Saturday , September 11 2021

Poetry Types Pyas

Sham Ne Jab Palkon Pe Aatish Dan Liya..

Sham Ne Jab Palkon Pe Aatish Dan Liya.. Rahat Indori Shayari !

Sham ne jab palkon pe aatish dan liya,
Kuch yaadon ne chutki mein loban liya.

Darwazon ne apni aankhen nam kar li,
Diwaron ne apna sina tan liya.

Pyas to apni sat samundar jaisi thi,
Nahaq hum ne barish ka ehsan liya.

Main ne talwon se bandhi thi chhanv magar,
Shayad mujh ko sooraj ne pahchan liya.

Kitne sukh se dharti odh ke soye hain,
Hum ne apni man ka kahna man liya. !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Ab Nahi Laut Ke Aane Wala

Ab nahi laut ke aane wala,
Ghar khula chhod ke jaane wala.

Ho gayi kuch idhar aisi baatein,
Ruk gaya roz ka aane wala.

Aks aaankhon se chura leta hai,
Ek taswir banane wala.

Lakh honton pe hansi ho lekin,
Khush nahi khush nazar aane wala.

Zad mein tufan ki aaya kaise,
Pyas sahil pe bujhane wala.

Rah gaya hai mera saya ban kar,
Mujh ko khatir mein na lane wala.

Ban gaya ham-safar aakhir “Nazmi”,
Rasta kat ke jaane wala. !!

अब नहीं लौट के आने वाला,
घर खुला छोड़ के जाने वाला !

हो गईं कुछ इधर ऐसी बातें,
रुक गया रोज़ का आने वाला !

अक्स आँखों से चुरा लेता है,
एक तस्वीर बनाने वाला !

लाख होंटों पे हँसी हो लेकिन,
ख़ुश नहीं ख़ुश नज़र आने वाला !

ज़द में तूफ़ान की आया कैसे,
प्यास साहिल पे बुझाने वाला !

रह गया है मेरा साया बन कर,
मुझ को ख़ातिर में न लाने वाला !

बन गया हम-सफ़र आख़िर “नज़्मी”,
रास्ता काट के जाने वाला !!

-Akhtar Nazmi Ghazal / Sad Poetry

 

Us Ke Dushman Hain Bahut Aadmi Achchha Hoga

Us ke dushman hain bahut aadmi achchha hoga,
Wo bhi meri hi tarah shehar mein tanha hoga.

Itna sach bol ki honton ka tabassum na bujhe,
Raushni khatm na kar aage andhera hoga.

Pyas jis nahr se takrai wo banjar nikli,
Jis ko pichhe kahin chhod aaye wo dariya hoga.

Mere bare mein koi raye to hogi us ki,
Us ne mujh ko bhi kabhi tod ke dekha hoga.

Ek mehfil mein kai mehfilen hoti hain sharik,
Jis ko bhi pas se dekhoge akela hoga. !!

उस के दुश्मन हैं बहुत आदमी अच्छा होगा,
वो भी मेरी ही तरह शहर में तन्हा होगा !

इतना सच बोल कि होंटों का तबस्सुम न बुझे,
रौशनी ख़त्म न कर आगे अँधेरा होगा !

प्यास जिस नहर से टकराई वो बंजर निकली,
जिस को पीछे कहीं छोड़ आए वो दरिया होगा !

मेरे बारे में कोई राय तो होगी उस की,
उस ने मुझ को भी कभी तोड़ के देखा होगा !

एक महफ़िल में कई महफ़िलें होती हैं शरीक,
जिस को भी पास से देखोगे अकेला होगा !!

-Nida Fazli Ghazal / Sad Poetry

 

Suna Karo Meri Jaan In Se Un Se Afsaane

Suna karo meri jaan in se un se afsaane,
Sab ajnabi hain yahan kaun kis ko pehchane.

Yahan se jald guzar jao qafile walo,
Hain meri pyas ke phunke hue ye virane.

Meri junun-e-parastish se tang aa gaye log,
Suna hai band kiye ja rahe hain but-khane.

Jahan se pichhle pehar koi tishna-kaam utha,
Wahin pe tode hain yaron ne aaj paimane.

Bahar aaye to mera salam keh dena,
Mujhe to aaj talab kar liya hai sahra ne.

Hua hai hukm ki “kaifi” ko sangsar karo,
Masih baithe hain chhup ke kahan khuda jaane. !!

सुना करो मेरी जान इन से उन से अफ़्साने,
सब अजनबी हैं यहाँ कौन किस को पहचाने !

यहाँ से जल्द गुज़र जाओ क़ाफ़िले वालो,
हैं मेरी प्यास के फूँके हुए ये वीराने !

मेरी जुनून-ए-परस्तिश से तंग आ गए लोग,
सुना है बंद किए जा रहे हैं बुत-ख़ाने !

जहाँ से पिछले पहर कोई तिश्ना-काम उठा,
वहीं पे तोड़े हैं यारों ने आज पैमाने !

बहार आए तो मेरा सलाम कह देना,
मुझे तो आज तलब कर लिया है सहरा ने !

हुआ है हुक्म कि “कैफ़ी” को संगसार करो,
मसीह बैठे हैं छुप के कहाँ ख़ुदा जाने !!

 

Kya Jaane Kis Ki Pyas Bujhane Kidhar Gayi..

Kya jaane kis ki pyas bujhane kidhar gayi,
Is sar pe jhum ke jo ghatayen guzar gayi.

Diwana puchhta hai ye lahron se bar-bar,
Kuchh bastiyan yahan thi batao kidhar gayi.

Ab jis taraf se chahe guzar jaye carvaan,
Viraniyan to sab mere dil mein utar gayi.

Paimana tutne ka koi gham nahi mujhe,
Gham hai to ye ki chandni raatein bikhar gayi.

Paya bhi un ko kho bhi diya chup bhi ho rahe,
Ek mukhtasar si raat mein sadiyan guzar gayi. !!

क्या जाने किस की प्यास बुझाने किधर गईं,
इस सर पे झूम के जो घटाएँ गुज़र गईं !

दीवाना पूछता है ये लहरों से बार-बार,
कुछ बस्तियाँ यहाँ थीं बताओ किधर गईं !

अब जिस तरफ़ से चाहे गुज़र जाए कारवाँ,
वीरानियाँ तो सब मेरे दिल में उतर गईं !

पैमाना टूटने का कोई ग़म नहीं मुझे,
ग़म है तो ये कि चाँदनी रातें बिखर गईं !

पाया भी उन को खो भी दिया चुप भी हो रहे,
एक मुख़्तसर सी रात में सदियाँ गुज़र गईं !!

-Kaifi Azmi Ghazal / Poetry

 

Hath Khali Hain Tere Shahr Se Jate Jate..

Hath khali hain tere shahr se jate jate,
Jaan hoti to meri jaan lutate jate.

Ab to har hath ka patthar hamein pahchanta hai,
Umar guzri hai tere shahr mein aate jate.

Ab ke mayus hua yaron ko rukhsat kar ke,
Ja rahe the to koi zakhm lagate jate.

Rengne ki bhi ijazat nahi hum ko warna,
Hum jidhar jate naye phool khilate jate.

Main to jalte hue sahraon ka ek patthar tha,
Tum to dariya the meri pyas bujhate jate.

Mujh ko rone ka saliqa bhi nahi hai shayad,
Log hanste hain mujhe dekh ke aate jate.

Hum se pahle bhi musafir kayi guzre honge,
Kam se kam rah ke patthar to hatate jate. !!

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते !

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते !

अब के मायूस हुआ यारों को रुख़्सत कर के,
जा रहे थे तो कोई ज़ख़्म लगाते जाते !

रेंगने की भी इजाज़त नहीं हम को वर्ना,
हम जिधर जाते नए फूल खिलाते जाते !

मैं तो जलते हुए सहराओं का एक पत्थर था,
तुम तो दरिया थे मेरी प्यास बुझाते जाते !

मुझ को रोने का सलीक़ा भी नहीं है शायद,
लोग हँसते हैं मुझे देख के आते जाते !

हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे,
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते !!

-Rahat Indori Ghazal /Poetry