Poetry Types Shauq

Zid Hai Unhen Pura Mera Arman Na Karenge..

Zid hai unhen pura mera arman na karenge,
Munh se jo nahi nikli hai ab han na karenge.

Kyun zulf ka bosa mujhe lene nahi dete,
Kahte hain ki wallah pareshan na karenge.

Hai zehan mein ek baat tumhaare mutalliq,
Khalwat mein jo puchhoge to pinhan na karenge.

Waiz to banate hain musalman ko kafir,
Afsos ye kafir ko musalman na karenge.

Kyun shukr-guzari ka mujhe shauq hai itna,
Sunta hun wo mujh par koi ehsan na karenge.

Diwana na samjhe hamein wo samjhe sharaabi,
Ab chaak kabhi jeb o gareban na karenge.

Wo jaante hain ghair mere ghar mein hai mehman,
Aayenge to mujh par koi ehsan na karenge. !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Zikr-E-Shab-E-Firaq Se Wahshat Use Bhi Thi..

Zikr-e-shab-e-firaq se wahshat use bhi thi,
Meri tarah kisi se mohabbat use bhi thi.

Mujh ko bhi shauq tha naye chehron ki did ka,
Rasta badal ke chalne ki aadat use bhi thi.

Is raat der tak wo raha mahw-e-guftugu,
Masruf main bhi kam tha faraghat use bhi thi.

Mujh se bichhad ke shehar mein ghul-mil gaya wo shakhs,
Haalanki shehar-bhar se adawat use bhi thi.

Wo mujh se badh ke zabt ka aadi tha ji gaya,
Warna har ek sans qayamat use bhi thi.

Sunta tha wo bhi sab se purani kahaniyan,
Shayad rafaqaton ki zarurat use bhi thi.

Tanha hua safar mein to mujh pe khula ye bhed,
Saye se pyar dhup se nafrat use bhi thi.

Mohsin” main us se kah na saka yun bhi haal dil,
Darpesh ek taza musibat use bhi thi. !!

ज़िक्र-ए-शब-ए-फ़िराक़ से वहशत उसे भी थी,
मेरी तरह किसी से मोहब्बत उसे भी थी !

मुझ को भी शौक़ था नए चेहरों की दीद का,
रस्ता बदल के चलने की आदत उसे भी थी !

इस रात देर तक वो रहा महव-ए-गुफ़्तुगू,
मसरूफ़ मैं भी कम था फ़राग़त उसे भी थी !

मुझ से बिछड़ के शहर में घुल-मिल गया वो शख़्स,
हालाँकि शहर-भर से अदावत उसे भी थी !

वो मुझ से बढ़ के ज़ब्त का आदी था जी गया,
वर्ना हर एक साँस क़यामत उसे भी थी !

सुनता था वो भी सब से पुरानी कहानियाँ,
शायद रफ़ाक़तों की ज़रूरत उसे भी थी !

तन्हा हुआ सफ़र में तो मुझ पे खुला ये भेद,
साए से प्यार धूप से नफ़रत उसे भी थी !

मोहसिन” मैं उस से कह न सका यूँ भी हाल दिल,
दरपेश एक ताज़ा मुसीबत उसे भी थी !!

 

Hai Ajab Haal Ye Zamane Ka..

Hai ajab haal ye zamane ka,
Yaad bhi taur hai bhulane ka.

Pasand aaya bahut hamein pesha,
Khud hi apne gharon ko dhane ka.

Kash humko bhi ho nasib kabhi,
Aish-e-daftar mein gungunane ka.

Aasman hai khamoshi-e-jawed,
Main bhi ab lab nahi hilane ka.

Jaan kya ab tera piyala-e-naf,
Nashsha mujh ko nahi pilane ka.

Shauq hai is dil-e-darinda ko,
Aap ke honth kat khane ka.

Itna nadim hua hun khud se ki main,
Ab nahi khud ko aazmane ka.

Kya kahun jaan ko bachane main,
Jaun” khatra hai jaan jaane ka.

Ye jahan “Jaun” ek jahannum hai,
Yan khuda bhi nahi hai aane ka.

Zindagi ek fan hai lamhon ko,
Apne andaz se ganwane ka. !!

है अजब हाल ये ज़माने का,
याद भी तौर है भुलाने का !

पसंद आया बहुत हमें पेशा,
ख़ुद ही अपने घरों को ढाने का !

काश हमको भी हो नसीब कभी,
ऐश-ए-दफ़्तर में गुनगुनाने का !

आसमाँ है ख़मोशी-ए-जावेद,
मैं भी अब लब नहीं हिलाने का !

जान क्या अब तेरा पियाला-ए-नाफ़,
नश्शा मुझ को नहीं पिलाने का !

शौक़ है इस दिल-ए-दरिंदा को,
आप के होंठ काट खाने का !

इतना नादिम हुआ हूँ ख़ुद से कि मैं,
अब नहीं ख़ुद को आज़माने का !

क्या कहूँ जान को बचाने मैं,
जॉन” ख़तरा है जान जाने का !

ये जहाँ “जॉन” एक जहन्नुम है,
यहाँ ख़ुदा भी नहीं है आने का !

ज़िंदगी एक फ़न है लम्हों को,
अपने अंदाज़ से गँवाने का !!

 

Be-Khayali Mein Yunhi Bas Ek Irada Kar Liya..

Be-khayali mein yunhi bas ek irada kar liya,
Apne dil ke shauq ko had se ziyada kar liya.

Jante the donon hum us ko nibha sakte nahi,
Usne wada kar liya maine bhi wada kar liya.

Ghair se nafrat jo pa li kharch khud par ho gayi,
Jitne hum the hum ne khud ko us se aadha kar liya.

Sham ke rangon mein rakh kar saf pani ka gilas,
Aab-e-sada ko harif-e-rang-e-baada kar liya.

Hijraton ka khauf tha ya pur-kashish kohna maqam,
Kya tha jis ko hum ne khud diwar-e-jada kar liya.

Ek aisa shakhs banta ja raha hun main “Munir“,
Jis ne khud par band husn-o jam-o-baada kar liya. !!

बे-ख़याली में यूँही बस इक इरादा कर लिया,
अपने दिल के शौक़ को हद से ज़ियादा कर लिया !

जानते थे दोनों हम उस को निभा सकते नहीं,
उसने वादा कर लिया मैंने भी वादा कर लिया !

ग़ैर से नफ़रत जो पा ली ख़र्च ख़ुद पर हो गई,
जितने हम थे हम ने ख़ुद को उस से आधा कर लिया !

शाम के रंगों में रख कर साफ़ पानी का गिलास,
आब-ए-सादा को हरीफ़-ए-रंग-ए-बादा कर लिया !

हिजरतों का ख़ौफ़ था या पुर-कशिश कोहना मक़ाम,
क्या था जिस को हम ने ख़ुद दीवार-ए-जादा कर लिया !

एक ऐसा शख़्स बनता जा रहा हूँ मैं “मुनीर“,
जिस ने ख़ुद पर बंद हुस्न-ओ-जाम-ओ-बादा कर लिया !!

Munawwar Rana “Maa” Part 1

1.
Hanste hue Maa-Baap ki gaali nahi khaate,
Bachche hain to kyon shauq se mitti nahi khaate.

हँसते हुए माँ-बाप की गाली नहीं खाते,
बच्चे हैं तो क्यों शौक़ से मिट्टी नहीं खाते !

2.
Ho chaahe jis ilaaqe ki zaban bachche samajhte hain,
Sagi hai ya ki sauteli hai Maa bachche samajhte hain.

हो चाहे जिस इलाक़े की ज़बाँ बच्चे समझते हैं,
सगी है या कि सौतेली है माँ बच्चे समझते हैं !

3.
Hawa dukhon ki jab aayi kabhi khizaan ki tarah,
Mujhe chhupa liya mitti ne meri Maa ki tarah.

हवा दुखों की जब आई कभी ख़िज़ाँ की तरह,
मुझे छुपा लिया मिट्टी ने मेरी माँ की तरह !

4.
Sisakiyaan uski na dekhi gayi mujhse “Rana”,
Ro pada main bhi use pehli kamaayi dete.

सिसकियाँ उसकी न देखी गईं मुझसे “राना”,
रो पड़ा मैं भी उसे पहली कमाई देते !

5.
Sar-phire log humein dushman-e-jaan kehte hain,
Hum jo is mulk ki mitti ko bhi Maa kehte hain.

सर फिरे लोग हमें दुश्मन-ए-जाँ कहते हैं,
हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी माँ कहते हैं !

6.
Mujhe bas is liye achchhi bahaar lagati hai,
Ki ye bhi Maa ki tarah khush-gawaar lagati hai.

मुझे बस इस लिए अच्छी बहार लगती है,
कि ये भी माँ की तरह ख़ुशगवार लगती है !

7.
Maine rote hue ponchhe the kisi din aansoo,
Muddaton Maa ne nahi dhoya dupatta apna.

मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू,
मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुपट्टा अपना !

8.
Bheje gaye farishte humaare bachaav ko,
Jab haadsaat Maa ki dua se ulajh pade.

भेजे गए फ़रिश्ते हमारे बचाव को,
जब हादसात माँ की दुआ से उलझ पड़े !

9.
Labon pe us ke kabhi bad-dua nahi hoti,
Bas ek Maa hai jo mujh se khafa nahi hoti.

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती,
बस एक माँ है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती !

10.
Taar par bathi hui chidiyon ko sota dekh kar,
Farsh par sota hua beta bahut achchha laga.

तार पर बैठी हुई चिड़ियों को सोता देख कर,
फ़र्श पर सोता हुआ बेटा बहुत अच्छा लगा !!

11.
Is chehre mein poshida hai ek kaum ka chehra,
Chehre ka utar jana munasib nahi hoga.

इस चेहरे में पोशीदा है इक क़ौम का चेहरा,
चेहरे का उतर जाना मुनासिब नहीं होगा !

12.
Ab bhi chalti hai jab aandhi kabhi gham ki “Rana”,
Maa ki mamta mujhe baahon mein chhupa leti hai.

अब भी चलती है जब आँधी कभी ग़म की “राना”,
माँ की ममता मुझे बाहों में छुपा लेती है !

13.
Musibat ke dinon mein humesha sath rahti hai,
Payambar kya pareshaani mein ummat chhod sakta hai ?

मुसीबत के दिनों में हमेशा साथ रहती है,
पयम्बर क्या परेशानी में उम्मत छोड़ सकता है ?

14.
Puraana ped buzurgon ki tarah hota hai,
Yahi bahut hai ki taaza hawayen deta hai.

पुराना पेड़ बुज़ुर्गों की तरह होता है,
यही बहुत है कि ताज़ा हवाएँ देता है !

15.
Kisi ke paas aate hain to dariya sukh jate hain,
Kisi ke ediyon se ret ka chashma nikalta hai.

किसी के पास आते हैं तो दरिया सूख जाते हैं,
किसी के एड़ियों से रेत का चश्मा निकलता है !

16.
Jab tak raha hun dhoop mein chadar bana raha,
Main apni Maa ka aakhiri jevar bana raha.

जब तक रहा हूँ धूप में चादर बना रहा,
मैं अपनी माँ का आखिरी ज़ेवर बना रहा !

17.
Dekh le zalim shikaari ! Maa ki mamata dekh le,
Dekh le chidiya tere daane talak to aa gayi.

देख ले ज़ालिम शिकारी ! माँ की ममता देख ले,
देख ले चिड़िया तेरे दाने तलक तो आ गई !

18.
Mujhe bhi us ki judai satate rehti hai,
Use bhi khwaab mein beta dikhaayi deta hai.

मुझे भी उसकी जुदाई सताती रहती है,
उसे भी ख़्वाब में बेटा दिखाई देता है !

19.
Muflisi ghar mein theharne nahi deti usko,
Aur pardesh mein beta nahi rahne deta.

मुफ़लिसी घर में ठहरने नहीं देती उसको,
और परदेस में बेटा नहीं रहने देता !

20.
Agar school mein bachche hon ghar achchha nahi lagta,
Parindon ke na hone par shajar achchha nahi lagta.

अगर स्कूल में बच्चे हों घर अच्छा नहीं लगता,
परिन्दों के न होने पर शजर अच्छा नहीं लगता !

Hamare Shauq Ki Ye Intiha Thi..

Hamare shauq ki ye intiha thi,
Qadam rakkha ki manzil rasta thi.

Bichhad ke Dar se ban ban phira wo,
Hiran ko apni kasturi saza thi.

Kabhi jo khwab tha wo pa liya hai,
Magar jo kho gayi wo chiz kya thi.

Main bachpan mein khilaune todta tha,
Mere anjam ki wo ibtida thi.

Mohabbat mar gayi mujh ko bhi gham hai,
Mere achchhe dinon ki aashna thi.

Jise chhu lun main wo ho jaye sona,
Tujhe dekha to jaana bad-dua thi.

Mariz-e-khwab ko to ab shifa hai,
Magar duniya badi kadwi dawa thi. !!

हमारे शौक़ की ये इंतिहा थी,
क़दम रखा कि मंज़िल रास्ता थी !

बिछड़ के डार से बन बन फिरा वो,
हिरन को अपनी कस्तूरी सज़ा थी !

कभी जो ख़्वाब था वो पा लिया है,
मगर जो खो गई वो चीज़ क्या थी !

मैं बचपन में खिलौने तोड़ता था,
मेरे अंजाम की वो इब्तिदा थी !

मोहब्बत मर गई मुझ को भी ग़म है,
मेरे अच्छे दिनों की आश्ना थी !

जिसे छू लूँ मैं वो हो जाए सोना,
तुझे देखा तो जाना बद-दुआ थी !

मरीज़-ए-ख़्वाब को तो अब शिफ़ा है,
मगर दुनिया बड़ी कड़वी दवा थी !!

-Javed Akhtar Ghazal / Urdu Poetry

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

Ek Nazar Hi Dekha Tha Shauq Ne Shabab Un Ka..

Ek nazar hi dekha tha shauq ne shabab un ka

Ek nazar hi dekha tha shauq ne shabab un ka,
Din ko yaad hai un ki raat ko hai khwab un ka.

Gir gaye nigahon se phul bhi sitare bhi,
Main ne jab se dekha hai aalam-e-shabab un ka.

Nasehon ne shayad ye baat hi nahi sochi,
Ek taraf hai dil mera ek taraf shabab un ka.

Ai dil un ke chehre tak kis tarah nazar jati,
Nur un ke chehre ka ban gaya hijab un ka.

Ab kahun to main kis se mere dil pe kya guzri,
Dekh kar un aankhon mein dard-e-iztirab un ka.

Hashr ke muqabil mein hashr hi saf-ara hai,
Is taraf junun mera us taraf shabab un ka. !!

एक नज़र ही देखा था शौक़ ने शबाब उन का,
दिन को याद है उन की रात को है ख़्वाब उन का !

गिर गए निगाहों से फूल भी सितारे भी,
मैं ने जब से देखा है आलम-ए-शबाब उन का !

नासेहों ने शायद ये बात ही नहीं सोची,
एक तरफ़ है दिल मेरा एक तरफ़ शबाब उन का !

ऐ दिल उन के चेहरे तक किस तरह नज़र जाती,
नूर उन के चेहरे का बन गया हिजाब उन का !

अब कहूँ तो मैं किस से मेरे दिल पे क्या गुज़री,
देख कर उन आँखों में दर्द-ए-इज़्तिराब उन का !

हश्र के मुक़ाबिल में हश्र ही सफ़-आरा है,
इस तरफ़ जुनूँ मेरा उस तरफ़ शबाब उन का !!

-Jagan Nath Azad Poetry

 

Paraya Kaun Hai Aur Kaun Apna Sab Bhula Denge..

Paraya kaun hai aur kaun apna sab bhula denge,
Matae zindagi ek din hum bhi luta denge.

Tum apne samne ki bhid se ho kar guzar jao,
Ki aage wale to hargiz na tum ko rasta denge.

Jalae hain diye to phir hawaon par nazar rakkho,
Ye jhonke ek pal mein sab charaghon ko bujha denge.

Koi puchhega jis din waqai ye zindagi kya hai,
Zamin se ek mutthi khak le kar hum uda denge.

Gila, shikwa, hasad, kina, ke tohfe meri kismat hain,
Mere ahbab ab is se ziyaada aur kya denge.

Musalsal dhup mein chalna charaghon ki tarah jalna,
Ye hangame to mujh ko waqt se pahle thaka denge.

Agar tum aasman par ja rahe ho shauq se jao,
Mere naqshe qadam aage ki manzil ka pata denge. !!

पराया कौन है और कौन अपना सब भुला देंगे,
मताए ज़िन्दगानी एक दिन हम भी लुटा देंगे !

तुम अपने सामने की भीड़ से होकर गुज़र जाओ,
कि आगे वाले तो हर गिज़ न तुम को रास्ता देंगे !

जलाये हैं दिये तो फिर हवाओ पर नज़र रखो,
ये झोकें एक पल में सब चिराग़ो को बुझा देंगे !

कोई पूछेगा जिस दिन वाक़ई ये ज़िन्दगी क्या है,
ज़मीं से एक मुठ्ठी ख़ाक लेकर हम उड़ा देंगे !

गिला, शिकवा, हसद, कीना, के तोहफे मेरी किस्मत है,
मेरे अहबाब अब इससे ज़ियादा और क्या देंगे !

मुसलसल धूप में चलना चिराग़ो की तरह जलना,
ये हंगामे तो मुझको वक़्त से पहले थका देंगे !

अगर तुम आसमां पर जा रहे हो, शौक़ से जाओ,
मेरे नक्शे क़दम आगे की मंज़िल का पता देंगे !!

-Anwar Jalalpuri Ghazal