कि हर दर्द मिटा दें,
कुछ दर्द कलेजे से लगाने के लिए हैं !

सोचो तो बड़ी चीज़ है तहज़ीब बदन की,
वर्ना ये फ़क़त आग बुझाने के लिए हैं !

आँखों में जो भर लोगे तो काँटों से चुभेंगे,
ये ख़्वाब तो पलकों पे सजाने के लिए हैं !

देखूँ तेरे हाथों को तो लगता है तेरे हाथ,
मंदिर में फ़क़त दीप जलाने के लिए हैं !

ये इल्म का सौदा ये रिसाले ये किताबें,
एक शख़्स की यादों को भुलाने के लिए हैं !!

-Jan Nisar Akhtar Ghazal / Urdu Poetry

 

Dasht-E-Ghurbat Hai Alalat Bhi Hai Tanhai Bhi

Dasht-e-ghurbat hai alalat bhi hai tanhai bhi,
Aur un sab pe fuzun baadiya-paimai bhi.

Khwab-e-rahat hai kahan nind bhi aati nahi ab,
Bas uchat jaane ko aayi jo kabhi aayi bhi.

Yaad hai mujh ko wo be-fikri o aaghaz-e-shabab,
Sukhan-arai bhi thi anjuman-arai bhi.

Nigah-e-shauq-o-tamanna ki wo dilkash thi kamand,
Jis se ho jate the ram aahu-e-sahrai bhi.

Hum sanam-khana jahan karte the apna qaim,
Phir khade hote the wan hur ke shaidai bhi.

Ab na wo umar na wo log na wo lail o nahaar,
Bujh gayi taba kabhi josh pe gar aayi bhi.

Ab to shubhe bhi mujhe dew nazar aate hain,
Us zamane mein pari-zad thi ruswai bhi.

Kaam ki baat jo kahni ho wo kah lo “Akbar“,
Dam mein chhin jayegi ye taqat-e-goyai bhi. !!

 

Jazba-E-Dil Ne Mere Tasir Dikhlai To Hai

Jazba-e-dil ne mere tasir dikhlai to hai,
Ghungruon ki jaanib-e-dar kuch sada aayi to hai.

Ishq ke izhaar mein har-chand ruswai to hai,
Par karun kya ab tabiat aap par aayi to hai.

Aap ke sar ki qasam mere siwa koi nahi,
Be-takalluf aaiye kamre mein tanhai to hai.

Jab kaha main ne tadapta hai bahut ab dil mera,
hans ke farmaya tadapta hoga saudai to hai.

Dekhiye hoti hai kab rahi su-e-mulk-e-adam,
Khana-e-tan se hamari ruh ghabrai to hai.

Dil dhadakta hai mera lun bosa-e-rukh ya na lun,
Nind mein us ne dulai munh se sarkai to hai.

Dekhiye lab tak nahi aati gul-e-ariz ki yaad,
Sair-e-gulshan se tabiat hum ne bahlai to hai.

Main bala mein kyun phansun diwana ban kar us ke sath,
Dil ko wahshat ho to ho kambakht saudai to hai.

Khak mein dil ko milaya jalwa-e-raftar se,
Kyun na ho aye naujawan ek shan-e-ranai to hai.

Yun murawwat se tumhaare samne chup ho rahen,
Kal ke jalson ki magar hum ne khabar pai to hai.

Baada-e-gul-rang ka saghar inayat kar mujhe,
Saqiya takhir kya hai ab ghata chhai to hai.

Jis ki ulfat par bada dawa tha kal “Akbar” tumhein,
Aaj hum ja kar use dekh aaye harjai to hai. !!

जज़्बा-ए-दिल ने मेरे तासीर दिखलाई तो है,
घुंघरूओं की जानिब-ए-दर कुछ सदा आई तो है !

इश्क़ के इज़हार में हर-चंद रुस्वाई तो है,
पर करूँ क्या अब तबीअत आप पर आई तो है !

आप के सर की क़सम मेरे सिवा कोई नहीं,
बे-तकल्लुफ़ आइए कमरे में तन्हाई तो है !

जब कहा मैं ने तड़पता है बहुत अब दिल मेरा,
हंस के फ़रमाया तड़पता होगा सौदाई तो है !

देखिए होती है कब राही सू-ए-मुल्क-ए-अदम,
ख़ाना-ए-तन से हमारी रूह घबराई तो है !

दिल धड़कता है मेरा लूँ बोसा-ए-रुख़ या न लूँ,
नींद में उस ने दुलाई मुँह से सरकाई तो है !

देखिए लब तक नहीं आती गुल-ए-आरिज़ की याद,
सैर-ए-गुलशन से तबीअत हम ने बहलाई तो है !

मैं बला में क्यूँ फँसूँ दीवाना बन कर उस के साथ,
दिल को वहशत हो तो हो कम्बख़्त सौदाई तो है !

ख़ाक में दिल को मिलाया जल्वा-ए-रफ़्तार से,
क्यूँ न हो ऐ नौजवाँ इक शान-ए-रानाई तो है !

यूँ मुरव्वत से तुम्हारे सामने चुप हो रहें,
कल के जलसों की मगर हम ने ख़बर पाई तो है !

बादा-ए-गुल-रंग का साग़र इनायत कर मुझे,
साक़िया ताख़ीर क्या है अब घटा छाई तो है !

जिस की उल्फ़त पर बड़ा दावा था कल “अकबर” तुम्हें,
आज हम जा कर उसे देख आए हरजाई तो है !!

 

Teri Zulfon Mein Dil Uljha Hua Hai

Teri zulfon mein dil uljha hua hai

 

Teri zulfon mein dil uljha hua hai,
Bala ke pech mein aaya hua hai.

Na kyunkar bu-e-khun name se aaye,
Usi jallad ka likkha hua hai.

Chale duniya se jis ki yaad mein hum,
Ghazab hai wo hamein bhula hua hai.

Kahun kya haal agli ishraton ka,
Wo tha ek khwab jo bhula hua hai.

Jafa ho ya wafa hum sab mein khush hain,
Karen kya ab to dil atka hua hai.

Hui hai ishq hi se husn ki qadr,
Hamin se aap ka shohra hua hai.

Buton par rahti hai mail hamesha,
Tabiat ko khudaya kya hua hai.

Pareshan rahte ho din raat “Akbar“,
Ye kis ki zulf ka sauda hua hai. !!

तेरी ज़ुल्फ़ों में दिल उलझा हुआ है,
बला के पेच में आया हुआ है !

न क्यूँकर बू-ए-ख़ूँ नामे से आए,
उसी जल्लाद का लिक्खा हुआ है !

चले दुनिया से जिस की याद में हम,
ग़ज़ब है वो हमें भूला हुआ है !

कहूँ क्या हाल अगली इशरतों का,
वो था इक ख़्वाब जो भूला हुआ है !

जफ़ा हो या वफ़ा हम सब में ख़ुश हैं,
करें क्या अब तो दिल अटका हुआ है !

हुई है इश्क़ ही से हुस्न की क़द्र,
हमीं से आप का शोहरा हुआ है !

बुतों पर रहती है माइल हमेशा,
तबीअत को ख़ुदाया क्या हुआ है !

परेशाँ रहते हो दिन रात “अकबर“,
ये किस की ज़ुल्फ़ का सौदा हुआ है !!

 

Har Qadam Kahta Hai Tu Aaya Hai Jaane Ke Liye

Har qadam kahta hai tu aaya hai jaane ke liye,
Manzil-e-hasti nahi hai dil lagane ke liye.

Kya mujhe khush aaye ye hairat-sara-e-be-sabaat,
Hosh udne ke liye hai jaan jaane ke liye.

Dil ne dekha hai bisat-e-quwwat-e-idrak ko,
Kya badhe is bazm mein aankhen uthane ke liye.

Khub ummiden bandhin lekin huin hirman nasib,
Badliyan utthin magar bijli girane ke liye.

Sans ki tarkib par mitti ko pyar aa hi gaya,
Khud hui qaid us ko sine se lagane ke liye.

Jab kaha main ne bhula do ghair ko hans kar kaha,
Yaad phir mujh ko dilana bhul jaane ke liye.

Dida-bazi wo kahan aankhen raha karti hain band,
Jaan hi baqi nahi ab dil lagane ke liye.

Mujh ko khush aayi hai masti shaikh ji ko farbahi,
Main hun pine ke liye aur wo hain khane ke liye.

Allah allah ke siwa aakhir raha kuch bhi na yaad,
Jo kiya tha yaad sab tha bhul jaane ke liye.

Sur kahan ke saz kaisa kaisi bazm-e-samain,
Josh-e-dil kafi hai “Akbar” tan udane ke liye. !!

 

Haya Se Sar Jhuka Lena Ada Se Muskura Dena..

Haya Se Sar Jhuka Lena Ada Se Muskura Dena

Haya se sar jhuka lena ada se muskura dena,
Hasinon ko bhi kitna sahl hai bijli gira dena.

Ye tarz ehsan karne ka tumhin ko zeb deta hai,
Maraz mein mubtala kar ke marizon ko dawa dena.

Balayen lete hain un ki hum un par jaan dete hain,
Ye sauda did ke qabil hai kya lena hai kya dena.

Khuda ki yaad mein mahwiyat-e-dil baadshahi hai,
Magar aasan nahi hai sari duniya ko bhula dena. !!

हया से सर झुका लेना अदा से मुस्कुरा देना,
हसीनों को भी कितना सहल है बिजली गिरा देना !

ये तर्ज़ एहसान करने का तुम्हीं को ज़ेब देता है,
मरज़ में मुब्तला कर के मरीज़ों को दवा देना !

बलाएँ लेते हैं उन की हम उन पर जान देते हैं,
ये सौदा दीद के क़ाबिल है क्या लेना है क्या देना !

ख़ुदा की याद में महवियत-ए-दिल बादशाही है,
मगर आसाँ नहीं है सारी दुनिया को भुला देना !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Aah Jo Dil Se Nikali Jayegi..

Aah jo dil se nikali jayegi,
Kya samajhte ho ki khali jayegi.

Is nazakat par ye shamshir-e-jafa,
Aap se kyonkar sambhaali jayegi.

Kya gham-e-duniya ka dar mujh rind ko,
Aur ek botal chadha li jayegi.

Shaikh ki dawat mein mai ka kaam kya,
Ehtiyatan kuch manga li jayegi.

Yaad-e-abru mein hai “Akbar” mahw yun,
Kab teri ye kaj-khayali jayegi. !!

आह जो दिल से निकाली जाएगी,
क्या समझते हो कि ख़ाली जाएगी !

इस नज़ाकत पर ये शमशीर-ए-जफ़ा,
आप से क्यूँकर सँभाली जाएगी !

क्या ग़म-ए-दुनिया का डर मुझ रिंद को,
और एक बोतल चढ़ा ली जाएगी !

शैख़ की दावत में मय का काम क्या,
एहतियातन कुछ मँगा ली जाएगी !

याद-ए-अबरू में है “अकबर” महव यूँ,
कब तेरी ये कज-ख़याली जाएगी !!

 

Aankhen Mujhe Talwon Se Wo Malne Nahi Dete

Aankhen mujhe talwon se wo malne nahi dete,
Arman mere dil ke nikalne nahi dete.

Khatir se teri yaad ko talne nahi dete,
Sach hai ki hamin dil ko sambhalne nahi dete.

Kis naz se kahte hain wo jhunjhla ke shab-e-wasl,
Tum to hamein karwat bhi badalne nahi dete.

Parwanon ne fanus ko dekha to ye bole,
Kyon hum ko jalate ho ki jalne nahi dete.

Hairan hun kis tarah karun arz-e-tamanna,
Dushman ko to pahlu se wo talne nahi dete.

Dil wo hai ki fariyaad se labrez hai har waqt,
Hum wo hain ki kuch munh se nikalne nahi dete.

Garmi-e-mohabbat mein wo hain aah se manea,
Pankha nafas-e-sard ka jhalne nahi dete. !!

आँखें मुझे तलवों से वो मलने नहीं देते,
अरमान मेरे दिल के निकलने नहीं देते !

ख़ातिर से तेरी याद को टलने नहीं देते,
सच है कि हमीं दिल को सँभलने नहीं देते !

किस नाज़ से कहते हैं वो झुँझला के शब-ए-वस्ल,
तुम तो हमें करवट भी बदलने नहीं देते !

परवानों ने फ़ानूस को देखा तो ये बोले,
क्यूँ हम को जलाते हो कि जलने नहीं देते !

हैरान हूँ किस तरह करूँ अर्ज़-ए-तमन्ना,
दुश्मन को तो पहलू से वो टलने नहीं देते !

दिल वो है कि फ़रियाद से लबरेज़ है हर वक़्त,
हम वो हैं कि कुछ मुँह से निकलने नहीं देते !

गर्मी-ए-मोहब्बत में वो हैं आह से माने,
पंखा नफ़स-ए-सर्द का झलने नहीं देते !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Tark-E-Wafa Ki Baat Kahen Kya..

Tark-e-wafa ki baat kahen kya,
Dil mein ho to lab tak aaye.

Dil bechaara sidha sada,
Khud ruthe khud man bhi jaye.

Chalte rahiye manzil manzil,
Is aanchal ke saye saye.

Dur nahi tha shehar-e-tamanna,
Aap hi mere sath na aaye.

Aaj ka din bhi yaad rahega,
Aaj wo mujh ko yaad na aaye. !!

तर्क-ए-वफ़ा की बात कहें क्या,
दिल में हो तो लब तक आए !

दिल बेचारा सीधा सादा,
ख़ुद रूठे ख़ुद मान भी जाए !

चलते रहिए मंज़िल मंज़िल,
इस आँचल के साए साए !

दूर नहीं था शहर-ए-तमन्ना,
आप ही मेरे साथ न आए !

आज का दिन भी याद रहेगा,
आज वो मुझ को याद न आए !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry