Poetry Types Raat

Hum Ne Kati Hain Teri Yaad Mein Raaten Aksar..

Hum Ne Kati Hain Teri Yaad Mein Raaten Aksar.. Jan Nisar Akhtar Poetry !

Hum ne kati hain teri yaad mein raaten aksar,
Dil se guzri hain sitaron ki baraaten aksar.

Aur to kaun hai jo mujh ko tasalli deta,
Haath rakh deti hain dil par teri baaten aksar.

Husn shaista-e-tahzib-e-alam hai shayed,
Gham-zada lagti hain kyun chandni raaten aksar.

Haal kahna hai kisi se to mukhatab hai koi,
Kitni dilchasp hua karti hain baaten aksar.

Ishq rahzan na sahi ishq ke hathon phir bhi,
Hum ne lutti hui dekhi hain baraten aksar.

Hum se ek bar bhi jita hai na jitega koi,
Wo to hum jaan ke kha lete hain maten aksar.

Un se puchho kabhi chehre bhi padhe hain tum ne,
Jo kitabon ki kiya karte hain baaten aksar.

Hum ne un tund-hawaon mein jalaye hain charagh,
Jin hawaon ne ulat di hain bisaten aksar. !!

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर.. “जान निसार अख्तर” कविता हिंदी में !

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर,
दिल से गुज़री हैं सितारों की बरातें अक्सर !

और तो कौन है जो मुझ को तसल्ली देता,
हाथ रख देती हैं दिल पर तेरी बातें अक्सर !

हुस्न शाइस्ता-ए-तहज़ीब-ए-अलम है शायद,
ग़म-ज़दा लगती हैं क्यूँ चाँदनी रातें अक्सर !

हाल कहना है किसी से तो मुख़ातब है कोई,
कितनी दिलचस्प हुआ करती हैं बातें अक्सर !

इश्क़ रहज़न न सही इश्क़ के हाथों फिर भी,
हम ने लुटती हुई देखी हैं बरातें अक्सर !

हम से एक बार भी जीता है न जीतेगा कोई,
वो तो हम जान के खा लेते हैं मातें अक्सर !

उन से पूछो कभी चेहरे भी पढ़े हैं तुम ने,
जो किताबों की किया करते हैं बातें अक्सर !

हम ने उन तुंद-हवाओं में जलाए हैं चराग़,
जिन हवाओं ने उलट दी हैं बिसातें अक्सर !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Zulfen Seena Naaf Kamar..

Zulfen Seena Naaf Kamar.. Jan Nisar Akhtar Poetry

Zulfen seena naaf kamar,
Ek nadi mein kitne bhanwar,

Sadiyon sadiyon mera safar,
Manzil manzil rahguzar.

Kitna mushkil kitna kathin,
Jine se jine ka hunar.

Ganw mein aa kar shehar base,
Ganw bichaare jayen kidhar.

Phunkne wale socha bhi,
Phailegi ye aag kidhar.

Lakh tarah se naam tera,
Baitha likkhun kaghaz par.

Chhote chhote zehan ke log,
Hum se un ki baat na kar,

Pet pe patthar bandh na le,
Haath mein sajte hain patthar.

Raat ke pichhe raat chale,
Khwab hua har khwab-e-sahar,

Shab bhar to aawara phire,
Laut chalen ab apne ghar. !!

Zulfen Seena Naaf Kamar.. Jan Nisar Akhtar Poetry In Hindi Language

ज़ुल्फ़ें सीना नाफ़ कमर,
एक नदी में कितने भँवर !

सदियों सदियों मेरा सफ़र,
मंज़िल मंज़िल राहगुज़र !

कितना मुश्किल कितना कठिन,
जीने से जीने का हुनर !

गाँव में आ कर शहर बसे,
गाँव बिचारे जाएँ किधर !

फूँकने वाले सोचा भी,
फैलेगी ये आग किधर !

लाख तरह से नाम तेरा,
बैठा लिक्खूँ काग़ज़ पर !

छोटे छोटे ज़ेहन के लोग,
हम से उन की बात न कर !

पेट पे पत्थर बाँध न ले,
हाथ में सजते हैं पत्थर !

रात के पीछे रात चले,
ख़्वाब हुआ हर ख़्वाब-ए-सहर !

शब भर तो आवारा फिरे,
लौट चलें अब अपने घर !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Sau Chaand Bhi Chamkenge To Kya Baat Banegi

Sau Chaand Bhi Chamkenge To Kya Baat Banegi.. Jan Nisar Akhtar Ghazal

Sau chaand bhi chamkenge to kya baat banegi,
Tum aaye to is raat ki auqat banegi.

Un se yahi kah aayen ki ab hum na milenge,
Aakhir koi taqrib-e-mulaqat banegi.

Aye nawak-e-gham dil mein hai ek bund lahu ki,
Kuch aur to kya hum se mudaraat banegi.

Ye hum se na hoga ki kisi ek ko chahen,
Aye ishq hamari na tere sat banegi.

Ye kya hai ki badhte chalo badhte chalo aage,
Jab baith ke sochenge to kuch baat banegi. !!

Sau Chaand Bhi Chamkenge To Kya Baat Banegi.. Jan Nisar Akhtar Ghazal In Hindi Language

सौ चाँद भी चमकेंगे तो क्या बात बनेगी,
तुम आए तो इस रात की औक़ात बनेगी !

उन से यही कह आएँ कि अब हम न मिलेंगे,
आख़िर कोई तक़रीब-ए-मुलाक़ात बनेगी !

ऐ नावक-ए-ग़म दिल में है एक बूँद लहू की,
कुछ और तो क्या हम से मुदारात बनेगी !

ये हम से न होगा कि किसी एक को चाहें,
ऐ इश्क़ हमारी न तेरे सात बनेगी !

ये क्या है कि बढ़ते चलो बढ़ते चलो आगे,
जब बैठ के सोचेंगे तो कुछ बात बनेगी !!

-Jan Nisar Akhtar Ghazals / Poetry

 

Jab Lage Zakhm To Qatil Ko Dua Di Jaye..

Jab Lage Zakhm To Qatil Ko Dua Di Jaye.. Jan Nisar Akhtar Poetry

Jab lage zakhm to qatil ko dua di jaye,
Hai yahi rasm to ye rasm utha di jaye.

Dil ka wo haal hua hai gham-e-dauran ke tale,
Jaise ek lash chatanon mein daba di jaye.

Inhin gul-rang darichon se sahar jhankegi,
Kyun na khilte hue zakhmon ko dua di jaye.

Kam nahi nashshe mein jade ki gulabi raaten,
Aur agar teri jawani bhi mila di jaye.

Hum se puchho ki ghazal kya hai ghazal ka fan kya,
Chand lafzon mein koi aag chhupa di jaye. !!

Jab Lage Zakhm To Qatil Ko Dua Di Jaye.. Jan Nisar Akhtar Poetry In Hindi Language

जब लगें ज़ख़्म तो क़ातिल को दुआ दी जाए,
है यही रस्म तो ये रस्म उठा दी जाए !

दिल का वो हाल हुआ है ग़म-ए-दौराँ के तले,
जैसे इक लाश चटानों में दबा दी जाए !

इन्हीं गुल-रंग दरीचों से सहर झाँकेगी,
क्यूँ न खिलते हुए ज़ख़्मों को दुआ दी जाए !

कम नहीं नश्शे में जाड़े की गुलाबी रातें,
और अगर तेरी जवानी भी मिला दी जाए !

हम से पूछो कि ग़ज़ल क्या है ग़ज़ल का फ़न क्या,
चंद लफ़्ज़ों में कोई आग छुपा दी जाए !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazal

 

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..  Jan Nisar Akhtar Poetry

Hum se bhaga na karo dur ghazalon ki tarah,
Hum ne chaha hai tumhein chahne walon ki tarah.

Khud-ba-khud nind si aankhon mein ghuli jati hai,
Mahki mahki hai shab-e-gham tere baalon ki tarah.

Tere bin raat ke hathon pe ye taron ke ayagh,
Khub-surat hain magar zahar ke pyalon ki tarah.

Aur kya is se ziyaada koi narmi bartun,
Dil ke zakhmon ko chhua hai tere galon ki tarah.

Gungunate hue aur aa kabhi un sinon mein,
Teri khatir jo mahakte hain shiwalon ki tarah.

Teri zulfen teri aankhen tere abru tere lab,
Ab bhi mashhur hain duniya mein misalon ki tarah.

Hum se mayus na ho aye shab-e-dauran ki abhi,
Dil mein kuch dard chamakte hain ujalon ki tarah.

Mujh se nazren to milao ki hazaron chehre,
Meri aankhon mein sulagte hain sawalon ki tarah.

Aur to mujh ko mila kya meri mehnat ka sila,
Chand sikke hain mere hath mein chhaalon ki tarah.

Justuju ne kisi manzil pe thaharne na diya,
Hum bhatakte rahe aawara khayalon ki tarah.

Zindagi jis ko tera pyar mila wo jaane,
Hum to nakaam rahe chahne walon ki tarah. !!

Hum Se Bhaga Na Karo Dur Ghazalon Ki Tarah..  Jan Nisar Akhtar Poetry In Hindi Language

हम से भागा न करो दूर ग़ज़ालों की तरह,
हम ने चाहा है तुम्हें चाहने वालों की तरह !

ख़ुद-ब-ख़ुद नींद सी आँखों में घुली जाती है,
महकी महकी है शब-ए-ग़म तेरे बालों की तरह !

तेरे बिन रात के हाथों पे ये तारों के अयाग़,
ख़ूब-सूरत हैं मगर ज़हर के प्यालों की तरह !

और क्या इस से ज़ियादा कोई नरमी बरतूँ,
दिल के ज़ख़्मों को छुआ है तेरे गालों की तरह !

गुनगुनाते हुए और आ कभी उन सीनों में,
तेरी ख़ातिर जो महकते हैं शिवालों की तरह !

तेरी ज़ुल्फ़ें तेरी आँखें तेरे अबरू तेरे लब,
अब भी मशहूर हैं दुनिया में मिसालों की तरह !

हम से मायूस न हो ऐ शब-ए-दौराँ कि अभी,
दिल में कुछ दर्द चमकते हैं उजालों की तरह !

मुझ से नज़रें तो मिलाओ कि हज़ारों चेहरे,
मेरी आँखों में सुलगते हैं सवालों की तरह !

और तो मुझ को मिला क्या मेरी मेहनत का सिला,
चंद सिक्के हैं मेरे हाथ में छालों की तरह !

जुस्तुजू ने किसी मंज़िल पे ठहरने न दिया,
हम भटकते रहे आवारा ख़यालों की तरह !

ज़िंदगी जिस को तेरा प्यार मिला वो जाने,
हम तो नाकाम रहे चाहने वालों की तरह !!

-Jan Nisar Akhtar Ghazal / Urdu Poetry

 

Aahat Si Koi Aaye To Lagta Hai Ki Tum Ho..

Aahat Si Koi Aaye To Lagta Hai Ki Tum Ho.. Ghazal By Jan Nisar Akhtar

Aahat si koi aaye to lagta hai ki tum ho,
Saya koi lahraye to lagta hai ki tum ho.

Jab shakh koi hath lagate hi chaman mein,
Sharmaye lachak jaye to lagta hai ki tum ho.

Sandal se mahakti hui pur-kaif hawa ka,
Jhonka koi takraye to lagta hai ki tum ho.

Odhe hue taron ki chamakti hui chadar,
Naddi koi bal khaye to lagta hai ki tum ho.

Jab raat gaye koi kiran mere barabar,
Chup-chap si so jaye to lagta hai ki tum ho. !!

Aahat Si Koi Aaye To Lagta Hai Ki Tum Ho.. In Hindi Language

आहट सी कोई आए तो लगता है कि तुम हो,
साया कोई लहराए तो लगता है कि तुम हो !

जब शाख़ कोई हाथ लगाते ही चमन में,
शरमाए लचक जाए तो लगता है कि तुम हो !

संदल से महकती हुई पुर-कैफ़ हवा का,
झोंका कोई टकराए तो लगता है कि तुम हो !

ओढ़े हुए तारों की चमकती हुई चादर,
नद्दी कोई बल खाए तो लगता है कि तुम हो !

जब रात गए कोई किरन मेरे बराबर,
चुप-चाप सी सो जाए तो लगता है कि तुम हो !!

-Jan Nisar Akhtar Ghazal / Urdu Poetry

 

Phir Gayi Aap Ki Do Din Mein Tabiat Kaisi

Phir gayi aap ki do din mein tabiat kaisi,
Ye wafa kaisi thi sahab ye murawwat kaisi,

Dost ahbab se hans bol ke kat jayegi raat,
Rind-e-azad hain hum ko shab-e-furqat kaisi.

Jis hasin se hui ulfat wahi mashuq apna,
Ishq kis cheez ko kahte hain tabiat kaisi.

Hai jo qismat mein wahi hoga na kuch kam na siwa,
Aarzu kahte hain kis cheez ko hasrat kaisi.

Haal khulta nahi kuch dil ke dhadakne ka mujhe,
Aaj rah rah ke bhar aati hai tabiat kaisi.

Kucha-e-yaar mein jata to nazara karta,
Qais aawara hai jangal mein ye wahshat kaisi. !!

फिर गई आप की दो दिन में तबीयत कैसी,
ये वफ़ा कैसी थी साहब ! ये मुरव्वत कैसी !

दोस्त अहबाब से हंस बोल के कट जायेगी रात,
रिंद-ए-आज़ाद हैं, हमको शब-ए-फुरक़त कैसी !

जिस हसीं से हुई उल्फ़त वही माशूक़ अपना,
इश्क़ किस चीज़ को कहते हैं, तबीयत कैसी !

है जो किस्मत में वही होगा न कुछ कम, न सिवा,
आरज़ू कहते हैं किस चीज़ को, हसरत कैसी !

हाल खुलता नहीं कुछ दिल के धड़कने का मुझे,
आज रह रह के भर आती है तबीयत कैसी !

कूचा-ए-यार में जाता तो नज़ारा करता,
क़ैस आवारा है जंगल में, ये वहशत कैसी !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Hun Main Parwana Magar Shama To Ho Raat To Ho

Hun main parwana magar shama to ho raat to ho,
Jaan dene ko hun maujud koi baat to ho.

Dil bhi hazir sar-e-taslim bhi kham ko maujud,
Koi markaz ho koi qibla-e-hajat to ho.

Dil to bechain hai izhaar-e-iradat ke liye,
Kisi jaanib se kuch izhaar-e-karamat to ho.

Dil-kusha baada-e-safi ka kise zauq nahi,
Baatin-afroz koi pir-e-kharabaat to ho.

Guftani hai dil-e-pur-dard ka qissa lekin,
Kis se kahiye koi mustafsir-e-haalat to ho.

Dastan-e-gham-e-dil kaun kahe kaun sune,
Bazm mein mauqa-e-izhaar-e-khayalat to ho.

Wade bhi yaad dilate hain gile bhi hain bahut,
Wo dikhai bhi to den un se mulaqat to ho.

Koi waiz nahi fitrat se balaghat mein siwa,
Magar insan mein kuch fahm-e-ishaaraat to ho. !!

हूँ मैं परवाना मगर शम्मा तो हो रात तो हो,
जान देने को हूँ मौजूद कोई बात तो हो !

दिल भी हाज़िर सर-ए-तस्लीम भी ख़म को मौजूद,
कोई मरकज़ हो कोई क़िबला-ए-हाजात तो हो !

दिल तो बेचैन है इज़हार-ए-इरादत के लिए,
किसी जानिब से कुछ इज़हार-ए-करामात तो हो !

दिल-कुशा बादा-ए-साफ़ी का किसे ज़ौक़ नहीं,
बातिन-अफ़रोज़ कोई पीर-ए-ख़राबात तो हो !

गुफ़्तनी है दिल-ए-पुर-दर्द का क़िस्सा लेकिन,
किस से कहिए कोई मुस्तफ़्सिर-ए-हालात तो हो !

दास्तान-ए-ग़म-ए-दिल कौन कहे कौन सुने,
बज़्म में मौक़ा-ए-इज़हार-ए-ख़यालात तो हो !

वादे भी याद दिलाते हैं गिले भी हैं बहुत,
वो दिखाई भी तो दें उन से मुलाक़ात तो हो !

कोई वाइज़ नहीं फ़ितरत से बलाग़त में सिवा,
मगर इंसान में कुछ फ़हम-ए-इशारात तो हो !!

-Akbar Allahabadi Ghazal / Urdu Poetry

 

Kuch Bhi Bacha Na Kehne Ko Har Baat Ho Gayi

Kuch bhi bacha na kehne ko har baat ho gayi,
Aao kahin sharaab piyen raat ho gayi.

Phir yun hua ki waqt ka pansa palat gaya,
Ummid jeet ki thi magar mat ho gayi.

Sooraj ko chonch mein liye murgha khada raha,
Khidki ke parde khinch diye raat ho gayi.

Wo aadmi tha kitna bhala kitna pur-khulus,
Us se bhi aaj lije mulaqat ho gayi.

Raste mein wo mila tha main bach kar guzar gaya,
Us ki phati qamis mere sath ho gayi.

Naqsha utha ke koi naya shehar dhundhiye,
Is shehar mein to sab se mulaqat ho gayi. !!

कुछ भी बचा न कहने को हर बात हो गई,
आओ कहीं शराब पिएँ रात हो गई !

फिर यूँ हुआ कि वक़्त का पाँसा पलट गया,
उम्मीद जीत की थी मगर मात हो गई !

सूरज को चोंच में लिए मुर्ग़ा खड़ा रहा,
खिड़की के पर्दे खींच दिए रात हो गई !

वो आदमी था कितना भला कितना पुर-ख़ुलूस,
उस से भी आज लीजे मुलाक़ात हो गई !

रस्ते में वो मिला था मैं बच कर गुज़र गया,
उस की फटी क़मीस मेरे साथ हो गई !

नक़्शा उठा के कोई नया शहर ढूँढिए,
इस शहर में तो सब से मुलाक़ात हो गई !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Aaina Dekh Apna Sa Munh Le Ke Rah Gaye

Aaina dekh apna sa munh le ke rah gaye,
Sahab ko dil na dene pe kitna ghurur tha.

Qasid ko apne hath se gardan na mariye,
Us ki khata nahi hai ye mera qusur tha.

Zof-e-junun ko waqt-e-tapish dar bhi dur tha,
Ek ghar mein mukhtasar bayaban zarur tha.

Aye wae-ghaflat-e-nigah-e-shauq warna yan,
Har para sang lakht-e-dil-e-koh-e-tur tha.

Dars-e-tapish hai barq ko ab jis ke naam se,
Wo dil hai ye ki jis ka takhallus subur tha.

Har rang mein jala asad-e-fitna-intizar,
Parwana-e-tajalli-e-sham-e-zuhur tha.

Shayad ki mar gaya tere rukhsar dekh kar,
Paimana raat mah ka labrez-e-nur tha.

Jannat hai teri tegh ke kushton ki muntazir,
Jauhar sawad-e-jalwa-e-mizhgan-e-hur tha. !!

आईना देख अपना सा मुँह ले के रह गए,
साहब को दिल न देने पे कितना ग़ुरूर था !

क़ासिद को अपने हाथ से गर्दन न मारिए,
उस की ख़ता नहीं है ये मेरा क़ुसूर था !

ज़ोफ़-ए-जुनूँ को वक़्त-ए-तपिश दर भी दूर था,
इक घर में मुख़्तसर बयाबाँ ज़रूर था !

ऐ वाए-ग़फ़लत-ए-निगह-ए-शौक़ वर्ना याँ,
हर पारा संग लख़्त-ए-दिल-ए-कोह-ए-तूर था !

दर्स-ए-तपिश है बर्क़ को अब जिस के नाम से,
वो दिल है ये कि जिस का तख़ल्लुस सुबूर था !

हर रंग में जला असद-ए-फ़ित्ना-इन्तिज़ार,
परवाना-ए-तजल्ली-ए-शम-ए-ज़ुहूर था !

शायद कि मर गया तिरे रुख़्सार देख कर,
पैमाना रात माह का लबरेज़-ए-नूर था !

जन्नत है तेरी तेग़ के कुश्तों की मुंतज़िर,
जौहर सवाद-ए-जल्वा-ए-मिज़्गान-ए-हूर था !!

-Mirza Ghalib Ghazal Poetry