Tuesday , August 3 2021

Poetry Types Qabr

Char Tinke Utha Ke Jangal Se..

Char Tinke Utha Ke Jangal Se.. { Khana-Ba-Dosh – Gulzar Nazm } !

Char tinke utha ke jangal se
Ek baali anaj ki le kar
Chand qatre bilakte ashkon ke
Chand faqe bujhe hue lab par
Mutthi bhar apni qabr ki mitti
Mutthi bhar aarzuon ka gara
Ek tamir ki, liye hasrat
Tera khana-ba-dosh be-chaara
Shehar mein dar-ba-dar bhatakta hai

Tera kandha mile to sar tekun. !! -Gulzar Nazm

चार तिनके उठा के जंगल से
एक बाली अनाज की ले कर
चंद क़तरे बिलकते अश्कों के
चंद फ़ाक़े बुझे हुए लब पर
मुट्ठी भर अपनी क़ब्र की मिट्टी
मुट्ठी भर आरज़ूओं का गारा
एक तामीर की, लिए हसरत
तेरा ख़ाना-ब-दोश बे-चारा
शहर में दर-ब-दर भटकता है

तेरा कांधा मिले तो सर टेकूँ !! -गुलज़ार नज़्म

 

Tum Ne Bimar-E-Mohabbat Ko Abhi Kya Dekha..

Tum Ne Bimar-E-Mohabbat Ko Abhi Kya Dekha.. Akbar Allahabadi Poetry

Tum ne bimar-e-mohabbat ko abhi kya dekha,
Jo ye kahte hue jate ho ki dekha dekha.

Tifl-e-dil ko mere kya jaane lagi kis ki nazar,
Main ne kambakht ko do din bhi na achchha dekha.

Le gaya tha taraf-e-gor-e-ghariban dil-e-zar,
Kya kahen tum se jo kuch wan ka tamasha dekha.

Wo jo the raunaq-e-abaadi-e-gulzar-e-jahan,
Sar se pa tak unhen khak-e-rah-e-sahra dekha.

Kal talak mehfil-e-ishrat mein jo the sadr-nashin,
Qabr mein aaj unhen be-kas-o-tanha dekha.

Bas-ki nairangi-e-alam pe use hairat thi,
Aaina khak-e-sikandar ko sarapa dekha.

Sar-e-jamshed ke kase mein bhari thi hasrat,
Yas ko moatakif-e-turbat-e-dara dekha. !!

-Akbar Allahabadi Poetry / Ghazals

 

Haseeno Ke Gale Se Lagti Hai Zanjeer Sone Ki..

Haseeno Ke Gale Se Lagti Hai Zanjeer Sone Ki.. Akbar Allahabadi Poetry

Haseeno ke gale se lagti hai zanjeer sone ki,
Nazar aati hai kya chamki hui taqdir sone ki.

Na dil aata hai qabu mein na nind aati hai aankhon mein,
Shab-e-furqat mein kyun kar ban pade tadbir sone ki.

Yahan bedariyon se khun-e-dil aankhon mein aata hai,
Gulaabi karti hai aankhon ko wan tasir sone ki.

Bahut bechain hun nind aa rahi hai raat jati hai,
Khuda ke waste jald ab karo tadbir sone ki.

Ye zarda cheez hai jo har jagah hai bais-e-shaukat,
Suni hai aalam-e-baala mein bhi tamir sone ki.

Zarurat kya hai rukne ki mere dil se nikalta rah,
Hawas mujh ko nahi aye nala-e-shab-gir sone ki.

Chhapar-khat yan jo sone ki banai is se kya hasil,
Karo aye ghafilo kuch qabr mein tadbir sone ki. !!

-Akbar Allahabadi Poetry / Ghazals

 

Falsafi Ko Behas Ke Andar Khuda Milta Nahi

Falsafi ko behas ke andar khuda milta nahi,
Dor ko suljha raha hai aur sira milta nahi.

Marifat khaliq ki aalam mein bahut dushwar hai,
Shehar-e-tan mein jab ki khud apna pata milta nahi.

Ghafilon ke lutf ko kafi hai duniyawi khushi,
Aaqilon ko be-gham-e-uqba maza milta nahi.

Kashti-e-dil ki ilahi bahr-e-hasti mein ho khair,
Nakhuda milte hain lekin ba-khuda milta nahi.

Ghafilon ko kya sunaun dastan-e-ishq-e-yar,
Sunne wale milte hain dard-ashna milta nahi.

Zindagani ka maza milta tha jin ki bazm mein,
Un ki qabron ka bhi ab mujh ko pata milta nahi.

Sirf zahir ho gaya sarmaya-e-zeb-o-safa,
Kya tajjub hai jo baatin ba-safa milta nahi.

Pukhta tabaon par hawadis ka nahi hota asar,
Kohsaron mein nishan-e-naqsh-e-pa milta nahi.

Shaikh-sahib barhaman se lakh barten dosti,
Be-bhajan gaye to mandir se tika milta nahi.

Jis pe dil aaya hai wo shirin-ada milta nahi,
Zindagi hai talkh jine ka maza milta nahi.

Log kahte hain ki bad-nami se bachna chahiye,
Keh do be us ke jawani ka maza milta nahi.

Ahl-e-zahir jis qadar chahen karen bahs-o-jidal,
Main ye samjha hun khudi mein to khuda milta nahi.

Chal base wo din ki yaron se bhari thi anjuman,
Haye afsos aaj surat-ashna milta nahi.

Manzil-e-ishq-o-tawakkul manzil-e-ezaz hai,
Shah sab baste hain yan koi gada milta nahi.

Bar taklifon ka mujh par bar-e-ehsan se hai sahl,
Shukr ki ja hai agar hajat-rawa milta nahi.

Chandni raaten bahaar apni dikhati hain to kya,
Be tere mujh ko to lutf aye mah-laqa milta nahi.

Mani-e-dil ka kare izhaar “Akbar” kis tarah,
Lafz mauzun bahr-e-kashf-e-mudda milta nahi. !!

फ़लसफ़ी को बहस के अंदर ख़ुदा मिलता नहीं,
डोर को सुलझा रहा है और सिरा मिलता नहीं !

मारिफ़त ख़ालिक़ की आलम में बहुत दुश्वार है,
शहर-ए-तन में जब कि ख़ुद अपना पता मिलता नहीं !

ग़ाफ़िलों के लुत्फ़ को काफ़ी है दुनियावी ख़ुशी,
आक़िलों को बे-ग़म-ए-उक़्बा मज़ा मिलता नहीं !

कश्ती-ए-दिल की इलाही बहर-ए-हस्ती में हो ख़ैर,
नाख़ुदा मिलते हैं लेकिन बा-ख़ुदा मिलता नहीं !

ग़ाफ़िलों को क्या सुनाऊँ दास्तान-ए-इश्क़-ए-यार,
सुनने वाले मिलते हैं दर्द-आश्ना मिलता नहीं !

ज़िंदगानी का मज़ा मिलता था जिन की बज़्म में,
उन की क़ब्रों का भी अब मुझ को पता मिलता नहीं !

सिर्फ़ ज़ाहिर हो गया सरमाया-ए-ज़ेब-ओ-सफ़ा,
क्या तअज्जुब है जो बातिन बा-सफ़ा मिलता नहीं !

पुख़्ता तबओं पर हवादिस का नहीं होता असर,
कोहसारों में निशान-ए-नक़्श-ए-पा मिलता नहीं !

शैख़-साहिब बरहमन से लाख बरतें दोस्ती,
बे-भजन गाए तो मंदिर से टिका मिलता नहीं !

जिस पे दिल आया है वो शीरीं-अदा मिलता नहीं,
ज़िंदगी है तल्ख़ जीने का मज़ा मिलता नहीं !

लोग कहते हैं कि बद-नामी से बचना चाहिए,
कह दो बे उस के जवानी का मज़ा मिलता नहीं !

अहल-ए-ज़ाहिर जिस क़दर चाहें करें बहस-ओ-जिदाल,
मैं ये समझा हूँ ख़ुदी में तो ख़ुदा मिलता नहीं !

चल बसे वो दिन कि यारों से भरी थी अंजुमन,
हाए अफ़्सोस आज सूरत-आश्ना मिलता नहीं !

मंज़िल-ए-इशक़-ओ-तवक्कुल मंज़िल-ए-एज़ाज़ है,
शाह सब बस्ते हैं याँ कोई गदा मिलता नहीं !

बार तकलीफों का मुझ पर बार-ए-एहसाँ से है सहल,
शुक्र की जा है अगर हाजत-रवा मिलता नहीं !

चाँदनी रातें बहार अपनी दिखाती हैं तो क्या,
बे तेरे मुझ को तो लुत्फ़ ऐ मह-लक़ा मिलता नहीं !

मानी-ए-दिल का करे इज़हार “अकबर” किस तरह,
लफ़्ज़ मौज़ूँ बहर-ए-कश्फ़-ए-मुद्दआ मिलता नहीं !!

 

Parakhna Mat Parakhne Mein Koi Apna Nahi Rahta

Parakhna mat parakhne mein koi apna nahi rahta,
Kisi bhi aaine mein der tak chehra nahi rahta.

Bade logon se milne mein hamesha fasla rakhna,
Jahan dariya samandar me mile dariya nahi rahta.

Hazaron sher mere so gaye kaghaz ki qabron mein,
Ajab maa hun koi baccha mera zinda nahi rahta.

Tumhara shehar to bilkul naye andaz wala hai,
Humare shehar mein bhi koi hum sa nahi rahta.

Mohabbat ek khushbu hai hamesha sath chalti hai,
Koi insan tanhai mein bhi tanha nahi rahta.

Koi badal hare mausam ka phir elaan karta hai,
Khizan ke baagh mein jab ek bhi patta nahi rahta. !!

परखना मत परखने में कोई अपना नहीं रहता,
किसी भी आईने में देर तक चेहरा नहीं रहता !

बडे लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना,
जहां दरिया समन्दर में मिले दरिया नहीं रहता !

हजारों शेर मेरे सो गये कागज की कब्रों में,
अजब मां हूं कोई बच्चा मेरा ज़िन्दा नहीं रहता !

तुम्हारा शहर तो बिल्कुल नये अन्दाज वाला है,
हमारे शहर में भी अब कोई हम सा नहीं रहता !

मोहब्बत एक खुशबू है हमेशा साथ रहती है,
कोई इन्सान तन्हाई में भी कभी तन्हा नहीं रहता !

कोई बादल हरे मौसम का फ़िर ऐलान करता है,
ख़िज़ा के बाग में जब एक भी पत्ता नहीं रहता !! -Bashir Badr Ghazal

 

Main Lakh Kah Dun Ki Aakash Hun Zamin Hun Main..

Main lakh kah dun ki aakash hun zamin hun main,
Magar use to khabar hai ki kuch nahin hun main.

Ajib log hain meri talash mein mujh ko,
Wahan pe dhund rahe hain jahan nahin hun main.

Main aainon se to mayus laut aaya tha,
Magar kisi ne bataya bahut hasin hun main.

Wo zarre zarre mein maujud hai magar main bhi,
Kahin kahin hun kahan hun kahin nahin hun main.

Wo ek kitab jo mansub tere naam se hai,
Usi kitab ke andar kahin kahin hun main.

Sitaro aao meri raah mein bikhar jao,
Ye mera hukm hai haalanki kuch nahi hun main.

Yahin husain bhi guzre yahin yazid bhi tha,
Hazar rang mein dubi hui zamin hun main.

Ye budhi qabren tumhein kuch nahin batayengi,
Mujhe talash karo doston yahin hun main. !!

मैं लाख कह दूँ कि आकाश हूँ ज़मीं हूँ मैं,
मगर उसे तो ख़बर है कि कुछ नहीं हूँ मैं !

अजीब लोग हैं मेरी तलाश में मुझ को,
वहाँ पे ढूँड रहे हैं जहाँ नहीं हूँ मैं !

मैं आइनों से तो मायूस लौट आया था,
मगर किसी ने बताया बहुत हसीं हूँ मैं !

वो ज़र्रे ज़र्रे में मौजूद है मगर मैं भी,
कहीं कहीं हूँ कहाँ हूँ कहीं नहीं हूँ मैं !

वो इक किताब जो मंसूब तेरे नाम से है,
उसी किताब के अंदर कहीं कहीं हूँ मैं !

सितारो आओ मिरी राह में बिखर जाओ,
ये मेरा हुक्म है हालाँकि कुछ नहीं हूँ मैं !

यहीं हुसैन भी गुज़रे यहीं यज़ीद भी था,
हज़ार रंग में डूबी हुई ज़मीं हूँ मैं !

ये बूढ़ी क़ब्रें तुम्हें कुछ नहीं बताएँगी,
मुझे तलाश करो दोस्तो यहीं हूँ मैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Main Dil Pe Jabr Karunga Tujhe Bhula Dunga..

Main dil pe jabr karunga tujhe bhula dunga,
Marunga khud bhi tujhe bhi kadi saza dunga.

Ye tirgi mere ghar ka hi kyun muqaddar ho,
Main tere shehar ke sare diye bujha dunga.

Hawa ka hath bataunga har tabahi mein,
Hare shajar se parinde main khud uda dunga.

Wafa karunga kisi sogwar chehre se,
Purani qabr pe katba naya saja dunga.

Isi khayal mein guzri hai sham-e-dard akasr,
Ki dard had se badhega to muskura dunga.

Tu aasman ki surat hai gar padega kabhi,
Zamin hun main bhi magar tujh ko aasra dunga.

Badha rahi hain mere dukh nishaniyan teri,
Main tere khat teri taswir tak jala dunga.

Bahut dinon se mera dil udas hai “Mohsin“,
Is aaine ko koi aks ab naya dunga. !!

मैं दिल पे जब्र करूँगा तुझे भुला दूँगा,
मरूँगा ख़ुद भी तुझे भी कड़ी सज़ा दूँगा !

ये तीरगी मेरे घर का ही क्यूँ मुक़द्दर हो,
मैं तेरे शहर के सारे दिए बुझा दूँगा !

हवा का हाथ बटाऊँगा हर तबाही में,
हरे शजर से परिंदे मैं ख़ुद उड़ा दूँगा !

वफ़ा करूँगा किसी सोगवार चेहरे से,
पुरानी क़ब्र पे कतबा नया सजा दूँगा !

इसी ख़याल में गुज़री है शाम-ए-दर्द अक्सर,
कि दर्द हद से बढ़ेगा तो मुस्कुरा दूँगा !

तू आसमान की सूरत है गर पड़ेगा कभी,
ज़मीं हूँ मैं भी मगर तुझ को आसरा दूँगा !

बढ़ा रही हैं मेरे दुख निशानियाँ तेरी,
मैं तेरे ख़त तेरी तस्वीर तक जला दूँगा !

बहुत दिनों से मेरा दिल उदास है “मोहसिन“,
इस आइने को कोई अक्स अब नया दूँगा !!

 

Munawwar Rana “Maa” Part 3

1.
Ab dekhiye kaun aaye janaze ko uthane,
Yun taar to mere sabhi beton ko milega.

अब देखिये कौन आए जनाज़े को उठाने,
यूँ तार तो मेरे सभी बेटों को मिलेगा !

2.
Ab andhera mustaqil rehta hai is dehleez par,
Jo humari muntazir rehti thi aankhen bujh gayi.

अब अँधेरा मुस्तक़िल रहता है इस दहलीज़ पर,
जो हमारी मुन्तज़िर रहती थीं आँखें बुझ गईं !

3.
Agar kisi ki dua mein asar nahi hota,
To mere paas se kyon teer aa ke laut gaya.

अगर किसी की दुआ में असर नहीं होता,
तो मेरे पास से क्यों तीर आ के लौट गया !

4.
Abhi zinda hai Maa meri mujhe kuch bhi nahi hoga,
Main jab ghar se nikalta hun dua bhi saath chalti hai.

अभी ज़िन्दा है माँ मेरी मुझे कु्छ भी नहीं होगा,
मैं जब घर से निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है !

5.
Kahin benoor na ho jayen wo budhi aankhen,
Ghar mein darte the khabar bhi mere bhai dete.

कहीं बे्नूर न हो जायें वो बूढ़ी आँखें,
घर में डरते थे ख़बर भी मेरे भाई देते !

6.
Kya jane kahan hote mere phool-se bachche,
Wirse mein agar maa ki dua bhi nahi milti.

क्या जाने कहाँ होते मेरे फूल-से बच्चे,
विरसे में अगर माँ की दुआ भी नहीं मिलती !

7.
Kuch nahi hoga to aanchal mein chhupa legi mujhe,
Maa kabhi sar pe khuli chhat nahi rahne degi.

कुछ नहीं होगा तो आँचल में छुपा लेगी मुझे,
माँ कभी सर पे खुली छत नहीं रहने देगी !

8.
Kadamon mein laa ke daal di sab nematen magar,
Sauteli Maa ko bachche se nafarat wahi rahi.

क़दमों में ला के डाल दीं सब नेमतें मगर,
सौतेली माँ को बच्चे से नफ़रत वही रही !

9.
Dhnsati hui qabron ki taraf dekh liya tha,
Maa-Baap ke chehron ki taraf dekh liya tha.

धँसती हुई क़ब्रों की तरफ़ देख लिया था,
माँ बाप के चेहरों की तरफ़ देख लिया था !

10.
Koi dukhi ho kabhi kehna nahi padta uss se,
Wo zaroorat ko talabagaar se pehchanta hai.

कोई दुखी हो कभी कहना नहीं पड़ता उससे,
वो ज़रूरत को तलबगार से पहचानता है !

11.
Kisi ko dekh kar rote hue hansna nahi achha,
Ye wo aansoo hain jinse takhte-sultaani palatata hai.

किसी को देख कर रोते हुए हँसना नहीं अच्छा,
ये वो आँसू हैं जिनसे तख़्ते-सुल्तानी पलटता है !

12.
Din bhar ki mashkkat se badan chur hain lekin,
Maa ne mujhe dekha to thakan bhool gayi.

दिन भर की मशक़्क़त से बदन चूर है लेकिन,
माँ ने मुझे देखा तो थकन भूल गई है !

13.
Duayen Maa ki pahunchane ko milon meel jati hain.
Ki jab pardesh jane ke liye beta nikalata hai,

दुआएँ माँ की पहुँचाने को मीलों मील जाती हैं,
कि जब परदेस जाने के लिए बेटा निकलता है !

14.
Diya hai Maa ne mujhe dudh bhi wajoo karke,
Mahaaze-jang se main laut kar na jaunga.

दिया है माँ ने मुझे दूध भी वज़ू करके,
महाज़े-जंग से मैं लौट कर न जाऊँगा !

15.
Khilaunon ki taraf bachhe ko Maa jane nahi deti,
Magar aage khilono ki dukaan jane nahi deti.

खिलौनों की तरफ़ बच्चे को माँ जाने नहीं देती,
मगर आगे खिलौनों की दुकाँ जाने नहीं देती !

16.
Dikhate hai padosi mulk aankhen to dikhane do,
Kahin bachhon ke bose se bhi Maa ka gaal katata hai.

दिखाते हैं पड़ोसी मुल्क आँखें तो दिखाने दो,
कहीं बच्चों के बोसे से भी माँ का गाल कटता है !

17.
Bahan ka pyar Maa ki mamta do chikhti aankhen,
Yahi tohafein the wo jinko main aksar yaad karta tha.

बहन का प्यार माँ की मामता दो चीखती आँखें,
यही तोहफ़े थे वो जिनको मैं अक्सर याद करता था !

18.
Barbaad kar diya humen pardesh ne magar,
Maa sabse keh rahi hai ki beta maje mein hai.

बरबाद कर दिया हमें परदेस ने मगर,
माँ सबसे कह रही है कि बेटा मज़े में है !

19.
Badi bechaaragi se lauti baaraat taqte hain,
Bahadur ho ke bhi majboor hote hain dulhan wale.

बड़ी बेचारगी से लौटती बारात तकते हैं,
बहादुर हो के भी मजबूर होते हैं दुल्हन वाले !

20.
Khane ki cheezein Maa ne jo bheji hain gaon se,
Baasi bhi ho gayi hain to lazzat wahi rahi.

खाने की चीज़ें माँ ने जो भेजी हैं गाँव से,
बासी भी हो गई हैं तो लज़्ज़त वही रही !