Saturday , September 11 2021

Poetry Types Rasta

Pure Ka Pura Aakash Ghuma Kar Bazi Dekhi Maine..

Pure Ka Pura Aakash Ghuma Kar Bazi Dekhi Maine.. { Khuda – Gulzar Nazm } !

Pure ka pura aakash ghuma kar bazi dekhi maine !

Kale ghar mein sooraj chalke
Tum ne shayad socha tha mere sab mohre pit jayenge
Maine ek charagh jala kar roshani kar lee
Apna rasta khol liya

Tumne ek samundar haath mein le kar mujhpe dhel diya
Maine nuh ki kashti us ke upar rakh di

Kaal chala tumne aur meri jaanib dekha
Maine kaal ko tod kar lamha lamha jina sikh liya

Meri khudi ko marna chaha tumne chand chamatkaron se
Aur mere ek payaade ne chalte-chalte tera chaand ka mohara mar liya

Maut ko shah dekar tumne samjha tha ab to mat hui
Maine jism ka khol utar sonp diya aur ruh bacha lee

Poore ka poora aakash ghuma kar ab tum dekho bazi. !! -Gulzar Nazm

पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाज़ी देखी मैने,

काले घर में सूरज चलके
तुमने शायद सोचा था मेरे सब मोहरे पिट जायेंगे
मैने एक चराग जलाकर रोशनी कर ली
अपना रस्ता खोल लिया

तुमने एक समन्दर हाथ में लेकर मुझपे ढेल दिया,
मैने नोह की कश्ति उस के ऊपर रख दी

काल चला तुमने और मेरी जानिब देखा
मैने काल को तोड़कर लम्हा लम्हा जीना सीख लिया

मेरी खुदी को मारना चाहा तुमने चन्द चमत्कारों से
और मेरे एक प्यादे ने चलते चलते तेरा चांद का मोहरा मार लिया

मौत की शह देकर तुमने समझा था अब तो मात हुई
मैने जिस्म का खोल उतारकर सौंप दिया और रूह बचा ली

पूरे का पूरा आकाश घुमा कर अब तुम देखो बाज़ी !! -गुलज़ार नज़्म

 

Kis Qadar Sidha Sahal Saf Hai Rasta Dekho..

Kis Qadar Sidha Sahal Saf Hai Rasta Dekho.. { Akele – Gulzar’s Nazm }

Kis qadar sidha sahal saf hai rasta dekho
Na kisi shakh ka saya hai na diwar ki tek
Na kisi aankh ki aahat, na kisi chehre ka shor
Dur tak koi nahi koi nahi koi nahi

Chand qadamon ke nishan han kabhi milte hain kahin
Saath chalte hain jo kuch dur faqat chand qadam
Aur phir tut ke gir jate hain ye kahte hue
Apni tanhaai liye aap chalo tanha akele
Saath aaye jo yahan koi nahi koi nahi

Kis qadar sidha sahal saf hai rasta dekho.. !! -Gulzar’s Nazm

किस क़दर सीधा सहल साफ़ है रस्ता देखो
न किसी शाख़ का साया है न दीवार की टेक
न किसी आँख की आहट न किसी चेहरे का शोर
दूर तक कोई नहीं कोई नहीं कोई नहीं

चंद क़दमों के निशाँ हाँ कभी मिलते हैं कहीं
साथ चलते हैं जो कुछ दूर फ़क़त चंद क़दम
और फिर टूट के गिर जाते हैं ये कहते हुए
अपनी तन्हाई लिए आप चलो, तन्हा अकेले
साथ आए जो यहाँ कोई नहीं कोई नहीं

किस क़दर सीधा सहल साफ़ है रस्ता देखो.. !! -गुलज़ार नज़्म

 

Phool Ne Tahni Se Udne Ki Koshish Ki..

Phool Ne Tahni Se Udne Ki Koshish Ki.. Gulzar Poetry !

Phool ne tahni se udne ki koshish ki,
Ek tair ka dil rakhne ki koshish ki.

Kal phir chaand ka khanjar ghonp ke sine mein,
Raat ne meri jaan lene ki koshish ki.

Koi na koi rahbar rasta kat gaya,
Jab bhi apni rah chalne ki koshish ki.

Kitni lambi khamoshi se guzra hun,
Un se kitna kuch kahne ki koshish ki.

Ek hi khwaab ne sari raat jagaya hai,
Main ne har karwat sone ki koshish ki.

Ek sitara jaldi jaldi dub gaya,
Main ne jab tare ginne ki koshish ki.

Naam mera tha aur pata apne ghar ka,
Us ne mujh ko khat likhne ki koshish ki.

Ek dhuen ka marghola sa nikla hai,
Mitti mein jab dil bone ki koshish ki. !! -Gulzar Poetry

फूल ने टहनी से उड़ने की कोशिश की,
एक ताइर का दिल रखने की कोशिश की !

कल फिर चाँद का ख़ंजर घोंप के सीने में,
रात ने मेरी जाँ लेने की कोशिश की !

कोई न कोई रहबर रस्ता काट गया,
जब भी अपनी रह चलने की कोशिश की !

कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ,
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की !

एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है,
मैं ने हर करवट सोने की कोशिश की !

एक सितारा जल्दी जल्दी डूब गया,
मैं ने जब तारे गिनने की कोशिश की !

नाम मेरा था और पता अपने घर का,
उस ने मुझ को ख़त लिखने की कोशिश की !

एक धुएँ का मर्ग़ोला सा निकला है,
मिट्टी में जब दिल बोने की कोशिश की !! -गुलज़ार कविता

 

Hon Lakh Zulm Magar Bad-Dua Nahi Denge..

Hon Lakh Zulm Magar Bad-Dua Nahi Denge.. Rahat Indori Shayari !

Hon lakh zulm magar bad-dua nahi denge,
Zameen maa hai zameen ko dagha nahi denge.

Hamein to sirf jagana hai sone walon ko,
Jo dar khula hai wahan hum sada nahi denge.

Riwayaton ki safen tod kar badho warna,
Jo tum se aage hain wo rasta nahi denge.

Yahan kahan tera sajjada aa ke khak pe baith,
Ki hum faqir tujhe boriya nahi denge.

Sharaab pi ke bade tajarbe hue hain hamein,
Sharif logon ko hum mashwara nahi denge. !!

हों लाख ज़ुल्म मगर बद-दुआ नहीं देंगे,
ज़मीन माँ है ज़मीं को दग़ा नहीं देंगे !

हमें तो सिर्फ़ जगाना है सोने वालों को,
जो दर खुला है वहाँ हम सदा नहीं देंगे !

रिवायतों की सफ़ें तोड़ कर बढ़ो वर्ना,
जो तुम से आगे हैं वो रास्ता नहीं देंगे !

यहाँ कहाँ तेरा सज्जादा आ के ख़ाक पे बैठ,
कि हम फ़क़ीर तुझे बोरिया नहीं देंगे !

शराब पी के बड़े तजरबे हुए हैं हमें,
शरीफ़ लोगों को हम मशवरा नहीं देंगे !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Ye Aane Wala Zamana Hamein Batayega..

Ye aane wala zamana hamein batayega,
Wo ghar banayega apna ki ghar basayega.

Main sare shehar mein badnaam hun khabar hai mujhe,
Wo mere naam se kya fayeda uthayega.

Phir us ke baad ujale kharidne honge,
Zara si der mein sooraj to dub jayega.

Hai sair-gah ye kachchi munder sanpon ki,
Yahan se kaise koi rasta banega.

Sunai deti nahi ghar ke shor mein dastak,
Main jaanta hun jo aayega laut jayega.

Main soch bhi nahi sakta tha un udanon mein,
Wo apne ganv ki mitti ko bhul jayega.

Hazaron rog to pale hue ho tum “Nazmi“,
Bachane wala kahan tak tumhein bachayega. !!

ये आने वाला ज़माना हमें बताएगा,
वो घर बनाएगा अपना कि घर बसाएगा !

मैं सारे शहर में बदनाम हूँ ख़बर है मुझे,
वो मेरे नाम से क्या फ़ाएदा उठाएगा !

फिर उस के बाद उजाले ख़रीदने होंगे,
ज़रा सी देर में सूरज तो डूब जाएगा !

है सैर-गाह ये कच्ची मुंडेर साँपों की,
यहाँ से कैसे कोई रास्ता बनाएगा !

सुनाई देती नहीं घर के शोर में दस्तक,
मैं जानता हूँ जो आएगा लौट जाएगा !

मैं सोच भी नहीं सकता था उन उड़ानों में,
वो अपने गाँव की मिट्टी को भूल जाएगा !

हज़ारों रोग तो पाले हुए हो तुम “नज़मी“,
बचाने वाला कहाँ तक तुम्हें बचाएगा !!

 

Ab Nahi Laut Ke Aane Wala

Ab nahi laut ke aane wala,
Ghar khula chhod ke jaane wala.

Ho gayi kuch idhar aisi baatein,
Ruk gaya roz ka aane wala.

Aks aaankhon se chura leta hai,
Ek taswir banane wala.

Lakh honton pe hansi ho lekin,
Khush nahi khush nazar aane wala.

Zad mein tufan ki aaya kaise,
Pyas sahil pe bujhane wala.

Rah gaya hai mera saya ban kar,
Mujh ko khatir mein na lane wala.

Ban gaya ham-safar aakhir “Nazmi”,
Rasta kat ke jaane wala. !!

अब नहीं लौट के आने वाला,
घर खुला छोड़ के जाने वाला !

हो गईं कुछ इधर ऐसी बातें,
रुक गया रोज़ का आने वाला !

अक्स आँखों से चुरा लेता है,
एक तस्वीर बनाने वाला !

लाख होंटों पे हँसी हो लेकिन,
ख़ुश नहीं ख़ुश नज़र आने वाला !

ज़द में तूफ़ान की आया कैसे,
प्यास साहिल पे बुझाने वाला !

रह गया है मेरा साया बन कर,
मुझ को ख़ातिर में न लाने वाला !

बन गया हम-सफ़र आख़िर “नज़्मी”,
रास्ता काट के जाने वाला !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

 

Likha Hai Mujh Ko Bhi Likhna Pada Hai

Likha hai mujh ko bhi likhna pada hai,
Jahan se hashiya chhoda gaya hai.

Agar manus hai tum se parinda,
To phir udne ko par kyun tolta hai.

Kahin kuch hai kahin kuch hai kahin kuch,
Mera saman sab bikhra hua hai.

Main ja baithun kisi bargad ke niche,
Sukun ka bas yahi ek rasta hai.

Qayamat dekhiye meri nazar se,
Sawa neze pe suraj aa gaya hai.

Shajar jaane kahan ja kar lagega,
Jise dariya baha kar le gaya hai.

Abhi to ghar nahi chhoda hai maine,
Ye kis ka naam takhti par likha hai.

Bahut roka hai is ko pattharon ne,
Magar pani ko rasta mil gaya hai. !!

लिखा है मुझ को भी लिखना पड़ा है,
जहाँ से हाशिया छोड़ा गया है !

अगर मानूस है तुम से परिंदा ,
तो फिर उड़ने को पर क्यूँ तोलता है !

कहीं कुछ है कहीं कुछ है कहीं कुछ,
मेरा सामान सब बिखरा हुआ है !

मैं जा बैठूँ किसी बरगद के नीचे,
सुकूँ का बस यही एक रास्ता है !

क़यामत देखिए मेरी नज़र से,
सवा नेज़े पे सूरज आ गया है !

शजर जाने कहाँ जा कर लगेगा,
जिसे दरिया बहा कर ले गया है !

अभी तो घर नहीं छोड़ा है मैंने,
ये किस का नाम तख़्ती पर लिखा है !

बहुत रोका है इस को पत्थरों ने,
मगर पानी को रास्ता मिल गया है !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

Jo Ho Ek Bar Wo Har Bar Ho Aisa Nahi Hota

Jo ho ek bar wo har bar ho aisa nahi hota,
Hamesha ek hi se pyar ho aisa nahi hota.

Har ek kashti ka apna tajraba hota hai dariya mein,
Safar mein roz hi manjdhaar ho aisa nahi hota.

Kahani mein to kirdaron ko jo chahe bana dije,
Haqiqat bhi kahani-kar ho aisa nahi hota.

Kahin to koi hoga jis ko apni bhi zarurat ho,
Har ek bazi mein dil ki haar ho aisa nahi hota.

Sikha deti hain chalna thokaren bhi rahgiron ko,
Koi rasta sada dushwar ho aisa nahi hota. !!

जो हो एक बार वो हर बार हो ऐसा नहीं होता,
हमेशा एक ही से प्यार हो ऐसा नहीं होता !

हर एक कश्ती का अपना तजरबा होता है दरिया में,
सफ़र में रोज़ ही मंजधार हो ऐसा नहीं होता !

कहानी में तो किरदारों को जो चाहे बना दीजे,
हक़ीक़त भी कहानी-कार हो ऐसा नहीं होता !

कहीं तो कोई होगा जिस को अपनी भी ज़रूरत हो,
हर एक बाज़ी में दिल की हार हो ऐसा नहीं होता !

सिखा देती हैं चलना ठोकरें भी राहगीरों को,
कोई रस्ता सदा दुश्वार हो ऐसा नहीं होता !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Aaj Zara Fursat Pai Thi Aaj Use Phir Yaad Kiya

Aaj zara fursat pai thi aaj use phir yaad kiya,
Band gali ke aakhiri ghar ko khol ke phir aabaad kiya,

Khol ke khidki chand hansa phir chand ne donon hathon se,
Rang udaye phool khilaye chidiyon ko aazad kiya.

Bade bade gham khade hue the rasta roke rahon mein,
Chhoti chhoti khushiyon se hi hum ne dil ko shad kiya.

Baat bahut mamuli si thi ulajh gayi takraron mein,
Ek zara si zid ne aakhir donon ko barbaad kiya.

Danaon ki baat na mani kaam aai nadani hi,
Suna hawa ko padha nadi ko mausam ko ustad kiya. !!

आज ज़रा फ़ुर्सत पाई थी आज उसे फिर याद किया,
बंद गली के आख़िरी घर को खोल के फिर आबाद किया !

खोल के खिड़की चाँद हँसा फिर चाँद ने दोनों हाथों से,
रंग उड़ाए फूल खिलाए चिड़ियों को आज़ाद किया !

बड़े बड़े ग़म खड़े हुए थे रस्ता रोके राहों में,
छोटी छोटी ख़ुशियों से ही हम ने दिल को शाद किया !

बात बहुत मामूली सी थी उलझ गई तकरारों में,
एक ज़रा सी ज़िद ने आख़िर दोनों को बरबाद किया !

दानाओं की बात न मानी काम आई नादानी ही,
सुना हवा को पढ़ा नदी को मौसम को उस्ताद किया !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Dariya Ho Ya Pahad Ho Takrana Chahiye

Dariya ho ya pahad ho takrana chahiye,
Jab tak na sans tute jiye jana chahiye.

Yun to qadam qadam pe hai diwar samne,
Koi na ho to khud se ulajh jana chahiye.

Jhukti hui nazar ho ki simta hua badan,
Har ras-bhari ghata ko baras jana chahiye.

Chaurahe bagh buildingen sab shehar to nahi,
Kuch aise waise logon se yarana chahiye.

Apni talash apni nazar apna tajraba,
Rasta ho chahe saf bhatak jana chahiye.

Chup chup makan raste gum-sum nidhaal waqt,
Is shehar ke liye koi diwana chahiye.

Bijli ka qumquma na ho kala dhuan to ho,
Ye bhi agar nahi ho to bujh jana chahiye. !!

दरिया हो या पहाड़ हो टकराना चाहिए,
जब तक न साँस टूटे जिए जाना चाहिए !

यूँ तो क़दम क़दम पे है दीवार सामने,
कोई न हो तो ख़ुद से उलझ जाना चाहिए !

झुकती हुई नज़र हो कि सिमटा हुआ बदन,
हर रस-भरी घटा को बरस जाना चाहिए !

चौराहे बाग़ बिल्डिंगें सब शहर तो नहीं,
कुछ ऐसे वैसे लोगों से याराना चाहिए !

अपनी तलाश अपनी नज़र अपना तजरबा,
रस्ता हो चाहे साफ़ भटक जाना चाहिए !

चुप चुप मकान रास्ते गुम-सुम निढाल वक़्त,
इस शहर के लिए कोई दीवाना चाहिए !

बिजली का क़ुमक़ुमा न हो काला धुआँ तो हो,
ये भी अगर नहीं हो तो बुझ जाना चाहिए !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari