Poetry Types Waqt

Rang-E-Sharab Se Meri Niyyat Badal Gayi

Rang-e-sharab se meri niyyat badal gayi,
Waiz ki baat rah gayi saqi ki chal gayi.

Tayyar the namaz pe hum sun ke zikr-e-hur,
Jalwa buton ka dekh ke niyyat badal gayi.

Machhli ne dhil payi hai luqme pe shad hai,
Sayyaad mutmain hai ki kanta nigal gayi.

Chamka tera jamal jo mehfil mein waqt-e-sham,
Parwana be-qarar hua shama jal gayi.

Uqba ki baz-purs ka jata raha khayal,
Duniya ki lazzaton mein tabiat bahal gayi.

Hasrat bahut taraqqi-e-dukhtar ki thi unhen,
Parda jo uth gaya to wo aakhir nikal gayi. !!

रंग-ए-शराब से मेरी निय्यत बदल गई,
वाइज़ की बात रह गई साक़ी की चल गई !

तय्यार थे नमाज़ पे हम सुन के ज़िक्र-ए-हूर,
जल्वा बुतों का देख के निय्यत बदल गई !

मछली ने ढील पाई है लुक़्मे पे शाद है,
सय्याद मुतमइन है कि काँटा निगल गई !

चमका तेरा जमाल जो महफ़िल में वक़्त-ए-शाम,
परवाना बे-क़रार हुआ शमा जल गई !

उक़्बा की बाज़-पुर्स का जाता रहा ख़याल,
दुनिया की लज़्ज़तों में तबीअत बहल गई !

हसरत बहुत तरक़्क़ी-ए-दुख़्तर की थी उन्हें,
पर्दा जो उठ गया तो वो आख़िर निकल गई !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Ummid Tuti Hui Hai Meri Jo Dil Mera Tha Wo Mar Chuka Hai

Ummid tuti hui hai meri jo dil mera tha wo mar chuka hai,
Jo zindagani ko talkh kar de wo waqt mujh par guzar chuka hai.

Agarche sine mein sans bhi hai nahi tabiat mein jaan baqi,
Ajal ko hai der ek nazar ki falak to kaam apna kar chuka hai.

Gharib-khane ki ye udasi ye na-durusti nahi qadimi,
Chahal pahal bhi kabhi yahan thi kabhi ye ghar bhi sanwar chuka hai.

Ye sina jis mein ye dagh mein ab masarraton ka kabhi tha makhzan,
Wo dil jo arman se bhara tha khushi se us mein thahar chuka hai.

Gharib “Akbar” ke gard kyun mein khayal waiz se koi kah de,
Use daraate ho maut se kya wo zindagi hi se dar chuka hai. !!

 

Kuch Bhi Bacha Na Kehne Ko Har Baat Ho Gayi

Kuch bhi bacha na kehne ko har baat ho gayi,
Aao kahin sharaab piyen raat ho gayi.

Phir yun hua ki waqt ka pansa palat gaya,
Ummid jeet ki thi magar mat ho gayi.

Sooraj ko chonch mein liye murgha khada raha,
Khidki ke parde khinch diye raat ho gayi.

Wo aadmi tha kitna bhala kitna pur-khulus,
Us se bhi aaj lije mulaqat ho gayi.

Raste mein wo mila tha main bach kar guzar gaya,
Us ki phati qamis mere sath ho gayi.

Naqsha utha ke koi naya shehar dhundhiye,
Is shehar mein to sab se mulaqat ho gayi. !!

कुछ भी बचा न कहने को हर बात हो गई,
आओ कहीं शराब पिएँ रात हो गई !

फिर यूँ हुआ कि वक़्त का पाँसा पलट गया,
उम्मीद जीत की थी मगर मात हो गई !

सूरज को चोंच में लिए मुर्ग़ा खड़ा रहा,
खिड़की के पर्दे खींच दिए रात हो गई !

वो आदमी था कितना भला कितना पुर-ख़ुलूस,
उस से भी आज लीजे मुलाक़ात हो गई !

रस्ते में वो मिला था मैं बच कर गुज़र गया,
उस की फटी क़मीस मेरे साथ हो गई !

नक़्शा उठा के कोई नया शहर ढूँढिए,
इस शहर में तो सब से मुलाक़ात हो गई !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Dariya Ho Ya Pahad Ho Takrana Chahiye

Dariya ho ya pahad ho takrana chahiye,
Jab tak na sans tute jiye jana chahiye.

Yun to qadam qadam pe hai diwar samne,
Koi na ho to khud se ulajh jana chahiye.

Jhukti hui nazar ho ki simta hua badan,
Har ras-bhari ghata ko baras jana chahiye.

Chaurahe bagh buildingen sab shehar to nahi,
Kuch aise waise logon se yarana chahiye.

Apni talash apni nazar apna tajraba,
Rasta ho chahe saf bhatak jana chahiye.

Chup chup makan raste gum-sum nidhaal waqt,
Is shehar ke liye koi diwana chahiye.

Bijli ka qumquma na ho kala dhuan to ho,
Ye bhi agar nahi ho to bujh jana chahiye. !!

दरिया हो या पहाड़ हो टकराना चाहिए,
जब तक न साँस टूटे जिए जाना चाहिए !

यूँ तो क़दम क़दम पे है दीवार सामने,
कोई न हो तो ख़ुद से उलझ जाना चाहिए !

झुकती हुई नज़र हो कि सिमटा हुआ बदन,
हर रस-भरी घटा को बरस जाना चाहिए !

चौराहे बाग़ बिल्डिंगें सब शहर तो नहीं,
कुछ ऐसे वैसे लोगों से याराना चाहिए !

अपनी तलाश अपनी नज़र अपना तजरबा,
रस्ता हो चाहे साफ़ भटक जाना चाहिए !

चुप चुप मकान रास्ते गुम-सुम निढाल वक़्त,
इस शहर के लिए कोई दीवाना चाहिए !

बिजली का क़ुमक़ुमा न हो काला धुआँ तो हो,
ये भी अगर नहीं हो तो बुझ जाना चाहिए !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Apni Marzi Se Kahan Apne Safar Ke Hum Hain

Apni marzi se kahan apne safar ke hum hain,
Rukh hawaon ka jidhar ka hai udhar ke hum hain.

Pahle har cheez thi apni magar ab lagta hai,
Apne hi ghar mein kisi dusre ghar ke hum hain.

Waqt ke sath hai mitti ka safar sadiyon se,
Kis ko malum kahan ke hain kidhar ke hum hain.

Chalte rahte hain ki chalna hai musafir ka nasib,
Sochte rahte hain kis rahguzar ke hum hain.

Hum wahan hain jahan kuch bhi nahi rasta na dayar,
Apne hi khoye hue sham o sehar ke hum hain.

Gintiyon mein hi gine jate hain har daur mein hum,
Har qalamkar ki be-naam khabar ke hum hain. !!

अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं,
रुख़ हवाओं का जिधर का है उधर के हम हैं !

पहले हर चीज़ थी अपनी मगर अब लगता है,
अपने ही घर में किसी दूसरे घर के हम हैं !

वक़्त के साथ है मिटटी का सफ़र सदियों से,
किस को मालूम कहाँ के हैं किधर के हम हैं !

चलते रहते हैं कि चलना है मुसाफ़िर का नसीब,
सोचते रहते हैं किस राहगुज़र के हम हैं !

हम वहाँ हैं जहाँ कुछ भी नहीं रस्ता न दयार,
अपने ही खोए हुए शाम ओ सहर के हम हैं !

गिनतियों में ही गिने जाते हैं हर दौर में हम,
हर क़लमकार की बे-नाम ख़बर के हम हैं !!

-Nida Fazli Sad Poetry / Ghazal

 

Benaam Sa Ye Dard Thahar Kyun Nahi Jata

Benaam sa ye dard thahar kyun nahi jata,
Jo bit gaya hai wo guzar kyun nahi jata.

Sab kuch to hai kya dhundhti rahti hain nigahen,
Kya baat hai main waqt pe ghar kyun nahi jata.

Wo ek hi chehra to nahi sare jahan mein,
Jo dur hai wo dil se utar kyun nahi jata.

Main apni hi uljhi hui rahon ka tamasha,
Jate hain jidhar sab main udhar kyun nahi jata.

Wo khwab jo barson se na chehra na badan hai,
Wo khwab hawaon mein bikhar kyun nahi jata. !!

बे-नाम सा ये दर्द ठहर क्यूँ नहीं जाता,
जो बीत गया है वो गुज़र क्यूँ नहीं जाता !

सब कुछ तो है क्या ढूँढती रहती हैं निगाहें,
क्या बात है मैं वक़्त पे घर क्यूँ नहीं जाता !

वो एक ही चेहरा तो नहीं सारे जहाँ में,
जो दूर है वो दिल से उतर क्यूँ नहीं जाता !

मैं अपनी ही उलझी हुई राहों का तमाशा,
जाते हैं जिधर सब मैं उधर क्यूँ नहीं जाता !

वो ख़्वाब जो बरसों से न चेहरा न बदन है,
वो ख़्वाब हवाओं में बिखर क्यूँ नहीं जाता !!

-Nida Fazli Sad Poetry/Ghazal

 

Meharban Ho Ke Bula Lo Mujhe Chaho Jis Waqt

Meharban ho ke bula lo mujhe chaho jis waqt,
Main gaya waqt nahi hun ki phir aa bhi na sakun.

Zoaf mein tana-e-aghyar ka shikwa kya hai,
Baat kuch sar to nahi hai ki utha bhi na sakun.

Zahr milta hi nahi mujh ko sitamgar warna,
Kya kasam hai tere milne ki ki kha bhi na sakun.

Is qadar zabt kahan hai kabhi aa bhi na sakun,
Sitam itna to na kije ki utha bhi na sakun.

Lag gayi aag agar ghar ko to andesha kya,
Shoala-e-dil to nahi hai ki bujha bhi na sakun.

Tum na aaoge to marne ki hain sau tadbiren,
Maut kuch tum to nahi ho ki bula bhi na sakun.

Hans ke bulwaiye mit jayega sab dil ka gila,
Kya tasawwur hai tumhara ki mita bhi na sakun. !!

मेहरबाँ हो के बुला लो मुझे चाहो जिस वक़्त,
मैं गया वक़्त नहीं हूँ कि फिर आ भी न सकूँ !

ज़ोफ़ में ताना-ए-अग़्यार का शिकवा क्या है,
बात कुछ सर तो नहीं है कि उठा भी न सकूँ !

ज़हर मिलता ही नहीं मुझ को सितमगर वर्ना,
क्या क़सम है तेरे मिलने की कि खा भी न सकूँ !

इस क़दर ज़ब्त कहाँ है कभी आ भी न सकूँ,
सितम इतना तो न कीजे कि उठा भी न सकूँ !

लग गई आग अगर घर को तो अंदेशा क्या,
शोला-ए-दिल तो नहीं है कि बुझा भी न सकूँ !

तुम न आओगे तो मरने की हैं सौ तदबीरें,
मौत कुछ तुम तो नहीं हो कि बुला भी न सकूँ !

हँस के बुलवाइए मिट जाएगा सब दिल का गिला,
क्या तसव्वुर है तुम्हारा कि मिटा भी न सकूँ !!

-Mirza Ghalib Ghazal Poetry

 

Ishq Hai To Ishq Ka Izhaar Hona Chahiye..

Ishq hai to ishq ka izhaar hona chahiye

Ishq hai to ishq ka izhaar hona chahiye,
Aap ko chehre se bhi bimar hona chahiye.

Aap dariya hain to is waqt hum khatre mein hain,
Aap kashti hain to hum ko paar hona chahiye.

Aire-gaire log bhi padhne lage hain in dino,
Aap ko aurat nahi akhbar hona chahiye.

Zindagi kab talak dar-dar phirayegi hamein,
Tuta phuta hi sahi ghar bar hona chahiye.

Apni yaadon se kaho ek din ki chhutti de mujhe.
Ishq ke hisse mein bhi itwaar hona chahiye. !!

आप को चेहरे से भी बीमार होना चाहिए,
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए !

आप दरिया हैं तो फिर इस वक़्त हम ख़तरे में हैं,
आप कश्ती हैं तो हम को पार होना चाहिए !

ऐरे-ग़ैरे लोग भी पढ़ने लगे हैं इन दिनों,
आप को औरत नहीं अख़बार होना चाहिए !

ज़िंदगी तू कब तलक दर-दर फिराएगी हमें,
टूटा-फूटा ही सही घर-बार होना चाहिए !

अपनी यादों से कहो इक दिन की छुट्टी दे मुझे,
इश्क़ के हिस्से में भी इतवार होना चाहिए !!

Munawwar Rana All Poetry, Ghazal, Ishq Shayari & Nazms Collection

 

Aai Sahar Qarib To Main Ne Padhi Ghazal..

Aai sahar qarib to main ne padhi ghazal,
Jaane lage sitaron ke bajte hue kanwal.

Be-tab hai junun ki ghazal-khwaniyan karun,
Khamosh hai khirad ki nahin baat ka mahal.

Kaise diye jalaye gham-e-rozgar ne,
Kuch aur jagmagaye gham-e-yar ke mahal.

Ab tark-e-dosti hi taqaza hai waqt ka,
Ai yar-e-chaara-saz meri aag mein na jal.

Ai iltifat-e-yar mujhe sochne to de,
Marne ka hai maqam ya jine ka hai mahal.

Hum rind khak-o-khun mein ate hath bhi kate,
Nikle na ai bahaar tere gesuon ke bal.

Rahon mein ju-e-khun hai rawan misl mauj hai,
Saqi yaqin na ho to zara mere sath chal.

Kuch bijliyon ka shor hai kuch aandhiyon ka zor,
Dil hai maqam par to zara baam par nikal.

Farman-e-shahryar ki parwa nahi mujhe,
Iman-e-ashiqan ho to “Abid” padhe ghazal. !!

आई सहर क़रीब तो मैं ने पढ़ी ग़ज़ल,
जाने लगे सितारों के बजते हुए कँवल !

बे-ताब है जुनूँ कि ग़ज़ल-ख़्वानियाँ करूँ,
ख़ामोश है ख़िरद कि नहीं बात का महल !

कैसे दिये जलाए ग़म-ए-रोज़गार ने,
कुछ और जगमगाए ग़म-ए-यार के महल !

अब तर्क-ए-दोस्ती ही तक़ाज़ा है वक़्त का,
ऐ यार-ए-चारा-साज़ मेरी आग में न जल !

ऐ इल्तिफ़ात-ए-यार मुझे सोचने तो दे,
मरने का है मक़ाम या जीने का है महल !

हम रिंद ख़ाक-ओ-ख़ूँ में अटे हाथ भी कटे,
निकले न ऐ बहार तेरे गेसुओं के बल !

राहों में जू-ए-ख़ूँ है रवाँ मिस्ल मौज है,
साक़ी यक़ीं न हो तो ज़रा मेरे साथ चल !

कुछ बिजलियों का शोर है कुछ आँधियों का ज़ोर,
दिल है मक़ाम पर तो ज़रा बाम पर निकल !

फ़रमान-ए-शहरयार की पर्वा नहीं मुझे,
ईमान-ए-आशिक़ाँ हो तो “आबिद” पढ़े ग़ज़ल !!

 

Chalne Ka Hausla Nahi Rukna Muhaal Kar Diya..

Chalne ka hausla nahi rukna muhaal kar diya,
Ishq ke is safar ne to mujh ko nidhaal kar diya.

Aye meri gul-zamin tujhe chah thi ek kitab ki,
Ahl-e-kitab ne magar kya tera haal kar diya.

Milte hue dilon ke bich aur tha faisla koi,
Us ne magar bichhadte waqt aur sawal kar diya.

Ab ke hawa ke sath hai daman-e-yar muntazir,
Banu-e-shab ke hath mein rakhna sambhaal kar diya.

Mumkina faislon mein ek hijr ka faisla bhi tha,
Hum ne to ek baat ki us ne kamal kar diya.

Mere labon pe mohr thi par mere shisha-ru ne to,
Shahr ke shahr ko mera waqif-e-haal kar diya.

Chehra o naam ek sath aaj na yaad aa sake,
Waqt ne kis shabih ko khwab o khayal kar diya.

Muddaton baad us ne aaj mujh se koi gila kiya,
Mansab-e-dilbari pe kya mujh ko bahaal kar diya. !!

चलने का हौसला नहीं रुकना मुहाल कर दिया,
इश्क़ के इस सफ़र ने तो मुझ को निढाल कर दिया !

ऐ मेरी गुल-ज़मीं तुझे चाह थी एक किताब की,
अहल-ए-किताब ने मगर क्या तेरा हाल कर दिया !

मिलते हुए दिलों के बीच और था फ़ैसला कोई,
उस ने मगर बिछड़ते वक़्त और सवाल कर दिया !

अब के हवा के साथ है दामन-ए-यार मुंतज़िर,
बानू-ए-शब के हाथ में रखना सँभाल कर दिया !

मुमकिना फ़ैसलों में एक हिज्र का फ़ैसला भी था,
हम ने तो एक बात की उस ने कमाल कर दिया !

मेरे लबों पे मोहर थी पर मेरे शीशा-रू ने तो,
शहर के शहर को मेरा वाक़िफ़-ए-हाल कर दिया !

चेहरा ओ नाम एक साथ आज न याद आ सके,
वक़्त ने किस शबीह को ख़्वाब ओ ख़याल कर दिया !

मुद्दतों बाद उस ने आज मुझ से कोई गिला किया,
मंसब-ए-दिलबरी पे क्या मुझ को बहाल कर दिया !! -Parveen Shakir Ghazal