Tuesday , March 9 2021

Poetry Types Mizaj

Sans Lete Hue Bhi Darta Hun

Sans lete hue bhi darta hun,
Ye na samjhen ki aah karta hun.

Bahr-e-hasti mein hun misal-e-habab,
Mit hi jata hun jab ubharta hun.

Itni aazadi bhi ghanimat hai,
Sans leta hun baat karta hun.

Shaikh sahab khuda se darte hon,
Main to angrezon hi se darta hun.

Aap kya puchhte hain mera mizaj,
Shukr allah ka hai marta hun.

Ye bada aib mujh mein hai “Akbar“,
Dil mein jo aaye kah guzarta hun. !!

साँस लेते हुए भी डरता हूँ,
ये न समझें कि आह करता हूँ !

बहर-ए-हस्ती में हूँ मिसाल-ए-हबाब,
मिट ही जाता हूँ जब उभरता हूँ !

इतनी आज़ादी भी ग़नीमत है,
साँस लेता हूँ बात करता हूँ !

शैख़ साहब ख़ुदा से डरते हों,
मैं तो अंग्रेज़ों ही से डरता हूँ !

आप क्या पूछते हैं मेरा मिज़ाज,
शुक्र अल्लाह का है मरता हूँ !

ये बड़ा ऐब मुझ में है “अकबर“,
दिल में जो आए कह गुज़रता हूँ !!

 

Yun Hi Be-Sabab Na Phira Karo Koi Sham Ghar Mein Raha Karo..

Yun hi be-sabab na phira karo koi sham ghar mein raha karo,
Wo ghazal ki sachchi kitab hai use chupke chupke padha karo.

Koi hath bhi na milayega jo gale miloge tapak se,
Ye naye mizaj ka shehar hai zara fasle se mila karo.

Abhi raah mein kayi mod hain koi ayega koi jayega,
Tumhein jis ne dil se bhula diya use bhulne ki dua karo.

Mujhe ishtihaar si lagti hain ye mohabbaton ki kahaniyan,
Jo kaha nahin wo suna karo jo suna nahin wo kaha karo.

Kabhi husn-e parda-nashin bhi ho zara aashiqana libas mein,
Jo main ban sanwar ke kahin chalun mere sath tum bhi chala karo.

Nahin be-hijab wo chand sa ki nazar ka koi asar na ho,
Use itni garmi-e-shauq se badi der tak na taka karo.

Ye khizan ki zard si shaal mein jo udas ped ke pas hai
Ye tumhaare ghar ki bahaar hai use aansuon se hara karo. !!

यूं ही बे-सबब न फिरा करो कोई शाम घर में रहा करो,
वो ग़ज़ल की सच्ची किताब है उसे चुपके-चुपके पढ़ा करो !

कोई हाथ भी न मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से,
ये नए मिज़ाज का शहर है ज़रा फ़ासले से मिला करो !

अभी राह में कई मोड़ हैं कोई आएगा कोई जाएगा,
तुम्हें जिसने दिल से भुला दिया उसे भूलने की दुआ करो !

मुझे इश्तिहार-सी लगती हैं ये मोहब्बतों की कहानियां,
जो कहा नहीं, वो सुना करो जो सुना नहीं वो कहा करो !

नहीं बे हिजाब वो चाँद सा कि नज़र का कोई असर न हो,
उसे इतनी गर्मी-ए-शौक़ से बड़ी देर तक न तका करो !

ये ख़िज़ां की ज़र्द-सी शाल में जो उदास पेड़ के पास है
ये तुम्हारे घर की बहार है उसे आंसुओं से हरा करो !! -Bashir Badr Ghazal

 

Aaj Phir Ruh Mein Ek Barq Si Lahraati Hai..

Aaj phir ruh mein ek barq si lahraati hai,
Dil ki gahrai se rone ki sada aati hai.

Yun chatakti hain kharabaat mein jaise kaliyan,
Tishnagi saghar-e-labrez se takraati hai.

Shola-e-gham ki lapak aur mera nazuk sa mizaj,
Mujh ko fitrat ke rawayye pe hansi aati hai.

Maut ek amr-e-musallam hai to phir aye saqi,
Ruh kyun zist ke aalam se ghabraati hai.

So bhi ja aye dil-e-majruh bahut raat gayi,
Ab to rah rah ke sitaron ko bhi nind aati hai.

Aur to dil ko nahi hai koi taklif “Adam“,
Han zara nabz kisi waqt thahar jati hai. !!

आज फिर रूह में एक बर्क़ सी लहराती है,
दिल की गहराई से रोने की सदा आती है !

यूँ चटकती हैं ख़राबात में जैसे कलियाँ,
तिश्नगी साग़र-ए-लबरेज़ से टकराती है !

शोला-ए-ग़म की लपक और मेरा नाज़ुक सा मिज़ाज,
मुझ को फ़ितरत के रवय्ये पे हँसी आती है !

मौत एक अम्र-ए-मुसल्लम है तो फिर ऐ साक़ी,
रूह क्यूँ ज़ीस्त के आलाम से घबराती है !

सो भी जा ऐ दिल-ए-मजरूह बहुत रात गई,
अब तो रह रह के सितारों को भी नींद आती है !

और तो दिल को नहीं है कोई तकलीफ़ “अदम“,
हाँ ज़रा नब्ज़ किसी वक़्त ठहर जाती है !!

 

Hans Ke Bola Karo Bulaya Karo..

Hans ke bola karo bulaya karo,
Aap ka ghar hai aaya jaya karo.

Muskurahat hai husn ka zewar,
Muskurana na bhul jaya karo.

Had se badh kar hasin lagte ho,
Jhuthi kasmein zarur khaya karo.

Hukm karna bhi ek skhawat hai,
Humko khidmat koi bataya karo.

Baat karna bhi badshahat hai,
Baat karna na bhul jaya karo.

Taki duniya ki dil-kashi na ghate,
Nit-nae pairahan mein aaya karo.

Kitne sada-mizaj ho tum “Adam“,
Us gali mein bahut na jaya karo. !!

हंस के बोला करो बुलाया करो,
आप का घर है आया जाया करो !

मुस्कराहट है हुस्न का जेवर,
रूप बढ़ता है मुस्कुराया करो !

हद से बढ़ कर हसीन लगते हो,
झूठी कसमें जरूर खाया करो !

हुक्म करना भी एक सखावत है,
हमको खिदमत कोई बताया करो !

बात करना भी बादशाहत है,
बात करना न भूल जाया करो !

ताकि दुनिया की दिल-कशी न घटे,
नित-नए पैरहन में आया करो !

कितने सदा मिज़ाज हो तुम “अदम“,
उस गली में बहुत न जाया करो !!

 

Hawayen Tez Thin Ye To Faqat Bahane The..

Hawayen tez thin ye to faqat bahane the,
Safine yun bhi kinare pe kab lagane the.

Khayal aata hai rah-rah ke laut jaane ka,
Safar se pahle humein apne ghar jalane the.

Guman tha ki samajh lenge mausamon ka mizaj,
Khuli jo aankh to zad pe sabhi thikane the.

Humein bhi aaj hi karna tha intezaar us ka,
Use bhi aaj hi sab wade bhul jaane the.

Talash jin ko hamesha buzurg karte rahe,
Na jaane kaun si duniya mein wo khazane the.

Chalan tha sab ke ghamon mein sharik rahne ka,
Ajib din the ajab sar-phire zamane the. !!

हवाएँ तेज़ थीं ये तो फ़क़त बहाने थे,
सफ़ीने यूँ भी किनारे पे कब लगाने थे !

ख़याल आता है रह-रह के लौट जाने का,
सफ़र से पहले हमें अपने घर जलाने थे !

गुमान था कि समझ लेंगे मौसमों का मिज़ाज,
खुली जो आँख तो ज़द पे सभी ठिकाने थे !

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का,
उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे !

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे,
न जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे !

चलन था सब के ग़मों में शरीक रहने का,
अजीब दिन थे अजब सर-फिरे ज़माने थे !!

-Aashufta Changezi Ghazal / Poetry