Poetry Types Waqt

Wo Jo Shayar Tha..

Wo Jo Shayar Tha.. Gulzar Nazm !

Wo jo shayar tha chup sa rahta tha
Bahki-bahki si baaten karta tha
Aankhen kanon pe rakh ke sunta tha
Gungi khamoshiyon ki aawazen

Jama karta tha chaand ke saye
Aur gili si nur ki bunden
Rukhe rukhe se raat ke patte
Ok mein bhar ke khadkhadata tha

Waqt ke is ghanere jangal mein
Kachche-pakke se lamhe chunta tha
Han, wahi, wo ajib sa shayar
Raat ko uth ke kuhniyon ke bal
Chaand ki thodi chuma karta tha

Chaand se gir ke mar gaya hai wo
Log kahte hain khudkhushi ki hai. !! -Gulzar Nazm

वो जो शायर था चुप-सा रहता था
बहकी-बहकी-सी बातें करता था
आँखें कानों पे रख के सुनता था
गूँगी खामोशियों की आवाज़ें

जमा करता था चाँद के साए
और गीली सी नूर की बूँदें
रूखे-रूखे से रात के पत्ते
ओक में भर के खरखराता था

वक़्त के इस घनेरे जंगल में
कच्चे-पक्के से लम्हे चुनता था
हाँ वही, वो अजीब सा शायर
रात को उठ के कोहनियों के बल
चाँद की ठोड़ी चूमा करता था

चाँद से गिर के मर गया है वो
लोग कहते हैं खुदखुशी की है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Do Sondhe Sondhe Se Jism jis waqt..

Do Sondhe Sondhe Se Jism jis waqt.. Be-Khudi – Gulzar Nazm !

Do sondhe sondhe se jism jis waqt
Ek mutthi mein so rahe the
Labon ki maddham tawil sargoshiyon mein sansen ulajh gayi thin
Munde hue sahilon pe jaise kahin bahut dur
Thanda sawan baras raha tha
Bas ek ruh hi jagti thi
Bata tu us waqt main kahan tha ?
Bata tu us waqt tu kahan thi ?? -Gulzar Nazm

दो सौंधे सौंधे से जिस्म जिस वक़्त
एक मुट्ठी में सो रहे थे
लबों की मद्धम तवील सरगोशियों में साँसें उलझ गई थीं
मुँदे हुए साहिलों पे जैसे कहीं बहुत दूर
ठंडा सावन बरस रहा था
बस एक रूह ही जागती थी
बता तू उस वक़्त मैं कहाँ था ?
बता तू उस वक़्त तू कहाँ थी ?? -गुलज़ार नज़्म

 

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai..

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai.. { Diary – Gulzar’s Nazm }

Na jaane kis ki ye Diary hai
Na naam hai na pata hai koi:
“Har ek karwat main yaad karta hun tum ko lekin
Ye karwaten lete raat din yun masal rahe hain mere badan ko
Tumhaari yaadon ke jism par nil pad gaye hain”

Ek aur safhe pe yun likha hai:
“Kabhi kabhi raat ki siyahi,
Kuch aisi chehre pe jam si jati hai
Lakh ragdun,
Sahar ke pani se lakh dhoun
Magar wo kalak nahi utarti
Milogi jab tum pata chalega
Main aur bhi kala ho gaya hun
Ye hashiye mein likha hua hai:
“Main dhoop mein jal ke itna kala nahi hua tha
Ki jitna is raat main sulag ke siyah hua hun”

Mahin lafzon mein ek jagah yun likha hai is ne:
“Tumhen bhi to yaad hogi wo raat sardiyon ki
Jab aundhi kashti ke niche hum ne
Badan ke chulhe jala ke tape the, din kiya tha
Ye pattharon ka bichhauna hargiz na sakht lagta jo tum bhi hotin
Tumhein bichhata bhi odhta bhi”

Ek aur safhe pe phir usi raat ka bayan hai:
“Tum ek takiye mein gile baalon ki bhar ke khushboo,
Jo aaj bhejo
To neend aa jaye, so hi jaun”

Kuch aisa lagta hai jis ne bhi Diary likhi hai
Wo shehar aaya hai ganv mein chhod kar kisi ko
Talaash mein kaam hi ke shayad:
“Main shehar ki is machine mein fit hun jaise dhibri,
Zaruri hai ye zara sa purza
Aham bhi hai kyun ki roz ke roz tel de kar
Ise zara aur kas ke jata hai chief mera
Wo roz kasta hai,
Roz ek pech aur chadhta hai jab nason par,
To ji mein aata hai zehar kha lun
Ya bhag jaun”

Kuch ukhde ukhde, kate hue se ajib jumle,
“Kahani wo jis mein ek shahzadi chat leti hai
Apni angushtari ka hira,
Wo tum ne puri nahi sunai”

“Kadon mein sona nahi hai,
Un par sunahri pani chadha hua hai”
Ek aur zewar ka zikr bhi hai:
“Wo nak ki nath na bechna tum
Wo jhutha moti hai, tum se sachcha kaha tha main ne,
Sunar ke pas ja ke sharmindagi si hogi”

Ye waqt ka than khulta rahta hai pal ba pal,
Aur log poshaken kat kar,
Apne apne andaz se pahante hain waqt lekin
Jo main ne kati thi than se ek qamiz
Wo tang ho rahi hai”

Kabhi kabhi is pighalte lohe ki garm bhatti mein kaam karte,
Thithurne lagta hai ye badan jaise sakht sardi mein bhun raha ho,
Bukhar rahta hai kuch dinon se

Magar ye satren badi ajab hain
Kahin tawazun bigad gaya hai
Ya koi siwan udhad gayi hai:
“Farar hun main kai dinon se
Jo ghup-andhere ki tir jaisi surang ek kan se
Shurua ho ke dusre kan tak gayi hai,
Main us nali mein chhupa hua hun,
Tum aa ke tinke se mujh ko bahar nikal lena”

“Koi nahi aayega ye kide nikalne ab
Ki un ko to shehar mein dhuan de ke mara jata hai naliyon mein” !! -Gulzar’s Nazm

न जाने किस की ये डायरी है
न नाम है, न पता है कोई:
”हर एक करवट मैं याद करता हूँ तुम को लेकिन
ये करवटें लेते रात दिन यूँ मसल रहे हैं मेरे बदन को
तुम्हारी यादों के जिस्म पर नील पड़ गए हैं”

एक और सफ़्हे पे यूँ लिखा है:
”कभी कभी रात की सियाही,
कुछ ऐसी चेहरे पे जम सी जाती है
लाख रगड़ूँ,
सहर के पानी से लाख धोऊँ
मगर वो कालक नहीं उतरती
मिलोगी जब तुम पता चलेगा
मैं और भी काला हो गया हूँ
ये हाशिए में लिखा हुआ है:
”मैं धूप में जल के इतना काला नहीं हुआ था
कि जितना इस रात मैं सुलग के सियह हुआ हूँ”

महीन लफ़्ज़ों में एक जगह यूँ लिखा है इस ने:
”तुम्हें भी तो याद होगी वो रात सर्दियों की
जब औंधी कश्ती के नीचे हम ने
बदन के चूल्हे जला के तापे थे, दिन किया था
ये पत्थरों का बिछौना हरगिज़ न सख़्त लगता जो तुम भी होतीं
तुम्हें बिछाता भी ओढ़ता भी”

एक और सफ़्हे पे फिर उसी रात का बयाँ है:
”तुम एक तकिए में गीले बालों की भर के ख़ुशबू,
जो आज भेजो
तो नींद आ जाए, सो ही जाऊँ”

कुछ ऐसा लगता है जिस ने भी डायरी लिखी है
वो शहर आया है गाँव में छोड़ कर किसी को
तलाश में काम ही के शायद:
”मैं शहर की इस मशीन में फ़िट हूँ जैसे ढिबरी,
ज़रूरी है ये ज़रा सा पुर्ज़ा
अहम भी है क्यूँ कि रोज़ के रोज़ तेल दे कर
इसे ज़रा और कस के जाता है चीफ़ मेरा
वो रोज़ कसता है,
रोज़ एक पेच और चढ़ता है जब नसों पर,
तो जी में आता है ज़हर खा लूँ
या भाग जाऊँ”

कुछ उखड़े उखड़े, कटे हुए से अजीब जुमले,
”कहानी वो जिस में एक शहज़ादी चाट लेती है
अपनी अंगुश्तरी का हीरा,
वो तुम ने पूरी नहीं सुनाई”

”कड़ों में सोना नहीं है,
उन पर सुनहरी पानी चढ़ा हुआ है”
एक और ज़ेवर का ज़िक्र भी है:
”वो नाक की नथ न बेचना तुम
वो झूठा मोती है, तुम से सच्चा कहा था मैं ने,
सुनार के पास जा के शर्मिंदगी सी होगी”

ये वक़्त का थान खुलता रहता है पल ब पल,
और लोग पोशाकें काट कर,
अपने अपने अंदाज़ से पहनते हैं वक़्त लेकिन
जो मैं ने काटी थी थान से एक क़मीज़
वो तंग हो रही है”

कभी कभी इस पिघलते लोहे की गर्म भट्टी में काम करते,
ठिठुरने लगता है ये बदन जैसे सख़्त सर्दी में भुन रहा हो,
बुख़ार रहता है कुछ दिनों से

मगर ये सतरें बड़ी अजब हैं
कहीं तवाज़ुन बिगड़ गया है
या कोई सीवन उधड़ गई है:
”फ़रार हूँ मैं कई दिनों से
जो घुप-अँधेरे की तीर जैसी सुरंग एक कान से
शुरूअ हो के दूसरे कान तक गई है,
मैं उस नली में छुपा हुआ हूँ,
तुम आ के तिनके से मुझ को बाहर निकाल लेना

”कोई नहीं आएगा ये कीड़े निकालने अब
कि उन को तो शहर में धुआँ दे के मारा जाता है नालियों में” !! -गुलज़ार नज़्म

 

Ped Ke Patton Mein Halchal Hai Khabar-Dar Se Hain..

Ped Ke Patton Mein Halchal Hai Khabar-Dar Se Hain.. Gulzar Poetry !

Ped ke patton mein halchal hai khabar-dar se hain,
Shaam se tez hawa chalne ke aasar se hain.

Nakhuda dekh raha hai ki main girdab mein hun,
Aur jo pul pe khade log hain akhbaar se hain.

Chadhte sailab mein sahil ne to munh dhanp liya,
Log pani ka kafan lene ko tayyar se hain.

Kal tawarikh mein dafnaye gaye the jo log,
Un ke saye abhi darwazon pe bedar se hain.

Waqt ke tir to sine pe sambhaale hum ne,
Aur jo nil pade hain teri guftar se hain.

Ruh se chhile hue jism jahan bikte hain,
Hum ko bhi bech de hum bhi usi bazaar se hain.

Jab se wo ahl-e-siyasat mein hue hain shamil,
Kuch adu ke hain to kuch mere taraf-dar se hain. !! -Gulzar Poetry

पेड़ के पत्तों में हलचल है ख़बर-दार से हैं,
शाम से तेज़ हवा चलने के आसार से हैं !

नाख़ुदा देख रहा है कि मैं गिर्दाब में हूँ,
और जो पुल पे खड़े लोग हैं अख़बार से हैं !

चढ़ते सैलाब में साहिल ने तो मुँह ढाँप लिया,
लोग पानी का कफ़न लेने को तय्यार से हैं !

कल तवारीख़ में दफ़नाए गए थे जो लोग,
उन के साए अभी दरवाज़ों पे बेदार से हैं !

वक़्त के तीर तो सीने पे सँभाले हम ने,
और जो नील पड़े हैं तेरी गुफ़्तार से हैं !

रूह से छीले हुए जिस्म जहाँ बिकते हैं,
हम को भी बेच दे हम भी उसी बाज़ार से हैं !

जब से वो अहल-ए-सियासत में हुए हैं शामिल,
कुछ अदू के हैं तो कुछ मेरे तरफ़-दार से हैं !! -गुलज़ार कविता

 

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen..

Zikr Aaye To Mere Lab Se Duaen Niklen.. Gulzar Poetry !

Zikr aaye to mere lab se duaen niklen,
Shama jalti hai to lazim hai shuaen niklen.

Waqt ki zarb se kat jate hain sab ke sine,
Chaand ka chhalka utar jaye to qashen niklen.

Dafn ho jayen ki zarkhez zameen lagti hai,
Kal isi mitti se shayad meri shakhen niklen.

Chand ummiden nichodi thin to aahen tapkin,
Dil ko pighlaen to ho sakta hai sansen niklen.

Gaar ke munh pe rakha rahne do sang-e-khurshid,
Gaar mein haath na dalo kahin raaten niklen. !! -Gulzar Poetry

ज़िक्र आए तो मेरे लब से दुआएँ निकलें,
शमा जलती है तो लाज़िम है शुआएँ निकलें !

वक़्त की ज़र्ब से कट जाते हैं सब के सीने,
चाँद का छलका उतर जाए तो क़ाशें निकलें !

दफ़्न हो जाएँ कि ज़रख़ेज़ ज़मीं लगती है,
कल इसी मिट्टी से शायद मेरी शाख़ें निकलें !

चंद उम्मीदें निचोड़ी थीं तो आहें टपकीं,
दिल को पिघलाएँ तो हो सकता है साँसें निकलें !

ग़ार के मुँह पे रखा रहने दो संग-ए-ख़ुर्शीद,
ग़ार में हाथ न डालो कहीं रातें निकलें !! -गुलज़ार कविता

 

Zikr Hota Hai Jahan Bhi Mere Afsane Ka..

Zikr Hota Hai Jahan Bhi Mere Afsane Ka.. Gulzar Poetry !

Zikr hota hai jahan bhi mere afsane ka,
Ek darwaza sa khulta hai kutub-khane ka.

Ek sannata dabe panv gaya ho jaise,
Dil se ek khauf sa guzra hai bichhad jane ka.

Bulbula phir se chala pani mein ghote khane,
Na samajhne ka use waqt na samjhane ka.

Main ne alfaz to bijon ki tarah chhant diye,
Aisa mitha tera andaz tha farmane ka.

Kis ko roke koi raste mein kahan baat kare,
Na to aane ki khabar hai na pata jane ka. !! -Gulzar Poetry

ज़िक्र होता है जहाँ भी मेरे अफ़्साने का,
एक दरवाज़ा सा खुलता है कुतुब-ख़ाने का !

एक सन्नाटा दबे पाँव गया हो जैसे,
दिल से एक ख़ौफ़ सा गुज़रा है बिछड़ जाने का !

बुलबुला फिर से चला पानी में ग़ोते खाने,
न समझने का उसे वक़्त न समझाने का !

मैं ने अल्फ़ाज़ तो बीजों की तरह छाँट दिए,
ऐसा मीठा तेरा अंदाज़ था फ़रमाने का !

किस को रोके कोई रस्ते में कहाँ बात करे,
न तो आने की ख़बर है न पता जाने का !! -गुलज़ार कविता

 

Koi Atka Hua Hai Pal Shayad..

Koi Atka Hua Hai Pal Shayad.. Gulzar Poetry !

Koi atka hua hai pal shayad,
Waqt mein pad gaya hai bal shayad.

Lab pe aayi meri ghazal shayad,
Wo akele hain aaj-kal shayad.

Dil agar hai to dard bhi hoga,
Is ka koi nahi hai hal shayad.

Jaante hain sawab-e-rahm-o-karam,
Un se hota nahi amal shayad.

Aa rahi hai jo chhap qadmon ki,
Khil rahe hain kahin kanwal shayad.

Rakh ko bhi kured kar dekho,
Abhi jalta ho koi pal shayad.

Chaand dube to chaand hi nikle,
Aap ke paas hoga hal shayad. !! -Gulzar Poetry

कोई अटका हुआ है पल शायद,
वक़्त में पड़ गया है बल शायद !

लब पे आई मेरी ग़ज़ल शायद,
वो अकेले हैं आज-कल शायद !

दिल अगर है तो दर्द भी होगा,
इस का कोई नहीं है हल शायद !

जानते हैं सवाब-ए-रहम-ओ-करम,
उन से होता नहीं अमल शायद !

आ रही है जो छाप क़दमों की,
खिल रहे हैं कहीं कँवल शायद !

राख को भी कुरेद कर देखो,
अभी जलता हो कोई पल शायद !

चाँद डूबे तो चाँद ही निकले,
आप के पास होगा हल शायद !! -गुलज़ार कविता

 

Hum To Kitno Ko Mehjabeen Kehte..

Hum To Kitno Ko Mehjabeen Kehte.. Gulzar Poetry !

Hum to kitno ko Mehjabeen kehte,
Aap hain is liye nahi kehte.

Chaand hota na aasman pe agar,
Hum kise aap sa hasin kehte.

Aap ke panv phir kahan padte,
Hum zameen ko agar zameen kehte.

Aap ne auron se kaha sab kuch,
Hum se bhi kuch kabhi kahin kehte.

Aap ke baad aap hi kahiye,
Waqt ko kaise humnashin kehte.

Wo bhi wahid hai main bhi wahid hun,
Kis sabab se hum aafrin kehte. !! -Gulzar Poetry

हम तो कितनों को महजबीं कहते,
आप हैं इस लिए नहीं कहते !

चाँद होता न आसमाँ पे अगर,
हम किसे आप सा हसीं कहते !

आप के पाँव फिर कहाँ पड़ते,
हम ज़मीं को अगर ज़मीं कहते !

आप ने औरों से कहा सब कुछ,
हम से भी कुछ कभी कहीं कहते !

आप के बाद आप ही कहिए,
वक़्त को कैसे हमनशीं कहते !

वो भी वाहिद है मैं भी वाहिद हूँ,
किस सबब से हम आफ़रीं कहते !! -गुलज़ार कविता

 

Bol Ki Lab Aazad Hain Tere..

Bol Ki Lab Aazad Hain Tere.. Faiz Ahmad Faiz Nazm !

Bol Ke Lab Aazad Hain Tere

Bol ki lab aazad hain tere
Bol zaban ab tak teri hai

Tera sutwan jism hai tera
Bol ki jaan ab tak teri hai

Dekh ki aahangar ki dukan mein
Tund hain shoale surkh hai aahan
Khulne lage quflon ke dahane
Phaila har ek zanjir ka daman

Bol ye thoda waqt bahut hai
Jism-o-zaban ki maut se pahle

Bol ki sach zinda hai ab tak
Bol jo kuch kahna hai kah le. !!

Faiz Ahmad Faiz Nazm

 

बोल कि लब आज़ाद हैं तेरे
बोल ज़बाँ अब तक तेरी है

तेरा सुतवाँ जिस्म है तेरा
बोल कि जाँ अब तक् तेरी है

देख के आहंगर की दुकाँ में
तुंद हैं शोले सुर्ख़ है आहन
खुलने लगे क़ुफ़्फ़लों के दहाने
फैला हर एक ज़न्जीर का दामन

बोल ये थोड़ा वक़्त बहोत है
जिस्म-ओ-ज़बाँ की मौत से पहले

बोल कि सच ज़िंदा है अब तक
बोल जो कुछ कहने है कह ले !!

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ नज़्म

 

Khushboo Jaise Log Mile Afsane Mein..

Khushboo Jaise Log Mile Afsane Mein.. Gulzar Poetry

Khushboo jaise log mile afsane mein,
Ek purana khat khola anjaane mein.

Sham ke saye baalishton se nape hain,
Chaand ne kitni der laga di aane mein.

Raat guzarte shayad thoda waqt lage,
Dhoop undelo thodi si paimane mein.

Jaane kis ka zikar hai is afsane mein,
Dard maze leta hai jo dohrane mein.

Dil par dastak dene kaun aa nikla hai,
Kis ki aahat sunta hun virane mein.

Hum is mod se uth kar agle mod chale,
Un ko shayad umar lagegi aane mein. !! -Gulzar Poetry

ख़ुशबू जैसे लोग मिले अफ़्साने में,
एक पुराना ख़त खोला अनजाने में !

शाम के साए बालिश्तों से नापे हैं,
चाँद ने कितनी देर लगा दी आने में !

रात गुज़रते शायद थोड़ा वक़्त लगे,
धूप उन्डेलो थोड़ी सी पैमाने में !

जाने किस का ज़िक्र है इस अफ़्साने में,
दर्द मज़े लेता है जो दोहराने में !

दिल पर दस्तक देने कौन आ निकला है,
किस की आहट सुनता हूँ वीराने में !

हम इस मोड़ से उठ कर अगले मोड़ चले,
उन को शायद उम्र लगेगी आने में !! -गुलज़ार कविता