Poetry Types Phool

Kab Logon Ne Alfaz Ke Patthar Nahi Phenke

Kab logon ne alfaz ke patthar nahi phenke,
Wo khat bhi magar main ne jala kar nahi phenke.

Thahre hue pani ne ishaara to kiya tha,
Kuch soch ke khud main ne hi patthar nahi phenke.

Ek tanz hai kaliyon ka tabassum bhi magar kyun,
Main ne to kabhi phool masal kar nahi phenke.

Waise to irada nahi tauba-shikani ka,
Lekin abhi tute hue saghar nahi phenke.

Kya baat hai us ne meri taswir ke tukde,
Ghar mein hi chhupa rakkhe hain bahar nahi phenke.

Darwazon ke shishe na badalwaiye “Nazmi“,
Logon ne abhi hath se patthar nahi phenke. !!

कब लोगों ने अल्फ़ाज़ के पत्थर नहीं फेंके,
वो ख़त भी मगर मैं ने जला कर नहीं फेंके !

ठहरे हुए पानी ने इशारा तो किया था,
कुछ सोच के ख़ुद मैं ने ही पत्थर नहीं फेंके !

एक तंज़ है कलियों का तबस्सुम भी मगर क्यूँ,
मैं ने तो कभी फूल मसल कर नहीं फेंके !

वैसे तो इरादा नहीं तौबा-शिकनी का,
लेकिन अभी टूटे हुए साग़र नहीं फेंके !

क्या बात है उस ने मेरी तस्वीर के टुकड़े,
घर में ही छुपा रक्खे हैं बाहर नहीं फेंके !

दरवाज़ों के शीशे न बदलवाइए “नज़मी“,
लोगों ने अभी हाथ से पत्थर नहीं फेंके !!

 

Aaj Zara Fursat Pai Thi Aaj Use Phir Yaad Kiya

Aaj zara fursat pai thi aaj use phir yaad kiya,
Band gali ke aakhiri ghar ko khol ke phir aabaad kiya,

Khol ke khidki chand hansa phir chand ne donon hathon se,
Rang udaye phool khilaye chidiyon ko aazad kiya.

Bade bade gham khade hue the rasta roke rahon mein,
Chhoti chhoti khushiyon se hi hum ne dil ko shad kiya.

Baat bahut mamuli si thi ulajh gayi takraron mein,
Ek zara si zid ne aakhir donon ko barbaad kiya.

Danaon ki baat na mani kaam aai nadani hi,
Suna hawa ko padha nadi ko mausam ko ustad kiya. !!

आज ज़रा फ़ुर्सत पाई थी आज उसे फिर याद किया,
बंद गली के आख़िरी घर को खोल के फिर आबाद किया !

खोल के खिड़की चाँद हँसा फिर चाँद ने दोनों हाथों से,
रंग उड़ाए फूल खिलाए चिड़ियों को आज़ाद किया !

बड़े बड़े ग़म खड़े हुए थे रस्ता रोके राहों में,
छोटी छोटी ख़ुशियों से ही हम ने दिल को शाद किया !

बात बहुत मामूली सी थी उलझ गई तकरारों में,
एक ज़रा सी ज़िद ने आख़िर दोनों को बरबाद किया !

दानाओं की बात न मानी काम आई नादानी ही,
सुना हवा को पढ़ा नदी को मौसम को उस्ताद किया !!

-Nida Fazli Ghazal / Shayari

 

Bahut Pani Barasta Hai To Mitti Baith Jaati Hai

Bahut pani barasta hai to mitti baith jaati hai,
Na roya kar bahut rone se chhaati baith jaati hai.

Yhi mousam tha jab nange badan chhat par tahalte the,
Yhi mousam hai ab sine mein sardi baith jaati hai.

Chalo mana ki shahanai mohabbat ki nishani hai,
Magar wo shakhs jiski aake beti baith jaati hai.

Bade-budhe kuven mein nekiyan kyon phenk aate hain?
Kuven mein chhup ke aakhir kyon ye neki baith jaati hai.

Naqaab ulte huye gulshan se wo jab bhi gujarta hai,
Samjh ke phool uske lab pe titali baith jaati hai.

Siyaast nafraton ka zakhm bharne hi nahi deti ,
Jahan bharne pe aata hai to makkhi baith jaati hai.

Wo dushman hi sahi aawaaz de usko mohabbat se,
Saliqe se bitha kar dekh haddi baith jaati hai. !!

बहुत पानी बरसता है तो मिट्टी बैठ जाती है,
न रोया कर बहुत रोने से छाती बैठ जाती है !

यही मौसम था जब नंगे बदन छत पर टहलते थे,
यही मौसम है अब सीने में सर्दी बैठ जाती है !

चलो माना कि शहनाई मोहब्बत की निशानी है,
मगर वो शख्स जिसकी आ के बेटी बैठ जाती है !

बड़े-बूढ़े कुएँ में नेकियाँ क्यों फेंक आते हैं ?
कुएं में छुप के क्यों आखिर ये नेकी बैठ जाती है !

नक़ाब उलटे हुए गुलशन से वो जब भी गुज़रता है,
समझ के फूल उसके लब पे तितली बैठ जाती है !

सियासत नफ़रतों का ज़ख्म भरने ही नहीं देती,
जहाँ भरने पे आता है तो मक्खी बैठ जाती है !

वो दुश्मन ही सही आवाज़ दे उसको मोहब्बत से,
सलीक़े से बिठा कर देख हड्डी बैठ जाती है !!

Munawwar Rana All Poetry, Ghazal, Ishq Shayari & Nazms Collection

 

Bichhda Hai Jo Ek Bar To Milte Nahin Dekha..

Bichhda hai jo ek bar to milte nahin dekha,
Is zakhm ko hum ne kabhi silte nahin dekha.

Ek bar jise chat gayi dhup ki khwahish,
Phir shakh pe us phool ko khilte nahin dekha.

Yak-lakht gira hai to jaden tak nikal aayi,
Jis ped ko aandhi mein bhi hilte nahin dekha.

Kanton mein ghire phool ko chum aayegi lekin,
Titli ke paron ko kabhi chhilte nahin dekha.

Kis tarah meri ruh hari kar gaya aakhir,
Wo zahr jise jism mein khilte nahin dekha. !!

बिछड़ा है जो एक बार तो मिलते नहीं देखा,
इस ज़ख़्म को हम ने कभी सिलते नहीं देखा !

एक बार जिसे चाट गई धूप की ख़्वाहिश,
फिर शाख़ पे उस फूल को खिलते नहीं देखा !

यक-लख़्त गिरा है तो जड़ें तक निकल आईं,
जिस पेड़ को आँधी में भी हिलते नहीं देखा !

काँटों में घिरे फूल को चूम आएगी लेकिन,
तितली के परों को कभी छिलते नहीं देखा !

किस तरह मेरी रूह हरी कर गया आख़िर,
वो ज़हर जिसे जिस्म में खिलते नहीं देखा !!

Parveen Shakir Ghazal

 

Apni Ruswai Tere Naam Ka Charcha Dekhun..

Apni ruswai tere naam ka charcha dekhun,
Ek zara sher kahun aur main kya kya dekhun.

Nind aa jaye to kya mahfilen barpa dekhun,
Aankh khul jaye to tanhai ka sahra dekhun.

Sham bhi ho gayi dhundla gain aankhen bhi meri,
Bhulne wale main kab tak tera rasta dekhun.

Ek ek kar ke mujhe chhod gayi sab sakhiyan,
Aaj main khud ko teri yaad mein tanha dekhun.

Kash sandal se meri mang ujale aa kar,
Itne ghairon mein wahi hath jo apna dekhun.

Tu mera kuch nahi lagta hai magar jaan-e-hayat,
Jaane kyun tere liye dil ko dhdakna dekhun.

Band kar ke meri aankhen wo shararat se hanse,
Bujhe jaane ka main har roz tamasha dekhun.

Sab ziden us ki main puri karun har baat sunun,
Ek bachche ki tarah se use hansta dekhun.

Mujh pe chha jaye wo barsat ki khushbu ki tarah,
Ang ang apna isi rut mein mahakta dekhun.

Phool ki tarah mere jism ka har lab khul jaye,
Pankhudi pankhudi un honton ka saya dekhun.

Main ne jis lamhe ko puja hai use bas ek bar,
Khwab ban kar teri aankhon mein utarta dekhun.

Tu meri tarah se yakta hai magar mere habib,
Ji mein aata hai koi aur bhi tujh sa dekhun.

Tut jayen ki pighal jayen mere kachche ghade,
Tujh ko main dekhun ki ye aag ka dariya dekhun. !!

अपनी रुस्वाई तेरे नाम का चर्चा देखूँ,
एक ज़रा शेर कहूँ और मैं क्या क्या देखूँ !

नींद आ जाए तो क्या महफ़िलें बरपा देखूँ,
आँख खुल जाए तो तन्हाई का सहरा देखूँ !

शाम भी हो गई धुँदला गईं आँखें भी मेरी,
भूलने वाले मैं कब तक तेरा रस्ता देखूँ !

एक एक कर के मुझे छोड़ गईं सब सखियाँ,
आज मैं ख़ुद को तेरी याद में तन्हा देखूँ !

काश संदल से मेरी माँग उजाले आ कर,
इतने ग़ैरों में वही हाथ जो अपना देखूँ !

तू मेरा कुछ नहीं लगता है मगर जान-ए-हयात,
जाने क्यूँ तेरे लिए दिल को धड़कना देखूँ !

बंद कर के मेरी आँखें वो शरारत से हँसे,
बूझे जाने का मैं हर रोज़ तमाशा देखूँ !

सब ज़िदें उस की मैं पूरी करूँ हर बात सुनूँ,
एक बच्चे की तरह से उसे हँसता देखूँ !

मुझ पे छा जाए वो बरसात की ख़ुश्बू की तरह,
अंग अंग अपना इसी रुत में महकता देखूँ !

फूल की तरह मेरे जिस्म का हर लब खुल जाए,
पंखुड़ी पंखुड़ी उन होंटों का साया देखूँ !

मैं ने जिस लम्हे को पूजा है उसे बस एक बार,
ख़्वाब बन कर तेरी आँखों में उतरता देखूँ !

तू मेरी तरह से यकता है मगर मेरे हबीब,
जी में आता है कोई और भी तुझ सा देखूँ !

टूट जाएँ कि पिघल जाएँ मेरे कच्चे घड़े,
तुझ को मैं देखूँ कि ये आग का दरिया देखूँ !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Wo To Khushbu Hai Hawaon Mein Bikhar Jayega..

Wo to khushbu hai hawaon mein bikhar jayega,
Masla phool ka hai phool kidhar jayega.

Hum to samjhe the ki ek zakhm hai bhar jayega,
Kya khabar thi ki rag-e-jaan mein utar jayega.

Wo hawaon ki tarah khana-ba-jaan phirta hai,
Ek jhonka hai jo aayega guzar jayega.

Wo jab aayega to phir us ki rifaqat ke liye,
Mausam-e-gul mere aangan mein thahar jayega.

Aakhirash wo bhi kahin ret pe baithi hogi,
Tera ye pyar bhi dariya hai utar jayega.

Mujh ko tahzib ke barzakh ka banaya waris,
Jurm ye bhi mere ajdad ke sar jayega. !!

वो तो ख़ुशबू है हवाओं में बिखर जाएगा,
मसअला फूल का है फूल किधर जाएगा !

हम तो समझे थे कि एक ज़ख़्म है भर जाएगा,
क्या ख़बर थी कि रग-ए-जाँ में उतर जाएगा !

वो हवाओं की तरह ख़ाना-ब-जाँ फिरता है,
एक झोंका है जो आएगा गुज़र जाएगा !

वो जब आएगा तो फिर उस की रिफ़ाक़त के लिए,
मौसम-ए-गुल मेरे आँगन में ठहर जाएगा !

आख़िरश वो भी कहीं रेत पे बैठी होगी,
तेरा ये प्यार भी दरिया है उतर जाएगा !

मुझ को तहज़ीब के बर्ज़ख़ का बनाया वारिस,
जुर्म ये भी मेरे अज्दाद के सर जाएगा !!

Parveen Shakir All Poetry, Ghazal, Sad Shayari & Nazms Collection

 

Is Taraf Se Guzre The Qafile Bahaaron Ke..

Is taraf se guzre the qafile bahaaron ke,
Aaj tak sulagte hain zakhm rahguzaron ke.

Khalwaton ke shaidai khalwaton mein khulte hain,
Hum se puchh kar dekho raaz parda-daron ke.

Gesuon ki chhanw mein dil-nawaz chehre hain,
Ya hasin dhundlakon mein phool hain bahaaron ke.

Pahle hans ke milte hain phir nazar churaate hain,
Aashna-sifat hain log ajnabi dayaron ke.

Tum ne sirf chaha hai hum ne chhu ke dekhe hain,
Pairahan ghataon ke jism barq-paron ke.

Shughl-e-mai-parasti go jashn-e-na-muradi tha,
Yun bhi kat gaye kuch din tere sogwaron ke. !!

इस तरफ़ से गुज़रे थे क़ाफ़िले बहारों के,
आज तक सुलगते हैं ज़ख़्म रहगुज़ारों के !

ख़ल्वतों के शैदाई ख़ल्वतों में खुलते हैं,
हम से पूछ कर देखो राज़ पर्दा-दारों के !

गेसुओं की छाँव में दिल-नवाज़ चेहरे हैं,
या हसीं धुँदलकों में फूल हैं बहारों के !

पहले हँस के मिलते हैं फिर नज़र चुराते हैं,
आश्ना-सिफ़त हैं लोग अजनबी दयारों के !

तुम ने सिर्फ़ चाहा है हम ने छू के देखे हैं,
पैरहन घटाओं के जिस्म बर्क़-पारों के !

शुग़्ल-ए-मय-परस्ती गो जश्न-ए-ना-मुरादी था,
यूँ भी कट गए कुछ दिन तेरे सोगवारों के !! -Sahir Ludhianvi Ghazal

 

 

Main Kab Kehta Hun Woh Accha Bahut Hai..

Main kab kehta hoon woh accha bahut hai

Main kab kehta hun woh accha bahut hai,
Magar usne mujhe chaha bahut hai.

Khuda is shehar ko mehfuz rakhe,
Ye bachchon ki tarah hansta bahut hai.

Main tujhse roz milna chahta hun,
Magar is raah mein khatra bahut hai.

Mera dil baarishon mein phool jaisa,
Ye bachcha raat mein rota bahut hai.

Isey aansoo ka ek qatra na smjho,
Kuaan hai aur ye gehra bahut hai.

Usey shohrat ne tanha kar diya hai,
Samandar hai magar pyasa bahut hai.

Main ek lamhe mein sadiyan dekhta hun,
Tumhare sath ek lamha bahut hai.

Mera hansna zaruri ho gya hai,
Yahan har shakhs sanjida bahut hai. !!

मै कब कहता हूँ वो अच्छा बहुत है,
मगर उसने मुझे चाहा बहुत है !

खुदा इस शहर को महफूज़ रखे,
ये बच्चों की तरह हँसता बहुत है !

मै तुझसे रोज़ मिलना चाहता हूँ,
मगर इस राह में खतरा बहुत है !

मेरा दिल बारिशों में फूल जैसा,
ये बच्चा रात में रोता बहुत है !

इसे आंसू का एक कतरा न समझो,
कुँआ है और ये गहरा बहुत है !

उसे शोहरत ने तनहा कर दिया है,
समंदर है मगर प्यासा बहुत है !

मै एक लम्हे में सदियाँ देखता हूँ,
तुम्हारे साथ एक लम्हा बहुत है !

मेरा हँसना ज़रूरी हो गया है,
यहाँ हर शख्स संजीदा बहुत है !! -Bashir Badr Ghazal

 

Ghazlon Ka Hunar Apni Aankhon Ko Sikhayenge..

Ghazlon ka hunar apni aankhon ko sikhayenge,
Royenge bahut lekin aansoo nahi aayenge.

Keh dena samundar se hum os ke moti hain,
Dariya ki tarah tujh se milne nahi aayenge.

Wo dhup ke chhappar hon ya chhanw ki diwarein,
Ab jo bhi uthayenge mil jul ke uthayenge.

Jab sath na de koi aawaz hamein dena,
Hum phool sahi lekin patthar bhi uthayenge. !!

ग़ज़लों का हुनर अपनी आँखों को सिखाएंगे,
रोयेंगे बहुत लेकिन आंसू नहीं आयेंगे !

कह देना समंदर से हम ओस के मोती है,
दरिया कि तरह तुझ से मिलने नहीं आयेंगे !

वो धुप के छप्पर हों या छाँव कि दीवारें,
अब जो भी उठाएंगे मिल जुल के उठाएंगे !

जब साथ न दे कोई आवाज़ हमे देना,
हम फूल सही लेकिन पत्थर भी उठाएंगे !! -Bashir Badr Ghazal

 

Chand Ka Tukda Na Suraj Ka Numainda Hoon..

Chand ka tukda na suraj ka numainda hoon,
Main na is baat pe naazan hun na sharminda hoon.

Dafn ho jayega jo sainkdon man mitti mein,
Ghaliban main bhi usi shehar ka bashinda hoon.

Zandagi tu mujhe pahchan na payi lekin,
Log kahte hain ke main tera numainda hoon.

Phool si qabr se aksar ye sada aati hai,
Koi kahta hai bachaalo main abhi zinda hoon.

Tan pe kapde hain qadaamat ki alaamat aur main,
Sar barahna yahan aajane pe sharminda hoon.

Waaqai is tarah maine kabhi socha hi nahi,
Kaun hai apna yahan kis ke liye zinda hoon. !!

चाँद का टुकड़ा न सूरज का नुमाइन्दा हूँ,
मैं न इस बात पे नाज़ाँ हूँ न शर्मिंदा हूँ !

दफ़न हो जाएगा जो सैंकड़ों मन मिट्टी में,
ग़ालिबन मैं भी उसी शहर का बाशिन्दा हूँ !

ज़िंदगी तू मुझे पहचान न पाई लेकिन,
लोग कहते हैं कि मैं तेरा नुमाइन्दा हूँ !

फूल सी क़ब्र से अक्सर ये सदा आती है,
कोई कहता है बचा लो मैं अभी ज़िन्दा हूँ !

तन पे कपड़े हैं क़दामत की अलामत और मैं,
सर बरहना यहाँ आ जाने पे शर्मिंदा हूँ !

वाक़ई इस तरह मैंने कभी सोचा ही नहीं,
कौन है अपना यहाँ किस के लिये ज़िन्दा हूँ !! -Bashir Badr Ghazal