Poetry Types Umar

Har Ek Ye Kahta Hai Ab Kar-E-Din To Kuch Bhi Nahi..

Har Ek Ye Kahta Hai Ab Kar-E-Din To Kuch Bhi Nahi.. Akbar Allahabadi Poetry

Har ek ye kahta hai ab kar-e-din to kuch bhi nahi,
Ye sach bhi hai ki maza be-yaqin to kuch bhi nahi.

Tamam umar yahan khak uda ke dekh liya,
Ab aasaman ko dekhun zameen to kuch bhi nahi.

Meri nazar mein to bas hai unhin se raunaq-e-bazm,
Wahi nahi hain jo aye ham-nashin to kuch bhi nahi.

Haram mein mujh ko nazar aaye sirf zahid-e-khushk,
Makan khub hai lekin makin to kuch bhi nahi.

Tere labon se hai albatta ek halawat-e-zist,
Nabaat-e-qand-e-shakar angbin to kuch bhi nahi.

Dimagh ab to mison ka hai charkh-e-chaarum par,
Badha diya meri khwahish ne thin to kuch bhi nahi.

Ba-qaul-e-hazrat-e-mahshar kalam sher ka,
Pasand aaye to sab kuch nahi to kuch bhi nahi.

Wo kahte hain ki tumhin ho jo kuch ho aye “Akbar“,
Hum apne dil mein hain kahte hamin to kuch bhi nahi. !!

-Akbar Allahabadi Poetry / Ghazals

 

Tere Jaisa Mera Bhi Haal Tha Na Sukun Tha Na Qarar Tha

Tere jaisa mera bhi haal tha na sukun tha na qarar tha,
Yahi umar thi mere ham-nashin ki kisi se mujh ko bhi pyar tha.

Main samajh raha hun teri kasak tera mera dard hai mushtarak,
Isi gham ka tu bhi asir hai isi dukh ka main bhi shikar tha.

Faqat ek dhun thi ki raat-din isi khwab-zar mein gum rahen,
Wo surur aisa surur tha wo khumar aisa khumar tha.

Kabhi lamha-bhar ki bhi guftugu meri us ke sath na ho saki,
Mujhe fursaten nahi mil sakin wo hawa ke rath par sawar tha.

Hum ajib tarz ke log the ki hamare aur hi rog the,
Main khizan mein us ka tha muntazir use intizar-e-bahaar tha.

Use padh ke tum na samajh sake ki meri kitab ke rup mein,
Koi qarz tha kai sal ka kai rat-jagon ka udhaar tha. !!

तेरे जैसा मेरा भी हाल था न सुकून था न क़रार था,
यही उम्र थी मेरे हम-नशीं कि किसी से मुझ को भी प्यार था !

मैं समझ रहा हूँ तेरी कसक तेरा मेरा दर्द है मुश्तरक,
इसी ग़म का तू भी असीर है इसी दुख का मैं भी शिकार था !

फ़क़त एक धुन थी कि रात-दिन इसी ख़्वाब-ज़ार में गुम रहें,
वो सुरूर ऐसा सुरूर था वो ख़ुमार ऐसा ख़ुमार था !

कभी लम्हा-भर की भी गुफ़्तुगू मेरी उस के साथ न हो सकी,
मुझे फ़ुर्सतें नहीं मिल सकीं वो हवा के रथ पर सवार था !

हम अजीब तर्ज़ के लोग थे कि हमारे और ही रोग थे,
मैं ख़िज़ाँ में उस का था मुंतज़िर उसे इंतिज़ार-ए-बहार था !

उसे पढ़ के तुम न समझ सके कि मेरी किताब के रूप में,
कोई क़र्ज़ था कई साल का कई रत-जगों का उधार था !!

-Aitbar Sajid Ghazal / Urdu Poetry

 

Ishq Mujh Ko Nahi Wahshat Hi Sahi

Ishq mujh ko nahi wahshat hi sahi,
Meri wahshat teri shohrat hi sahi.

Qata kije na talluq hum se,
Kuch nahi hai to adawat hi sahi.

Mere hone mein hai kya ruswai,
Ayi wo majlis nahi khalwat hi sahi.

Hum bhi dushman to nahi hain apne,
Ghair ko tujh se mohabbat hi sahi.

Apni hasti hi se ho jo kuch ho,
Aagahi gar nahi ghaflat hi sahi.

Umar har-chand ki hai barq-e-khiram,
Dil ke khun karne ki fursat hi sahi.

Hum koi tark-e-wafa karte hain,
Na sahi ishq musibat hi sahi.

Kuch to de aye falak-e-na-insaf,
Aah o fariyaad ki rukhsat hi sahi.

Hum bhi taslim ki khu dalenge,
Be-niyazi teri aadat hi sahi.

Yar se chhed chali jaye asad,
Gar nahi wasl to hasrat hi sahi. !!

इश्क़ मुझ को नहीं वहशत ही सही,
मेरी वहशत तिरी शोहरत ही सही !

क़त्अ कीजे न तअल्लुक़ हम से,
कुछ नहीं है तो अदावत ही सही !

मेरे होने में है क्या रुस्वाई,
ऐ वो मज्लिस नहीं ख़ल्वत ही सही !

हम भी दुश्मन तो नहीं हैं अपने,
ग़ैर को तुझ से मोहब्बत ही सही !

अपनी हस्ती ही से हो जो कुछ हो,
आगही गर नहीं ग़फ़लत ही सही !

उम्र हर-चंद कि है बर्क़-ए-ख़िराम,
दिल के ख़ूँ करने की फ़ुर्सत ही सही !

हम कोई तर्क-ए-वफ़ा करते हैं,
न सही इश्क़ मुसीबत ही सही !

कुछ तो दे ऐ फ़लक-ए-ना-इंसाफ़,
आह ओ फ़रियाद की रुख़्सत ही सही !

हम भी तस्लीम की ख़ू डालेंगे,
बे-नियाज़ी तिरी आदत ही सही !

यार से छेड़ चली जाए असद,
गर नहीं वस्ल तो हसरत ही सही !!

-Mirza Ghalib Ghazal Poetry

 

Sham-E-Mazar Thi Na Koi Sogwar Tha..

Sham-e-mazar thi na koi sogwar tha,
Tum jis pe ro rahe the ye kis ka mazar tha.

Tadpunga umar-bhar dil-e-marhum ke liye,
Kam-bakht na-murad ladakpan ka yaar tha.

Sauda-e-ishq aur hai wahshat kuchh aur shai,
Majnun ka koi dost fasana-nigar tha.

Jadu hai ya tilism tumhari zaban mein,
Tum jhuth kah rahe the mujhe aitbar tha.

Kya kya hamare sajde ki ruswaiyan hui,
Naqsh-e-qadam kisi ka sar-e-rahguzar tha.

Is waqt tak to waza mein aaya nahin hai farq,
Tera karam sharik jo parwardigar tha. !!

शम-ए-मज़ार थी न कोई सोगवार था,
तुम जिस पे रो रहे थे ये किस का मज़ार था !

तड़पूँगा उम्र-भर दिल-ए-मरहूम के लिए,
कम-बख़्त ना-मुराद लड़कपन का यार था !

सौदा-ए-इश्क़ और है वहशत कुछ और शय,
मजनूँ का कोई दोस्त फ़साना-निगार था !

जादू है या तिलिस्म तुम्हारी ज़बान में,
तुम झूठ कह रहे थे मुझे ऐतबार था !

क्या क्या हमारे सज्दे की रुस्वाइयाँ हुईं,
नक़्श-ए-क़दम किसी का सर-ए-रहगुज़ार था !

इस वक़्त तक तो वज़्अ’ में आया नहीं है फ़र्क़,
तेरा करम शरीक जो पर्वरदिगार था !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

Koi Na Jaan Saka Wo Kaha Se Aaya Tha..

Koi na jaan saka wo kaha se aaya tha,
Aur usne dhoop se badal ko kyon milaya tha.

Ye baat logon ko shayad pasand aayi nahi,
Makaan chhota tha lekin bahut sajaya tha.

Wo ab wahan hain jahan raste nahi jate,
Main jiske saath yahaan pichhle saal aaya tha.

Suna hai uspe chahakne lage parinde bhi,
Wo ek pauda jo hamne kabhi lagaya tha.

Chiraagh doob gaye Kapkapaye honton par,
Kisi ka haath humaare labon tak aaya tha.

Badan ko chhod ke jana hai aasman ki taraf,
Samandaron ne hamein ye sabaq padaya tha.

Tamaam umar mera dam isi dhuein mein ghuta,
Wo ek chiraagh tha maine use bujhaaya tha. !!

कोई न जान सका वो कहाँ से आया था,
और उसने धुप से बादल को क्यों मिलाया था !

यह बात लोगों को शायद पसंद आयी नहीं,
मकान छोटा था लेकिन बहुत सजाया था !

वो अब वहाँ हैं जहाँ रास्ते नहीं जाते,
मैं जिसके साथ यहाँ पिछले साल आया था !

सुना है उस पे चहकने लगे परिंदे भी,
वो एक पौधा जो हमने कभी लगाया था !

चिराग़ डूब गए कपकपाये होंठों पर,
किसी का हाथ हमारे लबों तक आया था !

तमाम उम्र मेरा दम इसी धुएं में घुटा,
वो एक चिराग़ था मैंने उसे बुझाया था !! -Bashir Badr Ghazal

 

Andar Ka Zahar Chum Liya Dhul Ke Aa Gaye..

Andar ka zahar chum liya dhul ke aa gaye,
Kitne sharif log the sab khul ke aa gaye.

Sooraj se jang jitne nikle the bewaquf,
Sare sipahi mom ke the ghul ke aa gaye.

Masjid mein dur dur koi dusra na tha,
Hum aaj apne aap se mil-jul ke aa gaye.

Nindon se jang hoti rahegi tamam umar,
Aankhon mein band khwab agar khul ke aa gaye,

Sooraj ne apni shakl bhi dekhi thi pahli bar,
Aaine ko maze bhi taqabul ke aa gaye,

Anjaane saye phirne lage hain idhar udhar,
Mausam hamare shehar mein kabul ke aa gaye. !!

अंदर का ज़हर चूम लिया धुल के आ गए,
कितने शरीफ़ लोग थे सब खुल के आ गए !

सूरज से जंग जीतने निकले थे बेवक़ूफ़,
सारे सिपाही मोम के थे घुल के आ गए !

मस्जिद में दूर दूर कोई दूसरा न था,
हम आज अपने आप से मिल-जुल के आ गए !

नींदों से जंग होती रहेगी तमाम उम्र,
आँखों में बंद ख़्वाब अगर खुल के आ गए !

सूरज ने अपनी शक्ल भी देखी थी पहली बार,
आईने को मज़े भी तक़ाबुल के आ गए !

अनजाने साए फिरने लगे हैं इधर-उधर,
मौसम हमारे शहर में काबुल के आ गए !! -Rahat Indori Ghazal

 

2020 Happy Valentine’s Day Shayari In Hindi

2020 Happy-Valentines-Day

Dil ke rishton ka koi naam nahi hota
Maana ki eska koyi anjam nahi hota
Agar chahat ho dono taraf to
Umar Bhar ka rishta nakaam nahi hota !!

दिल के रिश्तों का कोई नाम नहीं होता
माना की इसका कोई अंजाम नहीं होता
अगर चाहत हो दोनों तरफ तो
उम्र भर का रिश्ता नाकाम नहीं होता

2020 Happy Valentine’s Day

 

Aaye Kuchh Abr Kuchh Sharab Aaye..

Aaye kuchh abr kuchh sharab aaye,
Is ke baad aaye jo azab aaye

Baam-e-mina se mahtab utre,
Dast-e-saqi mein aaftab aaye.

Har rag-e-khun mein phir charaghan ho,
Samne phir wo be-naqab aaye.

Umar ke har waraq pe dil ki nazar,
Teri mehr-o-wafa ke bab aaye.

Kar raha tha gham-e-jahan ka hisab,
Aaj tum yaad be-hisab aaye.

Na gayi tere gham ki sardari,
Dil mein yun roz inqalab aaye.

Jal uthe bazm-e-ghair ke dar-o-baam,
Jab bhi hum khanuman-kharab aaye.

Is tarah apni khamushi gunji,
Goya har samt se jawab aaye.

Faiz” thi rah sar-ba-sar manzil,
Hum jahan pahunche kaamyab aaye. !!

आए कुछ अब्र कुछ शराब आए
इस के बाद आए जो अज़ाब आए !

बाम-ए-मीना से माहताब उतरे,
दस्त-ए-साक़ी में आफ़्ताब आए !

हर रग-ए-ख़ूँ में फिर चराग़ाँ हो,
सामने फिर वो बे-नक़ाब आए !

उम्र के हर वरक़ पे दिल की नज़र,
तेरी मेहर-ओ-वफ़ा के बाब आए !

कर रहा था ग़म-ए-जहाँ का हिसाब,
आज तुम याद बे-हिसाब आए !

न गई तेरे ग़म की सरदारी,
दिल में यूँ रोज़ इंक़लाब आए !

जल उठे बज़्म-ए-ग़ैर के दर-ओ-बाम,
जब भी हम ख़ानुमाँ-ख़राब आए !

इस तरह अपनी ख़ामुशी गूँजी,
गोया हर सम्त से जवाब आए !

फ़ैज़” थी राह सर-ब-सर मंज़िल,
हम जहाँ पहुँचे कामयाब आए !!

 

Rog Aise Bhi Gham-E-Yaar Se Lag Jate Hain..

Rog aise bhi gham-e-yaar se lag jate hain,
Dar se uthte hain to diwar se lag jate hain.

Ishq aaghaz mein halki si khalish rakhta hai,
Baad mein saikdon aazar se lag jate hain.

Pahle pahle hawas ik-adh dukan kholti hai,
Phir to bazaar ke bazaar se lag jate hain.

Bebasi bhi kabhi qurbat ka sabab banti hai,
Ro na payen to gale yaar se lag jate hain.

Katranen gham ki jo galiyon mein udi phirti hain,
Ghar mein le aao to ambar se lag jate hain.

Dagh daman ke hon dil ke hon ki chehre ke “Faraz“,
Kuchh nishan umar ki raftar se lag jate hain. !!

रोग ऐसे भी ग़म-ए-यार से लग जाते हैं,
दर से उठते हैं तो दीवार से लग जाते हैं !

इश्क़ आग़ाज़ में हल्की सी ख़लिश रखता है,
बाद में सैकड़ों आज़ार से लग जाते हैं !

पहले पहले हवस एक-आध दुकाँ खोलती है,
फिर तो बाज़ार के बाज़ार से लग जाते हैं !

बेबसी भी कभी क़ुर्बत का सबब बनती है,
रो न पाएँ तो गले यार से लग जाते हैं !

कतरनें ग़म की जो गलियों में उड़ी फिरती हैं,
घर में ले आओ तो अम्बार से लग जाते हैं !

दाग़ दामन के हों दिल के हों कि चेहरे के “फ़राज़“,
कुछ निशाँ उम्र की रफ़्तार से लग जाते हैं !!

 

Guftugu Achchhi Lagi Zauq-E-Nazar Achchha Laga..

Guftugu achchhi lagi zauq-e-nazar achchha laga,
Muddaton ke baad koi hum-safar achchha laga.

Dil ka dukh jaana to dil ka masala hai par humein,
Us ka hans dena humare haal par achchha laga.

Har tarah ki be-sar-o-samaniyon ke bawajud,
Aaj wo aaya to mujh ko apna ghar achchha laga.

Baghban gulchin ko chahe jo kahe hum ko to phool,
Shakh se badh kar kaf-e-dildar par achchha laga.

Koi maqtal mein na pahuncha kaun zalim tha jise,
Tegh-e-qatil se ziyada apna sar achchha laga.

Hum bhi qael hain wafa mein ustuwari ke magar,
Koi puchhe kaun kis ko umar bhar achchha laga.

Apni apni chahaten hain log ab jo bhi kahen,
Ek pari-paikar ko ek aashufta-sar achchha laga.

“Mir” ke manind aksar zist karta tha “Faraz“,
Tha to wo diwana sa shayaar magar achchha laga. !!

गुफ़्तुगू अच्छी लगी ज़ौक़-ए-नज़र अच्छा लगा,
मुद्दतों के बाद कोई हम-सफ़र अच्छा लगा !

दिल का दुख जाना तो दिल का मसअला है पर हमें,
उस का हँस देना हमारे हाल पर अच्छा लगा !

हर तरह की बे-सर-ओ-सामानियों के बावजूद,
आज वो आया तो मुझ को अपना घर अच्छा लगा !

बाग़बाँ गुलचीं को चाहे जो कहे हम को तो फूल,
शाख़ से बढ़ कर कफ़-ए-दिलदार पर अच्छा लगा !

कोई मक़्तल में न पहुँचा कौन ज़ालिम था जिसे,
तेग़-ए-क़ातिल से ज़ियादा अपना सर अच्छा लगा !

हम भी क़ाएल हैं वफ़ा में उस्तुवारी के मगर,
कोई पूछे कौन किस को उम्र भर अच्छा लगा !

अपनी अपनी चाहतें हैं लोग अब जो भी कहें,
एक परी-पैकर को एक आशुफ़्ता-सर अच्छा लगा !

“मीर” के मानिंद अक्सर ज़ीस्त करता था “फ़राज़“,
था तो वो दीवाना सा शायर मगर अच्छा लगा !!