Saturday , September 11 2021

Poetry Types Saya

Dhundlai Hui Sham Thi..

Dhundlai Hui Sham Thi.. { Hirasat – Gulzar Nazm } !

Dhundlai hui sham thi
Alsai hui si
Aur waqt bhi basi tha main jab shehar mein aaya
Har shakh se lipte hue sannate khade the
Diwaron se chipki hui khamoshi padi thi
Rahon mein nafas koi na parchhain na saya
Un galiyon mein kuchon mein, andhera na ujala
Darwazon ke pat band the, khali the dariche
Bas waqt ke kuch basi se tukde the, pade the

Main ghumta phirta tha sar-e-shehar akela
Darwazon pe aawaz lagata tha koi hai ?
Har mod pe ruk jaata tha shayad koi aaye
Lekin koi aahat, koi saya bhi na aaya

Ye shehar achanak hi magar jag pada hai
Aawazen hirasat mein liye mujh ko khadi hain
Aawazon ke is shehar mein main qaid pada hun. !! -Gulzar Nazm

धुँदलाई हुई शाम थी
अलसाई हुई सी
और वक़्त भी बासी था मैं जब शहर में आया
हर शाख़ से लिपटे हुए सन्नाटे खड़े थे
दीवारों से चिपकी हुई ख़ामोशी पड़ी थी
राहों में नफ़्स कोई न परछाईं न साया
उन गलियों में कूचों में, अंधेरा न उजाला
दरवाज़ों के पट बंद थे, ख़ाली थे दरीचे
बस वक़्त के कुछ बासी से टुकड़े थे, पड़े थे

मैं घूमता फिरता था सर-ए-शहर अकेला
दरवाज़ों पे आवाज़ लगाता था, कोई है ?
हर मोड़ पे रुक जाता था शायद कोई आए
लेकिन कोई आहट, कोई साया भी न आया

ये शहर अचानक ही मगर जाग पड़ा है
आवाज़ें हिरासत में लिए मुझ को खड़ी हैं
आवाज़ों के इस शहर में मैं क़ैद पड़ा हूँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Kis Qadar Sidha Sahal Saf Hai Rasta Dekho..

Kis Qadar Sidha Sahal Saf Hai Rasta Dekho.. { Akele – Gulzar’s Nazm }

Kis qadar sidha sahal saf hai rasta dekho
Na kisi shakh ka saya hai na diwar ki tek
Na kisi aankh ki aahat, na kisi chehre ka shor
Dur tak koi nahi koi nahi koi nahi

Chand qadamon ke nishan han kabhi milte hain kahin
Saath chalte hain jo kuch dur faqat chand qadam
Aur phir tut ke gir jate hain ye kahte hue
Apni tanhaai liye aap chalo tanha akele
Saath aaye jo yahan koi nahi koi nahi

Kis qadar sidha sahal saf hai rasta dekho.. !! -Gulzar’s Nazm

किस क़दर सीधा सहल साफ़ है रस्ता देखो
न किसी शाख़ का साया है न दीवार की टेक
न किसी आँख की आहट न किसी चेहरे का शोर
दूर तक कोई नहीं कोई नहीं कोई नहीं

चंद क़दमों के निशाँ हाँ कभी मिलते हैं कहीं
साथ चलते हैं जो कुछ दूर फ़क़त चंद क़दम
और फिर टूट के गिर जाते हैं ये कहते हुए
अपनी तन्हाई लिए आप चलो, तन्हा अकेले
साथ आए जो यहाँ कोई नहीं कोई नहीं

किस क़दर सीधा सहल साफ़ है रस्ता देखो.. !! -गुलज़ार नज़्म

 

Masjidon Ke Sahn Tak Jaana Bahut Dushwar Tha..

Masjidon Ke Sahn Tak Jaana Bahut Dushwar Tha.. Rahat Indori Shayari !

Masjidon ke sahn tak jaana bahut dushwar tha,
Dair se nikla to mere raste mein dar tha.

Dekhte hi dekhte sheharon ki raunaq ban gaya,
Kal yahi chehra hamare aainon par bar tha.

Apni qismat mein likhi thi dhoop ki naraazgi,
Saya-e-diwar tha lekin pas-e-diwar tha.

Sab ke dukh sukh us ke chehre par likhe paye gaye,
Aadmi kya tha hamare shehar ka akhbar tha.

Ab mohalle bhar ke darwazon pe dastak hai nasib,
Ek zamana tha ki jab main bhi bahut khuddar tha. !!

मस्जिदों के सहन तक जाना बहुत दुश्वार था,
दैर से निकला तो मेरे रास्ते में दार था !

देखते ही देखते शहरों की रौनक़ बन गया,
कल यही चेहरा हमारे आइनों पर बार था !

अपनी क़िस्मत में लिखी थी धूप की नाराज़गी,
साया-ए-दीवार था लेकिन पस-ए-दीवार था !

सब के दुख सुख उस के चेहरे पर लिखे पाए गए,
आदमी क्या था हमारे शहर का अख़बार था !

अब मोहल्ले भर के दरवाज़ों पे दस्तक है नसीब,
एक ज़माना था कि जब मैं भी बहुत ख़ुद्दार था !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Dida O Dil Mein Koi Husn Bikharta Hi Raha..

Dida O Dil Mein Koi Husn Bikharta Hi Raha.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Dida o dil mein koi husn bikharta hi raha,
Lakh pardon mein chhupa koi sanwarta hi raha.

Raushni kam na hui waqt ke tufanon mein,
Dil ke dariya mein koi chaand utarta hi raha.

Raste bhar koi aahat thi ki aati hi rahi,
Koi saya mere bazu se guzarta hi raha.

Mit gaya par teri banhon ne sameta na mujhe,
Shehar dar shehar main galiyon mein bikharta hi raha.

Lamha lamha rahe aankhon mein andhere lekin,
Koi suraj mere sine mein ubharta hi raha. !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Aahat Si Koi Aaye To Lagta Hai Ki Tum Ho..

Aahat Si Koi Aaye To Lagta Hai Ki Tum Ho.. Ghazal By Jan Nisar Akhtar

Aahat si koi aaye to lagta hai ki tum ho,
Saya koi lahraye to lagta hai ki tum ho.

Jab shakh koi hath lagate hi chaman mein,
Sharmaye lachak jaye to lagta hai ki tum ho.

Sandal se mahakti hui pur-kaif hawa ka,
Jhonka koi takraye to lagta hai ki tum ho.

Odhe hue taron ki chamakti hui chadar,
Naddi koi bal khaye to lagta hai ki tum ho.

Jab raat gaye koi kiran mere barabar,
Chup-chap si so jaye to lagta hai ki tum ho. !!

Aahat Si Koi Aaye To Lagta Hai Ki Tum Ho.. In Hindi Language

आहट सी कोई आए तो लगता है कि तुम हो,
साया कोई लहराए तो लगता है कि तुम हो !

जब शाख़ कोई हाथ लगाते ही चमन में,
शरमाए लचक जाए तो लगता है कि तुम हो !

संदल से महकती हुई पुर-कैफ़ हवा का,
झोंका कोई टकराए तो लगता है कि तुम हो !

ओढ़े हुए तारों की चमकती हुई चादर,
नद्दी कोई बल खाए तो लगता है कि तुम हो !

जब रात गए कोई किरन मेरे बराबर,
चुप-चाप सी सो जाए तो लगता है कि तुम हो !!

-Jan Nisar Akhtar Ghazal / Urdu Poetry

 

Unhe Nigah Hai Apne Jamal Hi Ki Taraf

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf – A Ghazal By Akbar Allahabadi

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf,
Nazar utha ke nahi dekhte kisi ki taraf.

Tawajjoh apni ho kya fann-e-shairi ki taraf,
Nazar har ek ki jati hai aib hi ki taraf.

Likha hua hai jo rona mere muqaddar mein,
Khayal tak nahi jata kabhi hansi ki taraf.

Tumhaara saya bhi jo log dekh lete hain,
Wo aankh utha ke nahi dekhte pari ki taraf.

Bala mein phansta hai dil muft jaan jati hai,
Khuda kisi ko na le jaye us gali ki taraf.

Kabhi jo hoti hai takrar ghair se hum se,
To dil se hote ho dar-parda tum usi ki taraf.

Nigah padti hai un par tamam mehfil ki,
Wo aankh utha ke nahi dekhte kisi ki taraf.

Nigah us but-e-khud-bin ki hai mere dil par,
Na aaine ki taraf hai na aarsi ki taraf.

Qubul kijiye lillah tohfa-e-dil ko,
Nazar na kijiye is ki shikastagi ki taraf.

Yahi nazar hai jo ab qatil-e-zamana hui,
Yahi nazar hai ki uthti na thi kisi ki taraf.

Gharib-khana mein lillah do-ghadi baitho,
Bahut dinon mein tum aaye ho is gali ki taraf.

Zara si der hi ho jayegi to kya hoga,
Ghadi ghadi na uthao nazar ghadi ki taraf.

Jo ghar mein puchhe koi khauf kya hai kah dena,
Chale gaye the tahalte hue kisi ki taraf.

Hazar jalwa-e-husn-e-butan ho aye “Akbar“,
Tum apna dhyan lagaye raho usi ki taraf. !!

Unhe nigah hai apne jamal hi ki taraf In Hindi Language

उन्हें निगाह है अपने जमाल ही की तरफ़,
नज़र उठा के नहीं देखते किसी की तरफ़ !

तवज्जोह अपनी हो क्या फ़न्न-ए-शाइरी की तरफ़,
नज़र हर एक की जाती है ऐब ही की तरफ़ !

लिखा हुआ है जो रोना मेरे मुक़द्दर में,
ख़याल तक नहीं जाता कभी हँसी की तरफ़ !

तुम्हारा साया भी जो लोग देख लेते हैं,
वो आँख उठा के नहीं देखते परी की तरफ़ !

बला में फँसता है दिल मुफ़्त जान जाती है,
ख़ुदा किसी को न ले जाए उस गली की तरफ़ !

कभी जो होती है तकरार ग़ैर से हम से,
तो दिल से होते हो दर-पर्दा तुम उसी की तरफ़ !

निगाह पड़ती है उन पर तमाम महफ़िल की,
वो आँख उठा के नहीं देखते किसी की तरफ़ !

निगाह उस बुत-ए-ख़ुद-बीं की है मेरे दिल पर,
न आइने की तरफ़ है न आरसी की तरफ़ !

क़ुबूल कीजिए लिल्लाह तोहफ़ा-ए-दिल को,
नज़र न कीजिए इस की शिकस्तगी की तरफ़ !

यही नज़र है जो अब क़ातिल-ए-ज़माना हुई,
यही नज़र है कि उठती न थी किसी की तरफ़ !

ग़रीब-ख़ाना में लिल्लाह दो-घड़ी बैठो,
बहुत दिनों में तुम आए हो इस गली की तरफ़ !

ज़रा सी देर ही हो जाएगी तो क्या होगा,
घड़ी घड़ी न उठाओ नज़र घड़ी की तरफ़ !

जो घर में पूछे कोई ख़ौफ़ क्या है कह देना,
चले गए थे टहलते हुए किसी की तरफ़ !

हज़ार जल्वा-ए-हुस्न-ए-बुताँ हो ऐ “अकबर“,
तुम अपना ध्यान लगाए रहो उसी की तरफ़ !!

 

Duniya Mein Hun Duniya Ka Talabgar Nahi Hun

Duniya mein hun duniya ka talabgar nahi hun,
Bazaar se guzra hun kharidar nahi hun.

Zinda hun magar zist ki lazzat nahi baqi,
Har-chand ki hun hosh mein hushyar nahi hun.

Is khana-e-hasti se guzar jaunga be-laus,
Saya hun faqat naqsh-ba-diwar nahi hun.

Afsurda hun ibrat se dawa ki nahi hajat,
Gham ka mujhe ye zoaf hai bimar nahi hun.

Wo gul hun khizan ne jise barbaad kiya hai,
Uljhun kisi daman se main wo khar nahi hun.

Ya rab mujhe mahfuz rakh us but ke sitam se,
Main us ki inayat ka talabgar nahi hun.

Go dawa-e-taqwa nahi dargah-e-khuda mein,
But jis se hon khush aisa gunahgar nahi hun.

Afsurdagi o zoaf ki kuch had nahi “Akbar“,
Kafir ke muqabil mein bhi din-dar nahi hun. !!

दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ,
बाज़ार से गुज़रा हूँ ख़रीदार नहीं हूँ !

ज़िंदा हूँ मगर ज़ीस्त की लज़्ज़त नहीं बाक़ी,
हर-चंद कि हूँ होश में हुश्यार नहीं हूँ !

इस ख़ाना-ए-हस्ती से गुज़र जाऊँगा बे-लौस,
साया हूँ फ़क़त नक़्श-ब-दीवार नहीं हूँ !

अफ़्सुर्दा हूँ इबरत से दवा की नहीं हाजत,
ग़म का मुझे ये ज़ोफ़ है बीमार नहीं हूँ !

वो गुल हूँ ख़िज़ाँ ने जिसे बर्बाद किया है,
उलझूँ किसी दामन से मैं वो ख़ार नहीं हूँ !

या रब मुझे महफ़ूज़ रख उस बुत के सितम से,
मैं उस की इनायत का तलबगार नहीं हूँ !

गो दावा-ए-तक़्वा नहीं दरगाह-ए-ख़ुदा में,
बुत जिस से हों ख़ुश ऐसा गुनहगार नहीं हूँ !

अफ़्सुर्दगी ओ ज़ोफ़ की कुछ हद नहीं “अकबर
काफ़िर के मुक़ाबिल में भी दीं-दार नहीं हूँ !!

 

Jo Bhi Mil Jata Hai Ghar Bar Ko De Deta Hun

Jo bhi mil jata hai ghar bar ko de deta hun,
Ya kisi aur talabgar ko de deta hun.

Dhoop ko deta hun tan apna jhulasne ke liye,
Aur saya kisi diwar ko de deta hun.

Jo dua apne liye mangni hoti hai mujhe,
Wo dua bhi kisi gham khwar ko de deta hun.

Mutmain ab bhi agar koi nahi hai na sahi,
Haq to main pahle hi haqdar ko de deta hun.

Jab bhi likhta hun main afsana yahi hota hai,
Apna sab kuch kisi kirdar ko de deta hun.

Khud ko kar deta hun kaghaz ke hawale aksar,
Apna chehra kabhi akhbar ko deta hun.

Meri dukan ki chizen nahi bikti “Nazmi“,
Itni tafsil kharidar ko de deta hun. !!

जो भी मिल जाता है घर बार को दे देता हूँ,
या किसी और तलबगार को दे देता हूँ !

धूप को देता हूँ तन अपना झुलसने के लिए,
और साया किसी दीवार को दे देता हूँ !

जो दुआ अपने लिए माँगनी होती है मुझे,
वो दुआ भी किसी ग़म ख़्वार को दे देता हूँ !

मुतमइन अब भी अगर कोई नहीं है न सही,
हक़ तो मैं पहले ही हक़दार को दे देता हूँ !

जब भी लिखता हूँ मैं अफ़साना यही होता है,
अपना सब कुछ किसी किरदार को दे देता हूँ !

ख़ुद को कर देता हूँ काग़ज़ के हवाले अक्सर,
अपना चेहरा कभी अख़बार को देता हूँ !

मेरी दूकान की चीज़ें नहीं बिकती “नज़मी
इतनी तफ़्सील ख़रीदार को दे देता हूँ !!

 

Ab Nahi Laut Ke Aane Wala

Ab nahi laut ke aane wala,
Ghar khula chhod ke jaane wala.

Ho gayi kuch idhar aisi baatein,
Ruk gaya roz ka aane wala.

Aks aaankhon se chura leta hai,
Ek taswir banane wala.

Lakh honton pe hansi ho lekin,
Khush nahi khush nazar aane wala.

Zad mein tufan ki aaya kaise,
Pyas sahil pe bujhane wala.

Rah gaya hai mera saya ban kar,
Mujh ko khatir mein na lane wala.

Ban gaya ham-safar aakhir “Nazmi”,
Rasta kat ke jaane wala. !!

अब नहीं लौट के आने वाला,
घर खुला छोड़ के जाने वाला !

हो गईं कुछ इधर ऐसी बातें,
रुक गया रोज़ का आने वाला !

अक्स आँखों से चुरा लेता है,
एक तस्वीर बनाने वाला !

लाख होंटों पे हँसी हो लेकिन,
ख़ुश नहीं ख़ुश नज़र आने वाला !

ज़द में तूफ़ान की आया कैसे,
प्यास साहिल पे बुझाने वाला !

रह गया है मेरा साया बन कर,
मुझ को ख़ातिर में न लाने वाला !

बन गया हम-सफ़र आख़िर “नज़्मी”,
रास्ता काट के जाने वाला !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

 

Saans Lena Bhi Kaisi Aadat Hai.. {Aadat Gulzar Nazm}

Saans lena bhi kaisi aadat hai
Jiye jaana bhi kya riwayat hai
Koi aahat nahi badan mein kahin
Koi saya nahi hai aaankhon mein
Paanv behis hain chalte jate hain
Ek safar hai jo bahta rahta hai
Kitne barson se kitni sadiyon se
Jiye jate hain jiye jate hain

Aadaten bhi ajib hoti hain.. !!

साँस लेना भी कैसी आदत है
जीये जाना भी क्या रवायत है
कोई आहट नहीं बदन में कहीं
कोई साया नहीं है आँखों में
पाँव बेहिस हैं, चलते जाते हैं
इक सफ़र है जो बहता रहता है
कितने बरसों से, कितनी सदियों से
जिये जाते हैं, जिये जाते हैं

आदतें भी अजीब होती हैं..!! – Gulzar