Poetry Types Shehar

Ye Aane Wala Zamana Hamein Batayega..

Ye aane wala zamana hamein batayega,
Wo ghar banayega apna ki ghar basayega.

Main sare shehar mein badnaam hun khabar hai mujhe,
Wo mere naam se kya fayeda uthayega.

Phir us ke baad ujale kharidne honge,
Zara si der mein sooraj to dub jayega.

Hai sair-gah ye kachchi munder sanpon ki,
Yahan se kaise koi rasta banega.

Sunai deti nahi ghar ke shor mein dastak,
Main jaanta hun jo aayega laut jayega.

Main soch bhi nahi sakta tha un udanon mein,
Wo apne ganv ki mitti ko bhul jayega.

Hazaron rog to pale hue ho tum “Nazmi“,
Bachane wala kahan tak tumhein bachayega. !!

ये आने वाला ज़माना हमें बताएगा,
वो घर बनाएगा अपना कि घर बसाएगा !

मैं सारे शहर में बदनाम हूँ ख़बर है मुझे,
वो मेरे नाम से क्या फ़ाएदा उठाएगा !

फिर उस के बाद उजाले ख़रीदने होंगे,
ज़रा सी देर में सूरज तो डूब जाएगा !

है सैर-गाह ये कच्ची मुंडेर साँपों की,
यहाँ से कैसे कोई रास्ता बनाएगा !

सुनाई देती नहीं घर के शोर में दस्तक,
मैं जानता हूँ जो आएगा लौट जाएगा !

मैं सोच भी नहीं सकता था उन उड़ानों में,
वो अपने गाँव की मिट्टी को भूल जाएगा !

हज़ारों रोग तो पाले हुए हो तुम “नज़मी“,
बचाने वाला कहाँ तक तुम्हें बचाएगा !!

 

Kuch Bhi Bacha Na Kehne Ko Har Baat Ho Gayi

Kuch bhi bacha na kehne ko har baat ho gayi,
Aao kahin sharaab piyen raat ho gayi.

Phir yun hua ki waqt ka pansa palat gaya,
Ummid jeet ki thi magar mat ho gayi.

Sooraj ko chonch mein liye murgha khada raha,
Khidki ke parde khinch diye raat ho gayi.

Wo aadmi tha kitna bhala kitna pur-khulus,
Us se bhi aaj lije mulaqat ho gayi.

Raste mein wo mila tha main bach kar guzar gaya,
Us ki phati qamis mere sath ho gayi.

Naqsha utha ke koi naya shehar dhundhiye,
Is shehar mein to sab se mulaqat ho gayi. !!

कुछ भी बचा न कहने को हर बात हो गई,
आओ कहीं शराब पिएँ रात हो गई !

फिर यूँ हुआ कि वक़्त का पाँसा पलट गया,
उम्मीद जीत की थी मगर मात हो गई !

सूरज को चोंच में लिए मुर्ग़ा खड़ा रहा,
खिड़की के पर्दे खींच दिए रात हो गई !

वो आदमी था कितना भला कितना पुर-ख़ुलूस,
उस से भी आज लीजे मुलाक़ात हो गई !

रस्ते में वो मिला था मैं बच कर गुज़र गया,
उस की फटी क़मीस मेरे साथ हो गई !

नक़्शा उठा के कोई नया शहर ढूँढिए,
इस शहर में तो सब से मुलाक़ात हो गई !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Dariya Ho Ya Pahad Ho Takrana Chahiye

Dariya ho ya pahad ho takrana chahiye,
Jab tak na sans tute jiye jana chahiye.

Yun to qadam qadam pe hai diwar samne,
Koi na ho to khud se ulajh jana chahiye.

Jhukti hui nazar ho ki simta hua badan,
Har ras-bhari ghata ko baras jana chahiye.

Chaurahe bagh buildingen sab shehar to nahi,
Kuch aise waise logon se yarana chahiye.

Apni talash apni nazar apna tajraba,
Rasta ho chahe saf bhatak jana chahiye.

Chup chup makan raste gum-sum nidhaal waqt,
Is shehar ke liye koi diwana chahiye.

Bijli ka qumquma na ho kala dhuan to ho,
Ye bhi agar nahi ho to bujh jana chahiye. !!

दरिया हो या पहाड़ हो टकराना चाहिए,
जब तक न साँस टूटे जिए जाना चाहिए !

यूँ तो क़दम क़दम पे है दीवार सामने,
कोई न हो तो ख़ुद से उलझ जाना चाहिए !

झुकती हुई नज़र हो कि सिमटा हुआ बदन,
हर रस-भरी घटा को बरस जाना चाहिए !

चौराहे बाग़ बिल्डिंगें सब शहर तो नहीं,
कुछ ऐसे वैसे लोगों से याराना चाहिए !

अपनी तलाश अपनी नज़र अपना तजरबा,
रस्ता हो चाहे साफ़ भटक जाना चाहिए !

चुप चुप मकान रास्ते गुम-सुम निढाल वक़्त,
इस शहर के लिए कोई दीवाना चाहिए !

बिजली का क़ुमक़ुमा न हो काला धुआँ तो हो,
ये भी अगर नहीं हो तो बुझ जाना चाहिए !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Us Ke Dushman Hain Bahut Aadmi Achchha Hoga

Us ke dushman hain bahut aadmi achchha hoga,
Wo bhi meri hi tarah shehar mein tanha hoga.

Itna sach bol ki honton ka tabassum na bujhe,
Raushni khatm na kar aage andhera hoga.

Pyas jis nahr se takrai wo banjar nikli,
Jis ko pichhe kahin chhod aaye wo dariya hoga.

Mere bare mein koi raye to hogi us ki,
Us ne mujh ko bhi kabhi tod ke dekha hoga.

Ek mehfil mein kai mehfilen hoti hain sharik,
Jis ko bhi pas se dekhoge akela hoga. !!

उस के दुश्मन हैं बहुत आदमी अच्छा होगा,
वो भी मेरी ही तरह शहर में तन्हा होगा !

इतना सच बोल कि होंटों का तबस्सुम न बुझे,
रौशनी ख़त्म न कर आगे अँधेरा होगा !

प्यास जिस नहर से टकराई वो बंजर निकली,
जिस को पीछे कहीं छोड़ आए वो दरिया होगा !

मेरे बारे में कोई राय तो होगी उस की,
उस ने मुझ को भी कभी तोड़ के देखा होगा !

एक महफ़िल में कई महफ़िलें होती हैं शरीक,
जिस को भी पास से देखोगे अकेला होगा !!

-Nida Fazli Ghazal / Sad Poetry

 

Kabhi Kisi Ko Mukammal Jahan Nahi Milta

Kabhi kisi ko mukammal jahan nahi milta,
Kahin zameen kahin aasman nahi milta.

Tamam shehar mein aisa nahi khulus na ho,
Jahan umeed ho is ki wahan nahi milta.

Kahan charagh jalayen kahan gulab rakhen,
Chhaten to milti hain lekin makan nahi milta.

Ye kya azab hai sab apne aap mein gum hain,
Zaban mili hai magar ham-zaban nahi milta.

Charagh jalte hi binai bujhne lagti hai,
Khud apne ghar mein hi ghar ka nishan nahi milta. !!

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता,
कहीं ज़मीन कहीं आसमाँ नहीं मिलता !

तमाम शहर में ऐसा नहीं ख़ुलूस न हो,
जहाँ उमीद हो इस की वहाँ नहीं मिलता !

कहाँ चराग़ जलाएँ कहाँ गुलाब रखें,
छतें तो मिलती हैं लेकिन मकाँ नहीं मिलता !

ये क्या अज़ाब है सब अपने आप में गुम हैं,
ज़बाँ मिली है मगर हम-ज़बाँ नहीं मिलता !

चराग़ जलते ही बीनाई बुझने लगती है,
ख़ुद अपने घर में ही घर का निशाँ नहीं मिलता !!

-Nida Fazli Sad Poetry/Ghazal

 

Main Kab Kehta Hun Woh Accha Bahut Hai..

Main kab kehta hoon woh accha bahut hai

Main kab kehta hun woh accha bahut hai,
Magar usne mujhe chaha bahut hai.

Khuda is shehar ko mehfuz rakhe,
Ye bachchon ki tarah hansta bahut hai.

Main tujhse roz milna chahta hun,
Magar is raah mein khatra bahut hai.

Mera dil baarishon mein phool jaisa,
Ye bachcha raat mein rota bahut hai.

Isey aansoo ka ek qatra na smjho,
Kuaan hai aur ye gehra bahut hai.

Usey shohrat ne tanha kar diya hai,
Samandar hai magar pyasa bahut hai.

Main ek lamhe mein sadiyan dekhta hun,
Tumhare sath ek lamha bahut hai.

Mera hansna zaruri ho gya hai,
Yahan har shakhs sanjida bahut hai. !!

मै कब कहता हूँ वो अच्छा बहुत है,
मगर उसने मुझे चाहा बहुत है !

खुदा इस शहर को महफूज़ रखे,
ये बच्चों की तरह हँसता बहुत है !

मै तुझसे रोज़ मिलना चाहता हूँ,
मगर इस राह में खतरा बहुत है !

मेरा दिल बारिशों में फूल जैसा,
ये बच्चा रात में रोता बहुत है !

इसे आंसू का एक कतरा न समझो,
कुँआ है और ये गहरा बहुत है !

उसे शोहरत ने तनहा कर दिया है,
समंदर है मगर प्यासा बहुत है !

मै एक लम्हे में सदियाँ देखता हूँ,
तुम्हारे साथ एक लम्हा बहुत है !

मेरा हँसना ज़रूरी हो गया है,
यहाँ हर शख्स संजीदा बहुत है !! -Bashir Badr Ghazal

 

Hai Ajib Shehar Ki Zindagi Na Safar Raha Na Qayam Hai

Hai ajib shehar ki zindagi na safar raha na qayam hai,
Kahin karobar si dopehar kahin bad-mizaj si shaam hai.

Kahan ab duaon ki barkatein wo nasihatein wo hidayatein,
Ye matalbon ka khulus hai ye zaruraton ka salam hai.

Yun hi roz milne ki aarzoo badi rakh rakhaw ki guftugu,
Ye sharafatein nahin be gharaz ise aap se koi kaam hai.

Wo dilo mein aag lagayega main dilon ki aag bujhaunga,
Use apne kaam se kaam hai mujhe apne kaam se kaam hai.

Na udas ho na malal kar kisi baat ka na khyal kar,
Kayi saal baad mile hain hum tere naam aaj ki sham hai.

Koi naghma dhup ke ganw sa koi naghma sham ki chhanw sa,
Zara in parindon se puchhna ye kalam kis ka kalam hai. !!

है अजीब शहर कि ज़िंदगी न सफ़र रहा न क़याम है,
कहीं कारोबार सी दोपहर कहीं बदमिज़ाज सी शाम है !

कहाँ अब दुआओं कि बरकतें वो नसीहतें वो हिदायतें,
ये मतलबों का ख़ुलूस है या ज़रूरतों का सलाम है !

यूँ ही रोज़ मिलने कि आरज़ू बड़ी रख रखाव कि गुफ्तगू,
ये शराफ़ातें नहीं बे ग़रज़ इसे आपसे कोई काम है !

वो दिलों में आग लगायेगा में दिलों कि आग बुझाऊंगा,
उसे अपने काम से काम है मुझे अपने काम से काम है !

न उदास हो न मलाल कर किसी बात का न ख्याल कर,
कई साल बाद मिले है हम तेरे नाम आज कि शाम कर !

कोई नग्मा धुप के गॉँव सा कोई नग़मा शाम कि छाँव सा,
ज़रा इन परिंदों से पूछना ये कलाम किस का कलाम है !! -Bashir Badr Ghazal

 

Chand Ka Tukda Na Suraj Ka Numainda Hoon..

Chand ka tukda na suraj ka numainda hoon,
Main na is baat pe naazan hun na sharminda hoon.

Dafn ho jayega jo sainkdon man mitti mein,
Ghaliban main bhi usi shehar ka bashinda hoon.

Zandagi tu mujhe pahchan na payi lekin,
Log kahte hain ke main tera numainda hoon.

Phool si qabr se aksar ye sada aati hai,
Koi kahta hai bachaalo main abhi zinda hoon.

Tan pe kapde hain qadaamat ki alaamat aur main,
Sar barahna yahan aajane pe sharminda hoon.

Waaqai is tarah maine kabhi socha hi nahi,
Kaun hai apna yahan kis ke liye zinda hoon. !!

चाँद का टुकड़ा न सूरज का नुमाइन्दा हूँ,
मैं न इस बात पे नाज़ाँ हूँ न शर्मिंदा हूँ !

दफ़न हो जाएगा जो सैंकड़ों मन मिट्टी में,
ग़ालिबन मैं भी उसी शहर का बाशिन्दा हूँ !

ज़िंदगी तू मुझे पहचान न पाई लेकिन,
लोग कहते हैं कि मैं तेरा नुमाइन्दा हूँ !

फूल सी क़ब्र से अक्सर ये सदा आती है,
कोई कहता है बचा लो मैं अभी ज़िन्दा हूँ !

तन पे कपड़े हैं क़दामत की अलामत और मैं,
सर बरहना यहाँ आ जाने पे शर्मिंदा हूँ !

वाक़ई इस तरह मैंने कभी सोचा ही नहीं,
कौन है अपना यहाँ किस के लिये ज़िन्दा हूँ !! -Bashir Badr Ghazal

 

Khushboo Ki Tarah Aaya Wo Tez Hawaon Mein..

Khushboo ki tarah aaya wo tez hawaon mein

 

Khushboo ki tarah aaya wo tez hawaon mein,
Manga tha jise hum ne din raat duaon mein.

Tum chhat pe nahi aaye main ghar se nahi nikla,
Ye chand bahut bhatka saawan ki ghataon mein.

Is shehar mein ek ladki bilkul hai ghazal jaisi,
Bijli si ghataon mein khushboo si Adaon mein.

Mausam ka ishaara hai khush rahne do bachchon ko,
Masoom mohabbat hai phoolon ki khataon mein.

Hum chand sitaron ki rahon ke musafir hain,
Hum raat chamakte hain tarik khalaon mein.

Bhagwan hi bhejenge chawal se bhari thaali,
Mazloom parindon ki masoom sabhaon mein.

Dada bade bhole the sab se yahi kahte the,
Kuchh zehar bhi hota hai angrezi dawaon mein. !!

खुशबू कि तरह आया वो तेज़ हवाओं में,
मांगा था जिसे हमने दिन रात दुआओं में !

तुम छत पे नहीं आये में घर से नहीं निकला,
ये चाँद बहुत भटका सावन कि घटाओं में !

इस शहर में एक लड़की बिलकुल है ग़ज़ल जैसी,
बिजली सी घटाओं में खुशबू सी अदाओं में !

मौसम का इशारा है खुश रहने दो बच्चों को,
मासूम मोहब्बत है फूलों कि खताओं में !

हम चाँद सितारों की राहों के मुसाफ़िर हैं,
हम रात चमकते हैं तारीक ख़लाओं में !

भगवान् ही भेजेंगे चावल से भरी थाली,
मज़लूम परिंदों कि मासूम सभाओं में !

दादा बड़े भोले थे सब से यही कहते थे
कुछ ज़हर भी होता है अंग्रेजी दवाओं में !! -Bashir Badr Ghazal

 

Sirf Khanjar Hi Nahi Aankhon Mein Pani Chahiye..

Sirf khanjar hi nahi aankhon mein pani chahiye,
Aye khuda dushman bhi mujhko khandani chahiye.

Shehar ki sari alif-lailayen budhi ho chukin,
Shahzade ko koi taza kahani chahiye.

Maine aye sooraj tujhe puja nahin samjha to hai,
Mere hisse mein bhi thodi dhup aani chahiye.

Meri qimat kaun de sakta hai is bazaar mein,
Tum zulekha ho tumhein qimat lagani chahiye.

Zindagi hai ek safar aur zindagi ki rah mein,
Zindagi bhi aaye to thokar lagani chahiye.

Maine apni khushk aankhon se lahu chhalka diya,
Ek samundar kah raha tha mujhko pani chahiye. !!

सिर्फ़ ख़ंजर ही नहीं आँखों में पानी चाहिए,
ऐ ख़ुदा दुश्मन भी मुझको ख़ानदानी चाहिए !

शहर की सारी अलिफ़-लैलाएँ बूढ़ी हो चुकीं,
शाहज़ादे को कोई ताज़ा कहानी चाहिए !

मैंने ऐ सूरज तुझे पूजा नहीं समझा तो है,
मेरे हिस्से में भी थोड़ी धूप आनी चाहिए !

मेरी क़ीमत कौन दे सकता है इस बाज़ार में,
तुम ज़ुलेख़ा हो तुम्हें क़ीमत लगानी चाहिए !

ज़िंदगी है एक सफ़र और ज़िंदगी की राह में,
ज़िंदगी भी आए तो ठोकर लगानी चाहिए !

मैंने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया,
एक समुंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए !! -Rahat Indori Ghazal