Tuesday , March 9 2021

Poetry Types Sadiyan

Ek Parwaz Dikhai Di Hai..

Ek Parwaz Dikhai Di Hai.. Gulzar Poetry !

Ek parwaz dikhai di hai,
Teri aawaz sunai di hai.

Sirf ek safha palat kar us ne,
Sari baaton ki safai di hai.

Phir wahin laut ke jaana hoga,
Yaar ne kaisi rihai di hai.

Jis ki aankhon mein kati thi sadiyan,
Us ne sadiyon ki judai di hai.

Zindagi par bhi koi zor nahi,
Dil ne har cheez parai di hai.

Aag mein kya kya jala hai shab bhar,
Kitni khush rang dikhai di hai. !! -Gulzar Poetry

एक पर्वाज़ दिखाई दी है,
तेरी आवाज़ सुनाई दी है !

सिर्फ़ इक सफ़्हा पलट कर उस ने,
सारी बातों की सफ़ाई दी है !

फिर वहीं लौट के जाना होगा,
यार ने कैसी रिहाई दी है !

जिस की आँखों में कटी थीं सदियाँ,
उस ने सदियों की जुदाई दी है !

ज़िंदगी पर भी कोई ज़ोर नहीं,
दिल ने हर चीज़ पराई दी है !

आग में क्या क्या जला है शब भर,
कितनी ख़ुश रंग दिखाई दी है !! -गुलज़ार कविता

Yun Sada Dete Hue Tere Khayal Aate Hain..

Yun Sada Dete Hue Tere Khayal Aate Hain.. Rahat Indori Shayari !

Yun sada dete hue tere khayal aate hain,
Jaise kabe ki khuli chhat pe bilal aate hain.

Roz hum ashkon se dho aate hain diwar-e-haram,
Pagdiyan roz farishton ki uchhaal aate hain.

Haath abhi pichhe bandhe rahte hain chup rahte hain,
Dekhna ye hai tujhe kitne kamal aate hain.

Chaand sooraj meri chaukhat pe kai sadiyon se,
Roz likkhe hue chehre pe sawal aate hain.

Be-hisi muda-dili raqs sharaben naghme,
Bas isi rah se qaumon pe zawal aate hain. !!

यूँ सदा देते हुए तेरे ख़याल आते हैं,
जैसे काबे की खुली छत पे बिलाल आते हैं !

रोज़ हम अश्कों से धो आते हैं दीवार-ए-हरम,
पगड़ियाँ रोज़ फ़रिश्तों की उछाल आते हैं !

हाथ अभी पीछे बंधे रहते हैं चुप रहते हैं,
देखना ये है तुझे कितने कमाल आते हैं !

चाँद सूरज मेरी चौखट पे कई सदियों से,
रोज़ लिक्खे हुए चेहरे पे सवाल आते हैं !

बे-हिसी मुर्दा-दिली रक़्स शराबें नग़्मे,
बस इसी राह से क़ौमों पे ज़वाल आते हैं !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Main Kab Kehta Hun Woh Accha Bahut Hai..

Main kab kehta hoon woh accha bahut hai

Main kab kehta hun woh accha bahut hai,
Magar usne mujhe chaha bahut hai.

Khuda is shehar ko mehfuz rakhe,
Ye bachchon ki tarah hansta bahut hai.

Main tujhse roz milna chahta hun,
Magar is raah mein khatra bahut hai.

Mera dil baarishon mein phool jaisa,
Ye bachcha raat mein rota bahut hai.

Isey aansoo ka ek qatra na smjho,
Kuaan hai aur ye gehra bahut hai.

Usey shohrat ne tanha kar diya hai,
Samandar hai magar pyasa bahut hai.

Main ek lamhe mein sadiyan dekhta hun,
Tumhare sath ek lamha bahut hai.

Mera hansna zaruri ho gya hai,
Yahan har shakhs sanjida bahut hai. !!

मै कब कहता हूँ वो अच्छा बहुत है,
मगर उसने मुझे चाहा बहुत है !

खुदा इस शहर को महफूज़ रखे,
ये बच्चों की तरह हँसता बहुत है !

मै तुझसे रोज़ मिलना चाहता हूँ,
मगर इस राह में खतरा बहुत है !

मेरा दिल बारिशों में फूल जैसा,
ये बच्चा रात में रोता बहुत है !

इसे आंसू का एक कतरा न समझो,
कुँआ है और ये गहरा बहुत है !

उसे शोहरत ने तनहा कर दिया है,
समंदर है मगर प्यासा बहुत है !

मै एक लम्हे में सदियाँ देखता हूँ,
तुम्हारे साथ एक लम्हा बहुत है !

मेरा हँसना ज़रूरी हो गया है,
यहाँ हर शख्स संजीदा बहुत है !! -Bashir Badr Ghazal

 

Saans Lena Bhi Kaisi Aadat Hai.. {Aadat Gulzar Nazm}

Saans lena bhi kaisi aadat hai
Jiye jaana bhi kya riwayat hai
Koi aahat nahi badan mein kahin
Koi saya nahi hai aaankhon mein
Paanv behis hain chalte jate hain
Ek safar hai jo bahta rahta hai
Kitne barson se kitni sadiyon se
Jiye jate hain jiye jate hain

Aadaten bhi ajib hoti hain.. !!

साँस लेना भी कैसी आदत है
जीये जाना भी क्या रवायत है
कोई आहट नहीं बदन में कहीं
कोई साया नहीं है आँखों में
पाँव बेहिस हैं, चलते जाते हैं
इक सफ़र है जो बहता रहता है
कितने बरसों से, कितनी सदियों से
जिये जाते हैं, जिये जाते हैं

आदतें भी अजीब होती हैं..!! – Gulzar

 

Kya Jaane Kis Ki Pyas Bujhane Kidhar Gayi..

Kya jaane kis ki pyas bujhane kidhar gayi,
Is sar pe jhum ke jo ghatayen guzar gayi.

Diwana puchhta hai ye lahron se bar-bar,
Kuchh bastiyan yahan thi batao kidhar gayi.

Ab jis taraf se chahe guzar jaye carvaan,
Viraniyan to sab mere dil mein utar gayi.

Paimana tutne ka koi gham nahi mujhe,
Gham hai to ye ki chandni raatein bikhar gayi.

Paya bhi un ko kho bhi diya chup bhi ho rahe,
Ek mukhtasar si raat mein sadiyan guzar gayi. !!

क्या जाने किस की प्यास बुझाने किधर गईं,
इस सर पे झूम के जो घटाएँ गुज़र गईं !

दीवाना पूछता है ये लहरों से बार-बार,
कुछ बस्तियाँ यहाँ थीं बताओ किधर गईं !

अब जिस तरफ़ से चाहे गुज़र जाए कारवाँ,
वीरानियाँ तो सब मेरे दिल में उतर गईं !

पैमाना टूटने का कोई ग़म नहीं मुझे,
ग़म है तो ये कि चाँदनी रातें बिखर गईं !

पाया भी उन को खो भी दिया चुप भी हो रहे,
एक मुख़्तसर सी रात में सदियाँ गुज़र गईं !!

-Kaifi Azmi Ghazal / Poetry