Wednesday , June 16 2021

Poetry Types Qafile

Hausle Zindagi Ke Dekhte Hain..

Hausle Zindagi Ke Dekhte Hain.. Rahat Indori Shayari !

Hausle zindagi ke dekhte hain,
Chaliye kuch roz ji ke dekhte hain.

Nind pichhli sadi ki zakhmi hai,
Khwaab agli sadi ke dekhte hain.

Rose hum ek andheri dhund ke par,
Qafile raushni ke dekhte hain.

Dhoop itni karahti kyun hai,
Chhanv ke zakhm si ke dekhte hain.

Tuktuki bandh li hai aankhon ne,
Raste wapsi ke dekhte hain.

Paniyon se to pyas bujhti nahi,
Aaiye zahar pi ke dekhte hain. !!

हौसले ज़िंदगी के देखते हैं,
चलिए कुछ रोज़ जी के देखते हैं !

नींद पिछली सदी की ज़ख़्मी है,
ख़्वाब अगली सदी के देखते हैं !

रोज़ हम एक अँधेरी धुँद के पार,
क़ाफ़िले रौशनी के देखते हैं !

धूप इतनी कराहती क्यूँ है,
छाँव के ज़ख़्म सी के देखते हैं !

टुकटुकी बाँध ली है आँखों ने,
रास्ते वापसी के देखते हैं !

पानियों से तो प्यास बुझती नहीं,
आइए ज़हर पी के देखते हैं !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Is Taraf Se Guzre The Qafile Bahaaron Ke..

Is taraf se guzre the qafile bahaaron ke,
Aaj tak sulagte hain zakhm rahguzaron ke.

Khalwaton ke shaidai khalwaton mein khulte hain,
Hum se puchh kar dekho raaz parda-daron ke.

Gesuon ki chhanw mein dil-nawaz chehre hain,
Ya hasin dhundlakon mein phool hain bahaaron ke.

Pahle hans ke milte hain phir nazar churaate hain,
Aashna-sifat hain log ajnabi dayaron ke.

Tum ne sirf chaha hai hum ne chhu ke dekhe hain,
Pairahan ghataon ke jism barq-paron ke.

Shughl-e-mai-parasti go jashn-e-na-muradi tha,
Yun bhi kat gaye kuch din tere sogwaron ke. !!

इस तरफ़ से गुज़रे थे क़ाफ़िले बहारों के,
आज तक सुलगते हैं ज़ख़्म रहगुज़ारों के !

ख़ल्वतों के शैदाई ख़ल्वतों में खुलते हैं,
हम से पूछ कर देखो राज़ पर्दा-दारों के !

गेसुओं की छाँव में दिल-नवाज़ चेहरे हैं,
या हसीं धुँदलकों में फूल हैं बहारों के !

पहले हँस के मिलते हैं फिर नज़र चुराते हैं,
आश्ना-सिफ़त हैं लोग अजनबी दयारों के !

तुम ने सिर्फ़ चाहा है हम ने छू के देखे हैं,
पैरहन घटाओं के जिस्म बर्क़-पारों के !

शुग़्ल-ए-मय-परस्ती गो जश्न-ए-ना-मुरादी था,
यूँ भी कट गए कुछ दिन तेरे सोगवारों के !! -Sahir Ludhianvi Ghazal

 

 

Jab Tere Nain Muskuraate Hain..

Jab tere nain muskuraate hain,
Zist ke ranj bhul jate hain.

Kyun shikan dalte ho mathe par,
Bhul kar aa gaye hain jate hain.

Kashtiyan yun bhi dub jati hain,
Nakhuda kis liye daraate hain.

Ek hasin aankh ke ishaare par,
Qafile rah bhul jate hain. !!

जब तेरे नैन मुस्कुराते हैं,
ज़ीस्त के रंज भूल जाते हैं !

क्यूँ शिकन डालते हो माथे पर,
भूल कर आ गए हैं जाते हैं !

कश्तियाँ यूँ भी डूब जाती हैं,
नाख़ुदा किस लिए डराते हैं !

एक हसीं आँख के इशारे पर,
क़ाफ़िले राह भूल जाते हैं !!

-Abdul Hamid Adam Ghazal / Poetry

 

Aagahi Mein Ek Khala Maujud Hai..

Aagahi mein ek khala maujud hai,
Is ka matlab hai khuda maujud hai.

Hai yaqinan kuch magar wazh nahi,
Aap ki aankhon mein kya maujud hai.

Baankpan mein aur koi shayy nahi,
Sadgi ki inteha maujud hai.

Hai mukammal baadshahi ki dalil,
Ghar mein gar ek boriya maujud hai.

Shauqiya koi nahi hota ghalat,
Is mein kuchh teri raza maujud hai.

Is liye tanha hun main garm-e safar,
Qafile mein rahnuma maujud hai.

Har mohabbat ki bina hai chashni,
Har lagan mein muddaa maujud hai.

Har jagah, har shehar, har iqlim mein
Dhoom hai us ki jo na-maujud hai.

Jis se chhupna chahta hun main “Adam“,
Wo sitamgar ja-ba-ja maujud hai. !!

आगाही में एक खला मौजूद है,
इस का मतलब है खुदा मौजूद है !

है यक़ीनन कुछ मगर वज़ह नहीं,
आप की आँखों में क्या मौजूद है !

बांकपन में और कोई श्रेय नहीं,
सादगी की इन्तहा मौजूद है !

है मुकम्मल बादशाही की दलील,
घर में गर एक बुढ़िया मौजूद है !

शौक़िया कोई नहीं होता ग़लत,
इस में कुछ तेरी रज़ा मौजूद है !

इस लिए तनहा हूँ मैं गर्म-ए सफर,
काफिले में रहनुमा मौजूद है !

हर मोहब्बत की बिना है चाश्नी,
हर लगन में मुद्दा मौजूद है !

हर जगह, हर शहर, हर इक़लीम में,
धूम है उस की जो न-मौजूद है !

जिस से छुपना चाहता हूँ मैं “अदम“,
वो सितमगर जा-बा-जा मौजूद है !!

 

Suna Karo Meri Jaan In Se Un Se Afsaane

Suna karo meri jaan in se un se afsaane,
Sab ajnabi hain yahan kaun kis ko pehchane.

Yahan se jald guzar jao qafile walo,
Hain meri pyas ke phunke hue ye virane.

Meri junun-e-parastish se tang aa gaye log,
Suna hai band kiye ja rahe hain but-khane.

Jahan se pichhle pehar koi tishna-kaam utha,
Wahin pe tode hain yaron ne aaj paimane.

Bahar aaye to mera salam keh dena,
Mujhe to aaj talab kar liya hai sahra ne.

Hua hai hukm ki “kaifi” ko sangsar karo,
Masih baithe hain chhup ke kahan khuda jaane. !!

सुना करो मेरी जान इन से उन से अफ़्साने,
सब अजनबी हैं यहाँ कौन किस को पहचाने !

यहाँ से जल्द गुज़र जाओ क़ाफ़िले वालो,
हैं मेरी प्यास के फूँके हुए ये वीराने !

मेरी जुनून-ए-परस्तिश से तंग आ गए लोग,
सुना है बंद किए जा रहे हैं बुत-ख़ाने !

जहाँ से पिछले पहर कोई तिश्ना-काम उठा,
वहीं पे तोड़े हैं यारों ने आज पैमाने !

बहार आए तो मेरा सलाम कह देना,
मुझे तो आज तलब कर लिया है सहरा ने !

हुआ है हुक्म कि “कैफ़ी” को संगसार करो,
मसीह बैठे हैं छुप के कहाँ ख़ुदा जाने !!

 

Jo Wo Mere Na Rahe Main Bhi Kab Kisi Ka Raha..

Jo wo mere na rahe main bhi kab kisi ka raha,
Bichhad ke un se saliqa na zindagi ka raha.

Labon se ud gaya jugnu ki tarah naam us ka,
Sahaara ab mere ghar mein na raushni ka raha.

Guzarne ko to hazaron hi qafile guzre,
Zameen pe naqsh-e-qadam bas kisi-kisi ka raha. !!

जो वो मेरे न रहे मैं भी कब किसी का रहा,
बिछड़ के उन से सलीक़ा न ज़िंदगी का रहा !

लबों से उड़ गया जुगनू की तरह नाम उस का,
सहारा अब मेरे घर में न रौशनी का रहा !

गुज़रने को तो हज़ारों ही क़ाफ़िले गुज़रे,
ज़मीन पे नक़्श-ए-क़दम बस किसी-किसी का रहा !!

-Kaifi Azmi Ghazal / Poetry