Poetry Types Patthar

Zulfen Seena Naaf Kamar..

Zulfen Seena Naaf Kamar.. Jan Nisar Akhtar Poetry

Zulfen seena naaf kamar,
Ek nadi mein kitne bhanwar,

Sadiyon sadiyon mera safar,
Manzil manzil rahguzar.

Kitna mushkil kitna kathin,
Jine se jine ka hunar.

Ganw mein aa kar shehar base,
Ganw bichaare jayen kidhar.

Phunkne wale socha bhi,
Phailegi ye aag kidhar.

Lakh tarah se naam tera,
Baitha likkhun kaghaz par.

Chhote chhote zehan ke log,
Hum se un ki baat na kar,

Pet pe patthar bandh na le,
Haath mein sajte hain patthar.

Raat ke pichhe raat chale,
Khwab hua har khwab-e-sahar,

Shab bhar to aawara phire,
Laut chalen ab apne ghar. !!

Zulfen Seena Naaf Kamar.. Jan Nisar Akhtar Poetry In Hindi Language

ज़ुल्फ़ें सीना नाफ़ कमर,
एक नदी में कितने भँवर !

सदियों सदियों मेरा सफ़र,
मंज़िल मंज़िल राहगुज़र !

कितना मुश्किल कितना कठिन,
जीने से जीने का हुनर !

गाँव में आ कर शहर बसे,
गाँव बिचारे जाएँ किधर !

फूँकने वाले सोचा भी,
फैलेगी ये आग किधर !

लाख तरह से नाम तेरा,
बैठा लिक्खूँ काग़ज़ पर !

छोटे छोटे ज़ेहन के लोग,
हम से उन की बात न कर !

पेट पे पत्थर बाँध न ले,
हाथ में सजते हैं पत्थर !

रात के पीछे रात चले,
ख़्वाब हुआ हर ख़्वाब-ए-सहर !

शब भर तो आवारा फिरे,
लौट चलें अब अपने घर !!

-Jan Nisar Akhtar Poetry / Ghazals

 

Kab Logon Ne Alfaz Ke Patthar Nahi Phenke

Kab logon ne alfaz ke patthar nahi phenke,
Wo khat bhi magar main ne jala kar nahi phenke.

Thahre hue pani ne ishaara to kiya tha,
Kuch soch ke khud main ne hi patthar nahi phenke.

Ek tanz hai kaliyon ka tabassum bhi magar kyun,
Main ne to kabhi phool masal kar nahi phenke.

Waise to irada nahi tauba-shikani ka,
Lekin abhi tute hue saghar nahi phenke.

Kya baat hai us ne meri taswir ke tukde,
Ghar mein hi chhupa rakkhe hain bahar nahi phenke.

Darwazon ke shishe na badalwaiye “Nazmi“,
Logon ne abhi hath se patthar nahi phenke. !!

कब लोगों ने अल्फ़ाज़ के पत्थर नहीं फेंके,
वो ख़त भी मगर मैं ने जला कर नहीं फेंके !

ठहरे हुए पानी ने इशारा तो किया था,
कुछ सोच के ख़ुद मैं ने ही पत्थर नहीं फेंके !

एक तंज़ है कलियों का तबस्सुम भी मगर क्यूँ,
मैं ने तो कभी फूल मसल कर नहीं फेंके !

वैसे तो इरादा नहीं तौबा-शिकनी का,
लेकिन अभी टूटे हुए साग़र नहीं फेंके !

क्या बात है उस ने मेरी तस्वीर के टुकड़े,
घर में ही छुपा रक्खे हैं बाहर नहीं फेंके !

दरवाज़ों के शीशे न बदलवाइए “नज़मी“,
लोगों ने अभी हाथ से पत्थर नहीं फेंके !!

 

Dhup Mein Niklo Ghataon Mein Naha Kar Dekho

Dhup mein niklo ghataon mein naha kar dekho,
Zindagi kya hai kitabon ko hata kar dekho.

Sirf aankhon se hi duniya nahi dekhi jati,
Dil ki dhadkan ko bhi binai bana kar dekho.

Pattharon mein bhi zaban hoti hai dil hote hain,
Apne ghar ke dar-o-diwar saja kar dekho.

Wo sitara hai chamakne do yunhi aankhon mein,
Kya zaruri hai use jism bana kar dekho.

Fasla nazron ka dhokha bhi to ho sakta hai,
Wo mile ya na mile hath badha kar dekho. !!

धूप में निकलो घटाओं में नहा कर देखो,
ज़िंदगी क्या है किताबों को हटा कर देखो !

सिर्फ़ आँखों से ही दुनिया नहीं देखी जाती,
दिल की धड़कन को भी बीनाई बना कर देखो !

पत्थरों में भी ज़बाँ होती है दिल होते हैं,
अपने घर के दर-ओ-दीवार सजा कर देखो !

वो सितारा है चमकने दो यूँही आँखों में,
क्या ज़रूरी है उसे जिस्म बना कर देखो !

फ़ासला नज़रों का धोखा भी तो हो सकता है,
वो मिले या न मिले हाथ बढ़ा कर देखो !!

-Nida Fazli Ghazal / Safar Shayari

 

De Mohabbat To Mohabbat Mein Asar Paida Kar..

De mohabbat to mohabbat mein asar paida kar,
Jo idhar dil mein hai ya rab wo udhar paida kar.

Dud-e-dil ishq mein itna to asar paida kar,
Sar kate shama ki manind to sar paida kar.

Phir hamara dil-e-gum-gashta bhi mil jayega,
Pahle tu apna dahan apni kamar paida kar.

Kaam lene hain mohabbat mein bahut se ya rab,
Aur dil de hamein ek aur jigar paida kar.

Tham zara aye adam-abaad ke jane wale,
Rah ke duniya mein abhi zad-e-safar paida kar.

Jhut jab bolte hain wo to dua hoti hai,
Ya ilahi meri baaton mein asar paida kar.

Aaina dekhna is husan pe aasan nahin,
Pesh-tar aankh meri meri nazar paida kar.

Subh-e-furqat to qayamat ki sahar hai ya rab,
Apne bandon ke liye aur sahar paida kar.

Mujh ko rota hua dekhen to jhulas jayen raqib,
Aag pani mein bhi aye soz-e-jigar paida kar.

Mit ke bhi duri-e-gulshan nahin bhati ya rab,
Apni qudrat se meri khak mein par paida kar.

Shikwa-e-dard-e-judai pe wo farmate hain,
Ranj sahne ko hamara sa jigar paida kar.

Din nikalne ko hai rahat se guzar jane de,
Ruth kar tu na qayamat ki sahar paida kar.

Hum ne dekha hai ki mil jate hain ladne wale,
Sulh ki khu bhi to aye bani-e-shar paida kar.

Mujh se ghar aane ke wade par bigad kar bole,
Kah diya ghair ke dil mein abhi ghar paida kar.

Mujh se kahti hai kadak kar ye kaman qatil ki,
Tir ban jaye nishana wo jigar paida kar.

Kya qayamat mein bhi parda na uthayega rukh se,
Ab to meri shab-e-yalda ki sahar paida kar.

Dekhna khel nahin jalwa-e-didar tera,
Pahle musa sa koi ahl-e-nazar paida kar.

Dil mein bhi milta hai wo kaba bhi us ka hai maqam,
Rah nazdik ki aye azm-e-safar paida kar.

Zof ka hukm ye hai hont na hilne payen,
Dil ye kahta hai ki nale mein asar paida kar.

Nale ‘Bekhud’ ke qayamat hain tujhe yaad rahe,
Zulm karna hai to patthar ka jigar paida kar. !!

दे मोहब्बत तो मोहब्बत में असर पैदा कर,
जो इधर दिल में है या रब वो उधर पैदा कर !

दूद-ए-दिल इश्क़ में इतना तो असर पैदा कर,
सर कटे शम्अ की मानिंद तो सर पैदा कर !

फिर हमारा दिल-ए-गुम-गश्ता भी मिल जाएगा,
पहले तू अपना दहन अपनी कमर पैदा कर !

काम लेने हैं मोहब्बत में बहुत से या रब,
और दिल दे हमें इक और जिगर पैदा कर !

थम ज़रा ऐ अदम-आबाद के जाने वाले,
रह के दुनिया में अभी ज़ाद-ए-सफ़र पैदा कर !

झूट जब बोलते हैं वो तो दुआ होती है,
या इलाही मिरी बातों में असर पैदा कर !

आईना देखना इस हुस्न पे आसान नहीं,
पेश-तर आँख मिरी मेरी नज़र पैदा कर !

सुब्ह-ए-फ़ुर्क़त तो क़यामत की सहर है या रब,
अपने बंदों के लिए और सहर पैदा कर !

मुझ को रोता हुआ देखें तो झुलस जाएँ रक़ीब,
आग पानी में भी ऐ सोज़-ए-जिगर पैदा कर !

मिट के भी दूरी-ए-गुलशन नहीं भाती या रब,
अपनी क़ुदरत से मिरी ख़ाक में पर पैदा कर !

शिकवा-ए-दर्द-ए-जुदाई पे वो फ़रमाते हैं,
रंज सहने को हमारा सा जिगर पैदा कर !

दिन निकलने को है राहत से गुज़र जाने दे,
रूठ कर तू न क़यामत की सहर पैदा कर !

हम ने देखा है कि मिल जाते हैं लड़ने वाले,
सुल्ह की ख़ू भी तो ऐ बानी-ए-शर पैदा कर !

मुझ से घर आने के वादे पर बिगड़ कर बोले,
कह दिया ग़ैर के दिल में अभी घर पैदा कर !

मुझ से कहती है कड़क कर ये कमाँ क़ातिल की,
तीर बन जाए निशाना वो जिगर पैदा कर !

क्या क़यामत में भी पर्दा न उठेगा रुख़ से,
अब तो मेरी शब-ए-यलदा की सहर पैदा कर !

देखना खेल नहीं जल्वा-ए-दीदार तिरा,
पहले मूसा सा कोई अहल-ए-नज़र पैदा कर !

दिल में भी मिलता है वो काबा भी उस का है मक़ाम,
राह नज़दीक की ऐ अज़्म-ए-सफ़र पैदा कर !

ज़ोफ़ का हुक्म ये है होंट न हिलने पाएँ,
दिल ये कहता है कि नाले में असर पैदा कर !

नाले ‘बेख़ुद’ के क़यामत हैं तुझे याद रहे,
ज़ुल्म करना है तो पत्थर का जिगर पैदा कर !! -Bekhud Dehlvi Ghazal

 

Ghazlon Ka Hunar Apni Aankhon Ko Sikhayenge..

Ghazlon ka hunar apni aankhon ko sikhayenge,
Royenge bahut lekin aansoo nahi aayenge.

Keh dena samundar se hum os ke moti hain,
Dariya ki tarah tujh se milne nahi aayenge.

Wo dhup ke chhappar hon ya chhanw ki diwarein,
Ab jo bhi uthayenge mil jul ke uthayenge.

Jab sath na de koi aawaz hamein dena,
Hum phool sahi lekin patthar bhi uthayenge. !!

ग़ज़लों का हुनर अपनी आँखों को सिखाएंगे,
रोयेंगे बहुत लेकिन आंसू नहीं आयेंगे !

कह देना समंदर से हम ओस के मोती है,
दरिया कि तरह तुझ से मिलने नहीं आयेंगे !

वो धुप के छप्पर हों या छाँव कि दीवारें,
अब जो भी उठाएंगे मिल जुल के उठाएंगे !

जब साथ न दे कोई आवाज़ हमे देना,
हम फूल सही लेकिन पत्थर भी उठाएंगे !! -Bashir Badr Ghazal

 

Sar Jhukaoge To Patthar Devta Ho Jayega..

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega

 

Sar jhukaoge to patthar devta ho jayega,
Itna mat chaho use wo bewafa ho jayega.

Hum bhi dariya hain hamein apna hunar malum hai,
Jis taraf bhi chal padenge rasta ho jayega.

Kitni sachchai se mujh se zindagi ne kah diya,
Tu nahin mera to koi dusra ho jayega.

Main khuda ka naam lekar pi raha hun dosto,
Zahar bhi is mein agar hoga dawa ho jayega.

Sab usi ke hain hawa khushboo zamin-o-aasman,
Main jahan bhi jaunga us ko pata ho jayega. !!

सर झुकाओगे तो पत्थर देवता हो जाएगा,
इतना मत चाहो उसे वो बेवफ़ा हो जाएगा !

हम भी दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है,
जिस तरफ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा !

कितनी सच्चाई से मुझसे ज़िन्दगी ने कह दिया,
तू नहीं मेरा तो कोई दूसरा हो जाएगा !

मैं खुदा का नाम लेकर पी रहा हूं दोस्तों,
ज़हर भी इसमें अगर होगा दवा हो जाएगा !

सब उसी के हैं हवा ख़ुशबू ज़मीन-ओ-आसमां
मैं जहां भी जाऊंगा, उसको पता हो जाएगा !! -Bashir Badr Ghazal

 

Log Toot Jate Hain Ek Ghar Banane Mein..

Log toot jate hain ek ghar banane mein,
Tum taras nahin khate bastiyan jalane mein.

Aur jaam tootenge is sharaab-khaane mein,
Mausamon ke aane mein mausamon ke jane mein.

Har dhadakte patthar ko log dil samajhte hain,
Umaren bit jati hain dil ko dil banane mein.

Fakhta ki majburi ye bhi kah nahin sakti,
Kaun saanp rakhta hain uske aashiyane mein.

Dusri koi ladki zindagi mein aayegi,
Kitni der lagti hain us ko bhul jane mein. !!

लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में,
तुम तरस नहीं खाते बस्तियाँ जलाने में !

और जाम टूटेंगे इस शराब-ख़ाने में,
मौसमों के आने में मौसमों के जाने में !

हर धड़कते पत्थर को, लोग दिल समझते हैं,
उम्र बीत जाती है दिल को दिल बनाने में !

फ़ाख़्ता की मजबूरी ये भी कह नहीं सकती,
कौन साँप रखता है उसके आशियाने में !

दूसरी कोई लड़की ज़िंदगी में आएगी,
कितनी देर लगती है उसको भूल जाने में !! -Bashir Badr Ghazal

 

Charaghon Ko Uchhala Ja Raha Hai..

Charaghon ko uchhala ja raha hai,
Hawa par raub dala ja raha hai.

Na haar apni na apni jeet hogi,
Magar sikka uchhala ja raha hai.

Woh dekho maikade ke raste mein,
Koi allaah wala ja raha hai.

The pehle hi kayi saanp aastin mein,
Ab ek bichchhu bhi pala ja raha hai.

Mere jhute gilason ki chhaka kar,
Behakton ko sambhaala ja raha hai.

Hamin buniyaad ka patthar hain lekin,
Hamein ghar se nikala ja raha hai.

Janaze par mere likh dena yaro,
Mohabbat karne wala ja raha hai. !!

चराग़ों को उछाला जा रहा है,
हवा पर रोब डाला जा रहा है !

न हार अपनी न अपनी जीत होगी,
मगर सिक्का उछाला जा रहा है !

वो देखो मय-कदे के रास्ते में,
कोई अल्लाह-वाला जा रहा है !

थे पहले ही कई साँप आस्तीं में,
अब इक बिच्छू भी पाला जा रहा है !

मेरे झूटे गिलासों की छका कर,
बहकतों को सँभाला जा रहा है !

हमीं बुनियाद का पत्थर हैं लेकिन,
हमें घर से निकाला जा रहा है !

जनाज़े पर मेरे लिख देना यारो
मोहब्बत करने वाला जा रहा है !! -Rahat Indori Ghazal

 

Roz Taaron Ko Numaish Mein Khalal Padta Hai..

Roz taaron ko numaish mein khalal padta hai,
Chand pagal hai andhere mein nikal padta hai.

Ek diwana musafir hai meri aankhon mein,
Waqt-be-waqt thahar jata hai chal padta hai.

Apni tabir ke chakkar mein mera jagta khwab,
Roz sooraj ki tarah ghar se nikal padta hai.

Roz patthar ki himayat mein ghazal likhte hain,
Roz shishon se koi kaam nikal padta hai.

Main samandar hun kulhadi se nahi kat sakta,
Koi fawwara nahi hun jo ubal padta hai.

Kal wahan chand uga karte the har aahat par,
Apne raste mein jo viraan mahal padta hai.

Na ta-aaruf na ta-alluk hai magar dil aksar,
Naam sunta hai tumhara uchhal padta hai.

Us ki yaad aayi hai sanso zara aahista chalo,
Dhadkanon se bhi ibaadat mein khalal padta hai. !!

रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं,
चाँद पागल हैं अंधेरे में निकल पड़ता हैं !

एक दीवाना मुसाफ़िर है मेरी आँखों में,
वक़्त-बे-वक़्त ठहर जाता है चल पड़ता है !

अपनी ताबीर के चक्कर में मेरा जागता ख़्वाब,
रोज़ सूरज की तरह घर से निकल पड़ता है !

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं,
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है !

मैं समंदर हूँ कुल्हाड़ी से नहीं कट सकता,
कोई फव्वारा नही हूँ जो उबल पड़ता हैं !

कल वहाँ चाँद उगा करते थे हर आहट पर,
अपने रास्ते में जो वीरान महल पड़ता हैं !

ना त-आरूफ़ ना त-अल्लुक हैं मगर दिल अक्सर,
नाम सुनता हैं तुम्हारा तो उछल पड़ता हैं !

उसकी याद आई हैं साँसों ज़रा आहिस्ता चलो,
धड़कनो से भी इबादत में खलल पड़ता हैं !! -Rahat Indori Ghazal

 

Pyar Ki Aanch Se To Patthar Bhi Pighal Jata Hai

Pyar ki aanch se to patthar bhi pighal jata hai
Sachche dil se saath de to nasib bhi badl jata hai
Pyaar ki raah par agar mil jaye sachcha humsafar
To pyar wo ehsaas hai jise har inshan sambhal jata hai

प्यार की आंच से तोह पत्थर भी पिघल जाता हैं
सच्चे दिल से साथ दे तो नसीब भी बदल जाता हैं
प्यार की राहों पर अगर मिल जाये सच्चा हमसफ़र,
तो प्यार वो एहसास है जिससे हर इंसान संभल जाता हैं

Happy Valentine’s Day