Poetry Types Pani

Barish Hoti Hai To Pani Ko Bhi Lag Jate Hain Panw..

Barish Hoti Hai To Pani Ko Bhi Lag Jate Hain Panw.. Gulzar Nazm !

Barish hoti hai to pani ko bhi lag jate hain panw
Dar-o-diwar se takra ke guzarta hai gali se
Aur uchhalta hai chhapakon mein
Kisi match mein jite hue ladkon ki tarah

Jeet kar aate hain jab match gali ke ladke
Jute pahne hue canwas ke uchhalte hue gendon ki tarah
Dar-o-diwar se takra ke guzarte hain
Wo pani ke chhapakon ki tarah. !! -Gulzar Nazm

बारिश होती है तो पानी को भी लग जाते हैं पाँव
दर-ओ-दीवार से टकरा के गुज़रता है गली से
और उछलता है छपाकों में
किसी मैच में जीते हुए लड़कों की तरह

जीत कर आते हैं जब मैच गली के लड़के
जूते पहने हुए कैनवस के उछलते हुए गेंदों की तरह
दर-ओ-दीवार से टकरा के गुज़रते हैं
वो पानी के छपाकों की तरह !! -गुलज़ार नज़्म

 

Nadi Ne Dhoop Se Kya Kah Diya Rawani Mein..

Nadi Ne Dhoop Se Kya Kah Diya Rawani Mein.. Rahat Indori Shayari !

Nadi ne dhoop se kya kah diya rawani mein,
Ujaale panv patakne lage hain pani mein.

Ye koi aur hi kirdar hai tumhaari tarah,
Tumhara zikar nahi hai meri kahani mein.

Ab itni sari shabon ka hisab kaun rakhe,
Bade sawab kamaye gaye jawani mein.

Chamakta rahta hai suraj-mukhi mein koi aur,
Mahak raha hai koi aur raat-rani mein.

Ye mauj mauj nai halchalen si kaisi hain,
Ye kis ne panv utare udaas pani mein.

Main sochta hun koi aur karobar karun,
Kitab kaun kharidega is girani mein. !!

नदी ने धूप से क्या कह दिया रवानी में,
उजाले पांव पटकने लगे हैं पानी में !

ये कोई और ही किरदार है तुम्हारी तरह,
तुम्हारा ज़िक्र नहीं है मिरी कहानी में !

अब इतनी सारी शबों का हिसाब कौन रखे,
बड़े सवाब कमाए गए जवानी में !

चमकता रहता है सूरज-मुखी में कोई और,
महक रहा है कोई और रात-रानी में !

ये मौज मौज नई हलचलें सी कैसी हैं,
ये किस ने पांव उतारे उदास पानी में !

मैं सोचता हूं कोई और कारोबार करूं,
किताब कौन ख़रीदेगा इस गिरानी में !!

-Rahat Indori Shayari /Ghazal /Poerty

 

Bahut Pani Barasta Hai To Mitti Baith Jaati Hai

Bahut pani barasta hai to mitti baith jaati hai,
Na roya kar bahut rone se chhaati baith jaati hai.

Yhi mousam tha jab nange badan chhat par tahalte the,
Yhi mousam hai ab sine mein sardi baith jaati hai.

Chalo mana ki shahanai mohabbat ki nishani hai,
Magar wo shakhs jiski aake beti baith jaati hai.

Bade-budhe kuven mein nekiyan kyon phenk aate hain?
Kuven mein chhup ke aakhir kyon ye neki baith jaati hai.

Naqaab ulte huye gulshan se wo jab bhi gujarta hai,
Samjh ke phool uske lab pe titali baith jaati hai.

Siyaast nafraton ka zakhm bharne hi nahi deti ,
Jahan bharne pe aata hai to makkhi baith jaati hai.

Wo dushman hi sahi aawaaz de usko mohabbat se,
Saliqe se bitha kar dekh haddi baith jaati hai. !!

बहुत पानी बरसता है तो मिट्टी बैठ जाती है,
न रोया कर बहुत रोने से छाती बैठ जाती है !

यही मौसम था जब नंगे बदन छत पर टहलते थे,
यही मौसम है अब सीने में सर्दी बैठ जाती है !

चलो माना कि शहनाई मोहब्बत की निशानी है,
मगर वो शख्स जिसकी आ के बेटी बैठ जाती है !

बड़े-बूढ़े कुएँ में नेकियाँ क्यों फेंक आते हैं ?
कुएं में छुप के क्यों आखिर ये नेकी बैठ जाती है !

नक़ाब उलटे हुए गुलशन से वो जब भी गुज़रता है,
समझ के फूल उसके लब पे तितली बैठ जाती है !

सियासत नफ़रतों का ज़ख्म भरने ही नहीं देती,
जहाँ भरने पे आता है तो मक्खी बैठ जाती है !

वो दुश्मन ही सही आवाज़ दे उसको मोहब्बत से,
सलीक़े से बिठा कर देख हड्डी बैठ जाती है !!

Munawwar Rana All Poetry, Ghazal, Ishq Shayari & Nazms Collection

 

Sirf Khanjar Hi Nahi Aankhon Mein Pani Chahiye..

Sirf khanjar hi nahi aankhon mein pani chahiye,
Aye khuda dushman bhi mujhko khandani chahiye.

Shehar ki sari alif-lailayen budhi ho chukin,
Shahzade ko koi taza kahani chahiye.

Maine aye sooraj tujhe puja nahin samjha to hai,
Mere hisse mein bhi thodi dhup aani chahiye.

Meri qimat kaun de sakta hai is bazaar mein,
Tum zulekha ho tumhein qimat lagani chahiye.

Zindagi hai ek safar aur zindagi ki rah mein,
Zindagi bhi aaye to thokar lagani chahiye.

Maine apni khushk aankhon se lahu chhalka diya,
Ek samundar kah raha tha mujhko pani chahiye. !!

सिर्फ़ ख़ंजर ही नहीं आँखों में पानी चाहिए,
ऐ ख़ुदा दुश्मन भी मुझको ख़ानदानी चाहिए !

शहर की सारी अलिफ़-लैलाएँ बूढ़ी हो चुकीं,
शाहज़ादे को कोई ताज़ा कहानी चाहिए !

मैंने ऐ सूरज तुझे पूजा नहीं समझा तो है,
मेरे हिस्से में भी थोड़ी धूप आनी चाहिए !

मेरी क़ीमत कौन दे सकता है इस बाज़ार में,
तुम ज़ुलेख़ा हो तुम्हें क़ीमत लगानी चाहिए !

ज़िंदगी है एक सफ़र और ज़िंदगी की राह में,
ज़िंदगी भी आए तो ठोकर लगानी चाहिए !

मैंने अपनी ख़ुश्क आँखों से लहू छलका दिया,
एक समुंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए !! -Rahat Indori Ghazal

 

Khairaat Sirf Itni Mili Hai Hayat Se..

Khairaat sirf itni mili hai hayat se,
Pani ki bund jaise ata ho furaat se.

Shabnam isi junun mein azal se hai sina-kub,
Khurshid kis maqam pe milta hai raat se.

Nagah ishq waqt se aage nikal gaya,
Andaza kar rahi hai khirad waqiyat se.

Su-e-adab na thahre to dein koi mashwara,
Hum mutmain nahi hain teri kayenat se.

Sakit rahein to hum hi thaharte hain ba-qusur,
Bolen to baat badhti hai chhoti si baat se.

Aasan-pasandiyon se ijazat talab karo,
Rasta bhara hua hai “Adam” mushkilat se. !!

खैरात सिर्फ इतनी मिली है हयात से,
पानी की बूँद जैसे अता हो फुरात से !

शबनम इसी जूनून में अज़ल से है सीना-खूब,
खुर्शीद किस मक़ाम पे मिलता है रात से !

नगाह इश्क़ वक़्त से आगे निकल गया,
अंदाजा कर रही है ख़िरद वाक़्यात से !

सू-ए–अदब न ठहरे तो देँ कोई मश्वरा,
हम मुत्मइन नहीं हैं तेरी कायनात से !

साकित रहें तो हम ही ठहरते हैं बा-क़ुसूर,
बोलें तो बात बढ़ती है छोटी सी बात से !

आसान-पसंदियों से इजाज़त तलब करो,
रास्ता भरा हुआ है “अदम” मुश्किलात से !!

 

Bas Is Qadar Hai Khulasa Meri Kahani Ka..

Bas is qadar hai khulasa meri kahani ka,
Ki ban ke tut gaya ek habab pani ka.

Mila hai saqi to roushan hua hai ye mujh par,
Ki hazf tha koi tukda meri kahani ka.

Mujhe bhi chehre pe raunaq dikhayi deti hai,
Ye moajiza hai tabibon ki khush-bayani ka.

Hai dil mein ek hi khwahish wo dub jaane ki,
Koi shabab koi husn hai rawani ka.

Libas-e hashr mein kuchh ho to aur kya hoga,
Bujha sa ek chhanaka teri jawani ka.

Karam ke rang nihayat ajeeb hote hain,
Sitam bhi ek tariqa hai meharbani ka.

Adam” bahaar ke mausam ne khud-kushi kar li,
Khula jo rang kisi jism-e arghawani ka. !!

बस इस क़दर है खुलासा मेरी कहानी का,
कि बन के टूट गया एक हबाब पानी का !

मिला है साक़ी तो रोशन हुआ है ये मुझ पर,
की हज़्फ़ था कोई टुकड़ा मेरी कहानी का !

मुझे भी चेहरे पे रौनक दिखाई देती है,
ये मोजिज़ा है तबीबों की खुश-बयानी का !

है दिल में एक ही ख्वाहिश वो डूब जाने की,
कोई शबाब कोई हुस्न है रवानी का !

लिबास-ए-हष्र में कुछ हो तो और क्या होगा,
बुझा सा एक छनाका तेरी जवानी का !

करम के रंग निहायत अजीब होते हैं,
सितम भी एक तरीका है मेहरबानी का !

अदम” बहार के मौसम ने ख़ुद-कुशी कर ली,
खुला जो रंग किसी जिस्म-ए-आर्गावानी का !!

 

Jiwan Ko Dukh Dukh Ko Aag Aur Aag Ko Pani Kahte..

Jiwan ko dukh dukh ko aag aur aag ko pani kahte,
Bachche lekin soye hue the kis se kahani kahte.

Sach kahne ka hausla tum ne chhin liya hai warna,
Shehar mein phaili virani ko sab virani kahte.

Waqt guzarta jata aur ye zakhm hare rahte to,
Badi hifazat se rakkhi hai teri nishani kahte.

Wo to shayad donon ka dukh ek jaisa tha warna,
Hum bhi patthar marte tujh ko aur diwani kahte.

Tabdili sachchai hai is ko mante lekin kaise,
Aaine ko dekh ke ek taswir purani kahte.

Tera lahja apnaya ab dil mein hasrat si hai,
Apni koi baat kabhi to apni zabani kahte.

Chup rah kar izhaar kiya hai kah sakte to “Aanis“,
Ek alahida tarz-e-sukhan ka tujh ko bani kahte. !!

जीवन को दुख दुख को आग और आग को पानी कहते,
बच्चे लेकिन सोए हुए थे किस से कहानी कहते !

सच कहने का हौसला तुम ने छीन लिया है वर्ना,
शहर में फैली वीरानी को सब वीरानी कहते !

वक़्त गुज़रता जाता और ये ज़ख़्म हरे रहते तो,
बड़ी हिफ़ाज़त से रक्खी है तेरी निशानी कहते !

वो तो शायद दोनों का दुख एक जैसा था वर्ना,
हम भी पत्थर मारते तुझ को और दीवानी कहते !

तब्दीली सच्चाई है इस को मानते लेकिन कैसे,
आईने को देख के एक तस्वीर पुरानी कहते !

तेरा लहजा अपनाया अब दिल में हसरत सी है,
अपनी कोई बात कभी तो अपनी ज़बानी कहते !

चुप रह कर इज़हार किया है कह सकते तो “अनीस“,
एक अलाहिदा तर्ज़-ए-सुख़न का तुझ को बानी कहते !!

 

Tumhein Jine Mein Aasani Bahut Hai..

Tumhein jine mein aasani bahut hai,
Tumhare khoon mein pani bahut hai.

Kabutar ishq ka utre to kaise,
Tumhari chhat pe nigarani bahut hai.

Irada kar liya gar khud-kushi ka,
To khud ki aankh ka pani bahut hai.

Zahar suli ne gali goliyon ne,
Hamari zat pahchani bahut hai.

Tumhare dil ki man-mani meri jaan,
Hamare dil ne bhi mani bahut hai. !!

तुम्हें जीने में आसानी बहुत है,
तुम्हारे ख़ून में पानी बहुत है !

कबूतर इश्क़ का उतरे तो कैसे,
तुम्हारी छत पे निगरानी बहुत है !

इरादा कर लिया गर ख़ुद-कुशी का,
तो ख़ुद की आँख का पानी बहुत है !

ज़हर सूली ने गाली गोलियों ने,
हमारी ज़ात पहचानी बहुत है !

तुम्हारे दिल की मन-मानी मेरी जान,
हमारे दिल ने भी मानी बहुत है !!

-Kumar Vishwas Poem

 

Zehan Mein Pani Ke Badal Agar Aaye Hote..

Zehan mein pani ke badal agar aaye hote,
Maine mitti ke gharaunde na banaye hote.

Dhup ke ek hi mausam ne jinhen tod diya,
Itne nazuk bhi ye rishte na banaye hote.

Dubte shehar mein mitti ka makan girta hi,
Tum ye sab soch ke meri taraf aaye hote.

Dhup ke shehar mein ek umar na jalna padta,
Hum bhi aye kash kisi pedd ke saye hote.

Phal padosi ke darakhton pe na pakte toh “Wasim“,
Mere aangan mein ye patther bhi na aaye hote. !!

ज़हन में पानी के बादल अगर आये होते,
मैंने मिटटी के घरोंदे ना बनाये होते !

धूप के एक ही मौसम ने जिन्हें तोड़ दिया,
इतने नाज़ुक भी ये रिश्ते न बनाये होते !

डूबते शहर मैं मिटटी का मकान गिरता ही,
तुम ये सब सोच के मेरी तरफ आये होते !

धूप के शहर में इक उम्र ना जलना पड़ता,
हम भी ए काश किसी पेड के साये होते !

फल पडोसी के दरख्तों पे ना पकते तो “वसीम“,
मेरे आँगन में ये पत्थर भी ना आये होते !!

 

Be-Khayali Mein Yunhi Bas Ek Irada Kar Liya..

Be-khayali mein yunhi bas ek irada kar liya,
Apne dil ke shauq ko had se ziyada kar liya.

Jante the donon hum us ko nibha sakte nahi,
Usne wada kar liya maine bhi wada kar liya.

Ghair se nafrat jo pa li kharch khud par ho gayi,
Jitne hum the hum ne khud ko us se aadha kar liya.

Sham ke rangon mein rakh kar saf pani ka gilas,
Aab-e-sada ko harif-e-rang-e-baada kar liya.

Hijraton ka khauf tha ya pur-kashish kohna maqam,
Kya tha jis ko hum ne khud diwar-e-jada kar liya.

Ek aisa shakhs banta ja raha hun main “Munir“,
Jis ne khud par band husn-o jam-o-baada kar liya. !!

बे-ख़याली में यूँही बस इक इरादा कर लिया,
अपने दिल के शौक़ को हद से ज़ियादा कर लिया !

जानते थे दोनों हम उस को निभा सकते नहीं,
उसने वादा कर लिया मैंने भी वादा कर लिया !

ग़ैर से नफ़रत जो पा ली ख़र्च ख़ुद पर हो गई,
जितने हम थे हम ने ख़ुद को उस से आधा कर लिया !

शाम के रंगों में रख कर साफ़ पानी का गिलास,
आब-ए-सादा को हरीफ़-ए-रंग-ए-बादा कर लिया !

हिजरतों का ख़ौफ़ था या पुर-कशिश कोहना मक़ाम,
क्या था जिस को हम ने ख़ुद दीवार-ए-जादा कर लिया !

एक ऐसा शख़्स बनता जा रहा हूँ मैं “मुनीर“,
जिस ने ख़ुद पर बंद हुस्न-ओ-जाम-ओ-बादा कर लिया !!