Tuesday , March 9 2021

Poetry Types Mohtasib

Aakhiri Baar Aah Kar Li Hai..

Aakhiri baar aah kar li hai,
Maine khud se nibaah kar li hai.

Apne sar ek bala to leni thi,
Maine wo zulf apne sar li hai.

Din bhala kis tarah guzaroge,
Wasl ki shab bhi ab guzar li hai.

Jaan-nisaron pe war kya karna,
Maine bas haath mein sipar li hai.

Jo bhi mango udhaar dunga main,
Us gali mein dukaan kar li hai.

Mera kashkol kab se khali tha,
Maine is mein sharab bhar li hai.

Aur to kuchh nahi kiya maine,
Apni haalat tabaah kar li hai.

Shaikh aaya tha mohtasib ko liye,
Maine bhi un ki wo khabar li hai. !!

आख़िरी बार आह कर ली है,
मैंने ख़ुद से निबाह कर ली है !

अपने सर इक बला तो लेनी थी,
मैंने वो ज़ुल्फ़ अपने सर ली है !

दिन भला किस तरह गुज़ारोगे,
वस्ल की शब भी अब गुज़र ली है !

जाँ-निसारों पे वार क्या करना,
मैंने बस हाथ में सिपर ली है !

जो भी माँगो उधार दूँगा मैं,
उस गली में दुकान कर ली है !

मेरा कश्कोल कब से ख़ाली था,
मैंने इस में शराब भर ली है !

और तो कुछ नहीं किया मैंने,
अपनी हालत तबाह कर ली है !

शैख़ आया था मोहतसिब को लिए,
मैंने भी उन की वो ख़बर ली है !!

-Jaun Elia Ghazal / Poetry

 

Aam Hukm-E-Sharab Karta Hun..

Aam hukm-e-sharab karta hun,
Mohtasib ko kabab karta hun.

Tuk to rah ai bina-e-hasti tu,
Tujh ko kaisa kharab karta hun.

Bahs karta hun ho ke abjad-khwan,
Kis qadar be-hisab karta hun.

Koi bujhti hai ye bhadak mein abas,
Tishnagi par itab karta hun.

Sar talak aab-e-tegh mein hun gharq,
Ab tain aab aab karta hun.

Ji mein phirta hai “Mir” wo mere,
Jagta hun ki khwab karta hun. !!

आम हुक्म-ए-शराब करता हूँ,
मोहतसिब को कबाब करता हूँ !

टुक तो रह ऐ बिना-ए-हस्ती तू,
तुझ को कैसा ख़राब करता हूँ !

बहस करता हूँ हो के अबजद-ख़्वाँ,
किस क़दर बे-हिसाब करता हूँ !

कोई बुझती है ये भड़क में अबस,
तिश्नगी पर इताब करता हूँ !

सर तलक आब-ए-तेग़ में हूँ ग़र्क़,
अब तईं आब आब करता हूँ !

जी में फिरता है “मीर” वो मेरे,
जागता हूँ कि ख़्वाब करता हूँ !!