Poetry Types Wafa

Kahan Wo Ab Lutf-E-Bahami Hai Mohabbaton Mein Bahut Kami Hai

Kahan wo ab lutf-e-bahami hai mohabbaton mein bahut kami hai,
Chali hai kaisi hawa ilahi ki har tabiat mein barhami hai.

Meri wafa mein hai kya tazalzul meri itaat mein kya kami hai,
Ye kyun nigahen phiri hain mujh se mizaj mein kyun ye barhami hai.

Wahi hai fazl-e-khuda se ab tak taraqqi-e-kar-e-husn o ulfat,
Na wo hain mashq-e-sitam mein qasir na khun-e-dil ki yahan kami hai.

Ajib jalwe hain hosh dushman ki wahm ke bhi qadam ruke hain,
Ajib manzar hain hairat-afza nazar jahan thi wahin thami hai.

Na koi takrim-e-bahami hai na pyar baqi hai ab dilon mein,
Ye sirf tahrir mein dear sir hai ya janab-e-mukarrami hai.

Kahan ke muslim kahan ke hindu bhulai hain sab ne agli rasmen,
Aqide sab ke hain tin-terah na gyarahwin hai na ashtami hai.

Nazar meri aur hi taraf hai hazar rang-e-zamana badle,
Hazar baaten banaye naseh jami hai dil mein jo kuch jami hai.

Agarche main rind-e-mohtaram hun magar ise shaikh se na puchho,
Ki un ke aage to is zamane mein sari duniya jahannami hai. !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Teri Zulfon Mein Dil Uljha Hua Hai

Teri zulfon mein dil uljha hua hai

 

Teri zulfon mein dil uljha hua hai,
Bala ke pech mein aaya hua hai.

Na kyunkar bu-e-khun name se aaye,
Usi jallad ka likkha hua hai.

Chale duniya se jis ki yaad mein hum,
Ghazab hai wo hamein bhula hua hai.

Kahun kya haal agli ishraton ka,
Wo tha ek khwab jo bhula hua hai.

Jafa ho ya wafa hum sab mein khush hain,
Karen kya ab to dil atka hua hai.

Hui hai ishq hi se husn ki qadr,
Hamin se aap ka shohra hua hai.

Buton par rahti hai mail hamesha,
Tabiat ko khudaya kya hua hai.

Pareshan rahte ho din raat “Akbar“,
Ye kis ki zulf ka sauda hua hai. !!

तेरी ज़ुल्फ़ों में दिल उलझा हुआ है,
बला के पेच में आया हुआ है !

न क्यूँकर बू-ए-ख़ूँ नामे से आए,
उसी जल्लाद का लिक्खा हुआ है !

चले दुनिया से जिस की याद में हम,
ग़ज़ब है वो हमें भूला हुआ है !

कहूँ क्या हाल अगली इशरतों का,
वो था इक ख़्वाब जो भूला हुआ है !

जफ़ा हो या वफ़ा हम सब में ख़ुश हैं,
करें क्या अब तो दिल अटका हुआ है !

हुई है इश्क़ ही से हुस्न की क़द्र,
हमीं से आप का शोहरा हुआ है !

बुतों पर रहती है माइल हमेशा,
तबीअत को ख़ुदाया क्या हुआ है !

परेशाँ रहते हो दिन रात “अकबर“,
ये किस की ज़ुल्फ़ का सौदा हुआ है !!

 

Phir Gayi Aap Ki Do Din Mein Tabiat Kaisi

Phir gayi aap ki do din mein tabiat kaisi,
Ye wafa kaisi thi sahab ye murawwat kaisi,

Dost ahbab se hans bol ke kat jayegi raat,
Rind-e-azad hain hum ko shab-e-furqat kaisi.

Jis hasin se hui ulfat wahi mashuq apna,
Ishq kis cheez ko kahte hain tabiat kaisi.

Hai jo qismat mein wahi hoga na kuch kam na siwa,
Aarzu kahte hain kis cheez ko hasrat kaisi.

Haal khulta nahi kuch dil ke dhadakne ka mujhe,
Aaj rah rah ke bhar aati hai tabiat kaisi.

Kucha-e-yaar mein jata to nazara karta,
Qais aawara hai jangal mein ye wahshat kaisi. !!

फिर गई आप की दो दिन में तबीयत कैसी,
ये वफ़ा कैसी थी साहब ! ये मुरव्वत कैसी !

दोस्त अहबाब से हंस बोल के कट जायेगी रात,
रिंद-ए-आज़ाद हैं, हमको शब-ए-फुरक़त कैसी !

जिस हसीं से हुई उल्फ़त वही माशूक़ अपना,
इश्क़ किस चीज़ को कहते हैं, तबीयत कैसी !

है जो किस्मत में वही होगा न कुछ कम, न सिवा,
आरज़ू कहते हैं किस चीज़ को, हसरत कैसी !

हाल खुलता नहीं कुछ दिल के धड़कने का मुझे,
आज रह रह के भर आती है तबीयत कैसी !

कूचा-ए-यार में जाता तो नज़ारा करता,
क़ैस आवारा है जंगल में, ये वहशत कैसी !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Dil-E-Nadan Tujhe Hua Kya Hai..

Dil-e-nadan tujhe hua kya hai

 

Dil-e-nadan tujhe hua kya hai,
Aakhir is dard ki dawa kya hai.

Hum hain mushtaq aur wo bezar,
Ya ilahi ye majra kya hai.

Main bhi munh mein zaban rakhta hun,
Kash puchho ki muddaa kya hai.

Jab ki tujh bin nahi koi maujud,
Phir ye hangama aye khuda kya hai.

Ye pari chehra log kaise hain,
Ghamza o ishwa o ada kya hai.

Shikan-e-zulf-e-ambarin kyun hai,
Nigah-e-chashm-e-surma sa kya hai.

Sabza o gul kahan se aaye hain,
Abr kya chiz hai hawa kya hai.

Hum ko un se wafa ki hai ummid,
Jo nahi jaante wafa kya hai.

Han bhala kar tera bhala hoga,
Aur darwesh ki sada kya hai.

Jaan tum par nisar karta hun,
Main nahi jaanta dua kya hai.

Main ne mana ki kuch nahi “Ghalib
Muft hath aaye to bura kya hai. !!

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है,
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है !

हम हैं मुश्ताक़ और वो बेज़ार,
या इलाही ये माजरा क्या है !

मैं भी मुँह में ज़बान रखता हूँ,
काश पूछो कि मुद्दा क्या है !

जब कि तुझ बिन नहीं कोई मौजूद,
फिर ये हंगामा ऐ ख़ुदा क्या है !

ये परी-चेहरा लोग कैसे हैं,
ग़म्ज़ा ओ इश्वा ओ अदा क्या है !

शिकन-ए-ज़ुल्फ़-ए-अंबरीं क्यूँ है,
निगह-ए-चश्म-ए-सुरमा सा क्या है !

सब्ज़ा ओ गुल कहाँ से आए हैं,
अब्र क्या चीज़ है हवा क्या है !

हम को उन से वफ़ा की है उम्मीद,
जो नहीं जानते वफ़ा क्या है !

हाँ भला कर तेरा भला होगा,
और दरवेश की सदा क्या है !

जान तुम पर निसार करता हूँ,
मैं नहीं जानता दुआ क्या है !

मैं ने माना कि कुछ नहीं ‘ग़ालिब‘,
मुफ़्त हाथ आए तो बुरा क्या है !!

– मिर्ज़ा ग़ालिब

 

Ye Kya Tilism Hai Duniya Pe Bar Guzri Hai

Ye kya tilism hai duniya pe bar guzri hai,
Wo zindagi jo sar-e-rahguzar guzri hai.

Gulon ki gum-shudagi se suragh milta hai,
Kahin chaman se nasim-e-bahaar guzri hai.

Kahin sahar ka ujala hua hai ham-nafaso,
Ki mauj-e-barq sar-e-shakh-sar guzri hai.

Raha hai ye sar-e-shorida misl-e-shola buland,
Agarche mujh pe qayamat hazar guzri hai.

Ye hadisa bhi hua hai ki ishq-e-yar ki yaad,
Dayar-e-qalb se begana-war guzri hai.

Unhin ko arz-e-wafa ka tha ishtiyaq bahut,
Unhin ko arz-e-wafa na-gawar guzri hai.

Harim-e-shauq mahakta hai aaj tak “Abid“,
Yahan se nikhat-e-gesu-e-yar guzri hai. !!

ये क्या तिलिस्म है दुनिया पे बार गुज़री है,
वो ज़िंदगी जो सर-ए-रहगुज़ार गुज़री है !

गुलों की गुम-शुदगी से सुराग़ मिलता है,
कहीं चमन से नसीम-ए-बहार गुज़री है !

कहीं सहर का उजाला हुआ है हम-नफ़सो,
कि मौज-ए-बर्क़ सर-ए-शाख़-सार गुज़री है !

रहा है ये सर-ए-शोरीदा मिस्ल-ए-शोला बुलंद,
अगरचे मुझ पे क़यामत हज़ार गुज़री है !

ये हादिसा भी हुआ है कि इश्क़-ए-यार की याद,
दयार-ए-क़ल्ब से बेगाना-वार गुज़री है !

उन्हीं को अर्ज़-ए-वफ़ा का था इश्तियाक़ बहुत,
उन्हीं को अर्ज़-ए-वफ़ा ना-गवार गुज़री है !

हरीम-ए-शौक़ महकता है आज तक “आबिद“,
यहाँ से निकहत-ए-गेसू-ए-यार गुज़री है !!

 

Apna Dil Pesh Karun Apni Wafa Pesh Karun..

Apna dil pesh karun apni wafa pesh karun,
Kuch samajh mein nahi aata tujhe kya pesh karun.

Tere milne ki khushi mein koi naghma chhedoon,
Ya tere dard-e-judai ka gila pesh karun.

Mere khwabon mein bhi tu mere khayalon mein bhi tu,
Kaun si chiz tujhe tujh se juda pesh karun.

Jo tere dil ko lubhaye wo ada mujh mein nahi,
Kyun na tujh ko koi teri hi ada pesh karun. !!

अपना दिल पेश करूँ अपनी वफ़ा पेश करूँ,
कुछ समझ में नहीं आता तुझे क्या पेश करूँ !

तेरे मिलने की ख़ुशी में कोई नग़्मा छेड़ूँ,
या तेरे दर्द-ए-जुदाई का गिला पेश करूँ !

मेरे ख़्वाबों में भी तू मेरे ख़यालों में भी तू,
कौन सी चीज़ तुझे तुझ से जुदा पेश करूँ !

जो तेरे दिल को लुभाए वो अदा मुझ में नहीं,
क्यूँ न तुझ को कोई तेरी ही अदा पेश करूँ !!

 

Barbaad-E-Mohabbat Ki Dua Sath Liye Ja..

Barbaad-e-mohabbat ki dua sath liye ja,
Tuta hua iqrar-e-wafa sath liye ja.

Ek dil tha jo pahle hi tujhe saunp diya tha,
Ye jaan bhi aye jaan-e-ada sath liye ja.

Tapti hui rahon se tujhe aanch na pahunche,
Diwanon ke ashkon ki ghata sath liye ja.

Shamil hai mera khun-e-jigar teri hina mein,
Ye kam ho to ab khun-e-wafa sath liye ja.

Hum jurm-e-mohabbat ki saza payenge tanha,
Jo tujh se hui ho wo khata sath liye ja. !!

बरबाद-ए-मोहब्बत की दुआ साथ लिए जा,
टूटा हुआ इक़रार-ए-वफ़ा साथ लिए जा !

एक दिल था जो पहले ही तुझे सौंप दिया था,
ये जान भी ऐ जान-ए-अदा साथ लिए जा !

तपती हुई राहों से तुझे आँच न पहुँचे,
दीवानों के अश्कों की घटा साथ लिए जा !

शामिल है मेरा ख़ून-ए-जिगर तेरी हिना में,
ये कम हो तो अब ख़ून-ए-वफ़ा साथ लिए जा !

हम जुर्म-ए-मोहब्बत की सज़ा पाएँगे तन्हा,
जो तुझ से हुई हो वो ख़ता साथ लिए जा !!

 

Aisa Bana Diya Tujhe Qudrat Khuda Ki Hai..

Aisa bana diya tujhe qudrat khuda ki hai,
Kis husan ka hai husan ada kis ada ki hai.

Chashm-e-siyah-e-yaar se sazish haya ki hai,
Laila ke sath mein ye saheli bala ki hai.

Taswir kyun dikhayen tumhein naam kyun batayen,
Laye hain hum kahin se kisi bewafa ki hai.

Andaz mujh se aur hain dushman se aur dhang,
Pahchan mujh ko apni parai qaza ki hai.

Maghrur kyun hain aap jawani par is qadar,
Ye mere naam ki hai ye meri dua ki hai.

Dushman ke ghar se chal ke dikha do juda juda,
Ye bankpan ki chaal ye naz-o-ada ki hai.

Rah rah ke le rahi hai mere dil mein chutkiyan,
Phisli hui girah tere band-e-qaba ki hai.

Gardan mudi nigah ladi baat kuchh na ki,
Shokhi to khair aap ki tamkin bala ki hai.

Hoti hai roz baada-kashon ki dua qubul,
Aye mohtasib ye shan-e-karimi khuda ki hai.

Jitne gile the un ke wo sab dil se dhul gaye,
Jhepi hui nigah talafi jafa ki hai.

Chhupta hai khun bhi kahin mutthi to kholiye,
Rangat yahi hina ki yahi bu hina ki hai.

Kah do ki be-wazu na chhuye us ko mohtasib,
Botal mein band ruh kisi parsa ki hai.

Main imtihan de ke unhen kyun na mar gaya,
Ab ghair se bhi un ko tamanna wafa ki hai.

Dekho to ja ke hazrat-e-‘Bekhud’ na hun kahin,
Dawat sharab-khane mein ek parsa ki hai. !!

ऐसा बना दिया तुझे क़ुदरत ख़ुदा की है,
किस हुस्न का है हुस्न अदा किस अदा की है !

चश्म-ए-सियाह-ए-यार से साज़िश हया की है,
लैला के साथ में ये सहेली बला की है !

तस्वीर क्यूँ दिखाएँ तुम्हें नाम क्यूँ बताएँ,
लाए हैं हम कहीं से किसी बेवफ़ा की है !

अंदाज़ मुझ से और हैं दुश्मन से और ढंग,
पहचान मुझ को अपनी पराई क़ज़ा की है !

मग़रूर क्यूँ हैं आप जवानी पर इस क़दर,
ये मेरे नाम की है ये मेरी दुआ की है !

दुश्मन के घर से चल के दिखा दो जुदा जुदा,
ये बाँकपन की चाल ये नाज़-ओ-अदा की है !

रह रह के ले रही है मिरे दिल में चुटकियाँ,
फिसली हुई गिरह तिरे बंद-ए-क़बा की है !

गर्दन मुड़ी निगाह लड़ी बात कुछ न की,
शोख़ी तो ख़ैर आप की तम्कीं बला की है !

होती है रोज़ बादा-कशों की दुआ क़ुबूल,
ऐ मोहतसिब ये शान-ए-करीमी ख़ुदा की है !

जितने गिले थे उन के वो सब दिल से धुल गए,
झेपी हुई निगाह तलाफ़ी जफ़ा की है !

छुपता है ख़ून भी कहीं मुट्ठी तो खोलिए,
रंगत यही हिना की यही बू हिना की है !

कह दो कि बे-वज़ू न छुए उस को मोहतसिब,
बोतल में बंद रूह किसी पारसा की है !

मैं इम्तिहान दे के उन्हें क्यूँ न मर गया,
अब ग़ैर से भी उन को तमन्ना वफ़ा की है !

देखो तो जा के हज़रत-ए-‘बेख़ुद’ न हूँ कहीं,
दावत शराब-ख़ाने में इक पारसा की है !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

Aap Hain Be-Gunah Kya Kehna..

Aap hain be-gunah kya kehna,
Kya safai hai wah kya kehna.

Us se haal-e-tabah kya kehna,
Jo kahe sun ke wah kya kehna.

Hashr mein ye unhen nayi sujhi,
Ban gaye dad-khwah kya kehna.

Uzr karna sitam ke baad tumhein,
Khub aata hai wah kya kehna.

Tum na roko nigah ko apni,
Hum karen zabt-e-ah kya kehna.

Tujh se achchhe kahan zamane mein,
Wah aye rashk-e-mah kya kehna.

Ghair par lutf-e-khas ka izhaar,
Mujh se tedhi nigah kya kehna.

Ghair se mang kar subut-e-wafa,
Ban gaye khud gawah kya kehna.

Dil bhi le kar nahin yaqeen-e-wafa,
Hai abhi ishtibah kya kehna.

Balbe chitwan teri maaz-allah,
Uf re tedhi nigah kya kehna.

Un gunon par najat ki ummid,
‘Be-khud’-e-ru-siyah kya kehna. !!

आप हैं बे-गुनाह क्या कहना,
क्या सफ़ाई है वाह क्या कहना !

उस से हाल-ए-तबाह क्या कहना,
जो कहे सुन के वाह क्या कहना !

हश्र में ये उन्हें नई सूझी,
बन गए दाद-ख़्वाह क्या कहना !

उज़्र करना सितम के बाद तुम्हें,
ख़ूब आता है वाह क्या कहना !

तुम न रोको निगाह को अपनी,
हम करें ज़ब्त-ए-आह क्या कहना !

तुझ से अच्छे कहाँ ज़माने में,
वाह ऐ रश्क-ए-माह क्या कहना !

ग़ैर पर लुत्फ़-ए-ख़ास का इज़हार ,
मुझ से टेढ़ी निगाह क्या कहना !

ग़ैर से माँग कर सबूत-ए-वफ़ा,
बन गए ख़ुद गवाह क्या कहना !

दिल भी ले कर नहीं यक़ीन-ए-वफ़ा ,
है अभी इश्तिबाह क्या कहना !

बल्बे चितवन तिरी मआज़-अल्लाह,
उफ़ रे टेढ़ी निगाह क्या कहना !

उन गुनों पर नजात की उम्मीद,
‘बे-ख़ुद’-ए-रू-सियाह क्या कहना !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

Silsile Tod Gaya Wo Sabhi Jate Jate..

Silsile tod gaya wo sabhi jate jate,
Warna itne to marasim the ki aate jate.

Shikwa-e-zulmat-e-shab se to kahin behtar tha,
Apne hisse ki koi shama jalate jate.

Kitna aasan tha tere hijr mein marna jaanan,
Phir bhi ek umar lagi jaan se jate jate.

Jashn-e-maqtal hi na barpa hua warna hum bhi,
Pa-ba-jaulan hi sahi nachte gate jate.

Is ki wo jaane use pas-e-wafa tha ki na tha,
Tum “Faraz” apni taraf se to nibhate jate. !!

सिलसिले तोड़ गया वो सभी जाते जाते,
वर्ना इतने तो मरासिम थे कि आते जाते !

शिकवा-ए-ज़ुल्मत-ए-शब से तो कहीं बेहतर था,
अपने हिस्से की कोई शमा जलाते जाते !

कितना आसाँ था तेरे हिज्र में मरना जानाँ,
फिर भी एक उम्र लगी जान से जाते जाते !

जश्न-ए-मक़्तल ही न बरपा हुआ वर्ना हम भी,
पा-ब-जौलाँ ही सही नाचते गाते जाते !

इस की वो जाने उसे पास-ए-वफ़ा था कि न था,
तुम “फ़राज़” अपनी तरफ़ से तो निभाते जाते !!