Wednesday , June 16 2021

Poetry Types Wajud

Siddharth Ki Ek Raat..

Siddharth Ki Ek Raat.. Gulzar Nazm !

Koi patta bhi nahi hilta, na pardon mein hai jumbish
Phir bhi kanon mein bahut tez hawaon ki sada hai

Kitne unche hain ye mehrab mahal ke
Aur mehrabon se uncha wo sitaron se bhara thaal falak ka
Kitna chhota hai mera qad
Farsh par jaise kisi harf se ek nuqta gira ho
Sainkadon samton mein bhatka hua man thahre zara
Dil dhadakta hai to bas daudti tapon ki sada aati hai

Raushni band bhi kar dene se kya hoga andhera ?
Sirf aankhen hi nahi dekh sakengi ye chaugarda, main agar kanon mein kuch thuns bhi lun
Raushni chinta ki to zehn se ab bujh nahi sakti
Khud-kashi ek andhera hai, upaye to nahi
Khidkiyan sari khuli hain to hawa kyun nahi aati ?
Niche sardi hai bahut aur hawa tund hai shayad
Dur darwaze ke bahar khade wo santari donon
Shaam se aag mein bas sukhi hui tahniyon ko jhonk rahe hain

Meri aankhon se wo sukha hua dhancha nahi girta
Jism hi jism to tha, ruh kahan thi us mein
Kodh tha us ko tap-e-diq tha ? na jaane kya tha ?
Ya budhapa hi tha shayad
Pisliyan sukhe hue kekaron ke shakhche jaise
Rath pe jate hue dekha tha
Chatanon se udhar
Apni lathi pe gire ped ki manind khada tha

Phir yaka-yak ye hua
Sarthi rok nahi paya tha munh-zor samay ki tapen
Rath ke pahiye ke tale dekha tadap kar ise thanda hote
Khud-kashi thi ? wo samarpan tha ? wo durghatna thi ?
Kya tha ?

Sabz shadab darakhton ke wajud
Apne mausam mein to bin mange bhi phal dete hain
Sukh jate hain to sab kat ke
Is aag mein hi jhonk diye jate hain

Jaise darwaze pe aamal ke wo donon farishte
Shaam se aag mein bas
Sukhi hui tahniyon ko jhonk rahe hain. !! -Gulzar Nazm

कोई पत्ता भी नहीं हिलता, न पर्दों में है जुम्बिश
फिर भी कानों में बहुत तेज़ हवाओं की सदा है

कितने ऊँचे हैं ये मेहराब महल के
और मेहराबों से ऊँचा वो सितारों से भरा थाल फ़लक का
कितना छोटा है मेरा क़द
फ़र्श पर जैसे किसी हर्फ़ से इक नुक़्ता गिरा हो
सैंकड़ों सम्तों में भटका हआ मन ठहरे ज़रा
दिल धड़कता है तो बस दौड़ती टापों की सदा आती है

रौशनी बंद भी कर देने से क्या होगा अंधेरा ?
सिर्फ़ आँखें ही नहीं देख सकेंगी ये चौगर्दा, मैं अगर कानों में कुछ ठूंस भी लूँ
रौशनी चिंता की तो ज़ेहन से अब बुझ नहीं सकती
ख़ुद-कशी एक अंधेरा है, उपाए तो नहीं
खिड़कियाँ सारी खुली हैं तो हवा क्यूँ नहीं आती ?
नीचे सर्दी है बहुत और हवा तुंद है शायद
दूर दरवाज़े के बाहर खड़े वो संतरी दोनों
शाम से आग में बस सूखी हुई टहनियों को झोंक रहे हैं

मेरी आँखों से वो सूखा हुआ ढाँचा नहीं गिरता
जिस्म ही जिस्म तो था, रूह कहाँ थी उस में
कोढ़ था उस को तप-ए-दिक़ था ? न जाने क्या था ?
या बुढ़ापा ही था शायद
पिसलियाँ सूखे हुए केकरों के शाख़चे जैसे
रथ पे जाते हुए देखा था
चटानों से उधर
अपनी लाठी पे गिरे पेड़ की मानिंद खड़ा था

फिर यका-यक ये हुआ
सारथी, रोक नहीं पाया था, मुँह-ज़ोर समय की टापें
रथ के पहिए के तले देखा तड़प कर इसे ठंडा होते
ख़ुद-कशी थी ? वो समर्पण था ? वो दुर्घटना थी ?
क्या था ?

सब्ज़ शादाब दरख़्तों के वजूद
अपने मौसम में तो बिन माँगे भी फल देते हैं
सूख जाते हैं तो सब काट के
इस आग में ही झोंक दिए जाते हैं

जैसे दरवाज़े पे आमाल के वो दोनों फ़रिश्ते
शाम से आग में बस
सूखी हुई टहनियों को झोंक रहे हैं !! -गुलज़ार नज़्म

 

Kabhi Dimaagh Kabhi Dil Kabhi Nazar Mein Raho..

Kabhi Dimaagh Kabhi Dil Kabhi Nazar Mein Raho.. Rahat Indori Shayari

Kabhi dimaagh kabhi dil kabhi nazar mein raho,
Ye sab tumhare hi ghar hain kisi bhi ghar mein raho.

Jala na lo kahin humdardiyon mein apna wajud,
Gali mein aag lagi ho to apne ghar mein raho.

Tumhein pata ye chale ghar ki rahaten kya hain,
Hamari tarah agar chaar din safar mein raho.

Hai ab ye haal ki dar dar bhatakte phirte hain,
Ghamon se main ne kaha tha ki mere ghar mein raho.

Kisi ko zakhm diye hain kisi ko phool diye,
Buri ho chahe bhali ho magar khabar mein raho. !!

कभी दिमाग़ कभी दिल कभी नज़र में रहो,
ये सब तुम्हारे ही घर हैं किसी भी घर में रहो !

जला न लो कहीं हमदर्दियों में अपना वजूद,
गली में आग लगी हो तो अपने घर में रहो !

तुम्हें पता ये चले घर की राहतें क्या हैं,
हमारी तरह अगर चार दिन सफ़र में रहो !

है अब ये हाल कि दर दर भटकते फिरते हैं,
ग़मों से मैं ने कहा था कि मेरे घर में रहो !

किसी को ज़ख़्म दिए हैं किसी को फूल दिए,
बुरी हो चाहे भली हो मगर ख़बर में रहो !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Sab Tamannayen Hon Puri Koi Khwahish Bhi Rahe..

Sab tamannayen hon puri koi khwahish bhi rahe,
Chahta wo hai mohabbat mein numaish bhi rahe.

Aasman chume mere pankh teri rahmat se,
Aur kisi ped ki dali pe rihaish bhi rahe.

Us ne saunpa nahi mujh ko mere hisse ka wajud,
Us ki koshish hai ki mujh se meri ranjish bhi rahe.

Mujh ko malum hai mera hai wo main us ka hun,
Us ki chahat hai ki rasmon ki ye bandish bhi rahe.

Mausamon se rahen “Vishwas” ke aise rishte,
Kuchh adawat bhi rahe thodi nawazish bhi rahe. !!

सब तमन्नाएँ हों पूरी कोई ख़्वाहिश भी रहे,
चाहता वो है मोहब्बत में नुमाइश भी रहे !

आसमाँ चूमे मेरे पँख तेरी रहमत से,
और किसी पेड़ की डाली पे रिहाइश भी रहे !

उस ने सौंपा नहीं मुझ को मेरे हिस्से का वजूद,
उस की कोशिश है कि मुझ से मेरी रंजिश भी रहे !

मुझ को मालूम है मेरा है वो मैं उस का हूँ,
उस की चाहत है कि रस्मों की ये बंदिश भी रहे !

मौसमों से रहें “विश्वास” के ऐसे रिश्ते,
कुछ अदावत भी रहे थोड़ी नवाज़िश भी रहे !!