Wednesday , October 21 2020

Poetry Types Waqt

Main Udte Hue Panchhiyon Ko Daraata Hua..

Main Udte Hue Panchhiyon Ko Daraata Hua.. { Waqt 1 – Gulzar Nazm } !

Main udte hue panchhiyon ko daraata hua
Kuchalta hua ghas ki kalghiyan
Giraata hua gardanen in darakhton ki chhupta hua
Jin ke pichhe se
Nikla chala ja raha tha wo sooraj
Taaqub mein tha uske main
Giraftar karne gaya tha use
Jo le ke meri umar ka ek din bhagta ja raha tha. !! -Gulzar Nazm

मैं उड़ते हुए पंछियों को डराता हुआ
कुचलता हुआ घास की कलगियाँ
गिराता हुआ गर्दनें इन दरख्तों की,छुपता हुआ
जिनके पीछे से
निकला चला जा रहा था वह सूरज
तआकुब में था उसके मैं
गिरफ्तार करने गया था उसे
जो ले के मेरी उम्र का एक दिन भागता जा रहा था !! -गुलज़ार नज़्म

 

Dur Sunsan Se Sahil Ke Qarib..

Dur Sunsan Se Sahil Ke Qarib.. { Landscape – Gulzar Nazm } !

Dur sunsan se sahil ke qarib
Ek jawan ped ke pas
Umar ke dard liye, waqt ka matiyala dushaala odhe
Budha sa pam ka ek ped, khada hai kab se
Saikdon salon ki tanhaai ke baad
Jhuk ke kahta hai jawan ped se yaar
Sard sannata hai
Tanhaai hai kuch baat karo. !! -Gulzar Nazm

दूर सुनसान से साहिल के क़रीब
एक जवाँ पेड़ के पास
उम्र के दर्द लिए, वक़्त का मटियाला दुशाला ओढ़े
बूढ़ा सा पाम का इक पेड़, खड़ा है कब से
सैकड़ों सालों की तन्हाई के बाद
झुक के कहता है जवाँ पेड़ से यार
सर्द सन्नाटा है
तन्हाई है कुछ बात करो ” !! -गुलज़ार नज़्म

 

Pompiye Dafan Tha Sadiyon Se Jahan..

Pompiye Dafan Tha Sadiyon Se Jahan.. { Pompiye – Gulzar Nazm } !

Pompiye dafan tha sadiyon se jahan
Ek tahzib thi poshida wahan
Shehar khoda to tawarikh ke tukde nikle.

Dheron pathraaye hue waqt ke safhon ko ulat kar dekha
Ek bhooli hui tahzib ke purze se bichhe the har-su
Munjamid laave mein akde hue insanon ke guchchhe the wahan
Aag aur laave se ghabra ke jo lipte honge.

Wahi matke, wahi handi, wahi tute piyale
Honth tute hue, latki hui mitti ki zabanen har-su
Bhukh us waqt bhi thi, pyas bhi thi, pet bhi tha.

Hukmaranon ke mahal, un ki fasilen, sikke
Raij-ul-waqt jo hathiyar the aur un ke daste
Bediyan pattharon ki, aahani, pairon ke kade
Aur ghulamon ko jahan bandh ke rakhte the
Wo pinjre bhi bahut se nikle.

Ek tahzib yahan dafan hai aur us ke qarib
Ek tahzib rawaan hai,
Jo mere waqt ki hai.

Hukmaran bhi hain, mahal bhi hain, faslen bhi hain
Jel-khane bhi hain aur gas ke chamber bhi hain
Hiroshima pe kitaben bhi saja rakhi hain
Bediyan aahani hathkadiyan bhi steel ki hain
Aur ghulamon ko bhi aazadi hai, bandha nahi jaata.

Meri tahzib ne kitni taraqqi kar li hai. !! -Gulzar Nazm

पोम्पिये दफ़्न था सदियों से जहाँ
एक तहज़ीब थी पोशीदा वहाँ
शहर खोदा तो तवारीख़ के टुकड़े निकले

ढेरों पथराए हुए वक़्त के सफ़्हों को उलट कर देखा
एक भूली हुई तहज़ीब के पुर्ज़े से बिछे थे हर-सू
मुंजमिद लावे में अकड़े हुए इंसानों के गुच्छे थे वहाँ
आग और लावे से घबरा के जो लिपटे होंगे

वही मटके, वही हांडी, वही टूटे प्याले
होंट टूटे हुए, लटकी हुई मिट्टी की ज़बानें हर-सू
भूख उस वक़्त भी थी, प्यास भी थी, पेट भी था

हुक्मरानों के महल, उन की फ़सीलें, सिक्के
राइज-उल-वक़्त जो हथियार थे और उन के दस्ते
बेड़ियाँ पत्थरों की, आहनी, पैरों के कड़े
और ग़ुलामों को जहाँ बाँध के रखते थे
वो पिंजरे भी बहुत से निकले

एक तहज़ीब यहाँ दफ़्न है और उस के क़रीब
एक तहज़ीब रवाँ है,
जो मेरे वक़्त की है

हुक्मराँ भी हैं, महल भी हैं, फ़सलें भी हैं
जेल-ख़ाने भी हैं और गैस के चेम्बर भी हैं
हीरोशीमा पे किताबें भी सजा रक्खी हैं
बेड़ियाँ आहनी हथकड़ियाँ भी स्टील की हैं
और ग़ुलामों को भी आज़ादी है, बाँधा नहीं जाता

मेरी तहज़ीब ने अब कितनी तरक़्क़ी की है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Waqt Ki Aankh Pe Patti Bandh Ke Khel Rahe The Aankh Micholi..

Waqt Ki Aankh Pe Patti Bandh Ke Khel Rahe The Aankh Micholi.. { Waqt 2 – Gulzar Nazm } !

Waqt ki aankh pe patti bandh ke khel rahe the aankh micholi
Raat aur din aur chaand aur main
Jaane kaise kainat mein atka panv
Dur gira ja kar main jaise
Raushni se dhakka kha ke parchhain zameen par girti hai. !

Dhayya chhune se pahle hi
Waqt ne chor kaha aur aankhen khol ke mujh ko pakad liya. !! -Gulzar Nazm

वक़्त की आँख पे पट्टी बाँध के खेल रहे थे आँख मिचोली
रात और दिन और चाँद और मैं
जाने कैसे काएनात में अटका पाँव
दूर गिरा जा कर मैं जैसे
रौशनी से धक्का खा के परछाईं ज़मीं पर गिरती है !

धय्या छूने से पहले ही
वक़्त ने चोर कहा और आँखें खोल के मुझ को पकड़ लिया !! -गुलज़ार नज़्म

 

Main Kaenat Mein Sayyaron Mein Bhatakta Tha..

Main Kaenat Mein Sayyaron Mein Bhatakta Tha.. Gulzar Nazm !

Main kaenat mein sayyaron mein bhatakta tha
Dhuen mein dhul mein uljhi hui kiran ki tarah
Main is zameen pe bhatakta raha hun sadiyon tak
Gira hai waqt se kat kar jo lamha us ki tarah

Watan mila to gali ke liye bhatakta raha
Gali mein ghar ka nishan dhundta raha barson
Tumhaari rooh mein ab jism mein bhatakta hun

Labon se chum lo aankhon se tham lo mujhko
Tumhaari kokh se janmun to phir panah mile. !! -Gulzar Nazm

मैं काएनात में सय्यारों में भटकता था
धुएँ में धूल में उलझी हुई किरन की तरह
मैं इस ज़मीं पे भटकता रहा हूँ सदियों तक
गिरा है वक़्त से कट कर जो लम्हा उस की तरह

वतन मिला तो गली के लिए भटकता रहा
गली में घर का निशाँ ढूँडता रहा बरसों
तुम्हारी रूह में अब जिस्म में भटकता हूँ

लबों से चूम लो आँखों से थाम लो मुझको
तुम्हारी कोख से जन्मूँ तो फिर पनाह मिले !! -गुलज़ार नज़्म

 

Waqt Ko Aate Na Jate Na Guzarte Dekha..

Waqt Ko Aate Na Jate Na Guzarte Dekha.. { Boski – Gulzar Nazm } !

Waqt ko aate na jate na guzarte dekha
Na utarte hue dekha kabhi ilham ki surat
Jama hote hue ek jagah magar dekha hai

Shayad aaya tha wo khwabon se dabe panv hi
Aur jab aaya khayalon ko bhi ehsas na tha
Aankh ka rang tulua hote hue dekha jis din
Maine chuma tha magar waqt ko pahchana na tha

Chand tutlaye hue bolon mein aahat bhi suni
Dudh ka dant gira tha to wahan bhi dekha
Boski beti meri chikni si resham ki dali
Lipti-liptai hui reshmi tangon mein padi thi
Mujhko ehsaas nahi tha ki wahan waqt pada hai
Palna khol ke jab maine utara tha use bistar par
Lori ke bolon se ek bar chhua tha usko
Badhte nakhunon mein har bar tarasha bhi tha

Chudiyan chadhti utarti thin kalai pe musalsal
Aur hathon se utarti kabhi chadhti thin kitaben
Mujhko malum nahi tha ki wahan waqt likha hai
Waqt ko aate na jate na guzarte dekha
Jama hote hue dekha magar usko maine
Is baras boski athaarah baras ki hogi. !! -Gulzar Nazm

वक़्त को आते न जाते न गुज़रते देखा
न उतरते हुए देखा कभी इल्हाम की सूरत
जमा होते हुए एक जगह मगर देखा है

शायद आया था वो ख़्वाबों से दबे पाँव ही
और जब आया ख़यालों को भी एहसास न था
आँख का रंग तुलुआ होते हुए देखा जिस दिन
मैंने चूमा था मगर वक़्त को पहचाना न था

चंद तुतलाए हुए बोलों में आहट भी सुनी
दूध का दाँत गिरा था तो वहाँ भी देखा
बोसकी बेटी मेरी चिकनी सी रेशम की डली
लिपटी-लिपटाई हुई रेशमी टांगों में पड़ी थी
मुझको एहसास नहीं था कि वहाँ वक़्त पड़ा है
पालना खोल के जब मैंने उतारा था उसे बिस्तर पर
लोरी के बोलों से एक बार छुआ था उसको
बढ़ते नाख़ूनों में हर बार तराशा भी था

चूड़ियाँ चढ़ती उतरती थीं कलाई पे मुसलसल
और हाथों से उतरती कभी चढ़ती थीं किताबें
मुझको मालूम नहीं था कि वहाँ वक़्त लिखा है
वक़्त को आते न जाते न गुज़रते देखा
जमा होते हुए देखा मगर उसको मैंने
इस बरस बोसकी अठारह बरस की होगी !! -गुलज़ार नज़्म

 

Dhundlai Hui Sham Thi..

Dhundlai Hui Sham Thi.. { Hirasat – Gulzar Nazm } !

Dhundlai hui sham thi
Alsai hui si
Aur waqt bhi basi tha main jab shehar mein aaya
Har shakh se lipte hue sannate khade the
Diwaron se chipki hui khamoshi padi thi
Rahon mein nafas koi na parchhain na saya
Un galiyon mein kuchon mein, andhera na ujala
Darwazon ke pat band the, khali the dariche
Bas waqt ke kuch basi se tukde the, pade the

Main ghumta phirta tha sar-e-shehar akela
Darwazon pe aawaz lagata tha koi hai ?
Har mod pe ruk jaata tha shayad koi aaye
Lekin koi aahat, koi saya bhi na aaya

Ye shehar achanak hi magar jag pada hai
Aawazen hirasat mein liye mujh ko khadi hain
Aawazon ke is shehar mein main qaid pada hun. !! -Gulzar Nazm

धुँदलाई हुई शाम थी
अलसाई हुई सी
और वक़्त भी बासी था मैं जब शहर में आया
हर शाख़ से लिपटे हुए सन्नाटे खड़े थे
दीवारों से चिपकी हुई ख़ामोशी पड़ी थी
राहों में नफ़्स कोई न परछाईं न साया
उन गलियों में कूचों में, अंधेरा न उजाला
दरवाज़ों के पट बंद थे, ख़ाली थे दरीचे
बस वक़्त के कुछ बासी से टुकड़े थे, पड़े थे

मैं घूमता फिरता था सर-ए-शहर अकेला
दरवाज़ों पे आवाज़ लगाता था, कोई है ?
हर मोड़ पे रुक जाता था शायद कोई आए
लेकिन कोई आहट, कोई साया भी न आया

ये शहर अचानक ही मगर जाग पड़ा है
आवाज़ें हिरासत में लिए मुझ को खड़ी हैं
आवाज़ों के इस शहर में मैं क़ैद पड़ा हूँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Ek Hi Khwaab Kai Baar Dekha Maine..

Ek Hi Khwaab Kai Baar Dekha Maine.. Ek khwaab – Gulzar Nazm !

Ek hi khwaab kai baar dekha maine,
Tune saaree mein uras lee hain meri chaabiyan ghar ki,
Aur chali aayi hai bas yunhi mera haath pakadkar…

Mez par phool sajaate hue dekha hai kai baar,
Aur bistar se kai baar jagaya bhi hai tujhko,
Chalte-phirte tere kadmon ki wo aahat bhi suni hai…

Kyon, chitthi hai ya kavita?
Abhi tak to kavita hai…

Gungunati hui nikali hai naha ke jab bhi,
Aur apne bheege hue baalon se tapakta hua pani,
Mere chehre pe chhitak deti hai tu Tiku ki bachchi…

Taash ke patton pe ladti hai kabhi-kabhi khel mein mujhse,
Aur kabhi ladti bhi hai aise ki bas khel rahi hai mujhse,
Aur aaghosh mein nanhe ko liye… Will you shut up !

Aur jaanti to Tiku, jab tumhaara yeh khwaab dekha tha,
Apne bistar pe main us waqt pada jaag raha tha… !! -Gulzar Nazm

 

Wo Jo Shayar Tha..

Wo Jo Shayar Tha.. Gulzar Nazm !

Wo jo shayar tha chup sa rahta tha
Bahki-bahki si baaten karta tha
Aankhen kanon pe rakh ke sunta tha
Gungi khamoshiyon ki aawazen

Jama karta tha chaand ke saye
Aur gili si nur ki bunden
Rukhe rukhe se raat ke patte
Ok mein bhar ke khadkhadata tha

Waqt ke is ghanere jangal mein
Kachche-pakke se lamhe chunta tha
Han, wahi, wo ajib sa shayar
Raat ko uth ke kuhniyon ke bal
Chaand ki thodi chuma karta tha

Chaand se gir ke mar gaya hai wo
Log kahte hain khudkhushi ki hai. !! -Gulzar Nazm

वो जो शायर था चुप-सा रहता था
बहकी-बहकी-सी बातें करता था
आँखें कानों पे रख के सुनता था
गूँगी खामोशियों की आवाज़ें

जमा करता था चाँद के साए
और गीली सी नूर की बूँदें
रूखे-रूखे से रात के पत्ते
ओक में भर के खरखराता था

वक़्त के इस घनेरे जंगल में
कच्चे-पक्के से लम्हे चुनता था
हाँ वही, वो अजीब सा शायर
रात को उठ के कोहनियों के बल
चाँद की ठोड़ी चूमा करता था

चाँद से गिर के मर गया है वो
लोग कहते हैं खुदखुशी की है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Do Sondhe Sondhe Se Jism jis waqt..

Do Sondhe Sondhe Se Jism jis waqt.. Be-Khudi – Gulzar Nazm !

Do sondhe sondhe se jism jis waqt
Ek mutthi mein so rahe the
Labon ki maddham tawil sargoshiyon mein sansen ulajh gayi thin
Munde hue sahilon pe jaise kahin bahut dur
Thanda sawan baras raha tha
Bas ek ruh hi jagti thi
Bata tu us waqt main kahan tha ?
Bata tu us waqt tu kahan thi ?? -Gulzar Nazm

दो सौंधे सौंधे से जिस्म जिस वक़्त
एक मुट्ठी में सो रहे थे
लबों की मद्धम तवील सरगोशियों में साँसें उलझ गई थीं
मुँदे हुए साहिलों पे जैसे कहीं बहुत दूर
ठंडा सावन बरस रहा था
बस एक रूह ही जागती थी
बता तू उस वक़्त मैं कहाँ था ?
बता तू उस वक़्त तू कहाँ थी ?? -गुलज़ार नज़्म