Wednesday , October 21 2020

Poetry Types Raat

Waqt Ki Aankh Pe Patti Bandh Ke Khel Rahe The Aankh Micholi..

Waqt Ki Aankh Pe Patti Bandh Ke Khel Rahe The Aankh Micholi.. { Waqt 2 – Gulzar Nazm } !

Waqt ki aankh pe patti bandh ke khel rahe the aankh micholi
Raat aur din aur chaand aur main
Jaane kaise kainat mein atka panv
Dur gira ja kar main jaise
Raushni se dhakka kha ke parchhain zameen par girti hai. !

Dhayya chhune se pahle hi
Waqt ne chor kaha aur aankhen khol ke mujh ko pakad liya. !! -Gulzar Nazm

वक़्त की आँख पे पट्टी बाँध के खेल रहे थे आँख मिचोली
रात और दिन और चाँद और मैं
जाने कैसे काएनात में अटका पाँव
दूर गिरा जा कर मैं जैसे
रौशनी से धक्का खा के परछाईं ज़मीं पर गिरती है !

धय्या छूने से पहले ही
वक़्त ने चोर कहा और आँखें खोल के मुझ को पकड़ लिया !! -गुलज़ार नज़्म

 

Raat Ko Aksar Hota Hai Parwane Aa Kar..

Raat Ko Aksar Hota Hai Parwane Aa Kar.. { Ghalib – Gulzar Nazm } !

Raat ko aksar hota hai parwane aa kar
Table lamp ke gard ikatthe ho jate hain
Sunte hain sar dhunte hain
Sun ke sab ashaar ghazal ke
Jab bhi main diwan-e-ghalib khol ke padhne baithta hun
Subah phir diwan ke raushan safhon se
Parwanon ki rakh uthani padti hai. !! -Gulzar Nazm

रात को अक्सर होता है परवाने आ कर
टेबल लैम्प के गर्द इकट्ठे हो जाते हैं
सुनते हैं सर धुनते हैं
सुन के सब अशआर ग़ज़ल के
जब भी मैं दीवान-ए-ग़ालिब खोल के पढ़ने बैठता हूँ
सुबह फिर दीवान के रौशन सफ़्हों से
परवानों की राख उठानी पड़ती है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Raat Kal Gahri Nind Mein Thi Jab..

Raat Kal Gahri Nind Mein Thi Jab.. Gulzar Nazm !

Raat kal gahri nind mein thi jab
Ek taza safed canwas par
Aatishin lal surkh rangon se
Maine raushan kiya tha ek sooraj…

Subh tak jal gaya tha wo canwas
Rakh bikhri hui thi kamre mein. !! -Gulzar Nazm

रात कल गहरी नींद में थी जब
एक ताज़ा सफ़ेद कैनवस पर
आतिशीं लाल सुर्ख़ रंगों से
मैंने रौशन किया था इक सूरज…

सुबह तक जल गया था वो कैनवस
राख बिखरी हुई थी कमरे में !! -गुलज़ार नज़्म

 

Raat Chup-Chaap Dabe Paon Chali Jati Hai..

Raat Chup-Chaap Dabe Paon Chali Jati Hai.. { Ek Aur Raat – Gulzar Nazm } !

Raat chup-chaap dabe paon chali jati hai
Raat khamosh hai roti nahi hansti bhi nahi

Kanch ka nila sa gumbad hai uda jata hai
Khali khali koi bajra sa baha jata hai

Chaand ki kirnon mein wo roz sa resham bhi nahi
Chaand ki chikni dali hai ki ghuli jati hai

Aur sannaton ki ek dhul udi jati hai
Kash ek bar kabhi neend se uth kar tum bhi
Hijr ki raaton mein ye dekho to kya hota hai. !! -Gulzar Nazm

रात चुपचाप दबे पाँव चली जाती है
रात ख़ामोश है रोती नहीं हँसती भी नहीं

कांच का नीला सा गुम्बद है, उड़ा जाता है
ख़ाली-ख़ाली कोई बजरा सा बहा जाता है

चाँद की किरणों में वो रोज़ सा रेशम भी नहीं
चाँद की चिकनी डली है कि घुली जाती है

और सन्नाटों की इक धूल सी उड़ी जाती है
काश इक बार कभी नींद से उठकर तुम भी
हिज्र की रातों में ये देखो तो क्या होता है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Wo Jo Shayar Tha..

Wo Jo Shayar Tha.. Gulzar Nazm !

Wo jo shayar tha chup sa rahta tha
Bahki-bahki si baaten karta tha
Aankhen kanon pe rakh ke sunta tha
Gungi khamoshiyon ki aawazen

Jama karta tha chaand ke saye
Aur gili si nur ki bunden
Rukhe rukhe se raat ke patte
Ok mein bhar ke khadkhadata tha

Waqt ke is ghanere jangal mein
Kachche-pakke se lamhe chunta tha
Han, wahi, wo ajib sa shayar
Raat ko uth ke kuhniyon ke bal
Chaand ki thodi chuma karta tha

Chaand se gir ke mar gaya hai wo
Log kahte hain khudkhushi ki hai. !! -Gulzar Nazm

वो जो शायर था चुप-सा रहता था
बहकी-बहकी-सी बातें करता था
आँखें कानों पे रख के सुनता था
गूँगी खामोशियों की आवाज़ें

जमा करता था चाँद के साए
और गीली सी नूर की बूँदें
रूखे-रूखे से रात के पत्ते
ओक में भर के खरखराता था

वक़्त के इस घनेरे जंगल में
कच्चे-पक्के से लम्हे चुनता था
हाँ वही, वो अजीब सा शायर
रात को उठ के कोहनियों के बल
चाँद की ठोड़ी चूमा करता था

चाँद से गिर के मर गया है वो
लोग कहते हैं खुदखुशी की है !! -गुलज़ार नज़्म

 

Ruh Dekhi Hai Kabhi..

Ruh Dekhi Hai Kabhi.. Gulzar Nazm !

Ruh dekhi hai ?
Kabhi ruh ko mahsus kiya hai ?
Jagte jite hue dudhiya kohre se lipat kar
Sans lete hue us kohre ko mahsus kiya hai ?

Ya shikare mein kisi jhil pe jab raat basar ho
Aur pani ke chhpakon mein baja karti hain tullian
Subkiyan leti hawaon ke bhi bain sune hain ?

Chaudhwin-raat ke barfab se ek chaand ko jab
Dher se saye pakadne ke liye bhagte hain
Tum ne sahil pe khade girje ki diwar se lag kar
Apni gahnati hui kokh ko mahsus kiya hai ?

Jism sau bar jale tab bhi wahi mitti hai
Ruh ek bar jalegi to wo kundan hogi
Ruh dekhi hai, kabhi ruh ko mahsus kiya hai ?? -Gulzar Nazm

रूह देखी है ?
कभी रूह को महसूस किया है ?
जागते जीते हुए दूधिया कोहरे से लिपट कर
साँस लेते हुए उस कोहरे को महसूस किया है ?

या शिकारे में किसी झील पे जब रात बसर हो
और पानी के छपाकों में बजा करती हैं टुल्लियाँ
सुबकियाँ लेती हवाओं के भी बैन सुने हैं ?

चौदहवीं-रात के बर्फ़ाब से इक चाँद को जब
ढेर से साए पकड़ने के लिए भागते हैं
तुम ने साहिल पे खड़े गिरजे की दीवार से लग कर
अपनी गहनाती हुई कोख को महसूस किया है ?

जिस्म सौ बार जले तब भी वही मिट्टी है
रूह इक बार जलेगी तो वो कुंदन होगी
रूह देखी है, कभी रूह को महसूस किया है ?? -गुलज़ार नज़्म

 

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai..

Na Jaane Kis Ki Ye Diary Hai.. { Diary – Gulzar’s Nazm }

Na jaane kis ki ye Diary hai
Na naam hai na pata hai koi:
“Har ek karwat main yaad karta hun tum ko lekin
Ye karwaten lete raat din yun masal rahe hain mere badan ko
Tumhaari yaadon ke jism par nil pad gaye hain”

Ek aur safhe pe yun likha hai:
“Kabhi kabhi raat ki siyahi,
Kuch aisi chehre pe jam si jati hai
Lakh ragdun,
Sahar ke pani se lakh dhoun
Magar wo kalak nahi utarti
Milogi jab tum pata chalega
Main aur bhi kala ho gaya hun
Ye hashiye mein likha hua hai:
“Main dhoop mein jal ke itna kala nahi hua tha
Ki jitna is raat main sulag ke siyah hua hun”

Mahin lafzon mein ek jagah yun likha hai is ne:
“Tumhen bhi to yaad hogi wo raat sardiyon ki
Jab aundhi kashti ke niche hum ne
Badan ke chulhe jala ke tape the, din kiya tha
Ye pattharon ka bichhauna hargiz na sakht lagta jo tum bhi hotin
Tumhein bichhata bhi odhta bhi”

Ek aur safhe pe phir usi raat ka bayan hai:
“Tum ek takiye mein gile baalon ki bhar ke khushboo,
Jo aaj bhejo
To neend aa jaye, so hi jaun”

Kuch aisa lagta hai jis ne bhi Diary likhi hai
Wo shehar aaya hai ganv mein chhod kar kisi ko
Talaash mein kaam hi ke shayad:
“Main shehar ki is machine mein fit hun jaise dhibri,
Zaruri hai ye zara sa purza
Aham bhi hai kyun ki roz ke roz tel de kar
Ise zara aur kas ke jata hai chief mera
Wo roz kasta hai,
Roz ek pech aur chadhta hai jab nason par,
To ji mein aata hai zehar kha lun
Ya bhag jaun”

Kuch ukhde ukhde, kate hue se ajib jumle,
“Kahani wo jis mein ek shahzadi chat leti hai
Apni angushtari ka hira,
Wo tum ne puri nahi sunai”

“Kadon mein sona nahi hai,
Un par sunahri pani chadha hua hai”
Ek aur zewar ka zikr bhi hai:
“Wo nak ki nath na bechna tum
Wo jhutha moti hai, tum se sachcha kaha tha main ne,
Sunar ke pas ja ke sharmindagi si hogi”

Ye waqt ka than khulta rahta hai pal ba pal,
Aur log poshaken kat kar,
Apne apne andaz se pahante hain waqt lekin
Jo main ne kati thi than se ek qamiz
Wo tang ho rahi hai”

Kabhi kabhi is pighalte lohe ki garm bhatti mein kaam karte,
Thithurne lagta hai ye badan jaise sakht sardi mein bhun raha ho,
Bukhar rahta hai kuch dinon se

Magar ye satren badi ajab hain
Kahin tawazun bigad gaya hai
Ya koi siwan udhad gayi hai:
“Farar hun main kai dinon se
Jo ghup-andhere ki tir jaisi surang ek kan se
Shurua ho ke dusre kan tak gayi hai,
Main us nali mein chhupa hua hun,
Tum aa ke tinke se mujh ko bahar nikal lena”

“Koi nahi aayega ye kide nikalne ab
Ki un ko to shehar mein dhuan de ke mara jata hai naliyon mein” !! -Gulzar’s Nazm

न जाने किस की ये डायरी है
न नाम है, न पता है कोई:
”हर एक करवट मैं याद करता हूँ तुम को लेकिन
ये करवटें लेते रात दिन यूँ मसल रहे हैं मेरे बदन को
तुम्हारी यादों के जिस्म पर नील पड़ गए हैं”

एक और सफ़्हे पे यूँ लिखा है:
”कभी कभी रात की सियाही,
कुछ ऐसी चेहरे पे जम सी जाती है
लाख रगड़ूँ,
सहर के पानी से लाख धोऊँ
मगर वो कालक नहीं उतरती
मिलोगी जब तुम पता चलेगा
मैं और भी काला हो गया हूँ
ये हाशिए में लिखा हुआ है:
”मैं धूप में जल के इतना काला नहीं हुआ था
कि जितना इस रात मैं सुलग के सियह हुआ हूँ”

महीन लफ़्ज़ों में एक जगह यूँ लिखा है इस ने:
”तुम्हें भी तो याद होगी वो रात सर्दियों की
जब औंधी कश्ती के नीचे हम ने
बदन के चूल्हे जला के तापे थे, दिन किया था
ये पत्थरों का बिछौना हरगिज़ न सख़्त लगता जो तुम भी होतीं
तुम्हें बिछाता भी ओढ़ता भी”

एक और सफ़्हे पे फिर उसी रात का बयाँ है:
”तुम एक तकिए में गीले बालों की भर के ख़ुशबू,
जो आज भेजो
तो नींद आ जाए, सो ही जाऊँ”

कुछ ऐसा लगता है जिस ने भी डायरी लिखी है
वो शहर आया है गाँव में छोड़ कर किसी को
तलाश में काम ही के शायद:
”मैं शहर की इस मशीन में फ़िट हूँ जैसे ढिबरी,
ज़रूरी है ये ज़रा सा पुर्ज़ा
अहम भी है क्यूँ कि रोज़ के रोज़ तेल दे कर
इसे ज़रा और कस के जाता है चीफ़ मेरा
वो रोज़ कसता है,
रोज़ एक पेच और चढ़ता है जब नसों पर,
तो जी में आता है ज़हर खा लूँ
या भाग जाऊँ”

कुछ उखड़े उखड़े, कटे हुए से अजीब जुमले,
”कहानी वो जिस में एक शहज़ादी चाट लेती है
अपनी अंगुश्तरी का हीरा,
वो तुम ने पूरी नहीं सुनाई”

”कड़ों में सोना नहीं है,
उन पर सुनहरी पानी चढ़ा हुआ है”
एक और ज़ेवर का ज़िक्र भी है:
”वो नाक की नथ न बेचना तुम
वो झूठा मोती है, तुम से सच्चा कहा था मैं ने,
सुनार के पास जा के शर्मिंदगी सी होगी”

ये वक़्त का थान खुलता रहता है पल ब पल,
और लोग पोशाकें काट कर,
अपने अपने अंदाज़ से पहनते हैं वक़्त लेकिन
जो मैं ने काटी थी थान से एक क़मीज़
वो तंग हो रही है”

कभी कभी इस पिघलते लोहे की गर्म भट्टी में काम करते,
ठिठुरने लगता है ये बदन जैसे सख़्त सर्दी में भुन रहा हो,
बुख़ार रहता है कुछ दिनों से

मगर ये सतरें बड़ी अजब हैं
कहीं तवाज़ुन बिगड़ गया है
या कोई सीवन उधड़ गई है:
”फ़रार हूँ मैं कई दिनों से
जो घुप-अँधेरे की तीर जैसी सुरंग एक कान से
शुरूअ हो के दूसरे कान तक गई है,
मैं उस नली में छुपा हुआ हूँ,
तुम आ के तिनके से मुझ को बाहर निकाल लेना

”कोई नहीं आएगा ये कीड़े निकालने अब
कि उन को तो शहर में धुआँ दे के मारा जाता है नालियों में” !! -गुलज़ार नज़्म

 

Subah Subah Ek Khwab Ki Dastak Par Darwaza Khula Dekha..

Subah Subah Ek Khwab Ki Dastak Par Darwaza Khula Dekha.. { Dastak – Gulzar’s Nazm }

Subah subah ek khwab ki dastak par darwaza khula dekha

Subah subah ek khwab ki dastak par darwaza khula dekha
Sarhad ke us par se kuch mehman aaye hain
Aankhon se manus the sare
Chehre sare sune sunaye
Panv dhoye haath dhulaye
Aangan mein aasan lagwaye
Aur tandur pe makki ke kuch mote mote rot pakaye
Potli mein mehman mere
Pichhle salon ki faslon ka gud laye the

Aankh khuli to dekha ghar mein koi nahi tha
Haath laga kar dekha to tandur abhi tak bujha nahi tha
Aur honton par mithe gud ka zaiqa ab tak chipak raha tha

Khwab tha shayad !

Khwab hi hoga !!

Sarhad par kal raat suna hai chali thi goli
Sarhad par kal raat suna hai
Kuch khwabon ka khun hua hai.

Subah subah ek khwab ki dastak par darwaza khula dekha. !! -Gulzar’s Nazm

सुबह सुबह एक ख़्वाब की दस्तक पर दरवाज़ा खुला देखा
सरहद के उस पार से कुछ मेहमान आए हैं
आँखों से मानूस थे सारे
चेहरे सारे सुने सुनाए
पाँव धोए हाथ धुलाए
आँगन में आसन लगवाए
और तंदूर पे मक्की के कुछ मोटे मोटे रोट पकाए
पोटली में मेहमान मेरे
पिछले सालों की फ़सलों का गुड़ लाए थे

आँख खुली तो देखा घर में कोई नहीं था
हाथ लगा कर देखा तो तंदूर अभी तक बुझा नहीं था
और होंटों पर मीठे गुड़ का ज़ाइक़ा अब तक चिपक रहा था

ख़्वाब था शायद!

ख़्वाब ही होगा!!

सरहद पर कल रात सुना है चली थी गोली
सरहद पर कल रात सुना है
कुछ ख़्वाबों का ख़ून हुआ है

सुबह सुबह एक ख़्वाब की दस्तक पर दरवाज़ा खुला देखा.. !! -गुलज़ार नज़्म

Subscribe Us On Youtube Channel For Watch Latest Ghazal, Urdu Poetry, Hindi Shayari Video ! Click Here

 

 

Tinka Tinka Kante Tode Sari Raat Katai Ki..

Tinka Tinka Kante Tode Sari Raat Katai Ki.. Gulzar Poetry !

Tinka tinka kante tode sari raat katai ki,
Kyun itni lambi hoti hai chandni raat judai ki.

Neend mein koi apne aap se baaten karta rahta hai,
Kal-kunen mein gunjti hai aawaz kisi saudai ki.

Sine mein dil ki aahat jaise koi jasus chale,
Har saye ka pichha karna aadat hai harjai ki.

Aankhon aur kanon mein kuch sannate se bhar jate hain,
Kya tum ne udti dekhi hai ret kabhi tanhaai ki.

Taaron ki raushan faslen aur chaand ki ek daranti thi,
Sahu ne girwi rakh li thi meri raat katai ki. !! -Gulzar Poetry

तिनका तिनका काँटे तोड़े सारी रात कटाई की,
क्यूँ इतनी लम्बी होती है चाँदनी रात जुदाई की !

नींद में कोई अपने आप से बातें करता रहता है,
काल-कुएँ में गूँजती है आवाज़ किसी सौदाई की !

सीने में दिल की आहट जैसे कोई जासूस चले,
हर साए का पीछा करना आदत है हरजाई की !

आँखों और कानों में कुछ सन्नाटे से भर जाते हैं,
क्या तुम ने उड़ती देखी है रेत कभी तन्हाई की !

तारों की रौशन फ़सलें और चाँद की एक दरांती थी,
साहू ने गिरवी रख ली थी मेरी रात कटाई की !! -गुलज़ार कविता

 

Os Padi Thi Raat Bahut Aur Kohra Tha Garmaish Par..

Os Padi Thi Raat Bahut Aur Kohra Tha Garmaish Par.. Gulzar Poetry !

Os padi thi raat bahut aur kohra tha garmaish par,
Saili si khamoshi mein aawaz suni farmaish par.

Fasle hain bhi aur nahi bhi napa taula kuch bhi nahi,
Log ba-zid rahte hain phir bhi rishton ki paimaish par.

Munh moda aur dekha kitni dur khade the hum donon,
Aap lade the hum se bas ek karwat ki gunjaish par.

Kaghaz ka ek chaand laga kar raat andheri khidki par,
Dil mein kitne khush the apni furqat ki aaraish par.

Dil ka hujra kitni bar ujda bhi aur basaya bhi,
Sari umar kahan thahra hai koi ek rihaish par.

Dhoop aur chhanv bant ke tum ne aangan mein diwar chuni,
Kya itna aasan hai zinda rahna is aasaish par.

Shayad tin nujumi meri maut pe aa kar pahunchenge,
Aisa hi ek bar hua tha isa ki paidaish par. !! -Gulzar Poetry

ओस पड़ी थी रात बहुत और कोहरा था गर्माइश पर,
सैली सी ख़ामोशी में आवाज़ सुनी फ़रमाइश पर !

फ़ासले हैं भी और नहीं भी नापा तौला कुछ भी नहीं,
लोग ब-ज़िद रहते हैं फिर भी रिश्तों की पैमाइश पर !

मुँह मोड़ा और देखा कितनी दूर खड़े थे हम दोनों,
आप लड़े थे हम से बस एक करवट की गुंजाइश पर !

काग़ज़ का एक चाँद लगा कर रात अँधेरी खिड़की पर,
दिल में कितने ख़ुश थे अपनी फ़ुर्क़त की आराइश पर !

दिल का हुज्रा कितनी बार उजड़ा भी और बसाया भी,
सारी उम्र कहाँ ठहरा है कोई एक रिहाइश पर !

धूप और छाँव बाँट के तुम ने आँगन में दीवार चुनी,
क्या इतना आसान है ज़िंदा रहना इस आसाइश पर !

शायद तीन नुजूमी मेरी मौत पे आ कर पहुँचेंगे,
ऐसा ही एक बार हुआ था ईसा की पैदाइश पर !! -गुलज़ार कविता