Poetry Types Saye

Main Bhi Us Hall Mein Baitha Tha..

Main Bhi Us Hall Mein Baitha Tha.. Gulzar Nazm !

Main bhi us hall mein baitha tha
Jahan parde pe ek film ke kirdar
Zinda-jawed nazar aate the
Unki har baat badi, soch badi, karm bade
Unka har ek amal
Ek tamsil thi bas dekhne walon ke liye
Main adakar tha us mein
Tum adakara thi
Apne mahbub ka jab haath pakad kar tumne
Zindagi ek nazar mein bhar ke
Uske sine pe bas ek aansoo se likh kar de di

Kitne sachche the wo kirdar
Jo parde par the
Kitne farzi the wo do haal mein baithe saye. !! -Gulzar Nazm

मैं भी उस हॉल में बैठा था
जहाँ पर्दे पे एक फ़िल्म के किरदार
ज़िंदा-जावेद नज़र आते थे
उनकी हर बात बड़ी, सोच बड़ी, कर्म बड़े
उनका हर एक अमल
एक तमसील थी बस देखने वालों के लिए
मैं अदाकार था उस में
तुम अदाकारा थीं
अपने महबूब का जब हाथ पकड़ कर तुमने
ज़िंदगी एक नज़र में भर के
उसके सीने पे बस एक आँसू से लिख कर दे दी

कितने सच्चे थे वो किरदार
जो पर्दे पर थे
कितने फ़र्ज़ी थे वो दो हाल में बैठे साए !! -गुलज़ार नज़्म

 

Wo Jo Shayar Tha..

Wo Jo Shayar Tha.. Gulzar Nazm !

Wo jo shayar tha chup sa rahta tha
Bahki-bahki si baaten karta tha
Aankhen kanon pe rakh ke sunta tha
Gungi khamoshiyon ki aawazen

Jama karta tha chaand ke saye
Aur gili si nur ki bunden
Rukhe rukhe se raat ke patte
Ok mein bhar ke khadkhadata tha

Waqt ke is ghanere jangal mein
Kachche-pakke se lamhe chunta tha
Han, wahi, wo ajib sa shayar
Raat ko uth ke kuhniyon ke bal
Chaand ki thodi chuma karta tha

Chaand se gir ke mar gaya hai wo
Log kahte hain khudkhushi ki hai. !! -Gulzar Nazm

वो जो शायर था चुप-सा रहता था
बहकी-बहकी-सी बातें करता था
आँखें कानों पे रख के सुनता था
गूँगी खामोशियों की आवाज़ें

जमा करता था चाँद के साए
और गीली सी नूर की बूँदें
रूखे-रूखे से रात के पत्ते
ओक में भर के खरखराता था

वक़्त के इस घनेरे जंगल में
कच्चे-पक्के से लम्हे चुनता था
हाँ वही, वो अजीब सा शायर
रात को उठ के कोहनियों के बल
चाँद की ठोड़ी चूमा करता था

चाँद से गिर के मर गया है वो
लोग कहते हैं खुदखुशी की है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Aaj Muddat Mein Wo Yaad Aaye Hain..

Aaj Muddat Mein Wo Yaad Aaye Hain.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Aaj muddat mein wo yaad aaye hain,
Dar o diwar pe kuch saye hain.

Aabginon se na takra paye,
Kohsaron se to takraye hain.

Zindagi tere hawadis hum ko,
Kuch na kuch rah pe le aaye hain.

Sang-rezon se khazaf-paron se,
Kitne hire kabhi chun laye hain.

Itne mayus to haalat nahi,
Log kis waste ghabraye hain.

Un ki jaanib na kisi ne dekha,
Jo hamein dekh ke sharmaye hain. !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Tark-E-Wafa Ki Baat Kahen Kya..

Tark-e-wafa ki baat kahen kya,
Dil mein ho to lab tak aaye.

Dil bechaara sidha sada,
Khud ruthe khud man bhi jaye.

Chalte rahiye manzil manzil,
Is aanchal ke saye saye.

Dur nahi tha shehar-e-tamanna,
Aap hi mere sath na aaye.

Aaj ka din bhi yaad rahega,
Aaj wo mujh ko yaad na aaye. !!

तर्क-ए-वफ़ा की बात कहें क्या,
दिल में हो तो लब तक आए !

दिल बेचारा सीधा सादा,
ख़ुद रूठे ख़ुद मान भी जाए !

चलते रहिए मंज़िल मंज़िल,
इस आँचल के साए साए !

दूर नहीं था शहर-ए-तमन्ना,
आप ही मेरे साथ न आए !

आज का दिन भी याद रहेगा,
आज वो मुझ को याद न आए !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

 

Ab Bhala Chhod Ke Ghar Kya Karte..

Ab bhala chhod ke ghar kya karte,
Sham ke waqt safar kya karte.

Teri masrufiyaten jante hain,
Apne aane ki khabar kya karte.

Jab sitare hi nahi mil paye,
Le ke hum shams-o-qamar kya karte.

Wo musafir hi khuli dhup ka tha,
Saye phaila ke shajar kya karte.

Khak hi awwal o aakhir thahri,
Kar ke zarre ko guhar kya karte.

Rae pahle se bana li tu ne,
Dil mein ab hum tere ghar kya karte.

Ishq ne sare saliqe bakhshe,
Husn se kasb-e-hunar kya karte. !!

अब भला छोड़ के घर क्या करते,
शाम के वक़्त सफ़र क्या करते !

तेरी मसरूफ़ियतें जानते हैं,
अपने आने की ख़बर क्या करते !

जब सितारे ही नहीं मिल पाए,
ले के हम शम्स-ओ-क़मर क्या करते !

वो मुसाफ़िर ही खुली धूप का था,
साए फैला के शजर क्या करते !

ख़ाक ही अव्वल ओ आख़िर ठहरी,
कर के ज़र्रे को गुहर क्या करते !

राय पहले से बना ली तू ने,
दिल में अब हम तेरे घर क्या करते !

इश्क़ ने सारे सलीक़े बख़्शे,
हुस्न से कस्ब-ए-हुनर क्या करते !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Suna Hai Log Use Aankh Bhar Ke Dekhte Hain..

Suna hai log use aankh bhar ke dekhte hain,
So us ke shehar mein kuchh din thahar ke dekhte hain.

Suna hai rabt hai us ko kharab-haalon se,
So apne aap ko barbaad kar ke dekhte hain.

Suna hai dard ki gahak hai chashm-e-naz us ki,
So hum bhi us ki gali se guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ko bhi hai shair-o-shayari se shaghaf,
So hum bhi moajize apne hunar ke dekhte hain.

Suna hai bole to baaton se phool jhadte hain,
Ye baat hai to chalo baat kar ke dekhte hain.

Suna hai raat use chand takta rahta hai,
Sitare baam-e-falak se utar ke dekhte hain.

Suna hai din ko use titliyan satati hain,
Suna hai raat ko jugnu thahar ke dekhte hain.

Suna hai hashr hain us ki ghazal si aankhen,
Suna hai us ko hiran dasht bhar ke dekhte hain.

Suna hai raat se badh kar hain kakulen us ki,
Suna hai sham ko saye guzar ke dekhte hain.

Suna hai us ki siyah-chashmagi qayamat hai,
So us ko surma-farosh aah bhar ke dekhte hain.

Suna hai us ke labon se gulab jalte hain,
So hum bahaar pe ilzam dhar ke dekhte hain.

Suna hai aaina timsal hai jabin us ki,
Jo sada dil hain use ban-sanwar ke dekhte hain.

Suna hai jab se hamail hain us ki gardan mein,
Mizaj aur hi lal o guhar ke dekhte hain.

Suna hai chashm-e-tasawwur se dasht-e-imkan mein,
Palang zawiye us ki kamar ke dekhte hain.

Suna hai us ke badan ki tarash aisi hai,
Ki phool apni qabayen katar ke dekhte hain.

Wo sarw-qad hai magar be-gul-e-murad nahi,
Ki us shajar pe shagufe samar ke dekhte hain.

Bas ek nigah se lutta hai qafila dil ka,
So rah-rawan-e-tamanna bhi dar ke dekhte hain.

Suna hai us ke shabistan se muttasil hai bahisht,
Makin udhar ke bhi jalwe idhar ke dekhte hain.

Ruke to gardishen us ka tawaf karti hain,
Chale to us ko zamane thahar ke dekhte hain.

Kise nasib ki be-pairahan use dekhe,
Kabhi kabhi dar o diwar ghar ke dekhte hain.

Kahaniyan hi sahi sab mubaalghe hi sahi,
Agar wo khwab hai tabir kar ke dekhte hain.

Ab us ke shehar mein thahren ki kuch kar jayen,
Faraz” aao sitare safar ke dekhte hain. !!

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं,
सो उस के शहर में कुछ दिन ठहर के देखते हैं !

सुना है रब्त है उस को ख़राब-हालों से,
सो अपने आप को बरबाद कर के देखते हैं !

सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उस की,
सो हम भी उस की गली से गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस को भी है शेर-ओ-शायरी से शग़फ़,
सो हम भी मोजिज़े अपने हुनर के देखते हैं !

सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं,
ये बात है तो चलो बात कर के देखते हैं !

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है,
सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं !

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती हैं,
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते हैं !

सुना है हश्र हैं उस की ग़ज़ाल सी आँखें,
सुना है उस को हिरन दश्त भर के देखते हैं !

सुना है रात से बढ़ कर हैं काकुलें उस की,
सुना है शाम को साए गुज़र के देखते हैं !

सुना है उस की सियह-चश्मगी क़यामत है,
सो उस को सुरमा-फ़रोश आह भर के देखते हैं !

सुना है उस के लबों से गुलाब जलते हैं,
सो हम बहार पे इल्ज़ाम धर के देखते हैं !

सुना है आइना तिमसाल है जबीं उस की,
जो सादा दिल हैं उसे बन-सँवर के देखते हैं !

सुना है जब से हमाइल हैं उस की गर्दन में,
मिज़ाज और ही लाल ओ गुहर के देखते हैं !

सुना है चश्म-ए-तसव्वुर से दश्त-ए-इम्काँ में,
पलंग ज़ाविए उस की कमर के देखते हैं !

सुना है उस के बदन की तराश ऐसी है,
कि फूल अपनी क़बाएँ कतर के देखते हैं !

वो सर्व-क़द है मगर बे-गुल-ए-मुराद नहीं,
कि उस शजर पे शगूफ़े समर के देखते हैं !

बस एक निगाह से लुटता है क़ाफ़िला दिल का,
सो रह-रवान-ए-तमन्ना भी डर के देखते हैं !

सुना है उस के शबिस्ताँ से मुत्तसिल है बहिश्त,
मकीं उधर के भी जल्वे इधर के देखते हैं !

रुके तो गर्दिशें उस का तवाफ़ करती हैं,
चले तो उस को ज़माने ठहर के देखते हैं !

किसे नसीब कि बे-पैरहन उसे देखे,
कभी कभी दर ओ दीवार घर के देखते हैं !

कहानियाँ ही सही सब मुबालग़े ही सही,
अगर वो ख़्वाब है ताबीर कर के देखते हैं !

अब उस के शहर में ठहरें कि कूच कर जाएँ,
फ़राज़” आओ सितारे सफ़र के देखते हैं !!

 

Mai-Kada Tha Chandni Thi Main Na Tha..

Mai-kada tha chandni thi main na tha,
Ek mujassam be-khudi thi main na tha.

Ishq jab dam todta tha tum na the,
Maut jab sar dhun rahi thi main na tha.

Tur par chheda tha jis ne aap ko,
Wo meri diwangi thi main na tha.

Wo hasin baitha tha jab mere qarib,
Lazzat-e-hum-sayegi thi main na tha.

Mai-kade ke mod par rukti hui,
Muddaton ki tishnagi thi main na tha.

Thi haqiqat kuchh meri to is qadar,
Us hasin ki dil-lagi thi main na tha.

Main aur us ghuncha-dahan ki aarzoo,
Aarzoo ki sadgi thi main na tha.

Jis ne mah-paron ke dil pighla diye,
Wo to meri shayari thi main na tha.

Gesuon ke saye mein aaram-kash,
Sar-barahna zindagi thi main na tha.

Dair o kaba mein “Adam” hairat-farosh,
Do-jahan ki bad-zani thi main na tha. !!

मय-कदा था चाँदनी थी मैं न था
एक मुजस्सम बे-ख़ुदी थी मैं न था !

इश्क़ जब दम तोड़ता था तुम न थे,
मौत जब सर धुन रही थी मैं न था !

तूर पर छेड़ा था जिस ने आप को,
वो मेरी दीवानगी थी मैं न था !

वो हसीं बैठा था जब मेरे क़रीब,
लज़्ज़त-हम-सायगी थी मैं न था !

मय-कदे के मोड़ पर रुकती हुई,
मुद्दतों की तिश्नगी थी मैं न था !

थी हक़ीक़त कुछ मेरी तो इस क़दर,
उस हसीं की दिल-लगी थी मैं न था !

मैं और उस ग़ुंचा-दहन की आरज़ू,
आरज़ू की सादगी थी मैं न था !

जिस ने मह-पारों के दिल पिघला दिए,
वो तो मेरी शाएरी थी मैं न था !

गेसुओं के साए में आराम-कश,
सर-बरहना ज़िंदगी थी मैं न था !

दैर ओ काबा में “अदम” हैरत-फ़रोश,
दो-जहाँ की बद-ज़नी थी मैं न था !!

 

Ek Pal Mein Zindagi Bhar Ki Udasi De Gaya..

Ek pal mein zindagi bhar ki udasi de gaya,
Wo juda hote hue kuchh phool basi de gaya.

Noch kar shakhon ke tan se khushk patton ka libas,
Zard mausam banjh-rut ko be-libasi de gaya.

Subh ke tare meri pahli dua tere liye,
Tu dil-e-be-sabr ko taskin zara si de gaya.

Log malbon mein dabe saye bhi dafnane lage,
Zalzala ahl-e-zamin ko bad-hawasi de gaya.

Tund jhonke ki ragon mein ghol kar apna dhuan,
Ek diya andhi hawa ko khud-shanasi de gaya.

Le gaya “Mohsin” wo mujh se abr banta aasman,
Us ke badle mein zamin sadiyon ki pyasi de gaya. !!

एक पल में ज़िंदगी भर की उदासी दे गया,
वो जुदा होते हुए कुछ फूल बासी दे गया !

नोच कर शाख़ों के तन से ख़ुश्क पत्तों का लिबास,
ज़र्द मौसम बाँझ-रुत को बे-लिबासी दे गया !

सुब्ह के तारे मेरी पहली दुआ तेरे लिए,
तू दिल-ए-बे-सब्र को तस्कीं ज़रा सी दे गया !

लोग मलबों में दबे साए भी दफ़नाने लगे,
ज़लज़ला अहल-ए-ज़मीं को बद-हवासी दे गया !

तुंद झोंके की रगों में घोल कर अपना धुआँ,
एक दिया अंधी हवा को ख़ुद-शनासी दे गया !

ले गया “मोहसिन” वो मुझ से अब्र बनता आसमाँ,
उस के बदले में ज़मीं सदियों की प्यासी दे गया !!

 

Zehan Mein Pani Ke Badal Agar Aaye Hote..

Zehan mein pani ke badal agar aaye hote,
Maine mitti ke gharaunde na banaye hote.

Dhup ke ek hi mausam ne jinhen tod diya,
Itne nazuk bhi ye rishte na banaye hote.

Dubte shehar mein mitti ka makan girta hi,
Tum ye sab soch ke meri taraf aaye hote.

Dhup ke shehar mein ek umar na jalna padta,
Hum bhi aye kash kisi pedd ke saye hote.

Phal padosi ke darakhton pe na pakte toh “Wasim“,
Mere aangan mein ye patther bhi na aaye hote. !!

ज़हन में पानी के बादल अगर आये होते,
मैंने मिटटी के घरोंदे ना बनाये होते !

धूप के एक ही मौसम ने जिन्हें तोड़ दिया,
इतने नाज़ुक भी ये रिश्ते न बनाये होते !

डूबते शहर मैं मिटटी का मकान गिरता ही,
तुम ये सब सोच के मेरी तरफ आये होते !

धूप के शहर में इक उम्र ना जलना पड़ता,
हम भी ए काश किसी पेड के साये होते !

फल पडोसी के दरख्तों पे ना पकते तो “वसीम“,
मेरे आँगन में ये पत्थर भी ना आये होते !!

 

Aakhiri Mulaqat..

Aakhiri Mulaqat By Jan Nisar Akhtar

Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Do panv bane hariyali par
Ek titli baithi dali par
Kuch jagmag jugnu jangal se
Kuch jhumte hathi baadal se
Ye ek kahani nind bhari
Ek takht pe baithi ek pari
Kuch gin gin karte parwane
Do nanhe nanhe dastane
Kuch udte rangin ghubare
Babbu ke dupatte ke tare
Ye chehra banno budhi ka
Ye tukda maa ki chudi ka
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Alsai hui rut sawan ki
Kuch saundhi khushbu aangan ki
Kuch tuti rassi jhule ki
Ek chot kasakti kulhe ki
Sulgi si angithi jadon mein
Ek chehra kitni aadon mein
Kuch chandni raatein garmi ki
Ek lab par baaten narmi ki
Kuch rup hasin kashanon ka
Kuch rang hare maidanon ka
Kuch haar mahakti kaliyon ke
Kuch nasm watan ki galiyon ke
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch chand chamakte galon ke
Kuch bhanwre kale baalon ke
Kuch nazuk shiknen aanchal ki
Kuch narm lakiren kajal ki
Ek khoi kadi afsanon ki
Do aankhein raushan-danon ki
Ek surkh dulai got lagi
Kya jaane kab ki chot lagi
Ek chhalla phiki rangat ka
Ek loket dil ki surat ka
Rumal kayi resham se kadhe
Wo khat jo kabhi main ne na padhe
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch ujdi mangen shamon ki
Aawaz shikasta jamon ki
Kuch tukde khali botal ke
Kuch ghungru tuti pael ke
Kuch bikhre tinke chilman ke
Kuch purze apne daman ke
Ye tare kuch tharraye hue
Ye git kabhi ke gaye hue
Kuch sher purani ghazlon ke
Unwan adhuri nazmon ke
Tuti huyi ek ashkon ki ladi
Ek khushk qalam ek band ghadi
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain

Kuch rishte tute tute se
Kuch sathi chhute chhute se
Kuch bigdi bigdi taswirein
Kuch dhundli dhundli tahrirein
Kuch aansu chhalke chhalke se
Kuch moti dhalke dhalke se
Kuch naqsh ye hairan hairan se
Kuch aks ye larzan larzan se
Kuch ujdi ujdi duniya mein
Kuch bhatki bhatki aashaein
Kuch bikhre bikhre sapne hain
Ye ghair nahi sab apne hain
Mat roko inhe pas aane do
Ye mujh se milne aaye hain
Main khud na jinhe pahchan sakun
Kuch itne dhundle saye hain. !!

मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

दो पाँव बने हरियाली पर
एक तितली बैठी डाली पर
कुछ जगमग जुगनू जंगल से
कुछ झूमते हाथी बादल से
ये एक कहानी नींद भरी
इक तख़्त पे बैठी एक परी
कुछ गिन गिन करते परवाने
दो नन्हे नन्हे दस्ताने
कुछ उड़ते रंगीं ग़ुबारे
बब्बू के दुपट्टे के तारे
ये चेहरा बन्नो बूढ़ी का
ये टुकड़ा माँ की चूड़ी का
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

अलसाई हुई रुत सावन की
कुछ सौंधी ख़ुश्बू आँगन की
कुछ टूटी रस्सी झूले की
इक चोट कसकती कूल्हे की
सुलगी सी अँगीठी जाड़ों में
इक चेहरा कितनी आड़ों में
कुछ चाँदनी रातें गर्मी की
इक लब पर बातें नरमी की
कुछ रूप हसीं काशानों का
कुछ रंग हरे मैदानों का
कुछ हार महकती कलियों के
कुछ नाम वतन की गलियों के
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ चाँद चमकते गालों के
कुछ भँवरे काले बालों के
कुछ नाज़ुक शिकनें आँचल की
कुछ नर्म लकीरें काजल की
इक खोई कड़ी अफ़्सानों की
दो आँखें रौशन-दानों की
इक सुर्ख़ दुलाई गोट लगी
क्या जाने कब की चोट लगी
इक छल्ला फीकी रंगत का
इक लॉकेट दिल की सूरत का
रूमाल कई रेशम से कढ़े
वो ख़त जो कभी मैंने न पढ़े
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
में ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ उजड़ी माँगें शामों की
आवाज़ शिकस्ता जामों की
कुछ टुकड़े ख़ाली बोतल के
कुछ घुँगरू टूटी पायल के
कुछ बिखरे तिनके चिलमन के
कुछ पुर्ज़े अपने दामन के
ये तारे कुछ थर्राए हुए
ये गीत कभी के गाए हुए
कुछ शेर पुरानी ग़ज़लों के
उनवान अधूरी नज़्मों के
टूटी हुई इक अश्कों की लड़ी
इक ख़ुश्क क़लम इक बंद घड़ी
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं

कुछ रिश्ते टूटे टूटे से
कुछ साथी छूटे छूटे से
कुछ बिगड़ी बिगड़ी तस्वीरें
कुछ धुँदली धुँदली तहरीरें
कुछ आँसू छलके छलके से
कुछ मोती ढलके ढलके से
कुछ नक़्श ये हैराँ हैराँ से
कुछ अक्स ये लर्ज़ां लर्ज़ां से
कुछ उजड़ी उजड़ी दुनिया में
कुछ भटकी भटकी आशाएँ
कुछ बिखरे बिखरे सपने हैं
ये ग़ैर नहीं सब अपने हैं
मत रोको इन्हें पास आने दो
ये मुझ से मिलने आए हैं
मैं ख़ुद न जिन्हें पहचान सकूँ
कुछ इतने धुँदले साए हैं !!

-Jan Nisar Akhtar Nazm / Poetry