Poetry Types Safar

Zulfen Seena Naaf Kamar..

Zulfen Seena Naaf Kamar.. Jan Nisar Akhtar Poetry

Zulfen seena naaf kamar,
Ek nadi mein kitne bhanwar,

Sadiyon sadiyon mera safar,
Manzil manzil rahguzar.

Kitna mushkil kitna kathin,
Jine se jine ka hunar.

Ganw mein aa kar shehar base,
Ganw bichaare jayen kidhar.

Phunkne wale socha bhi,
Phailegi ye aag kidhar.

Lakh tarah se naam tera,
Baitha likkhun kaghaz par.

Chhote chhote zehan ke log,
Hum se un ki baat na kar,

Pet pe patthar bandh na le,
Haath mein sajte hain patthar.

Raat ke pichhe raat chale,
Khwab hua har khwab-e-sahar,

Shab bhar to aawara phire,
Laut chalen ab apne ghar. !!

Zulfen Seena Naaf Kamar.. Jan Nisar Akhtar Poetry In Hindi Language

ज़ुल्फ़ें सीना नाफ़ कमर,
एक नदी में कितने भँवर !

सदियों सदियों मेरा सफ़र,
मंज़िल मंज़िल राहगुज़र !

कितना मुश्किल कितना कठिन,
जीने से जीने का हुनर !

गाँव में आ कर शहर बसे,
गाँव बिचारे जाएँ किधर !

फूँकने वाले सोचा भी,
फैलेगी ये आग किधर !

लाख तरह से नाम तेरा,
बैठा लिक्खूँ काग़ज़ पर !

छोटे छोटे ज़ेहन के लोग,
हम से उन की बात न कर !

पेट पे पत्थर बाँध न ले,
हाथ में सजते हैं पत्थर !

रात के पीछे रात चले,
ख़्वाब हुआ हर ख़्वाब-ए-सहर !

शब भर तो आवारा फिरे,
लौट चलें अब अपने घर !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Khayal Usi Ki Taraf Bar Bar Jata Hai

Khayal usi ki taraf bar bar jata hai,
Mere safar ki thakan kaun utar jata hai.

Ye us ka apna tariqa hai dan karne ka,
Wo jis se shart lagata hai haar jata hai.

Ye khel meri samajh mein kabhi nahi aaya,
Main jeet jata hun bazi wo mar jata hai.

Main apni nind dawaon se qarz leta hun,
Ye qarz khwab mein koi utar jata hai.

Nasha bhi hota hai halka sa zahar mein shamil,
Wo jab bhi milta hai ek dank mar jata hai.

Main sab ke waste karta hun kuch na kuch “Nazmi”,
Jahan jahan bhi mera ikhtiyar jata hai. !!

ख़याल उसी की तरफ़ बार बार जाता है,
मेरे सफ़र की थकन कौन उतार जाता है !

ये उस का अपना तरीक़ा है दान करने का,
वो जिस से शर्त लगाता है हार जाता है !

ये खेल मेरी समझ में कभी नहीं आया,
मैं जीत जाता हूँ बाज़ी वो मार जाता है !

मैं अपनी नींद दवाओं से क़र्ज़ लेता हूँ,
ये क़र्ज़ ख़्वाब में कोई उतार जाता है !

नशा भी होता है हल्का सा ज़हर में शामिल,
वो जब भी मिलता है एक डंक मार जाता है !

मैं सब के वास्ते करता हूँ कुछ न कुछ “नज़मी”,
जहाँ जहाँ भी मेरा इख़्तियार जाता है !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

 

Jo Ho Ek Bar Wo Har Bar Ho Aisa Nahi Hota

Jo ho ek bar wo har bar ho aisa nahi hota,
Hamesha ek hi se pyar ho aisa nahi hota.

Har ek kashti ka apna tajraba hota hai dariya mein,
Safar mein roz hi manjdhaar ho aisa nahi hota.

Kahani mein to kirdaron ko jo chahe bana dije,
Haqiqat bhi kahani-kar ho aisa nahi hota.

Kahin to koi hoga jis ko apni bhi zarurat ho,
Har ek bazi mein dil ki haar ho aisa nahi hota.

Sikha deti hain chalna thokaren bhi rahgiron ko,
Koi rasta sada dushwar ho aisa nahi hota. !!

जो हो एक बार वो हर बार हो ऐसा नहीं होता,
हमेशा एक ही से प्यार हो ऐसा नहीं होता !

हर एक कश्ती का अपना तजरबा होता है दरिया में,
सफ़र में रोज़ ही मंजधार हो ऐसा नहीं होता !

कहानी में तो किरदारों को जो चाहे बना दीजे,
हक़ीक़त भी कहानी-कार हो ऐसा नहीं होता !

कहीं तो कोई होगा जिस को अपनी भी ज़रूरत हो,
हर एक बाज़ी में दिल की हार हो ऐसा नहीं होता !

सिखा देती हैं चलना ठोकरें भी राहगीरों को,
कोई रस्ता सदा दुश्वार हो ऐसा नहीं होता !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Safar Mein Dhup To Hogi Jo Chal Sako To Chalo

Safar mein dhup to hogi jo chal sako to chalo,
Sabhi hain bhid mein tum bhi nikal sako to chalo.

Kisi ke waste rahen kahan badalti hain,
Tum apne aap ko khud hi badal sako to chalo.

Yahan kisi ko koi rasta nahi deta,
Mujhe gira ke agar tum sambhal sako to chalo.

Kahin nahi koi suraj dhuan dhuan hai faza,
Khud apne aap se bahar nikal sako to chalo.

Yahi hai zindagi kuch khwab chand ummiden,
Inhin khilaunon se tum bhi bahal sako to chalo. !!

सफ़र में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो,
सभी हैं भीड़ में तुम भी निकल सको तो चलो !

किसी के वास्ते राहें कहाँ बदलती हैं,
तुम अपने आप को ख़ुद ही बदल सको तो चलो !

यहाँ किसी को कोई रास्ता नहीं देता,
मुझे गिरा के अगर तुम सँभल सको तो चलो !

कहीं नहीं कोई सूरज धुआँ धुआँ है फ़ज़ा,
ख़ुद अपने आप से बाहर निकल सको तो चलो !

यही है ज़िंदगी कुछ ख़्वाब चंद उम्मीदें,
इन्हीं खिलौनों से तुम भी बहल सको तो चलो !!

-Nida Fazli Ghazal / Safar Shayari

 

Apni Marzi Se Kahan Apne Safar Ke Hum Hain

Apni marzi se kahan apne safar ke hum hain,
Rukh hawaon ka jidhar ka hai udhar ke hum hain.

Pahle har cheez thi apni magar ab lagta hai,
Apne hi ghar mein kisi dusre ghar ke hum hain.

Waqt ke sath hai mitti ka safar sadiyon se,
Kis ko malum kahan ke hain kidhar ke hum hain.

Chalte rahte hain ki chalna hai musafir ka nasib,
Sochte rahte hain kis rahguzar ke hum hain.

Hum wahan hain jahan kuch bhi nahi rasta na dayar,
Apne hi khoye hue sham o sehar ke hum hain.

Gintiyon mein hi gine jate hain har daur mein hum,
Har qalamkar ki be-naam khabar ke hum hain. !!

अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं,
रुख़ हवाओं का जिधर का है उधर के हम हैं !

पहले हर चीज़ थी अपनी मगर अब लगता है,
अपने ही घर में किसी दूसरे घर के हम हैं !

वक़्त के साथ है मिटटी का सफ़र सदियों से,
किस को मालूम कहाँ के हैं किधर के हम हैं !

चलते रहते हैं कि चलना है मुसाफ़िर का नसीब,
सोचते रहते हैं किस राहगुज़र के हम हैं !

हम वहाँ हैं जहाँ कुछ भी नहीं रस्ता न दयार,
अपने ही खोए हुए शाम ओ सहर के हम हैं !

गिनतियों में ही गिने जाते हैं हर दौर में हम,
हर क़लमकार की बे-नाम ख़बर के हम हैं !!

-Nida Fazli Sad Poetry / Ghazal

 

Tanha Tanha Dukh Jhelenge Mahfil Mahfil gayenge

Tanha tanha dukh jhelenge mahfil mahfil gayenge,
Jab tak aansoo pas rahenge tab tak geet sunayenge.

Tum jo socho wo tum jaano hum to apni kahte hain,
Der na karna ghar aane mein warna ghar kho jayenge.

Bachchon ke chhote hathon ko chand sitare chhune do,
Chaar kitaben padh kar ye bhi hum jaise ho jayenge.

Achchhi surat wale sare patthar-dil hon mumkin hai,
Hum to us din raye denge jis din dhokha khayenge.

Kin rahon se safar hai aasan kaun sa rasta mushkil hai,
Hum bhi jab thak kar baithenge auron ko samjhayenge. !!

तन्हा तन्हा दुख झेलेंगे महफ़िल महफ़िल गाएँगे,
जब तक आँसू पास रहेंगे तब तक गीत सुनाएँगे !

तुम जो सोचो वो तुम जानो हम तो अपनी कहते हैं
देर न करना घर आने में वर्ना घर खो जाएँगे !

बच्चों के छोटे हाथों को चाँद सितारे छूने दो,
चार किताबें पढ़ कर ये भी हम जैसे हो जाएँगे !

अच्छी सूरत वाले सारे पत्थर-दिल हों मुमकिन है,
हम तो उस दिन राय देंगे जिस दिन धोखा खाएँगे !

किन राहों से सफ़र है आसाँ कौन सा रस्ता मुश्किल है,
हम भी जब थक कर बैठेंगे औरों को समझाएँगे !!

-Nida Fazli Sad Poetry/Ghazal

 

Connect With Us On Social Pages >>

All Poets Facebook Pic Connect Us On Social

Like Us On Facebook

All Poets Twitter Pic Connect Us On Social

Follow Us On Twitter

All Poets Pinterest Pic Connect Us On Social

Follow Us On Pinterest

All Poets Instagram Pic Connect Us On Social

Follow Us On Instagram

 

Chalne Ka Hausla Nahi Rukna Muhaal Kar Diya..

Chalne ka hausla nahi rukna muhaal kar diya,
Ishq ke is safar ne to mujh ko nidhaal kar diya.

Aye meri gul-zamin tujhe chah thi ek kitab ki,
Ahl-e-kitab ne magar kya tera haal kar diya.

Milte hue dilon ke bich aur tha faisla koi,
Us ne magar bichhadte waqt aur sawal kar diya.

Ab ke hawa ke sath hai daman-e-yar muntazir,
Banu-e-shab ke hath mein rakhna sambhaal kar diya.

Mumkina faislon mein ek hijr ka faisla bhi tha,
Hum ne to ek baat ki us ne kamal kar diya.

Mere labon pe mohr thi par mere shisha-ru ne to,
Shahr ke shahr ko mera waqif-e-haal kar diya.

Chehra o naam ek sath aaj na yaad aa sake,
Waqt ne kis shabih ko khwab o khayal kar diya.

Muddaton baad us ne aaj mujh se koi gila kiya,
Mansab-e-dilbari pe kya mujh ko bahaal kar diya. !!

चलने का हौसला नहीं रुकना मुहाल कर दिया,
इश्क़ के इस सफ़र ने तो मुझ को निढाल कर दिया !

ऐ मेरी गुल-ज़मीं तुझे चाह थी एक किताब की,
अहल-ए-किताब ने मगर क्या तेरा हाल कर दिया !

मिलते हुए दिलों के बीच और था फ़ैसला कोई,
उस ने मगर बिछड़ते वक़्त और सवाल कर दिया !

अब के हवा के साथ है दामन-ए-यार मुंतज़िर,
बानू-ए-शब के हाथ में रखना सँभाल कर दिया !

मुमकिना फ़ैसलों में एक हिज्र का फ़ैसला भी था,
हम ने तो एक बात की उस ने कमाल कर दिया !

मेरे लबों पे मोहर थी पर मेरे शीशा-रू ने तो,
शहर के शहर को मेरा वाक़िफ़-ए-हाल कर दिया !

चेहरा ओ नाम एक साथ आज न याद आ सके,
वक़्त ने किस शबीह को ख़्वाब ओ ख़याल कर दिया !

मुद्दतों बाद उस ने आज मुझ से कोई गिला किया,
मंसब-ए-दिलबरी पे क्या मुझ को बहाल कर दिया !! -Parveen Shakir Ghazal

 

Ab Bhala Chhod Ke Ghar Kya Karte..

Ab bhala chhod ke ghar kya karte,
Sham ke waqt safar kya karte.

Teri masrufiyaten jante hain,
Apne aane ki khabar kya karte.

Jab sitare hi nahi mil paye,
Le ke hum shams-o-qamar kya karte.

Wo musafir hi khuli dhup ka tha,
Saye phaila ke shajar kya karte.

Khak hi awwal o aakhir thahri,
Kar ke zarre ko guhar kya karte.

Rae pahle se bana li tu ne,
Dil mein ab hum tere ghar kya karte.

Ishq ne sare saliqe bakhshe,
Husn se kasb-e-hunar kya karte. !!

अब भला छोड़ के घर क्या करते,
शाम के वक़्त सफ़र क्या करते !

तेरी मसरूफ़ियतें जानते हैं,
अपने आने की ख़बर क्या करते !

जब सितारे ही नहीं मिल पाए,
ले के हम शम्स-ओ-क़मर क्या करते !

वो मुसाफ़िर ही खुली धूप का था,
साए फैला के शजर क्या करते !

ख़ाक ही अव्वल ओ आख़िर ठहरी,
कर के ज़र्रे को गुहर क्या करते !

राय पहले से बना ली तू ने,
दिल में अब हम तेरे घर क्या करते !

इश्क़ ने सारे सलीक़े बख़्शे,
हुस्न से कस्ब-ए-हुनर क्या करते !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Sirf Khanjar Hi Nahi Aankhon Mein Pani Chahiye..

Sirf khanjar hi nahi aankhon mein pani chahiye,
Aye khuda dushman bhi mujhko khandani chahiye.

Shehar ki sari alif-lailayen budhi ho chukin,
Shahzade ko koi taza kahani chahiye.

Maine aye sooraj tujhe puja nahin samjha to hai,
Mere hisse mein bhi thodi dhup aani chahiye.

Meri qimat kaun de sakta hai is bazaar mein,
Tum zulekha ho tumhein qimat lagani chahiye.

Zindagi hai ek safar aur zindagi ki rah mein,
Zindagi bhi aaye to thokar lagani chahiye.

Maine apni khushk aankhon se lahu chhalka diya,
Ek samundar kah raha tha mujhko pani chahiye. !!

सिर्फ़ ख़ंजर ही नहीं आँखों में पानी चाहिए,
ऐ ख़ुदा दुश्मन भी मुझको ख़ानदानी चाहिए !

शहर की सारी अलिफ़-लैलाएँ बूढ़ी हो चुकीं,
शाहज़ादे को कोई ताज़ा कहानी चाहिए !

मैंने ऐ सूरज तुझे पूजा नहीं समझा तो है,
मेरे हिस्से में भी थोड़ी धूप आनी चाहिए !

मेरी क़ीमत कौन दे सकता है इस बाज़ार में,
तुम ज़ुलेख़ा हो तुम्हें क़ीमत लगानी चाहिए !

ज़िंदगी है एक सफ़र और ज़िंदगी की राह में,
ज़िंदगी भी आए तो ठोकर लगानी चाहिए !

मैंने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया,
एक समुंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए !! -Rahat Indori Ghazal

 

Saans Lena Bhi Kaisi Aadat Hai.. {Aadat Gulzar Nazm}

Saans lena bhi kaisi aadat hai
Jiye jaana bhi kya riwayat hai
Koi aahat nahi badan mein kahin
Koi saya nahi hai aaankhon mein
Paanv behis hain chalte jate hain
Ek safar hai jo bahta rahta hai
Kitne barson se kitni sadiyon se
Jiye jate hain jiye jate hain

Aadaten bhi ajib hoti hain.. !!

साँस लेना भी कैसी आदत है
जीये जाना भी क्या रवायत है
कोई आहट नहीं बदन में कहीं
कोई साया नहीं है आँखों में
पाँव बेहिस हैं, चलते जाते हैं
इक सफ़र है जो बहता रहता है
कितने बरसों से, कितनी सदियों से
जिये जाते हैं, जिये जाते हैं

आदतें भी अजीब होती हैं..!! – Gulzar