Wednesday , June 16 2021

Poetry Types Raushni

Siddharth Ki Ek Raat..

Siddharth Ki Ek Raat.. Gulzar Nazm !

Koi patta bhi nahi hilta, na pardon mein hai jumbish
Phir bhi kanon mein bahut tez hawaon ki sada hai

Kitne unche hain ye mehrab mahal ke
Aur mehrabon se uncha wo sitaron se bhara thaal falak ka
Kitna chhota hai mera qad
Farsh par jaise kisi harf se ek nuqta gira ho
Sainkadon samton mein bhatka hua man thahre zara
Dil dhadakta hai to bas daudti tapon ki sada aati hai

Raushni band bhi kar dene se kya hoga andhera ?
Sirf aankhen hi nahi dekh sakengi ye chaugarda, main agar kanon mein kuch thuns bhi lun
Raushni chinta ki to zehn se ab bujh nahi sakti
Khud-kashi ek andhera hai, upaye to nahi
Khidkiyan sari khuli hain to hawa kyun nahi aati ?
Niche sardi hai bahut aur hawa tund hai shayad
Dur darwaze ke bahar khade wo santari donon
Shaam se aag mein bas sukhi hui tahniyon ko jhonk rahe hain

Meri aankhon se wo sukha hua dhancha nahi girta
Jism hi jism to tha, ruh kahan thi us mein
Kodh tha us ko tap-e-diq tha ? na jaane kya tha ?
Ya budhapa hi tha shayad
Pisliyan sukhe hue kekaron ke shakhche jaise
Rath pe jate hue dekha tha
Chatanon se udhar
Apni lathi pe gire ped ki manind khada tha

Phir yaka-yak ye hua
Sarthi rok nahi paya tha munh-zor samay ki tapen
Rath ke pahiye ke tale dekha tadap kar ise thanda hote
Khud-kashi thi ? wo samarpan tha ? wo durghatna thi ?
Kya tha ?

Sabz shadab darakhton ke wajud
Apne mausam mein to bin mange bhi phal dete hain
Sukh jate hain to sab kat ke
Is aag mein hi jhonk diye jate hain

Jaise darwaze pe aamal ke wo donon farishte
Shaam se aag mein bas
Sukhi hui tahniyon ko jhonk rahe hain. !! -Gulzar Nazm

कोई पत्ता भी नहीं हिलता, न पर्दों में है जुम्बिश
फिर भी कानों में बहुत तेज़ हवाओं की सदा है

कितने ऊँचे हैं ये मेहराब महल के
और मेहराबों से ऊँचा वो सितारों से भरा थाल फ़लक का
कितना छोटा है मेरा क़द
फ़र्श पर जैसे किसी हर्फ़ से इक नुक़्ता गिरा हो
सैंकड़ों सम्तों में भटका हआ मन ठहरे ज़रा
दिल धड़कता है तो बस दौड़ती टापों की सदा आती है

रौशनी बंद भी कर देने से क्या होगा अंधेरा ?
सिर्फ़ आँखें ही नहीं देख सकेंगी ये चौगर्दा, मैं अगर कानों में कुछ ठूंस भी लूँ
रौशनी चिंता की तो ज़ेहन से अब बुझ नहीं सकती
ख़ुद-कशी एक अंधेरा है, उपाए तो नहीं
खिड़कियाँ सारी खुली हैं तो हवा क्यूँ नहीं आती ?
नीचे सर्दी है बहुत और हवा तुंद है शायद
दूर दरवाज़े के बाहर खड़े वो संतरी दोनों
शाम से आग में बस सूखी हुई टहनियों को झोंक रहे हैं

मेरी आँखों से वो सूखा हुआ ढाँचा नहीं गिरता
जिस्म ही जिस्म तो था, रूह कहाँ थी उस में
कोढ़ था उस को तप-ए-दिक़ था ? न जाने क्या था ?
या बुढ़ापा ही था शायद
पिसलियाँ सूखे हुए केकरों के शाख़चे जैसे
रथ पे जाते हुए देखा था
चटानों से उधर
अपनी लाठी पे गिरे पेड़ की मानिंद खड़ा था

फिर यका-यक ये हुआ
सारथी, रोक नहीं पाया था, मुँह-ज़ोर समय की टापें
रथ के पहिए के तले देखा तड़प कर इसे ठंडा होते
ख़ुद-कशी थी ? वो समर्पण था ? वो दुर्घटना थी ?
क्या था ?

सब्ज़ शादाब दरख़्तों के वजूद
अपने मौसम में तो बिन माँगे भी फल देते हैं
सूख जाते हैं तो सब काट के
इस आग में ही झोंक दिए जाते हैं

जैसे दरवाज़े पे आमाल के वो दोनों फ़रिश्ते
शाम से आग में बस
सूखी हुई टहनियों को झोंक रहे हैं !! -गुलज़ार नज़्म

 

Chaand Kyun Abr Ki Us Maili Si Gathri Mein Chhupa Tha..

Chaand Kyun Abr Ki Us Maili Si Gathri Mein Chhupa Tha.. { Ek Daur – Gulzar Nazm } !

Chaand kyun abr ki us maili si gathri mein chhupa tha
Us ke chhupte hi andheron ke nikal aaye the nakhun
Aur jangal se guzarte hue masum musafir
Apne chehron ko kharonchon se bachane ke liye chikh pade the

Chaand kyun abr ki us maili si gathri mein chhupa tha
Us ke chhupte hi utar aaye the shakhon se latakte hue
Aaseb the jitne
Aur jangal se guzarte hue rahgiron ne gardan mein utarte
Hue danton se suna tha
Par jaana hai to pine ko lahu dena padega

Chaand kyun abr ki us maili si gathri mein chhupa tha
Khun se luthdi hui raat ke rahgiron ne do zanu pa gir kar,
Raushni, raushni ! chillaya tha, dekha tha falak ki jaanib,
Chaand ne gathri se ek haath nikala tha, dikhaya tha chamakta hua khanjar. !! -Gulzar Nazm

चाँद क्यूँ अब्र की उस मैली सी गठरी में छुपा था
उस के छुपते ही अंधेरों के निकल आए थे नाख़ुन
और जंगल से गुज़रते हुए मासूम मुसाफ़िर
अपने चेहरों को खरोंचों से बचाने के लिए चीख़ पड़े थे

चाँद क्यूँ अब्र की उस मैली सी गठरी में छुपा था
उस के छुपते ही उतर आए थे शाख़ों से लटकते हुए
आसेब थे जितने
और जंगल से गुज़रते हुए राहगीरों ने गर्दन में उतरते
हुए दाँतों से सुना था
पार जाना है तो पीने को लहू देना पड़ेगा

चाँद क्यूँ अब्र की उस मैली सी गठरी में छुपा था
ख़ून से लुथड़ी हुई रात के राहगीरों ने दो ज़ानू प गिर कर,
रौशनी, रौशनी ! चिल्लाया था, देखा था फ़लक की जानिब,
चाँद ने गठरी से एक हाथ निकाला था, दिखाया था चमकता हुआ ख़ंजर !! -गुलज़ार नज़्म

 

Mujhe Andhere Mein Be-Shak Bitha Diya Hota..

Mujhe Andhere Mein Be-Shak Bitha Diya Hota.. Gulzar Poetry !

Mujhe andhere mein be-shak bitha diya hota,
Magar charagh ki surat jala diya hota.

Na raushni koi aati mere taaqub mein,
Jo apne aap ko main ne bujha diya hota.

Ye dard jism ke ya rab bahut shadid lage,
Mujhe salib pe do pal sula diya hota.

Ye shukr hai ki mere pas tera gham to raha,
Wagarna zindagi ne to rula diya hota. !! -Gulzar Poetry

मुझे अँधेरे में बे-शक बिठा दिया होता,
मगर चराग़ की सूरत जला दिया होता !

न रौशनी कोई आती मेरे तआक़ुब में,
जो अपने आप को मैं ने बुझा दिया होता !

ये दर्द जिस्म के या रब बहुत शदीद लगे,
मुझे सलीब पे दो पल सुला दिया होता !

ये शुक्र है कि मेरे पास तेरा ग़म तो रहा,
वगर्ना ज़िंदगी ने तो रुला दिया होता !! -गुलज़ार कविता

 

Mohabbaton Ke Safar Par Nikal Ke Dekhunga..

Mohabbaton Ke Safar Par Nikal Ke Dekhunga.. Rahat Indori Shayari !

Mohabbaton ke safar par nikal ke dekhunga,
Ye pul-siraat agar hai to chal ke dekhunga.

Sawal ye hai ki raftar kis ki kitni hai,
Main aaftab se aage nikal ke dekhunga.

Mazaq achchha rahega ye chaand-taaron se,
Main aaj shaam se pahle hi dhal ke dekhunga.

Wo mere hukm ko fariyaad jaan leta hai,
Agar ye sach hai to lahja badal ke dekhunga.

Ujale bantne walon pe kya guzarti hai,
Kisi charagh ki manind jal ke dekhunga.

Ajab nahi ki wahi raushni mujh mil jaye,
Main apne ghar se kisi din nikal ke dekhunga. !!

मोहब्बतों के सफ़र पर निकल के देखूँगा,
ये पुल-सिरात अगर है तो चल के देखूँगा !

सवाल ये है कि रफ़्तार किस की कितनी है,
मैं आफ़्ताब से आगे निकल के देखूँगा !

मज़ाक़ अच्छा रहेगा ये चाँद-तारों से,
मैं आज शाम से पहले ही ढल के देखूँगा !

वो मेरे हुक्म को फ़रियाद जान लेता है,
अगर ये सच है तो लहजा बदल के देखूँगा !

उजाले बाँटने वालों पे क्या गुज़रती है,
किसी चराग़ की मानिंद जल के देखूँगा !

अजब नहीं कि वही रौशनी मुझ मिल जाए,
मैं अपने घर से किसी दिन निकल के देखूँगा !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Hausle Zindagi Ke Dekhte Hain..

Hausle Zindagi Ke Dekhte Hain.. Rahat Indori Shayari !

Hausle zindagi ke dekhte hain,
Chaliye kuch roz ji ke dekhte hain.

Nind pichhli sadi ki zakhmi hai,
Khwaab agli sadi ke dekhte hain.

Rose hum ek andheri dhund ke par,
Qafile raushni ke dekhte hain.

Dhoop itni karahti kyun hai,
Chhanv ke zakhm si ke dekhte hain.

Tuktuki bandh li hai aankhon ne,
Raste wapsi ke dekhte hain.

Paniyon se to pyas bujhti nahi,
Aaiye zahar pi ke dekhte hain. !!

हौसले ज़िंदगी के देखते हैं,
चलिए कुछ रोज़ जी के देखते हैं !

नींद पिछली सदी की ज़ख़्मी है,
ख़्वाब अगली सदी के देखते हैं !

रोज़ हम एक अँधेरी धुँद के पार,
क़ाफ़िले रौशनी के देखते हैं !

धूप इतनी कराहती क्यूँ है,
छाँव के ज़ख़्म सी के देखते हैं !

टुकटुकी बाँध ली है आँखों ने,
रास्ते वापसी के देखते हैं !

पानियों से तो प्यास बुझती नहीं,
आइए ज़हर पी के देखते हैं !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Tariq-E-Ishq Mein Mujh Ko Koi Kaamil Nahi Milta

Tariq-e-ishq mein mujh ko koi kaamil nahi milta,
Gaye farhad o majnun ab kisi se dil nahi milta.

Bhari hai anjuman lekin kisi se dil nahi milta,
Hamin mein aa gaya kuch naqs ya kaamil nahi milta.

Purani raushni mein aur nai mein farq itna hai,
Use kashti nahi milti ise sahil nahi milta.

Pahunchna dad ko mazlum ka mushkil hi hota hai,
Kabhi qazi nahi milte kabhi qatil nahi milta.

Harifon par khazane hain khule yan hijr-e-gesu hai,
Wahan pe bil hai aur yan sanp ka bhi bil nahi milta.

Ye husn o ishq hi ka kaam hai shubah karen kis par,
Mizaj un ka nahi milta hamara dil nahi milta.

Chhupa hai sina o rukh dil-sitan hathon se karwat mein,
Mujhe sote mein bhi wo husn se ghafil nahi milta.

Hawas-o-hosh gum hain bahr-e-irfan-e-ilahi mein,
Yahi dariya hai jis mein mauj ko sahil nahi milta.

Kitab-e-dil mujhe kafi hai “Akbar” dars-e-hikmat ko,
Main spencer se mustaghni hun mujh se mil nahi milta. !!

 

Us Ke Dushman Hain Bahut Aadmi Achchha Hoga

Us ke dushman hain bahut aadmi achchha hoga,
Wo bhi meri hi tarah shehar mein tanha hoga.

Itna sach bol ki honton ka tabassum na bujhe,
Raushni khatm na kar aage andhera hoga.

Pyas jis nahr se takrai wo banjar nikli,
Jis ko pichhe kahin chhod aaye wo dariya hoga.

Mere bare mein koi raye to hogi us ki,
Us ne mujh ko bhi kabhi tod ke dekha hoga.

Ek mehfil mein kai mehfilen hoti hain sharik,
Jis ko bhi pas se dekhoge akela hoga. !!

उस के दुश्मन हैं बहुत आदमी अच्छा होगा,
वो भी मेरी ही तरह शहर में तन्हा होगा !

इतना सच बोल कि होंटों का तबस्सुम न बुझे,
रौशनी ख़त्म न कर आगे अँधेरा होगा !

प्यास जिस नहर से टकराई वो बंजर निकली,
जिस को पीछे कहीं छोड़ आए वो दरिया होगा !

मेरे बारे में कोई राय तो होगी उस की,
उस ने मुझ को भी कभी तोड़ के देखा होगा !

एक महफ़िल में कई महफ़िलें होती हैं शरीक,
जिस को भी पास से देखोगे अकेला होगा !!

-Nida Fazli Ghazal / Sad Poetry

 

Log Har Mod Pe Ruk Ruk Ke Sambhalte Kyun Hain..

Log har mod pe ruk ruk ke sambhalte kyun hain,
Itna darte hain to phir ghar se nikalte kyun hain.

Mai-kada zarf ke mear ka paimana hai,
Khali shishon ki tarah log uchhalte kyun hain.

Main na jugnu hun diya hun na koi tara hun,
Raushni wale mere naam se jalte kyun hain.

Nind se mera taalluq hi nahi barson se,
Khwab aa aa ke meri chhat pe tahalte kyun hain.

Mod hota hai jawani ka sambhalne ke liye,
Aur sab log yahin aa ke phisalte kyun hain. !!

लोग हर मोड़ पर रुक-रुक के संभलते क्यूँ है,
इतना डरते है तो फिर घर से निकलते क्यूँ है !

मय-कदा ज़र्फ़ के मेआ’र का पैमाना है,
ख़ाली शीशों की तरह लोग उछलते क्यूँ हैं !

मैं ना जुगनू हूँ दिया हूँ ना कोई तारा हूँ,
रौशनी वाले मेरे नाम से जलते क्यूँ हैं !

नींद से मेरा ताल्लुक ही नहीं बरसों से,
ख्वाब आ-आ के मेरी छत पे टहलते क्यूँ हैं !

मोड़ तो होता हैं जवानी का संभलने के लिये,
और सब लोग यही आकर फिसलते क्यूँ हैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Jo Wo Mere Na Rahe Main Bhi Kab Kisi Ka Raha..

Jo wo mere na rahe main bhi kab kisi ka raha,
Bichhad ke un se saliqa na zindagi ka raha.

Labon se ud gaya jugnu ki tarah naam us ka,
Sahaara ab mere ghar mein na raushni ka raha.

Guzarne ko to hazaron hi qafile guzre,
Zameen pe naqsh-e-qadam bas kisi-kisi ka raha. !!

जो वो मेरे न रहे मैं भी कब किसी का रहा,
बिछड़ के उन से सलीक़ा न ज़िंदगी का रहा !

लबों से उड़ गया जुगनू की तरह नाम उस का,
सहारा अब मेरे घर में न रौशनी का रहा !

गुज़रने को तो हज़ारों ही क़ाफ़िले गुज़रे,
ज़मीन पे नक़्श-ए-क़दम बस किसी-किसी का रहा !!

-Kaifi Azmi Ghazal / Poetry

 

Chand Tanha Hai Aasman Tanha..

Chand tanha hai aasman tanha,
Dil mila hai kahan kahan tanha.

Bujh gayi aas chhup gaya tara,
Thartharaata raha dhuan tanha.

Zindagi kya isi ko kahte hain,
Jism tanha hai aur jaan tanha.

Ham-safar koi gar mile bhi kahin,
Donon chalte rahe yahan tanha.

Jalti-bujhti si raushni ke pare,
Simta simta sa ek makan tanha.

Rah dekha karega sadiyon tak,
Chhod jayenge ye jahan tanha. !!

चाँद तन्हा है आसमाँ तन्हा,
दिल मिला है कहाँ कहाँ तन्हा !

बुझ गई आस छुप गया तारा,
थरथराता रहा धुआँ तन्हा !

ज़िंदगी क्या इसी को कहते हैं,
जिस्म तन्हा है और जाँ तन्हा !

हम-सफ़र कोई गर मिले भी कहीं,
दोनों चलते रहे यहाँ तन्हा !

जलती-बुझती सी रौशनी के परे,
सिमटा सिमटा सा इक मकाँ तन्हा !

राह देखा करेगा सदियों तक,
छोड़ जाएँगे ये जहाँ तन्हा !!

-Meena Kumari Naaz Ghazal / Poetry